Marwar ki mast malaai-मारवाड़ की मस्त मलाई compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Marwar ki mast malaai-मारवाड़ की मस्त मलाई

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 01:40

मारवाड़ की मस्त मलाई पार्ट --7



गतांक से आगे........................

मैं ने साइड टेबल पे से जेल्ली का ट्यूब उठा लिया. लक्ष्मी पेट के बल उल्टा लेटी थी उसकी छोटी चिकनी गंद बड़ी मस्त लग रही थी. मैं जेल्ली के ट्यूब से अपने लंड पे जेल्ली लगाने लगा तो वो देख रही थी और बोली कि मेरे कू भी लगा दो बाबू जी नही तो मुझे भी दरद हो गा तो मैं ने कहा ठीक है और अपने हाथ मे बोहोत सारी जेल्ली निकाल के उसकी चूत और गंद पे लगा दिया और उसके पैरो के बीच मे मिशनरी पोज़िशन मे अपने पैर पीछे कर के लेट गया. उल्टा लेट के उसने अपनी गंद थोड़ी ऊपेर उठा ली थी जिस से उसकी चूत मेरे लंड के टारगेट मे थी और मैं अपने लंड को उसकी चूत के सुराख मे रख के दबाना शुरू किया. जेल्ली और लून मे से कंटिन्यू निकलते प्री कम की वजह से लंड और चूत बोहोत ही चिकने और स्लिपरी हो गये थे इसी लिए लंड का सूपड़ा तो बोहोत आसानी से उसकी टाइट छोटी सी कुँवारी चूत के अंदर घुस गया क्यॉंके उसकी चूत का सुराख मेरे लंड के सूपदे तक तो अड्जस्ट हो ही गया था. मैं उसकी पीठ पे लेट गया और अपने दोनो पैरो को उसके दोनो पैरो के बीच मे रख के ऐसे दबा के अड्जस्ट किया के वो अपनी टाँगें बंद ना कर सके और अपने हाथो से उसके छोटे छोटे सख़्त कड़क चुचिओ को दबाने और मसल्ने लगा. वो उल्टी हाफ लेटी और हाफ डॉगी स्टाइल मे थी और मेरे लंड का सूपड़ा उसकी चूत के सुराख मे अटका हुआ था. मैं ने एक और पुश किया तो लंड थोड़ा सा और उसकी चिकनी जेल्ली से भरी चूत के अंदर घुस गया और फॉरन ही उसका बदन अकड़ गया उसको दरद हुआ था उसने आगे निकलने की कोशिश की पर मैं ने उसको ऐसे पकड़ रखा था के वो हरकत भी नही कर सकती थी और मेरे शिकंजे मे फँसी हुई थी. मैं अब लंड को ऐसे ही रखे रखे थोडा ही अंदर बहेर अंदर बाहर कर रहा था. अब मैं और बर्दाश्त नही कर सकता था और लंड को पूरा बाहर निकाल के एक ही झटके मे उसकी चूत को फाड़ने का प्लान बना चुका था और इसी प्लान के चलते अपना पूरा लंड बाहर खेचा तो पता नही उसने क्या समझा और वो पूरा बेड पे लेट गयी और फिर इस से पहले के मैं कुछ सोचता मैं ने उसके शोल्डर्स को टाइट पकड़ के एक बोहोत ही ज़ोर का झटका मारा और उसकी चूत का सुराख मेरे टारगेट से मिस कर गया एक ज़ोर से गग्ग्घहाआअक्कककचह की आवाज़ आई और मेरा जेल्ली से भरा लंड किसी मिज़ाइल की तरह बोहोत तेज़ी से पूरे का पूरा चूत से स्लिप होके उसकी गंद मे घुस्स गया और वो बड़ी ज़ोर से चिल्लाई ऊऊऊऊऊओिईईईईईईईईईईईईईईई म्‍म्म्मममममममाआआआआआआआ

म्‍म्म्मममाआआररर्र्र्ररर गगगगगगगाआआआययययययईईई ब्ब्ब्बाआआब्ब्ब्ब्ब्बुउउउउउउउउउ हहाआआऐईईई

और वो रोने लगी और उसकी आँख से आँसू निकलने लगे और मेरी ग्रिप से बाहर निकलने को मचलने लगी पर मैं ने उसको छोड़ा नही और उसकी चीख सुन के पिंकी कमरे मे आ गयी उसे अंधेरे कमरे मे कुछ नज़र नही आया तो उसने लाइट जला दी और रोशनी मे देखा के लक्ष्मी मेरे नीचे उल्टा लेती है और मेरा मूसल लंड उसकी गंद को फाड़ के अंदर तक घुसा हुआ है तो वो मुस्कुराने लगी और बोली के राजा लगता है तुम्है लक्ष्मी की कुँवारी चूत से ज़ियादा उसकी कुँवारी गंद पसंद आ गई लगता है तो मैं ने कहा के मैं क्या करू मे तो चूत मे ही लंड डालने लगा था इसी ने पोज़िशन चेंज करली जिसकी वजह से चूत के सुराख को छोड़ मेरा लंड उसकी गंद मे घुस्स गया तो मैं क्या करू. उसने पुकारा दीदी दीदी मुझे बचाओ दीदी तो पिंकी उसके करीब आई तो उसने बोला के दीदी बोहोत दरद कर रहा है दीदी बाबू से बोलो ना के बाहर निकालो तो पिंकी ने बोला के फिकर ना कर अभी सब ठीक हो जाएगा और पिंकी वही खड़ी हो गयी और हमै देखती रही और थोड़ी ही देर मे मुझे महसूस हुआ के उसकी गंद के मसल्स मेरे लंड के डंडे पे कुछ रिलॅक्स हो रहे है तो मैं ने उस से पूछा अब कैसा लग रहा है तो उसने बोला के अब थोड़ा दरद कम दिख रहा है तो मैं ने लंड को थोडा बाहर निकाला और अंदर डाल के उसकी वर्जिन गंद मारने लगा. पिंकी हैरत से देखती रही के इतना लंबा और मोटा लंड उसकी इतनी छोटी सी गंद मे कैसे घुस गया पर अब जो होना था सो हो चुका था लेकिन गंद उसकी कुँवारी चूत से पहले ही फॅट चुकी थी और मेरा मूसल जैसा लंड उसकी गंद के अंदर घुसा हुआ था और मैं उसकी गंद मार रहा था. मैं ने पिंकी से इंग्लीश मे बोला के वो लक्ष्मी की चूत मे उंगली करे ता कि उसको थोडा मज़ा भी आए और यह सुनते ही पिंकी जो अभी तक नंगी थी बेड पे बैठ गयी और लक्ष्मी की चूत मे उंगली अंदर बाहर करने लगी जिस से लक्ष्मी पूरी तरह से रिलॅक्स हो गयी थी और मैं घचा घच उसकी छोटी सी फटी गंद को मार रहा था वो हहाआईईई सस्स्स्स्स्स्सस्स ऊऊऊओईईईई म्‍म्म्ममाआआअ जैसी आवाज़ें निकल रही थी और थोड़ी ही देर मैं मेरे लंड मे से कम की पिचकारियाँ निकल के उसकी गंद को भरने लगी और जब लंड उसकी गंद से बाहर निकाला तो मेरी मलाई और थोडा सा खून भी उसकी गंद से निकल के बेडशीट पे गिर गया और उसकी गंद अब पूरी तरह से खुल चुकी थी और खुल बंद भी हो रही थी.

मैं ने पिंकी से इंग्लीश मे ही कहा के अब मैं लक्ष्मी को चोदुन्गा और उसकी चूत की सील भी तोड़ डालूँगा तो वो मुस्कुराने लगी और एक आँख बंद कर के अपना अंगूठा दिखा थंप्स उप की साइन बना के बोली के गुड लक और कमरे से निकल के किचन मे चली गयी. जब लक्ष्मी का दरद कम हो

गया तो वो भी बेड से उठ के जाने लगी तो मे ने उसका हाथ पकड़ लिया और बोला के कहा जा रही हो तो उसने बोला के दीदी के पास जा रही हू तो मैं ने बोला के अरे ऐसे कैसे अभी तो तुम्हारी चूत मे भी तो लंड डालना है तो उसने अपने कान पकड़े और कहा के ना बाबा अब मुझे कुछ नही करवाना है तो मैं ने कहा के लक्ष्मी सच इस टाइम बोहोत धीरे से करूँगा और तुम्हेई बोहोत ही मज़ा आएगा. इस टाइम तो तुम ही अपनी जगह से हट गयी थी इसी लिए लंड चूत के बजाए तुम्हारी गंद मे घुस गया था तो मैं क्या करू. उसने फिर बोला के बाद मे कर लेना बाबू मुझे बोहोत दुख रहा है तो मैं ने कहा के अछा चल हमाम मे चल के स्नान करते है गरम पानी से धोएगी तो दरद कम हो जाएगा और हम दोनो अब बाथरूम मे आ गये. शवर से गरम और ठंडे पानी का नल्ल खोला मिक्सर को अड्जस्ट किया तो मीडियम गरम पानी आने लगा. मैं लक्ष्मी को टब मे लिटा दिया और उसकी गंद और चूत मे साबुन लगा के मालिश करने लगा जिस से गंद और चूत मे लगी हुई जेल्ली भी सॉफ हो गयी और धीरे धीरे उसकी गंद का दरद भी कम हो गया और वो एक बार फिर फ्रेश हो गयी. अब उसने पलट के मुझे शवर के नीचे किया और मेरे लंड को साबुन लगा के मालिश करने लगी और उसपे लगी जेल्ली को सॉफ करने लगी. इतनी देर मे मेरा लंड फिर से अकड़ के लोहे जैसा सख़्त हो चुका था तो लक्ष्मी ने उसको अपने हाथ मे पकड़ के अपने हाथ से दबाया और अपने मूह मे ले के थोड़ी देर चूसा और बोली के हाए बाबू यह तो इतना बड़ा और मोटा है के मेरे मूह मे भी नही आ रहा है. ओह यह तो फिर से अकड़ के गरम हो गया है तो मैं ने बोला के तुम्हारी प्यारी चूत को देख के खड़ा हो गया है और तुमहरि चिकनी चूत को सल्यूट कर रहा है तो वो शर्मा गयी और मुस्कुराने लगी.

चलो अब बेड पे चलते है और हम दोनो शवर से बाहर निकल आए टवल से एक दूसरे को ड्राइ किया. कमरे मे अब लाइट जल रही थी. मैं ने लक्ष्मी का हाथ पकड़ के बेड पे लिटा दिया तो उसने अपनी आँखो पे हाथ रख के आँखो को बंद कर लिया और बोली के बाबू लाइट तो बंद करदो हमै शरम आती है तो मैं ने बोला के अरे गंद मरवा चुकी है लंड को चूस चुकी है अभी तक शरम आती है तुझे तो वो मुस्कुराने लगी और बोली के ठीक है बाबू जैसा तुम ठीक समझो हमै तो अंधेरा ही अछा लगे है तो मैं ने कहा के ठीक है चलो तुम कहती हो तो लाइट भी बंद कर देता हू और लाइट बंद कर दिया जिस से कमरे मैं एक बार फिर से अंधेरा छा गया और हम दोनो नंगे ही बिस्तर पे एक दूसरे की तरफ करवट ले के लेट गये. मैं ने लचमी को अपनी बाँहो मे पकड़ लिया और हम दोनो एक दूसरे से लिपटे हुए थे उसको टंग सकिंग किस करने लगा अब उसको भी किस करने की अछी प्रॅक्टीस हो गयी थी और वो मेरी ज़ुबान को चूस रही थी मैं ने उसकी चूत को एक हाथ से सहलाना शुरू किया तो उसने

ऑटोमॅटिकली अपनी टाँगें खोल दी और मेरे थाइ पे रख ली जिस से उसकी चूत थोड़ी सी खुल गयी और मेरे लंड को अपनी मुथि मे पकड़ के एक बार फिर से लंड के सूपदे को अपनी चूत के पंखाड़ियों के बीच मे घुसा के ऊपेर नीचे करने लगी और अपने चूत के दाने को लंड के सूपदे से रगड़ने लगी. लंड के प्री कम और उसकी चूत के जूस से चूत चिकनी और स्लिपरी हो गयी थी. अब मैं पोज़िशन चेंज कर के पीठ के बल लेट गया और उसको एक बार फिर से अपने ऊपेर खेच लिया और उसने अपने दोनो पैर घुटनो से मोड़ के मेरे बदन के दोनो तरफ रख लिए और मैं ने भी अपने पैर घुटनो से मोड़ के खड़े कर लिए. वो मेरे लंड के डंडे पे बैठी थी और मैं ने उसको झुका लिया और उसके छोटे अमरूद के साइज़ के बूब्स को चूसने लगा जिस से वो बोहोत जल्दी ही गरमा गयी और तेज़ी से लंड पे आगे पीछे होने लगी जिस से मेरे लंड का सूपड़ा चिकनाई की वजह से उसकी चूत के छोटे से सुराख मे अटक गया. अब वो धीरे धीरे पीछे हट रही थी जिस से मेरे लंड का सूपड़ा धीरे धीरे उसकी चूत के छोटे से सुराख मे घुस रहा था और फिर फिसलते फिसलते ऑलमोस्ट उसकी चूत के सुराख के अंदर चला गया. इस से ज़ियादा वो नही ले पा रही थी तो मैं कुछ देर के बाद अपनी गंद उठा के एक धक्का मारा तो लंड का सूपड़ा पूरा और थोड़ा सा लंड का डंडा भी उसकी चूत मे घुस गया और उसकी ज़ुबान से सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स की आवाज़ निकली मैं अपने लंड को उसकी चूत मे रखे ही उसके बूब्स को चूसने लगा और धीरे धीरे गंद उठा के लंड को थोड़ा थोड़ा अंदर करना लगा पर अब चूत इतनी टाइट थी के लंड अंदर घुस ही नही रहा था तो मैं ने उसको नीचे लिटा दिया और साइड टेबल से जेल्ली का ट्यूब ले लिया और अब उसको पीठ के बल लिटा दिया और उसकी चूत के सुराख मे ट्यूब घुसा के ट्यूब को दबाया और खूब बोहोत सी जेल्ली उसकी चूत मे डाल दी और अपने लंड पे भी फुल जेल्ली लगा दिया.

इतनी देर तक वो अपने पैर घुटनो से मोड लेटी रही उसकी साँवली सी बिना झतो की छोटी सी चिकनी कुँवारी चूत जेल्ली लगाने से अंधेरे मैं भी चमक रही थी. जेल्ली उसकी चूत मे और अपने लंड पे लगा के ट्यूब को करीब ही रख लिया और उसके ऊपेर झुक गया और लंड के सूपदे को उसकी चूत के नीचे से ऊपेर उसकी क्लाइटॉरिस तक मसल्ने लगा तो उसने मेरे लंड को पकड़ लिया और अपनी चूत के सुराख मे अड्जस्ट कर के टीका दिया तो मैं समझ गया के लक्ष्मी अब और बर्दाश्त नही कर सकती वो फुल मूड मे आ चुकी है बोहोत चुदसी हो गई है और वो अब चुदने के लिए पूरी तरह से तय्यार हो चुकी है और मेरा लंड भी कुँवारी चूत की सील तोड़ने को उतावला हो रहा था तो मैं उसके ऊपेर झुक गया और अपने पैर मिशनरी पोज़िशन मैं पीछे कर के उसके ऊपेर लेट गया, अपनी टाँगो से उसकी टाँगो को खोल के

पकड़ा रहा और लंड को धीरे धीरे उसकी चूत के अंदर धकेलने लगा तो लंड उसकी चूत मे दबाया तो लंड उसकी चूत मे थोडा और अंदर घुस गया लक्ष्मी का सारा बदन अकड़ गया था और उसकी साँस रुकी हुई थी उसने मुझे टाइट पकड़ा हुआ था और उसके मूह से उन्ह !! उन्ह !! उन्ह !! और सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स आआआआआअहह ब्ब्ब्बाआब्ब्बुउउउउउउ जैसी आवाज़ें निकल रही थी जैसी मज़ा भी ले रही हो और दरद भी हो रहा हो और मैं उसकी चूत मे अपने लंड का प्रेशर दे रहा था.

मेरा मूसल लंड उसकी छोटी सी टाइट चूत मे अब तकरीबन 3 इंच और अंदर घुस्स गया था और मुझे लगा के अब मेरे लंड का सूपड़ा किसी चीज़ से टकरा के रुक गया हो और लंड को अंदर जाने से रोक रहा है तो मैं समझ गया के यह उसकी कुँवारी चूत की कुँवारी सील ही है जो लंड को अंदर जाने नही दे रही है तो मैं ने पहले तो ऐसे ही अपने लंड को उतना ही उसकी चूत के अंदर बाहर किया और फिर थोड़ी देर के बाद अपना लंड उसकी चूत से बाहर खेच के निकाल लिया और जैसे ही लंड बाहर निकला उसके मूह से ऊऊऊओह जैसी आवाज़ निकली उसकी चूत खुली हुई थी तो मैं ने करीब पड़ी जेल्ली का ट्यूब उठाया और ट्यूब को उसकी चूत मे थोड़ा सा अंदर घुसाया और तकरीबन आधी ट्यूब उसकी चूत के अंदर भर दिया और अपने हिल हिल के लक्ष्मी की छोटी सी चिकनी कुँवारी चूत को सल्यूट करते हुए लंड के हेड पे भी खूब सारी क्रीम लगा दिया और फिर से वैसे ही मिज़िसनरी पोज़िशन बना लिया अपने लंड को थोड़ा उसकी चूत के सुराख के अंदर घुसा दिया और अपने पैरो को पीछे बेड के किनारे से टीका के ग्रिप बनाया और लक्ष्मी के बगल से हाथ अंदर डाल के उसको भी टाइट पकड़ लिया और उसको किस करने लगा. अब मेरे अंदर एक नया जोश आ गया था के मुझे एक और कुँवारी चूत की सील तोड़नी है जिसके लिए मेरा लंड एक दम से तय्यार है और क्या लकी है मेरा लंड के एक दिन मे 2 कुँवारी चूतो की सील तोड़ने को मिल रही है और लंड को थोडा सा अंदर बाहर करने लगा और इतनी देर मैं आधा लंड बड़ी आसानी से उसकी चिकनी चूत के अंदर बाहर हो रहा था उसकी चूत के मसल्स मेरे लंड को अड्जस्ट कर लिए थे. मेरा लंड कुँवारी चूत के सील तोड़ने के लिए मचल रहा था. थोड़ी देर ऐसे ही आधे लंड से चोदने के बाद अपनी गंद उठा के पूरे का पूरा लंड उसकी चूत से बाहर खेच के निकाल लिया और एक ही धक्का इतनी ज़ोर से मारा के उसकी चूत मे से एक घच की आवाज़ आई और उसकी छोटी सी कुँवारी चूत के सीट टूट गई और उसकी चूत फॅट गयी और मेरा मूसल जैसा मोटा और लोहे जैसा सख़्त लंड उसकी चूत को चीरता हुआ उसकी बचे दानी से टकराया और वो बोहोत ज़ोर से चीख पड़ी आआआआआमम्म्मममममममममम्मूऊऊऊऊऊऊऊऊ म्‍म्म्ममममाआआआआआआआआअरर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्ररर

गगगगगगगगगाआआआआययययययययईईईईई र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्रररीईईईईईईईई ब्ब्ब्ब्ब्ब्ब्ब्बाआआआआब्ब्ब्ब्ब्ब्ब्ब्ब्ब्ब्बुउउउउउउउउउउउउउउ और उसका सारा बदन पसीने से भर गया और वो मेरे बदन से बोहोत ही ज़ोर से चिपक गयी और मेरे नीचे किसी मछली की तरह से तड़पने लगी और अपना दरद कम करने के लिए उसका मूह मेरे शोल्डर पे आ गया और उसने बड़ी ज़ोर से मेरे शोल्डर पे काट लिया जिस से मेरा शोल्डर का वो पोर्षन लाल हो गया और थोड़ा सा खून भी निकल आया लैकिन मेरा लंड उसकी चूत को फाड़ के उसकी कुँवारी सील को तोड़ चुका था. उसकी चीख के साथ ही मेरे मूह से भी एक हल्की सी उउउउउउउउउउउह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह की आवाज़ निकल गयी और मेरे शोल्डर मे थोडा दरद होने लगा पर मुझे दरद का एहसास फॉरन ही ख़तम हो गया और मेरा ध्यान अपने मूसल लंड जो उसकी चूत मे फँसा हुआ था उसकी ओर चला गया. उसने अपने हाथो और पैरो से मुझे कस के पकड़ा हुआ था और फिर एक ही सेकेंड के अंदर उसके हाथ और पैर बेजान हो के मेरे बदन से निकाल के बेड पे गिर गये और वो ऑलमोस्ट बेहोश ही हो गयी उसकी आँखो से आँसू निकल निकल के उसके गालो पे से होते हुए नीचे गिरने लगे और बेडशीट को भिगोने लगे उसकी साँसें बोहोत ही गहरी हो गई थी और मेरे बदन के नीचे ऐसे पड़ी थी जैसे कोई डेड बॉडी हो.

कमरे मे एक बार फिर से रोशनी हो गयी और पिंकी लक्ष्मी की चीख सुन के अंदर आ गयी थी और हम दोनो को देख के मुस्कुरा के बोली वाउ राजा तुम्हाई एक और कुँवारी चूत मिल गयी उसकी भी सील तोड़ डाली तुम ने एक ही दिन मे दो दो कुँवारी चूतो की सील और एक गंद की सील तोड़ी है तुम ने तो मैं भी मुस्कुरा दिया. मेरा लंड एक नयी चूत की सील के टूटने से लक्ष्मी की चूत के अंदर ही अंदर जशन मना ने लगा.

मैं ने अपना लंड उसकी चूत मे ही घुसाए रखा और उसके ऊपेर लेटा रहा. थोड़ी देर के बाद उसको होश आया और मुझे ऐसी नज़रो से देखने लगी जैसे पूछ रही हो के “मैं कहाँ हू ओर मुझे क्या हुआ है ”. फिर एक ही मिनिट के अंदर उसको पता चल गया के वो कहा है और उसको क्या हुआ है और जैसे ही उसको उसकी फटी हुई चूत के अंदर मेरे मूसल लंड का एहसास हुआ तो उसको फिर से दरद हो ने लगा और वो मेरे सीने पे अपनी मुथि बंद करके मारने लगी और बोली के हटो बाबू मेरे ऊपेर से हट जाओ निकालो इसको मुझे नही चाहिए तुम्हारा लौदा मुझे बोहोत दुख़्ता है मानो जैसे किसी ने गरम छुरि से काट डाला हो बोहोत दरद हो रहा है बाबू सच भगवान के लिए दया करो बाबू मेरे ऊपेर और उसकी नज़र पिंकी के ऊपेर

पड़ी तो उसने कहा प्लीज़ दीदी बाबू से बोलो ना के निकले मुझे लग रहा है मानो मेरे बदन मे गरम लोहा घुसा हो मेरे अंदर आग लगी हुई है दीदी प्लीज़ निकालो बोलो बाबू को इस से पहले के पिंकी कुछ बोलती मैं ने कहा के लक्ष्मी अब थोड़ा और बर्दाश्त कर लो बॅस अब तो मेरा पूरे का पूरा लंड तुम्हारी चूत के अंदर जा चुका है अब तुम्हाई अब ज़िंदगी भर कभी भी तकलीफ़ नही होगी. पिंकी ने देखा के मेरा पूरे का पूरा लंड लक्ष्मी की चूत के अंदर घुसा हुआ है और लक्ष्मी की चूत पे किसी बॉटल के ढक्कन की तरह से सील्ड है. पिंकी बोली के हा लक्ष्मी अब तुझे कभी भी दरद नही होगा तू तो बड़ी बहादुर निकली रर तेरी छोटी सी चूत तो राजा का इतना बड़ा मोटा और लोहे जैसा लंड पूरा खा गयी तो लक्ष्मी बोली के दीदी बोहोत दरद कर रहा है दीदी मेरी तो जान ही निकल गयी है दीदी तो पिंकी ने बोला के चल अब कोई प्राब्लम नही है यह ले मैं तेरी बॉडी का मसाज कर देती हू और वो लक्ष्मी की चुचिओ को सहलाने लगी और फिर उसकी चुचिओ को अपने मूह मे ले के चूसने लगी और दूसरे हाथ से उसके पेट पे और नवल पे फिराने लगी जिस से लक्ष्मी का बदन कुछ रिलॅक्स हुआ और अब उसने अपने हाथ और पैर मेरी बॅक पे लपेट लिए और और मेरी पीठ को सहलाने लगी तो मैं समझ गया के अब उसको मज़ा आने लगा है तो मैं ने पूछा लचमी अब दरद कैसा है तो उसने धीरे से मुस्कुराते हुए कहा के हा अब थोडा कम है बाबू.

मेरा लंड उसकी छोटी फटी हुई चूत के अंदर ही फँसा हुआ था और मुझे महसूस हो रहा था के उसकी चूत के अन्द्रूनि मसल्स मेरे लंड के सूपदे और डंडे को निचोड़ रहे है यह एक अजीब सा मीठा मीठा एहसास था जिस से मुझे बोहोत ही मज़ा आ रहा था. अब मैं ने धीरे धीरे लंड को अंदर बाहर करना शुरू किया तो लक्ष्मी ने भी अपनी गंद उठा उठा के मेरे लंड का स्वागत किया और मज़े से चुदवाना शुरू कर दिया. पिंकी वही खड़ी थी और हमारी चुदाई को देख रही थी. उसकी चूत खून से भरी हुई थी लैकिन खून बाहर नही निकाला था क्यॉंके लंड से उसकी चूत मे टाइट घुसा हुआ था और खून को बाहर निकलने का रास्ता नही मिल रहा था इसी लिए उसकी चूत का खून मेरे लंड के डंडे पे लगा हुआ ही थोड़ा थोड़ा बाहर आ रहा था और लंड के डंडे के साथ ही उसकी चूत के अंदर जा रहा था. अब लक्ष्मी बड़ी मस्ती मे चुदवा रही थी और पिंकी मज़े से देख रही थी और देखते ही देखते पिंकी की आँखों मे फिर से वासना की आग जल उठी थी और वो फिर से गरम हो गयी थी.

Mai ne side table pe se Jelly ka tube utha lia. Lachmi pet ke bal ulta leti thi uski choti chikni gand badi mast lag rahi thi. mai Jelly ke tube se apne Lund pe Jelly lagane laga to wo dekh rahi thi aur boli ke mere ku bhi laga do babu ji nahi to mujhe bhi darad ho ga to mai ne kaha theek hai aur apne hath mai bohot sari Jelly nikal ke uski choot aur gand pe laga dia aur uske pairo ke beech mai missionary position mai apne pair peeche kar ke let gaya. Ulta let ke usne apni gand thodi ooper utha li thi jis se uski choot mere Lund ke target mai thi aur mai apne Lund ko uski choot ke surakh mai rakh ke dabana shuru kia. Jelly aur Lune mai se continue nikalte pre cum ki wajah se Lund aur choot bohot hi chikne aur slippery ho gaye the isi liye Lund ka supada to bohot aasaani se uski tight choti si kunwari choot ke ander ghus gaya kyonke uski choot ka surakh mere Lund ke supade tak to adjust ho hi gaya tha. Mai uski peeth pe let gaya aur apne dono pairo ko uske dono pairo ke beech mai rakh ke aise daba ke adjust kia ke wo apni tangein band na kar sake aur apne hatho se uske chote chote sakht kadak chuchion ko dabane aur masalne laga. Wo ulti half leti aur half doggy style mai thi aur mere Lund ka supada uski choot ke surakh mai atka hua tha. Mai ne ek aur push kia to Lund thoda sa aur uski chikni Jelly se bhari choot ke ander ghus gaya aur foran hi uska badan akad gaya usko darad hua tha usne aage nikalne ki koshish ki par mai ne usko aise pakad rakha tha ke wo harkat bhi nahi kar sakti thi aur mere shikanje mai phansi hui thi. Mai ab Lund ko aise hi rakhe rakhe thoda hi ander baher ander baher kar raha tha. Ab mai aur bardasht nahi kar sakta tha aur Lund ko poora baher nikal ke ek hi jhatke mai uski choot ko phadne ka plan bana chuka tha aur isi plan ke chalte apna poora Lund baher khecha to pata nahi usne kia samjha aur wo poora bed pe let gayee aur phir iss se pehle ke mai kuch sochta mai ne uske shoulders ko tight pakad ke ek bohot hi zor ka jhatka mara aur uski choot ka surakh mere target se miss kar gaya ek zor se gggghhhhhaaaaaccccchhhhhh ki awaz aayee aur mera jelly se bhara Lund kisi missile ki tarah bohot tezi se poore ka poora choot se slip hoke uski gand mai ghuss gaya aur wo badi zor se chillayee oooooooooooiiiiiiiiiiiiiiiiii mmmmmmmmmmaaaaaaaaaaaaaaaa

Mmmmmmaaaaaarrrrrrrr gggggggaaaaaaayyyyyyeeeeeeee bbbbaaaaaabbbbbbuuuuuuuuuu hhhhhhhhhhhaaaaaaaeeeeee

aur Wo rone lagi aur uski aankh se aansoo nikalne lage aur meri grip se baher nikalne ko machalne lagi par mai ne usko chhora nahi aur uski cheekh sun ke Pinky kamre mai aa gayee use andhere kamre mai kuch nazar nahi aaya to usne light jala di aur roshni mai dekha ke Lachmi mere neeche ulta leti hai aur mera musal Lund uski gand ko phad ke ander tak ghusa hua hai to wo muskurane lagi aur boli ke Raja lagta hai tumhai Lachmi ki kunwari choot se ziada uski kunwari gand pasand agayee lagta hai to mai ne kaha ke mai kia karu mai to choot mai hi Lund dalne laga tha isi ne position change karli jiski wajah se choot ke surakh ko chhor mera Lund uski gand mai ghuss gaya to mai kia karu. Usne pukara Didi Didi mujhe bachao Didi to Pinky uske kareeb ayi to usne bola ke Didi bohot darad kar raha hai Didi Babu se bolo na ke baher nikalo to Pinky ne bola ke fikar na kar abhi sab theek ho jayega aur Pinky wahi khadi ho gayee aur hamai dekhti rahi aur thodi hi der mai mujhe mehsoos hua ke uski gand ke muscles mere Lund ke dande pe kuch relax ho rahe hai to mai ne us se poocha ab kaisa lag raha hai to usne bola ke ab thoda darad kam dikh raha hai to mai ne lund ko thoda baher nikala aur ander dal ke uski virgin gand marne laga. Pinky hairat se dekhti rahi ke itna Lamba aur mota Lund uski itni choti si gand mai kaise ghuss gaya par ab jo hona tha so ho chuka tha Lachmi gand uski kunwari choot se pehle hi phat chuki thi aur mera musal jaisa Lund uski gand ke ander ghusa hua tha aur mai uski gand mar raha tha. Mai ne Pinky se englihs mai bola ke wo Lachmi ki choot mai ungli kare taa ke usko thoda maza bhi aye aur yeh sunte hi Pinky jo abhi tak nangi thi bed pe baith gayee aur Lachmi ki choot mai ungli ander baher karne lagi jis se Lachmi poori tarah se relax ho gayee thi aur mai ghacha ghach uski choti si phati gand ko mar raha tha wo hhhaaaaeeeeee ssssssssss oooooooiiiiiiii mmmmmaaaaaaa jaisi awazein nikal rahi thi aur thodi hi der mai mere Lund mai se cumm ki pichkariyan nikal ke uski gand ko bharne lagi aur jab Lund uski gand se baher nikala to meri malai aur thoda sa khoon bhi uski gand se nikal ke bedsheet pe gir gaya aur uski gand ab poori tarah se khul chuki thi aur khul band bhi ho rahi thi.

Mai ne Pinky se English mai hi kaha ke ab mai Lachmi ko chodunga aur uski choot ki seal bhi tod dalunga to wo muskurane lagi aur ek aankh band kar ke apna angootha dikha Thumps Up ki sign bana ke boli ke Good Luck aur kamre se nikal ke kitchen mai chali gayee. Jab Lachmi ka darad kam ho

gaya to wo bhi bed se uth ke jane lagi to mai ne uska hath pakad lia aur bola ke kaha ja rahi ho to usne bola ke Didi ke pas ja rahi hu to mai ne bola ke are aise kaise abhi to tumhari choot mai bhi to Lund dalna hai to usne apne kaan pakde aur kaha ke na baba ab mujhe kuch nahi karwana hai to mai ne kaha ke Lachmi sach iss time bohot dheere se karunga aur tumhei bohot hi maza ayega. Iss time to tum hi apni jagah se hatt gayee thi isi liye Lund choot ke bajaye tumhari Gand mai ghus gaya tha to mai kia karu. Usne phir bola ke baad mai kar lena babu mujhe bohot dukh raha hai to mai ne kaha ke acha chal hammam mai chal ke snan karte hai garam pani se dhoyegi to darad kam ho jaega aur ham dono ab bathroom mai aa gaye. Shower se garam aur thande pani ka nall khola mixer ko adjust kia to medium garam pani aane laga. Mai Lachmi ko tub mai lita dia aur uski gand aur choot mai sabun laga ke maalish karne laga jis se gand aur choot mai lagi hui Jelly bhi saaf ho gayee aur dheere dheere uski gand ka darad bhi kam ho gaya aur wo ek baar phir fresh ho gayee. Ab usne palat ke mujhe shower ke neeche kia aur mere Lund ko sabun laga ke malish karne lagi aur uspe lagi Jelly ko saaf karne lagi. Itni der mai mera Lund phir se akad ke lohe jaisa sakht ho chuka tha to Lachmi ne usko apne hath mai pakad ke apne hath se dabaya aur apne muh mai le ke thodi der choosa aur boli ke haye babu yeh to itna bada aur mota hai ke mere muh mai bhi nahi aa raha hai. Oh yeh to phir se akad ke garam ho gaya hai to mai ne bola ke tumhari pyari choot ko dekh ke khada ho gaya hai aur tumahri chikni choot ko salute kar raha hai to wo sharma gayee aur muskurane lagi.

Chalo ab bed pe chalte hai aur ham dono shower se baher nikal aye towel se ek doosre ko dry kia. Kamre mai ab light jal rahi thi. mai ne Lachmi ka hath pakad ke bed pe lita dia to usne apni aankho pe hath rakh ke aankho ko band kar lia aur boli ke babu light to band kardo hamai sharam aati hai to mai ne bola ke are gand marwa chuki hai Lund ko choos chuki hai abhi tak sharam aati hai tujhe to wo muskurane lagi aur boli ke theek hai babu jaisa tum theek samjho hamai to andhera hi acha lage hai to mai ne kaha ke theek hai chalo tum kehti ho to light bhi band kar deta hu aur light band kar dia jis se kamre mai ek bar phir se andhera cha gaya aur ham dono nange hi bistar pe ek doosre ki taraf karwat le ke let gaye. Mai ne Lachmi ko apni baho mai pakad lia aur ham dono ek doosre se lipte hue the usko tongue sucking kiss karne laga ab usko bhi kiss karne ki achi practice ho gayee thi aur wo meri zuban ko choos rahi thi mai ne uski choot ko ek hath se sehlana shuru kia to usne

automatically apni tangein khol di aur mere thigh pe rakh li jis se uski choot thodi si khul gayee aur mere Lund ko apni muthi mai pakad ke ek bar phir se Lund ke supade ko apni choot ke pankhadiyon ke beech mai ghusa ke ooper neeche karne lagi aur apne choot ke dane ko Lund ke supade se ragadne lagi. Lund ke pre cum aur uski choot ke juice se choot chikni aur slippery ho gayee thi. ab mai position change kar ke peeth ke bal let gaya aur usko ek bar phir se apne ooper khech lia aur usne apne dono pair ghutno se mod ke mere badan ke dono taraf rakh liye aur mai ne bhi apne pair ghutno se mod ke khade kar liye. Wo mere Lund ke dande pe baithi thi aur mai ne usko jhuka lia aur uske chote amrood ke size ke boobs ko choosne laga jis se wo bohot jaldi hi garma gayee aur tezi se Lund pe aage peeche hone lagi jis se mere Lund ka supada chiknayee ki wajah se uski choot ke chote se surakh mai atak gaya. Ab wo dheere dheere peeche hat rahi thi jis se mere Lund ka supada dhedere dheere uski choot ke chote se surakh mai ghus raha tha aur phir phisalte phisalte almost uski choot ke surakh ke ander chala gaya. Iss se ziada wo nahi le pa rahi thi to mai kuch der ke bad apni gand utha ke ek dhakka mara to lund ka supada poora aur thoda sa Lund ka danda bhi uski choot mai ghuss gaya aur uski zuban se sssssssssssssssssssssss ki awaz nikli mai apne Lund ko uski choot mai rakhe hi uske boobs ko choosne laga aur dheere dheere gand utha ke Lund ko thoda thoda ander karna laga par ab choot itni tight thi ke Lund ander ghuss hi nahi raha tha to mai ne usko neeche lita dia aur side table se Jelly ka tube le liya aur ab usko peeth ke bal lita dia aur uski choot ke surakh mai tube ghusa ke tube ko dabaya aur khoob bohot si jelly uski choot mai dal di aur apne Lund pe bhi full Jelly laga dia.

Itni der tak wo apne pair ghutno se mode leti rahi uski saoli si bina jhato ki choti si chikni kunwari choot Jelly lagane se andhere mai bhi chamak rahi thi. Jelly uski choot mai aur apne Lund pe laga ke tube ko kareeb hi rakh lia aur uske ooper jhuk gaya aur Lund ke supade ko uski choot ke neeche se ooper uski clitoris tak masalne laga to usne mere Lund ko pakad lia aur apni choot ke surakh mai adjust kar ke tika dia to mai samajh gaya ke Lachmi ab aur bardasht nahi kar sakti wo full mood mai aa chuki hai bohot chudasi ho gai hai aur wo ab chudne ke liye poori tarah se tayyar ho chuki hai aur mera Lund bhi kunwari choot ki seal todne ko utaola ho raha tha to mai uske ooper jhuk gaya aur apne pair missionary position mai peeche kar ke uske ooper let gaya, apni tango se uski tango ko khol ke

pakda raha aur Lund ko dheere dheere uski choot ke ander dhakelne laga to Lund uski choot mei dabaya to Lund uski choot mai thoda aur ander ghuss gaya Lachmi ka sara badan akad gaya tha aur uski saans ruki hui thi usne mujhe tight pakda hua tha aur uske muh se Unh !! Unh !! Unh !! aur ssssssssssssss aaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhh bbbbaaaabbbuuuuuuu jaisi awazein nikal rahi thi jaisi maza bhi le rahi ho aur darad bhi ho raha ho aur mai uski choot mei apne Lund ka pressure de raha tha.

Mera Musal Lund uski choti si tight choot mai ab takreeban 3 inch aur ander ghuss gaya tha aur mujhe laga ke ab mere Lund ka supada kisi cheez se takra ke ruk gaya ho aur Lund ko ander jane se rok raha hai to mai samajh gaya ke yeh uski kunwari choot ki kunwari seal hi jo Lund ko ander jane nahi de rahi hai to mai ne pehle to aise hi apne Lund ko utna hi uski choot ke ander baher kia aur phir thodi der ke bad apna Lund uski choot se baher khech ke nikal lia aur jaise hi Lund baher nikla uske muh se ooooooohhhhhhhhhh jaisi awaz nikli uski choot khuli hui thi to mai ne kareeb padi Jelly ka tube uthaya aur tube ko uski choot mai thoda sa ander ghusaya aur takreeban aadhi tube uski choot ke ander bhar dia aur apne hil hil ke Lachmi ki choti si chikni kunwari choot ko salute karte hue Lund ke head pe bhi khub sari cream laga dia aur phir se waise hi misisonary position bana lia apne Lund ko thoda uski choot ke surakh ke ander ghusa dia aur apne pairo ko peeche bed ke kinare se tika ke grip banaya aur Lachmi ke baghal se hath ander dal ke usko bhi tight pakad lia aur usko kiss karne laga. Ab mere ander ek naya josh aa gaya tha ke mujhe ek aur kunwari choot ki seal todni hai jiske liye mera Lund ek dum se tayyar hai aur kia lucky hai mera Lund ke ek din mai 2 kunwari chooton ki seal todne ko mil rahi hai aur Lund ko thoda sa ander baher karne laga aur itni der mai aadha Lund badi aasaani se uski chikni choot ke ander baher ho raha tha uski choot ke muscles mere Lund ko adjust kar liye the. Mera Lund kunwari choot ke seal todne ke liye machal raha tha. Thodi der aise hi aadhe lund se chodne ke bad apni gand utha ke poore ka poora Lund uski choot se baher khech ke nikal lia aur ek hi dhakka itni zor se mara ke uski choot mai se ek ghach ki awaz ayee aur uski choti si kunwari choot ke seat too gai aur uski choot phat gayee aur mera musal jaisa mota aur lohe jaisa sakht Lund uski choot ko cheerta hu uski bache dani se takraya aur wo bohot zor se cheekh padi aaaaaaaaaammmmmmmmmmmmmmoooooooooooooooooo mmmmmmmaaaaaaaaaaaaaaaaaaarrrrrrrrrrrrrrrrrr

gggggggggaaaaaaaaayyyyyyyyeeeeeeeeeeeee rrrrrrrrrrrrrreeeeeeeeeeeeeeeeee bbbbbbbbbaaaaaaaaaabbbbbbbbbbbbuuuuuuuuuuuuuuu aur uska sara badan paseene se bhar gaya aur wo mere badan se bohot hi zor se chipak gayee aur mere neeche kisi machli ki tarah se tadapne lagi aur apna darad kam karne ke liye uska muh mere shoulder pe aa gaya aur usne badi zor se mere shoulder pe kaaat liye jis se mera shoulder ka wo portion laal ho gaya aur thoda sa khoon bhi nikal aaya laikin mera Lund uski choot ko phad ke uski kunwari seal ko tod chuka tha. Uski cheekh ke sath hi mere muh se bhi ek halki si uuuuuuuuuuuhhhhhhhhhhhh ki awaz nikal gayee aur mree shoulder mai thoda darad hone laga par mujhe darad ka ehsaas foran hi khatam ho gaya aur mera dhyan apne musal Lund jo uski choot mai phansa hua tha uski or chala gaya. Usne apne hatho aur pairo se mujhe kasss ke pakda hua tha aur phir ek hi second ke ander uske hath aur pair bejaan ho ke mere badan se nikal ke bed pe gir gaye aur wo almost behosh hi ho gayee uski aankho se aansoo nikal nikal ke uske gaalo pe se hote hue neeche girne lage aur bedsheet ko bhigone lage uski saansein bohot hi gehri ho gai thi aur mere badan ke neeche aise padi thi jaise koi dead body ho.

Kamre mai ek bar phir se roshni ho gayee aur Pinky Lachmi ki cheekh sun ke ander aa gayee thi aur ham dono ko dekh ke muskura ke boli wow Raja tumhai ek aur kunwari choot mil gayee uski bhi seal tod dali tum ne ek hi din mai do do kunwari chooton ki seal aur ek gand ki seal todi hai tum ne to mai bhi muskura dia. Mera Lund ek nayee choot ki seal ke tootne se Lachmi ki choot ke ander hi ander jashan mana ne laga.

Mei ne apna Lund uski choot mai hi ghusaye rakha aur uske ooper leta raha. Thodi der ke bad usko hosh aaya aur mujhe aisi nazro se dekhne lagi jaise pooch rahi ho ke “main kahaan hu or mujhe kya hua hai ”. phir ek hi minute ke ander usko pata chal gaya ke wo kaha hai aur usko kia hua hai aur jaise hi usko uski phati hui choot ke ander mere musal Lund ka ehsaas hua to usko phir se darad ho ne laga aur wo mere seene pe apni muthi band karke marne lagi aur boli ke hato babu mere ooper se hat jao nikalo isko mujhe nahi chahiye tumhara Louda mujhe bohot dukhta hai mano jaise kisi ne garam chhuri se kaat dala ho bohot darad ho raha hai babu sach bhagwan ke liye daya karo babu mere ooper aur uski nazar Pinky ke ooper

padi to usne kaha pleej didi babu se bolo na ke nikale mujhe lag raha hai mano mere badan mai garam loha ghusa ho mere ander aag lagi hui hai didi pleej nikalo bolo babu ko iss se pehle ke Pinky kuch bolti mai ne kaha ke Lachmi ab thoda aur bardasht kar lo bass ab to mera poore ka poora Lund tumhari choot ke ander ja chuka hai ab tumhai ab zindagi bhar kabhi bhi takleef nahi hogi. Pinky ne dekha ke mera poore ka poora Lund Lachmi ki choot ke ander ghusa hua hai aur Lachmi ki choot pe kisi bottle ke dhakkan ki tarh se sealed hai. Pinky boli ke haa Lachmi ab tujhe kabhi bhi darad nahi hoga tu to badi bahadur nikli rer teri choti si choot to Raja ka itna bada mota aur lohe jaisa Lund poora kha gayee to Lachmi boli ke didi bohot darad kar raha hai didi meri to jaan hi nikal gayee hai didi to Pinky ne bola ke chal ab koi problem nahi hai yeh le mai teri body ka massage kar deti hu aur wo Lachmi ki chuchion ko sehlaane lagi aur phir uski chuchion ko apne muh mai le ke choosne lagi aur doosre hath se uske pet pe aur naval pe phirane lagi jis se Lachmi ka badan kuch relax hua aur ab usne apne hath aur pair meri back pe lapet liye aur aur meri peeth ko sehlane lagi to mai samajh gaya ke ab usko maza aane laga hai to mai ne poocha Lachmi ab darad kaisa hai to usne dheere se muskurate hue kaha ke haa ab thoda kam hai babu.

Mera Lund uski choti phati hui choot ke ander hi phansa hua tha aur mujhe mehsoos ho raha tha ke uski choot ke androoni muscles mere Lund ke supade aur dande ko nichod rahe hai yeh ek ajeeb sa meetha meetha ehsaas tha jis se mujhe bohot hi maza aa raha tha. Ab mei ne dheere dheere Lund ko ander baher karna shuru kia to Lachmi ne bhi apni gand utha utha ke mere Lund ka swagat kia aur maze se chudwana shuru kar dia. Pinky wahi khadi thi aur hamari chudai ko dekh rahi thi. Uski choot khoon se bhari hui thi laikin khoon baher nahi nikala tha kyonke Lund se uski choot mai tight ghusa hua tha aur khoon ko baher nikalne ka raasta nahi mil raha tha isi liye uski choot ka khoon mere Lund ke dande pe laga hua hi thoda thoda baher aa raha tha aur Lund ke dande ke sath hi uski choot ke ander ja raha tha. Ab Lachmi badi masti mai chudwa rahi thi aur Pinky maze se dekh rahi thi aur dekhte hi dekhte Pinky ki aankhon mai phir se vasna ki aag jal uthi thi aur wo phir se garam ho gayee thi.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Marwar ki mast malaai-मारवाड़ की मस्त मलाई

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 01:40

मारवाड़ की मस्त मलाई पार्ट --8



गतांक से आगे........................

अब पिंकी ने लक्ष्मी के होटो को चूसना शुरू कर दिया और वो दोनो एक दूसरे की ज़ुबान को चूस्ते हुए किस करने लगे और देखते ही देखते पिंकी जो चुदवाने के बाद से अभी तक नंगी ही घूम रही थी बेड के ऊपेर चढ़ गयी और लक्ष्मी के मूह

पे अपनी चूत रख के बैठ गयी और लक्ष्मी ने पिंकी की चूत को मज़े से चाटना शुरू कर दिया. मैं लक्ष्मी की चूत मैं अपना मूसल जैसा लंड डाले धना धन चोद रहा था और वो भी अपनी गंद उठा उठा के चुदवा रही थी और पिंकी की चूत को चाट रही थी. मैं कुछ देर के लिए रुक गया तो लक्ष्मी एक दम से पिंकी की चूत से मूह बाहर निकाल के बोली के क्यों रुक गये बाबू तो मैं ने बोला के तुम्है दरद हो रहा है ना इसी लिए रुक गया तो उसने बोला के नही बाबू रूको मत अभी तो बोहोत अछा लग रहा है ऐसा मज़ा कभी नही आया प्लीज़ ऐसे ही करो ना बाबू तो मैं ने पूछा के क्या करू तो उसने बोला के प्लीज़ बाबू चोद दो हमारी चूतिया को. अब वो फुल मस्ती मे आ गयी थी और अपनी गंद उठा उठा के खूब चुदवा रही थी. मेरी लंड मेी से सुबह से क्रीम 4 – 5 टाइम निकल चुकी थी इसी लिए अब मई लंबी चुदाई के लिए रेडी हो गया था लैकिन लक्ष्मी की चूत की आग भड़कने लगी थी और वो शांत हो ना चाहती थी. लक्ष्मी बड़ी ज़ोर ज़ोर से पिंकी की चूत को चाट रही थी जिस से पिंकी के मूह से आआआअहह आआईईईइस्स्स्स्स्सीईईई हहीए कक्चूऊऊससस्स ळ्ल्ल्लाआcccछ्ह्ह्म्म्म्मीईई सस्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स ह्ह्ह्ह्ह्हाआआआअईईईईई ऊऊऊऊओफफफफफफफफ्फ़ ऊऊऊऊओ ब्ब्ब्बाआद्द्द्द्दाआआ म्‍म्म्ममममाआआज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ाआआअ आआ र्र्राआअह्ह्ह्ह्हाआअ हीईईईई र्र्र्र्रररीईए और अपनी चूत को लक्ष्मी के मूह पे ज़ोर ज़ोर से रगड़ते रगड़ते काँपने लगी और लक्ष्मी के मूह मे झड़ने लगी, उसकी चूत से मीठा मीठा रस निकल ने लगा जिसे लक्ष्मी ने मज़े से पी लिया और उसी टाइम इतनी देर से चुदवाति लक्ष्मी भी अपनी चरम सीमा पर पहुँच चुकी थी और मेरे बदन से ज़ोर से लिपट गयी गहरी गहरी साँसें लेते हुए काँपने लगी और काँपते काँपते ही वो झड़ने लगी और जितनी देर तक वो झड़ती रही मैं अपना लंड उसकी चूत के अंदर ही रखे लेटा रहा और उसकी चूत के अन्द्रूनि मसल्स जो खुल बंद हो रहे थे उनका मज़ा लेता रहा. अभी उसका ऑर्गॅज़म चल ही रहा था के मुझे महसूस हुआ के उसकी चूत के मसल्स मेरे लंड को निचोड़ रहे है और मुझे इतना मज़ा आ रहा था के मेरे बिना चोदे ही मेरे लंड मे से गाढ़ी गाढ़ी क्रीम की मोटी मोटी गरम गरम धारियों की पिचकारियाँ निकलने लगी और उसकी चूत को भरने लगी. मैं लक्ष्मी की चूत के अंदर ही अपने लंड को रखे उसके ऊपेर गहरी साँसें लेता हुआ ढेर हो गया. कमरे मे हम तीनो की गहरी गहरी साँसों की ही आवाज़ें सुनाई दे रही थी और कमरे मे चुदाई की स्मेल फैली हुई थी. मेरा लंड अभी तक आकड़ा हुआ ही था और लक्ष्मी की चूत के अंदर ही चूत के खुल बंद होते मसल्स के मज़े ले रहा था. थोड़ी देर के अंदर ही मुझे लगा के अब मेरा लंड कुछ सॉफ्ट होने लगा है तो मैं ने अपना लंड लक्ष्मी की चूत मे से बाहर निकाल लिया और मैं उसके

ऊपेर से लुढ़क के उसके साइड मैं लेट गया. लंड के बाहर निकलते ही एक प्लॉप की आवाज़ आई और उसकी फटी हुई चूत मे से मेरी क्रीम और उसकी फटी चूत के मिला जुला खून का फव्वारा बाहर निकला और बेडशीट पे गिरने लगा और एक बड़ा सा गुलाबी पूल जैसा बन गया. लक्ष्मी को जब फील हुआ के उसकी चूत मे से कुछ चीज़ बाहर निकली है तो वो थोड़ा सा ऊपेर उठ के देखने लगी और खून देख के घबरा गयी और रोने लगी रोते रोते बोली के दीदी यह देखो क्या हो गया देखो बाबू ने क्या कर दिया दीदी तो पिंकी ने बोला के अरे पगली यह तेरी कुँवारी चूत की झिल्ली थी जो अब टूट गयी है अब तुझे कभी खून नही निकलेगा यह तो पहली टाइम ही निकलता है और इस झिल्ली के टूटने से कोई प्राब्लम नही है यह तो एक नयी बिना चुदी चूत की निशानी होती है और यह खून भी उसी का है. पिंकी हस्ते हुए बोली के अब तू बड़ी हो गयी है और किसी भी तगड़े लंड से छुड़वाने के काबिल हो गयी है तो उसने शरमाते हुए कहा के काइया दीदी तुम भी ना और फिर अपनी चूत मे से निकलते मेरी मलाई मिक्स खून को बेड शीट से पोछने लगी और उसके बाद बेडशीट को मोड़ के धोने के लिए प्लास्टिक की बास्केट मे डाल दिया.

पिंकी ने घर फोन कर के अपनी मम्मी को यहा का हाल बता दिया थे गंगू बीमार है और वो हॉस्पिटल मे अड्मिट है और यहा का भी बारिश से बुरा हाल है इसी लिए वो और 2 या 3 दिन वही रुकने का प्रोग्राम बना रही है और साथ मे बोला के प्लीज़ मम्मी राजा को भी बोलो ना मेरे साथ यहा ही रहे नही तो मैं अकेली हो जाउन्गि यहा लक्ष्मी और मैं है बॅस और फिर उसने फोन मुझे दे दिया दूसरी तरफ से आंटी ने कहा के राजा अभी तो तुम्हारे कॉलेज को छुट्टिया चल रही है और शांति भी बाहर गया हुआ है तुम और 2 दिन वही पिंकी और लक्ष्मी के साथ ही रुक जाओ पिंकी और लक्ष्मी का वाहा अकेले रहना ठीक नही तुम जैसे गबरू जवान उनके साथ हो तो मुझे भी इतमीनान रहेगा और तुम अछी तरह से उन दोनो का ख़याल रख सकोगे तो मैं ने कहा के ठीक है आंटी आप कहती है तो मैं गंगू बाई के आने तक यही रुक जाता हू तो आंटी ने मुझे थॅंक्स कहा तो मैं ने कहा के आंटी इसमे थॅंक्स की क्या बात है आपकी बात मानना तो मेरा धर्म है तो और फिर मुझे आंटी की एक इतमीनान की साँस की आवाज़ आई और फोन डिसकनेक्ट हो गया तो पिंकी ने पूछा के क्या कहा मोम ने तो मैं ने अपनी एक आँख बंद कर के शरारत से मुस्कुराते हुए कहा के कह रही थी के पिंकी का और लक्ष्मी का अछी तरह से ख़याल रखो. अब तुम्हाई तो मालूम ही है के मैं कितनी अछी तरह से तुम दोनो का ख़याल रख रहा हू और फिर हम तीनो हस्ने लगे. तीनो ने डिसाइड कर लिया के अगले 2 – 3 दिन तक हम तीनो नंगे ही रहेंगे और कोई कपड़े नही पहनेगा.

अगले 3 दीनो तक हम तीनो नंगे ही एक ही बेड पे सोते रहे. मैं बीचे मे सोता और राइट हॅंड साइड मे पिंकी और लेफ्ट साइड मे लक्ष्मी. मैं सीधा पीठ के बल लेट ता और वो दोनो करवट ले के मेरे बदन से लिपटी रहती और दोनो मेरा लंड पकड़ के सहलाती रहती या अपने मूह मे ले के चूस्ति रहती. दोनो ने मेरे लंड की गरम गरम मलाई बोहोत टाइम खाई और दोनो को खूब चोदा और दोनो की गंद भी मारी. जब मेरा लंड कुछ सॉफ्ट हो जाता तो दोनो मे से कोई भी चूस चूस के उसको फिर से मूँह मे ले के आजाता और लंड अकड़ जाता तो फिर चुदाई ही चुदाई होती. कभी लक्ष्मी को चोद्ता होता तो पिंकी अपनी चूत लक्ष्मी के मूह पे रख देती और उसके ही मूह मे झाड़ जाती और कभी पिंकी को चोद्ता होता तो लक्ष्मी पिंकी के मूह पे बैठ जाती और उसके मूह मे ही झाड़ जाती. कभी दोनो 69 की पोज़िशन मे एक दूसरे की चूतो को चाट ते और एक दूसरे के मूह मे ही झाड़ जाते इसी तरह से चोद्ते चोद्ते 3 दिन गुज़र गये फिर डॉक्टर कविता का फोन आया तो पिंकी ने पूछा आंटी कैसी है अब गंगू बाई तो उसने कहा के अब ठीक है और मैं उन्हाई आज शाम डिसचार्ज कर रही हू तो पिंकी ने कहा के आंटी अब तो बोहोत शाम हो गयी है यहाँ पहुँचते पहुँचते रात हो जाएगी आप उनको कल सुबह मे डिसचार्ज कीजिए ता के वो आराम से दिन मे घर आ सके तो डॉक्टर कविता ने कहा के ठीक है मैं उनको कल ही डिसचार्ज करूगी तो पिंकी ने थॅंक्स आंटी कहा और फोन बंद कर दिया. आज की रात हमारी मस्ती की आखरी रात थी इसी लिए हम तीनो ने बोहोत मस्ती की और खूब जी भर के चुदाई की और साथ मई शवर भी लिया. इन्न तीन दीनो की चुदाई से पिंकी और लक्ष्मी की चूते अंदर से टमाटर की तरह से लाल और चूतो के पंखाड़िया सूज कर डबल रोटी जैसे हो गये थे.

नेक्स्ट डे गंगू बाई आ गयी थी और अपने सर्वेंट क्वॉर्टर मे ही थी उसे अभी थोड़े आराम की ज़रूरत थी इसी लिए वो फार्महाउस के अंदर नही आई और अपनी क्वॉर्टर मे ही रही. लंच के बाद हम ने वापसी का प्रोग्राम बना लिया तो लक्ष्मी मुझे कंटिन्यू हर हर जगह किस करने लगी, मेरे से लिपट गयी और बे इंतेहा रोने लगी किस भी करती जा रही थी और रो ती भी जा रही थी तो मैं ने भी उसको अपने से लिपटा लिया और उसके सर को और बॅक को ठप थापा के बोला के अरे पगली रोते नही मैं आता रहुगा ना तो वो मेरे पैरो मे गिर गयी और मेरे पौ पड़ती हुई बोली पाँव लागू बाबू जी तुम बोहोत आछे हो और अब तुम ही मेरे भगवान हो तो मैं ने कहा चल ऐसे नही बोलते लचमी तू फिकर ना कर हम आते रहेंगे और मज़े करते ही रहेंगे और तेरी शादी होने तक मैं तुझे लगातार चोद्ता रहूँगा तो उसकी आँखों मई चमक आई पर हमारे जाने तक उसकी आँखो मे आँसू ही थे. शाम के तकरीबन 3 बजे तक हम लोग वापसी के

लिए निकल गये थे. शहेर पहुँचते ते पहुँचते ते रात हो गयी थी अब मौसम भी ठीक हो चुका था. ऐसी मस्त और कंटिन्यू चुदाई के कारण पिंकी सही ढंग से चल नही पा रही थी थोडा सा पैर फैला के चल रही थी तो उसकी मोम ने पूछा के पिंकी क्या हुआ है तुझे ऐसे क्यों चल रही है तो वो बोली के मोम वाहा पानी की वजह से मेरा पैर स्लिप हो के गिर गयी थी तो शाएद कुछ मस्क्युलर प्राब्लम होगा पर शाएद उसकी माताजी को उसकी बात पे यकीन नही आया क्यॉंके पिंकी पैर फैला कर चल रही थी लंगड़ा के नही पर उसकी बात सुन कर उसकी माताजी की आँखों मे फिकर की झलकी दिखाई दी पर वो कुछ बोली नही और खामोश ही रही.

पहली चुदाई के बाद मैं ने अपने एक फार्मसिस्ट दोस्त की सहायता से प्रेग्नेन्सी रोकने की टॅब्लेट्स खरीद के पिंकी को दे दी थी जिसे वो डेली इस्तेमाल करने लगी थी. पिंकी अब मुझ से कंटिन्यू चुदवाने लगी थी कभी भी मोका देख कर हम या तो कही बाहर चले जाते या उसके घर मे ही चुदाई कर लेते. कभी फारमाउस को जाना होता तो लक्ष्मी भी चुदाई मे साथ होती. मुझे लगा के आंटी को कुछ शक्क सा हो गया है के अब पिंकी मेरे साथ कुछ ज़ियादा ही टाइम गुज़ारने लगी थी. और ऐसे ही चोद्ते चुदवाते दिन गुज़रने लगे.

पिंकी की शादी............................

शाँतिलाल की शादी पायल से फिक्स हो चुकी थी और पिंकी की शादी भी एक दूसरे मारवाड़ी सेठ चंपकलाल के बेटे चिमनलाल के साथ फिक्स हो गेई थी. चिमनलाल को घर मैं और मिल मे सब लोग लाला कह कर पुकारते थे. लाला एक सॉफ रंग का नॉर्मल सा ही लड़का है उसका जोड़ पिंकी की खूबसूरती से मेल नही ख़ाता पर क्या करे मारवाड़ी लोगो ज़ियादातर अपनी लड़की को अपनी ही कम्यूनिटी के किसी अमीर और दौलतमंद घराने मैं शादी करना ज़ियादा पसंद करते है इसी लिए लाला के साथ पिंकी का रिश्ता कर दिया गया. लाला, चंपकलाल सेठ का एक्लोटा बेटा है उनका भी बोहोत बड़ा बिज़्नेस है वो लोग सेकुन्डराबाद के रहने वाले हेई हयदेराबाद और सेकुन्डराबाद ट्विन सिटीस है दोनो के बीच मे बस एक किलोमेटेर का एक ब्रिड्ज है जो हयदेराबाद और सेकुंडराबाद को अलग करता है.

सेठ चंपकलाल की एक मीडियम साइज़ की आयिल मिल है जिस्मै ग्राउंड नट का आयिल निकाला जाता है जिसे दोनो मिल कर चलते है दोनो बोहोत ही बिज़ी रहते है कभी कभी तो यह लोग दूसरे शहेर को भी मुंग फल्ली ( ग्राउंड नट ) की खरीदी के लिए जाते ही रहते है कभी तो दोनो बाप बेटे मिले कर जाते है कभी अकेले और सारा दिन अपनी आयिल मिल मे लगा देते है और रात मे बोहोत देर

से घर को वापस आते है और घर आ कर भी बाप बेटा बिज़्नेस के प्रॉब्लम्स और अकाउंट्स की ही बातें करते रहते है जिस मे सुनीता देवी ( सेठ चंपकलाल की बीवी ) को कोई दिलचस्पी नही होती वो गूंगे और बहरो की तरह से अपना मूह और कान बंद कर के उनके साथ खाना खाती है क्यॉंके यह दोनो बाप बेटो को उनके बिज़्नेस से फ़ुर्सत ही नही मिलती. मिल से थक कर आते है और खाना खा कर बेड पे लेट ते ही एक ही मिनिट के अंदर बड़े बड़े खर्राटे मारते हुए सो जाते है.

उनका एक बोहोत ही बड़ा बंगलो है जिस के लास्ट कॉर्नर मे 3 बेडरूम्स और बाथरूमस का एक अलग थलग पोर्षन है वही पर सुनीता देवी का बेडरूम है जहा वो रहती और सोती है. वो सेठ चंपकलाल के साथ नही सोती क्यॉंके चंपकलाल के खर्रातो के चलते उसके बराबर वाले कमरे मे भी कोई नही सो सकता इतने बड़े बड़े खर्राटे मारते है वो और उनके खर्राटे इतने भयानक होते है लगता है जैसे कोई मशीन चल रही हो इसी लिए सुनीता देवी को उनके साथ नींद नही आती और फिर सुनीता देवी रात को देर से सोने की और सुबह देर से उठने की आदत है उनके उठने तक चंपकलाल और लाला दोनो नाश्ता कर के मिल को जा चुके होते है और इन्न की मुलाकात सिर्फ़ डिन्नर टेबल पर ही होती है. चंपकलाल सेठ को सुनीता देवी के दूसरे बेडरूम मे सोने से कोई प्राब्लम नही है क्यॉंके उनको अपनी बीवी से बात करने का भी मौका ही नही मिलता तो कुछ और क्या कर सकते हैं. घर के किसी भी मामले मे डिसकस करने का टाइम ही नही होता बॅस जो कुछ डिन्नर टेबल पे जो भी घर के मामलात पे बात हो गयी सो हो गयी उसके बाद बाप बेटे को घर से कोई ताल्लुक नही होता. पैसे की कोई कमी नही थी. उनका बांग्ला भी बोहोत ही बड़ा है जहा ज़रूरत से कुछ ज़ियादा ही कमरे, नौकर चाकर, कार्स, बाइक्स सब कुछ है. इनके घर का भी पिंकी के घर जैसा है जहा आदमी कम और नौकर ज़ियादा हैं. उनके पास सब कुछ तो है पर लगता है जैसे सुकून नही है क्यॉंके उनकी ज़िंदगी सिर्फ़ आयिल मिल, प्रॉब्लम्स, अकाउंट्स, डिन्नर टेबल और बेड पर खर्राटे मार कर सोते ही गुज़र जाती है. उनका कोई ऐसा ख़ास फ्रेंड्स सर्कल भी नही है जहा वो कुछ टाइम पास कर सके या लाइफ को एंजाय कर सके बस जो भी है वो बिज़्नेस रिलेशन्स ही है जहा पर उनको बिज़्नेस से हट के और कोई बात करने की फ़ुर्सत ही नही मिलती. इन शॉर्ट वो बे इंतेहा बिज़ी रहते है जिनको अपने घर बार की तरफ आँख उठा कर भी देखने की फ़ुर्सत नही है. घर की करता धर्ता सेठ चंपकलाल की बीवी सुनीता देवी ही है. सुनीता देवी भी तकरीबन पिंकी की मोम की ही आगे ग्रूप की है वो एक अछी ख़ासी सेक्सी शकल ओ सूरत की गोरी चित्ति मीडियम हाइट और मीडियम बिल्ट की घाटेली बदन की नॉर्मल फॉर्मल सी औरत है. बड़ी बड़ी ब्राउन कलर की आँखे, छूतदो तक लटकते बाल और शाएद 36 या 38 साइज़ के बूब्स होंगे. ज़ियादा घी के इस्तेमाल

से वो कुछ ओवर वेट भी हो गयी है पर इतनी ज़ियादा नही. ड्रेस मे बॅस टिपिकल मारवाड़ी स्टाइल मे साड़ी पेहेन्ति है सारी सामने से नीचे उतरती हुई उनकी नाभि से इतनी नीचे बाँधती है के 2 – 4 इंच और नीचे उतर जाए तो उनकी झातें भी नज़र आने लगे और ऐसे स्टाइल मे उनके गोरे गोरे पेट का काफ़ी भाग नज़र आता है और रात मे सब घरेलू औरतो की तरह से नाइटी मे ही रहती है. उनको रात मे सोने से पहले अपने पैरो को दब्वाने की आदत है बिना पैर दबाए उन्है नींद नही आती और यह काम उनकी एक नौकरानी मोहिनी करती है जिसे वो मोहिनी के बजाए मुन्नी कह कर बुलाती है और मुन्नी जैसे उनकी ख़ास नौकरानी है जिस से वो अपने सारे प्राइवेट काम करवाती है.

यूँ तो शाति लाल की और पिंकी दोनो ही की शादी फिक्स थी पर सेठ कांतिलाल तो पिंकी की शादी पहले करना चाहते थे और 3 -4 महीने बाद शाँतिलाल की शादी करने का प्रोग्राम बना जिसे शाँतिलाल के ससुराल वालो ने मान लिया.

पिंकी की शादी की तय्यारी बड़े ज़ोरो से चल रही थी शादी के टाइम पे फार्महाउस से गंगू बाई और लक्ष्मी को भी यही बुलवा लिया गया था काम के लिए और रामू को वही देख भाल के लिए छोड़ दिया गया था. लक्ष्मी को थोड़ा पहले ही बुलवा लिया गया था क्यॉंके वो अभी जवान थी और काम करने मे बोहोत तेज़ है तो उसको तकरीबन शादी से एक महीना पहले ही बुलवा लिया गया था और उसको घर के एक कॉर्नर मे ही एक खाली कमरा दे दिया गया था जिस्मै से एक डोर बाहर की तरफ भी खुलता था और मैं लेट नाइट उसके कमरे मे उसी बाहर वाले डोर से अंदर आ जाता था और उसकी जम कर चुदाई करके लक्ष्मी को और उसकी चूत को खुश करके वही से वापस चला जाता था. जितने दिन लक्ष्मी वाहा रही किसी ना किसी बहाने से मैं, पिंकी और लक्ष्मी तीनो चुदाई मे बिज़ी रहते थे कभी थ्रीसम भी होता था और कभी अलग अलग चुदाई. शादी के बाद भी लक्ष्मी बोहोत दीनो तक वही रही और मैं ने तो लक्ष्मी की बे इंतेहा चुदाई की चोद चोद कर उसकी छोटी सी चूत का भोसड़ा बना दिया उसको भी टॅब्लेट्स दे दिया था ता के वो प्रेग्नेंट ना हो. पिंकी क्यॉंके दुल्हन बनने वाली थी इसीलिए वाहा उनके घर लोगो का और रिश्ते दारो का जमघट लगा रहता था एस्पेशली रातो मे सारी औरतें गाना गाती रहती और मुझे लक्ष्मी को चोदने का फिर भी मौका मिल जाता था और मैं उसकी छोटी सी चूत मे लंड डाल के मस्त चुदाई करता उसको सब से ज़ियादा मज़ा तो मेरे लंड की सवारी करने मे आता जिस से मेरा लंड उसको अपने पेट मे महसूस होता इतना डीप पेनेट्रेशन होता था और फिर उसकी गंद भी मारता रहा यह सिलसिला जब तक लक्ष्मी वाहा रही तब तक चलता रहा और जब लक्ष्मी वापस गयी तो उसकी चूत के

पंखाड़ियान सूज के मोटे हो चुके थे, चूत अंदर से लाल हो गई थी और चूत का भोसड़ा बन चुका था.

पिंकी दुल्हन बन के किसी अप्सरा से कम नही लग रही थी पिंकी की शादी बड़े धूम धाम से मनाई गयी और पिंकी अपनी ससुराल चली गयी विदाई से पहले मेरे से लिपट के सिसक सिसक के इतनी ज़ोर ज़ोर से रोई के उसके आँसू निकल पड़े और कान मे धीरे से बोली के भले ही मेरी शादी हो गयी हो पर मैं हमेशा तुम्हारी ही रहूंगी और तुम ज़िंदगी भर मेरे दिल मे बसे रहोगे तुम ही मेरे भगवान हो मेरे पति हो और सब कुछ हो मैं भी जज़्बात मे आ गया था और बोला के तुम फिकर ना करो पिंकी मे ज़िंदगी भर तुम्हारे साथ हू जब मेरी याद आए बुला लेना या मेरे पास चली आना तो उसने कहा के मेरे स्वीट राजा मैं तुम्है अपनी जान से भी ज़ियादा प्यार करती हू राजा तुम तो मेरी हर साँस के साथ जुड़े हुए हो तुम्हारी याद तो मुझे दिन रात आती है मैं तुम से सच्चा प्यार करने लगी हू तो मैं ने उसको और ज़ोर से लिपटा लिया और आहिस्ता से कान मे बोला के तुम फिकर ना करो हम अब भी वोही मस्तियाँ करेंगे जो अब तक करते आए थे और इतना बोलते हुए मेरा लंड एक दम से अकड़ गया जिसे पिंकी ने भी महसूस किया और उसने अपने बदन को मेरे लंड से चिपकाते हुए कहा के मुझे तो यही चाहिए मैं ऐसा दूसरा लंड कहा से लाउ तो मैं ने कहा के अरे क्यों फिकर करती हो यह तुम्हारा ही है जब जी चाहे ले लेना तो उसने एक लंबी साँस ली और बोली के भगवान जाने चिमनलाल का कैसा होगा तो मैं ने कहा के डॉन’ट वरी पिंकी देखते है अभी तो तुम्हारी विदाई है तुम अपनी ससुराल जाओ फिर देखते है क्या करना है और कैसे करना है लैकिन कल मुझे फोन करके बताना के सुहाग रात कैसी रही तो उसके मूह पे हल्की सी मुस्कुराहट आई और बोली के ठीक है कर दूँगी और फिर फूलो और ज्यूयलरी से लदी पिंकी एक लंबी सी कार मे बैठ के अपनी ससुराल चली गयी.

शादी के कुछ ही दीनो बाद सब दोस्त और रिश्तेदार वाघहैरा अपने अपने घरो को वापस चले गये और फिर सब वैसे ही सेट हो गया जैसे पहले हुआ करता था. पिंकी की शादी मे मैं ने किसी घर वाले की तरह ही काम किया जिस से पिंकी की ससुराल वालो को पता चल गया के मैं भी पिंकी के परिवार का ही एक इंपॉर्टेंट सदस्या हू और पिंकी की ससुराल मे भी मुझे वोही मान सम्मान मिला जो पिंकी के परिवार वाले देते हैं.

पिंकी की शादी के दूसरे ही दिन मेरे डॅड का 1 महीने के लिए अफीशियल फॉरिन टूर निकल आया तो मोम अपने मैके अपने मोम डॅड के पास चली गयी और मैं घर मे अकेला रह गया क्यॉंके मेरे कॉलेजस स्टार्ट हो गये थे और मैं कॉलेज मिस नही कर सकता था.

पिंकी का फोन शादी के दूसरे दिन नही आया लैकिन 2 दिन बाद वो खुद अचानक मेरे घर आ गयी और आते ही मेरे से लिपट के रोने लगी और बोली के मेरी ज़िंदगी तो बर्बाद हो गयी राजा मैं क्या करू तो मैं ने पूछा के क्या हुआ पिंकी ऐसे क्यों रो रही हो तो उसको एक दम से गुस्सा आ गया और बोली के यह साला लाला भेन्चोद जब कुछ कर नही सकता तो शादी क्यों की उस मदेर्चोद ने. मैं पिंकी की ज़ुबान से यह सब सुन के सकते मे आ गया और बोला के अरे यह क्या बोल रही हो तुम पिंकी तो वो और गुस्से मे आ गयी और बोली के साले के पास मेरे लिए कोई टाइम ही नही है 2 दिन के अंदर शाएद 5 या 10 मिनिट ढंग से बात की हो उसने. तो मैं ने पूछा के अछा यह तो बताओ के सुहाग रात कैसी रही तो उसने बोला के यह साले लाला की झांतें उसके लौदे से बड़ी है ऐसा लगता है भेन्चोद ने सारी उमर झातें नही शेव की और अंदर डालने से पहले ही उसका पानी निकल गया भेन के लौदे का. साले को चोदना नही आता तो गंद मरवाने के लिए शादी की थी. यूँ तो पिंकी और मैं चूत लंड गंद जैसे शब्द यूज़ कर लेते थे पर पिंकी के मूह से आज सिर्फ़ गालिया ही निकल रही थी. उसने फिर डीटेल मे बताया के सुहाग रात को वो कमरे मे बेड पे बैठी लाला का इंतेज़ार कर रही थी वो आया और अपनी शेरवानी उतार के खूटे पे लगा दिया और आके साथ मैं लेट गया और फिर मुझे भी लिटा लिया और कुछ देर तक तो किस करता रहा और फिर अपने कपड़े निकाल दिए और मेरे कपड़े भी नही निकाले भेन चोद ने ऐसे ही सारी उठा दी मेरी. इतना नही हुआ के वो रोमॅंटिक स्टाइल मे अपने और मेरे कपड़े निकाले. और फिर मेरी नज़र उसके लौदे पे पड़ी तो हैरत मे रह गयी के इतनी बड़ी बड़ी झातें है उसकी और झतो के बीच मे झातें बड़ी और लौदा छोटा दिखाई दे रहा था और फिर मेरे बूब्स को जंगली जनवरो की तरह से दबाने लगा और मूह मे ले के चूसा और मेरे निपल को काट डाला मेरी दरद से चीख निकल गयी उसने फिर मेरी चूत को अपने हाथ से मसलना शुरू किया मैं थोडा गरम होने लगी तो उसने लाइट बंद कर दी और मेरे ऊपेर चढ़ गया और अभी लंड अंदर घुसा भी नही था के उसका पानी निकल गया मदेर्चोद का सला भेन्चोद और फिर मेरे बदन से लुढ़क के साइड मे लेट गया और फिर एक ही मिनिट के अंदर वो मादर्चोद खर्राटे मारते हुए सो गया साला बॉडवा कहिका.

वो कंटिन्यू उसको गलियाँ दे रही थी. मैं ने उसको अपने से लिपटा के प्यार किया और बोला के कोई बात नही मेरी जान मैं हू ना पिंकी मैं तुम्हारी चूत की सर्विसिंग अछी तरह से करूँगा तुम फिकर ना करो और फिर एक नयी नवेली दुल्हन के कपड़े उतार के हम दोनो किस करने लगे और वो तो सुहाग रात से ही गरम थी मेरा मूसल लंड पकड़ कर दबाते हुए बोली के मुझे तो यही मूसल चाहिए मेरी चूत के अंदर राजा मुझे उस मदेर्चोद

लाला का पतला लौदा नही चाहिए और नीचे घुटनो के बल बैठ के मेरे लंड को गौर से देखती रही और फिर प्यार से सहलाने लगी और मूह मे ले के चूसने लगी तो मैं ने उसको उठाया तो वो नही उठी और बोली के नही राजा सब से पहले मुझे तुम्हारे लंड की गरम गरम मलाई खानी है तो मैं ने कहा के ठीक है खा लेना मुझे भी तो खिलाओ अपनी क्रीम तो वो नीचे से उठ गयी और हम दोनो बेड पे आ गये और मे नीचे लेट गया और वो अपने घुटने मोड़ के मेरे बदन के दोनो तरफ रख के मेरे ऊपेर 69 की पोज़िशन मे आ गयी और मेरे लंड को मस्ती से चूसने लगी और अपनी चूत को मेरे मूह मे रगड़ने लगी और अपनी गंद उठा उठा के मेरे मूह पे अपनी चूत को पटाकने लगी एक ही मिनिट के अंदर वो मेरे मूह मे अपनी चूत को रगड़ते हुए झाड़ गयी और फिर मेरी मलाइ भी उसके मूह मे गिरने लगी जिसे उसने एक ड्रॉप गिराए बिना चाट लिया. मेरा लंड अभी सॉफ्ट नही हुआ था और अब हम कोई प्रोटेक्षन भी यूज़ नही कर रहे थे वो पलट के मेरे नंगे लंड के डंडे को पकड़ के अपनी चूत के सुराख को लंड के सूपदे पे अड्जस्ट कर के एक ही झटके मे मेरे आकड़े हुए लंड पे बैठ गयी और एक ही एक ही झटके मे मेरा रॉकेट की तरह से खड़ा हुआ लंड उसकी चूत मे पच की आवाज़ के साथ चूत की गहराइयों मे घुस्स गया और मुझे अपने लंड के सूपदे पे उसकी बच्चे दानी का खुला मूह महसूस होने लगा. पिंकी अब मेरे लंड पे उछल उछल के मज़े ले रही थी जिस से उसके बूब्स डॅन्स करते बोहोत आछे लग रहे थे. मैं ने उसको झुका लिया और उसके बूब्स को चूसने लगा और अपनी गंद उठा उठा के उसकी चूत के अंदर तक अपने लंड को पेलने लगा वो मेरी ज़ुबान को चूस रही थी और कभी मेरे कान को काट ती तो कभी मेरे शोल्डर को. अब उसकी स्पीड बढ़ गयी थी वो मेरे लंड पे बड़ी ज़ोर ज़ोर से उछल रही थी और उसके बूब्स भी हिल रहे थे और फिर उसका बदन काँपने लगा और वो मेरे लंड पे ही झड़ने लगी. मेरी क्रीम निकलने से पहले ही वो झाड़ चुकी थी और उसकी चूत बोहोत ही गीली हो चुकी थी अब मैं ने पोज़िशन चेंज कर के उसको नीचे लिटा दिया और खुद उसके ऊपेर लेट के उसके शोल्डर्स को ज़ोर से पकड़ के पवरफुल शॉट्स मारने लगा और उसको पागलो की तरह से चोदने लगा जिस से उसका सारा बदन हिलने लग और वो आअहह हहाआआईईई र्र्र्र्र्राआआज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्जाआआआअ आआऐईईए सस्स्स्स्सीईई हीईए कककचहूऊददडूऊ आप्प्न्न्नीइ प्प्पीइन्न्न्क्क्क्य्य्य्य क्क्कीिई चूतततत कककूऊऊओ आअहह अब मेरे धक्को की स्पीड बोहोत बढ़ गयी थी और मेरी क्रीम अब निकलने के करीब थी और फिर अपने लंड को उसकी गीली चूत से पूरा बाहर तक निकाल के एक बोहोत ही जबरदस्त धक्का मारा तो उसके मूह से हप्प्प्प्प्प्प्प और सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स जैसी आवाज़ निकली और मेरे लंड मे से

गरम गरम गाढ़ी गाढ़ी क्रीम का फव्वारा निकल के उसकी चूत को भरने लगा और मेरे साथ उसकी चूत एक बार फिर से झाड़ गयी और हम दोनो गहरी गहरी साँसें लेते हुए एक दूसरे पर ढेर हो गये. पिंकी मुझे चूमते हुए बोली के राजा मुझे ऐसी चुदाई चाहिए तुम लड़की हो पूरी तरह से सॅटिस्फाइ करना जानते हो तो मैं ने कहा के फिकर ना करो पिंकी हम कोई ना कोई रास्ता ज़रूर निकालेंगे. तुम अपने घर जा के आई हो या डाइरेक्ट यही आई हो तो उसने बोला के हा मैं अपने घर गयी थी और मोम से बोल के ही यहा आई हू तो मैं ने पूछा के तुम्हारी मोम ने पूछा नही क्या के तुम्हारी सुहाग रात के बारे मे तो उसने बोला के नही कुछ पूछा तो नही शाएद बाद मे पूछती होगी. और हम इसी तरह एक दूसरे की बाँहो मे नंगे लेते रहे और एक दूसरे को किस्सिंग करते रहे थोड़ी देर के बाद एक टाइम और चुदाई के बाद पिंकी अपने घर चली गयी और मैं सो गया.

Ab Pinky ne Lachmi ke hoto ko choosna shuru kar dia aur wo dono ek doosre ki zuban ko chooste hue kiss karne lage aur dekhte hi dekhte Pinky jo chudwane ke baad se abhi tak nangi hi ghoom rahi thi bed ke ooper chhad gayee aur Lachmi ke muh

pe apni choot rakh ke baith gayee auar Lachmi ne Pinky ki choot ko maze se chaatna shuru kar dia. Mai Lachmi ki choot mai apna musal jaisa Lund dale dhana dhan chod raha tha aur wo bhi apni gand utha utha ke chudwa rahi thi aur Pinky ki choot ko chaat rahi thi. Mai kuch der ke liye ruk gaya to Lachmi ek dum se Pinky ki choot se muh baher nikal ke boli ke kyon ruk gaye babu to mai ne bola ke tumhai darad ho raha hai na isi liye ruk gaya to usne bola ke nahi babu ruko mat abhi to bohot acha lag raha hai aisa maza kabhi nahi aaya pleej aise hi karo na babu tu mai ne poocha ke kia karu to usne bola ke pleej babu chod do hamari chutiya ko. Ab wo full masti mai aa gayee thi aur apni gand utha utha ke khoob chudwa rahi thi. Meri Lund mei se subah se cream 4 – 5 time nikal chuki thi isi liye ab mai lambi chudai ke liye ready ho gaya tha laikin Lachmi ki choot ki aag bhadakne lagi thi aur wo shant ho na chahti thi. Lachmi badi zor zor se Pinky ki choot ko chaat rahi thi jis se Pinky ke muh se aaaaaaahhhhhhhhhhhhhhh aaaaiiiiiiisssssseeeeeeee hhhheee ccchhhhoooooossss Llllaaaacccchhhhmmmmiiiiii sssssssssssss hhhhhhaaaaaaaaaeeeeeeeeee ooooooooofffffffff ooooooooo bbbbaaaadddddaaaaaa mmmmmmmaaaaaazzzzzzzzaaaaaaa aaaa rrraaaaahhhhhaaaaa hhhheeeeiiiii rrrrrrreeeee aur apni choot ko lachmi ke muh pe zor zor se ragadte ragadte kaanpne lagi aur Lachmi ke muh mai jhadne lagi, uski choot se meetha meetha rass nikal ne laga jise Lachmi ne maze se pi liye aur usi time itni der se chudwati Lachmi bhi apni charam seema par pohoch chuki thi aur mere badan se zor se lipat gayee gehri gehri saansein lete hue kaanpe lagi aur kaanpte kaanpte hi wo jhadne lagi aur jitni der tak wo jhadti rahi mei apna Lund uski choot ke ander hi rakhe leta raha aur uski choot ke androoni muscles jo khul band ho rahe the unka maza leta raha. Abhi uska orgasm chal hi raha tha ke mujhe mehsoos hua ke uski choot ke muscles mere Lund ko nichod rahe hai aur mujhe itna maza aa rha tha ke mere bina chode hi mere Lund mai se gaadhi gaadhi cream ki moti moti garam garam dhariyon ki pichkariyan nikalne lagi aur uski choot ko bharne lagi. Mai Lachmi ki choot ke ander hi apne Lund ko rakhe uske ooper gehri saansein leta hua dher ho gaya. Kamre mai ham teeno ki gehri gehri saanson ki hi awazein sunayee de rahi thi aur kamre mai chudai ki smell phaili hui thi. Mera Lund abhi tak akda hua hi tha aur Lachmi ki choot ke ander hi choot ke khul band hote muscles ke maze le raha tha. Thodi der ke ander hi mujhe laga ke ab mera Lund kuch soft hone laga hai to mai ne apna Lund Lachmi ki choot mai se baher nikal lia aur mai uske

ooper se ludhak ke uske side mai let gaya. Lund ke baher nikalte hi ek plop ki awaz ayee aur uski phati hui choot mai se meri cream aur uski phati choot ke mila jula khoon ka fawwara baher nikala aur bedsheet pe girne laga aur ek bada sa gulabi pool jaisa ban gaya. Lachmi ko jab feel hua ke uski choot mai se kuch cheez baher nikli hai to wo thoda sa ooper uth ke dekhne lagi aur khoon dekh ke ghabra gayee aur rone lagi rote rote boli ke didi yeh dekho kia ho gaya dekho babu ne kia kar dia didi to Pinky ne bola ke arey pagli yeh teri kunwari choot ki jhilli thi jo ab toot gayee hai ab tujhe kabhi khoon nahi niklega yeh to pehli time hi nikalta hai aur is jhilli ke tootne se koi problem nahi hai yeh to ek nayee bina chudi choot ki nishani hoti hai aur yeh khoon bhi usi ka hai. Pinky haste hue boli ke ab tu badi ho gayee hai aur kisi bhi tagde Lund se chudwane ke kabil ho gayee hai to usne sharmaate hue kaha ke kia didi tum bhi na aur phir apni choot mai se nikalte meri malai mix khoon ko bed sheet se pochne lagi aur uske bad bedsheet ko mod ke dhone ke liye plastic ki basket mai dal dia.

Pinky ne ghar phone kar ke apni mummy ko yaha ka haal bata dia the Gangu bimar hai aur wo hospital mai admit hai aur yaha ka bhi barish se bura haal hai isi liye wo aur 2 ya 3 din wahi rukne ka programme bana rahi hai aur sath mai bola ke please mummy Raja ko bhi bolo na mere sath yaha hi rahe nahi to mai akeli ho jaugi yaha Lachmi aur mai hai bass aur phir usne phone mujhe de dia doosri taraf se aunty ne kaha ke Raja abhi to tumhare college ko chuttiya chal rahi hai aur shanti bhi baher gyaa hua hai tum aur 2 din wahi pinky aur Lachmi ke sath hi ruk jao Pinky aur Lachmi ka waha akele rehna theek nahi tum jaise gabru jawan unke sath ho to mujhe bhi itmenan rahega aur tum achi tarah se un dono ka khayal rakh sakoge to mai ne kaha ke theek hai aunty aap kehti hai to mai Gangu bai ke aane tak yahi ruk jata hu to aunty ne mujhe thanks kaha to mai ne kaha ke aunty ismei thanks ki kia baat hai aapki baat manna to mera dharma hai to aur phir mujhe aunty ki ek itmenan ki saans ki awaz ayi aur phone disconnect ho gaya to Pinky ne poocha ke kia kaha mom ne to mai ne apni ek aankh band kar ke shararat se muskuraate hue kaha ke keh rahi thi ke Pinky ka aur Lachmi ka achi tarah se khayal rakho. Ab tumhai to malum hi hai ke mai kitni achi tarah se tum dono ka khayal rakh raha hu aur phir ham teeno hasne lage. Teeno ne decide kar lia ke agle 2 – 3 din tak ham teeno nange hi rahenge aur koi kapde nahi pehnega.

Agle 3 dino tak ham teeno nange hi ek hi bed pe sote rahe. Mei beeche mai sota aur right hand side mai Pinky aur left side mai Lachmi. Mai seedha peethe ke bal let ta aur wo dono karwat le ke mere badan se lipti rehti aur dono mera Lund pakad ke sehlati rehti ya apne muh mei le ke choosti rehti. Dono ne mere Lund ki garam garam mali bohot time khayee aur dono ko khoob choda aur dono ki gand bhi mari. Jab mera Lund kuch soft ho jata to dono mei se koi bhi choos choos ke usko phir se mood mai le ke aajata aur Lund akad jata to phir chudai hi chudai hoti. Kabhi Lachmi ko chodta hota to Pinky apni choot Lachmi ke muh mai rakh deti aur uske hi muh mai jhad jati aur kabhi Pinky ko chodta hota to Lachmi Pinky ke muh pai baith jati aur uske muh mai hi jhad jati. Kabhi dono 69 ki position mai ek doosre ki chooton ko chaat te aur ek doosre ke muh mai hi jhad jate Isi tarah se chodte chodte 3 din guzar gaye phir Doctor Kavita ka phone aaya to Pinky ne poocha kia aunty kaisi hai ab Gangu bai to usne kaha ke ab theek hai aur mai unhai aaj sham discharge kar rahi hu to pinky ne kaha ke aunty ab to bohot shaam ho gayee hai yahan pohochte pohochte raat ho jayegi aap unko kal subah mai discharge kijiye taa ke wo araam se din mai ghar aa sake to doctor kavita ne kaha ke theek hai mai unko kal hi discharge karugi to Pinky ne thanks aunty kaha aur phone band kar dia. Aaj ki raat hamari masti ki aakhri raat thi isi liye ham teeno ne bohot masti ki aur khoob ji bhar ke chudai ki aur sath mai shower bhi lia. Inn teen dino ki chudai se Pinky aur Lachmi ki chootein ander se tamatar ki tarah se laal aur chooton ke pankhadiya sooj kar dabal roti jaise ho gaye the.

Next day Gangu bai aa gayi thi aur apne servant quarte mai hi thi use abhi thode araam ki zaroorat thi isi liye wo Farmhouse ke ander nahi ayi aur apni quarter mei hi rahi. Lunch ke bad ham ne wapsi ka programme bana lia to Lachmi ne mujhe continue har har jagah kiss karne lagi, mere se lipat gayee aur be inteha rone lagi kiss bhi karti ja rahi thi aur ro ti bhi ja rahi thi to mai ne bhi usko apne se lipta liya aur uske sar ko aur back ko thap thapa ke bola ke are pagli rote nahi mai aata rahuga na to wo mere pairo mai gir gayee aur mere pau padti hui boli ke paye lagu babu ji tum bohot ache ho aur ab tum hi mere bhagwan ho to mai ne kaha chal aise nahi bolte Lachmi tu fikar na kar ham aate rahenge aur maze karte hi rahenge aur teri shadi hone tak mai tujhai lagataaar chodta rahunga to uski ankhon mai chamak ayi par hamare jaane tak uski aankho mai aansoo hi the. Sham ke takreeban 3 baje tak ham log wapsi ke

liye nikal gaye the. Sheher pohoch te pohoch te rat ho gayee thi ab mousam bhi theek ho chuka tha. Aisi mast aur continue chudhai ke karan Pinky sahi dhang se chal nahi pa rahi thi thoda sa pair phaila ke chal rahi thi to uski mom ne poocha ke Pinky kia hua hai tujhe aise kyon chal rahi hai to wo boli ke mom waha pani ki wajah se mera pair slip ho ke gir gayee thi to shaed kuch muscular problem hoga par shaed uski mataji ko uski baat pe yakeen nahi aaya kyonke Pinky pair phaila kar chal rahi thi langda ke nahi par uski bat sun kar uski mataji ki aankhon mai fikar ki jhalki dikhayee di par wo kuch boli nahi aur khamosh hi rahi.

Pehli chudai ke baad mai ne apne ek pharmacist dost ki sahayata se pregnancy rokne ki tablets kharid ke Pinky ko de di thi jise wo daily istemal karne lagi thi. Pinky ab mujh se continue chudwane lagi thi kabhi bhi moka dekh kar ham ya to kahi baher chale jate ya uske ghar mai hi chudai kar lete. Kabhi Farmouse ko jana hota to Lachmi bhi chudai mai sath hoti. Mujhe laga ke aunty ko kuch shakk sa ho gaya hai ke ab Pinky mere sath kuch ziada hi time guzarne lagi thi. Aur aise hi chodte chudwate din guzarne lage.

Pinky ki Shadi

Shantilal ki shadi Payal se fix ho chuki thi aur Pinky ki shadi bhi ek doosre Marwari sait champaklal ke bête Chimanlal ke sath fix ho gei thi. Chimanlal ko ghar mai aur mill mai sab log Lala keh kar pukarte the. Lala ek saaf rang ka normal sa hi ladka hai uska jod Pinky ki khoobsoorti se mel nahi khata par kia kare Marwari logo ziadatar apni ladki ko apni hi community ke kisi ameer aur doulatmand gharane mai shadi karna ziada pasand karte hai isi liye Lala ke sath Pinky ka rishta kar dia gaya. Lala, Champaklal sait ka eklota beta hai unka bhi bohot bada business hai wo log Secunderabad ke rehne wale hei Hyderabad aur Secunderabad twin cities hai dono ke beech mai bass ek kilometer ka ek bridge hai jo Hyderabad aur Secunderabad ko alag karta hai.

Sait Champaklal ki ek medium size ki oil mill hai jismai Ground nut ka oil nikala jata hai jise dono mil kar chalate hai dono bohot hi busy rehte hai kabhi kabhi to yeh log doosre sheher ko bhi mung phalli ( Ground Nut ) ki kharidi ke liye jaate hi rehte hai kabhi to dono baap bête mile kar jate hai kabhi akele aur sara din apni oil mill mai laga dete hai aur raat mai bohot der

se ghar ko wapas aate hai aur ghar aa kar bhi baap beta business ke problems aur accounts ki hi baatein karte rehte hai jis mei Sunita Devi ( Sait Champaklal ki biwi ) ko koi dilchaspi nahi hoti wo goonge aur behro ki tarah se apna muh aur kaan band kar ke unke sath khana khati hai kyonke yeh dono baap bêto ko unke business se fursat hi nahi milti. Mill se thak kar aate hai aur khana kha kar bed pe let te hi ek hi minute ke ander bade bade kharrate maarte hue so jate hai.

Unka ek bohot hi bada Bungalow hai jis ke last corner mai 3 bedrooms aur bathrooms ka ek alag thalag portion hai wahi par Sunita Devi ka bedroom hai jaha wo rehti aur soti hai. Wo Sait Champaklal ke sath nahi soti kyonke Champaklal ke kharrato ke chalte uske barabar wale kamre mai bhi koi nahi so sakta itne bade bade kharrate marte hai wo aur unke kharrate itne bhayanak hote hai lagta hai jaise koi machine chal rahi ho isi liye Sunita Devi ko unke sath neend nahi aati aur phir Sunita Devi rat ko der se sone ki aur subah der se uthne ki aadat hai unke uthne tak Champaklal aur Lala dono nashta kar ke mill ko ja chuke hote hai aur inn ki mulakat sirf dinner table par hi hoti hai. Champaklal sait ko Sunita Devi ke doosre bedroom mai sone se koi problem nahi hai kyonke unko apni biwi se baat karne ka bhi mouka hi nahi milta to kuch aur kia kar sakte hain. Ghar ke kisi bhi mamle mai discuss karne ka time hi nahi hota bass jo kuch dinner table pe jo bhi ghar ke mamlaat pe baat ho gayi so ho gayi uske bad baap bête ko ghar se koi talluk nahi hota. Paise ki koi kami nahi thi. Unka bangla bhi bohot hi bada hai jaha zaroorat se kuch ziada hi kamre, noukar chakar, cars, bikes sab kuch hai. Inke ghar ka bhi Pinky ke ghar jaisa hai jaha aadmi kam aur noukar ziada hain. Unke pas sab kuch to hai par lagta hai jaise sukoon nahi hai kyonke unki zindagi sirf Oil Mill, Problems, Accounts, Dinner Table aur Bed par kharrate maar kar sote hi guzar jati hai. Unka koi aisa khaas friends circle bhi nahi hai jaha wo kuch time pass kar sake ya life ko enjoy kar sake bass jo bhi hai wo business relations hi hai jaha par unko business se hat ke aur koi baat karne ki fursat hi nahi milti. In short wo be inteha busy rehte hai jinko apne ghar bar ki taraf aankh utha kar bhi dekhne ki fursat nahi hai. Ghar ki karta dharta Sait Champaklal ki biwi Sunita Devi hi hai. Sunita Devi bhi takreeban Pinky ki mom ki hi age group ki hai wo ek achi khaasi sexy shakal o soorat ki gori chitti medium height aur medium built ki ghateli badan ki normal formal si aurat hai. Badi badi brown colour ki aankhin, chootado tak latakte baal aur shaed 36 ya 38 size ke boobs honge. Ziada ghee ke istemal

se wo kuch over weight bhi ho gayee hai par itni ziada nahi. Dress mai bass typical Marwari style mai sari pehenti hai sari saamne se neeche utarti hui unki nabih se itni neeche bandhti hai ke 2 – 4 inch aur neeche utar jaye to unki jhatein bhi nazar aane lage aur aise style mei unke gore gore pet ka kaafi bhaag nazar aata hai aur raat mai sab gharelu aurto ki tarah se nighty mai hi rehti hai. Unko raat mai sone se pehle apne pairo ko dabwaane ki aadat hai bina pair dabaye ke unhain neend nahi aati aur yeh kaam unki ek noukrani Mohini karti hai jise wo Mohini ke bajaye Munni keh kar bulati hai aur Munni jaise unki khaas noukrani hai jis se wo apne sare private kaam karwati hai.

Yun to Shati lal ki aur Pinky dono hi ki shadi fix thi par Sait Kantilal ko Pinky ki shade pehle karna chahte the aur 3 -4 mahine baad shantilal ki shadi karne ka programe bana jise Shantilal ke sasural walo ne maan lia.

Pinky ki shadi ki tayyari bade zoro se chal rahi thi Shadi ke time pe Farmhouse se Gangu Bai aur Lachmi ko bhi yahi bulwa lia gaya tha kaam ke liye aur Ramu ko wahi dekh bhal ke liye chhor dia gaya tha. Lachmi ko thoda pehle hi bulwa lia gaya tha kyonke wo abhi jawan thi aur kaam karne mai bohot tez hai to usko takreeban shadi se ek mahina pehle hi bulwa lia gaya tha aur usko ghar ke ek corner mai hi ek khali kamra de dia gaya tha jismai se ek door baher ki taraf bhi khulta tha aur mai late night uske kamre mai usi baher wale door se ander aa jata tha aur uski jam kar chudai karke Lachmi ko aur uski choot ko khush karke wahi se wapas chala jata tha. Jitney din Lachmi waha rahi kisi na kisi bahane se mai, Pinky aur Lachmi teeno chudai mai busy rehte the kabhi threesome bhi hota tha aur kabi alag alag chudai. Shadi ke baad bhi Lachmi bohot dino tak wahi rahi aur mai ne to Lachmi ki be inteha chudai ki chod chod kar uski choti si choot ka bhosda bana dia usko bhi tablets de dia tha taa ke wo pregnant na ho. Pinky kyonke dulhan banne wali thi isiliye waha unke ghar logo ka aur rishte daro ka jamghata laga rehta tha especially raato mai sari aurten gana gaati rehti aur mujhe Lachmi ko chodne ka free mouka mil jata tha aur mai uski choti si choot mai Lund dal ke mast chudai karta usko sab se ziada maza to mere Lund ki sawari karne mai aata jis se mera Lund usko apne pet mei mehsoos hota itna deep penetration hota tha aur phir uski gand bhi marta raha yeh silsila jab tak Lachmi waha rahi tab tak chalta raha aur jab Lachmi wapas gayee to uski choot ke

pankhadiyan sooj ke mote ho chuke the, choot ander se laal ho gai thi aur choot ka bhosda ban chuka tha.

Pinky dulhan ban ke kisi apsara se kam nahi lag rahi thi Pinky ki shadi bade dhoom dhaam se manayee gayee aur Pinky apni sasural chali gayee Vidayee se pehle mere se lipat ke sisak sisak ke itni zor zor se royee ke uske aansoo nikal pade aur kaan mei dheere se boli ke bhale hi meri shadi ho gayee ho par mai hamesha tumhari hi rahungi aur tum zindagi bhar mere dil mai base rahoge tum hi mere bhagwan ho mere pati ho aur sab kuch ho mai bhi jazbaat mai aa gaya tha aur bola ke tum fikar na karo Pinky mai zindagi bhar tumhare sath hu jab meri yad aye bula lena ya mere pas chali aana to usne kaha ke Mere Sweet Raja mai tumhai apni jaan se bhi ziada pyar karti hu Raja tum to meri har saans ke sath jude hue ho tumhari yaad to mujhe din raat aati hai mai tum se sacha pyar karne lagi hu to mai ne usko aur zor se lipta lia aur aahista se kaan mei bola ke tum fikar na karo ham ab bhi wohi masitya karenge jo ab tak karte aye the aur itna bolte hue mera Lund ek dum se akad gaya jise Pinky ne bhi mehsoos kia aur usne apne badan ko mere Lund se chipkate hue kaha ke mujhe to yahi chahiye mai aisa doosra Lund kaha se laun to mai ne kaha ke arey kyon fikar karti ho yeh tumhara hi hai jab ji chahe le lena to usne ek lambi saans li aur boli ke bhagwan jane Chimanlal ka kaisa hoga to mai ne kaha ke don’t worry pinky dekhte hai abhi to tumhari vidayee hai tum apni sasural jao phir dekhte hai kia karna hai aur kaise karna hai laikin kal mujhe phone karke batana ke suhag raat kaisi rahi to uske muh pe halki si muskurahat ayi aur boli ke theek hai kar dungi aur phir phoolo aur jewellery se ladi Pinky ek lambi si car mai baith ke apni sasural chali gayee.

Shadi ke kuch hi dino baad sab dost aur rishtedar waghaira apne apne gharo ko wapas chale gaye aur phir sab waise hi set ho gaya jaise pehle hua karta tha. Pinky ki shadi mai mei ne kisi ghar wale ki tarah hi kaam kia jis se Pinky ki sasural walo ko pata chal gaya ke mai bhi Pinky ke parivar ka hi ek important sadasya hu aur Pinky ki sasural mai bhi mujhe wohi maan samman mila jo Pinky ke parivar wale dete hain.

Pinky ki shadi ke doosre hi din mere dad ka 1 mahine ke liye official foreign tour nikal aaya to mom apne maike apne mom dad ke pas chali gaye aur mai ghar mai akela reh gaya kyonke mere colleges start ho gaye the aur mai college miss nahi kar sakta tha.

Pinky ka phone shadi ke doosre din nahi aaya laikin 2 din bad wo khud achanak mere ghar aa gayee aur aate hi mere se lipat ke rone lagi aur boli ke meri zindagi to barbad ho gayee Raja mai kia karu to mai ne poocha ke kia hua pinky aise kyon ro rahi ho to usko ek dum se gussa aa gya aur boli ke yeh sala Lala bhenchod jab kuch kar nahi sakta to shadi kyon ki us maderchod ne. Mai Pinky ki zuban se yeh sab sun ke sakte mai aa gaya aur bola ke arey yeh kia bol rahi ho tum Pinky to wo aur gusse mai aa gayee aur boli ke sale ke pas mere liye koi time hi nahi hai 2 din ke ander shaed 5 ya 10 minute dhang se baat ki ho usne. To mai ne poocha ke acha yeh to batao ke suhag raat kaisi rahi to usne bola ke yeh sale Lala ki jhantein uske loude se badi hai aisa lagta hai bhenchod ne sari umar jhatein nahi shave ki aur ander dalne se pehle hi uska pani nikal gaya bhen ke loude ka. Sale ko chodna nahi aata to Gand marwane ke liye shadi ki thi. Yun to Pinky aur mai choot Lund gand jaise shabd use kar lete the par Pinky ke muh se aaj sirf galiya hi nikal rahi thi. usne phir detail mai bataya ke suhaag raat ko wo kamre mai bed pe baithi Lala ka intezar kar rahi thi wo aaya aur apni sherwani utar ke khute pe laga dia aur aake sath mai let gaya aur phir mujhe bhi lita lia aur kuch der tak to kiss karta raha aur phir apne kapde nikal dia aur mere kapde bhi nahi nikale bhen chod ne aise hi sari utha di meri. Itna nahi hua ke wo romantic style mai apne aur mere kapde nikale. Aur phir meri nazar uske loude pe padi to hairat mai reh gayee ke itni badi badi jhatein hai uski aur jhato ke beech mai jhatein badi aur louda chota dikhayee de raha tha aur phir mere boobs ko junglee janwaro ki tarah se dabane laga aur muh mai le ke choosa aur mere nipple ko kaat dala meri darad se cheekh nikal gayee usne phir meri choot ko apne hath se masalna shuru kia mai thoda garam hone lagi to usne light band kar di aur mere ooper chhad gaya aur abhi Lund ander ghusa bhi nahi tha ke uska pani nikal gaya maderchod ka sala bhenchod aur phir mere badan se ludhak ke side mai let gaya aur phir ek hi minute ke ander wo matherchod kharrate maarte hue so gaya sala bahdwa kahika.

Wo continue usko galiyan de rahi thi. mai ne usko apne se lipta ke pyar kia aur bola ke koi bat nahi meri jaan mai hu na Pinky mai tumhari choot ki servicing achi tarah se karunga tum fikar na karo aur phir ek nayee naweli dulhan ke kapde utar ke ham dono kiss karne lage aur wo to suhaag raat se hi garam thi mera Musal Lund pakad kar dabate hue boli ke mujhe to yehi musal chahiye meri choot ke ander Raja mujhe uss maderchod

Lala ka patla louda nahi chahiye aur neeche ghutno ke bal baith ke mere Lund ko ghor se dekhti rahi aur phir pyar se sehlane lagi aur muh mai le ke choosne lagi to mai ne usko uthaya to wo nahi uthi aur boli ke nahi Raja sab se pehle mujhe tumhare Lund ki garam garam malaai khani hai to mai ne kaha ke theek hai kha lena mujhe bhi to khilao apni cream to wo neeche se uth gayee aur ham dono bed pe aa gaye aur mei neeche let gaya aur wo apne ghutne mod ke mere badan ke dono taraf rakh ke mere ooper 69 ki position mai aa gayee aur mere Lund ko masti se choosne lagi aur apni choot ko mere muh mai ragadne lagi aur apni gand utha utha ke mere muh pe apni choot ko patakne lagi ek hi minute ke ander wo mere muh mai apni choot ko ragadte hue jhad gayee aur phir meri malaii bahi uske muh mai girne lagi jise usne ek drop giraye bina chaat lia. Mera Lund abhi soft nahi hua tha aur ab ham koi protection bhi use nahi kar rahe the wo palat ke mere nange Lund ke dande ko pakad ke apni choot ke surakh ko Lund ke supade pe adjust kar ke ek hi jhatke mei mere akde hue Lund pe baith gayee aur ek hi ek hi jhatke mai mera rocket ki tarah se khada hua Lund uski choot mai pach ki awaz ke sath choot ki gehraiyon mai ghuss gaya aur mujhe apne Lund ke supade pe uski bache dani ka khula muh mehsoos hone laga. Pinky ab mere Lund pe uchal uchal ke maze le rahi thi jis se uske boobs dance karte bohot ache lag rahe the. Mai ne usko jhuka lia aur uske boobs ko choosne laga aur apni gand utha utha ke uski choot ke ander tak apne Lund ko pelne laga wo meri zuban ko choos rahi thi aur kabhi mere kaan ko kaat ti to kabhi mere shoulder ko. Ab uski speed badh gayee thi wo mere Lund pe badi zor zor se uchal rahi thi aur uske boobs bhi hil rahe the aur phir uska badan kaanpne laga aur wo mere Lund pe hi jhadne lagi. Meri cream niklne se pehle hi wo jhad chuki thi aur uski choot bohot hi geeli ho chuki thi ab mai ne position change kar ke usko neeche lita dia aur khud uske ooper let ke uske shoulders ko zor se pakad ke powerful shots marne laga aur usko pagalo ki tarah se chodne laga jis se uska sara badan hilne lag aur wo aaahhhhhh hhhhaaaaaaeeeeeee rrrrrraaaaaajjjjjjjjjjjaaaaaaaaa aaaaaeeeee sssssseeeeeee hhhhheeeee cccchhhoooodddoooo aappnnniii pppiiinnnkkkyyyy kkkiii chhhootttt kkkooooooo aaahhhh ab mere dhakko ki speed bohot badh gayee thi aur meri cream ab nikalne ke kareeb thi aur phir apne Lundko uski geeli choot se poora baher tak nikal ke ek bohot hi jabardast dhakka mara to uske muh se hhhhhhhpppppppp aur sssssssssssssssssss jaisi awaz nikli aur mere Lund mei se

garam garam gaadhi gaadhi cream ka fawwara nikal ke uski choot ko bharne laga aur mere sath uski choot ek bar phir se jhad gayee aur ham dono gehri gehri saansein lete hue ek doosre par dher ho gaye. Pinky mujhe choomte hue boli ke Raja mujhe aisi chudai chahiye tum ladki ho poori tarah se satisfy karna jante ho to mai ne kaha ke fikar na karo Pinky ham koi na koi rastaa zaroor nikalnege. Tum apne ghar ja ke ayi ho ya direct yahi aaee ho to usne bola ke haa mai apne ghar gayee thi aur mom se bol ke hi yaha ayee hu to mai ne poocha ke tumhari mom ne poocha nahi kia ke tumhari suhag rat ke bare mai to usne bola ke nahi kuch poocha to nahi shaed baad mai puchti hogi. Aur ham isi tarah ek doosre ki baho mei nange lete rahe aur ek doosre ko kissing karte rahe thodi der ke bad ek time aur chudai ke bad Pinky apne ghar chali gayee aur mai so gaya.


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Marwar ki mast malaai-मारवाड़ की मस्त मलाई

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 01:41

मारवाड़ की मस्त मलाई पार्ट --9



गतांक से आगे........................

शाम देर गये पिंकी फिर से मेरे पास आ गयी और आते ही मेरे से लिपट गयी और दीवानो की तरह किस करने लगी. हम ने फिर चुदाई की उसके बाद पिंकी ने बोला के राजा कोई रास्ता निकालो के मैं डेली तुम से चुदवाती रहू तो मैं ने कहा के तुम अपनी सास की कोई वीकनेस की तलाश करो और मुझे बताओ और फिर उसी वीकनेस के चलते मैं तुम्हारी सास को चोदुन्गा तो उसका मूह खुला रह गया और उसने हैरत से पूछा किआआआअ ??? कहीं तुम पागल तो नही हो गये “ सास को चोदुन्गा ” तो मैं ने कहा के नही मेरी जान तुम्हारी सास अभी जवान ही तो है इतनी बूढ़ी तो नही है शुवर मैं उनको चोद लूँगा यह तुम मुझ पर छोड़ दो और फिर जब मैं उनको 8 या 10 बार चोद चुका होन्गा तब तक तुम कुछ नही करना और उसके बाद तुम हमै चुदाई करते टाइम पे देखते हुए रंगे हाथो पकड़ लेना उसके बाद तुम्हारी सास तुमको कभी भी कुछ नही कह सकती और फिर हमारी चुदाई का रास्ता साफ हो जाएगा तो पिंकी ने मुझे प्यार से मारा और मुस्कुराते हुए बोली के बड़े शैतान हो तुम राजा तो मैं ने भी हंसते हुए कहा के तुम्है तुम्हारी ससुराल मे चोदने का पर्मनेंट लाइसेन्स भी तो मिल जाएगा ना और फिर हमारा प्लान तय्यार हो चुका था. पिंकी वो रात बोहोत देर तक मेरे साथ ही रही और हम रात देर तक चुदाई और मस्तियाँ करते रहे उसके बाद वो अपने घर जा के सो गयी और दूसरे दिन वो अपनी ससुराल चली गयी. उसके पति को इतना टाइम नही था के वो खुद आ के पिंकी को ले जाए. उसने ड्राइवर से कार भेज दी थी और पिंकी चली गयी.

पिंकी को जल्दी ही उसकी सास की एक तो वीकनेस मिल गयी. एक रात जब पिंकी सास के लिए दूध ले के गयी तो देखा के कमरे मे से आआआआहह और सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स

ईईईईईहह जैसी आवाज़े आ रही है तो वो खिड़की मे से झाँकने लगी देखा तो उसकी सास नाइटी पहने हुए थी जो सामने से पूरी खुली हुई थी वो पैर फैलाए चित्त लेटी थी और उनकी नौकरानी मोहिनी उनके पैर दबा रही थी और पैर क्या दबा रही थी उनकी चूत मे उंगली डाल के उंगली से चोद रही थी और वो मस्ती मे थी और फिर थोड़ी ही देर मे वो ह्ह्ह्ह्ह्ह्हाआआअ मम्मूऊउन्नञनिईीईईईईईईईई कहते हुए झड़ने लगी और पिंकी 2 – 3 मिनिट का वेट करके उनके कमरे मे आ गयी. कमरे मैआते ही उसको उसकी सास की चूत से निकले हुए जूस की सुगंध आई और पिंकी धीरे से मुस्कुरा दी और दूध का ग्लास उनकी साइड टेबल पे रखा तो उसकी सास उखड़ी उखड़ी सांसो से बोली के अरे बहू तुम ने क्यों तकलीफ़ की किसी नोकरानी के हाथ भिजवा दिया होता तो मैं ने किसी पतिवर्त बहू की तरह उनके पैरो को छू लिया और बोली के माजी आपकी सेवा करना तो मेरा कर्तव्या और मेरा धरम है तो उसकी सास उसको दुआ देने लगी और फिर पिंकी उनके कमरे से चली गयी पर उसको उनकी एक वीकनेस तो मिल ही गयी थी जिसे पिंकी ने फॉरन ही मुझे फोन करके बता दिया और फिर कुछ देर तक मैं और पिंकी फोन सेक्स करते रहे मैं अपने लंड का मूठ मारता रहा और वो अपनी चूत मे उंगली डाल के चूत का मसाज करती रही और फिर दोनो बिना चुदाई के झड्द गये.

मैं ने एक डीटेल प्लान बना लिया और पिंकी को बता दिया के क्या करना है और कैसे करना है और अपना प्लान पिंकी को भी अछी तरह से समझा दिया था.

अब मैं किसी ना किसी बहाने से पिंकी की ससुराल मे आने जाने लगा था. सेठ चंपकलाल और लाला तो सुबह अकेले ही नाश्ता कर के जल्दी ही अपनी मिल को चले जाते. सुनीता देवी को लेट नाइट सोने की और सुबह देर से उठने की आदत थी इसी लिए वो उनलोगो के साथ ब्रेकफास्ट नही लेती थी अकेले ही नाश्ता करती थी और मैं ऐसे टाइम पे उनके घर जाता जब सुनीता देवी उठ गयी होती थी और ऑलमोस्ट ब्रेकफास्ट के टेबल पे होती या तो ब्रेकफास्ट ले रही होती या चाय पी रही होती और वो भी मुझे अपने साथ ही चाय के लिए बिठा लेती. पिंकी भी हमारे साथ ही टेबल पे बैठी होती हम इधर उधर की बातें करते रहते. सुनीता देवी को भी कंपनी मिल जाती और वो भी इधर उधर की बातें करने लग जाती तो मैं जैसे उनका टाइम पास करने लगा था और मुझे महसूस होने लगा थके वो मुझे और मेरी कंपनी को पसंद करने लगी है. किसी दिन अगर मैं नही जाता तो वो पिंकी से पूछती के क्या बात है आज राज नही आया तो पिंकी बोलती के पता नही हो सकता है के कही बिज़ी होगा और शाएद थोड़ी देर मे आ जाए तो वो कहती के ठीक है अगर वो थोड़ी देर मे नही आया तो उसको फोन करके बोलो के लंच यही करे हमारे साथ तो मैं लंच के लिए उनके पास चला जाता अब वो मुझ से अछी ख़ासी घुल मिल गयी थी और

मेरी कमी को महसूस भी करने लगी थी और अब वो खुद ही मेरे मोबाइल पे फोन करके मेरे से बात भी करने लगी थी. कभी अगर उनको नींद नही आती तो वो मुझे लेट नाइट भी फोन कर लेती और इधर उधर की बातें करती कभी मेरे कॉलेज की बातें, कभी अपनी जवानी के कॉलेज के किस्से सुनाती कभी अपनी घर की बातें भी बता देती. मुझ से एक टाइम पूछा के राज तुम्हारी कोई गर्ल फ्रेंड है, तो मैं ने हस्ते हुए कहा के आंटी एक नई चार चार है तो उन्हो ने पूछा के उनके साथ रोमॅन्स भी करते हो या ऐसे ही दोस्ती है तो मैं ने बोला के हा आंटी जब भी चान्स मिलता है कर लेता हू तो उन्हो ने पूछा के कैसे करते हो तो मैं ने कहा के किस कर लेता हू और … और फिर मैं उसके बाद खामोश हो गया तो उन्हो ने पूछा के हा बोलो ना और क्या ? तो मैं ने कहा फोन पर ही शरमाते हुए कहा के वो आंटी वो वो ऐसे ही कभी बदन को इधर उधर दबा देता हू तो वो हंसते हुए बोली के बॅस इतना ही करते हो या कुछ और भी तो मैं ने पूछा और क्या आंटी ? तो उन्हो ने कहा के अरे वोही जो एक जवान लड़का लड़की करते है तो मैं ने अंजान बनते हुए कहा के क्या करते है आंटी जवान लड़का लड़की तो उन्हो ने कहा के अरे वोही – अब उनके शरमाने की बारी थी बोलिए ना आंटी क्या करते है तो उन्हो ने कहा के अरे बाबा वोही जब जवान लड़का लड़की मिलते है तो कुछ ससस्स सस्स्सेक्श वाघहैरा भी तो करते है तो मैं ने शरमाते हुए कहा के क्या आंटी आप भी ना !!! बस मैं ने अपना सेंटेन्स वही अधूरा ही छोड़ दिया तो उन्हो ने खुद ही कहा के तुम जैसे जवान को कोई लड़की ऐसे ही किस करके तो छोड़ नही सकती मुझे यकीन है के तुम उसके आगे भी कुछ ना कुछ ज़रूर करते होगे… वाघहैरा वाघहैर इसी तरह से वो अब प्राइवेट बातें भी करने लगी थी. इन शॉर्ट वो मेरे से बोहोत ही फ्री हो गयी थी.

एक दिन जब डाइनिंग टेबल पे बैठी चाइ पीते पीते इधर उधर की बातें कर रहे थे तो मैं ने पिंकी को आँख के इशारे से उठ जाने को कहा तो वो चली गयी अब मैं बोला के आंटी आप इतनी क्यूट हो और मेरे ख़याल से शाएद थोड़ी सी ओवर वेट भी हो तो आप थोड़ी बोहोत एक्सर्साइज़ क्यों नही करती और मुझे यकीन है के थोड़ी सी एक्सर्साइज़ और थोडा सा बॉडी मसाज से आपका फिगर किसी नौजवान लड़की की तरह फिट हो जाएगा तो वो थोडा शर्मा गयी और बोली के अब मुझे कौन जवान कहेगा तो मैं ने बोला के अब मैं कुछ बोलूँगा तो आप मज़ाक समझेगी पर यह सच है आंटी के आप तो अभी भी बोहोत खूबसूरत हो और आपको देख के कोई नही कह सकता के आप एक बेटे की मा भी हो और यही समझेगा के आप 25 – 30 साल से ज़ियादा की नही हो. देखना अगर आप एक्सर्साइज़ नही कर सकती तो मेरे पास एक मसाज करने का स्पेशल आयिल है जिसे थोड़ी से शॅंपेन मे मिला के बदन की मालिश करने से बदन का एक्सट्रा फट एक दम से निकल जाता है. तो उन्हो ने पूछा के सच सिर्फ़ बॉडी मसाज से ही बॉडी वेट

कम किया जा सकता है तो मैं ने कहा के हा आंटी मेरे पास जो आयिल है वो स्पेशल आयिल है जो बॉडी के फट को निकाल देता है तो उन्हो ने कहा के अछा देखते है. शॅंपेन के नाम से मैं ने देखा के उनकी आँखो मैं एक चमक आ गयी और बोली के शॅंपेन मिला के तेल लगाना पड़ेगा पर वो मुझे कहा मिलेगी तो मैं ने कहा के आंटी आप क्यों फिकर करती हो मैं हू ना आपको इंपोर्टेड ला के दूँगा और साथ मे हंसते हुए पूछा के आंटी आपने कभी शॅंपेन टेस्ट की है तो वो थोड़ी देर खामोश रही और फिर मेरी तरफ थोड़ा सा झुक गयी और बोली के किसी से बोलेगा तो नही तो मैं ने कहा के अरे आंटी यह बात सिर्फ़ मेरे और आपके बीच ही रहेगी आप बताओ तो सही तो उन्हो ने कहा के हा पी थी लैकिन उसको बोहोत साल हो गये है जब मैं जवान थी तो मैं ने उनकी बात काट ते हुए बोले के आंटी आप तो अभी भी जवान हो अपने आपको बूढ़ा ना समझो तो वो धीरे से मुस्कुराते हुए बात को कंटिन्यू करते बोली के एक पार्टी मे फ्रेंड्स के साथ थोड़ी सी पी थी, उसका मज़ा लग गया था लैकिन उसके बाद कभी मोका नही मिला तो मैं ने बोला के कोई बात नही आंटी अब पी लेना जब मैं आपको शॅंपेन ला के दूँगा तो वो कुछ सोच मे पड़ गयी और बोली के और अगर किसी को पता चल गया के यहा शॅंपेन है तो ? मैं ने बोला के आंटी किसी को भी पता नही चलेगा मैं ऐसे ला के देदुन्गा आपको तो वो बोली के ठीक है पर मुन्नी को तो पता चल ही जाएगा के तेल मैं शराब मिलानी पड़ती है तो मैं हंसते हुए और मज़ाक करते हुए बोला के आंटी अगर आप पर्मिशन दो तो मैं ही कर्दुन्गा आपकी मालिश तो वो सीरीयस हो गयी और कुछ सोच मे पड़ गयी और फिर सोचते हुए बोली के पिंकी को पता चलेगा तो मुसीबत ही आजाएगी तो मैं ने कहा के पिंकी की आप बिल्कुल फिकर ना करो पहले तो उसको पता ही नही चलेगा और अगर चल भी गया तो भी कुछ नही होगा क्यॉंके पिंकी एक आज़ाद ख़याल की लड़की है वो कोई माइंड नही करेगी, हो सकता है के वो भी आपके साथ एक आध पेग पी ले और अगर फिर भी कुछ हुआ तो मैं उसको संभाल लूँगा वो मेरा कहा मान लेगी आप उसकी फिकर ना करो और वैसे भी यह मेरा और आपका आपसी मामला है इस मे किसी को कुछ भी पता नही चलेगा तो सुनीता देवी ने कहा सोचने दो तो मैं ने कहा कोई बात नही अगर आपको शॅंपेन नही चाहिए तो भी कोई बात नही जाने दीजिए तो उन्हो ने कहा के नही ऐसी बात नही मैं सोचती हू के कैसे प्लान करू फिर बताउन्गि तुमको तो मैं ने कहा ठीक है आंटी आप के बोलने के बाद ही मैं कुछ इंतेज़ाम करूँगा. मुझे यकीन हो गया के अब मैं सुनीता देवी की मालिश कर के उनको चोद सकता हू. मे ने बोला के कोई बात नही आंटी आप इतमीनान से सोचिए और मुझे बताइए उसके बाद ही मैं शॅंपेन का बंदोबस्त करता हू. मेरा एक फ्रेंड है वाहा से इंपोर्टेड शॅंपेन मिल जाएगी. और फिर थोड़ी देर के बाद मैं सुनीता देवी को सोचता छोड़ कर अपने घर

आ गया और फोन पर पिंकी को सारी बात बता दी और नेक्स्ट प्लान के बारे मैं भी बता दिया.

मैं इसी तरह से उनके घर आता रहा जाता रहा. पिंकी अब खुद ही हमै अकेला छोड़ के टेबल से किसी ना किसी काम का बहाना कर के उठ जाती और फिर मैं और सुनीता देवी ही टेबल पे बैठे इधर उधर की बातें करते रह जाते. एक दिन मुझे ऐसा महसूस हुआ के वो मुझ से कुछ कहना चाहती है पर कह नही पा रही है और फिर जब पिंकी उठ के चली गयी तो उन्हो ने इधर उधर देखते हुए हिच किचाते हुए कहा के सुनो राज मैं ने कुछ सोचा है तो मैने ने पूछा क्या आंटी क्या सोचा है तो उन्हो ने बोला के तुम लेट नाइट आ सकते हो क्या तो मैं ने कहा के मुझे कोई प्राब्लम नही आंटी आप रात 12 बजे बोलो मैं आपकी सेवा मे आ जाउन्गा तो वो मुस्कुरा दी और बोली के तुम्है पता है ना के मुझे सेठ साहिब के खर्राटे सोने नही देते इसी लिए मैं बंगले के दूसरी तरफ रहती हू तो वाहा पे एक डोर बाहर जाने के लिए भी है जो बंगले के बाहर कॉंपाउंड मे खुलता है और फिर कॉंपाउंड मे भी एक छोटा सा डोर है जो बाहर रोड पे खुलता है जिसको हमारी नौकरानिया कचरा वाघहैरा फेकने के लिए इस्तेमाल करती है तो मैं वो दोनो डोर्स खुले रख दूँगी और तुम पीछे से आ सकते हो तो किसी को पता नही चलेगा तो मैं ने कहा के ठीक है आंटी मैं कल आपको सब अरेंज्मेंट कर के बतादुगा तो उन्हो ने कहा के ठीक है.

मैं ने अपने दोस्त से मिलकर एक इंपोर्टेड शॅंपेन का बंदोबस्त कर लिया था और मैं ने पिंकी को उसके बारे मे बता भी दिया था. मैं ने आंटी को पहले ही बोल दिया था के आंटी मैं शॅंपेन नही पीऊंगा तो उन्हो ने हैरत से कहा क्यों तो मैं ने बोला का नही आंटी आपको तो पता है के मैं तो सिगरेट तक नही पीता और शराब तो ना कभी पहले पीया हू और ना कभी पियोंगा लैकिन आपके लिए ज़रूर ला कर दूँगा तो उन्हो ने कहा के ठीक है अगर तुम नही पीना चाहते तो मैं फोर्स नही करूगी पर तुम भी मेरी इस बात को सीक्रेट ही रखना होगा तो मैं ने आंटी से कहा के आंटी आप फिकर ना करे मैं हमारे बीच की बात कभी किसी से नही बताउन्गा और हमारी सीक्रेट हमेशा हमारी सीक्रेट ही रहेगी किसी को भी पता नही चलेगा तो उनके चेहरे पे इतमीनान आ गया था.

उसी रात तकरीबन 11 बजे आंटी का फोन आया तो मैं ने बता दिया के आंटी शॅंपेन का बंदोबस्त हो गया है तो उन्हो ने खुशी से चहेकते हुए पूछा “सच” तो मैं ने कहा हा सच आंटी बॉटल मेरे पास है बोलो तो अभी ले के आ जाउ तो उन्हो ने बोला के तुम्है कोई प्राब्लम तो नही होगी इस टाइम आने मे तो मैं ने कहा के अरे आंटी मेरी कॉलेज के तो अभी हॉलिडेज़ चल रहे है और मेरे डॅडी फॉरिन टूर पे है और मम्मी अपने मैके गये है और मैं अकेला हू तो मुझे क्या प्राब्लम होगी आप जब बोलो मैं आपकी सेवा मे आ सकता हू तो उन्हो ने कहा के ठीक है पर एक घंटे के बाद आना जब तक सब सो जाएँगे मैं डोर खुला रखूँगी तो मैं ने कहा के ठीक है आंटी मैं आ जाउन्गा और मैं बाथरूम मे घुस गया और अपने लंड की झटों को शेव कर के लंड को एक दम से चिकना बना दिया और मॅरीड आंटी की एक्सपीरियेन्स्ड चूत को चोदने के ख़याल से ही लंड खड़ा हो गया जिसे आंटी की चूत के नाम पे मूठ मारके शांत करना पड़ा. आज के दिन का यह पहला ही मूठ मारा था और मुझे यकीन था के सेकेंड टाइम तो जल्दी झदुन्गा नही और मैं आज की रात आंटी को चोद चोद के उन की चूत को डबल रोटी की तरह मोटी और टमाटर की तरह लाल कर दूँगा.

एक घंटे के बाद मैं आंटी के बंगले के पिछवाड़े मे पहुँच गया और अपनी बाइक दूसरी तरफ स्टॅंड से लगा दिया और कॉंपाउंड वॉल के छोटे डोर को धक्का दिया तो वो खुल गया प्लान के मुताबिक वो खुला हुआ ही मिला. अंदर आने के बाद उस डोर को अंदर से भेड़ दिया अब मैं बंगले के डोर पे आ गया और धीरे से धकेला तो वो भी खुल गया अंदर कमरे मे तकरीबन अंधेरा ही था बॅस एक बोहोत ही छोटे से बल्ब का टेबल लॅंप जल रहा था उसका बल्ब किसी टॉर्च के बल्ब की तरह छोटा था और लाइट भी बोहोत धीमी थी. मैं कमरे के अंदर आया तो पहले तो कुछ देर के लिए खड़ा हो गया क्यॉंके मुझे कुछ दिखाई नही दे रहा था इतने मैं आंटी की आवाज़ आई डोर लॉक कर के यहा आजओ राज्ज मैं यहा हू. मैने डोर लॉक कर दिया और पलट के देखा तो आंटी दूसरी तरफ सोफे पे पैर लंबे कर के बैठी थी. अब मुझे थोड़ा थोड़ा दिखाई देने लगा था. मैं आंटी के बेडरूम मे आज पहली बार आया था. कमरे मे रूम फ्रेशनेर की भीनी भीनी खुसबु फैल रही थी. कमरा अछा ख़ासा बड़ा था जहा डबल बेड और एक सोफा सेट भी रखा हुआ था जिसके बीच मे सेंटर टेबल भी थी और कमरे मे एक जंबो साइज़ का फ्रिड्ज भी था जिस्मै शाएद वो ठंडा पानी या जूस वाघहैरा के बॉटल रखती होंगी और अटॅच्ड बाथरूम और कमरे के दीवार मे ही इनबिल्ट अलमारियाँ बनी हुई थी और शो पीसिज के लिए भी ग्लास का डिज़ाइन किया हुआ शोकेस भी बना हुआ था. बेड की पयंती की तरफ दीवार मे लकड़ी के फ्रेम मे एक बोहोत ही बड़ा सोनी का प्लास्मा टीवी फिट था जिसके नीचे द्वड प्लेयर और कंप्लीट होम थियेटर सेट रखा हुआ था. कमरे के सारे खिड़कियाँ और डोर बंद थे और कमरे मे एर कंडीशन चल रहा था जिसकी वजह से कमरा ठंडा था.

मैं आंटी के पास आ गया और आंटी ने मेरा हाथ पकड़ के सोफे पे अपने साथ ही बिठा लिया. मेरे हाथ मे ब्राउन कलर का मोटा

सा शॉपिंग बॅग था जिसके अंदर ठंडी शॅंपेन की बॉटल थी जिसे मैं ने अपने घर के फ्रिड्ज मे रखा हुआ था. आंटी ने नाइटी पहनी हुई थी पता नही किसी लाइट कलर की थी या वाइट मुझे तो इतनी धीमी रोशनी मे सफेद ही दिखाई पड़ रही थी. मैं बॉटल बॅग से निकाल कर टेबल पर रख दिया तो आंटी ने किसी छोटे बचे की तरह से उसको उठा लिया और अंधेरे मे ही बॉटल को घूर के देखने लगी उनकी ज़ुबान से “वाउ” निकला और बोली के राज्ज यह तो सच मे इंपोर्टेड है तो मैं ने बोला के आंटी मैने बोला था ना के मेरे दोस्त के पास से ओरिजिनल मिल जाएगी तो वो मुस्कुराने लगी और सेलेब्रेशन के जैसा बॉटल को ऊपेर नीचे कर के हिलाया और बॉटल का कॉर्क खुला तो “प्लॉप” की आवाज़ आई और बॉटल से शॅंपेन झाग की शकल मे ऊपेर उड़ने लगी जिसे आंटी किसी छोटे बच्चे की तरह से बॉटल से उड़ते हुए शॅंपेन को देखने लगी उनकी आँखो मे चमक आ गयी थी. सामने टेबल पे 2 ग्लास भी रखे हुए थे तो और भुने हुए काजू और बादाम की 2 प्लेट्स भी रखी थी. मैं ने बोला के आंटी यह 2 ग्लास क्यों ? तो उन्हो ने बोला के अरे बाबा यह तुम्हारे लिए है चाहो तो शॅंपेन पिओ चाहो तो पेप्सी या सेवेन अप पिओ तो मैं ने कहा के ठीक है मैं बाद मे पी लूँगा अब आप अपनी प्यास बुझाओ पहले फिर मैं आपकी मालिश कर दूँगा तो आंटी एक ग्लास मे अपने लिए शॅंपेन निकाल के चुस्की लेते हुए बोली के वाह राज्ज यू आर ग्रेट आहह क्या मस्त टेस्ट है इसका तो मैं ने कहा के आंटी यह ओरिजिनल है सिर्फ़ आपके लिए ही है और आपको जब भी चाहिए मैं आपको ला कर दूँगा तो उन्हो ने मेरे गाल पे एक छोटा सा किस किया और थॅंक्स बोल के ग्लास उठा के एक घूँट और लिया. वो बड़े मज़े ले ले के पी रही थी पहला ग्लास तो जल्दी ही खाली हो गया लगता है आंटी बोहोत सालो से प्यासी थी. अब आंटी काजू और बादाम खाने लगी और साथ मे एक एक घूँट शॅंपेन का भी पीती रही. मेरे लिए फ्रिड्ज से पेप्सी निकाल के ग्लास मे डाला और मेरी तरफ बढ़ा दिया तो मैं ने ले लिया और पेप्सी का एक एक घूँट पीने लगा.थोड़ी ही देर मे आंटी सुरूर मे आ गयी और उनको थोडा सा नशा चढ़ने लगा तो मैं ने बोला के आंटी अब आप बेड पे लेट जाओ मैं आपकी मालिश कर देता हू नही तो आपको नशा चढ़ जाएगा तो उन्हो ने ग्लास का लास्ट घूँट अपने हलक़ मे उंड़ेला और सोफे पे से उठने लगी तो उनके पैर लड़ खड़ा गये और इस से पहले के वो फरश पे गिर जाती मैं अपनी जगह से तेज़ी से उठा और उनको अपनी बाँहो मे ले के संभाल लिया और मोके का फ़ायदा उठा ते हुए उनके बूब्स के ऊपेर हाथ रख दिया अफ इस उमर मे भी आंटी के बूब्स बड़े ही कड़क थे. उनके चुचियाँ पकड़ ली ऐसा लगता था के ज़ियादा दबाए नही गये होंगे और उनकी बॉडी के हिसाब से उतने ज़ियादा बड़े भी नही थे बॅस जैसे कोई मीडियम साइज़ का मॅंगो. उनके कड़क बूब्स मेरे हाथ मे कंप्लीट आ गये थे दोनो बूब्स को दबाया और मसल दिया बोहोत मज़ा आ रहा था और मेरा लंड तो एक दम से फॅन फनाने लगा था. लगता था के अब आंटी को

फुल नशा च्चढ़ गया है और वो पूरी तरह से आउट हो चुकी थी उनकी आँखें बंद हो गयी थी. मैं उनको धीरे धीरे ला के बेड पे लिटा दिया. आंटी की नाइटी सामने से खुल गयी थी और उनकी सफेद सिल्क की पॅंटी सॉफ नज़र आ रही थी. उनकी नाइटी पे जो बटन लगा हुआ था उसको भी खोल दिया अब पूरी नाइटी सामने से खुल चुकी थी. मैं उनकी टाँगो के बीच बैठ गया और उनकी पॅंटी को उनकी गंद उठा के निकाल लिया आअहह क्या मस्त चूत थी मोटे पंखुड़ियो की बिना झतो वाली एक दम से चिकनी चूत और आंटी ने ब्रस्सिएर तो पहनी ही नही थी ऊपेर से बिल्कुल नंगी थी. उनके नंगे बूब्स को दोनो हाथो से पकड़ के दबाया और चूसा. आंटी के बूब्स बड़े मस्त थे एक दम से गोरे क्रीम कलर के गोल गोल जिन पे अंगूर जैसे पिंक कलर के निपल्स जिन्हे चूसने मे बोहोत मज़ा आ रहा था. मेरे लंड का तो बुरा हाल हो गया था. आंटी को चोदना चाहता था लैकिन सोते मे नही मैं चाहता था के आंटी को ऐसे चोदु के वो चुदाई का भरपूर मज़ा लें इसी लिए चोदने का प्रोग्राम पोस्टपोन कर दिया. उनकी पॅंटी को निकाल के अपनी जेब मैं रखा और उनके ऊपेर झुक के उनकी प्यारी चूत को किस किया आहह एक दम से गरम थी उनकी चूत. चूत को थोड़ी देर तक चाटा चूत बोहोत ही गरम थी. मेरे लंड मे से तो प्री कम की धार निकल रही थी. लंड के सूपदे को आंटी की चूत के अंदर रख के ऊपेर नीचे किया चूत मेरे प्री कम से गीली और चिकनी हो गयी थी और इस चिकनाई से मेरे लंड का टोपा उनकी चूत के सुराख मे अटक गया फिर भी आंटी की आँख नही खुली और वो मस्त गहरी गहरी साँसें लेती हुई सो रही थी. अपने लंड को उनकी चूत के सुराख से बाहर निकाला और उनकी टाँगो के बीच मे घुटनो के बल बैठ गया और बैठे ही बैठे अपने लंड का मूठ मारने लगा और सारी मलाई आंटी की चिकनी चूत पे, बूब्स पे और पेट पे गिरा दिया. सोते हुए आंटी बोहोत खूबसूरत लग रही थी और उनको देख के मूठ मारने के बावजूद मेरा लंड आकड़ा हुआ ही था. मैं ने शॅंपेन की बॉटल को बॅग मे डाला और बाहर निकलने से पहले वही से पिंकी को धीमी आवाज़ मे फोन किया और बाहर हॉल मे मिलने को बोला. आंटी के नंगे बदन पे चदडार डाल के उनके बेडरूम का डोर ऐसे ही भेड़ के मैं बाहर निकला और कमरे के बाहर अंधेरे मे खड़ा हो गया. आंटी ने पहले ही हॉल की लाइट्स बंद कर दी थी. 2 मिनिट के अंदर ही पिंकी वाहा आ गयी और मुझ से लिपट गयी और पूछा के क्या हुआ तो मैं ने उसको सारी दास्तान सुना दी और उसका हाथ अपने लंड पे रख के बताया के देखो यह अभी तक कैसे तुम्हारी चूत की आस मे खड़ा है तो तो मुझे किस करने लगी. मैं ने पूछा के लाला सो गया क्या तो उसने गाली दे के बोला के साला कब का सो चुका है भेन्चोद मैं हंस पड़ा और बोला फिकर ना करो मैं हू ना तुम्हारे साथ तुम्हे पूरी तरह से संतुष्ट

करके ही घर जाउन्गा तो उसने किस किया और बोला के तुम तो मेरे प्यारे राजा हो आइ लव यू वेरी मच.

पिंकी भी नाइटी ही पहने हुए थी. मैं ने उसको दीवार से चिपका दिया और उसकी एक टांग उठा के अपने मूसल लंड को उसकी गीली चूत मे एक ही धक्के मे पेल दिया उसने सिसकारी भरी आआआआआहह और लंड उसकी चूत की गहराइयों मे उतर गया और फिर मैने उसकी दूसरी टांग को उठाया तो उसने अपनी दोनो टांगें मेरे बॅक पे लपेट ली और उसको मैं दीवार से चिपकाए धना धन चोदने लगा. यह पहली बार था पिंकी को इस स्टाइल मे चोदने का. ऐसी पोज़िशन मे मेरे लंड का पिस्टन किसी जॅक हॅमर की तरह उसकी चूत को चोद रहा था उसके बूब्स को चूस रहा था उसके हाथ मेरी गर्दन मे लपेटे हुए थे मैं फुल जोश मे चोद रहा था क्यॉंके आंटी की चूत मारने को नही मिली थी और मन आंटी के ख़याल से ही पिंकी की चूत को बहुत ही तेज़ी से चोद रहा था. पिंकी तो शाएद 3 बार झाड़ चुकी थी चूत एक दम से उसके चूत रस्स से गीली हो चुकी थी और फिर मैने भी उसकी चूत के अंदर ही अपनी मलाई का फव्वारा छोड़ दिया. अपने लंड को उसकी नयी नाइटी से पोछा. उसके बाद बोहोत देर तक वो मुझे किस करती रही और मुझ से लिपटी रही और फिर थोड़ी देर के बाद बाहर निकल के अपने घर को वापस आगेया और बिस्तर पे लेट ते ही गहरी नींद सो गया.

टेलिफोन की बेल से मेरी आँख खुली. दूसरी तरफ आंटी थी पूछे हेलो राजा कैसे हो, अभी तक सो रहे हो क्या तो मैं ने बोला के हा आंटी बॅस अभी अभी उठा हू आपकी बेल से तो उन्हो ने कहा के दिन के 11 बज गये और तुम अभी तक सो रहे हो तो मैं ने कहा के हा आंटी रात देर हो गयी थी ना आपके पास से वापस आने तक तो उन्हो ने पूछा के राजा यहा आ जाओ यही नाश्ता कर्लेना तुम से कुछ बात करनी है तो मैं ने बोला के ठीक है आंटी मैं आधे घंटे मे आ जाउन्गा तो उन्हो ने कहा के मैं तुम्हारा वेट कर रही हू और फोन रख दिया.मैं बिस्तर से उठा और ब्रश किया नहा धो कर कपड़े चेंज किया और बाइक उठा के पिंकी के घर की तरफ चल पड़ा.

पिंकी और आंटी टेबल पे बैठे बातें कर रहे थे के मैं वाहा पहुँच गया तो आंटी ने कहा के आजओ राज नाश्ता कर्लो. मैं और आंटी नाश्ता करते रहे पिंकी सुबह ही कर चुकी थी और वो कॉफी पीने लगी. नाश्ते के बाद हम तीनो बातें करने लगे फिर थोड़ी देर के बाद पिंकी बोली के मा मैं लंच की तय्यारी के लिए किचन मे जाती हू तो आंटी ने कहा के ठीक है बेटी तुम देख लो किचन को और हम दोनो को अकेला छोड़ के पिंकी वाहा से चली गई.

मैं और आंटी जब अकेले हो गये तो आंटी ने फिर इधर उधर देखा और धीरे से बोला के थॅंक्स राजा शॅंपेन तो ला-जवाब थी लैकिन क्या हुआ था कल रात मुझे तो कुछ भी याद नही तो मैं ने कहा के आंटी आप एक दम से आउट हो गयी थी और फिर आपने क्या किया मैं क्या बताउ तो उन्हो ने पूछा क्या किया मैं ने बोलो ना राज प्लीज़ तो मैने शर्मा ने की आक्टिंग की और बोला के मुझे शरम आती है आंटी तो उन्हो ने बोला के अरे घबराओ नही बताओ ना क्यों के जब सुबह मैं उठी तो मैं नंगी थी और मेरे बदन पे कुछ भी नही था क्या तुम ने निकाला तो मैं ने बोला के नही आंटी आपने खुद ही और इतना बोल के मैं खामोश हो गया तो आंटी ने पूछा क्या हुआ था बताओ ना राज प्लीज़ तो मैं ने कहा के शरम आती है आंटी मैं क्या बताउ आपको तो फिर उन्हो ने बोला के देखो यह हमारा सीक्रेट रहेगा प्लीज़ बताओ ना तो मैं ने कहा के आंटी जब आप 3 ग्लास पी के फुल आउट हो गयी तो आपने ना आपने ना !!!! और फिर मैं खामोश हो गया तो उन्हो ने पूछा के क्या बोलो ना तो मैं ने कहा के आपने अपने कपड़े निकाल दिए और मेरा वो पकड़ लिया तो उन्हो ने पूछा वो क्या ? तो मैं ने बोला के वो आंटी मेरा और फिर मैं ने अपने हाथ की इशारे से अपने लंड की तरफ बताया तो उनका चेहरा शरम से लाल हो गया फिर पूछा के फिर क्या हुआ तो मैं ने बोला के आपने मेरी ज़िप को खोल दिया और आंटी मुझे शरम आती है तो उन्हो ने कहा के अरे मेरे से खुल के बात करो मैं एक दम से फ्री हू मेरे से शरम मत करो तो मैं ने बोला के आप बुरा तो नही मनोगी तो उन्हो ने कहा के अरे नही तुम से किसी बात का बुरा मानुगी, जो हुआ वो खुल के बताओ तो मैं ने बताया के जब आप फुल आउट हो गयी तो एक दम से फुल मूड मैं आ गयी और आप सोफे से उठ के अपने बिस्तर पे बैठ गयी और आपने अपनी नाइटी खोल दी और बिस्तर पे फेंक दी मुझे अपने करीब बुलाया और अपनी पॅंटी उतार के मेरी जेब मे रख दी और फिर मेरी पॅंट की ज़िप खोल के मेरा बाहर निकाल लिया और मूठ मारने लगी और फिर आप ने उसको मूह मे ले के चूसना शुरू कर दिया. मैं ने देखा तो आंटी का चेहरा टमाटर की तरह से लाल हो गया था. और फिर चूस्ते चूस्ते ही आपने उसको मूह से बाहर निकाला और फिर से मूठ मारने लगी और देखते ही देखते मेरी क्रीम का फव्वारा उड़ उड़ कर आपके बदन पे गिरने लगा और फिर आप बिस्तर मे लेट गई और गहरी नींद सो गयी तो मैं ने आपको चदडार उधाई और शॅंपेन की बॉटल के कही रखने की जगह समझ मे नही आई तो उसको अपने साथ घर ले गया और आपकी पॅंटी को पहेन के सो गया पर आंटी सुबह मैने देखा तो आपकी पॅंटी खराब हो चुकी थी शाएद मेरी क्रीम उस्मै निकल गयी तो उन्हो ने मुस्कुराते हुए कहा “शैतान” फिर बोली के ठीक है तुम ले के आ जाओ मैं उसको धूल वा लूँगी तो मैने ने कहा के आंटी रहने दो ना मेरे पास आपकी निशानी रहेगी तो उन्हो ने पूछा के क्या करोगे तुम अपने पास रख के तो

मैं ने हंसते हुए बोला के कभी कभी रात मे पहेन के आपको याद कर के सो जाउन्गा या कभी कल रात की याद आई तो खुद ही अपना मूठ मारके अपनी मलाई इस्मै निकाल के सो जाउन्गा तो वो भी हस्ने लगी और बोली के बड़े शैतान हो तुम चलो ठीक है रख लो और फिर आँख मार के बोली के जो मर्ज़ी आए करो.

फिर आंटी ने पूछा के अभी बॉटल मे कुछ बाकी है या सारी ख़तम हो गयी तो मैं ने बोला के नही सारी ख़तम नही हुई अभी तकरीबन आधी से कुछ कम बॉटल बाकी है तो उन्हो ने कहा के ठीक है मैं तुमको रात मे फोन करूँगी तो मैं ने कहा ठीक है आंटी मैं आपके फोन का वेट करूँगा और फिर मैं लंच तक रुका रहा और साथ मे भी लंच खाने के बाद मैं अपने घर वापस आ के सो गया.

Sham der gaye Pinky phir se mere pas aa gayee aur as usual aate hi mere se lipat gayee aur deewano ki tarah kiss karne lagi. Ham ne phir chudai ki uske bad Pinky ne bola ke Raja koi raasta nikalo ke mai daily tum se chudwati rahu to mai ne kaha ke tum apni saas ki koi weakness ki talash karo aur mujhe batao aur phir usi weakness ke chalte mai tumhari saas ko chodunga to uska muh khula reh gaya aur usne hairat se poocha kiaaaaaaa ??? Kahin tum pagal to nahi ho gaye “ Saas Ko Chodunga ” to mai ne kaha ke nahi meri jaan tumhari saas abhi jawan hi to hai itni boodhi to nahi hai sure mai unko chod lunga yeh tum mujh par chhor do aur phir jab mai unko 8 ya 10 bar chod chuka honga tab tak tum kuch nahi karna aur uske bad tum hamai chudai karte time pe dekhte hue range hatho pakad lena uske bad tumhari saas tumko kabhi bhi kuch nahi keh sakti aur phir hamari chudai ka raasta saaf ho jayega to Pinky ne mujhe pyar se mara aur muskurate hue boli ke bade shaitan ho tum Raja to mai ne bhi hanste hue kaha ke tumhai tumhari sasural mai chodne ka permanent licence bhi to mil jaega na aur phir hamara plan tayyar ho chuka tha. Pinky wo raat bohot der tak mere sath hi rahi aur ham raat der tak chudai aur mastian karte rahe uske baad wo apne ghar ja ke so gayee aur doosre din wo apni sasural chali gayee. Uske pati ko itna time nahi tha ke wo khud aa ke pinky ko le jaye. Usne driver se car bhej di thi aur pinky chali gayee.

Pinky ko jaldi hi uski saas ki ek to weakness mil gayee. Ek raat jab pinky saas ke liye doodh le ke gayee to dekha ke kamre mai se aaaaaaaahhhhhhhhhhh aur ssssssssssssssssss

eeeeeeeeeeehhhhhhhhhhhhhhhh jaisi awazin aa rahi hai to wo khidki mai se jhankne lagi dekha to uski saas nighty pehne hue thi jo saamne se poori khuli hui thi wo pair phailaye chitt leti thi aur unki noukrani Mohini unke pair daba rahi thi aur pair kia daba rahi thi unki choot mai ungli dal ke ungli se chod rahi thi aur wo masti mai thi aur phir thodi hi der mai wo hhhhhhhaaaaaaa mmmuuunnnniiiiiiiiiiii kehte hue jhadne lagi aur Pinky 2 – 3 minute ka wait karke unke kamre mai aa gayee. Kamre maiaate hi usko uski saas ki choot se nikle hue juice ki sugandh aai aur Pinky dheere se muskura di aur doodh ka glass unki side table pe rakha to uski saas ukhdi ukhdi saanso se boli ke arey bahu tum ne kyon takleef ki kisi nokrani ke hath bhijwa diya hota to mai ne kisi patiwarta bahu ki tarah unke pairo ko chuu lia aur boli ke maaji aapki seva karna to mera kartavya aur mera dharam hai to uski saas usko dua dene lagi aur phir Pinky unke kamre se chali gayee par usko unki ek weakness to mil hi gayee thi jise Pinky ne foran hi mujhe phone karke bata dia aur phir kuch der tak mai aur Pinky phone sex karte rahe mai apne Lund ka muth marta raha aur wo apni choot mai ungli dal ke choot ka massage karti rhi aur phir dono bina chudai ke jhadd gaye.

Mai ne ek detail plan bana lia aur Pinky ko bata dia ke kia karna hai aur kaise karna hai aur apna plan Pinky ko bhi achi tarah se samjha dia tha.

Ab mai kisi na kisi bahane se Pinky ki sasural mai aane jaane laga tha. Sait Champaklal aur Lala to subah akele hi nashta kar ke jaldi hi apni mill ko chale jate. Sunita Devi ko late night sone ki aur subah der se uthne ki aadat thi isi liye wo unlogo ke sath breakfast nahi leti thi akele hi nashta karti thi aur mai aise time pe unke ghar jata jab Sunita Devi uth gayee hoti thi aur almost breakfast ke table pe hoti ya to breakfast le rahi hoti ya chayi pi rahi hoti aur wo bhi mujhe apne sath hi chaye ke liye bitha leti. Pinky bhi hamare sath hi table pe baithi hoti ham idhar udhar ki baatein karte rehte. Sunita Devi ko bhi company mil jati aur wo bhi idhar udhar ki batein karne lag jati to mai jaise unka time pass karne laga tha aur mujhe mehsoos hone laga thake wo mujhe aur meri company ko pasand karne lagi hai. Kisi din agar mai nahi jata to wo Pinky se poochti ke kia bat hai aaj Raj nahi aaya to Pinky bolti ke pata nahi ho sakta hai ke kahi busy hoga aur shaed thodi der mai aa jaye to wo kehti ke theek hai agar wo thodi der mai nahi aya to usko phone karke bolo ke Lunch yahi kare hamare sath to mai Lunch ke liye unke pas chala jata ab wo mujh se achi khaasi ghul mil gayi thi aur

meri kami ko mehsoos bhi karne lagi thi aur ab wo khud hi mere mobile pe phone karke mere se bat bhi karne lagi thi. kabhi agar unko neend nahi aati to wo mujhe late night bhi phone kar leti aur idhar udhar ki batein karti kabhi mere college ki batein, kabhi apni jawani ke college ke kisse sunati kabhi apni ghar ki batein bhi bata deti. Mujh se ek time poocha ke Raj tumhari koi girl friend hai, to mai ne haste hue kaha ke aunty ek nai chaar chaar hai to unho ne pooche ke unke sath romance bhi karte ho ya aise hi dosti hai to mai ne bola ke haa aunty jab bhi chance milta hai kar leta hu to unho ne poocha ke kaise karte ho to mai ne kaha ke kiss kar leta hu aur … aur phir mai uske bad khamosh ho gaya to unho ne poocha ke haa bolo na aur kia ? to mai ne kaha phone par hi sharmaate hue kaha ke wo aunty wo wo aise hi kabhi badan ko idhar udhar daba deta hu to wo hanste hue boli ke bass itna hi karte ho ya kuch aur bhi to mai ne poocha aur kia aunty ? to unho ne kaha ke arey wohi jo ek jawan ladka ladki karte hai to mai ne anjaan bante hue kaha ke kia karte hai aunty jawan ladka ladki to unho ne kaha ke arey wohi – ab unke sharmane ki bari thi boliye na aunty kia karte hai to unho ne kaha ke arey baba wohi jab jawan ladka ladki milte hai to kuch ssss ssssex waghaira bhi to karte hai to mai ne sharmaate hue kaha ke kia aunty aap bhi na !!! bass mai ne apna sentence wahi adhoora hi chhor dia to unho ne khud hi kaha ke tum jaise jawan ko koi ladki aise hi kiss karke to chhor nahi sakti mujhe yakeen hai ke tum uske aage bhi kuch na kuch zaroor karte hoge… waghaira waghair isi tarah se wo ab private batein bhi karne lagi thi. In short wo mere se bohot hi free ho gayee thi.

Ek din jab dining table pe baithi chiye peete peete idhar udhar ki batein kar rahe the to mai ne pinky ko aankh ke ishare se uth jane ko kaha to wo chali gayee ab mai bola ke aunty aap itni cute ho aur mere khayal se shaed thodi si over weight bhi ho to aap thodi bohot exercise kyon nahi karti aur mujhe yakeen hai ke thodi si exercise aur thoda sa body massage se aapka figure kisi noujawan ladki ki tarah fit ho jayega to wo thoda sharma gayee aur boli ke ab mujhe koun jawan kahega to mai ne bola ke ab mai kuch bolunga to aap mazak samjhegi par yeh sach hai aunty ke aap to abhi bhi bohot khubsurat ho aur aapko dekh ke koi nahi keh sakta ke aap ek bête ki maa bhi ho aur yehi samjhega ke aap 25 – 30 saal se ziada ki nahi ho. Dekhna agar aap exercise nahi kar sakti to mere pas ek massage karne ka special oil hai jise thode se Champaigne mai mila ke badan ki malish karne se badan ka extra fat ek dum se nikal jata hai. to unho ne poocha ke sach sirf body massage se hi body weight

kam kia ja sakta hai to mai ne kaha ke haa aunty mere pas jo oil hai wo special oil hai jo body ke fat ko nikal deta hai to unho ne kaha ke acha dekhte hai. Champaign ke nam se mai ne dekha ke unki aankho mai ek chamak aa gayee aur boli ke Champaigne mila ke tel lagana padega par wo mujhe kaha milegi to mai ne kaha ke aunty aap kyon fikar karti ho mai hu na aapko imported la ke dunga aur sath mai hanste hue poocha ke aunty aapne kabhi Champaign taste ki hai to wo thodi der khamosh rahi aur phir meri taraf thoda sa jhuk gayi aur boli ke kisi se bolega to nahi to mai ne kaha ke arey aunty yeh bat sirf mere aur aapke beech hi rahegi aap batao to sahi to unho ne kaha ke haa pii thi laikin usko bohot saal ho gaye hai jab mai jawan thi to mai ne unki baat kaat te hue bole ke aunty aap to abhi bhi jawan ho apne aapko boodha na samjho to wo dheere se muskurate hue baat ko continue karte boli ke ek party mai friends ke sath thodi si pi thi, uska maza lag gaya tha laikin uske bad kabhi moka nahi mila to mai ne bola ke koi bat nahi aunty ab pii lena jab mai aapko champaigne la kae dunga to wo kuch soch mai pad gayee aur boli ke aur agar kisi ko pata chal gaya ke yaha Champaigne hai to ? mai ne bola ke aunty kisi ko bhi pata nahi chalega mai aise la ke dedunga aapko to wo boli ke theek hai par munni ko to pata chal hi jayega ke tel mai sharab milani padti hai to mai hanste hue aur mazak karte hue bola ke aunty agar aap permission do to mai hi kardunga aapki malish to wo serious ho gayee aur kuch soch mai pad gayee aur Phir sochte hue boli ke Pinky ko pata chalega to musibat hi aajayegi to mai ne kaha ke Pinky ki aap bilkul fikar na karo pehle to usko pata hi nahi chalega aur agar chal bhi gaya to bhi kuch nahi hoga kyonke Pinky ek azaad khayal ki ladki hai wo koi mind nahi karegi, ho sakta hai ke wo bhi aapke sath ek aadh peg pii le aur agar phir bhi kuch hua to mai usko sambhal lunga wo mera kaha maan legi aap uski fikar na karo aur waise bhi yeh mera aur aapka aapsi mamla hai iss mai kisi ko kuch bhi pata nahi chalega to Sunita Devi ne kaha sochne do to mai ne kaha koi bat nahi agar aapko Champaign nahi chahiye to bhi koi bat nahi jaane dijiye to unho ne kaha ke nahi aisi bat nahi mai sochti hu ke kaise plan karu phir bataungi tumko to mai ne kaha theek hai aunty aap ke bolne ke bad hi mai kuch intezam karunga. Mujhe yakeen ho gaya ke ab mai Sunita Devi ki maalish kar ke unko chod sakta hu. Mae ne bola ke koi bat nahi aunty aap itmenan se sochiye aur mujhe bataiye uske bad hi mai Champaign ka bandobast karta hu. Mera ek friend hai waha se imported champaign mil jayegi. Aur phir thodi der ke bad mai Sunita Devi ko sochta chhor kar apne ghar

aa gaya aur phone par Pinky ko sari baat bata dia aur next plan ke bare mai bhi bata dia.

Mai isi tarah se unke ghar aata raha jaata raha. Pinky ab khud hi hamai akela chhor ke table se kisi na kisi kaam ka bahaana kar ke uth jati aur phir mai aur Sunita Devi hi table pe baithe idhar udhar ki baatein karte reh jate. Ek din mujhe aisa mehsoos hua ke wo mujh se kuch kehna chahti hai par keh nahi pa rahi hai aur phir jab Pinky uth ke chali gayee to unho ne idhar udhar dekhte hue hich kichate hue kaha ke suno Raj mai ne kuch socha hai to mei ne poocha kia aunty kia socha hai to unho ne bola ke tum late night aa sakte ho kia to mai ne kaha ke mujhe koi problem nahi aunty aap raat 12 baje bolo mai aapki seva mai aa jaunga to wo muskura di aur boli ke tumhai pata hai na ke mujhe sait sahib ke kharrate sone nahi dete isi liye mai bangle ke doosri taraf rehti hu to waha pe ek door baher jane ke liye bhi hai jo bangle ke baher compound mai khulta hai aur phir compound mai bhi ek chota sa door hai jo baher road pe khulta hai jisko hamari noukraniyan kachra waghaira phekne ke liye istemal karti hai to mai wo dono doors khule rakh dungi aur tum peeche se aa sakte ho to kisi ko pata nahi chalega to mai ne kaha ke theek hai aunty mai kal aapko sab arrangement kar ke bataduga to unho ne kaha ke theek hai.

Mei ne apne dost se milkar ek imported champaign ka bandobast kar lia tha aur mai ne Pinky ko uske bare mai bata bhi dia tha. Mai ne aunty ko pehle hi bol dia tha ke aunty mai champaign nahi piunga to unho ne hairat se kaha kyon to mai ne bola ka nahi aunty aapko to pata hai ke mai to cigarette tak nahi peeta aur sharab to na kabhi pehle pia hu aur na kabhi piyonga laikin aapke liye zaroor la kar dunga to unho ne kaha ke theek hai agar tum nahi peena chahte to mai force nahi karugi par tum bhi meri iss bat ko secret hi rakhna hoga to mai ne aunty se kaha ke aunty aap fikar na kare mai hamare beech ki baat kabhi kisi se nahi bataunga aur hamari secret hamesha hamari secret hi rahegi kisi ko bhi pata nahi chalega to unke chehre pe itmenan aa gaya tha.

Usi raat takreeban 11 baje aunty ka phone aaya to mai ne bata dia ke aunty champaign ka bandobast ho gaya hai to unho ne khushi se chehekte hue poocha “SACH” to mai ne kaha haa sach autny bottle mere pas hai bolo to abhi le ke aajau to unho ne bola ke tumhai koi problem to nahi hogi iss time aane mei to mai ne kaha ke arey aunty meri college ke to abhi holidays chal

rahe hai aur mere daddy foreign tour pe hai aur mummy apne maikey gaye hai aur mai akela hu to mujhe kia problem hogi aap jab bolo mai aapki seva mai aa sakta hu to unho ne kaha ke theek hai par ek ghante ke baad aana jab tak sab so jayenge mai door khula rakhungi to mai ne kaha ke theek hai aunty mai aa januga aur mai bathroom mai ghuss gaya aur apne Lund ki jhaton ko shave kar ke Lund ko ek dum se chikna bana dia aur married aunty ki experienced choot ko chodney ke khayal se hi Lund khada ho gaya jise aunty ki choot ke naam pe muth marke shant karna pada. Aaj ke din ka yeh pehla hi muth mara tha aur mujhe yakeen tha ke second time to jaldi jhaduga nahi aur mai aaj ki raat aunty ko chod chod ke un ki choot ko double roti ki tarah moti aur tamatar ki tarah laal kar dunga.

Ek ghante ke bad mai aunty ke bangle ke pichwade mai pohoch gaya aur apni bike doosri taraf stand se laga dia aur compound wall ke chote door ko dhakka dia to wo khul gaya plan ke mutabik wo khula hua hi mila. Ander aane ke bad uss door ko ander se bhed dia ab mai bangle ke door pe aa gaya aur dheere se dhakela to wo bhi khul gaya ander kamre mai takreeban andhera hi tha bass ek bohot hi chote se bulb ka table lamp jal raha tha uska bulb kisi torch ke bulb ki tarah chota tha aur light bhi bohot dheemi thi. Mai kamre ke ander aaya to pehle to kuch der ke liye khada ho gaya kyonke mujhe kuch dikhayee nahi de raha tha itne mai aunty ki awaz ayi door lock kar ke yaha aajao rajj mai yaha hu. Mai door lock kar dia aur palat ke Dekha to aunty doosri taraf sofe pe pair lambe kar ke baithi thi. Ab mujhe thoda thoda dikhayee dene laga tha. Mai aunty ke bedroom mai aaj pehli baar aaya tha. Kamre mai room freshner ki bheeni bheeni khusbu phail rahi thi. Kamra acha khasa bada tha jaha double bed aur ek sofa set bhi rakha hua tha jiske beeceh mai center table bhi thi aur kamre mai ek jumbo size ka fridge bhi tha jismai shaed wo thanda pani ya juice waghaira ke bottle rakhti hongi aur attached bathroom aur kamre ke deewar mai hi inbuilt almariyan bani hui thi aur show pieces ke liye bhi glass ka design kia hua showcase bhi bana hua tha. Bed ki paynti ki taraf deewar mai lakdi ke frame mai ek bohot hi bada Sony ka plasma TV fit tha jiske neeche DVD player aur complete home theatre set rakha hua tha. Kamre ke saare khidkiyan aur door band the aur kamre mai air condition chal raha tha jiski wajah se kahma thanda tha.

Mai aunty ke pas aa gaya aur aunty ne mera hath pakad ke sofe pe apne sath hi bitha lia. Mere hath mei brown colour ka mota

sa shopping bag tha jiske ander thandi champaign ki bottle thi jise mai ne apne ghar ke fridge mai rakha hua tha. Aunty ne nighty pehni hui thi pata nahi kisi light colour ki thi ya white mujhe to itni dheemi roshni mai safed hi dikhayee pad rahi thi. Mai bottle bag se nikal kar table par rakh dia to aunty ne kisi chote bache ki tarah se usko utha lia aur andhere mai hi bottle ko ghoor ke dekhne lagi unki zuban se “WOW” nikla aur boli ke Rajj yeh to sach mai imported hai to mai ne bola ke aunty maine bola tha na ke mere dost ke pas se original mil jayegi to wo muskurane lagi aur celebration ke jaisa bottle ko ooper neeche kar ke hilaya aur bottle ka cork khula to “PLOP” ki awaz aayee aur bottle se champaign jhaag ki shakal mai ooper udne lagi jise aunty kisi chote bache ki tarah se bottle se udte hue champaigne ko dekhne lagi unki aankho mai chamak aa gayee thi. Saamne table pe 2 glass bhi rakhe hue the to aur bhune hue kaaju aur badam ki 2 plates bhi rakhi thi. mai ne bola ke aunty yeh 2 glass kyon ? to unho ne bola ke arey baba yeh tumhare liye hai chaho to champaign pio chaho to pepsi ya seven up pio to mai ne kaha ke theek hai mai bad mai pi lunga ab aap apni pyas bujhao pehle phir mai aapki malish kar dunga to aunty ek glass mai apne liye champaign nikal ke chuski lete hue boli ke wah Rajj you are great aahh kia mast taste hai iska to mai ne kaha ke aunty yeh original hai sirf aapke liye hi hai aur aapko jab bhi chahiye mai aapko la kar dunga to unho ne mere gaal pe ek chota sa kiss kia aur thanks bol ke glass utha ke ek ghoont aur lia. Wo bade maze le le ke pi rahi thi pehla glass to jaldi hi khali ho gaya lagta hai aunty bohot salo se pyasi thi. Ab aunty kaaju aur badam khane lagi aur sath mai ek ek ghoont champaign ka bhi piti rahi. Mere liye fridge se pepsi nikal ke glass mai dala aur meri taraf badha dia to mai ne le lia aur pepsi ka ek ek ghoont pine laga.Thodi hi der mai aunty suroor mai aa gayee aur unko thoda sa nasha chadhne laga to mai ne bola ke aunty ab aap bed pe let jao mai aapki malish kar deta hu nahi to aapko nasha chadh jayega to unho se glass ka last ghoont apne halaq mai undela aur sofe pe se uthne lagi to unke pair lad khada gayee aur iss se pehle ke wo farash pe gir jaati mai apni jagah se tezi se utha aur unko apni baho mai le ke sambhal lia aur moke ka fayda utha te hue unke boobs ke ooper hath rakh dia uff yeh umar mai bhi aunty ke boobs bade hi kadak the. Unke chuchian pakad le aisa lagta tha ke ziada dabaye nahi gaye honge aur unki body ke hisaab se utne ziada bade bhi nahi the bass jaise koi medium size ka mango. Unke kadak boobs mere hath mai complete aa gaye the dono boobs ko dabaya aur masal dia bohot maza aa raha tha aur mera Lund to ek dum se phan phanaane laga tha. Lagta tha ke ab aunty ko

full nasha chhadh gaya hai aur wo poori tarah se out ho chukee thi unki aankhein band ho gayee thi. Mai unko dheere dheere la ke bed pe lita dia. Aunty ki nighty saamne se khul gayee thi aur unki safed silk ki panty saaf nazar aa rahi thi. Unki nighty pe jo button laga hua tha usko bhi khol dia ab poori nighty saamne se khul chuki thi. mai unki tango ke beech baith gaya aur unki panty ko unki gand utha ke nikal lia aaahhh kia mast choot thi mote pankhadion ki bina jhato wali ek dum se chikni choot aur aunty ne brassier to pehni hi nahi thi ooper se bilkul nangi thi. unke nange boobs ko dono hatho se pakad ke dabaya aur choosa. Aunty ke boobs bade mast the ek dum se gore cream colour ke gol gol jin pe angoor jaise pink colour ke nipples jinhei choosne mai bohot maza aa raha tha. Mere Lund ka to bura haal ho gaya tha. Aunty ko chodna chahta tha laikin sote mai nahi mai chahta tha ke aunty ko aise chodun ke wo chudai ka bharpoor maza lein isi liye chodne ka programme postpone kar dia. Unki panty ko nikal ke apni jeb mai rakha aur unke ooper jhuk ke unki pyari choot ko kiss kia aahhh ek dam se garam thi unki choot. Choot ko thodi der tak chaata choot bohot hi garam thi. Mere Lund mai se to pre cum ki dhaar nikal rahi thi. Lund ke supade ko aunty ki choot ke ander rakh ke ooper neeche kia choot mere pre cum se geeli aur chikni ho gayi thi aur iss chiknayi se mere Lund ka topa unki choot ke surakh mai atak gaya phir bhi aunty ki aankh nahi khuli aur wo mast gehri gehri saansein leti hui so rahi thi. Apne lund ko unki choot ke surakh se baher nikala aur unki tango ke beech mai ghutno ke bal baith gaya aur baithe hi baithe apne Lund ka muth marne laga aur sari malai aunty ki chikni choot pe, boobs pe aur pet pe gira dia. Sote hue aunty bohot khubsurat lag rahi thi aur unko dekh ke muth marne ke bawajood mera Lund akda hua hi tha. Mai ne champaign ki bottle ko bag mai dala aur baher nikalne se pehle wahi se Pinky ko dheemi awaz mai phone kia aur baher hall mai milne ko bola. Aunty ke nange badan pe chaddar dal ke unke bedroom ka door aise hi bhed ke mai baher nikla aur kamre ke baher andhere mai khada ho gaya. Aunty ne pehle hi hall ki lights band kar di thi. 2 minute ke ander hi pinky waha aa gayee aur mujh se lipat gayee aur poocha ke kia hua to mai ne usko sari dastaan suna di aur uska hath apne Lund pe rakh ke bataya ke dekho yeh abhi tak kaise tumhari choot ki aas mai khada hai to to mujhe kiss karne lagi. Mai ne poocha ke Lala so gaya kia to usne gali de ke bola ke sala kab ka so chuka hai bhenchod mai hans pada aur bola fikar na karo mai hu na tumhare sath tumhai poori tarah se santusht

karke hi ghar jaunga to usne kiss kia aur bola ke tum to mere pyare Raja ho I love you very much.

Pinky bhi nighty hi pehne hue thi. Mai ne usko deewar se chipka dia aur uski ek tang utha ke apne musal Lund ko uski geeli choot mai ek hi dhakke mai pel dia usne siskari bhari aaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhh aur Lund uski choot ki gehraiyon mai utar gaya aur phir mai uski doosri tang ko uthaya to usne apni dono tangein mere back pe lapet li aur usko mai deewar se chipkaye dhana dhan chodne laga. Yeh pehli bar tha pinky ko iss style mai chodne ka. Aisi position mai mere Lund ka piston kisi jack hammer ki tarah uski choot ko chod raha tha uske boobs ko choos raha tha uske hath meri gardan mai lapete hue the mai full josh mai chod raha tha kyonke aunty ki choot marne ko nahi mili thi aur mai aunty ke khayal se hi pinky ki choot ko both hi tezi se chod raha tha. Pinky to shaed 3 bar jhad chuki thi choot ek dum se uske choot rass se geeli ho chuki thi aur phir mai bhi uski choot ke ander hi apni malayee ka fawwara chhor dia. Apne Lund ko uski nayee nighty se pocha. Uske bad bohot der tak wo mujhe kiss karti rahi aur mujh se lipti rahi aur phir thodi der ke bad baher nikal ke apne ghar ko wapas aagaya aur bistar pe let te hi gehri neend so gaya.

Telephone ki bell se meri aankh khuli. Doosri taraf aunty thi pooche hello Raja kaise ho, abhi tak so rahe ho kia to mai ne bole ke haa aunty bass abhi abhi utha hu aapki bell se to unho ne kaha ke din ke 11 baj gaye aur tum abhi tak so rahe ho to mai ne kaha ke haa aunty raat der ho gayi thi na aapke paas se wapas aane tak to unho ne poocha ke Raja yaha aa jao yahi nashta karlena tum se kuch bat karni hai to mai ne bola ke theek hai aunty mai aadhe ghante mai aa jaunga to unho ne kaha ke mai tumhara wait kar rahi hu aur phone rakh dia.Mai bistar se utha aur brush kia naha dho kar kapde change kia aur bike utha ke Pinky ke ghar ki taraf chal pada.

Pinky aur Aunty table pe baithe baatein kar rahe the ke mai waha pohoch gaya to aunty ne kaha ke aajao Raj nashta karlo. Mai aur aunty nashta karte rahe Pinky subah hi kar chuki thi aur wo coffee peene lagi. Nashte ke bad ham teeno batein karne lage phir thodi der ke bad Pinky boli ke maa mai lunch ki tayyari ke liye kitchen mai jati hu to aunty ne kaha ke theek hai beti tum dekh lo kitchen ko aur ham dono ko akela chhor ke Pinky waha se chali gai.

Mai aur aunty jab akele ho gaye to aunty ne phir idhar udhar dekha aur dheere se bola ke Thanks Raja champaign to la-jawab thi laikin kia hua tha kal rat mujhe to kuch bhi yad nahi to mai ne kaha ke aunty aap ek dum se out ho gayee thi aur phir aapne kia kia mai kia batau to unho ne poocha kia kia mai ne bolo na raj please to mei ne sharma ne ki acting ki aur bola ke mujhe sharam aati hai aunty to unho ne bola ke are ghabrao nahi batao na kyon ke jab subah mai uthi to mai nangi thi aur mere badan pe kuch bhi nahi tha kia tum ne nikala to mei ne bola ke nahi aunty aapne khud hi aur itna bol ke mai khamosh ho gaya to aunty ne poocha kia hua tha batao na raj please to mai ne kaha ke sharam ati hai aunty mai kia batau apko to phir unho ne bola ke dekho yeh hamara secret rahega please batao na to mai ne kaha ke aunty jab aap 3 glass pi ke full out ho gayee to aapne na aapne na !!!! aur phir mai khamosh ho gaya to unho ne poocha ke kia bolo na to mai ne kaha ke aapne apne kapde nikal diye aur mera wo pakad lia to unho ne poocha wo kia ? to mai ne bola ke wo aunty mera aur phir mai ne apne hath ki ishare se apne Lund ki taraf bataya to unka chehra sharam se laal ho gaya phir poocha ke phir kia hua to mai ne bola ke aapne meri zip ko khol dia aur aunty mujhe sharam aati hai to unho ne kaha ke arey mere se khul ke baat karo mai ek dum se free hu mere se sharam mat karo to mai ne bola ke aap bura to nahi manogi to unho ne kaha ke arey nahi tum se kis bat ka bura manugi, jo hua wo khul ke batao to mai ne bataya ke jab aap full out ho gayee to ek dum se full mood mai aa gayee aur aap sofe se uth ke apne bistar pe baith gayee aur aapne apni nighty khol di aur bistar pe phenk di mujhe apne kareeb bulaya aur apni panty utar ke meri jeb mai rakh di aur phir meri pant ki zip khol ke mera baher nikal lia aur muth marne lagi aur phir aap ne usko muh mai le ke choosna shuru kar dia. Mai ne dekha to aunty ka chehra tamatar ki tarah se laaal ho gaya tha. Aur phir chooste chooste hi aapne usko muh se baher nikala aur phir se muth marne lagi aur dekhte hi dekhte meri cream ka fawwara ud ud kar aapke badan pe girne laga aur phir aap bistar mai let gai aur gehri neend so gayi to mai ne aapko chhaddar udhayi aur champaign ki bottle ke kahi rakhne ki jagah samajh mai nahi ayi to usko apne sath ghar le gaya aur apki panty ko pehen ke so gaya par aunty subah mai dekha to aapki panty kharab ho chuki thi shaed meri cream usmai nikal gayee to unho ne muskurate hue kaha “SHAITAN” phir boli ke theek hai tum le ke aa jao mai usko dhul wa lungi to mei ne kaha ke aunty rehne do na mere pas aapki nishani rahegi to unho ne pucha ke kia karoge tum apne pas rakh ke to

mai ne hanste hue bola ke kabhi kabhi raat mai pehen ke aapko yaad kar ke so jauga ya kabhi kal raat ki yaad ayee to khud hi apna muth marke apni malai ismai nikal ke so jauga to wo bhi hasne lagi aur boli ke bade shaitan ho tum chalo theek hai rakh lo aur phir aankh maar ke boli ke jo marzi aye karo.

Phir aunty ne poocha ke abhi bottle mai kuch baki hai ya sari khatam ho gayee to mai ne bola ke nahi sari khatam nahi hui abhi takreeban aadhi se kuch kam bottle baki hai to unho ne kaha ke theek hai mai tumko rat mai phone karungi to mai ne kaha theek hai aunty mai aapke phone ka wait karunga aur phir mai Lunch tak ruka raha aur sath mai bhi Lunch khane ke bad mai apne ghar wapas aa ke so gaya.