Hindi Sex Stories By raj sharma

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: Hindi Sex Stories By raj sharma

Unread post by raj.. » 05 Nov 2014 03:38


SHART

Alarm ki awaaz lagaatar tez hoti jaa rahi thi ………Shweta ne aankhe kholi aur fir idhar-udhar dekha ….side table par rakhi alarm ghadi baj rahi thi …usne haath badhakar alarm off kiya aur fir se takiye mein muh chhipa liya ….5 minute baad woh uthi aur aankhe malti huyi bathroom mein ghus gayi …….

Shweta , umar 26 saal , lamba kad , professional models jaisa jism….ek MNC mein job karti thi , uske parents gaanv mein hi they aur woh yahan , shehar mein , iss flat mein akeli rehti thi ….

1 ghante baad woh bathroom se baahar aayi aur kitchen mein ghus gayi ….usne ek cup chay banayi aur fir chair par baith kar chay peene lagi … usne saamne ek news paper khola hua tha aur bade itminan se use padh rahi thi ……fir achanak use kuchh yaad aaya ….woh uthi aur ek side mein rakhe huye phone ko utha kar apne paas le aayi …….uske phone mein voice message recording system tha……usne recorder ko on kiya aur chay peete peete kal ke messages ko sun-ne lagi …….

kuchh messages uske friends ke they …..kuchh advertising companies ke they , jo schemes offer kar rahe they ……aur fir ek message shuru hua , jisne usko chay ki chuskiya chhodne par majboor kar diya ………

yeh uske boyfriend Rahul ka message tha ……

" Hi Shweta …kaisi ho …mujhe maloom hai ki tum subah subah saare messages sunti ho , aur na chahte huye bhi mujhe tumhara mood off karna pad raha hai ….par kya karoon jaan , baat hi kuchh aisi hai … ……..ek baat hai jo main tum se bahut dino se kehna chah raha tha….main decide nahi kar paa raha tha ki tumko bataoon ya nahi …..fir maine aaj poori himaat kar ke tumko sab kuchh batane ka decision liya hai….Shweta , maine tumhaare saath poori tarah se imaandar nahi hoon .."

sunte hi uske haath kaanpne lage , usne phone ko haathon mein utha liya aur usko ghoorne lagi , jaise usko vishwaas hi na ho raha ho ki jo woh sun rahi hai, woh sahi hai ya galat .....Rahul ki awaaz abhi bhi aa rahi thi

" pichhle hafte main office tour par Pune gaya tha , wahan meri mulakat ek ladki se huyi thi …Sonali naam hai uska aur humaari Pune branch mein job karti hai … wahan office ki ek party thi , jismein main aur woh dono saath saath hi rahe , fir usne hi mujhe mere hotel drop kiya …….mujhe nahi maloom ki mujhe kya hua tha….par …par…raat mein …hum dono ek saath ...…u can understand what I mean …uss raat main behak gaya Shweta aur fir subah mujhe ehsaas hua ki maine kya galti kar di ……………….mere andar himmat nahi hai ki main ab kabhi tumhara saamna kar paoon …. Isliye main tumhaari zindagi se door jar aha hoon …..hamesha ke liye ……main tumse maafi maangna chahta hoon aur koshish karna agar tum mujhe bhula sako .."

Rahul ki awaaz aani ab band ho chuki thi par Shweta ki aankhon se aansoo behne lage they ……....woh samajh nahi paa rahi thi ki kya kare …..Rahul aur woh , pichhle 2 saal se ek doosre ke saath they …..usne tay kar liya tha ki woh Rahul ko hi apna jeevan sathi banayegi………..aur jald hi apne parents se milvaane ka bhi uska irada tha……..par abhi jo kuchh usne suna ,uske baad maano uske saare sapne bikhar se gaye they ……..

Agle 2 ghante tak woh sirf 2 kaam karti rahi ……..baar baar Rahul ka mobile number try karti , jo lagaatar switched off aa raha tha……fir aansoo bahane baith jaati ….aur fir Rahul ka number try karne lagti ………..

Aur aakhir mein usne ek baar tay kiya ki woh Rahul ke flat par jaakar uss se milegi , fir achanak uska swabhimaan jaag utha …..uske anadar se awaaz aayi ... usse bhala kyon jaana chahiye ?…kya sirf wahi Rahul se pyar karti thi ?…..galti Rahul ne ki hai ….woh uski galti ko maaf kar sakti hai , par agar woh khud uske paas maafi maangne aayega ……

Fir who tayyar huyi aur office ke liye chal di …….. thodi der baad hi who apne office mein pahucnh chuki thi …..woh ek Insurance company mein kaam karti thi …as a Marketing Manager……. Office pahunch kar woh apne kaam mein lag gayi ……par thodi thodi der baad hi usko Rahul ki baat yaad aa jaati thi , aur fir uska dil bhaari hone lagta tha ……..

Kisi tarah do-pahar tak ka time usne kaata …….beech beech mein woh Rahul ka number bhi try karti rahi , par har baar mobile switched off hi mila ……….

Lunch ke baad usne waapas ghar jaane ka faisla kiya …..abhi woh seat se uthne ki tayyari hi kar rahi thi ki uske cabin ka darwaaza khula aur Sanjay andar aata dikhayi diya ……Sanjay , uska colleague tha…….jaane kitni hi baar Sanjay uss se flirt karne ki koshish kar chukka tha , par har baar bechaare ko mayusi hi haath lagi thi …….woh ek shandaar personality ka maalik tha …par do baatein thi jo Shweta ko uske paas jaane se rokti thi ……ek to uska Rahul ke liye commitment , aur doosri Sanjay ki playboy image ………..

" Hi Shweta ……..kya hua yaar , aaj bahut jaldi jaa rahi ho … "

" haan …kuchh tabiyat sahi nahi lag rahi hai "

" hey …what happens ? every thing is alright na ? "

" its OK Sanjay ……bas aise hi , sar mein halka sa dard hai …"

" par tum shaayad bhool gayi ……aaj office ki half yearly sales meeting hai "

" Ohhh ….haan yaar , main to sach mein bhool gayi thi …..kya mera jaana jaroori hai ? "

"of course yaar .tumhaare bagair meeting kaise ho sakti hai …."

Shweta kuchh der sochti rahi ..fir boli " theek hai …main time par pahunch jaaoongi "

Fir woh office se bahar nikali aur ghar ki taraf chal di ……unke office ki half yearly meeting kisi bade hotel mein hoti thi ……pehle meeting , uske baad dinner ,aur last mein party …..

Ghar pahunch kar usne thodi der aaram kiya aur fir tayyar hone lagi ……..shaam ko 6.30 baje apne ghar se nikali aur 7.15 baje Hotel Regency pahunch gayi ……

Meeting poore 2 ghante chali ……hamesha ki taraf Shweta aur uski team ko ek award bhi mila ….best performance ke liye ……..fir uske baad dinner ……

Dinner ka arrangement hotel ke club area mein kiya gaya tha…….hall mein halki halki lights thi ….beech mein dance floor aur charo taraf tables par dinner ka arrangement …..

Jaise jaise raat gehraati ja rahi thi ……mahaul romani hota jar aha tha…company ke senior officers jaa chuke they , aur kuchh young employees hi wahan reh gaye they …..dance ke saath saath ab sharaab ka daur bhi shuru ho chukka tha …..Shweta bhi kabhi kabhi drink kar leti thi , par limit mein ……

Sanjay uske paas aaya aur usko dance karne ke liye offer kiya …….usne socha aur fir apna haath badha diya ………agle hi pal woh dono dance floor par ek saath naach rahe they ……..club ke mahaul mein ab garmi aati ja rahi thi ……adkhiktar logo ne ab corners talaash karne shuru kar diye they …….sabhi log ab jodo ki shakal mein dikhayi pad rahe they ………haath mein haath , aur kuch ke hontho mile huye honth ……..

Shweta ne bhi dheere dheere 4 peg laga liye they …..uske kadam ab ladkhada rahe they …..Sanjay bhi iss baat ko samajh raha tha ….aur usko sahara dene ke bahaane , uske shareer par apne haatho ko dauda raha tha ….

Kuchh sharaab ka saroor, kuchh mahaul ka asar aur kuchh Rahul ki bewafayi ka dard ….Shweta aaj kuchh der ke liye apne aap ko bhula dena chahti thi …..raat ke 11 baj chuke they …….dheere dheere hall khaali hone laga tha ….aur fir Sanjay ne bhi usko offer diya , ghar tak drop karne ka ……..usne turant haan kar di …….

Hall se baahar nikalte samay Sanjay ne ek haath se usko kamar se thama hua tha ….aur doosra haath uski besudhi ka faayda utha raha tha……..

Sanjay ne usko sahara dekar gaadi mein baithaya……fir kuchh der baad dono Shweta ke ghar pahunch gaye …….fir Sanjay ne hi usko gaadi se neeche utara ……aur uske flat tak lekar aaya …….woh ab tak apne hosh khone lagi thi ….usne flat mein aakar Sanjay ko Good night kiya aur apne room mein aa gayi …..par Sanjay ko shaayad pata tha ki usko aisa mauka fir se nahi milne waala …..woh flat se baahar nahi gaya aur uske peechhe peechhe hi andar aa gaya ……

Shweta apne bedroom mein aayi aur dressing table ke saamne khadi ho gayi ……..usko mirror mein dikhayi pad raha tha ki Sanjay uske peechhe aakar khada ho gaya hai …….Sanjay ne dheere se uski kamar mein haath daal diya aur uske kandhe ko choomna shuru kar diya……uska ek haath uske pet par , uki shirt aur skirt ke beech mein khaali jagah par ghoomne laga ……Shweta chah rahi thi woh apna haath rok le , par jaane kye baat thi jo uske dil ki baat jubaan par nahi aa pa rahi thi ….

Sanjay ka ek haath ab uski shirt ke buttons kholne laga ……Shweta ke muh se dheemi awaaz mein bas itna hi nikal paya " Please Sanjay ……..aisa mat karo "


nashe ka asar tha jo uski awaaz ko aur jyada maadak bana raha tha….aur Sanjay par iske ulta asar hua…….usne jaldi se shirt ke saare buttons khol daale aur usko Shweta ke shareer se alag kar diya …….ek haath ko woh neeche le gaya aur uski skirt mein daal diya ………fir doosre haath ko usne Shweta ki bra alag karne par laga diya …….2 minute se bhi kam samay mein Shweta bilkul nangi sheeshe ke saamne khadi thi ……..Sanjay ka ek haath uski choochiyon ko masal raha tha aur doosra haath uski janghon mein ghusa hua kamala dikha raha tha

Sanjay usko utha kar bed par le aaya…….Shweta ko dhundhla sa dikhayi pad raha tha ki Sanjay bed ke saamne khada apne kapde nikaal raha tha ……..usne apni aankhen fir se band kar li

Fir usko mehsoos hua ki Sanjay ne uske dono pairo ko alag alag kar diya aur uke beech mein aakar let gaya ……fir usne uske gaalo aur hontho par chumbano ki jhadi si laga di …

Shweta ko mehsoos ho raha tha ki jo bhi kuchh ho raha hai , woh galat hai …..uska dimaag uske saath tha , par uska jism uska saath nahi de raha tha…….Snajay ke chumbano ke saath woh pighalti ja rahi thi …..Sanjay ke honth ab uske nipples ko choos rahe they ……aur fir uske pet se hote huye uske sabse najuk ang tak pahunch gaye ……Sanjay ne uske pairo ko mode kar , thoda sa aur faila diya ….aur fir uski jaanghon ke beech apna muh ghusa diya…….uski jeebh ab , Shweta ki choot par ghoomne lagi aur fir uski dono pankhudiyon ko faila kar andar ghus gayi …….

Shweta ke shareer ne ke jhatka khaya aur fir usne apne andar kuchh pighalta hua sa mehsoos kiya .………Sanjay ki jeebh abhi bhi apna kamala dikha rahi thi aur Shweta ke haath neeche jaakar Sanjay ke baalo mein ghoomne lage they ……..

2 minute baad hi Sanjay apni jagah se utha aur fir uski jaanghon ke beeche mein aakar ghutno ke bal baith gaya ……usko ek sakht si cheez , apne sabse komal ang par chubhti huyi mehssos huyi ……usne ek baar apni jaanghon ko aapas mein milane ki koshish ki … Rahul ke alawa pehli baar who kisi aadmi ke saamne iss tarah nangi huyi thi ……..fir usko Rahul ki baat yaad aa gayi ……..usne man hi man Rahul ko ek baar jor daar gaali di …aur fir apne shareer ko dheela chhod diya ……….

Sanjay ne ishara paate hi apne aap ko aage badha diya ……. waise bhi woh pehle se hi gili ho chuki thi , isliye usko koi pareshaani nahi huyi ……..3-4 dhakko mein hi woh uske andar poora sama chukka tha …………apni gardan neeche ko jhuka kar usne Shweta ki choochiyon ko muh mein bhar liya aur jor jor se choosna shuru kar diya………….Shweta ke haath bhi uski peeth par ghoom rahe they , aur apne pairo ko woh uski kamar par lapetne ki koshish kar rahi thi …………..uski kamar oopar ko uchakne lagi …..har dhakke par uske muh se siskaari foot rahi thi ….. aur fir dono ke honth aapas mein jud gaye , aur shareer poora jor lagane lage , ek doosre mein sama jaane ke liye

Poori raat us kamre mein yeh khel chalta raha…..jab tak Shweta ko hosh raha, usne Sanjay ka poora saath diya …aur fir uske hosh khote chale gaye ,par Sanjay poori raat , alag alag tareeko se …..uske jism ko masalta raha……..

Subah uski aankh der se khuli ……uska sar dard se fata jaa raha tha…….thodi der to usko apni haalat samajhne mein hi lag gayi ….Sanjay wahan nahi tha , woh ab jaa chukka tha …..par uske apne shareer aur bistar ki haalat bata rahi thi ki Sanjay ne raat uski haalat ka poora faayda uthaya hai ….

woh bistar se uthi aur bathroom mein ghus gayi ………15 minute baad woh baahar nikali , apne liye ek cup chay banayi …aur roz ki taraf chay peete huye , news paper lekar padhne baith gayi ….

Fir thodi der baad woh apna phone bhi wahin utha kar le aayi …..usne phone ka recorder on kiya aur kal ke saare message sun-ne lagi …

Fir se kuchh friends ke message ……ek message uske papa ka bhi tha …..fir achanak usko Rahul ki awaaz sunayi di …..

" Good morning Jaan ….mujhe maloom hai ki kal mera message sun-ne ke baad tum bahut gussa huyi hongi …..mujhe gaaliyan bhi di hongi …shaayad thoda sa roi bhi hongi …..par main kya karta , mujhe tumse shart jo jeetni thi …."

Chay peete peete Shweta ka haath ruk gaya …Rahul aage bol raha tha


" tumhe yaad hain na , pichhle mahine humne shart lagayi thi …ki kaun pehle doosre ko April fool banayega … maine tabhi tay kar liya tha ki chaahe jo jaaye , iss baar shart main hi jeetoonga ……….mujhe pata hai ki tumhe kal ki tarikh yaad nahi hogi ……..dekh lo , kal 1st April thi ………tum April fool ban chuki ho Shweta …….aur main shart jeet chukka hoon ………ha ha ha ha "

Shweta lagataar phone ko ghoor rahi thi ..woh samajh nahi paa rahi thi ki kaise react kare ……usne calander dekha…yeh sahi tha ki woh shart haar chuki thi ……par yeh bhi sahi tha ki Rahul sirf shart hi jeeta tha ………baaki jo woh hara tha, usko shaayad ehsaas bhi nahi tha ……….

the end




raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: Hindi Sex Stories By raj sharma

Unread post by raj.. » 07 Nov 2014 17:34



चचेरी और फुफेरी बहन की सील--1

मेरा नाम राज है, मैं दिल्ली में रहता हूँ, मेरी आयु 35 वर्ष है, मैं सेहत में ठीक हूँ और स्मार्ट भी हूँ ! मैं आप सभी को अपने चाचा की लड़की की चुदाई और सील तोड़ने की एकदम सही अनुभव बता रहा हूँ।

मेरे एक चाचा मेरे साथ ही रहते हैं, उनकी एक लड़की है, उसका नाम ललिता है, मेरी चाची की मृत्यु हो चुकी है। मेरी बहन 18 वर्ष की है परन्तु उसका बदन काफी भरा हुआ है और वह जवानी की दहलीज पर कदम रख चुकी है, हालांकि मेरी शादी हो गई है, पर उसको देख कर दिल में कुछ होने लगता था, जब मैं उसको खेलते हुए देखता, खेलने के दौरान उसके उभरते हुए दूध देखता तो मेरे दिल में सनसनी फ़ैल जाती थी, दौड़ने के दौरान जब गोल गोल चुनमूनियाँड़ ऊपर-नीचे होते तो मेरा लण्ड पैंट के अन्दर मचल उठता था और उसके साथ खेलने (सेक्स का खेल) के लिए परेशान करने लगता था।

क्या कमसिन खिलती हुई जवानी है इसकी ! मुझे अपनी पाँच वर्ष पुरानी बीवी तो बूढ़ी लगने लगती थी।

मैं तो जब भी अपनी बीवी को चोदता तो मुझे अपनी बहन का ही चेहरा नजर आने लगता था। हालांकि मेरी बहन मुझसे करीब सतरह वर्ष छोटी है, परन्तु मैं अपनी सेक्स भावनाओं पर काबू पाने में असमर्थ था।

चूंकि हम लोगों का सम्मिलित परिवार है इसलिए सब एक दूसरे के यहाँ आते जाते थे और एक ही घर में रहने के कारण कभी कभार कुछ ऐसा दिख जाता था कि…

एक दिन मुझे अपनी बहन को नहाते हुए देखने का मौका मिल गया।

हुआ यूँ कि मैं किसी काम से अपने चाचा के घर में गया, मैंने चाचा को आवाज़ दी पर कोई उत्तर न मिलने के कारण मैं अन्दर चलता चला गया, मुझे कोई दिखाई नहीं दिया। तभी मुझे स्नानघर से पानी गिरने की आवाज़ आई।

मैंने फिर से चाचा को आवाज़ दी तो स्नानघर से ललिता की आवाज़ आई- भैया, पापा तो ऑफिस चले गए हैं।

मैंने कहा- अच्छा !

और वापस आने के लिए मुड़ गया किन्तु तभी मेरे मन में बसी वासना ने जोर मारा, मैंने सोचा कि ललिता कैसे नहा रही है, आज देख सकता हूँ क्योंकि चाचा के यहाँ कोई नहीं था और मौका भी अच्छा है।

मैंने स्नानघर की तरफ रुख किया और कोई सुराख ढूढने की कोशिश करने लगा, जल्दी ही मुझे सफलता मिल गई, मुझे दरवाजे में एक छेद नजर आ गया मैंने अपनी आँख वहाँ जमा दी।

अन्दर का नजारा देख कर मेरा रोम रोम खड़ा हो गया, अन्दर ललिता पूरी नंगी होकर फव्वारे का आनंद ले रही थी।

हे भगवान ! क्या फिगर है इसका ! बिल्कुल मखमली बदन, काले तथा लम्बे बाल, उभरती हुई चूचियाँ, बड़ी बड़ी आँखें, बिल्कुल गुलाबी होंठ और उसकी चुनमूनियाँ तो उफ़…. उभरी हुए फांकें और उसके आसपास हल्के हलके रोयें ! उसकी गाण्ड एकदम गोल और सुडौल ! भरी हुई जांघें !

इतना दखने के बाद मेरा तो बुरा हाल हो गया था, जब फव्वारे से उसके शरीर पर पानी गिर रहा था तो मोतियों की बूंदें ऐसे लग रही थी, मेरा तो हाल बुरा हो गया, मैंने बहुत कुंवारी लड़कियों को चोदा था पर इतनी मस्त लौंडिया मैंने कभी नहीं देखी थी।

तभी मैंने देखा कि ललिता अपनी चुनमूनियाँ और चूचियों में साबुन लगा रही है, इस दौरान वो अपनी चुनमूनियाँ में अपनी ऊँगली डालने की कोशिश कर रही थी।

मेरा लण्ड तो कठोर होकर पैंट के अन्दर छटपटा रहा था, मन में भी यही आ रहा था कि कैसे भी हो ललिता को अभी जाकर चोद दूँ।

क्योंकि आज के पहले जब मैं उसको कपड़ो में देख कर चोदने के सपने देखता था और आज नंगी देखने के बाद तो काबू कर पाना बड़ा मुश्किल हो रहा था।

तभी मेरा मोबाइल बज गया, यह तो अच्छा हुआ कि मोबाइल वाईब्रेशन मोड में था और घंटी नहीं बजी।

खैर मोबाइल की वजह से मैं धरती पर वापस आ गया और चूंकि यह फ़ोन चाचा का ही था तो मुझे वहाँ से हटना पड़ा।

बाहर आकर मैंने फ़ोन उठाया, तो उधर से चाचा ने पूछा- तुम कहाँ हो?

मैंने कहा- अपने कमरे में हूँ।

तो बोले- राज, एक काम है।

मैंने कहा- बताइये !

तो वे बोले- आज मुझे ऑफिस से आने में देर हो जायेगी और ललिता को आज मैंने वादा किया था कि कुछ कपड़े दिलाने बाज़ार ले जाऊँगा, क्या तुम मेरा यह काम कर सकते हो?

मुझे तो मुँह मांगी मुराद मिल गई थी, मैंने तुरंत कहा- चाचा जी आप परेशान न हों, मैं प्रिय को कपड़े दिला दूँगा।

और उधर से उन्होंने थैंक्स कह कर फ़ोन काट दिया।

इतने में मुझे बाथरूम का दरवाजा खुलने का अहसास हुआ, मैं तुरंत वहां से हट कर अपने कमरे में आ गया। मेरे दिमाग में योजना बननी शुरू हो गई कि कैसे मौके का फायदा उठाया जाए।

फिर मैं थोड़ी देर बाद ललिता के कमरे में गया, वो अपने बाल सुखा रही थी पंखे के सामने बैठ कर।

मुझे देखते ही तुरंत खड़ी हो गई।

मैंने कहा- ललिता कैसी हो?

वो बोली- ठीक हूँ भैया।

मैंने कहा- अभी चाचा जी का फ़ोन आया था, कर रहे थे कि आज तुमको शॉपिंग ले जाना था परन्तु आफिस में काम ज्यादा है, उन्हें देर हो जायेगी और तुमको शापिंग मैं करवा लाऊँ। उसने कहा- ठीक है भैया, कितने बजे चलेंगे?

मैंने कहा- तुम तैयार हो जाओ, हम लोग अभी निकलेंगे और दोपहर का खाना भी बाहर खायेंगे क्योंकि मेरी मम्मी बुआ के घर गई हैं और तुम्हारी भाभी (मेरी पत्नी चूंकि टीचर है) तो शाम तक आएँगी, आज मैं शॉपिंग के साथ तुमको पार्टी भी दूँगा।

उसके चेहरे पर चमक आ गई।

खैर मैंने 11 बजे के करीब उसको अपने स्कूटर पर बैठाया और निकल पड़ा बाजार जाने को !

मैंने स्कूटर एक बड़े मॉल में जाकर रोका, तो ललिता चौंक कर बोली- भैया, यहाँ तो बड़े महंगे कपडे मिलेंगे?

मैंने उससे कहा- तो क्या हुआ, महँगे कपड़े अच्छे भी तो होते हैं ! और फिर तुम इतनी सुन्दर हो, अच्छे कपड़ों में और ज्यादा सुन्दर लगोगी।

तो उसका चेहरा लाल हो गया।

मॉल के अन्दर जाकर कपड़े पसन्द करते समय वो मुझसे बार-बार पूछती रही- भैया, यह कैसा लग रहा है? वो कैसा है?

खैर चार जोड़ी कपड़े चुन करके वो ट्राई रूम में गई। ट्राई रूम थोड़ा किनारे बना था और उस समय माल में ज्यादा लोग थे भी नहीं, मैं ट्राईरूम के बाहर ही खड़ा हो गया।

वो पहन कर आती और मुझसे पूछती- यह कैसा लग रहा है? ठीक है या नहीं?

उसने वो चारों जोड़ी कपड़े पसन्द कर लिए।

उसके बाद मैंने पूछा- ललिता, और कुछ लेना है?

तो वो बोली- हाँ, मगर वो मैं अकेले ही ले लूंगी।मैंने सोचा ऐसा क्या है, खैर मैंने देखा कि वो महिला सेक्शन में जा रही थी।

उसने कुछ अंडर गारमेंट लिए और जल्दी से पैक करा लिए जब वो लौट कर मेरे पास आई तो मैंने कहा- मैंने तो देख लिया है।

तो वो शर्मा गई।

मैंने उसको छेड़ते हुए कहा- तुम इनका ट्रायल नहीं दिखाओगी क्या?

तो वो और शरमा गई।

मैंने माहौल को सामान्य करते हुए कहा- मैं तो इसलिए कहा रहा था कि तुम्हारी भाभी को तो यह सब मैं ही ला कर देता हूँ, अगर तुम इसके लिए भी मुझसे कहती तो मैं तुमको अच्छी चीज दिला देता।

बात उसकी समझ में आ गई, वो बोली- भैया गलती हो गई।

मैंने कहा- चलो अभी चलते हैं।

मैं उसको महिला विभाग में ले गया और सेल्स गर्ल से विदेशी अंतर्वस्त्र दिखाने को कहा।

चूंकि ललिता थोड़ी देर पहले ही उससे कुछ अंतर्वस्त्र लाई थी, अतः उसने उसी नाप के अंतर्वस्त्र दिखाने लगी।

उन अंतर्वस्त्रों को देख कर ललिता के अन्दर की ख़ुशी मैंने उसके चेहरे से पढ़ ली, मैंने कहा- चलो जाओ और ट्राई करलो !

तो वो चेहरा घुमा कर हंसने लगी।

उसके बाद मैंने उसको मुख-शृंगार का सामान भी दिलवाया अपनी पसंद से !

हालांकि वो मना कर रही थी पर मैंने कहा- यह मेरी तरफ से है।

यह सब खरीदने के बाद हम लोग वहीं एक रेस्तरां में गए। मुझे पता था कि इस समय रेस्तरां में ज्यादातर प्रेमी प्रेमिका ही आकर बैठते थे।

मैंने एक किनारे की सीट चुनी और हम दोनों उसी पर जाकर बैठ गए।

मैंने उससे पूछा- तुम क्या खाओगी?

तो वो बोली- जो आप मंगा लेंगें वही मैं भी खा लूंगी।

मैंने उसको छेड़ते हुए कहा- अंतर्वस्त्र लेते समय तो यह ख्याल नहीं किया? और फिर मेरे कहने पर ट्राई भी नहीं किया?

तो वो शरमा गई और बोली- क्या भाभी आपकी पसंद से लेती हैं? और वो यहाँ पर ट्राई करके दिखाती हैं?

तो मैंने कहा- हाँ ! पसंद तो मेरी ही होती है पर ट्राई करके वो घर पर दिखाती है। क्या तुम मुझे घर पर दिखाओगी?

उसको कोई जवाब नहीं सूझा तो वो मेरा चेहरा देखते हुए बोली- हाँ दिखा दूँगी।

मेरा दिल जोर से धड़कने लगा। तभी वेटर आ गया और खाने का आर्डर ले गया।

खाना ख़त्म कर हम लोग करीब दो बजे घर आ गए, ललिता बहुत खुश लग रही थी क्योंकि उसको मेरे साथ शॉपिंग में कुछ ज्यादा ही अच्छा लगा।

शाम को उसने अपनी शॉपिंग का सामान मेरी माँ और बीवी को भी दिखाया पर अंतर्वस्त्र और शृंगार का सामान नहीं दिखाया।

क्रमशः..................


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: Hindi Sex Stories By raj sharma

Unread post by raj.. » 07 Nov 2014 17:35



चचेरी और फुफेरी बहन की सील--2

गतान्क से आगे..............

दूसरे दिन सुबह मेरी माता जी को कुछ काम से बाजार जाना था, मेरी बीवी स्कूल चली गई थी, मैं कल वाले समय पर ही चाचा जी के कमरे की तरफ चला गया और मैंने आज पहले ही निश्चय कर लिया था कि आज अपनी प्यारी सेक्सी बहना की कुँवारी चुनमूनियाँ की सील तोड़नी हैं।

इसलिए मैं केवल एक तौलिया बांधे था, मेरा अनुमान सही था, चाचा जी ऑफिस जा चुके थे और ललिता बाथरूम में नहा रही थी।

मैंने फिर से कल वाली पोजिशन ले ली, मैंने देखा कि आज ललिता की चुनमूनियाँ बिल्कुल चिकनी है, शायद उसने अपनी झांटें साफ़ की हैं नहाने से पहले। आज वो अपनी चुनमूनियाँ पर हाथ ज्यादा चला रही थी, उसकी चूचियाँ कड़ी कड़ी लग रहीं थी और आँखें बंद थी।

मेरा लण्ड ललिता की चुनमूनियाँ में घुसने के लिए मचला जा रहा था।

कुछ सोच कर मैं वहाँ से हट कर ललिता के कमरे में चला गया और ऐसी जगह बैठ गया कि वो मुझे कमरे में घुसते ही न देख पाए।

ललिता थोड़ी देर बाद कमरे में आई, वो अपने बदन को केवल एक तौलिये से ढके थी, कमरे में आते ही वो अपने ड्रेसिंग टेबल की तरफ गई और तौलिया हटा दिया।

उफ़ क्या मस्त लग रही थी मेरी बहना ! उसके शरीर पर यहाँ वहाँ पानी की बूंदें मोती की तरह लग रही थी, चुनमूनियाँ एकदम गुलाबी, चूचियाँ बिल्कुल कड़ी, उन्नत गाण्ड देख कर मेरी तो हालत ख़राब हो गई।

उसने कल वाले अंतर्वस्त्र उठा लिए, उनमे से एक को चुना और पैंटी को पहले पहनने लगी।

किन्तु उसको शायद वो कुछ तंग लगी, फिर उसने दूसरी पैंटी ट्राई किया मगर वही रिजल्ट रहा, अब उसने पैंटी छोड़ कर ब्रा उठाई लेकिन ब्रा में भी वही हुआ, उसकी चूचियाँ कुछ बड़ी लग रही थी, ब्रा भी फिट नहीं थी।

अब मुझसे बर्दाश्त भी नहीं हो रहा था, मैंने अपनी जगह से खड़ा हो गया।

मुझे देख कर उसकी आँखें फट गई, वो इतना घबरा गई कि अपनी चुनमूनियाँ या अपनी चूची छिपाने का भी ख्याल नहीं आ पाया उसको !

बस फटी हुई आँखें और मुँह खुला रहा गया।

मैं धीरे से चल कर उसके पास गया और कहा- कल अगर मेरी बात मान लेती और ट्राई कर लेती तो तुमको आज यह परेशानी नहीं होती।

अब उसको कुछ समझ आया तो जल्दी से तौलिया उठाया और लपेटने के बाद मेरी तरफ पीठ करके पूछा- भैया, आप कब आये?

मैंने उसके कंधे पर हाथ रख कर कहा- मेरी सेक्सी बहना ! मैं तो तब से यहाँ हूँ जब तुम चाचा जी के रेजर से अपनी झांटें साफ़ कर रही थी।

मैंने ऐसे ही तुक्का मारा।

अब तो तौलिया उसके हाथ से छूटते बचा।

वो मेरी तरफ बड़े विस्मय से देखने लगी और मेरे चहरे पर मुस्कराहट थी क्योंकि मेरा तीर निशाने पर लग गया था।

मैंने उसके कंधे को सहलाते हुए कहा- तुमने कुछ गलत थोड़े ही किया है जो डर रही हो? इतनी सुन्दर चीजों की साफ़ सफाई तो बहुत जरूरी होती है। अब तुम्हीं बताओ कि ताजमहल के आसपास अगर झाड़-झंखार होगा तो उसकी शान कम हो जायेगी न मेरी प्यारी बहना?

अब पहली बार वो मुस्कुराई और अपनी चुनमूनियाँ की तारीफ सुन कर उसके गाल लाल हो गए।

अगले पल ही वो बोली- खैर अब आपने ट्रायल तो देख ही लिया, अब आप बाहर जाइए तो मैं कपड़े तो पहन लूँ !

मैंने कहा- प्यारी बहना, अब तो मैंने सब कुछ देख ही लिया है, अब मुझे बाहर क्यूँ भेज रही हो?

वो बोली- भैया, आप भी बहुत शैतान हैं, कृपया आप बाहर जाइए, मुझे बहुत शरम आ रही है।

अचानक मैंने अपने दोनों हाथ उसकी कमर पर डाले और हल्का सा झटका दिया तो वो संभल नहीं पाई और उसकी चूचियाँ मेरे नंगे सीने से आकर टकराईं क्योंकि मैंने भी केवल तौलिया ही पहना हुआ था।

मैंने अपने हाथों के घेरे को और कस दिया ताकि वो पीछे न हट सके और तुरंत ही अपने होंठों को उसके गुलाबी गुलाबी होंठों पर रख दिया।

मेरे इस अप्रत्याशित हमले से उसको सँभालने का मौका ही नहीं मिला और मैंने उसको गुलाबी होंठों का रस पीना शुरू कर दिया।

वो मेरी पकड़ से छुटने के लिए छटपटाने लगी मगर मुँह बंद होने के कारण कुछ बोल नहीं पा रही थी।

थोड़ी देर उसके कुवांरे होंठों को चूसते हुए मेरे हाथ भी हरकत में आ गए, मैंने अपना एक हाथ तौलिये के नीचे से उसकी सुडौल गाण्ड पर फेरना शुरू किया और फेरते फेरते तौलिये को खीँच कर अलग कर दिया।

अब एक 18 वर्ष की मस्त और बहुत ही खूबसूरत लौंडिया बिल्कुल नंगी मेरी दोनों बाँहों के घेरे में थी और मैं उसके कुँवारे होंठों को बुरी तरह से चूस रहा था, अब मेरा हाथ उसके गाण्ड के उभार से नीचे की तरफ खिसकने लगा, उसकी छटपटाहट और बढ़ रही थी, मेरा हाथ अब उसकी गाण्ड के छेद पर था, उंगली से मैंने उसकी मस्त गाण्ड के फूल को सहलाया, तो वो एकदम चिहुंक गई।

फिर मेरी उंगलियाँ गाण्ड के छेद से फिसलती हुई उसकी कुँवारी चुनमूनियाँ तक पहुँच गई। मैं उसकी कुँवारी चुनमूनियाँ के ऊपर अपनी पूरी हथेली से सहलाने लगा, मेरा तना हुआ सात इंच का लण्ड तौलिये के अन्दर से उसके नाभि में चुभ रहा था क्योंकि उसकी लम्बाई में मुझसे थोड़ी कम थी। उसकी आँखों से गंगा-जमुना की धार निकल पड़ी क्योंकि उसको शायद मेरे इरादे समझ आ गए थे और वो यह भी समझ गई थी कि अब पकड़ से छूटना आसान नहीं, शोर भी नहीं मचा सकती थी क्योंकि उसके होंठ मेरे होंठो में अभी तक कैद थे।

इधर मेरी उंगलियाँ अब उसकी कुँवारी चुनमूनियाँ की फांकों को अलग अलग करने लगीं थी, मैंने अपनी एक ऊँगली उसकी चुनमूनियाँ के अंदर घुमा कर जायजा लेना चाहा पर उसकी चुनमूनियाँ इतनी कसी हुई थी कि मेरी उंगली उसके अन्दर जा ही नहीं सकी।

खैर मैंने उसको धीरे धीरे सहलाना चालू रखा, जल्दी ही मुझे लगा कि मेरी उंगली में कुछ गीला और चिपचिपा सा लगा और मेरी प्यारी बहना का शरीर कुछ अकड़ने लगा, मैं समझ गया कि इसकी चुनमूनियाँ को पहली बार किसी मर्द की उंगलियों ने छुआ है जिसे यह बर्दाश्त नहीं कर सकी और इसका योनि-रस निकल आया है

मैं तुरंत अपनी उँगलियों को अपने मुँह के पास ले गया, क्या खुशबू थी उसकी कुँवारी चुनमूनियाँ की !

मेरा लण्ड अब बहुत जोर से उछल रहा था तौलिये के अन्दर से, मैंने अपने हाथ से अपने तौलिए को अपने शरीर से अलग कर दिया, जैसे ही तौलिया हटा, ललिता को मेरे लण्ड की गर्मी अपने पेट पर महसूस हुई। शायद उसको कुछ समझ नहीं आया कि यह कौन सी चीज है जो बहुत गर्म है।

खैर अब मेरे और मेरी प्यारी और सेक्सी बहना के बदन के बीच से पर्दा हट चुका था, अब हम दोनों के नंगे शरीर एक दूसरे का अहसास कर रहे थे। ललिता की साँसें बहुत तेज चल रही थी।