माँ बेहाल बेटी छिनाल compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: माँ बेहाल बेटी छिनाल

Unread post by rajaarkey » 15 Dec 2014 04:58

माँ बेहाल बेटी छिनाल --3

गतान्क से आगे……………………….

राज के मुँह से इतनी गंदी गलियाँ और मार ख़ाके भी उसे शरम नही आती. वो अब इतनी बेताब होती है कि राज के गाल चाट के बोलती है, "अहह कितनी गलियाँ दे रहे हो मुझे राजा. राज राजा यह कहानी ऐसे बीच मे छोड़ कर मत जाओ. प्लीज़ आगे बताओ ना क्या हुआ? क्यों मुझे तडपा रहे हो? ""क्या मतलब है तेरा शन्नो? बहनचोड़ क्या बेटी की बात सुनके तुझे चुदवाने की इच्छा हुई है क्या रांड़? तेरी मा की चूत, सच्ची बोल, तेरा इरादा क्या है? नंगी होके मुझसे चुदवाना या डॉली के साथ क्या हो सकता था वो मुझसे जान लेना शन्नो? मादरचोड़ मेरा लंड क्यो पकड़ा है तूने? तू क्या चाहती है छीनाल? तुझे ऐसा क्यो लगता है कि मेने डॉली को चोदा होगा शन्नो? " राज ज़ोर से हस्ते शन्नो के मम्मे और ज़ोर्से से मसलता है. राज के मूह से मा बेहन की गालियाँ सुनके शन्नो बहुत शरमाती है. ज़िंदगी मे पहली बार एक मर्द उसको रंडी जैसे ट्रीट करते उसका जिस्म मसल रहा था और उसे यह बात अच्छी लग रही थी. राज की इन गालियो से शन्नो सर्माती है, उसे लगता है कि राज उसकी कितनी इन्सल्ट कर रहे है पर चूत चुद्ने के लिए बहुत तड़प रही थी उसे इसलिए शन्नो बेशर्म होके राज की गलियाँ भी सुन लेती है. इसी लिए वो फिर भी दोनो हाथ से राज का लंड मसल्ते बोली, "राज मुझे ऐसा लगता है कि तूने ज़रूर डॉली को चोदा है क्योकि तुमने मुझे इतनी जल्दी इतना गर्म किया है कि मे तुमसे करवाना चाह रही हू एक शादी शुदा होके भी तो मेरी बेटी तो रात भर तेरी गोद मे बैठी थी और तूने बताया कि उसका जिस्म मसला तो मेने सोचा कि जिस्म मसला तो उसे तूने ज़रूर चोदा होगा. सच बताओ राज क्या तूने मेरी बेटी को चोदा? देख राजा, तूने उसे चोदा भी होगा तो भी अब मुझे कोई फरक नही पड़ेगा लेकिन मे सच जानना चाहती हूँ. राज खड़ा होके शन्नो की नाइटी दोनो हाथ से पकड़के फाड़ते उसे पूरी नंगी करता है. फिर वो शन्नो के निपल से खेलते बोलता है, "तेरी मा की चूत तूने सही पहचाना छीनाल, मेने तेरी बेटी को प्लॅटफॉर्म पे भीड़ मे मसलके गर्म किया, अंधेरे मे ले जाके मेरा लंड दिखाके गरम किया और फिर लेट्रीन मे ले जाके नंगी करके खूब चोदा. क्या मस्त टाइट चूत थी डॉली की. बहुत तडपी रोई पर उसकी सील तोड़ ही डाली. बहनचोड़ तेरी बेटी भी तेरे जैसी गरम है, उसने मुझे बोला कि घर आके शन्नो को चोदो, उसने बोला कि तू भी गरम माल है. साली मेरा पंडित खून गर्म किया उसने तो ऐसे थोड़ी जाने दूँगा है ना? तूने भी तो लिया होगा ना कोई लंड अपनी चूत मे कभी ना कभी शन्नो रांड़? उसकी सील तोड़ने के 10000 रूपीए दिए है मेने. मादराचोड़ तो उस बात से और खुश हुई, तू बोल तुझे चोदने के कितने पैसे देने पडंगे? राज की बात सुनके शन्नो को आपनी 19 वी साल मे जो सील टूटा था उसका याद आई. तब शरद ने कितनी बेरहमी से तडपा-तडपा के चोदा था उसे. पर उस चुदाई का दर्द और मज़ा आजतक नही भूली थी शन्नो. शन्नो उस मज़े और दर्द के लिए आज राज से चुद्ना चाह रही थी यह मालूम होके भी कि इस आदमी ने उसकी कमसिन बेटी को चोदा, उसको चुदाई के पैसे दिए और शन्नो को चोदने के पैसे भी देने की बात कर रहा था. इतनी बेशर्मी उसने आज तक नही सही थी लेकिन आज सह रही थी क्योंकि आजसे पहले किसी मर्द ने उसके साथ खेलके उसे लंड के लिए इतना बेबस और लाचार नही बनाया था. राज के हाथो पूरी नंगी होने के बाद अब उसने राज की कमर मे हाथ डालके कहा, "क्या सच मे तुमने उसको अपने इस मोटे लंड से चोदा? तुम कितने निर्दयी हो राज. तुमने इतनी छोटी फूल सी मेरी बच्ची को चोदा? मेरा तो सोचके दिल काप रहा है राज, तुम कैसे ऐसा कर सकते हो? मेरी बेटी तो बहुत रोई होगी ना? तुमने उसे चोदा इसलिए कल वो ठीक से चल नही पा रही थी. मेने पूछा तो बोली पैर मे मोच है. " शन्नो के निपल पिंच करते चूत मे उंगली डालते राज बोलता है, "हां रांड़ इसी लंड से चोदा मेने उसे. तेरी मा की चूत, उसे सिर्फ़ सलवार कमीज़ मे बिना ब्रा के भेजती है तो क्या उसे जाने दू? बहनचोड़ ने भी बहुत साथ दिया, जैसे कहा वैसा किया, लंड तो मस्त चुस्ती है वो. तुझे पता है क्या रांड़ की मेरे जैसे पंडित को तेरी बेटी जैसी चूत पसंद है? तेरी बेटी ऐसा माल दिखती है तो क्या मेरा लॉडा उसे चोदना नही चाहेगा? तेरी बेटी झूठ नही बोलती कि पैर मे मोच आई है तो क्या बताती कि राज चाचा ने उसे चोदा और उसने उसी राज चाचा को को घर बुलाया है तुझे चोदने के लिए रांड़? जब तूने शादी के पहले चुद्वा के सील तुडवाया था तो तूने तेरी मा को सच बोला था क्या मादराचोड़ रंडी? अब यह बोल तू चुदवाना चाहती है मुझसे? कितने पैसे लेगी? कभी तू मुझ से अपनी चूत चुद्वाना चाहती है क्या? " डर से शन्नो सोचती है कि राज को कैसे मालूम है कि उसने शादी के पहले किसीसे चुडवाया था? इसलिए वो ज़रा उँची आवाज़ मे बोलती है, "नही मुझे यकीन नही होता कि उसने यह सब खुद करने दिया होगा तुम्हे, तूने उससे जबर्जस्ति की होगी राज, तुमने मेरी बच्ची के साथ रेप किया होगा. सच बोलो किया है ना मेरी बेटी का बलात्कार तूने? " शन्नो के इस बदले रूप से राज ज़रा हिलता है पर फिर एक हाथ से उसकी गर्दन पकड़के दूसरे हाथ से उसे 3-4 झापड़ मारते बोला, "आरे मादराचोड़, अब साली तेरी बेटी का रेप किया भी तो तू क्या करेगी रांड़? ट्रेन मे चिल्ला रही थी तो बहुत मारके चोदा उसे, बोल क्या करती है? तेरी बेटी मेरे लंड से इतनी खुश है कि वो कभी नही बताएगी कि उसका रेप किया. यह सोच मेरे लंड से खुश होके उसने मुझे उसकी रंडी मा को चोदने बुलाया साली. तेरी मा की चूत रांड़, मुझे धमकी देती है, जा मुझे नही चोदना तुझे मादराचोड़. " शन्नो को एक ज़ोर का धक्का देके गिराते राज चले जाने लगता है. राज के इस रववये से शन्नो अब सब हेकड़ी भूलके जल्दी से नंगी ही राज के पैर पकड़के बोलती है, "राज प्लीज़ ऐसे नाराज़ होके मत जाओ, मे तो बस पूछ रही थी, मेने तुमको कुछ बोला कि क्यों किया उसका रेप? प्लीज़ रूको, मुझे तुमसे बात करनी है, देखो राज मे तुमको चाहने लगी हूँ, आज तक तुम जैसा मर्द मेरी ज़िंदगी मे नही आया, मे तुमको आपना सब कुछ देना चाहती हू मुझे ऐसे प्यासी बिना चोदे मत जाओ राज. तुम मेरी बेटी को और भी चोदो लेकिन अब मुझे ऐसे मत छोड़ कर जाओ मेरे पंडित राजा. " शन्नो की नंगी गांद पे लात मारते झुकके बाल पकड़के उसे खिचते राज 2-3 झापड़ मारते बोलता है, "तेरी मा की चूत शन्नो, साली तू होती कौन है मुझसे सवाल करनेवाली? रंडी औकात मत भूल, तेरी जैसे गर्म औरत का काम है गर्म बेटी पैदा करे जो हम मर्दो का दिल बहलाए और हम उन्हे चोदे समझी? आगे से कुछ पूछा तो तेरी मा को भी चोदुन्गा रांड़. साली तू क्या मुझे सब देगी, जैसे तेरी बेटी को ज़बरदस्ती चोदा था वैसे ही तुझे चोदुन्गा समझी? मादराचोड़ सच बोल रहा हूँ ना मे? " शन्नो राज की लातो की मार और मा की गालियाँ खा रही है पर उसके बाद भी बेशर्मी से बस राज से चुदवाने के बारे मे सोच रही है. इतनी बेइज़्ज़ती होने के बाद भी उसे लग रहा हैकि बस किसी तरह से वो राज से चुद्वा ले और उसके लिए उसे कितनी भी इन्सल्ट सहनी पड़े वो सहे. अपना मूह राज के लंड पे लगाते शन्नो बोली, "ह उईईइ माआ नहिी प्लीज़ मुझे मत मारो राज, मे कुछ नही पूछूंगी तुमसे, मुझे माफ़ कर दो, तू हम मा बेटी के साथ जो करना चाहे कर पर अब मुझसे दूर मत जा. तू सच बोल रहा है राज, मे और मेरी बेटी की औकात तेरे जैसे तगड़े मर्द को रिझाना ही है, हम उसके लिए ही पैदा हुई है. " "अब आई ना लाइन पे. मुझे पता था कि तू समझी तेरी बेटी की झूठी कहानी बता रहा हूँ मे. तुझे गर्म करने का कोई और रास्ता तो नही था मेरे पास तो यह रास्ता अपनाया मेने कहा बोल क्या इरादा है तेरा शन्नो रांड़? बेटी जैसे चुदवाना है या मार ख़ाके चुदवाना है? तेरी मा की चूत आज तुझे इतना मारूँगा, दर्द दूँगा कि तू 3-4 दिन बिस्तर से उठ नही सकेगी समझी? सुन तेरी बेटी को अगले महीने अपने साथ 4 दिनके लिए ले जाउन्गा, मुझे एक कान्फरेन्स के लिए जाना है हयदेराबाद तो उसे साथ ले जाउन्गा समझी मादराचोड़ रंडी शन्नो? " शन्नो फिर राज के लंड पे मूह दबाते बोलती है, "हां राज ले जाना तू डॉली को अपनी साथ 4 दिन पर मुझे मारो मत, मे अच्छे से चुद्ना चाहती हूँ तुमसे. प्लीज़ राज मेरी चूत की प्यास भुजाओ. मुझे मालूम है बस तुम ही बुझा सकते हो मेरी चूत की प्यास, सिर्फ़ तेरे जैसे मस्त लंड मे ही इतना दम होता है जो मेरी जैसी प्यासी चूत की प्यास बुझा सकता है. " शन्नो के बाल खिचते अब राज सोफे पे बैठके, उसे ज़मीन पे सुला के पैरो से उसके मम्मे मसल्ते अपना लंड पॅंट के उप्पर से शन्नो से सहला कर बोलता है, "अच्छा? तेरी मा की चूत तुझे कैसे मालूम कि मेरे जैसा पंडित तेरी जैसी गर्म चूत की प्यास बुझा सकता है? मादराचोड़ कितने पंडित के बिस्तर गर्म किए तूने? साची बता नही तो बहुत मार खाएगी. " राज के इस सवाल से शन्नो घबराती है. वो राज को अपनी कल की ज़िंदगी के बारे मे कुछ नही बताना चाहती है. वो अब शरीफ बनने की कोशिश करती है पर राज सब समझता है. शराफ़त का ढोंग करते शन्नो बोली, "नही मेने बस सुना है कि पंडित मर्द बहुत अच्छी चुदाई करते है राज इसलिए मेने वैसा बोला, और कुछ नही. " शन्नो के इस जवाब पे राज जानवर बनके बेरहमी से शन्नो को मारने लगता है. झुकके उसके मम्मे मसल्ते लातो की बरसात करते, बाल खिचते झापड़ मारते वो पैरो से शन्नो की नंगी चूत रगड़ते कहता है, "अच्छा? मादराचोड़ झूठ बोलती है? साली तू गयी अब, तेरी रंडी मा की चूत साली तुझे इतना मारूँगा ना अब देख. सच्ची बोल कितने शरमाओ का बिस्तर गरम किया है तूने छीनाल? बोल नही तो अब और मार खाएगी हरामी चूत. " राज की इस बेरहम मार से शन्नो रोते-रोते हाथ जोड़ बोलती है, "आ श माआ उही मा नहियीई प्लीज़ माअट मारो, ह माआआअ मररररर गयी. रूको-रूको राज मे बताती हूँ. " राज रुकता है मारने से तो शन्नो रोते बोली, "प्लीज़ राज मुझे माफ़ करो, अब झूठ नही बोलूँगी तुमसे. मेने बस 1 ही से चुदाई करवाई है, उस वक़्त मे बस 19 साल की थी, वो हमारी कॉलोनी मे रहता था, वो 26 साल का था, उसने मुझे आपने प्यार मे फास्के एक बार घर बुलाया और मुझे चोदा. मुझे उसने इतना तडपा-तडपा के चोदा की मे एक हफ्ते तक ठीक से चल नही पे थी**उसके बाद वो मेरी तब तक चुदाई करता रहा जब तक मेरी डॉली के पापा से शादी नही हो गयी. शादी के 3 साल तक वो मुझे चोद्ता रहा जब मे मेके जाती तब. डॉली के जनम के 1 साल बाद तक वो मुझे चोद्ता रहा. उसने मुझे चोदा है कई बार राज, मे सच बोल रही हूँ. अब मुझे मत मारो राज प्लीज़, देखो तूने मेरा बदन काला नीला कर दिया है मार से. " शन्नो और शरद की बात सुनके राज खुश होता है लेकिन शन्नो झूट बोली इस लिए फिर 1-2 झापड़ मारते बोलता है, "अच्छा मतलब तू भी डॉली की उमर मे ही एक से अपनी चूत चुद्वाइ? यह बता शन्नो क्या इसलिए तू बेटी को सिर्फ़ फ्रॉक मे भेजती है ताकि किसी मर्द से वो इस उमर मे चुद सके? उसे भी तू क्या तेरे जैसे रंडी बनाना चाहती है? तेरी मा की चूत तू उस लड़के की रांड़ थी या वो प्यार से चोद्ता था तुझे? सच्ची-सच्ची बता सिर्फ़ उससे ही चुदि या और भी मर्दो से रांड़. " शन्नो अब डर से राज को सब सच बताने लगती है. उसे फिर राज की मार नही खानी थी. राज का पैर अपनी चूत पे दबाते वो बोली, "शरद मुझे रंडी जैसे रखता था, जब चाहे बुला कर चोद्ता था. अब जैसा तुम अभी मेरे साथ कर रहे हो वो भी मुझे मारता था. राज वैसे तो मे डॉली को जानबूझके बिना ब्रा के नही भेजती थी पर जबसे तूने उसे चोदा यह समझी मुझे खुशी हुई कि मेरी बेटी को भी मएरए जैसे शादी के पहले एक से चुदाई का मज़ा मिला. राज तेरी कसम ख़ाके बोलती हूँ मे आजतक एक ही से चुदि हूँ. " राज शन्नो को उठाका पहले मम्मे और फिर होंठ किस करके बोलता है, "यह हुई ना सच्ची रंडी के जैसी बात. रांड़ तुझे अच्छा लगा कि तेरी बेटी की चूत मैने फाडी यह सुनके तेरे सब झूट माफ़ करता हूँ मे. अब तू देखती जा कि सिर्फ़ डॉली ही नही बल्कि तुझे भी बहुत मर्दो से चुद्वाउँगा. मेरे काम करवाने के लिए ऑफिसर्स के पास तुमको रात भर भेजूँगा रांड़ जिससे तुझे नये लंड और पैसे भी मिलन्गे. " राज के किस करने से शन्नो को अब लगता है की मेरे मान की बात पूरी होनेवाले है. राज अब उसकी छूट छोड़ेगा ज़रूर. शन्नो कुश हो जाती है और इतनी पिटाई के बाद भी उसके चेहरे पे खुशी आती है. पर और भी मर्दो से चुदवाने की बात सुनके वो राज से बोलती है, "नही राज, मे बस तुमसे ही चुदवाना चाहती हूँ. मे वैसे बाज़ारु औरत नही हू जैसा तुम सोच रहे हो. " शन्नो के मम्मे मसल्ते राज दूसरे हाथ से पॅंट खोलके लंड निकालके शन्नो के सामने मसल्ने लगता है. उसका वो काला, मोटा लंबा लंड देख कर शन्नो की बोलती ही बंद हो जाती है. इतना बड़ा लंड उसने देखा नही था पहले. यही लंड से डॉली की चूत राज ने फाडी थी यह सोच के एक तरफ शन्नो को खुशी होती है पर डॉली के दर्द का अहसास होते ही वो भी डर जाती है. शन्नो का हाथ अपने लंड पे रखते राज बोला, "आरे तू बाज़ारु औरत नही है तो बना दूँगा तुझे रंडी. बोल तू और तेरी बेटी मेरे इस लौदे के लिए रंडी बनोगी कि नही? जिनसे मे कहु उनसे चुदोगि या नही शन्नो? " जैसे ही शन्नो राज का मोटा और लंबा लंड देखते उसे मसल्ने लगती है, उसे लंड की गर्मी और मजबूती का अहसास उसे होता है. ऐसे गर्म लॉड के लिए वो कुछ भी करने तय्यार थी. भले राज उसको रंडी बनाए उसे कोई परवाह नही थी. पूरे लंड को दोनो हाथ से सहलाते शन्नो बोली, "आह्ह्ह्ह अफ हाां राज, हम मा बेटी दोनो तेरी रंडी बनेगे, तू जो कहेगा वो करंगे राजा. " शन्नो के जवाब से खुश होके उसे खड़ी करके राज भी पूरा नंगा होता है. शन्नो राज के टाइट मसल्स, तगड़े लंड &अंप; मर्दाना जिस्म देख कर बहुत खुश होती है. नंगी शन्नो को बाँहो मे लेके राज बोला, "तो पसंद आया मेरा लंड रांड़? कहा से डालके लेगी मेरा लंड? चुसेगी मेरा लंड या डाइरेक्ट तुझे चोदु? " राज का बदन देख कर शन्नो सोचती है आज यह राज मुझे अच्छे से रगड़ के चोदेगा. इसके चोदने से मेरी चूत की खुजली शांत होगी.

क्रमशः……………………..


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: माँ बेहाल बेटी छिनाल

Unread post by rajaarkey » 15 Dec 2014 04:59

माँ बेहाल बेटी छिनाल --3

गतान्क से आगे……………………….

Raj ke munh se itni gandi galiyaan aur maar khake bhi use sharam nahi aati. Wo ab itni betaab hoti hai ki Raj ke gaal chaat ke bolti hai, "Ahhhhh kitni galiyaan de rahe ho mujhe raja. Raj raja yeh kahani aise bich me chod kar mat jao. Pleej aage bataao na kya hua? Kyon mujhe tadpa rahe ho? ""Kya matlab hai tera Shanno? Behanchod kya beti ki baat sunke tujhe chudawaane ki ichcha hui hai kya raand? Teri maa ki chut, sachchi bol, tera irada kya hai? Nangi hoke mujhse chudawaanaa ya Dolly ke saath kya ho sakta tha wo mujhse jaan lena Shanno? Maadarchod mera lund kyo pakda hai tune? Tu kya chahati hai chinal? Tujhe aisa kyo lagta hai ki mene Dolly ko choda hoga Shanno? " Raj zor se haste Shanno ke mamme aur zorse se masalta hai. Raj ke muh se maa behan ki gaaliyaan sunke Shanno bahut sharmati hai. Zindagi me pehlee baar ek mard usko randi jaise treat karte uska jism masal raha tha aur use yeh baat acchi lag rahi thi. Raj ki in galliyo se Shanno sarmati hai, use lagta hai ki Raj uski kitni insult kar rahe hai per chut chudne ke bahut tadap thi use isliye Shanno besharm hoke Raj ki galiyaan bhi sun leti hai. Issi liye wo phir bhi dono haath se Raj ka lund masalte boli, "Raj mujhe aisa laga ki tune zaroor Dolly ko choda hai kyoki tumne mujhe itni jaldi itna garm kiya hai ki me tumse karwana chaha rahi hu ek shadi sudha hoke bhi to meri beti to raat bhar teri goad me baithi thi aur tune bataya ki uska jism masla to mene socha ki jism masla to use tune zaroor choda hoga. Such bataao Raj kya tune meri beti ko choda? Dekh raja, tune use choda bhi hoga to bhi ab mujhe koi farak nahi padega lekin me such janna chahati hoon. Raj khada hoke Shanno ki nighty dono haath se pakadke phadte use poori nangi karta hai. Phir wo Shanno ke nipple se khelte bolta hai, "Teri maa ki chut tune sahi pechana chinal, mene teri beti ko platform pe bhid me masalke garm kiya, andhere me le jake mera lund dikhaake garam kiya aur phir latrine me le jake nangi karke khub choda. Kya mast tight chut thi Dolly ki. Bahut tadpi royee par uski seal tood hi daali. Behanchod teri beti bhi tare jaise garam hai, usne mujhe bola ki ghar aake Shanno ko chodo, usne bola ki tu bhi garam maal hai. Sali mera Panditi khoon garm kiya usne to aise thodi jane dunga hai na? Tune bhi to liya hoga na koi Sharma lund apni chut me kabhi na kabhi Shanno raand? Uskee seal todne ke 10000 rupiye diye hai mene. Maadarachod to us baat se aur khush hui, tu bol tujhe chodane ke kitne paise dange padange? Raj ki baat sunke Shanno ko aapni 19 we saal me jo seal tuta tha uska yaad aaye. Tab Sharad ne kitni berahami se tadpa-tadpaa ke choda tha use. Per us chudai ka dard aur maza aajtak nahi bhuli thi Shanno. Shanno us maze aur dard ke liye aaj Raj se chudna chah rahi thi yeh malum hoke bhi ki is aadmi ne uski kamsin beti ko choda, usko chudai ke paise diye aur Shanno ko chodane ke paise bhi dane ki baat kar raha tha. Itni besharmi usne aaj tak nahi sahi thi lekin aaj sah rahi thi kyonki aajse pehle kisi mard ne uske saath khelke use lund ke liye itna bebas aur lachar nahi banaya tha. Raj ke haatho pori nangi hone ke baad ab usne Raj ki kamar me haath dalke kaha, "Kya sach me tumne usko apne is mote lund se choda? Tum kitne nirdayee ho Raj. Tumne itni choti phool si meri bachchi ko choda? Mera to sochke dil kaap raha hai Raj, tum kaise aisa kar sakte ho? Meri beti to bahut royee hogi na? Tumne use choda isliye kal wo thik se chal nahi pa rahi thi. Meine poocha to bolo pair me moch hai. " Shanno ke nipple pinch karte chut me ungli daalte Raj bolta hai, "Haan rand issi lund se choda mene use. Teri maa ki chut, use sirf salwar kameez me bina bra ke bhejti hai to kya use jane du? Behanchod ne bhi bahut sath diya, jaise kahan waisa kiya, lund to mast chusti hai wo. Tujhe pata hai kya rand ki mare jaise Pandit ko teri beti jaise chut pasand hai? Teri beti aise maal dikhti hai to kya mera Panditi lauda use chodane nahi chahega? Teri beti jhut nahi bolti ki pair me moch aaye hai to kya batati ki Raj Chacha ne use choda aur usne ussi Raj Chacha ko ko ghar bulaye hai tujhe chodane raand? Jab tune shadi ke pehle chudwake seal tudwaya tha to tune teri maa ko such bola tha kya Maadarachod randi? Ab yeh bol tu chudawaanaa chahati hai mujhse? Kitne paise legi? Kabhi tu Sharma se apni chut chudwai hai kya? " Daar se Shanno sochti hu ki Raj ko kaise malum hai ki usne shadi ke pehale kisise chudwaya tha? Isliye wo zara unchi aawaz me bolti hai, "Nahi mujhe yakin nahi hota ki usne yeh sub khud karne diya hoga tHamhe, tune use jabarjasti ki hogi Raj, tumne meri bacchi ke sath rape kiya hoga. Sach bolo kiya hai na meri beti ka balatkaar tune? " Shanno ke is badle roop se Raj zara hilta hai par phir ek haath se uski gardan pakadke dusre haath se use 3-4 jhapad marte bola, "Aare Maadarachod, ab saali teri beti ka rape kiya bhi to tu kya karegi raand? Train me chilla rahi thi to bahut maarke choda use, bol kya karti hai? Teri beti mare lund se itni khush hai ki wo kabhi nahi batayegi ki uska rape kiya. Yeh soch mare lund se khush hoke usne mujhe uski randi maa ko chodane bulaya saali. Teri ma ki chut raand, mujhe dhamki deti hai, jaa mujhe nahi chodanaa tujhe Maadarachod. " Shanno ko ek zor ka dhakka dake girate Raj chale jane lagta hai. Raj ke is ravvaye se Shanno ab sab hekdi bhoolke jaldi se nangi hi Raj ke pair pakadke bolti hai, "Raj pleej aise naraj hoke maat jao, me to bus puch rahi thi, meine tumko kuch bola ki kyon kiya uska rape? Pleej ruko, mujhe tumse baat karni hai, dekho Raj me tumko chahane lagi hoon, aaj tak tum jaisa mard meri zindagi me nahi aaya, me tumko aapna sub kuch dena chahati hu mujhe aise pyasi bina chode maat jao Raj. Tum meri beti ko aur bhi chodo lekin ab mujhe aise mat chod kar jao mare Pandit raja. " Shanno ki nangi gaand pe laath marte jhukke baal pakadke use khichte Raj 2-3 jhapad marte bolta hai, "Teri maa ki chut Shanno, sali tu hoti kaun hai mujhse sawal karnewali? Randi aukat mat bhul, teri jaise garm aurat ka kaam hai garm beti paida kare jo Ham mardo ka dil behlaye aur Ham unhe chode samjhi? Aage se kuch pucha to teri maa ko bhi chodunga rand. Sali tu kya mujhse sab degi, jaise teri beti ko jabardasti choda tha waise hi tujhe chodunga samjhi? Maadarachod such bol raha hoon na me? " Shanno Raj ki laatho ki maar aur maa ki gaaliyaan khaa rahi hai per uske baad bhi besharmi se bus Raj se chudawaane ke bare me soch rahi hai. Itni beizzati hone ke baad bhi use lag raha hai bus kisi tarah se wo Raj se chudwake le aur uske liye use kitni bhi insult sehni pade wo sahe. Apna muh Raj ke lund pe lagate Shanno boli, "Ahhhh uiiii maaa nahii pleej mujhe maat maro Raj, me kuch nahi puchungi tumse, mujhe maaf kar do, tu Ham maa beti ke saath jo karna chahe kar par ab mujhse door mat ja. Tu such bol raha hai Raj, me aur meri beti ki aukat tare jaise tagde mard ko rijhana hi hai, Ham uske liye hi paida hui hai. " "Ab aaye na line pe. Mujhe pata tha ki tu samjhi teri beti ki jhooti kahani bata raha hoon me. Tujhe garm karne ka koi aur rasta to nahi tha mare pass to yeh rasta apnaya mene kaha bol kya irada hai tera Shanno raand? Beti jaise chudawaanaa hai ya maar khake chudawaanaa hai? Teri maa ki chut aaj tujhe itna marunga, dard dunga ki tu 3-4 din bistar se uth nahi sakegi samjhi? Sun teri beti ko agle mahine mare sath 4 dinke liye le jayunga, mujhe ek conference ke liye jana Hyderabad to use saath le jayunga samjhi Maadarachod randi Shanno? " Shanno phir Raj ke lund pe muh dabate bolti hai, "Haan Raj le jaa tu Dolly ko apnee saath 4 din per mujhe maro maat, me acche se chudna chahati hoon tumse. Pleej Raj meri chut ki pyas bhujo. Mujhe malum hai bus tum hi bujha sakte ho meri chut ki pyas, sirf tare jaise mast Panditi lund me hi itna dum hota hai jo meri jaise pyasi chut ki pyas bujha sakta hai. " Shanno ke baal khichte ab Raj sofe pe baithke, use zameen pe sulake pairo se uske mamme masalte apna lund pant ke uppar se Shanno se sehlake bolta hai, "Achcha? Teri maa ki chut tujhe kaise malum ki mare jaisa Pandit teri jaise garm chut ki pyaas bujha sakta hai? Maadarachod kitne Pandito ke bistar garm kiye tune? Sachi bata nahi to bahut maar khayegi. " Raj ke is sawaal se Shanno ghabrati hai. Wo Raj ko apni kal ke zindagi ke baare me kuch nahi batana chahati hai. Wo ab sharif banne ki koshish karti hai per Raj sab samajhta hai. Sharafat ka dhoong karte Shanno boli, "Nahi meine bus suna hai ki Panditi mard bahut acha chudai karte hai Raj isliye mene waisa bola, aur kuch nahi. " Shanno ke is jawab pe Raj jaanwar banke berahmi se Shanno ko marne lagta hai. Jhukke uske mamme masalte latho ki barsaat karte, baal khichte jhapad marte wo pairo se Shanno ki nangi chut ragadte kehta hai, "Achcha? Maadarachod jhut bolti hai? Sali tu gaye ab, teri randi maa ki chut saali tujhe itna maarunga na ab dekh. Sacchi bol kitne Sharmao ka bistar garam kiya hai tune chinal? Bol nahi to ab aur maar khayegi harami chut. " Raj ke is bereham maar se Shanno rote-rote haath joodke bolti hai, "Ahh ohh maaa uhee maa nahiiiii pleej maaat maro, ahhhh maaaaaaa marrrrr gayee. Ruko-ruko Raj me batati hoon. " Raj rukta hai marne to Shanno rote boli, "Pleej Raj mujhe maaf karo, ab juth nahi bolungi tumse. Mene bus 1 hi Sharma se chudai karwaye hai, us waqt me bus 19 saal ki thi, wo hamari colony me rehta tha, wo 26 saal ka tha, usne mujhe Aapne pyar me phaske ek baar ghar bulaya aur mujhe choda. Mujhe usne itna tadpa-tadpa ke choda ki me ek hafte tak thik se chal nahi paye thi**uske baad wo meri tab tak chudai karta raha jab tak meri Dolly ke papa se shadi nahi ho gaye. Shadi ke 3 saal tak wo mujhe chodta raha jab me meke jati tab. Dolly ke janam ke 1 saal baad tak wo mujhe chodta raha. usne mujhe choda hai kai baar Raj, me sach bol rahi hoon. Ab mujhe maat maro Raj pleej, dekho tune mera badan kaala nila kar diya hai maar se. " Shanno aur Sharad ki baat sunke Raj khush hota hai lekin Shanno jhoot boli is liye phir 1-2 jhapad marte bolta hai, "Achcha matlab tu bhi Dolly ki umar me hi ek Sharma se apni chut chudwai? Yeh bata Shanno kya isliye tu beti ko sirf frock me bhejti hai taki koi mard se wo is umar me chud sake? Use bhi tu kya tare jaise randi banana chahati hai? Teri maa ki chut tu us ladke ki rand thi ya wo pyar se chodta tha tujhe? Sacchi-sacchi bata sirf use hi chudi ya aur bhi mardo se raand. " Shanno ab daar se Raj ko sab such batane lagti hai. use phir Raj ki maar nahi khani thi. Raj ka pair apni chut pe dabate wo boli, "Sharad mujhe randi jaise rakhta tha, jab chahe bulake chodta tha. Ab jaisa tum abhi mere sath kar rahe ho wo bhi mujhe marta tha. Raj waise to me Dolly ko janbujhake bina bra ke nahi bhejti thi par jabse tune use choda yeh samjhi mujhe khushi hui ki meri beti ko bhi mare jaise shadi ke pehle ek Sharma se chudai ka maza mila. Raj teri kasam khake bolti hoon me aajtak ek hi Sharma se chudi hoon. " Raj Shanno ko uthaka pehle mamme aur phir hooth kiss karke bolta hai, "Yeh hui na sacchi randi ke jaise baat. Raand tujhe achcha laga ki teri beti ki chut ek Sharma se phadi yeh sunke tare sab jhoot maaf karta hoon me. Ab tu dekhti ja ki sirf Dolly hi nahi balki tujhe bhi bahut mardo se chudwaunga. Mare kaam karwane ke liye officers ke pass tumko raat bhar bhejunga raand jisse tujhe naye lund aur paise bhi milange. " Raj ke kiss karne se Shanno ko ab lagta hai ki mere maan ki baat puri honewale hai. Raj ab uski chut chodega zaroor. Shanno kush ho jati hai aur itni pitai ke baad bhi uske chehare pe kushi aati hai. Par aur bhi mardo se chudawaane ki baat sunke wo Raj se bolti hai, "Nahi Raj, me bus tumse hi chudawaanaa chahati hoon. Me waise bazaru aurat nahi hu jaisa tum soch rahe ho. " Shanno ke mamme masalte Raj dusre haath se pant kholke lund nikalke Shanno ke saamne masalne lagta hai. uska wo kala, mota lamba lund dekh kar Shanno ki bolti hi band ho jati hai. Itna bada lund usne dekha nahi tha pehle. Yehi lund se Dolly ki chut Raj ne phadi thi yeh soch ke ek taraf Shanno ko khushi hoti hai par Dolly ke dard ka ahsaas hote hi wo bhi daar jati hai. Shanno ka haath pane lund pe rakhte Raj bola, "Aare tu bazaru aurat nahi hai to bana dunga tujhe randi. Bol tu aur teri beti mare is laude ke liye randi banoge ki nahi? Jinse me kahu unse chudogi ya nahi Shanno? " Jaise hi Shanno Raj ka mota aur lamba lund dekhte use masalne lagti hai, use lund ki garmi aur majbuti ka ahsaas use hota hai. Aise garm laude ke liye wo kuch bhi karne tayyar thi. Bhale Raj usko randi banaye use koi parwah nahi thi. Poore lund ko dono haath se sehlate Shanno boli, "Ahhhh uff haaaan Raj, Ham maa beti dono teri randi banege, tu jo kaho wo karange raja. " Shanno ke jawab se khush hoke use khadi karke Raj bhi pura nanga hota hai. Shanno Raj ke tight muscles, tagde lund & mardana jism dekh kar bahut kush hoti hai. Nangi Shanno ko baho me lake Raj bola, "To pasand aaya mera lund raand? Kaha se dalke legi mera lund? Chusegi mera lund ya direct tujhe chodu? " Raj ka badan dekh kar Shanno sochti hai aaj yeh Raj mujhe ache se ragadke chodega. Iske chodane se meri chut ki khujli shant hogi.

Kramashah……………………..


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: माँ बेहाल बेटी छिनाल

Unread post by rajaarkey » 15 Dec 2014 05:00

माँ बेहाल बेटी छिनाल --4

गतान्क से आगे……………………….

शन्नो राज का लंड बड़े प्यार से उपेर नीचे करते उससे चिपकते बोलती है, "राज मुझे और मेरी डॉली को हमेशा चोदते रहो. तुम हम दोनो से कभी भी दूर ना जाना, हम तुम्हारी रंडी बनके रहेंगे. राजा पहले मे तेरा लंड चुसुन्गि और बाद मे तू जहाँ चाहे अपना लंड डालके मुझे चोदना. " . शन्नो को नीचे बिठाते राज लंड उसके मूह पे घुमा कर होंठो पे रगड़ते बोलता है, "वाह शन्नो रांड़, तू सच्ची मे रंडी मा है जो खुद को मुझसे से चुदवाने के लिए अपनी कमसिन बेटी को भी मेरी रंडी बनाने को तय्यार है. मुझे तेरी और डॉली जैसी रंडिया बहुत अच्छी लगती है. मे तुम मा बेटी को 50000 रुपये हर महीने दूँगा मेरी रंडिया बनने के बदले समझी? मादराचोड परसो तेरी बेटी ने मेरा लॉडा खड़ा किया और अब तूने, इससे आराम कौन देगा छीनाल. " शन्नो राज का लंड सहलाके उसको पकड़ के मूह मे डालके चूसने लगी. अच्छे से 2-3 बार लंड चुस्के वो बोली, "मुझे मंज़ूर है राज. मे और मेरी बेटी आजसे तुम्हारी रंडी है और यह लंड आजसे मेरे और मेरी बेटी के लिए है. तुम जब बोलॉगे मे और डॉली इसको चूसेंगे और इससे चुद्वा लेंगे. तुम कहोगे उस मर्द के नीचे सोने को भी हम तय्यार है. " लंड से शन्नो का मूह चोद्ते राज आँखे बंद करता है. इन मा बेटी का मूह बड़ा गर्म है यह वो समझता है. लंड से शन्नो का मूह चोद्ते वो बोला, "आ साली अब समझा तेरी बेटी इतना गर्म कैसे और लंड चूसना कहाँ से सीखी. बेहन्चोद क्या मस्त लंड चूसा डॉली ने मेरा. बहुत गर्म माल है तेरी बेटी, बहुत मज़ा आएगा तुम मा बेटी को चोदने मे शन्नो. " शन्नो अब राज का लंड पकड़के बड़ी मस्ती मे उसे मूठ मारते चूस रही है. लंड पूरा गीला करके उसे चुस्के, बाहर निकालके उसको पूरा चाट के फिर मूह मे डालके ज़ोर्से चूस्ते अपनी मम्मे खुद मसल रही थी. अच्छे से राज का लंड चुस्के शन्नो अब राज की जाँघ पे बैठके अपने मम्मे उसके मूह मे डाल के कहती है, "ओह्ह्ह राज, मज़ा आया तेरा लंड चूसने मे . तूने मेरी कमसिन बेटी को चोदा यह जानके पहले तो मुझे बुरा लगा लेकिन तेरा लंड देख कर जहाँ मे एक शादी शुदा औरत पिघल सकती है वहाँ मेरी कमसिन बेटी की क्या बात है. राजा तेरे ऐसे लॉड के लिए मुझे कुछ भी मंज़ूर है. ओह राज राजा अब सहा नही जाता, आओ और इस शन्नो को चोद डालो. " अच्छे से शन्नो के मम्मे चुस्के राज उसे बेड पे उल्टा सुलाते उसकी गांद मसल्ते बोलता है, "मेरी शन्नो रानी, इस लंड को तेरी बेटी की गांद पे मसल्ते ही मेने उसे इतना गरम किया कि वो पूरी रात मेरे साथ बिताने तय्यार हुई. बड़ी मस्त है तेरी बेटी शन्नो. अब जो लंड तूने चुस्के गरम किया उस से तेरी यह मस्त गांद मारूँगा. तेरी जैसी शादी शुदा औरत की चूत तो पति मारता होगा लेकिन गांद कोई नही मारता. आज मे तेरी गांद मारूँगा क्योकि तेरी गोल टाइट गांद पे मेरा दिल आया है. " गांद मारने की बात सुनके शन्नो झट से टर्न होके अपने मम्मो पे राज के हाथ लाती है. राज अब बेरहमी से मम्मे मसलता है. दर्द और वासना से आहे भरती शन्नो उसे बोलती है, "राज दबा मेरे माम्मे, तेरे जैसे मर्द से मम्मे मसल वाने मे बड़ा अच्छा लगता है राजा. उउउम्म्म्ममम हाँहांआआअ और दबा राजा लेकिन प्लीज़ मेरी गांद मत मार. तेरा यह तगड़ा लॉडा मेरी गांद फाड़ देगा. देख तू भले मेरा मूह चोद या चूत लेकिन गांद नही. इतना तगड़ा लंड तो मेने चूत मे नही लिया और तू मेरी गांद मारने की बात करता है इससे तो डर लगता है. " राज अब बेरहमी से शन्नो के निपल खिचने लगता है. इस बेहद दर्द से शन्नो की आँखो मे आसू आते है लेकिन राज को कोई फ़र्क नही पड़ता. शन्नो के निपल्स और खिचते वो शन्नो का मूह चाट के बोला, "आरे हट साली बेहन्चोद, तेरी गंद किसी ने नही मारी इसका मतलब मे भी नही मारूँगा यह मत सोच. आज मेरे इस काले मोटे लॉड को तेरी गांद ही चाहिए. तेरी गांद मार कर ही मेरे लंड को शांति मिलेगी शन्नो. चल चुपचाप कुतिया बन जा मेरे सामने छीनाल. " दर्द से बहाल होके शन्नो की आँखो से आसू निकलने लगते है. राज के निपल खिचते हाथ अपने मम्मो पे ही दबाते वो रोती आवाज़ मे कहती है, "नही राज, प्लीज़ तू चाहे तो मेरी चूत चोद, मेरा मूह चोद, चाहे उतना बाकी दर्द दे लेकिन गांद नही मारना, इतना तो रहम खाओ मुझपे राजा. " शन्नो के बाल पकड़के राज उसे एक झापड़ मारते बोलता है, "समझ मे नही आता क्या तुझे बहेन की लौरी? मुझे सिर्फ़ तेरी यह गांद मारनी है साली बेटी चोद. शन्नो देख आरामसे मारूँगा तेरी गांद, चल अब जल्दी से कुतिया बनके मेरे सामने झुक. " शन्नो की आँखे दर्द और बेइज़्ज़ती से आसुओ से भर जाती है. वो समझती है कि राज उसकी गांद मारे बिना नही रहेगा अपने पति कोउसने गांद नही मारने दी और गांद मारते हुए राज उसे दर्द भी देगा और गांद भी मारेगा. इसलिए आँखो मे आसू के साथ शन्नो चुपचाप कुत्तिया बनते अपनी गांद पीछे करके बोलती है, "ले राज, मार मेरी गांद लेकिन प्लीज़ आरामसे मारो, मुझे दर्द मत देना राजा. आज तक इतना बड़ा लंड मेने नही लिया था गांद मे. शरद मारता था मेरी गांद लेकिन उसका लंड इतना नही था. ना जाने तुम को गंद मारने मे क्या मज़ा आता है औरत की? " शन्नो की गंद फैला कर राज पहले उसपे थूकता है वो थूक फैलाता है. 2-3 बार ऐसे थूक कर शन्नो की गांद मे उंगली करके उसकी गंद गीली करता है. फिर अपना लंड गांद पे रखके दबाता है. जैसे लंड गंद खोलते जाता है शन्नो दर्द से तड़पनी लगती है. शन्नो की गांद पे थप्पड़ मारते, अपना लंड गांद मे दबाते अब राज बोलता है, "तेरी मा की चूत साली, बड़ी टाइट गांद है तेरी, साली लंड घुसने मे भी दर्द हो रहा है मुझे. साली शन्नो, हम को घोड़सवारी करने की आदत होती है, अब यहाँ तो घोड़े नही हाँ तेरी जैसे मस्त औरत को घोड़ी बनाके हम चढ़ते है इसलिए हमे औरत की गांद मारने मे मज़ा आता है समझी? यह ले मेरी छीनाल जान. " शन्नो दर्द से बहाल होती है. इतना दर्द तो चूत फटने पे भी नही हुआ था उसे. अपने होंठ दातो के नीचे दबाते वो ज़ोर्से चिल्लाते बोली, "उुआाऐययईई माआआआ नहियीईईई माआआआआआ फ़िइइर्र्र्र्रूऊज़्ज़्ज़्ज़्ज़ ज़्ज़्ज़, निकाल तेरा लंड मेरी गांद से. उफफफफफफ्फ़ बहुत दर्द हो रहा है, प्लीज़ राज रहम खाओ मुझपे, इतना दर्द मत दे राजा. " लंड आगे पीछे करके ज़रा-ज़रा सा गांद मे घुसते राज बोलता है, "शन्नो साली शरद से इतनी चुदि यह गांद तब भी बड़ी गरम और टाइट है एम्म आ म्‍म्म्मम अहह उउउफफफफफफफफ्फ़ बहेनचोद्द्द्द्द्दद्ड कुतिया बेहेन्चोद बहेन की लौदिई, ऐसी टाइट गांद नही मिली कभी. आज तो फाड़ के रखूँगा तेरी गंद मादराचोड़. " राज शन्नो को कस्के पकड़ते धक्के मारते- मारते पूरा लंड उसकी गंद मे घुसाता है. पूरे लंड के घुसने के अहसास से शन्नो बोलती है, "राज, उस वक़्त शरद ने तो मेरी गांद मारी थी पर आज तूने मेरी गांद फाड़ दी. तू अपनी डॉली जान की मा को इतना दर्द क्यों दे रहा है राजा? " पूरा लंड घुसाने के बाद राज अब धक्का मारना बंद करके गंद के मसल्स लंड को अपने आप अड्जस्ट करने देते हैं फिर आहिस्ता से गांद को लंड से ड्रिल करते मम्मे दबाते शन्नो की गीली चूत मे उंगली करते कहता है, "उम्म्म्मम उूव क्या टाइट मस्त गांद है तेरी शन्नो. बहनचोड़ तू मेरी रंडी है इसलिए तुझे दर्द दे रहा हूँ मेरी रानी. अब तू देखती जा कि कैसे तेरी गांद का भोसड़ा बनाके रखता हूँ. " मम्मो से खेलते और चूत मे उंगली करके राज शन्नो की गंद का दर्द काम कर रहा था. 5-10 मिनिट ऐसा करने के बाद जब दर्द कम होने लगा तो शन्नो कमर पीछे करके राज के लंड से अपनी गंद भिड़ाते कहती है, "राज मेरे राजा अब मारो इस शन्नो की गांद, चोद चोद कर इसका भोसड़ा बनाओ. तेरे लॉड ने मेरी गांद फाड़ दी लेकिन मुझे मज़ा भी दे रहा है तेरा लंड. अब इतमीनान से मारो मेरी गांद राज. " राज शन्नो की कमर पकड़के उसकी गांद ज़ोर ज़ोर्से चोद्ते बोलता है, "शन्नो साली तेरी गांद मे तो मेरा लंड ऐसा घुसा हुआ है जैसे बिल मे साँप. साली कितना नाटक किया लेकिन अब कैसे गांद पीछे करके मरवा के मज़े ले रही है हरामी. यह ले और ले और ले. " शन्नो अब मस्ती मे थी. उसका दर्द ख़तम होने से और इतने सालो के बाद एक मस्त मर्द के तगड़े लंड से चुड़वाके वो मदहोश थी. अपनी जाँघो के बीच से हाथ डालते गांद मे अंदर भर हो रहा राज का लंड सहलाते बोलती है, "राज कैसे लगी मेरी गांद और मेरा बदन तुझे? मज़ा आ रहा है ना तुझे मुझे ऐसे चोदने मे? " शन्नो की गंद ज़ोर्से मारते राज मम्मे भी मसल रहा है. एक घोड़े जैसे वो शन्नो पे चढ़ उसकी गांद मार रहा था. चूत मे 2 उंगली डालते वो बोला, "म्‍म्म्ममम ह इनूउफफफफफफ्फ़ बहुत मज़ा आ रहा है तुझे चोदने मे शन्नो. मेने जैसा सोचा था उससे भी ज़्यादा मज़ा आ रहा है तुझे चोदने मे . तेरी कमसिन बेटी को भी चोद कर इतना अच्छा नही लगा जितना तुझे चोद कर लग रहा है. " शन्नो मम्मे ज़ोर ज़ोर्से हिलते है जिससे राज बड़ी बेरहमी से और दबा के गांद मार रहा है. 10-15 ऐसे ही शन्नो की गांद मारते, गालियाँ देते, मम्मे नोचते चूत मे उंगली करने के बाद राज को अब अहसास होता है कि वो अब झड़ने वाला है. इस चुदाई मे शन्नो 1 बार राज की उंगलियो पे झाड़ गयी थी. राज का पूरा हाथ शन्नो की चूत के पानी से गीला था. जब राज के लंड का बाँध टूटने लगा तो उसने शन्नो को कस्के दबोचते लंड पूरा गांद मे घुसाते कहा, "म्‍म्म्मम उउफफफ्फ़ बेहेन्चोद्द्द्द्द्द्द रांद्द्द्द्ददडिईईईईईई बेहेन्चोद्द गांद मार लेंगे बहेन की लाद्रिी, यह लीई साालल्ल्ल्ल्ल्ल्लीइीईई ई चहिन्न्न्नााआल . बहनचोड पूरा पानी निचोड़ रही है तेरी गांद मेरे लंड का हरमिीईईईई. " लंड का जोश निकलने के बाद राज वैसे ही शन्नो के बदन पे ढल गया. पूरा पसीना पसीना हो गया था उनका बदन. दोनो मे अब जोश ही नही था उठने का लेकिन राज ने अपना लंड शन्नो की गंद से निकाला और वो नंगी शन्नो को गोद मे लेके वैसे ही लेट गया. उनको वक़्त का ख़याल ही नही रहा और वो वैसे ही जिस्म पे जिस्म लगाके लेट गये. ना जाने वो कितना वक़्त ऐसे ही पड़े रहे. उन दोनो को होश तब आया जब उन्होने डॉली की तल्लियो के साथ उसकी आवाज़ सुनी. बेडरूम के दरवाज़े पे खड़ी डॉली तालिया बजाते बोली, "वाह राज चाचा आपने तो कमाल कर दिया. एक ही मीटिंग मे पूरा मामला सेट कर दिया मा के साथ? आप बड़े पहुचे खिलाड़ी है चाचा. " अपनी बेटी के सामने नंगी रहने मे शन्नो को शरम आई और उसने अपने आप को राज की बाँहो से छुड़ाते उठके वो फटी नाइटी से अपना जिस्म ढक लिया. यह देख कर राज बेशर्मी से नंगे ही उसके पास जाके वो नाइटी खिचके फेटके, शन्नो की नंगी कमर मे हाथ डालते डॉली के पास ले गया. दूसरा हाथ डॉली की कमर मे डालके वो उन मा बेटी को हॉल मे ले आया. डॉली को अपनी गोद और शन्नो को साइड मे बिठाते उसने कहा, "आरे शन्नो अब क्यों शर्मा रही हो? तुझे अब पता चला है कि मेने डॉली को चोदा, उसकी मदद से आज तुझे चोदा, डॉली ने हम दोनो को नंगा देखा तो अब यह शरम किस काम की रानी? " डॉली उसकी मा का हाथ पकड़ते बोली, "मा अगर मेने कुछ ग़लत किया होगा तो मुझे माफ़ करो पर इस चाचा ने मुझे इतना मज़ा दिया ट्रेन मे कि जब तेरी बात निकली तो मे ही बोली कि मे उनको आपके साथ 2-3 घंटे बिताने का मौका दूँगी. राज चाचा ने मुझसे वादा लिया कि मे तुझे उनके साथ चान्स लाने का मौका दूँगी. मेने वादा किया, पापा तो वैसे भी 4 दिन के बाद आनेवाले थे तो आज ही मेने उनको बुलाया और मे चली गयी. मा मुझसे कोई ग़लती हुई हो तो माफ़ करो मुझे. " तब अपनी बेटी को राज की गोद से उठाके अपनी गोद मे बिठाते शन्नो बोली, "सच बोलू तो मुझे खराब सिर्फ़ तब लगा जब मे समझी कि तू राज से चुद्वाइ है. लेकिन जब मेने राज का लंड देखा तो मे समझी कि तू क्यों तय्यार हुई होगी इससे चुदवाने को. बेटी एक हिसाब से यह बात ग़लत है कि मे तेरे पापा को छोड़ किसी और के साथ सोऊ लेकिन उसमे मेरी मजबूरी थी. तेरे पापा ज़्यादातर टूर पे रहते है और मुझे प्यासी ही सोना पड़ता है. लेकिन बेटी यह तो बता कि तू कब आई घर मे और मुझे कैसे नही पता चला. " राज शन्नो की बात सुनके खुश होते दोनो के मम्मे मसालने लगा. वो मा बेटी ज़रा शरमाई लेकिन फिर डॉली बोली, "मा जब राज चाचा तुझे नीचे बिठाके तेरे मूह पे लंड रगड़ रहे थे तब मे आई. मे घर आई और बेडरूम का दरवाज़ा ज़रा बंद देखा तो मे समझी कि राज चाचा ने तुझे पटाया है. तब से मे उस दरवाज़े से तुम्हारा खेल देख रही थी. तू राज चाचा के लंड और फिर बातो मे इतनी उल्ज़ी थी कि तुझे पता कैसे चलता कि मे आई हूँ? " इस बात पे शन्नो ने डॉली को बाहों मे लेके एक बार उसका गाल चूमा. उन मा बेटी को अपनी बाँहो मे लेके राज अब उनको बारी-बारी से चूमने लगा. उस रात को राज वही रुका और उन मा बेटियो के साथ पूरी रात गुज़ारी. उसके बाद पूरे दो दिन तक राज उस घर मे रहा. वो मन मे अपने बॉस को धन्यवाद दे रहा था जिसने उसे एमर्जेन्सी काम पे भेजा जिस वजह से उसे यह 2 गरम चूत मिली थी. इन मा बेटी को चोद कर अब 2-3 महीने गुजर गये. राज वापस मुंबई आया लेकिन उन दोनो से फोन पे बात बारबार चल रही थी उसकी. इस बीच उसे शन्नो ने बताया कि डॉली से एक लड़के ने चक्केर चलाया था. राज समझा कि चूत चुद्ने से अब डॉली लंड की भूकि थी इसलिए उस लड़के के हाथ आसानी से आई होगी. शन्नो और डॉली एकदम फ्री हुई थी एक दूसरी से इसलिए डॉली ने ही खुद अपनी मा को अपने अफेर के बारे मे बताया था. बेटी का तो ठीक था लेकिन राज से चुदवाने के बाद भी शन्नो ने किसी और मर्द को लिफ्ट नही दी थी. उसने फ़ैसला किया था कि वो अगर किसी गैर मर्द से चुदेगि तो वो राज ही होगा क्योंकि उसे अपनी असलियत सबसे छुपानी थी. भले वो लंड की प्यासी थी लेकिन उसे यह बात अपन पति और बाकी दुनिया से छुपाके रखनी थी. राज ने 1-2 बार उन मा बेटी के लिए अपनी फॅक्टरी के नये डिज़ाइन के अंडरगार्मेंट्स भेजे थे. उसने जान बूझके उन मा बेटी को बहुत ही रेवेलिंग गारमेंट्स भेजे थे. उन दोनो ने फोन पे बताया कि उनको राज की गिफ्ट अच्छी लगी और वो पहनती भी थी. फोन पे उन दोनो मे बहुत फ्री बात होती थी. राज को गंदी गलियों के साथ शन्नो से बात करता था. उसकी गालियाँ सुनके और उसके कहने पे शन्नो भी नंगी होके चूत मे उंगली करती. जब तक राज वहाँ नही आता शन्नो को ऐसे नकली चुदाई से ही खुश रहना पड़ता था. कई बार राज शन्नो को तंग करने के लिए उसे अपनी कोई सहेली या रिश्तेदार से मिलाने की बात करता था जिससे शन्नो गुस्सा होती थी. एक बार ऐसे ही बाते करते राज बोला, "शन्नो अब तो तुम दोनो को चोद चुका हूँ मे पर अब कोई नयी चूत दिलवा दे. " यह सुनते शन्नो ज़रा नाराज़ी से बोली, "क्यों राज? क्या हम मा बेटी से दिल भर गया तेरा? " राज बोला, "आरे नही मेरी जान, तू हमेशा मेरी ही रहेगी. तेरी बेटी तो नये लंड के साथ चुद्वा रही होगी पर मुझे यकीन है तू मेरे लिए ही तड़प रही होगी. शन्नो रानी तू यह मत सोच कि नयी चूत मिलने से मे तुझे भूल जायूंगा. भले तेरी बेटी को तुझसे पहले चोदा लेकिन मेरी रानी तू ही है. यह तो बस नयी चूत को चोदने के चक्केर मे रहता हूँ इसलिए तुझे बोल रहा हूँ कि तू कोई लड़की दिला दे मुझे. अब बोल जान, तू तेरी सहेली या कोई रिश्तेदार को कब मिलाएगी मुझसे?

क्रमशः……………………..