प्यार हो तो ऐसा compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: प्यार हो तो ऐसा

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 01:02


“मैं सच कह रहा हूँ बलवंत, मैने खुद किसी को अभी अभी खेत के उस पार जो जुंगल है उसमे जाते हुवे देखा है, मुझे पूरा यकीन है कि वो मदन की बहन ही होगी, दूर से वो कोई लड़की जैसी ही लग रही थी”

“बलवंत जल्दी से सभी को बुलाओ हूमें उसे हर हाल में पकड़ना है” --- वीर ने कहा


“मालिक इस वक्त उस जंगल में जाना ख़तरे से खाली नही है, मेरी बात मानिए हम उशे सुबह ढूंड लेंगे, वो अकेली लड़की भाग कर जाएगी भी कहा”


“पर मुझे डर है कि सुबह तक उसकी लाश ही मिलेगी” --- वीर ने कहा

“वो तो है मालिक पर इसके अलावा हम कर भी क्या सकते हैं, आप तो जानते ही हैं सतपुरा के इन जुंगलों को”


वीर किसी सोच में डूब जाता है और कहता है, “ठीक है चलो… कल सुबह देखेंगे”


वीर सभी को लेकर वाहा से चल देता है.


साधना साँस रोके चुपचाप बैठी है. वो सूकर मना रही है की वो लोग जा रहे हैं. पर एक बात मन ही मन उशे परेशान कर रही है कि ठाकुर के आदमियों ने जंगल में जाते हुवे किसको देखा है ?




इधर हवेली में रेणुका अपने कमरे से निकल कर उस कमरे की तरफ देखती है जिसमे सरिता बंद है. वो मन ही मन सोचती है कि जा कर कमरे का दरवाजा खोल कर उशे वाहा से भगा दे.

रेणुका ये सब सोच ही रही है कि अचानक उसे उस कमरे से चीन्ख सुनाई देती है. वो वाहा जाना चाहती है पर चाह कर भी जा नही पाती.


थोड़ी देर बाद उशे उस कमरे से रुद्रा प्रताप निकलता हुवा दीखाई देता है


वो मन ही मन कहती है छी !!…जब बाप ही ऐसा हो तो बेटा क्यों नही बुरे काम करेगा.

तभी अचानक रेणुका को घर के पीछे कुछ हुलचल सुनाई देती है.


वो भाग कर वाहा जाती है तो पाती है कि भीमा वाहा अपने हाथ को एक चाकू से चीर रहा है


“अरे ये क्या कर रहे हो तुम भीमा ?”

“म ..म ..में-सब कुछ नही”


“कुछ नही मतलब !! ये खून क्यों बहा रहे हो तुम”



“मेम-साब किसी से कहना मत”

“हाँ-हाँ बोलो क्या बात है ?”


“ये जो लड़की बाहर के कमरे में बंद है, उसका नाम सरिता है, मैं कभी उशे चाहता था. उसकी आँखो में भी मेरे लिए प्यार था, पर हम कभी कह नही पाए. और अचानक उसकी शादी हो गयी. आज सालो बाद उसे इस हालत में देख रहा हूँ. पर मैं चाह कर भी कुछ नही कर सकता… इश्लीए खुद को सज़ा दे रहा हूँ”


“तो जाकर चुलु भर पानी में डूब मरो” ---- रेणुका ने गुस्से में कहा और कह कर वाहा से मूड कर अपने कमरे की तरफ चल दी.


जाते-जाते उसने मूड कर देखा तो पाया कि जीवन चाचा उस कमरे में घुस रहा था जिसमे सरिता बंद थी


रेणुका ने मन ही मन में कहा, ‘इस घर में सभी आदमी एक जैसे हैं…बस नाम, शकल और उमर अलग-अलग हैं’


रेणुका से ये सब देखा नही गया और वो वापिस मूड कर भीमा के पास आ गयी और बोली, “तुम उशे कैसा प्यार करते थे !! तुम्हे शरम नही आती, यहा खड़े-खड़े तमासा देख रहे हो, तुम्हे कुछ करना चाहिए”


“मैं इस घर का नौकर हूँ मेम-साब, आप ही बताओ मैं क्या कर सकता हूँ”


“नौकर होने का ये मतलब तो नही की तुम इंसानियत भूल जाओ ?”


“मेम-साब में कुछ नही कर सकता, मैं मजबूर हूँ”


“ठीक है फिर मुझे ही कुछ करना पड़ेगा”

ये कह कर रेणुका भाग कर हवेली की रसोई में जाती है और एक लंबा सा चाकू लेकर उस कमरे की तरफ भागती है जिसमे सरिता बंद है. भीमा एक तक उशे देखता रह जाता है.


रेणुका उस कमरे के बाहर आकर देखती है कि दरवाजा अंदर से बंद है और अंदर से सरिता के सिसकने की आवाज़ आ रही है. वो हिम्मत करके दरवाजा खड़काती है.

“कौन है ?”

पर रेणुका जीवन के सवाल का कोई जवाब नही देती और एक बार फिर से दरवाजा खड़काती है. वो चाकू एक हाथ से पीठ के पीछे छुपा लेती है

जीवन दरवाजा खोलता है.


“अरे रेणुका बेटी तुम यहा क्या कर रही हो ?”

“ये सवाल मुझे आपसे करना चाहिए चाचा जी”

“चुप कर, अपना काम कर जा कर ?”


“अपना काम ही कर रही हूँ चाचा जी चुपचाप पीछे हट जाओ वरना ये खंजर शीने में उतार दूँगी” --- रेणुका चाकू जीवन को दीखाते हुवे कहती है.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: प्यार हो तो ऐसा

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 01:03




पर जीवन एक झटके में उसके हाथ से चाकू छीन लेता है.

रेणुका एक नज़र सरिता पर डालती है. सरिता की हालत देख कर उसकी आँखे नम हो जाती हैं. सरिता भी ना-उम्मिदि लिए उसकी ओर देखती है और अपनी आँखे बंद कर लेती है.


जीवन रेणुका के मूह पर एक थप्पड़ जड़ देता है जिसके कारण रेणुका लड़खड़ा कर वहीं गिर जाती है


भीमा भाग कर वाहा आता है पर जीवन को देख कर ठिठक जाता है.


“भीमा तुम जाओ अपना काम करो यहा सब ठीक है” --- जीवन ने कहा

“मालिक पर”

“पर क्या…. मेरा दीमाग खराब मत करो और जाओ यहा से”


भीमा चुपचाप वापिस मूड कर चल देता है.


रेणुका कमरे के बाहर पड़ी रह जाती है और जीवन दरवाजा वापिस बंद कर लेता है.


अचानक भीमा कुछ अजीब करता है. वो रुद्र प्रताप के कमरे की तरफ जाता है और उसके कमरे को बंद करके बाहर से कुण्डी लगा देता है.


फिर वो भाग कर रेणुका के पास आता है और कहता है, “मेम-साब उठो”

“उस लड़की को बचा लो भीमा… वरना मैं भगवान को क्या मूह देखाउन्गि”


“मैं कुछ करता हूँ मेम-साब आप उठो यहा से”


रेणुका वाहा से खड़ी होती है.


भीमा दरवाजे को ज़ोर से धकैल कर खोल देता है.


“भीमा ये क्या कर रहे हो”


“वही जो बहुत पहले करना चाहिए था”

भीमा ने जीवन की टाँग पकड़ कर उसे सरिता के उपर से खींच लिया और उसे एक तरफ पटक दिया


“लगता है तुझे अपनी जान प्यारी नही”


भीमा जीवन को कुछ नही कहता और कमरे के बाहर आ कर रेणुका से कहता है “मेम-साब….कपड़े”


“रूको मैं अभी अपने कुछ कपड़े लाती हूँ”

इतने में भीमा जीवन को रस्सी से बाँध कर एक तरफ बैठा देता है


रेणुका भाग कर अपने कमरे से सरिता के लिए कपड़े लाती है और कमरे में आकर सरिता को कपड़े देते हुवे कहती है, “लो जल्दी से कपड़े पहन लो और यहा से निकल जाओ”


सरिता मुस्किल से उठती है और धीरे-धीरे कपड़े पहनती है


मेम-साब मुझे भी इसके साथ ही जाना होगा, आपने मेरी आँखे खोल दी वरना मैं जींदगी भर खुद से नज़रे नही मिला पाता


“इन बातो का वक्त नही है अभी जल्दी यहा से निकलो…सरिता को इसके ससुराल पहुँचा देना”


“जी मेम-साब मैं सरिता को लेकर अभी इसके ससुराल चल पड़ूँगा आप अपना ख्याल रखना”

“अब जल्दी जाओ यहा से”


“जी मेम-साब”

सरिता हाथ जोड़ कर रेणुका का धन्यवाद करती है

रेणुका भावुक हो कर उसे गले लगा लेती है और कहती है , “जो भी तुम्हारे साथ हुवा उसके लिए मैं बहुत शर्मिंदा हूँ. जाओ अपना ख्याल रखना”


भीमा सरिता को लेकर हवेली से निकल पड़ता है.


रेणुका उन्हे जाते हुवे देखती रहती है. वो मन ही मन सोचती है की उशे भी यहा से कहीं चले जाना चाहिए. ऐसे नरक में रहने से क्या फ़ायडा. फिर वो मूड कर अपने कमरे की तरफ चल देती है.


अचानक उसे अपने पीछे हलचल सुनाई देती है. वो मूड कर देखती है कि वीर, अपने आदमियों के साथ चला आ रहा है


वीर जैसे ही उस कमरे के सामने पहुँचता है तो समझ जाता है कि रेणुका ने मदन की बहन को भगा दिया है.



वो भाग कर रेणुका के बाल पकड़ लेता है और कहता है, “तो तूने अपनी औकात दीखा ही दी. अब मैं तेरा वो हाल करूँगा कि तू सोच भी नही सकती”


बलवंत कमरे में जाकर देखता है कि जीवन वाहा बँधा पड़ा है, वो झट से उसकी रस्सिया खोलता है और मूह में से कपड़ा निकालता है.

जीवन भाग कर वीर के पास आता है और कहता है, “वीर उस लड़की को भीमा ले गया है, और बहू ने उसकी मदद की है”

“क्या भीमा ? भीमा ने ऐसा क्यों किया ?”

“पता नही वीर… उसी ने मुझे रस्सी से बाँधा था और मेरे मूह में कपड़ा ठूंस दिया था”

“आप चिंता मत करो चाचा जी वो लोग बच कर कही नही जा सकते. भीमा को मैं जींदा नही छोड़ूँगा”



वीर, रुद्रा प्रताप के कमरे की तरफ बढ़ता है तो देखता है कि बाहर से कुण्डी लगी है. वो खोल कर देखता है तो पता है कि उसके पिता जी सो रहे हैं.



वीर, बलवंत को बुला कर पूछता है, “ये भीमा किस रास्ते से गया होगा ?”


मालिक वो ज़रूर हवेली के पीछले रास्ते से गया होगा, हम सामने से आ रहे थे, वो हमे तो दीखा नही. हवेली के पीछे खेत हैं और खेतो के पार जंगल, वो ज़रूर पीछले रास्ते से गया होगा


“हां-हां वो पीछले रास्ते से ही गया है मैने कमरे से उन्हे जाते देखा था” – जीवन ने वीर से कहा



इधर खेत में साधना अभी भी चुपचाप मक्की की फसलों में बैठी है. अंधेरा घिर आया है और चाँद की चाँदनी चारो और फैलने लगी है.



साधना चुपचाप बाहर निकलती है. लेकिन बाहर निकलते ही वो काँप उठती है. उसे दूर से अपनी और आता एक साया दीखाई देता है. वो डर कर वापिस मक्की की फसलों में घुस्स जाती है.


वो साया भी उसके पीछे पीछे मक्क्की की फसलों में घुस्स जाता है.


साधना एक जगह रुक जाती है ताकि उसके कदमो की आहट ना हो.


लेकिन तभी उसे कदमो की तेज आहट सुनाई देती है.

वो पीछे मूड कर देखती है तो पाती है की वो साया बिल्कुल उसके पीछे 4 कदम की दूरी पर है.


वो तेज़ी से मूड कर भागती है लेकिन वो साया उसे दबोच लेता है.



“ क..क..कौन हो तुम..छ्चोड़ो मुझे” साधना चील्ला कर कहती है


वो साया साधना के मूह पर हाथ रख देता है.

“चुप रहो साधना….ये मैं हूँ”



वो साया उसके मूह से हाथ हटा देता है


साधना अंधेरे में उस साए की शकल तो ठीक से नही देख पाती लेकिन फिर भी उसकी आवाज़ सुन कर रोने लगती है


“प्रेम……..क्या ये तुम हो ?”


“तुम्हे क्या लगता है ?”

साधना उस साए के गले लग जाती है और कहती है, “तुम कहा चले गये थे प्रेम !!….. मैं आज इतनी परेशान हूँ कि अपने प्रेम के कदमो की आहट भी पहचान नही पाई..मुझे माफ़ कर दो”

“चुप रहो ये वक्त बाते करने का नही है ठाकुर के आदमी इसी तरफ आ रहे हैं”


“तुम्हे ये सब कैसे पता…..वो तो अभी यहा से गये हैं”


“बतावँगा सब कुछ बतावँगा अभी तुम थोड़ी देर चुप रहो”


क्रमशः......................




gataank se aage..............

“Chal ander” veer ne sarita ko haweli ke ek kamre mein dhakelte huve kaha

sarita ne rote huve mud kar uski aur dekha.

“Dekh kya rahi hai, sukar mana tu abhi tak zinda hai” --- veer pratap ne kaha


renuka dur khadi huyi sab kuch dekh rahi hai. usne aisa aaj tak apni jeendagi mein nahi dekha, ishliye bahut hairaan aur pareshaan hai. vo daud kar rudra pratap ke kamre mein jaati hai

“pita ji-pita ji….. dekhiye ye kishe yaha utha laaye hain…aap inhe rokte kyon nahi ?”


“chup raho bahu, ek saal ho gaya tumhe is ghar mein aaye… par tumne ab tak ye nahi seekha ki is ghar ki aurte jubaan nahi chalaati”

“maaf karna….pita ji… par jo kuch ye kar rahe hain… galat kar rahe hain. ek aurat ko yaha aisi haalat mein ghasit kar laaye hain ki main kah nahi sakti”


“veer !!!” --- rudra pratap ne cheella kar awaaj lagaayi


veer bhaag kar vaha aata hai

“ji pita ji kya huva ?”


“bahu se kaho yaha se chali jaaye varna hum apna aapa kho baithenge….. ab ye hame bataayegi ki hum kya karein kya nahi”


veer ne turant renuka ki aur badh kar uske baal pakad liye aur cheella kar bola, “kya takleef hai tumhaari”


“aahhh k..k..kuch nahi main to bas pita ji se ye kah rahi thi ki ye jo ho raha hai galat ho raha hai” --- renuka ne karaahte huve kaha


“aur jo hamaari varsha ke saath huva vo kya sahi tha ?” veer ne pucha


veer renuka ke baal kheenchte huve ushe apne kamre tak ley aaya aur ushe bistar par patak diya aur bola, “khabaradaar jo aaj ke baad yaha kishi se kuch bola to, mujh se bura koyi nahi hoga”


“aap se bura… koyi hai bhi nahi duniya mein”

“bilkul sahi, bahut jaldi samajh mein aa gaya tujhe”


tabhi veer ko baahar se awaaj aati hai

“chote maalik”


veer baahar aa kar puchta hai

“kya baat hai balwant ?”


“maalik main kuch aadmiyon ko lekar peeche ke kheto mein ja raha hun, mujhe yakin hai ki madan ki choti bahan vahin chupi hogi”


“ruko main bhi saath chalunga ?”

“theek hai maalik chaliye”



“bhima !!” veer bhima ko awaaj lagaata hai

bhima bhaag kar aata hai aur sir jhuka kar kahta hai , “ji maalik ?”


“vo baahar ke kamre ka taala laga do, hum abhi aate hain”

“jo hukam maalik”

veer balwant aur uske saathiyon ke saath haweli ke peeche ke kheto ki taraf chal padta hai


khet mein sadhna badi asmanjas ki haalat mein hai. vo man hi man soch rahi hai ki vo ghar jaaye ya phir yahin khet mein baithi rahe. Ek pal vo madan ke liye pareshaan hoti hai…. aur dusre hi pal sarita ke liye. vo is baat se abhi anjaan hai ki uski maa mar chuki hai, uske pita ji sadak par behosh pade hain aur uski bahan sarita thakur ki haweli mein kaid hai. vo is baat se bhi bekhabar hai ki veer pratap kuch logo ke saath uski taraf badh raha hai



achaanak sadhna ko kisi ke aane ki hulchal sunaayi deti hai. sadhna bhaag kar makki ki faslon mein chup jaati hai.


“pura khet chaan maaro vo yahi kahi hogi ?” veer ne kaha

“chote thakur aap chinta mat karo vo yaha se bach kar nahi ja paayegi” – balwant ne kaha


thakur ke aadmi pure khet mein fail jaate hain.


Sadhna, veer aur balwant ki baate sun leti hai aur samajh jaati hai ki vo log ushe dhund rahe hain.


“Maalik main yaha saamne ki faslon mein dekhta hun” --- balwant ne kaha


“haan-haan dekho, jaldi dhund kar lao ushe”


sadhna ke dil ki dhadkan badh jaati hai kyonki balwant ushi ki taraf badh raha hai.



par tabhi veer ke paas kallu cheekhta huva aata hai


“maalik-maalik lagta hai vo ladki jungle mein ghuss gayi”


ye sun kar balwant vaapis mud jaata hai aur kallu se puchta hai

“kya bakwaas kar rahe ho… ush jungal mein log din mein jaane se darte hain, ab raat hone ko hai, vo ladki bhala vaha kaise jaayegi” --- balwant ne kaha


“main sach kah raha hun balwant, maine khud kisi ko abhi abhi khet ke us paar jo jungal hai usme jaate huve dekha hai, mujhe pura yakin hai ki vo madan ki bahan hi hogi, dur se vo koyi ladki jaisi hi lag rahi thi”

“balwant jaldi se sabhi ko bulaao humein ushe har haal mein pakadna hai” --- veer ne kaha


“maalik is vakt us jungle mein jaana khatre se khali nahi hai, meri baat maaniye hum ushe subah dhund lenge, vo akeli ladki bhaag kar jaayegi bhi kaha”


“par mujhe dar hai ki subah tak uski laash hi milegi” --- veer ne kaha

“vo to hai maalik par iske alaawa hum kar bhi kya sakte hain, aap to jaante hi hain satpura ke in junglon ko”


veer kisi soch mein dub jaata hai aur kahta hai, “theek hai chalo… kal subah dekhenge”


veer sabhi ko lekar vaha se chal deta hai.


sadhna saans roke chupchaap baithi hai. vo sukar mana rahi hai ki vo log ja rahe hain. Par ek baat man hi man ushe pareshaan kar rahi hai ki thakur ke aadmiyon ne jungle mein jaate huve kisko dekha hai ?




Idhar haweli mein renuka apne kamre se nikal kar us kamre ki taraf dekhti hai jisme sarita band hai. vo man hi man sochti hai ki ja kar kamre ka darvaaja khol kar ushe vaha se bhaga de.

Renuka ye sab soch hi rahi hai ki achaanak ushe us kamre se cheenkh sunaayi deti hai. vo vaha jaana chaahti hai par chaah kar bhi ja nahi paati.


Thodi der baad ushe us kamre se rudra pratap nikalta huva deekhaayi deta hai


Vo man hi man kahti hai chi !!…jab baap hi aisa ho to beta kyon nahi bure kaam karega.

Tabhi achaanak renuka ko ghar ke peeche kuch hulchal sunaayi deti hai.


vo bhaag kar vaha jaati hai to paati hai ki bhima vaha apne haath ko ek chaaku se cheer raha hai


“arey ye kya kar rahe ho tum bhima ?”

“m ..m ..mem-sab kuch nahi”


“kuch nahi matlab !! ye khun kyon baha rahe ho tum”



“mem-saab kisi se kahna mat”

“haan-haan bolo kya baat hai ?”


“ye jo ladki baahar ke kamre mein band hai, uska naam sarita hai, main kabhi ushe chaahta tha. uski aankho mein bhi mere liye pyar tha, par hum kabhi kah nahi paaye. Aur achaanak uski shaadi ho gayi. aaj saalo baad ushe ish haalat mein dekh raha hun. par main chaah kar bhi kuch nahi kar sakta… ishliye khud ko saja de raha hun”


“to jaakar chulu bhar paani mein dub maro” ---- renuka ne gusse mein kaha aur kah kar vaha se mud kar apne kamre ki taraf chal di.


jaate-jaate ushne mud kar dekha to paaya ki jeevan chacha us kamre mein ghuss raha tha jisme sarita band thi


renuka ne man hi man mein kaha, ‘is ghar mein sabhi aadmi ek jaise hain…bas naam, shakal aur umar alag-alag hain’


Renuka se ye sab dekha nahi gaya aur vo vaapis mud kar bhima ke paas aa gayi aur boli, “tum ushe kaisa pyar karte the !! tumhe sharam nahi aati, yaha khade-khade tamaasa dekh rahe ho, tumhe kuch karna chaahiye”


“Main is ghar ka naukar hun mem-saab, aap hi bataao main kya kar sakta hun”


“naukar hone ka ye matlab to nahi ki tum insaaniyat bhool jao ?”


“mem-saab mein kuch nahi kar sakta, main majboor hun”


“theek hai phir mujhe hi kuch karna padega”

ye kah kar renuka bhaag kar haweli ki rasoyi mein jaati hai aur ek lamba sa chaaku lekar us kamre ki taraf bhaagti hai jisme sarita band hai. bhima ek tak ushe dekhta rah jaata hai.


renuka us kamre ke baahar aakar dekhti hai ki darvaaja ander se band hai aur ander se sarita ke sisakne ki awaaj aa rahi hai. vo himmat karke darvaaja khadkaati hai.

“kaun hai ?”

par renuka jeevan ke sawaal ka koyi jawaab nahi deti aur ek baar phir se darvaaja khadkaati hai. vo chaaku ek haath se peeth ke peeche chupa leti hai

jeevan darvaaja kholta hai.


“arey renuka beti tum yaha kya kar rahi ho ?”

“ye sawaal mujhe aapse karna chaahiye chacha ji”

“chup kar, apna kaam kar jaa kar ?”


“apna kaam hi kar rahi hun chacha ji chupchaap peeche hat jao varna ye khanjar sheene mein utaar dungi” --- renuka chaaku jeevan ko deekhaate huve kahti hai.



par jeevan ek jhatke mein uske haath se chaaku cheen leta hai.

renuka ek najar sarita par daalti hai. sarita ki haalat dekh kar uski aankhe nam ho jaati hain. sarita bhi na-ummidi liye uski aur dekhti hai aur apni aankhe band kar leti hai.


jeevan renuka ke muh par ek thappad jad deta hai jiske kaaran renuka ladkhada kar vahin gir jaati hai


bhima bhaag kar vaha aata hai par jeevan ko dekh kar theetak jaata hai.


“bhima tum jao apna kaam karo yaha sab theek hai” --- jeevan ne kaha

“maalik par”

“par kya…. Mera deemaag kharaab mat karo aur jao yaha se”


bhima chupchaap vaapis mud kar chal deta hai.


renuka kamre ke baahar padi rah jaati hai aur jeevan darvaaja vaapis band kar leta hai.


achaanak bhima kuch ajeeb karta hai. vo rudra pratap ke kamre ki taraf jaata hai aur uske kamre ko band karke baahar se kundi laga deta hai.


phir vo bhaag kar renuka ke paas aata hai aur kahta hai, “mem-saab utho”

“us ladki ko bacha lo bhima… varna main bhagwan ko kya muh dekhaaungi”


“main kuch karta hun mem-saab aap utho yaha se”


renuka vaha se khadi hoti hai.


bhima darwaje ko jor se dhakail kar khol deta hai.


“bhima ye kya kar rahe ho”


“vahi jo bahut pehle karna chaahiye tha”

bhima ne jeevan ki taang pakad kar ushe sarita ke upar se kheench liya aur ushe ek taraf patak diya


“lagta hai tujhe apni jaan pyari nahi”


bhima jeevan ko kuch nahi kahta aur kamre ke baahar aa kar renuka se kahta hai “mem-saab….kapde”


“ruko main abhi apne kuch kapde laati hun”

itne mein bhima jeevan ko rassi se baandh kar ek taraf baitha deta hai


renuka bhaag kar apne kamre se sarita ke liye kapde laati hai aur kamre mein aakar sarita ko kapde dete huve kahti hai, “lo jaldi se kapde pahan lo aur yaha se nikal jao”


sarita muskil se uthti hai aur dheere-dheere kapde pahanti hai


mem-saab mujhe bhi iske saath hi jaana hoga, aapne meri aankhe khol di varna main jeendagi bhar khud se nazre nahi mila paata


“in baato ka vakt nahi hai abhi jaldi yaha se niklo…sarita ko iske sasural pahuncha dena”


“ji mem-saab main sarita ko lekar abhi iske sasural chal padunga aap apna khyaal rakhna”

“ab jaldi jao yaha se”


“ji mem-saab”

sarita haath jod kar renuka ka dhanyavaad karti hai

renuka bhaavuk ho kar ushe gale laga leti hai aur kahti hai , “jo bhi tumhaare saath huva uske liye main bahut sharminda hun. jao apna khyaal rakhna”


bhima sarita ko lekar haweli se nikal padta hai.


renuka unhe jaate huve dekhti rahti hai. vo man hi man sochti hai ki ushe bhi yaha se kahin chale jaana chaahiye. aise narak mein rahne se kya faayda. Phir vo mud kar apne kamre ki taraf chal deti hai.


achaanak ushe apne peeche halchal sunaayi deti hai. vo mud kar dekhti hai ki veer, apne aadmiyon ke saath chala aa raha hai


veer jaise hi us kamre ke saamne pahunchta hai to samajh jaata hai ki renuka ne madan ki bahan ko bhaga diya hai.



vo bhaag kar renuka ke baal pakad leta hai aur kahta hai, “to tune apni aukat deekha hi di. ab main tera vo haal karunga ki tu soch bhi nahi sakti”


balwant kamre mein jaakar dekhta hai ki jeevan vaha bandha pada hai, vo jhat se uski rassiya kholta hai aur muh mein se kapda nikaalta hai.

Jeevan bhaag kar veer ke paas aata hai aur kahta hai, “veer us ladki ko bhima ley gaya hai, aur bahu ne uski madad ki hai”

“Kya bhima ? bhima ne aisa kyon kiya ?”

“Pata nahi veer… ushi ne mujhe rassi se baandha tha aur mere muh mein kapda thoons diya tha”

“Aap chinta mat karo chacha ji vo log bach kar kahi nahi ja sakte. Bhima ko main jeenda nahi chodunga”



Veer, rudra pratap ke kamre ki taraf badhta hai to dekhta hai ki baahar se kundi lagi hai. Vo khol kar dekhta hai to pata hai ki uske pita ji sho rahe hain.



Veer, balwant ko bula kar puchta hai, “ye bhima kish raste se gaya hoga ?”


Maalik vo jaroor haweli ke peechle raste se gaya hoga, hum saamne se aa rahe the, vo hame to deekha nahi. Haweli ke peeche khet hain aur kheto ke paar jungle, vo jaroor peechle raste se gaya hoga


“Haan-haan vo peechle raste se hi gaya hai maine kamre se unhe jaate dekha tha” – jeevan ne veer se kaha



Idhar khet mein sadhna abhi bhi chupchaap makki ki faslon mein baithi hai. Andhera ghir aaya hai aur chaand ki chaandni charo aur failne lagi hai.



Sadhna chupchaap baahar nikalti hai. Lekin baahar nikalte hi vo kaanp uthti hai. Ushe dur se apni aur aata ek saaya deekhaayi deta hai. Vo dar kar vaapis makki ki faslon mein ghuss jaati hai.


Vo saaya bhi uske peeche peeche makkki ki faslon mein ghuss jata hai.


Sadhna ek jagah ruk jaati hai taaki uske kadmo ki aahat na ho.


Lekin tabhi ushe kadmo ki tej aahat sunaayi deti hai.

Vo peeche mud kar dekhti hai to paati hai ko vo saaya bilkul uske peeche 4 kadam ki duri par hai.


Vo teji se mud kar bhaagti hai lekin vo saaya ushe daboch leta hai.



“ k..k..kaun ho tum..chhodo mujhe” sadhna cheella kar kahti hai


Vo saaya sadhna ke muh par haath rakh deta hai.

“Chup raho sadhna….ye main hun”



Vo saaya uske muh se haath hata deta hai


Sadhna andhere mein us saaye ki shakal to theek se nahi dekh pati lekin phir bhi uski awaaj sun kar rone lagti hai


“prem……..kya ye tum ho ?”


“Tumhe kya lagta hai ?”

Sadhna us saaye ke gale lag jaati hai aur kahti hai, “tum kaha chale gaye the prem !!….. main aaj itni pareshaan hun ki apne prem ke kadmo ki aahat bhi pehchaan nahi paayi..mujhe maaf kar do”

“Chup raho ye vakt baate karne ka nahi hai thakur ke aadmi ishi taraf aa rahe hain”


“Tumhe ye sab kaise pata…..vo to abhi yaha se gaye hain”


“Bataaunga sab kuch bataaunga abhi tum thodi der chup raho”


kramshah......................


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: प्यार हो तो ऐसा

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 01:04

गतान्क से आगे..............

प्रेम का उस वक्त अचानक आना साधना के लिए किसी सपने से कम नही था. साधना मन ही मन सोच रही थी कि आख़िर आज प्रेम अचानक यहा कैसे आ गया. 3 साल से वो गाँव से गायब था, वो कहा था ? क्या कर रहा था ?.. ये कुछ ऐसे सवाल थे.. जो साधना के मन में घूम रहे थे. साधना प्रेम से बहुत कुछ पूछना चाहती है पर हालात ऐसे नही हैं. प्रेम भी साधना को बहुत कुछ बताना चाहता है पर उस वक्त वो चुप्पी साधे हुवे है.

लेकिन फिर भी साधना धीरे से कहती है, “प्रेम…. ठाकुर के आदमी दीदी को उठा कर ले गये हैं”

“घबराओ मत… सरिता अब वाहा नही है, मैं हवेली से ही आ रहा हूँ. सरिता को वाहा से भीमा अपने साथ ले गया है” – प्रेम ने धीरे से कहा

“तुम्हे ये कैसे पता”

“मैं कोई 2 घंटे पहले गाँव पहुँचा था, रास्ते में तुम्हारे पिता जी सड़क पर बेहोश मिले”

“क्या!! हे भगवान ” --- साधना ने भावुक हो कर पूछा

“धीरे बोलो” –प्रेम ने धीरे से कहा

“पर पिता जी को क्या हुवा था ?”

“साधना, छोटे ठाकुर ने उन्हे बहुत बुरी तरह मारा था… जिसके कारण वो बेहोश हो कर सड़क पर गिर गये. पर तुम चिंता मत करो वो अब ठीक हैं और सुरक्षित हैं. उन्होने ही मुझे सब कुछ बताया. मैं उनकी बात सुन कर सरिता के लिए तुरंत हवेली गया. पर मेरे वाहा पहुँचने से पहले ही भीमा, सरिता को वाहा से ले गया. भीमा को तो तुम भी जानती हो ना ? ….वो एक अछा इंसान है. फिर मैने हवेली की दीवार से अंदर की बाते सुनी..यही पता चला कि ठाकुर के आदमी भीमा और सरिता को ढूँडने इधर ही आ रहे हैं. तभी मैं भाग कर यहा आया ….क्योंकि तुम्हारे पिता जी ने बताया था कि तुम खेत में ही हो”

“मेरी मा तो ठीक है ना प्रेम ?”

पेम ये सुन कर चुप हो जाता है

साधना फिर से पूछती है, “मा तो ठीक है ना प्रेम ?”


“वो…… अब इस दुनिया में नही हैं साधना, मुझे दुख है… काश !! में थोडा और पहले पहुँच जाता तो ये सब नही होने देता”

साधना आँसुओ में डूब जाती है और अपने चेहरे को घुटनो में छिपा कर चुपचाप आँसू बहाने लगती है

प्रेम उसके कंधे पर हाथ रख कर उशे दिलासा देता है. पर वो लगातार आँसू बहाती चली जाती है


“ये क्या हो रहा है हमारे साथ आज, प्रेम. सुबह से भैया गायब हैं…. दीदी को ठाकुर के आदमी उठा कर ले गये… और अब मेरी मा चल बसी… एक दिन में इतना कुछ हो गया… और आज ही तुम वापिस आ गये…मुझे सब कुछ बहुत अजीब लग रहा है”

“अजीब तो मुझे भी लग रहा है”

प्रेम और साधना चुपचाप बाते कर ही रहे थे कि उन्हे किसी के कदमो की तेज आहट सुनाई देती है.


“बलवंत अगर भीमा उस छोकरी को ले कर जंगल में घुस्स गया होगा तो ?”
“तो हम वापिस चले जाएँगे कल्लू”

“पर छोटे ठाकुर हमें खूब दांटेंगे बलवंत”

“तू चिंता मत कर उनकी डाँट के डर से हम रात को उस भयानक जंगल में नही जाएँगे…वैसे मुझे यकीन है कि भीमा उस छोकरी के साथ यही कही छुपा होगा”

प्रेम और साधना, बलवंत और कल्लू की बाते सुन रहे थे.