छोटी सी जान चूतो का तूफान

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: छोटी सी जान चूतो का तूफान

Unread post by rajaarkey » 28 Dec 2014 03:36

गीता: (धीरे से साहिल के कान पास जाकर फुसफुसाते हुए) तू किसी को बतायेगा तो नही….(साहिल ने ना मे सर हिला दिया) देख अगर तूने ये बात किसी को बताई तो, मैं वो बुक तेरी मम्मी को दिखा दूँगी….

साहिल: नही मैं किसी को नही बताउन्गा….सच मे प्रॉमिस….

गीता ने धड़कते हुए दिल के साथ विंडो से नज़र मारी, फिर साहिल के तरफ मुस्कराते हुए देखते हुए, अपनी कमीज़ को पकड़ कर ऊपेर उठाना शुरू कर दिया…साहिल हैरत से गीता की तरफ देख रहा था…..धीरे-2 उसकी कमीज़ ऊपेर उठ रही थी, और उसका गोरा बदन साहिल की आँखों के सामने आता जा रहा था….उसका वो भरा हुआ मांसल पेट और नाभि देखते ही, साहिल के लंड मे हलचल होने लगी…..

साहिल को यूँ घूरता देख गीता मंद मंद मुस्करा रही थी…फिर उसने अपनी कमीज़ को अपनी चुचयों के ऊपेर तक उठा दिया….गीता की 38 साइज़ की चुचियाँ वाइट कलर के ब्रा मे बेहद कसी हुई थी, और ऊपेर से बाहर आने के लिए मचल रही थी….गीता ने एक बार फिर से बाहर की तरफ देखा, और फिर साहिल की तरफ….”तू किसी को बताना नही याद है ना..” साहिल ने भी हां मे सर हिला दिया, और उसकी ब्रा मे क़ैद चुचियो को देखने लगा…..गीता ने अपनी ब्रा के कप्स को नीचे से हाथ डाल कर ऊपेर उठा दिया….ब्रा टाइट होने के कारण जैसे ही ऊपेर हुई, गीता के बड़ी-2 चुचियाँ उछल कर बाहर आ गयी…..

उसकी चुचियों को थिरकते हुए देख कर साहिल का लंड भी झटके खाने लगा…साहिल गीता से कद मे काफ़ी छोटा था….इसलिए गीता के निपल्स ठीक उसके होंटो के सामने आ गये….गीता ने मुस्कराते हुए देखा, और फिर साहिल के सर को एक हाथ से सहलाते हुए अपनी तरफ खेंचने लगी….

गीता: बता कैसे है मेरे दूध….

साहिल: अच्छे है….

गीता: तू भी चुसेगा मेरे दूध….

साहिल का तो केलज़ा मूह को आ गया….उसे अपने कानो पर यकीन नही हो रहा था…वो कभी उसकी चुचियों की तरफ देखता, तो कभी गीता के फेस की तरफ, गीता साहिल की मनोदशा समझ चुकी थी….उसने साहिल के फेस को अपने दोनो हाथ मे भर कर अपने मम्मो की तरफ उसके होंटो को बढ़ाना शुरू कर दिया…..जैसे ही, साहिल के होन्ट उसके लेफ्ट मम्मे के पास आए, साहिल ने अपना मूह खोल कर उसका निपल मूह मे भर लिया……

जैसे ही गीता को साहिल की गरम जीभ का अपने निपल पर अहसास हुआ, गीता ने अपने सर को पीछे की ओर कर लिया…..और नाक से गहरी साँस अंदर को खेंचते हुए, साहिल को अपने मम्मो पर दबाने लगी…”सीईईई उंह साहिल ज़ोर से चूस अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह तुझे दूध बहुत अच्छे लगते है ना”

साहिल के लिए ये पहला अनुभव था…..और गीता को यूँ मस्ती मे सिसकते हुए देख कर नज़ाने साहिल के मन मे क्या आया, उसने और ज़ोर से गीता के निपल को चूसना शुरू कर दिया…..”उंह साहिल चूस इसे ज़ोर से मेरे मम्मे चुस्स” गीता एक दम गरम हो चुकी थी…..उसकी आँखें बंद होने लगी….उसने साहिल का हाथ पकड़ कर अपने दूसरे मम्मे पर रख दिया…और अपने हाथ से साहिल का हाथ दबा कर अपने मम्मे को दबाने लगी…

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: छोटी सी जान चूतो का तूफान

Unread post by rajaarkey » 28 Dec 2014 03:37

साहिल ने सोचा शायद गीता को ये सब अच्छा लग रहा है, उसने उसके बड़े बड़े मम्मो को अपने छोटे-2 हाथों से दबाना शुरू कर दिया…”हाए शाबास और ज़ोर नाल पट्ट हां चूस मेरे मम्मे….” गीता ने अपनी मदहोश हो चुकी आँखों को बड़ी मुस्किल से खोला, और अपने मम्मे को खेंचते हुए उसके मूह से बाहर निकालते हुए उसके फेस को अपने हाथों मे भर कर उसके होंटो पर टूट पड़ी….

गीता पागलो की तरह साहिल के होंटो को चूसने लगी…..पर साहिल को किस कहाँ करना आता था….जब उसने कोई रेस्पॉन्स नही दिया तो, गीता ने अपने होंटो को उसके होंटो से अलग करते हुए कहा “क्या हुआ किस नही करना आता क्या…..” साहिल गीता के मम्मो को देख रहा था…जो गीता की तेज साँसे लेने के कारण ऊपेर नीचे हो रहे थे……गीता ने एक हल्की से चपत उसके गाल पर लगाते हुए कहा….”मैं क्या पूछ रही हूँ”

साहिल: नही आता….

गीता: चल कोई बात नही, फिर कभी तुझे सिखा दूँगी…

ये कह कर उसने एक बार फिर से अपने होंटो को साहिल के होंटो से लगा दिया, और उसके होंटो को सक करने लगी….साहिल को ये थोड़ा सा अजीब लग रहा था. पर उसने भी गीता की नकल करते हुए, उसके नीचे वाले होन्ट को अपने होंटो मे भर कर चूसना शुरू कर दया….गीता के मूह से घुटि हुई आह निकल गयी….और वो साहिल से एक दम चिपक गयी….

गीता ने फिर से अपने होंटो को अलग करते हुए, अपना दूसरा मम्मे का निपल उसके होंटो के पास ला दिया….साहिल को अब कुछ बताने की ज़रूरत नही थी.. उसने उसके दूसरे मम्मे के निपल को मूह मे भर लिया, और ज़ोर-2 से बच्चे की तरह चूसने लगा….गीता ने फॉरन ही साहिल के हाथ को पकड़ कर अपनी दूसरी चुचि पर रखते हुए कहा….

गीता: (मदहोशी भरी आवाज़ मे) साहिल मेरे मम्मो को दबा ज़ोर ज़ोर से दबा दे….

साहिल तो जैसे किसी रोबोट के तरह गीता की हर कमॅंड पर हरक़त कर रहा था…आज तक जिन चीज़ों के बारे मे सिर्फ़ उसने सुना ही था, आज वो सब अपनी आँखों से देख और कर भी रहा था…गीता की सिसकारियाँ साहिल के कानो मे गूँज रही थी”उम्ह्ह्ह साहिल और ज़ोर से चुस्स्स अहह सीईइ उम्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह बहुत्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त्त अच्छाआआआआआआअ चूस रहे हो “

तभी सामने रूम का डोर खुलने की आवाज़ आई, दोनो एक दम से सहम जाते है, साहिल गीता से अलग हो जाता है, और गीता जल्दी -2 अपनी ब्रा को ठीक करके कमीज़ को सही करने लगी….फिर वो विंडो से बाहर झान्कति है, बाहर उसकी भाभी पूनम बाथरूम की तरफ जा रही थी…..

गीता: चल अब आज के लिए इतना ही काफ़ी है..पर ध्यान रहे ये किसी को बताना नही….फिर कभी जब मोका मिलेगा हम फिर से करेंगे….

साहिल: जी मौसी.

क्रमशः....................................

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: छोटी सी जान चूतो का तूफान

Unread post by rajaarkey » 28 Dec 2014 03:37


Geeta: accha agar mere baat manega aur sahi-2 jawab dega to, main ye baat kisi ko nahi batungi, promise karti hun main…..

Sahil geeta ka taraf sawalya nazron se dekhata hai, aur phir haan main sir hila deta hai…..

Geeta: accha bata tuje ye sab dekhana accha lagta hai kaya ?

Sahil chup betha rehata hai, aur koi jawab nahi deta….geeta wo book khol kar usme lagi tasveere dekhane lagati hai “haye touba ye to bikul nangi leti hui hai” sahil apni kankhyon se dekhata hai, usme ek ladki bistar poori nangi leti hoti hui thee, aur ek ladka uske mumme chus raha tha…

Geeta: accha abb ek baat sach-2 bata tuje inme se kon se picture sabse jayda acchi lagati hai..?

Geeta ke iss sawal se sahil thoda chonk jata hai, par bolata khuch nahi. “arre bata naa. Main kisi ko nahi khungi” darsal wo pictures dekhate hue, geeta khud garam hone lagee thee…jawani ke dhaleej par khadi geeta jisse bhagwan ne bahrpur yovan daya tha….uski choot main nami anne lagee, aur uske choot ke ander tej sarsarhat hone lagee…

Jaise ke aap jante hai ki, geeta kisi milf ke tarah 5,7 inch lambi hight wali thee, uske boobs uski hight ke hisab se 38 size ke ho chuke thee..mansal badan hone ke karan uske boobs hamesha tane hue rehate thee…aur uski jhange khub moti aur mansal thee…bhara hua badan hone ke sath-2 uski gaand bhee peeche ke taraf nikali hui thee….

Geeta ek dum garam hone lagee thee….iss baat ko shayd sahil ko pata nahi tha…geeta ke mansal aur moti-2 jhangen uske jhangon se sati hui thee, aur uski jhagon ke garami ke karan sahil ke lund main halchal hone lagee thee. Halaki sahil ke mamle main bilkul anadi tha….

Geeta: bolta kyon nahi…

Sahil: (sahil ne apna peecha chudane ke lye aise hee bol daya..) yahi wali..

Geeta: (apne honto par kamuk muskan pate hue) accha tuje isme kaya accha lagta hai…

Sahil: (kankhyon se uss tasveer ke taraf dekhate hue) wo doodh…..

Geeta: accha bachu kabhi dekhe kisi ke doodh….

Sahil: nahi…

Geeta: (dheemi awaz main) dekhega….?

Sahil: (geeta ke aur hariat se dekhate hue) kiske….

Geeta: pehale tun muje promise kar, ki kisi ko kuch bateyga nahi….

Sahil: promise….

Geeta ne dhadkate hue dil ke sath khidaki ke taraf dekha, phir window ke pass jakar usse thoda sa khola…..yaha ye baki teeno rooms ke door saaf nazar aate thee…window ke bahar ke taraf jail lagi hui thee….agar bahar dhoop hoti , to jali ke ander kuch nahi dikhata tha…bhale hee window khuli hui ho…ye baat geeta acche se janti thee….

Phir geeta ne poore ghar main nazar doudai….poore ghar main shanti thee, bus ek duka chidyon ke chehchat suni de rahi thee…phir ussne sahil ko ishare se pass anne ko kaha….sahil ka dil bhee iss naye romanch ke karan, joro se dhadk raha tha….sahil dhere-2 geeta ke pass gaya….sahil ki ussme hight mehaj 4,11 inch ke kareeb thee….kyonki uski umer hee utni thee…

Aur uske ulat geeta kisi mature milf ke tarah 5, 7 inch lambi thee….jaise hee sahil uske pass phuncha, usne sahil ka baju pakad kar apne taraf khenchate hue usko window ke taraf sata daya….abb sahil ke peeth window ke taraf thee, aur geeta ka face sahil aur window ke taraf tha…..jisse wo bahar bhee nazar rakh sakti thee…

Geeta: (dhere se sahil ke kaan pass jakar phusphuate hue) tun kisi ko bateyga to nahi….(sahil main naa main sar hila daya) dekh agar tune ye baat kisi ko batai to, main wo book tere mummy ko dekha dungi….

Sahil: nahi main kaise ko nai batata….sach main promise….

Geeta ne dhadkte hue dil ke sath window se nazar mari, phir sahil ke taraf muskarte hue dekhate hue, apne kameez ko pakad kar ooper uthana shuru kar daya…sahil hariat se geeta ke taraf dekh raha tha…..dhere-2 uski kameez ooper uth rahi thee, aur uska gora badan sahil ke ankhon ke samane aata jaa raha tha….uska wo bhara hua mansal pait aur nabhi dekhate hee, sahil ke lund main halchal hone lagee…..

Sahil ko jun ghurta dekh geeta mand mand muskara rahi thee…phir usne apni kameez ko apni chuchyon ke ooper tak utha daya….geeta ke 38 size ke chuchyan white colour ke bra main behad kasi hui thee, aur ooper se bahar anne lye ke laya machal rahi thee….geeta ne ek baar phir se bahar ke taraf dekha, aur phir sahil ke taraf….”tun kisi ko batana nahi yaad hai naa..” sahil ne bhee haan main sar hila daya, aur uski bra main qiad chuchyon ko dekhane laga…..geeta ne apne bra ke cups ko neeche se hath daal kar ooper utha daya….bra tight hone ke karan jaise hee ooper hui, geeta ke badi-2 chuchyan uchal kar bahar aa gaye…..

Uski chuchyon ko tirkate hue dekh kar sahil ka lund bhee jhatke khane laga…sahil geeta se kad main kafi chota tha….isslye geeta ke nipples theek uske honto ke samane aa gaye….geeta ne muskarte hue dekha, aur phir sahil ke sar ko ek hath se sahlate hue apni taraf khenchane lagee….