माँ बेहाल बेटी छिनाल compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: माँ बेहाल बेटी छिनाल

Unread post by rajaarkey » 15 Dec 2014 05:04

माँ बेहाल बेटी छिनाल --7

गतान्क से आगे……………………….

राज के लंड से हाथ हटाते वो ज़रा गुस्से और दर्द से बोली, "ह उईईइ माआआ आप मुझे गाली क्यो दे रहे हो राज? छोड़ो मुझे और निकल जाओ मेरे घर से. मुझे कुछ नही लेना तेरे से. " राज इस बात पे ज़रा भी ना डरते और उसे फर्म लो टोन मे सीमा के मम्मे वैसे ही मसल्ते बोलता है, "सुन मेरी प्यारी रंडी बहना मुझे ऑर्डर नही देना कभी. मुझे मेरे सामने की नंगी औरत को गुलाम बना के रखना अच्छा लगता है. तूने ज़्यादा नाटक किया तो तुझे तेरे ही घर से नंगी निकाल दूँगा यह याद रख. मेरी रंडी बहना तेरा ये भाई, जिसने तुझे नंगी किया है वो तुझे चोद कर ही तेरे घर से जाएगा यह याद रख. चल मेरा लंड सहलाती रह सीमा जान. " राज की आवाज़ से सीमा डरती है. मम्मे दबाने से दर्द हो रहा है लेकिन मस्ती भी छा रही थी उसपे. राज का गुस्से से भरा चहेरा देख कर वो बोली, "राज सॉरी, मे कभी तुझसे ऐसे बात नही करूँगी पर तू मुझे गालियाँ मत दे. राज तुम तो बोल रहे थे कि सिर्फ़ मुझे नंगी करके, मेरे जिस्म का नाप लेके, मुझे ब्रा पैंटी पहनाके जाओगे. पर अब मुझे नंगी करके तुम मेरे जिस्म से खेल रहे हो और फिर मुझे चोदने की बात भी कर रहे हो, यह सब झूट क्यों बोला तूने? " सीमा के मम्मे चुस्के अब निपल्स से खेलते राज बोला, "हां बोला था मेरी रंडी बहना पर आगर तू खुद तेरे कपड़े उतारती तो, मुझे तुझे नंगी करना पड़ा इसलिए अब तुझे चोद कर ही जाउन्गा. चल नीचे बैठ सीमा रानी और मेरा लॉडा चूस. खोल अपना गर्म मूह और मेरा मोटा लंड ले मूह मे. " सीमा नीचे बैठके राज का लंड सहलाने लगती है. उसे अब राज से डर लगता है कि अब आगर उसने राज की बात नही मानी तो राज कुछ भी कर सकता है. वैसे भी वो तो राज से चुदवाना चाहती थी इसलिए सीमा ने राज की बात मान ली. राज सीमा के बाल पकड़के लंड उसके मूह मे घुसाते उसे लो टोन मे कहता है, "चल मूह खोल रंडी बहना और मेरा लॉडा चूस. साली तेरी जैसी गर्म औरत कितनी जल्दी हाथ आती है? 2 झापड़ क्या मारे लाइन पे आ गई हो. अब ठीक से लंड चूस मेरा नही तो जीना हराम कर दूँगा तेरा सीमा रानी. " सीमा मूह खोलके राज के मोटे लंड को आपने गर्म मूह मे डालते चूसने लगती है. राज की गालियों से उसे बहुत बुरा लगता है पर राज की लगाई आग को मिटाने के लिए वो बेशरम होके उसका लंड चूसने लगती है. सीमा का मूह लंड से हल्के-हल्के चोद्ते राज बोलता है, "आहह अच्छा लग रहा है तेरे मूह मे लंड देना रांड़. अब बोल मेरा लंड चाहिए, चुदेगि मेरे लॉड से या जाउ मे? " राज लंड सीमा के मूह से निकालता है. ऐसा करने से सीमा बेशरम होके राज की नंगी कमर मे हाथ डालके उसका लंड फिर चूसने लगती है. राज के लंड का साइज़ देख कर उसे अब चुद्ने का बहुत मन करता है. अब पूरा लॉडा अच्छे से चूस्ते वो बोली"प्लीज़, राज अब तेरी सीमा बेहन को ऐसे प्यासी छोड़ के मत जाओ. मुझे अब तेरा लंड चूसना है . " राज लंड सीमा के मूह से निकालके टर्न होके बोलता है, "आरे तब तो मुझे जाने को बोल रही थी अब क्यों मेरा लंड खुद पकड़के चूस रही हो मेरी रंडी बहना? चूत गर्म हुई तो राज भाई का लंड चाहिए क्या तुझे? सीमा रानी अब मे गया तो अच्छा ही होगा ना? तू सती सावित्री बनके रहेगी रंडी बेहन. चल अब छोड़ मेरा लंड, मुझे अब तुझे नही चोदना छीनाल बेहन. " सीमा आगे होके फिर से राज का लंड पकड़के चूस्ते बोली, "नही रुक जाओ ना राज, प्लीज़ मेरी प्यास को भी शांत करो जैसे तुमने शन्नो भाभी की शांत की थी. मुझे तेरे लंड की बड़ी ज़रूरत है अभी राजा, मुझे ऐसे बहाल करके बीच मे मत जाओ. " इस बात पे राज सीमा के बाल पकड़के अपना लंड उसके मूह मे घुसा कर कहता है, "बहनचोड़ बहना उसके लिए तेरी शन्नो भाभी मेरी छीनाल बनी, मेरी रखैल है वो. बोल मेरी हरामी सीमा बेहन, क्या तू मेरी रंडी बनेगी? भीक माँग मुझसे रंडी नही तो तुझे नही चोदुन्गा. साली तेरी जैसी गर्म औरत की नस-नस जानता हूँ, बहुत नाटक करती हो तुम रंडिया. " पूरी तरह बेशरम होके अब सीमा बोली, "हां राज, मे कुछ भी करने को तय्यार हूँ. तुम तेरी इस सीमा बेहन को तेरी रंडी या रखैल या छीनाल कुछ भी बना वो उसके लिए तय्यार है. मे तुझे शन्नो भाभी से ज़्यादा मज़ा दूँगी राज भाई, तेरी यह रंडी बहना सब कुछ करेगी तेरे लिए. अब तूने मुझे नंगा देखा, मुझसे आपना लंड भी चुस्वाया, अब मुझे अधूरा मत छोड़, अपने इस तगड़े, सख़्त, मोटे लंड से अपनी चुदासी बेहन की चूत चोदो राज भाई. मुझे इस आग मे जलती छोड़के मत जाओ. " सीमा इतना बोलके फिरसे राज का लंड चूसने लगती है. राज खुश होके सीमा से अपना लंड चुसवाने लगता है. झुकके उसके मम्मो को रगड़ते वो अब सीमा का मूह चोद रहा था. वो प्यासी औरत भी बड़े मस्ती से बेशरम होके राज का लंड चूस रही थी. बेहन बोलके राज ने उसे नंगी करके पूरी तरह अपने हाथ मे लिया था. अपना लंड अपनी उस रंडी मूह बोली बेहन से अच्छे से चुस्वाके उसने अपना लंड निकालके सीमा को बेड पे सुलाते हुए कहा, "सुन मेरी बहना, तू मेरी रंडी बनना चाहती है तो जैसे शन्नो ने मेरी गांद चाती थी वैसे तू भी मेरी गांद चाट, तब मे तुझे मेरी रंडी बेहन मान लूँगा. आगर तूने मेरी गांद चाटने से इनकार किया तो तुझे बिना चोदे यहाँ से चला जवँगी. बोल चातेगी ना मेरी गांद सीमा बहना? " गांद चाटने की बात सुनके सीमा को कैसा तो लगा लेकिन वो इतनी गर्म हुई थी कि वो किसी भी बात के लिए तय्यार थी. बिना कुछ बोले उसने हां मे अपना सिर हिलाया. सीमा की रज़ामंदी देख कर राज खुश होके दोनो हाथो से अपनी गांद फैलाक़े बेड पे सोई सीमा के मूह पे बैठा. एक बार राज की गांद देख कर सीमा ने अपने हाथ उसकी कमर मे डालके, उसकी गांद को पास लाते जीब बाहर निकाली. पहले तो अजीब सा टेस्ट लगने से उसने जीब हटाई लेकिन फिर दिल पे पत्थर रखके जीब गांद पे लगाई. 2-3 बार हल्के से गांद चाट कर उसने फिर पूरी गंद पे जीब फेरनी शुरू की. सीमा को अपनी गांद फैलाक़े चाटने लगने के बाद राज उसके मम्मो से खेलने लगा. सीमा जैसे-जैसे अच्छे और ज़ोर्से गांद पे जीब घुमाने लगी तो राज ने अपना लंड सीमा के हाथ मे देते झुकके उसकी चूत मे उंगली करते कहा, "ह साअलिइीइ क्या मस्त चाट रही है मेरी गांद. और चाट डाल अपनी ज़बान मेरी गांद मे, अपनी ज़बान से मेरी गांद मार सालीइी उूउउफफफफफ्फ़. मेरे लंड को और ज़ोर्से हिला मेरी रंडी बहना. " अपनी गंद सीमा से चत्वाके राज झुका और अपना मूह सीमा की गीली गर्म चुत चाटने लगा उंगली से उसकी गंद रगड़ने लगा. चूत मे राज की जीब और गंद पे उंगली पाके सीमा और सिहर उठी. उसने अपनी कमर उप्पर करते राज के मूह पे अपनी चूत रगड़ते कहा, "अफ फ़िइरररोज़्ज़्ज़्ज़्ज़ और चतत्तत्त मेरी चूत, बहुत दिनो से प्यासी है राजा तेरी सीमा बेहन की चूत, मेरा पति कभी-कभी मेरी चूत चाट लेता है. राज जी भरके चाट मेरी चूत मेरे भाई हाईईईई उूउउइईई माआआआअ. " सीमा की चूत जीब से चोद्ते, उसकी गांद मे उंगली डालते राज बोला, "सीमा यह चूत मेरी रानी की नही मेरी रंडी बेहन की चूत है. मेरी रंडी बेहन का मस्त कमसिन बदन है . मे तेरा भाई और यार हूँ और तू मेरी रखैल बेहन है समझी मेरी कुतिया रानी? " राज की गांद चटके गीली करते सीमा पूरा लुफ्ट उठा रही थी. उसे अब गांद चाटने मे ज़रा भी खराब नही लग रहा था. किसी मर्द से ऐसा मज़ा उसे आज पहली बार मिल रहा था. राज की गांद और गोतिया चाट के, उसके लंड को मसल्ते वो बोली, "हां राज राजा समझी मे लेकिन प्लीज़ अब मुझे चोद डालो मेरे राजा भयया. देख तेरे रंडी बेहन की चूत कैसे तरस गयी है तेरे लंड से चुदवाने को, प्लीज़ राज भाई अब चोद डालो मुझे, अपनी इस छीनाल बेहन को और मत तरसाओ. " सीमा की चूत मे 2 उंगलिया डालके राज बोला, "हां रंडी सीमा आज तुझे जी भरके चोदुन्गा मे. तेरे पति से भी अच्छा चोदुन्गा, जो मस्ती तेरा पति चोद्ते वक़्त तेरे साथ नही करता वो सब मे करते तुझे चोदुन्गा. शन्नो बता रही थी कि तूने बच्चे की प्लॅनिंग की है ना? आज मेरी रंडी बहना को चोद कर तुझे मेरा बच्चा दूँगा सीमा बेहन. बच्चे को नाम तेरा पति देगा लेकिन वो औलाद तेरे इस राज भाई की होगी जान. " सीमा ताव मे आके ज़ोरो से राज के लंड को मूठ मारते बोलती है, "ओह्ह राज राअज़ाआा तुझे जो करना है कर लेकिन मुझे जी भरके चोद राजा. मे ज़रूर तेरे बच्चे की मा बनूँगी, मे पहली औरत रहूंगी जो अपने भाई से चुद्वा कर उसके बच्चा को पैदा करूँगी. आओ राजा अब चोद डालो अपनी सीमा बहना को. " राज उठ के सीमा की टाँगे खोलके उसमे बैठता है. सीमा की चूत फैला कर वो बोलता है, "चल मेरी बहना अब तुझे चोद डालु. मेरे बदन के नीचे तेरा मस्त बदन मेरा लंड तेरी चूत मे डालके और उसको चोद चोद कर तुझे शांत करू. तेरे जैसी मस्त बेहन आज तक मे नही चोद सका पर आज तुझे जी भरके चोदुन्गा. सीमा बेहन चल अपने भाई का लंड पकड़के अपनी चूत पे रख ताकि मे उसको तेरी चूत मे घुसा के तुझे चोद सकु. " राज का एक हाथ अपने मम्मो पे रखते सीमा राज का लंड पकड़के अपनी चूत पे रखते बोली, "यह ले राज, तेरी बेहन ने तेरा लंड अपनी चूत पे रखा है, अब तू लंड घुसा और अपनी इस रंडी बेहन को चोद कर बेहन्चोद बन जा. " राज सीमा की बात सुनके, उसके मम्मे मसल्ते लंड ज़ोर्से चूत मे दबाता है. करीब-करीब आधा लंड चूत मे घुस जाता है. ऐसे मोटे लंड की आदत ना होने से सीमा को हल्का सा दर्द होता है और वो चिल्लाते कहती है, "हाईईईईईईईई राज आरामसे डाल ना मेरी चूत फाड़ डालने का इरादा है क्या तेरा? तूने मेरी चूत फाडी तो मे अपने पति को बता भी नही सकती कि इस चूत को मेरे भाई ने फाडा है. " राज सीमा के मम्मे मसल्ते और 2-3 ज़ोर्के धक्के मारता है. जब उसका पूरा लंड आंदार जाता है तो वो सीमा की कमर पकड़के उसे चोद्ते कहता है, "साली रंडी बहना, यह ले अपनी भाई का लंड. आरे अभी तो चूत फटेगी और बाद मे तेरी गांद भी फाड़ुँगा. तेरा पति कुछ बोले तो तू सीधे मेरे घर आ जाना. मेरे घर मे अपनी रंडी बहना को चोदने के लिए बहुत जगह है. मेने तेरी चूत मे इतने ज़ोर्से लंड इसलिए घुसाया क्योंकि तू इतने सालो के बाद मिली. आज तेरे जिस्म की ऐसे की तैसी कर दूँगा. यह ले रंडी बेहन अपनी बेहन्चोद भाई का लंड. " राज अब ज़ोर्से सीमा को चोद्ते उसके मम्मे बेरहमी से मसल्ने लगता है. सीमा राज को कस्के पकड़ते अपनी चूत नीचे से उठा-उठाके चुद्वाने लगती है. राज का पूरा लंड चूत मे घुसने से उसे बहुत मज़ा आने लगता है. वो राज को पूरा सहयोग देके अपनी चूत चुद्वाते बोलती है, "हाीइ और चोदो राजा, मार मेरी चूत साली बहुत गरम है. काश मे तेरी सग़ी बेहन होती राज, तो अपने भाई से जब चाहती तब चुद्वा सकती थी. राज ऐसा नही कि रवि की चुदाई से मे खुश नही थी लेकिन जिस हिम्मत से तूने मेरी कोई बात सुने बिना मुझे नंगी करके झुकाया उससे मे तुझपे मर गयी. तेरे जैसे मर्द के सामने झुकके उससे चुद्वाने मे अच्छा लगने लगा मुझे. जी भरके चोद भयया मुझे और ले मेरा दूध पी राजा. आज तू मेरा दूध चूस कल तेरा बेटा यही दूध चुसेगा राज भयया. " चुदाई की स्पीड और फास्ट करते, सीमा के दूध अच्छे से चुस्के राज बोला, "सीमा तू मेरी सग़ी बेहन नही हुई तो क्या आज से मेरी मूह बोली रंडी बेहन तो है ना? अब जब चाहू तेरे घर मे भाई बनके रहते हुए तुझे जब चाहू तब चोद सकता हूँ. तेरे पति को भी कुछ शक़ नही होगा. बड़ी गर्मी है ना तेरी चूत मे मेरी छीनाल बहना तो यह ले चुदवाले मेरे लंड से अपनी चूत रंडी साली. पहले कितने नाटक किए तूने, बड़ी सीधी साधी बन रही थी और अब देख उछल-उछल के चुद्वा रही है. तेरी जैसी गर्म औरत का यही नाटक मुझे पसंद है सीमा, उससे तेरेको चोदने मे और मज़ा आता है मुझे. " फिर राज का मूह अपनी निपल पे दबाते बोली, "अफ मेरे राज राजा, आरे शरमाना, नाटक करना यह तो औरत के गहने है. अगर मे सीधे से तेरे हाथ आती तो इतना मज़ा कहाँ मिलता जो अब मिल रहा है. मेने नखरे किए इसलिए तो तू अब मुझे ऐसे चोद रहा है. राज आजसे मे तेरी बहना बेगम हूँ. जब मौका मिलेगा तब मेरे घर आके रुक और मुझे आपने नीचे सुला के चोद राजा. हाीइ राज राजा बड़ा सकुन मिल रहा है तेरी चुदाई से. देख मेरा पूरा जिस्म कैसे तुझसे चुद्वाते वक़्त उछल रहा है. आज कितने दिन के बाद पहली बार मेरी चूत को मेरे भाई का दामदार लंड मिला है राजा. और ज़ोर्से चोद मेरी चूत. राज आज तेरे लंड का पानी मेरी चूत मे डाल ताकि मे तेरे बच्चे को जनम दे सकु, अपने भाई की औलाद पैदा कर सकु. " राज अब और ज़ोर्से बेरहमी से सीमा की चूत चोद्ते मम्मे मसल्ते बोला, "अफ साली पहली बार अपनी बेहन की चूत चोद रहा हूँ. बहुत अच्छा लगा तुझे चोदने मे सीमा, तेरी जैसे बेहन की चूत चोदने को मेरा लंड हमेशा गर्म रहता है रानी. अब मे भी ज़ड़नेवाला हूँ और तेरी इस चूत मे ज़ड़के मेरी औलाद दूँगा बहना. ले रांड़ बेहन साली डालता हूँ तेरी चूत मे मेरे लंड का पानी. तू तो साली एकदम छीनाल है. दिल तो करता है तुझे अब मेरे साथ ही रखू और दिन रात तेरा यह जिस्म ऐसे ही चोद्ता रहू. लीईई मेरााआआअ पाणियीईईईईईई टर्र्र्र्रृिई चहुउऊुउउत्त्तत्त माआआऐययईईईई. " सीमा भी राज को कासके पकड़ते अपनी चूत उसके लंड पे दबाते बोलती है, "हां भैया डालो अपना पानी मेरी चूत मे और मुझे बच्चा देदो. यह तेरी बेहन तेरी रंडी बेहन इस बच्चे को जनम देके तुझे तेरी मेहनत का फल देगी. ऐसे ही चोद्ते रहो मुझे. " दोनो शांत होने के बाद राज उठके उन दोनो के बदन सॉफ करता है. फिर चाइ पीने के बाद जवानी का तूफान फिर शुरू होता है और इस बार राज अपनी मूह बोली बेहन की गांद मारता है. शाम तक सीमा को चोदने के बाद राज उसके घर से निकलते वक़्त अपने साथ लाए सब गारमेंट्स गिफ्ट मे सीमा को देता है.

----------------------दा एंड---------------------------------------------------


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: माँ बेहाल बेटी छिनाल

Unread post by rajaarkey » 15 Dec 2014 05:05

माँ बेहाल बेटी छिनाल --7

गतान्क से आगे……………………….

Raj ke lund se haath hatate wo zara gusse aur dard se boli, "Ahhhh uiiii maaaaaa aap mujhe gali kyo de rahe ho Raj? Chodo mujhe aur nikal jaao mere ghar se. Mujhe kuch nahi lena tere se. " Raj is baat pe zara bhi na darte aur use firm low tone me Seema ke mamme waise hi masalte bolta hai, "Sun meri pyari randi behna mujhe order nahi dena kabhi. Mujhe mere samne ki nangi aurat ko gulam bana ke rakhna achcha lagta hai. Tune jyada natak kiya to tujhe tere hi ghar se nangi nikal dunga yeh yaad rakh. Meri randi behna tera ye bhai, jisne tujhe nangi kiya hai wo tujhe chod kar hi tere ghar se jayega yeh yaad rakh. Chal mera lund sehlati reh Seema jaan. " Raj ki aawaz se Seema darti hai. Mamme dabane se dard ho raha hai lekin masti bhi chaa rahi thi uspe. Raj ka gusse se bhara chehera dekh kar wo boli, "Raj sorry, me kabhi tujhse aise baat nahi karungi par tu mujhe gaaliyaan mat de. Raj tere to bol rahe the ki sirf mujhe nangi karke, mere jism ka naap leke, mujhe bra painty pehnake jaoge. Par ab mujhe nangi karke tere mere jism se khel rahe ho aur phir mujhe chodane ki baat bhi kar rahe ho, yeh sab jhoot kyon bola tune? " Seema ke mamme chuske ab nipples se khelte Raj bola, "Haan bola tha meri randi behna par aagar tu khud tere kapde utarti to, mujhe tujhe nangi karna pada isliye ab tujhe chod kar hi jayunga. Chal niche baith Seema rani aur mera lauda chus. Khol apna garm muh aur mera mota lund le muh me. " Seema niche baithke Raj ka lund sehlane lagti hai. use ab Raj se daar lagta hai ki ab aagar usne Raj ki baat nahi mani to Raj kuch bhi kar sakta hai. Waise bhi wo to Raj se chudawaanaa chahati thi isliye Seema ne Raj ki baat maan li. Raj Seema ke baal pakadke lund uske muh me ghusate usi low tone me kehta hai, "Chal muh khol randi behna aur mera lauda chus. Saali teri jaise garm aurat kitne jaldi haath aati ho? 2 jhapad kya mare line pe aate ho. Ab thik se lund chus mera nahi to jeena haram kar dunga tera Seema rani. " Seema muh kholke Raj ke mote lund ko Aapne garm muh me dalte chusne lagti hai. Raj ki galliyo se use bahut bura lagta hai per Raj ki lagai aag ko mitane ke liye wo besharam hoke uska lund chusne lagti hai. Seema ka muh lund se halke-halke chodte Raj bolta hai, "Aahhhh achcha lag raha hai tere muh me lund dane raand. Ab bol mera lund chahiye, chudegi mere laude se ya jaau me? " Raj lund Seema ke muh se nikalta hai. Aisa karne se Seema besharam hoke Raj ki nangi kamar me haath dalke uska lund phir chusne lagti hai. Raj ke lund ka size dekh kar use ab chudne ka bahut maan karta hai. Ab poora lauda acche se chuste wo boli"Pleej, Raj ab teri Seema behan ko aise pyasi chod ke mat jao. Mujhe ab tera lund chusna hai bahut. " Raj lund Seema ke muh se nikalke turn hoke bolta hai, "Aare tab to mujhe jane bol rahi thi ab kyon mera lund khud pakadke chus rahi ho meri randi behna? Chut garm hui to Rajbhai ka lund chahaye kya tujhe? Seema rani ab me gaya to achcha hi hoga na? Tu sati savitri banke rahegi randi behan. Chal ab chod mera lund, mujhe ab tujhe nahi choda chinal behan. " Seema aage hoke phir se Raj ka lund pakadke chuste boli, "Nahi ruk jao na Raj, pleej meri pyaas ko bhi shant karo jaise terene shanno bhabhi ki thi. Mujhe tere lund ki badi zaroorat hai abhi raja, mujhe aise behaal karke bich me mat jao. " Is baat pe Raj Seema ke baal pakadke apna lund uske muh me gusake kehta hai, "Behanchod behna uske liye teri shanno bhabhi meri chinal bani, meri rakhail hai wo. Bol meri harami Seema behan, kya tu meri randi banegi? Bheek mang mujhse randi nahi to tujhe nahi chodunga. Sali teri jaise garm aurat ki nas-nas janta hoon, bahut natak karti ho tere randiya. " Poori tarah besharam hoke ab Seema boli, "Haan Raj, me kuch bhi karne tayyar hoon. Tu teri is Seema behan ko teri randi ya rakhail ya chinal kuch bhi bana wo uske liye tayyar hai. Me tujhe shanno bhabhi se jyada maja dungi Rajbhai, teri yeh randi behna sab kuch karegi tere liye. Ab terene mujhe nanga dekha, mujhse aapna lund bhi chuswaya, ab mujhe adhura maat chod, apnee is tagde, sakth, mote lund se apni chudasi behan ki chut chodo Rajbhai. Mujhe is aag me jalte chodke mat jao. " Seema itna bolke phirse Raj ka lund chusne lagti hai. Raj khush hoke Seema se apna lund chuswake lane lagta hai. Jhukke uske mammo ko ragadte wo ab Shetal ka muh chod raha tha. Wo pyasi aurat bhi bade masti se besharam hoke Raj ka lund chus rahi thi. Behan bolke Raj ne use nangi karke poori tarah apnee haath me liya tha. Apna lund apni us randi muh boli behan se acche se chuswake lake uske apna lund nikalke Seema ko bed pe sulate kaha, "Sun meri behna, tu meri randi banna chahati hai to jaise shanno ne meri gaand chati thi waise tu bhi meri gaand chat, tab me tujhe meri randi behan maan lunga. Aagar tune meri gaand chatne se inkaar kiya to tujhe bina chode yahan se chala jayunga. Bol chategi na meri gaand Seema behna? " Gaand chatne ki baat sunke Seema ko kaisa to laga lekin wo itni garm hui thi ki wo kisi bhi baat ke liye tayyar thi. Bina kuch bole usne haan me apna sir hilaya. Seema ki razamandi dekh kar Raj khush hoke dono haatho se apni gaand failake bed pe soye Seema ke muh pe baitha. Ek baar Raj ki gaand dekh kar Seema ne apnee haath uski kamar me dalke, uski gaand ko pass late jheeb bahar nikali. Pehle to ajeeb se taste lagne se usne jheeb hatai lekin phir dil pe patthar rakhke jheeb gaand pe lagai. 2-3 baar halke se gaand chatke usne phir poori gand pe jheeb pherne shuru kiya. Seema ko apni gaand failake chatne lagane ke baad Raj uske mammo se khelne laga. Seema jaise-jaise ache aur zorse gaand pe jheeb gHamane lagi to Raj ne apna lund Seema ke haath me date jhukke uski chut me ungli karte kaha, "Ahhhh saaaliiii kya mast chat rahi hai meri gaand. Aur chat daal apni jaban meri gaand me, apni jaban se meri gaand maar saaliii uuuuffffff. Mere lund ko aur zorse hila meri randi behna. " Apni gand Seema se chatwake Raj jhuka aur apna muh Seema ki gilli garm chut chatne lagte ungli se uski gand ragadne laga. Chut me Raj ki jheeb aur gand pe ungli pake Seema aur sihar uthi. usne apni kamr uppar karte Raj ke muh pe apni chut ragadte kaha, "Uff Fiiirrrozzzzz aur chattttt meri chut, bahut dino se pyaasi hai raja teri Seema behan ki chut, mera pati kabhi-kabhi meri chut chat leta hai. Raj jee bharke chat meri chut mere bhai haiiiii uuuuiiiiii maaaaaaaaa. " Seema ki chut jheeb se chodte, uski gaand me ungli dalte Raj bola, "Seema yeh chut meri rani ki nahi meri randi behan ki chut hai. Meri randi behan ka mast kamsin badan hai yeh. Me tera bhai aur yaar hoon aur tu meri rakhail behan hai samjhi meri kuttiya rani? " Raj ki gaand chatke gilli karte Seema poora luft utha rahi thi. use ab gaand chatne me zara bhi kharab nahi lag raha tha. Kisi mard se aisa maja use aaj pehle baar mil raha tha. Raj ki gaand aur gotiya chatke, uske lund ko masalte wo boli, "Haan Raj raja samjhi me lekin pleej ab mujhe chod dalo mere raja bhayya. Dekh tere randi behan ki chut kaise taras gayee hai tere lundse chudawaane, Pleej Raj bhai ab chod dalo mujhe, apn is chinal behan ko aur mat tarsao. " Seema ki chut me 2 ungliya dalke Raj bola, "Haan randi Seema aaj tujhe jee bharke chodunga me. Tere pati se bhi achcha chodunga, jo masti tera pati chodte waqt tere saath nahi karta wo sab me karte tujhe chodunga. shanno bata rahi thi ki terene bacche ki planning ki hai na? Aaj meri randi behna ko chod kar tujhe mera bachcha dunga Seema behan. Bacche ko naam tera pati dega lekin wo aulad tere is Raj bhai ki hogi jaan. " Seema taav me aake zoro se Raj ke lund ko muth marte bolti hai, "Ohh Fiiiirrrozzzzz raaajaaaaaa tujhe jo karna hai kar lekin mujhe jee bharke chod raja. Me zaror tere bacche ki maa banungi, me pehle aurat rahungi jo apnee bhai se chudwake uske bachcha ko paida karungi. Aao raja ab chod dalo apni Seema behna ko. " Raj uthake Seema ki tange kholke usme baithta hai. Seema ki chut failke wo bolta hai, "Chal meri behna ab tujhe chod dalu. Mere badan ke niche tera mast badan sulake mera lund teri chut me dalke aur usko chod chod kar tujhe shant karu. Tere jaise mast behan aaj tak me nahi chod saka par aaj tujhe jee bharke chodunga. Seema behan chal apnee bhai ka lund pakadke apni chut pe rakh taki me usko teri chut me ghusake tujhe chod saku. " Raj ka ek haath apnee mammo pe rakhte Seema Raj ka lund pakadke apnee chut pe rakhte boli, "Yeh le Raj, teri behan ne tera lund uski chut pe rakha hai, ab tu lund ghusa aur apni is randi behan ko chod kar behanchod baan ja. " Raj Seema ki baat sunke, uske mamme masalte lund zorse chut me dabata hai. Karib-karib aadha lund chut me ghus jata hai. Aise mote lund ki aadat na hone se Seema ko halka sa dard hota hai aur wo chillate kehti hai, "Haiiiiiiiii Raj aaramse daal na meri chut phad dalne ka irada hai kya tera? Tune meri chut phadi to me apnee pati ko bata bhi nahi sakti ki is chut ko mere bhai ne phada hai. " Raj Seema ke mamme masalte aur 2-3 zorke dhakke marta hai. Jab uska poora lund aandar jata hai to wo Seema ki kamar pakadke use chodte kehta hai, "Sali randi behna, yeh le apni bhai ka lund. aare abhi to chut phategi aur baad me teri gaand bhi phadunga. Tera pati kuch bole to tu seedhe mere ghar aa. Mere ghar me apni randi behna ko chodane ke liye bahut jagah hai. Mene teri chut me itne zorse lund isliye ghusaya kyonki tu itne saalo ke baad mili. Aaj tere jism ki aise ki taisi kar dunga. Yeh le randi behan apnee behanchod bhai ka lund. " Raj ab zorse Seema ko chodte uske mamme berahmi se masalne lagta hai. Seema Raj ko kaske pakadte apnee chut niche se utha-uthake chudwake lane lagti hai. Raj ka poora lund chut me ghusne se use bahut maza aane lagta hai. Wo Raj ko poora sehyog dake apni chut chudwake late bolti hai, "Haiii aur chodo raja, maar meri chut sali bahut garam hai. Kaash me teri sagi behan hoti Raj, to apnee bhai se jab chahati tab chudwa sakti thi. Raj aisa nahi ki Ravi ki chudai se me khush nahi thi lekin jis himmat aur demand se tune meri koi baat sune bina mujhe nangi karke jhukaya use me tujhpe maar gaye. Tere jaise mard ke samne jhukke use chudwake lane me achcha lagne laga mujhe. Jee bharke chod bhayya mujhe aur le meri doodh pi raja. Aaj tu mera doodh chus kal tera beta yehi dhood chusega Raj bhayya. " Chudai ka speed aur fast karte, Seema ke doodh acche se chuske Raj bola, "Seema tu meri sagi behan nahi hui to kya aaj se meri muh boli randi behan to hai na? Ab jab chahu tere ghar me bhai banke rehte tujhe jab chahu tab chod sakta hoon. Tere pati ko bhi kuch shaq nahi hoga. Badi garmi hai na teri chut me meri chinal behna to yeh le chudwale mere lund se apni chut randi sali. Pehle kitne natak kiye tune, badi sidhi saadi ban rahi thi aur ab dekh uchal-uchal ke chudwake le rahi hai. Teri jaise garm aurat ka yehi natak mujhe pasand hai Seema, use tereko chodane aur maja aata hai mujhe. " Phir Raj ka muh apnee nipple pe dabate boli, "Uff mere Raj raja, aare sharmana, natak karna yeh to aurat ke gehene hai. Agar me seedhe se tere haath aati to itna maja kahan milta jo ab mil raha hai. Mene nakhre kiye isliye to tu ab mujhe aise chod raha hai. Raj aajse me teri behna begam hoon. Jab mauka milega tab mere ghar aake ruk aur mujhe Aapne niche sulake chod raja. Haiii Raj raja bada sakun mil raha hai teri chudai se. Dekh mera poora jism kaise tujhe chudwate waqt uchal raha hai. Aaj kitne din ke baad pehle baar meri chut ko mere bhai ka daamdaar lund mila hai raja. Aur zorse chod meri chut. Raj aaj tere lund ka paani meri chut me daal taki me use tere bacche ko janam de saku, apnee bhai ki aulad paida kar saku. " Raj ab aur zorse berahmi se Seema ki chut chodte mamme masalte bola, "Uff sali pehle baar apni behan ki chut chod raha hoon. Bahut achcha laga tujhe chodane Seema, teri jaise Hindu behan ki chut chodane mera lund hamesha garm rehta hai rani. Ab me bhi zadnewala hoon aur teri is chut me zadke mera aulad dunga behna. Le raand behan saale dalta hoon teri chut me mere lund ka pani. Tu to sali ekdam chinal hai. Dil to karta hai tujhe ab mere saath hi rakhu aur din raat tera yeh jism aise hi chodta rahi. Leeeeeee meraaaaaaaaa paaniiiiiiiiii terrrrrriiiii chhhhuuuuuuttttt maaaaaaaiiiiiii. " Seema bhi Raj ko kaske pakadte apni chut uske lund pe dabate bolti hai, "Haan bhayya dalo apna pani meri chut me aur mujhe bachcha dedo. Yeh teri behan teri randi behan is bacche ko janam deke tujhe teri mehnat ka fal degi. Aise hi chodte raho mujhe. " Dono shant hone ke baad Raj uthke un dono ke badan saaf karta hai. Phir chai pine ke baad jawani ka toofan phir shuru hota hai aur is baar Raj apni muh boli behan ki gaand marta hai. Shyam tak Seema ko chodane ke baad Raj uske ghar se nikalte waqt apnee saath laye sab garments gift me Seema ko deta hai.

----------------------The End---------------------------------------------------