माँ बेटे का अनौखा रिश्ता

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: माँ बेटे का अनौखा रिश्ता

Unread post by The Romantic » 29 Oct 2014 16:17

गतांक से आगे.....................

रीमा खुद मेरे मुँह मे हील डाल कर काफी देर तक मुझसे चुसवाती रही जब वह संतुष्ट हो गयी तब उसने अपनी पैर की हील निकाली और तलवे के बीच के हिस्से को मेरे चेहरे पर रख दिया और बोली चाट बेटा अब मेरे तलवे को चाट। उसका दूसरा पैर अभी मेरे लंड को प्यार से सहला रहा था पर बीच में कभी कभी वह मेरे लंड को मेरी जाँघ और पैर के बीच मसल देती थी। वह मेरी इस स्थिति से बहुत ही प्रंसन्न थी और अपनी इन प्यार भरी हरकतो से ये मुझको जता रही थी। मैंने रीमा के तलवे के बीच के हिस्से को जीभ निकाल कर चाटना शुरु कर दिया जिस तरह से एक कुत्ता हड्डी चाटता है और मुझे तो अपने ये हड्डी जान से भी प्यारी थी। मैंने रीमा के तलवे के बीच के हिस्से को जोर जोर से चाटना शुरु कर दिया और रीमा अपना पैर घुमा घुमा कर अपना पैर मुझसे तलवा चटवा रही थी। रीमा मेरे मुँह पर पैर फिरा कर अपना तलवा चटवाती रही। अब वह फिर से उत्तेजित भी होने लगी थी और अपनी गोलम गोल मोटी चूचीयो पर अपनी उंगलियाँ फिरा कर अपनी मस्ती का इजहार कर रही थी। जब उसका मन भरा तभी उसने अपना पैर थोडा नीचे करके अपने तलवे का अगला हिस्सा मेरे मुँह के सामने कर दिया। ले बेटा अब इसको चाट बडा ही अच्छे से चाट रहा है तू ब्लू फिल्मो के देखा था की मर्द औरतो के पैर चाटते है हाय पर मुझे तो तू पहला ही मिला है न जाने कब से अपने दिल मे ये तमन्ना थी की कोई मेरे साथ भी ऐसा करे आज मिला है मुझे तो मैं इसका भरपूर मजा लूंगी बस मेरे लाल मेरी चूत के जने जैसा मैं कहती हूँ करता जा खुश कर दूंगी तुझे मैं आज देखना। मैंने रीमा के तलवे के अगले भाग को चाटना शुरु कर दिया।

पहले मैंने जीभ लगा कर उसके तलवे को चाटा और पैर और सैडल के चमडे की गंध का तो जैसे मैं दिवाना हो चला था। उसके पैर को पहले सूघंता और फिर चाटता मैंने अपने नाक घुसा कर उसका तलवा उंगलियो से मिलता था उस हिस्से मे भी जीभ घुसा कर चाटना शुरु कर दिया। शायद मेरा ऐसी चाटना रीमा को और भी अच्छा लगा पहले तो उसके मुँह से एक करहा निकली और फिर उसने अपने दूसरे पैर से मेरे नाडे से बंधे लंड को कर से मसल दिया मेरे शरीर में मस्ती भरा दर्द दौड गया। पर मैंने उसके तलवे को चाटना बंद नही किया और रीमा ने मस्ती मे चूर होकर कस के अपनी चूचीयो के घुडियाँ मसल दी। मैं उसके तलवे को कभी चूमता तो कभी चाटता और फिर उस पर अपनी नाक लगा कर उसको सूंघता। मैं तो जैसे उसके तलवे से मंत्र मुग्ध हो गया था। ओह मेरे राजा बेटे तुने को एक तलवा चाट कर ही मुझे फिर से गर्म कर दिया देख मेरी चूचीयो की घुंडी देख कैसी तन कर फिर खडी हो गयी है और मेरी चूत मे भी आग लगा दी है इन निगोडी चूचीयो ने। माँ तुम चिंता मत करो तुम्हारा जो भी मन हो बता देना मैं वैसे तुम्हारी गर्मी शांत कर दूंगा। हाय मेरे लाल तू तो हीरा है हीरा बेटा अब बहुत तलवा चाट लिया तूने अब तू मेरी उंगलियाँ चाट और देख उगलियो के बीच में भी पसीना छुपा होगा उसको भी चूस कर चाटना बेटा ठीक है। हाँ माँ मैंने उसकी उंगलियो को चूमना शुरु कर दिया और पहले नीचे से उसकी उंगलियाँ चूमी फिर उपर से फिर उसकी सबसे छोटी उंगली को मुँह मे भर लिया और चूसने लगा वस ऐसी थी जैसे अंगूर का दाना और मैं उस अंगूर के दाने से अंगूर का रस चूस रहा था।

मैंने उसकी उंगली चूस कर उसको गीला किया और फिर उसकी दो उंगली के बीच में जीभ घुसा कर उसको भी चाटा उसकी उंगलियो और उसकी बीच की गंध और भी तीखी थी जो मेरे नाक मे भर गयी पर इस तीखी गंघ ने मुझे और भी उत्तेजित किया। रीमा भी अब और उत्तेजित होती जा रही थी वह अपनी घुंडियाँ ही नंही मसल रही थी बल्की अपनी चूचीयो को जोर जोर से दबा रही थी जैसे वह उनको उखाड कर फेंक देगी। मैंने ऐसे ही एक एक करके उसकी सारी उंगलियो को चूसा और चाटा फिर उसके अंगूठे को भी अपने मुँह मे भर लिया और चूसने लगा मेरे लाल तूने तो अपनी माँ का दिल ले लिया आज क्या मजा दे रही है तेरी जीभ मेरे पैरो को चूस बेटा चूस अपनी माँ के पैरो को पी ले इसके रस को माँ मेरे लिये तो तुम्हारे पैरो का रस तुम्हारे चरणो का अमर्त है मेरी रूपवान कामवती माँ का प्रसाद है अपने बेटे को मैं तो जब तुम कहोगी तब इसका सेवन करूंगा। रीमा के अंगूठे को मैं ऐसे चूस रहा था कि जैसे लालीपॉप हो और मैं कोई छोटा बच्चा जिसको बडे दिनो बाद उसकी माँ ने लालीपॉप दी हो। मैंने अपनी लालीपॉप अच्छे से चूसी और चाटी फिर मैंने रीमा की उंगलियो के बीच अपनी जीभ फिर से फिरानी शुरु कर दी मेरा अपनी जीभ की नोक को रीमा की उंगलियो पर फिराना बहुत ही उत्तेजित करने वाला था और वह अपनी चूचीयो से खेल कर इसका इजहार कर रही थी। मैं खुद उस से चिपट कर उसकी चूचीयो का रस पीना चाहाता था पर उसका पसीना पीने के चाह उससे बडी थी।

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: माँ बेटे का अनौखा रिश्ता

Unread post by The Romantic » 29 Oct 2014 16:17

बेटा अब मेरे सारी उंगलियाँ एक साथ चूस ऐसा कह कर उसने अपनी उंगलियो को थोडा सा मोडा और मुझे अपना मुँह पूरा खोलने को कहा जैसे ही मैंने अपना मुँह खोला रीमा ने अपना पैर मेरे मुँह मे घुसेड दिया उसकी उंगलियो के साथ साथ उसके पैर का थोडा हिस्सा भी मेरे मुँह मे समा गया। और मैं उसे अपनी जीभ घुमा घुमा कर चाटने लगा रीमा ने मुझे इस तरह अपना पैर मुँह मे लेकर चाटते देखा तो उसकी आँखो मे चमक आ गयी मैं उसकी आँखो मे देखते हुये उसके पैर को चूस रहा था रीमा ने अपनी उंगलियाँ मे अपना थूक लगा कर अपनी उंगलियाँ अपनी घुंडियो पर फिराने लगी उसकी घुंडियाँ मस्ती में तन कर एक दम कडी और लम्बी हो गयी थी। रीमा के अंदर मुझे इस रूप मे उसके पैर को चूसता हुया देख कर एक अलग ही भावना जाग उठी थी उसे लग रहा था जैस उसने मुझे अपने कंट्रोल मे ले लिया हो और कितने ही गंदे से गंदे काम वह मुझसे करवा सकती थी जो कि उसको यकिन था मैं बिना किसी विरोध के पूरा करूंगा ये बात उसकी आँखो मे साफ झलक रही थी। और ये बात गलत भी नंही थी मैंने रीमा ने चाट करते वक्त क्यी बार अपनी इस इच्छा को उजागर किया था।

फिर रीमा ने और जोर लगा कर और ज्यादा पैर मेरे मुँह मे घुसेड दिया जितना अधिक से अधिक पैर वह मेरे मुँह मे घुसा सकती थी उस सीमा तक उसने अपना पैर मेरे मुँह मे घुसा दिया। मेरा मुँह भी उसके पैर की वजह से पूरा चौडा हो गया और अब तो मुझे दर्द भी होने लगा था और वह दर्द मेरी आँखो से झलक रहा था। अब तो मैं ठंग से उसका पैर चूस भी नंही पा रहा था मेरे मुँह से लार निकल पर रीमा के पैरो और तलवो पर बहने लगी थी रीमा को भी इस बात का अहसास था वह मेरी लार को अपने पैर पर महसूस कर रही थी ओह बेटा रूक क्यों गया चूस बेटा चूस मेरे पैर देख कैसा सारा रस बर्बाद जा रहा है। ये कह कर रीमा ने अपने पैर को मेरे मुँह में अंदर बाहर करने लगी या यूं कहें की अपने पैर से मेरे मुँह को चोदने लगी जैसे मेरा मुँह चूत हो और उसका पैर लंड। आह बेटा मजा आ गया चूस न मेरे लाल चूसता क्यो नंही मैंने भी कोशिश करके जब रीमा बाहर पैर निकालती तो उसके पैर पर लगे रस को चूसने की कोशिश करता। रीमा थोडी देर तक इसी तरह मेरे मुँह को अपने पैर से चोदती रही और फिर रूक गयी बोली ले बेटा देख कितना रस जमा हो गया है मेरे पैर पर ले चाट कर पी ले अपनी घुंडियो पर अपनी उंगलियाँ फेरते हुये रीमा ने कहा। मैं पहले रीमा की उंगलियो पर लगी लार और थूक को पीया और फिर थोडा बहुत रस जो बह कर रीमा के तलवे पर चला गया था उसको भी चाट कर साफ किया। लो माँ मैंने तुम्हारे पैर पर लगा पसीना साफ कर दिया अरे मेरे बच्चे अभी कंहाँ अभी तो तूने मेरे तलवे ही चाटे है अभी पैरो के उपर का हिस्सा तो बाकि है उसको भी तो चाट देख मेरी टाँगो से बह कर सारा पसीना पैरो के उपरी हिस्से पर ही तो जा रहा है उसे भी तो पी ले मेरे लाल क्या तू ऐसे ही इस नशीले पसीने को बर्बाद होने देगा।

नंही माँ कभी भी नंही कह कर मैंने रीमा के पैर के उपरी हिस्से को भी चाटना शुरू कर दिया। मैंने तस्वीरो मे कई बार मर्दो को औरतो के पैर चाटते हुये देखा था उन तस्वीरो के देख कर मेरा लंड मस्त टन्ना जाता था और मन करता था काश मे होता उन मर्दो की जगह। और आज मेरा सपना पूरा हो रहा था। मैंने रीमा के पैर के उपरी हिस्से को भी चाट कर उसका पसीना पी लिया एक आध बूंद उसकी टाँग से फिसल कर पैर तक आयी जिसे मैं पी गया। रीमा ने अपना दूसरा पैर अभी मेरी जाँघ पर रखा था और समय समय पर मेरे लंड को अपने पैर से सहला रही थी और कभी जोर से मसल देती। जब मैंने उसका एक पैर पूरी तरह से साफ कर दिया तो बोली बडा प्यार करता है मेरा बेटा अपनी माँ को पसीने की एक भी बूंद नंही छोडी तूने अपनी माँ के चरण पर ले अब इस पैर को छोड और दूसरा पैर चाट अपना दूसरा पैर मेरे चेहरे के सामने करती हुयी रीमा ने कहा। मैंने झट से रीमा के पैर को अपने चेहरे पर रखा और उसको पहले सूघने लगा और फिर उस पैर के साथ भी वही किया जो पहले पैर के साथ किया था यहाँ तक रीमा ने भी इस पैर से मेरा मुँह चोदा और चोदते हुये बोली दोनो पैर को बराबर प्यार कर नंही तो एक पैर नाराज हो जायेगा समझा। मैंने भी दर्द सहते हुये दुसरे पैर को भी उतना ही प्यार किया रीमा की आँखो के चमक बता रही थी कि उसके दिमाग मैं न जाने और भी कितने विकृत खयाल चल रहे थे जिनको वह मेरे जैसे जवान मर्द के साथ पूरा करना चाहाती थी। मैंने दूसरे पैर की उंगलियो के बीच भी जीभ घुसा घुसा कर पसीना चाटा।

क्रमशः........................

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: माँ बेटे का अनौखा रिश्ता

Unread post by The Romantic » 29 Oct 2014 16:18

गतांक से आगे.....................

दोनो पैरो को मैंने अपने थूक से एक दम चमका दिया था। चल बेटा अब घुटनो के नीचे का हिस्सा चाट मेरी टाँग का बहुत पसीना जमा हो गया है। मैंने पहले उसकी टाँग को चूमना शुरु किया फिर उस पर लगे पसीने को पीने लगा पसीने की बूंदो पर अपने होंठ रखता और फिर उसे पी लेता। इस तरह जितनी भी बूंदे मुझे दिखायी दी सब मैंने चूम चूम कर पी ली और अपनी जीभ बाहर निकाली और किसी कुत्ते की भांति उसकी टाँग चाटने लगा उसकी टाँग चाट कर उसका पसीना पीता फिर जितना हो सके उतना मुँह मे भर कर चूसता इस तरह अगर उसकी खाल मे भी अगर थोडा सा पसीना समा गया हो उसको भी चूस कर निकाल संकू। रीमा अपना दूसरा पैर अब मेरी छाती पर रख कर अपनी उंगलियाँ मेरी छाती पर फिरा रही थी। उसकी मुलायम उंगलियाँ मेरी छाती को और भी उत्तेजित कर रही थी। फिर रीमा ने अपनी उंगलीयो के नाखून से मेरी घुडियाँ कुरेदने लगी वह जानती ही मेरी घुंडिया कितनी संवेदनशील है और उनको छेडने से मैं और भी उत्तेजित हो जाता हूँ और मेरा लंड अपना सर उठा कर इस बात का इजहार करता है। मेरी घुंडियाँ छेडने का असर सीधा मेरे लंड पर हुआ और वह तन कर रीमा को इसके लिये सलामी देने लगा। जब मैंने आगे से रीमा की टाँग चाट ली तो रीमा ने अपनी मोटी टाँग उठा कर मेरे कंधे पर रख दी और घुमा कर उसके पीछे का हिस्सा मेरे सामने कर दिया मैं उसे पहले चूमा और फिर उस पर लगे पसीने को चाटने लगा। इसी तरह चूसते चाटते, सुंघते हुये मैंने उसके पैर का सारा पसीना पी लिया और रीमा भी अपने पैर से कभी मेरी छाती सहलाती तो कभी मेरा लंड ऐसा करके उसने मेरी उत्तेजना को बनाये रखा। एक टाँग का पसीना पी कर मैंने रीमा से कहा माँ अब मुझे दूसरी टाँग का पसीना पीने दो। ले बेटा पी ले इस टाँग को भी चाट ले मेरे लाल रीमा ने दूसरी टाँग मेरे चेहरे के सामने करते हुये कहा।

मैंने रीमा की दूसरी टाँग को चूसना शुरु कर दिया और पहली टाँग की तरह इसको भी चूस चाट कर पसीना मैं पी गया। रीमा अपने मुँह से सिसकते हुये और बकते हुये मुझे उत्साहित करती रही। मेरा लंड नाडे मे बंधा फडफडा रहा था और रीमा अपने पैरो से मेरे लंड को और भी तंग कर रही थी। जब मैंने दोनो टाँगे अच्छी तरह से चूम चाट और चूस कर साफ कर दी मैंने कहा माँ लाओ अपनी जाँघे चौडी करो तो मै तुम्हारी जांघे चाट कर उसका पसीना पीयूंगा। नंही बेटा जाघे अभी नंही अभी मेरी चूत पूरी तरह से गर्म नही हुयी है जब मेरी चूत गर्म होगी तब मेरी जाँधे चूत की गर्मी से और भी पसीना बहायेगी तब तुम मेरी जाँघे चाटना अभी तो तुम मेरी हथेली मेरे हाथ और मेरी काँख से पसीना चूसो मेरी काँख तो पसीने से भरी पडी है। जब ठंड होती है तब भी मेरी काँख पसीना बहाती है तो अब जब इतनी गर्मी है तो पसीने का सागर बह रहा है मेरी काँख से इतने घने लम्बे बाल जो है मेरी काँख मे चूस ले मेरे राजा बेटे चाल आ बैठ माँ के बगल मे और चूस माँ के बगल। हाँ माँ जरुर लाओ तुम्हारा हाथ चूसता हूँ पहले फिर काँख चाटूंगा मैंने तो जबसे तुम्हारे काँख देखी है तब से ही उसमे अपना मुँह घुसा कर पसीने के महक सूंघना चाहाता था तुमने तो मेरी और भी इच्छा पूरी कर दी पसीने की गंध के साथ साथ पसीना भी तैयार कर लिया माँ अरे मेरे लाल तेरी माँ तेरी इच्छा नंही समझेगी तो और कौन समझेगा जब तुझे अपनी काँख घूरते देखा था तभी समझ गयी थी कि तुझे क्या चाहिये तभी मैंने सोच लिया था कि तुझे अपनी काँख से पसीना पीलाऊंगी अपनी चूचीयो से निकलने वाला दूध तो न पिला सकी पर अपने बदन से निकलने वाले और सारे पदार्थ तुझे दूगी मेरे लाल जिससे तेरे मन मे कोई मलाल न रह जाये कि माँ ने मेरा ख्याल नंही रखा।

माँ के वक्य के अंदर छिपे अर्थ को भी मैं समझ रहा था जिससे मैं और भी उत्तेजित हो रहा था। मुझे पता था कि रीमा क्या करने का सोच रही थी शायद मैं भी वही चाहाता था क्योकी हम लोगो ने कयी बार इस बारे में बात की थी। और रीमा की आँखो के चमक यही बता रही थी की वह भी बहुत उत्तेजित थी। लाओ माँ मैं तुम्हारे हाथो के पसीना चाट लेता हूँ। चल इधर बैठ मेरे बगल में सोफे पर फिर चाट मेरा हाथ। मैं रीमा के बाँयी तरफ सोफे पर बैठ गया। रीमा ने अपना बाँया हाथ उठाया और मेरे हाथो मे रखा ले बेटा कर प्यार अपनी माँ के साथ। मैंने रीमा की हथेली अपने हाथ मे ली और उसको अपने चेहरे तक उठा कर चूम लिया। फिर मैंने रीमा की हथेली पर चुम्बनो के झडी लगा दी और जोर जोर से चूमने लगा अच्छे से रीमा के हाथ चूमने के बाद मैंने उसकी हथेली चाटनी शुरु कर दी आगे पीछे दोनो तरफ से अच्छे से चाटी मैंने रीमा की हथेली और बडे ही प्यार से। रीमा खुद अपने हाथ घुमा घुमा कर अपनी हथेली चटवा रही थी। फिर रीमा अपना दूसरा हाथ मेरी छाती पर फिराने लगी उसकी मुलायम उंगलियो और नाखून में जादू था चाहे मैं कितना भी उत्तेजित हूँ उसके हाथो के स्पर्श से मैं हर बाद एक नयी उंचायी को छू जाता था। रीमा ने काफी देर तक अपनी हथेली मुझसे चटवायी और मैंने भी मस्त जीभ घुमा घुमा कर उसकी हथेली चाटी फिर रीमा ने मुझे अपना मुँह खोलने को कहा मैंने जैसे ही मुँह खोला रीमा ने अपनी उंगली मेरी मुँह मे घुसेड दी ले कुतिया की औलाद चूस मेरे उंगली कुत्ते इतना अच्छा खाना तेरे जैसे कुत्ते को कभी कभी ही नसीब होता है साला जाने अब तक नाली मैं मुँह मारता फिरता था आज ले आज इतनी शानदार औरत मिली है तुझे भोगने को तो थोडी भोग ले अच्छे से पता नही फिर कब मिलेगी तुझे दावत। मैंने उसकी उंगली चूसनी शुरु कर दी जैसे कोई बच्चा अपनी टॉफी चूसता है ऐसे ही मैं उसकी उंगली चूस रहा था।