हिन्दी में मस्त कहानियाँ

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: हिन्दी में मस्त कहानियाँ

Unread post by rajaarkey » 01 Nov 2014 07:25

माँ चुद गयी सुहागरात में
हाय अल्ला, मैं बिलकुल सच्ची सच्ची बता रही हूँ तुझे . सुहागरात थी मेरी और चुद गयी मेरी माँ ? हां हां , मैं तो हैरान हो गयी जब मुझे चोदने वाला मेरा हसबैंड नहीं कोई और दो लड़के थे . एक लण्ड मैं मुह में लेकर चूस रही थी तब तक किसी ने एक लण्ड मेरी चूत में पेल दिया . लण्ड मुझे चूत में पेलवाना अच्छा लगा इसलिए मैं कुछ बोली नहीं बस चुदवाती रही . थोड़ी देर में चूत वाला लण्ड मुह में घुस गया और मुह वाला लण्ड चूत में . मैं समझी की एक लण्ड मेरे मियां का है और दूसरा उसके दोस्त का होगा ? हमारे यहाँ अक्सर ऐसा होता है की दूल्हा का दोस्त भी दुल्हन को चोदने लगता है . दुल्हन खूब मजे से दोनों लण्ड से चुदवाती है . इसलिए मैं भी चुदवाने लगी . जब थोड़ी रौशनी हुई तो मैंने देखा की उन दोनों में से मेरा हसबैंड कोई नहीं है ? मैं थोडा हैरान हुई . तब तक मेरी ननद बोली भाभी चिंता न करो तेरा हसबैंड अपनी भाभी की बुर चोद रहा है . और तुझे एक तो मेरा हसबैंड चोद रहा है और दूसरा उसका दोस्त .
मैंने कहा :- इसका मतलब यह है की यहाँ न तो मेरा हसबैंड है और न ही मेरे हसबैंड का दोस्त ?
नन्द बोली :- अरी मेरी बुर चोदी भाभी तुझे आज के दिन लण्ड से मतलब है की आदमी से ? तुझे दो लण्ड चाहिए आज सुहागरात के दिन बस ? अब लण्ड किसका है इसकी चिंता न कर . तू जा और मस्ती से चुदवा ?
इतने में मैं बाथ रूम जाने लगी .
तब मैंने देखा की यहाँ तो मेरी माँ चुद रही है . चोदने वाले एक नहीं तीन तीन लण्ड है . एक उसकी बुर में घुसा है . दूसरा उसके मुह में और तीसरा गांड मार रहा है . लेकिन मेरे माँ के चेहरे में तनिक भी सिकन नहीं है . वह तो बड़े मजे से तीनो लण्ड झेल रही है . गचागच भकाभक चुदवा रही है . बड़ी मस्त से चुदवा रही है मेरी माँ .
मैंने कहा हाय अल्ला, कैसा इत्तिफाक है ?
सुहाग रात है मेरी और चुद रही है मेरी माँ ?
मैंने कहा :- तू भोषड़ी की मेरी ननद मेरी माँ चुदवा रही है वह भी मेरी सुहागरात में ? तू तो बहुत ज़ालिम है .
ननद बोली :- अरी बहन की लौड़ी मेरी भाभी, तेरी ही माँ ही नहीं चुद रही है ? ज़रा आगे बढ़ कर देख मेरी भी माँ चुद रही है . वह भी खुले आम ?
मैंने आगे कदम बढाया तो वहां का सीन देख कर ज्यादा हैरान हो गयी . मैंने देखा की मेरे मियां की माँ चुद रही है और चोदने वाला कोई और नहीं बल्कि मेरे अब्बू है . मेरा अब्बू अपना पूरा लण्ड बार बार बाहर निकाल निकाल कर फिर पेल देता है है मेरी सास की चूत में . मैं मन ही मन बहुत खुश हुई की चलो मेरी माँ के साथ साथ मेरे मरद की भी माँ चुद रही है . इस समय मेरे अब्बू का लौड़ा बड़ा खूखार हो गया है ,. वास्तव में मेरी सास का भोषडा ऐसे चुद रहा है की जैसे कोई घोडा घोड़ी की चूत चोदता है . इतने में मेरी ननद बोली भाभी ज़रा बगल के कमरे भी झाँक कर देख ले न . मैंने जब वहां देखा तो और मस्त हो गयी मैं ? मैंने देखा की मेरा शौहर अपनी भाभी की बुर चोद रहा है . मैंने मन ही मन कहा वाह वाह क्या चारों तरफ चुदाई हो रही है ?
मैंने सोचा की जब की मेरी माँ चुद रही है . मेरे मियां की माँ चुद रही है . मेरी जेठानी चुद रही है तो फिर मुझे गैर मर्दों से चुदाने में क्या परहेज ?
मैं तुरंत लौट आयी अपने बेड पर और बुर खोल कर टाँगे फैला दी . वे दोनों तो लण्ड खड़ा किये हुए मेरा इंतज़ार कर ही रहे थे ,. एक ने मेरी बुर में पेला लण्ड और दूसरे ने मुह में . मुझे दुगुना मज़ा आने लगा . लेकिन इस बार चोदने वाले बदल गए थे . मैंने पूंछा भी नहीं ? मुझे तो लण्ड पसंद आये तो मैं चुदवाती चली गयी . मेरी ननद ने खुद बताया की जब तुम अपनी माँ की चुदाई देख रही थी तो मेरी खाला उन दोनों को अपने कमरे में ले गयी और खुद ही चुदाने लगी . उनके बदले में मैंने अपने देवर और अपने जीजू को भेज दिया है तुम्हे चोदने के लिए . इस बार चुदाने में मुझे ज्यादा मज़ा आ रहा था .
मैंने पूंछा :- हाय मेरी ननद यहाँ घर में मेरी माँ चुद रही है , मेरी सास चुद रही है मेरी जेठानी चुद रही है और मेरी खाला सास चुद रही है . मैं चुद रही हूँ तो तू मादर चोद क्यों नहीं चुद रही है ? क्या तेरी चूत बुर चोदी अभी तक गरम नहीं हुई ?
ननद बोली :- हाय भाभी मेरी चूत तो भठ्ठी हो गयी है . पर मेरे घर के रिवाज़ के मुताबिक भाई जान की सुहागरात में बहन सबकी चुदाई का पूरा इंतजाम करती है . घर भर की सभी बुर चोदी जाती है इस दिन . सबकी बुर में लण्ड पेले जाते है . लेकिन पराये मर्दों के लण्ड ? यहाँ तुमने देखा की कोई भी अपनी बीवी की बुर नहीं चोद रहा है . सब दूसरी की बीवियां चोद रहे है . सभी औरतें गैर मर्दों से चुदवा रही है . कोई एक लण्ड से कोई दो लण्ड से कोई तीन लण्ड से . अगर लण्ड की कमी होती है तो मैं बाहर से लण्ड मंगवा लेती हूँ . लेकिन सबकी चूत को पूरा मज़ा देती हूँ .
ऐसा कहा जाता है की इस दिन अगर सबकी चूत अच्छी तरह चुदती है तो वह ज़िन्दगी भर खूब चुदती रहेगी . उसे कभी लण्ड की कमी महसूस नहीं होगी ? एक और कहावत है भाभी :-
हनीमून इक जश्न है, चूसो चाटो लण्ड .
अपनी बुर में पेलिये, सब मर्दों के लण्ड .
जहाँ तक मेरी चुदाई का सवाल है . जो लोग आज सबको चोद रहे है वही लोग कल मुझे चोदेंगें .
मैंने कहा :- तो कल तुम मेरे अब्बू से भी चुदवाओगी ?
उसने कहा :- हां बिलकुल कल उसके लण्ड का मज़ा लूंगी मैं . वैसे मैंने देखा है की तेरा अब्बू मादर चोद बड़ा चोदू है . उसका लण्ड भी सबसे बड़ा है .
मैंने कहा :- तो आज तेरा अब्बू किसको चोद रहा है ?

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: हिन्दी में मस्त कहानियाँ

Unread post by rajaarkey » 01 Nov 2014 07:25


उसने बताया :- आज मेरा अब्बू पड़ोसन की बुर चोद रहा है . वह अकेली है . उसका हसबैंड बाहर गया है . तो वह मेरे अब्बू को ले गयी चुदवाने के लिए . मेरी नयी पड़ोसन है . अभी ३२ साल की है . बड़ी जबरदस्त लण्ड की दीवानी है . अभी दो दिन पहले ही उसने मेरे हसबैंड का लण्ड मेरे सामने ही पकड़ लिया और मेरे बेड पर लेट कर ही चुदवाया . मैं कुछ नहीं बोलीं . मैं भी उसके हसबैंड को नंगा करके अपने घर ले आयी . और लण्ड अपनी बुर में पेल कर चुदवाने लगी . मैं किसी से कम नहीं हूँ भाभी ? मेरी चूत साली बड़ी चुदक्कड़ है
दोस्तों, मेरा नाम हया है और मेरे हसबैंड का नाम हबीब . यहाँ सुहागरात मनाने के बाद मैं फिर गोवा चली गयी अपने हसबैंड के साथ सुहागरात मनाने क्योंकि मैंने अभी तक अपने मियां से चुदवाया ही नहीं था . वहां पहुँचने पर मैंने अपना सामान रूम में रखा और हम दोनों बाहर घूमने के लिए निकल ही रहे थे मेरे बगल के कमरे में एक कपल आ गया . इतीफाक से जब मैंने उसको देखा तो कहा अरे सना तू यहाँ कैसे ? सना मेरे कॉलेज के दिनों की फ्रेंड है . उसने कहा यार हया मैं यहाँ अपने हसबैंड के साथ हनीमून पर आयी हूँ . ये मेरे मियां सफी है और इसके साथ इसका दोस्त रफ़ी भी है . मैंने कहा यार तो इसके सामने तुम कैसे मनाओगी हनीमून ?उसने कहा अरे मेरी जान यह भी मेरे साथ रहेगा . फिर वह मुझे एक कोने में ले गयी और बोली मैं इन दोनों से चुदवाकर मनाऊंगी हनीमून . मैंने इस बात पर अपने हसबैंड को मना लिया है की जब रफ़ी की बीवी अपने माईके से आ जाएगी तो मेरा हसबैंड उसे चोदेगा . यार मैं दो लण्ड से चुदवाकर हनीमून मानना चाहती हूँ . मैंने कहा यार मुझे भी मौका दो न प्लीज . मैं भी इन दोनों से चुदाना चाहती हूँ . उसने कहा यार तुम अपने मियां से बात कर लो . वह मान जाये तो मेरे कमरे में आ जाना .फिर हम सब मिल कर मनायेगें हनीमून . दो चूत और तीन लण्ड के साथ . लण्ड अदल बदल कर चुदवाने में बड़ा मज़ा आएगा .
मैंने जब अपने हसबैंड से कहा तो वह बहन चोद फ़ौरन तैयार हो गया . बस हम दोनों सना के कमरे में चले गए . सना ने ड्रिंक्स का इंतजाम किया था . हम पांचो लोग शराब का मज़ा लेने लगे .सना ने धीरे धीरे अपनी चूंचियां खोल दी और मुझे भी खोलने का इशारा किया . मैंने तो चूंचियां क्या चूत भी खोल कर दिखा दिया . सना का मियां मुझे नंगी देखता रहा . रफ़ी ने तो हाथ बढाकर मेरी चूंचियां पकड़ ली . सना का हसबैंड अपनी बीवी को भूल गया और मेरी तरफ आकर मुझे चिपका लिया . मैं उसका लंड टटोलने लगी . सफी के बगल में रफ़ी था मैं उसका भी लंड ढूढने लगी . दोनों मदर चोदों को नंगा करके उनके लंड पकड़ लिया . मेरे दोनों हाथ में लंड आ गए . सना मेरे हसबैंड का लंड पकड़ कर सहलाने लगी . लंड टन टना उठा .
सना बोली :- हाय अल्ला, हया तेरे मियां का लण्ड तो गज़ब का है ? यार ये तो मेरी चूत फाड़ देगा .
मैंने कहा :- तो क्या फडवा ले न अपनी चूत ? देख मैं भी तो चूत फडवाने ही आयी हूँ यहाँ ? मैं तो एक ही लण्ड से फडवाने आयी थी यहाँ मुझे दो नये लण्ड मिल गए .
सना बोली :- हां यार इत्तिफाक है ? मुझे भी दो के वजाए तीन लण्ड मिल गये .
गोवा से चुदवा कर जब मैं वापस अपने घर गयी तो देखा की मेरी माँ भोषड़ी वाली एकदम नंगी पड़ी है .
उसके हाथ में मेरे ससुर का लण्ड है और बुर में मेरे पडोसी का लण्ड. अम्मी बड़े मजे से दोनों लण्ड से चुदवाने में लगी है . मैं थोडा छुप गयी तो देखा की ससुर का लण्ड अम्मी के मुह में घुस गया और पडोसी का लण्ड अम्मी की गांड में . मुझे अपने ससुर का लण्ड ज्यादा पसंद आया . ज्यादा मोटा था उसका लण्ड . और वह पूरा लण्ड पेल पेल कर चोद रहा था . फिर मैं रुकी नहीं मुझे भी जोश आ गया .
मैं कमरे में घुस गयी और बोली :- अम्मी तुम पडोसी से चुदवाओ और मेरे ससुर का लण्ड मेरी बुर में पेल दो .
इसका लौडा बहन चोद मुझे बहुत पसंद आ गया है . अब मुझे जम कर चुदवा लेने दो .

=०=०=०=०=०=०=०=०=०=०=०=०=० समाप्त

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: हिन्दी में मस्त कहानियाँ

Unread post by rajaarkey » 01 Nov 2014 07:26

बहू की बुर सास का भोसड़ा
सासू जी बोली :- आज मैं खुल कर कह रही हूँ तुमसे बहू की मेरी बुर बहुत चुदासी है . कई दिनों से कोई लौड़ा इसमें नहीं घुसा है बहू रानी ? मैं समझती हूँ की तुम बहुत ऐसे मर्दों को जानती हो जो अपना लण्ड मेरी बुर में घुसा सकते है . प्लीज उन्ही में से किसी को बुला कर उसका लौड़ा मेरी चूत में पेल दो . चुदवा लो अपनी सास का भोसड़ा ? जैसे तुम अपनी माँ चुदवाती हो वैसे ही तुम अपनी सास चुदाओ . कल जब मैंने तुम्हे अपने बॉय फ्रेंड से चुदवाते हुए देखा तो मेरा भी मन हुआ की मैं भी कमरे में घुस जाऊं और पकड़ लूं उसका लण्ड ? फिर मैंने सोंचा कि नहीं यह अच्छा नहीं होगा ? मैं अगर चुदा लूंगी तो मेरी बहू बिचारी चुदासी रह जायेगी . यही सोच कर मैं नहीं आयी तेरे पास बहू . वैसे मुझे उसका लण्ड बहुत पसंद आया, बहू
बहू बोली :- वो मेरी सहेली का मियां है, सासू जी . मैं जब कब उससे चुदवा लेती हूँ . तुमने कल बताया होता तो मैं उसका लण्ड तेरी बुर में पेल देती . मैं किसी और को बुला कर चुदवा लेती . सासू माँ, देखो चुदाने में कोई संकोच नहीं करना चाहिए . न डरना चाहिए और न शर्माना चाहिये ? ऐसा मेरी माँ कहती है . जब वह चुदासी होती है तो मेरी बुर से लौड़ा निकाल कर अपनी बुर में पेल लेती है . मैं जब चुदासी होती हूँ तो अपनी माँ की चूत से लौड़ा खींच कर अपनी चूत में घुसेड़ लेती हूँ . अब आज से तुम मुझसे न शर्म करना और न झिझकना, समझी मेरी बुर चोदी सासू माँ ? चुदाना हो तो मेरी गांड में दम कर देना मैं कोई न कोई लण्ड जरुर घुसेड़ दिया करूंगी तेरी चूत में ? मेरे पास बहुत लोग है जो माँ की चूत चोदने में बड़े एक्सपर्ट है .
सासू बोली :- वाह कितनी अच्छी है मेरी बहू ? कितना ख्याल रखती है अपनी सासू जी का और सासू जी के भोसड़ा का ?
दूसरे दिन मैं सवेरे जैसे ही अपनी झाटें बनाकर बाथ रूम से निकली, वैसे ही किसी ने डोर बेल बजा दी . मैंने उस समय सिर्फ एक बड़ी सी तौलिया अपनी चूंचियों तक लपेटे हुए धीरे से दरवाजा खोला तो सामने मेरे बॉस विक्रम खड़े थे . मेरे बाल भीगे थे . मैंने उसे अंदर बैठाया और मैं कपडे बदलने जाने लगी तो वह बोला रुको मोनिका सुनो यह एक मैसेज है इसे हेड ऑफिस भेज देना आज मैं ज़रा देर से आऊंगा ? इतने में मेरी सासू जी आ गयी . वह जींस और बिना ब्रा के टॉप पहने हुई थी . उसकी चूंचियां झूम रही थी जिन्हे विक्रम बड़ी तेज निगाह से देख रहा था . मैंने उसे अपनी बॉस से मिलवाया . बॉस जाने लगा तो सासू जी बोली ऐसे कैसे जा सकते हो . चाय तो पीकर जाओ ? वह बैठ गया और मैं भी तौलिया में लिपट कर किसी तरह बैठ गयी . वह बोला यार मोनिका आज तुम बहुत सुन्दर लग रही हो . और ये तेरी सास तो बला की खूबसूरत औरत है . मैंने उसके कान में कहा अब क्या मेरी सास भी चोदोगे सर . उसने आगे कहा अपनी जवानी में तो इसके बड़े जलवे होंगे ? मैं हंस पड़ी . मैंने कहा जलवे तो आज भी है उसके सर ? मैं फिर उसके कान में बोली क्या तेरा लण्ड भोसड़ी का पैंट के बाहर हो रहा है ? तब तक सासू जी चाय लेकर आ गयी . उसने झुक कर चाय रखी तो उसकी बड़ी बड़ी चूंचियों पर बॉस की नज़र पड़ी . उसने बड़ी दूर तक चूंचियां देख ली . मेरा बॉस चाय पीकर चला गया . तब सासू जी कहती हैं कि हाय मोनिका तेरा बॉस तो बाद स्मार्ट है . इसका लौड़ा भी बड़ा मस्त होगा . किसी दिन ले आओ बहन चोद को मैं इसका लौड़ा देखना चाहती हूँ . मेरी चूत में आज ही से आग लग गयी है .
एक दिन मैं जब ऊपर से उतर रही थी तो सासू जी ने मुझे बुलाया और कहा बहू इनसे मिलो ये है मिस्टर जॉनसन मेरे कॉलेज के दोस्त . उस दिन मैं बिना ब्रा के टॉप पहने थी . सासू जी बोली बहू थोडा नास्ता वगैरह ले आओ . मैं पहले पानी लायी और झुक कर रखा फिर दो तीन बार नास्ता रखा, हर बार मैं झुक जाती थी और मेरी चूंचियां अंकल को दिख जाती थी . उसके बाद जब तक मैं बैठी रही तब तक वह मेरी चूंचियां ही देखा रहा . वह बोला यार सोफिया तेरी बहू बड़ी खूबसूरत है . मेरा तो दिल आ गया है इस पर . सासू जी जॉनसन के कान में बोली क्या तेरा लौड़ा खड़ा हो रहा है ? वह मुस्कराने लगा . (यह बात सासू जी ने मुझे बाद में बताई )
एक दिन जब मैंने फिर सासू जी कहा तो वह भड़क गयी बोली ये क्या बार बार सासू जी सासू जी लगा रखा है तूने ? मेरा नाम है सोफिया . तुम मुझे सोफिया कहा करो मैंने बोली ऐसे कैसे हो सकता है सासू जी ? वह बोली सोफिया न कहो तो बुर चोदी सोफिया कहो . मादर चोद सोफिया कहो भोषड़ी की सोफिया कहो . पर गाली दे कर कहो . मैं भी तुम्हे बहू नहीं कहूँगी . मैं तुम्हे माँ की लौड़ी मोनिका कहूँगी .
दूसरे दिन मेरी वही सहेली कैंडी आ गयी जिसके हसबैंड से मैं उस दिन चुदवा रही थी . हम दोनों बातें करने लगी . इतने में उसका फोन आ गया .
वह बोली :- हां निकोलस अंकल आ गये हो ? कोई दिक्कत तो नहीं हुई तुझे ?
वह बोला :- हां हा मैं तो तेरे घर में ही बैठा हूँ . कोई दिक्कत नहीं हुई मुझे . मैं तेरे बताये हुए रस्ते पर चला आया . यहाँ मुझे मालूम हुआ है की तेरा हसबैंड विदेश चला गया .
कैंडी बोली :- तो क्या हुआ ? मेरी भोसड़ी वाली माँ तो है न घर में ? तुम माँ चोदो मेरी, अंकल ?
वह बोला :- तुम कब तक आओगी कैंडी ?
कैंडी ने जबाब दिया :- देखो अंकल आज रात को मैं एक चुदाई पार्टी में जा रही हूँ . तुम मेरी माँ का चोदो भोसड़ा और मारो उसकी गांड ? मैं कल चुदाऊंगी तुमसे ? तेरा बहन चोद लौड़ा इतना बड़ा है की मैं बिना चुदाये रह ही नहीं सकती . कहो तो मैं तेरे लिए आज रात को २/३ चूत बुक करा दूं . चोदते रहना रात भर ?
वह बोला :- हा यार बुक करा दो . मैं भी आज कोई नयी बुर चोदना चाहता हूँ .
उसका फोन जैसे ही बंद हुआ वैसे ही मैं बोली :- अरी कैंडी :- आज अपने अंकल का लौड़ा मेरे लिए बुक कर दे न ? आज मैं चुदा लूंगी उससे और अपनी सास भी चुदवा लूंगी .
उसने निकोलस को फोन लगा दिया और कहा सुन मादर चोद अंकल आज रात को तुम मेरी सहेली मोनिका की बुर चोदना और उसकी माँ का भोसड़ा भी ? रात भर चोदना दोनों को खूब मज़ा लेना . मैं आकर पूछूंगी ?