छोटी सी जान चूतो का तूफान

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: छोटी सी जान चूतो का तूफान

Unread post by rajaarkey » 28 Dec 2014 03:38



Geeta: bata kaise hai mere doodh….

Sahil: acche hai….

Geeta: tun bhee chusega mere doodh….

Sahil ka to kelaja mooh ko aa gaya….usse apne kano par yakeen nahi ho raha tha…wo kabhi uski chuchyon ke taraf dekhata, to kabhi geeta ke face ke taraf, geeta sahil ke manodasha samaj chuki thee….usne sahil ke face ko apne dono hath main bhar kar apni mummo ke taraf uske honto ko badhana shuru kar daya…..jaise hee, sahil ke hont uske left mumme ke pass aye, sahil ne apna mooh khol kar uska nipple mooh main bhar laya……

Jaise hee geeta ko sahil ke garam jeebh ka apne nipple par ahsaas hua, geeta ne apne sar ko peeche ke aur kar laya…..aur naak se gehari saans ander ko khenchate hue, sahil ko apne mummo par dabane lagi…”siiiii umhhh sahil jor se chus ahh tuje doodh bhot acche lagate hai naa”

Sahil ke lye ye pehala anubhav tha…..aur geeta ko yun masti main siskate hue dekh kar najane sahil ke maan main kaya aya, usne aur jor se geeta ke nipple ko chusna shuru kar daya…..”umhhh sahil chus isse jor see mere mumme chuss” geeta ek dum garam ho chuki thee…..uski ankhen band hone lagee….usne sahil ka hath pakad kar apne dusre mumme par rakh daya…aur apne hath se sahil ka hath daba kar apne mumme ko dabane lagee…

Sahil ne socha shayad geeta ko ye sab accha lag raha hai, usne uske bade bade mummo ko apne chote-2 hathon se dabana shuru kar daya…”haye sabasha aur jor naal patt haan chus mere mumme….” Geeta ne apni madhosh ho chuki ankhon ko badi muskil se khola, aur apne mumme ko khenchate hue uske mooh se bahar nikalate hue uske face ko apne hathon main bhar kar uske honto par toot padhi….

geeta paglo ke tarah sahil ke honto ko chusne lagee…..par sahil ko kiss kaha karna atta tha….jab usne koi response nahi daya to, geeta ne apne honto ko uske honto se alag karte hue kaha “kaya hua kiss nahi karna atta kya…..” sahil geeta ke mummo ko dekh raha tha…jo geeta ke tej sanse lene ke karan ooper neeche ho rahe thee……geeta ne ek halki se chapat uske gaal par lagate hue kaha….”main kaya pooch rahi hun”

sahil: nahi atta….

Geeta: chal koi baat nahi, phir kabhi tuje sikha dungi…

Ye keh kar usne ek baar phir se apne honto ko sahil ke honto se laga daya, aur uske honto ko suck karne lagee….sahil ko ye thoda sa ajeeb lag raha tha. par usne bhee geeta ke nakal karte hue, uske neeche wale hont ko apne honto main bhar kar chusna shuru kar daya….geeta ke mooh se ghuti hui aah nikal gaye….aur wo sahil se ek dum chipak gaye….

Geeta ne phir se apne honto ko alag karte hue, apna dusra mumme ka nipple uske honto ke pass laa daya….sahil ko abb kuch batane ke jaruat nahi thee.. usne uske dusre mumme ke nipple ko mooh main bhar laya, aur jor-2 se bache ke tarah chusne laga….geeta ne foran hee sahil ke hath ko pakad kar apni dusri chuchi par rakhate hue kaha….

Geeta: (madhoshi bhari awaz main) sahil mere mummo ko daba jor jor se dada dee….

Sahil to jaise kisi robot ke tarah geeta ke har command par harqat kar raha tha…aaj tak jin cheezon ke bare main sirf usne suna hee tha, aaj wo sab apni ankhon se dekh aur kar bhee raha tha…geeta ke siskaryan sahil ke kano main gunj rahi thee”umhhh sahil aur jor se chusss ahhhhhh siiii umhh bhot accha chus rahe ho “

Tabhi samane room ka door khulane ke awz aye, dono ek dum se seham jate hai, sahil geeta se alag ho jata hai, aur geeta jaldi -2 apne bra ko theek karke kameez ko sahi karne lagee….phir wo window se bhar jhankti hai, bahar uski bhabhi poonam bathroom ke taraf jaa rahi thee…..

Geeta: chal aab aaj ke lye tina hee kafi hai..par dhayan rahe ye kisi ko batna nahi….phir kabhi jab moka milega hum phir se karenge….

Sahil: jee mousi.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: छोटी सी जान चूतो का तूफान

Unread post by rajaarkey » 28 Dec 2014 03:39

छोटी सी जान चूतो का तूफान--6


साहिल रूम से निकाल कर ऊपेर चाट पर आ गया, और पतंग उड़ाने लगा….पायल और नेहा नीचे ही काम कर रही थी….पतंग उड़ाते हुए अचानक साहिल पीछे की दीवार पर पुहुच गया….और अचानक से उसका ध्यान नीचे गया..यहाँ पर एक भैंसा खुल गया था, और वो भैंस के ऊपेर चढ़ कर उसे चोदने के कॉसिश कर रहा था….भैंस ने अभी-2 दो महीने पहले बछड़े को जनम दिया था…इसीलिए भैंस मिलन के लिए तैयार नही थी..जब भी भैंसा ऊपेर चढ़ता, भैंस इधर उधर हो जाती..

साहिल ये सब बड़े गोरे से देख रहा था….तभी उसकी चाची पायल पीछे आ गयी…शायद भैंस की आवाज़ सुन कर आई थी….पायल ने हाथ मे लाठी उठाई, और भैंस पर चढ़े हुए, भैंसे पर बरसा दी, भैंसा डरता हुआ नीचे आ गया…”देख कितनी आग लगी है फुददी दी” हाले हुन तां नेव दूध होये है”

मतलब पायल पंजाबी मे बोल रही थी कि, कैसे इसको फुद्दि लेने की आग लगी है, अभी तो बेचारी नये दूध से हुई है….पायल ने भैंसे की रस्सी पकड़ी और उसने भैंस से दूर बाँध दिया…फिर अपना पसीना पहुचते हुए, बाहर आए तो, अचानक से उसकी नज़र ऊपेर खड़े साहिल पर चली गयी “हाए रब्बा इन्हे सुन तो नही लेता” फिर पायल ने उसकी तरफ अजीब से मुस्कान के साथ देखा, तो साहिल झेंप कर पीछे हो गया…
.


bhai ye kahaani bhi mast hai

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: छोटी सी जान चूतो का तूफान

Unread post by rajaarkey » 28 Dec 2014 03:40


साहिल मन मे सोचने लगा ये क्या हो रहा है, कल चाची मुझ पर मेहरबान थी, और आज गीता मौसी….स्कूल ऑफ होने के बाद साहिल घर आ गया….खाना खा कर वो सीधा अपनी चाची पायल के रूम मे चला गया, पायल वहाँ बेड पर करवट के बल लेटी हुई थी….उसने अपने आगे वंश को लेटाया हुआ था, और उसे दूध पीला रही थी….साहिल रह-2 कर पायल चाची की चुचियों को देख रहा था….इस बात को समझते हुए पायल भी मंद मंद मुस्करा रही थी……

पायल: आज नही गया गीता के पास पढ़ने…

साहिल: नही….

पायल: क्यों क्या हुआ ?

साहिल: मा कहती है बाहर बहुत धूप है, इसलिए नही गया….

पायल: अच्छा ठीक है…..लेट जा बैठे-2 थक जाएगा….

साहिल: नही मैं ऐसे ही ठीक हूँ…

पायल: कल तू छत पर खड़ा पीछे की तरफ नीचे क्या देख रहा था…

साहिल: (पायल की बात सुन कर एक दम से घबराते हुए) वो मैं वो….

पायल: (मुस्करते हुए) वो मैं वो मैं क्या लगा रखा है….

साहिल: चाची मैं तो वो पतंग उड़ा रहा था ऊपेर….

पायल: पतंग ही उड़ा रहे थे ना….पर तुम्हारा ध्यान तो कही और था…गीता कहती है, तू आज कल उल्टे कामो मे ज़्यादा ध्यान देने लग गया है….

साहिल का चेहरा चाची की ये बात सुन कर एक दम से उतर गया…उसकी ऐसी हालत हो गयी थी, मानो अभी रोना शुरू कर दे….पायल उसकी तरफ देख कर हंसते हुए बोली.

पायल: अच्छा नाराज़ मत हो मैं तो वैसे ही मज़ाक कर रही थी…

साहिल: (बेड पर से उठ कर बाहर जाते हुए) मैं नही बोलना आप से….

साहिल उठ कर बाहर चला जाता है, और पायल बेड पर लेटे हुए हसने लगती है. रात हो चुकी थी..कुलवंत और रवि दोनो घर वापिस आ चुके थी…रात को नेहा के मायके से फोन आया कि, उसकी मा बहुत बीमार है, मा के बीमार होने की खबर सुन कर नेहा परेशान हो गयी…जब उसने ये बात कुलवंत सिंग को बताई, तो कुलवंत सींग ने कहा, वो लोग सुबह उनका पता लेने के लिए चलेंगे,

कुलवंत सींग ने बाहर आँगन मे आकर चारपाई पर बैठते हुए, अपने छोटे भाई रवि को आवाज़ लगाई….रवि अपने भाई की आवाज़ सुन कर बाहर आया..

रवि: क्या हुआ भाई साहब…

कुलवंत: यार नेहा की मा बीमार है, हॉस्पिटल मे दाखिल है…मैं कल सहर नही जा पाउन्गा….

रवि: पर भाया कल तो सहर मे भैंसो का बाज़ार लगना है…

कुलवंत: हां जानता हूँ, तू ऐसा कर, कल तू भैंसो को लेकर सहर चले जाना…मैं नेहा को हॉस्पिटल पहुचा कर वहाँ से सीधा तेरे पास आ जाउन्गा….

रवि: ठीक है भैया…..मैं पायल को बता देता हूँ,,,(रवि उठ कर अपने रूम मे चला जाता है)