लेखक-प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: लेखक-प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ

Unread post by The Romantic » 17 Dec 2014 03:30

आंटी गुलबदन और सेक्स (प्रेम) के सात सबक-4


6. सम्भोग (प्रेम मिलन)

काम विज्ञान के अनुसार सम्भोग का अर्थ होता है समान रूप से भोग अर्थात स्त्री और पुरुष दोनों सक्रिय होकर सामान रूप से एक दूसरे का भोग करें। नियमित रूप से सुखद सम्भोग करने से बुढ़ापा जल्दी नहीं आता और स्त्रियों में रजोनिवृति देरी से होती है और हड्डियों बीमारियाँ भी नहीं होती। दाम्पत्य जीवन में मधुर मिलन की पहली रात को सुहागरात कहते हैं। इस रात के मिलन की अनेक रंगीन व मधुर कल्पनाएँ दोनों के मन में होती है। और आज तो जैसे हमारा मधुर मिलन ही था। आंटी ने बताया था कि आज की रात हमारे ख़्वाबों की रात होगी जैसे तुम किसी परी कथा के राज कुमार होगे और मैं तुम्हारे ख़्वाबों की शहजादी। मैं चाहती हूँ कि तुम मुझे आज की रात दीवानों की तरह प्रेम करो। मैं तुम्हारे आगोश में आकर सब कुछ भूल जाना चाहती हूँ मेरे प्रियतम। ये चांदनी तो तुम्हारे प्रेम के बिना मर ही जायेगी। आंटी ने बताया था कि इस संगम को हम चुदाई जैसे गंदे नाम से कदापि नहीं बोलेंगे हम इसे अपना मधुर मिलन ही कहेंगे। अब मैं यह सोच रहा था कि इसे सुहागरात कहो या प्रेम मिलन होनी तो चूत की चुदाई ही है, क्या फर्क पड़ता है।

आज तो घूँघट उठाना था। अरे बाबा सिर का नहीं चूत का। मैं तो चाहता था कि बस जाते ही उन्हें दबोच कर अपना मिट्ठू उनकी मुनिया में डाल ही दूं। पर आंटी ने बताया था कि सम्भोग मात्र शरीर व्यापार नहीं है। स्त्री पुरुष के सच्चे यौन संबंधों का अर्थ मात्र दो शरीरों का मिलन ही नहीं दो आत्माओं का भावनात्मक प्रेम और लगाव भी अति आवश्यक होता है।

मैंने आज सिल्क का कामदार कुरता और चूड़ीदार पाजामा पहना था। आंटी तो पूरी दुल्हन ही बनी पलंग पर बैठी थी। सुर्ख लाल जोड़े में वो किसी नवविवाहिता से कम नहीं लग रही थी। कलाइयों में 9-9 चूड़ियाँ , होंठों पर लिपस्टिक, हाथों में मेहंदी, बालों में गज़रा। पूरे कमरे में गुलाब के इत्र की भीनी भीनी महक और मध्यम संगीत। पलंग के पास रखी स्टूल पर थर्मोस में गर्म दूध, दो ग्लास , प्लेट में मिठाई और पान की गिलोरियां रखे थे। पलंग पर गुलाब और चमेली के फूलों की पत्तियाँ बिखरी थी। 3-4 तकिये और उनके पास 2 धुले हुए तौलिये। क्रीम और तेल की शीशी आदि। मुझे तो लगा जैसे सचमुच मेरी शादी ही हो गई है और मेरी दुल्हन सुहाग-सेज पर मेरा इन्तजार कर रही है। उन्होंने बताया था कि सुहागरात में चुदाई पूरी तसल्ली के साथ करनी चाहिए। कोई जल्दबाजी नहीं। यह मधुर मिलन है इसे ऐसे मनाओ जैसे कि जैसे ये नए जीवन की पहली और अंतिम रात है। हर पल को अनमोल समझ कर जीओ। जैसे इस प्रेम मिलन के बाद कोई और हसरत या ख़्वाहिश ही बाकी ना रहे।

कुछ मूर्ख तो सुहागरात में इसी फिक्र में मरे जाते हैं कि पत्नी की योनि से खून निकला या नहीं। यदि रक्तस्त्राव नहीं हुआ तो यही सोचते हैं कि लड़की कुंवारी नहीं है जरूर पहले से चुदी होगी। जबकि लड़की के कौमार्य का यह कोई पैमाना नहीं है। लड़की का योनिपटल एक पतली झिल्ली की तरह होता है जो योनि को बेक्टीरिया और हानिकारक रोगाणुओं से बचाता है। कई बार खेल के दौरान, साइकिल चलाने, घुड़सवारी या तैराकी आदि से यह टूट जाता है इसका अर्थ यह नहीं है कि लड़की ने अपना कौमार्य खो दिया है।

मैं उनके पास आकर बैठ गया। उन्होंने चुनरी का पल्लू थोड़ा सा नीचे कर रखा था। मैंने आज की रात आंटी को देने के लिए एक हल्का सा सोने का लोकेट खरीदा था। मैंने यह लोकेट अपने साल भर के बचा कर रखे जेब खर्च से खरीदा था। मैंने अपने कुरते की जेब से उसे निकाला और आंटी के गले में पहनाने के लिए अपने हाथ बढ़ाते हुए कहा,”मेरी चांदनी के लिए !”

आंटी ने अपनी झुकी पलकें ऊपर उठाई। उफ … क्या दमकता रूप था। आज तो आंटी किसी गुलबदन और अप्सरा से कम नहीं लग रही थी। नाक में नथ, कानों में सोने की छोटी छोटी बालियाँ, आँखों में काजल, थरथराते लाल गुलाबी होंठ। उन्होंने अपना सिर थोड़ा सा ऊपर उठाया और अपनी बंद पलकें खोली। मैंने देखा उनकी आँखें सुर्ख हो रही हैं जैसे नशे में पुरख़ुमार हों। लगता है वो कल रात जैसे सोई ही नहीं थी। मुझे बड़ी हैरानी हो रही थी कि वो आज चुप क्यों हैं। उनकी आँखें तो जैसे डबडबा रही थी। होंठ कांप रहे थे वो तो जैसे बोल ही नहीं पा रही थी। उसने अपनी आँखें फिर बंद कर ली।

मैंने उसके गले में वो लोकेट पहना दिया तब उन्होंने थरथराती सी आवाज में कहा,”धन्यवाद ! मेरे प्रेम ! मेरे काम देव !”

उसकी आँखों से आंसू निकल कर उसके गालों पर लुढ़क आये। मैंने उसे अपनी बाहों में भर लिया और उसने अपना सिर मेरे सीने से लगा दिया। मैं उसके सिर और पीठ पर पर हाथ फिराता रहा। फिर मैंने उसके आंसू पोंछते हुए पूछा,” क्या हुआ ?”

“कुछ नहीं यह तो प्रेम और ख़ुशी के आंसू हैं।”

शायद उन्हें अपनी पहली सुहागरात याद हो आई थी। ओह… मैं तो आज क्या क्या रंगीन सपने लेकर आया था। यहाँ तो सारा मामला ही उलटा हो रहा था। पर इससे पहले कि मैं कुछ करूँ आंटी ने अपने सिर को एक झटका सा दिया और मेरा सिर अपने हाथों में पकड़ कर अपने कांपते होंठ मेरे जलते होंठों पर रख कर चूमने लगी। वो साथ साथ बड़बड़ाती भी जा रही थी,” ओह… मेरे प्रेम ! मेरे कामदेव ! मेरे चंदू मुझे आज इतना प्रेम करो कि मैं तुम्हारे प्रेम के अलावा सब कुछ भूल जाऊं !” और तड़ातड़ा कई चुम्बन उसने मेरे गालों और होंठों पर ले लिए।

“हाँ हाँ मेरी चांदनी… आज की रात तो हमारे प्रेम मिलन की रात है मेरी प्रियतमा !” मैंने कस कर उसे अपनी बाहों में भर लिया। पता नहीं कितनी देर हम इसी तरह एक दूसरे को चूमते रहे। मैं पलंग पर टेक सी लगा कर बैठ गया और आंटी मेरी गोद में सिर रख कर लेट गई। उसकी आँखें बंद थीं और मैं उसके चेहरे पर अपने हाथ फिरा रहा था, कभी गालों पर, कभी होंठों पर कभी माथे पर।

“चांदनी आज तो हमारा प्रेम मिलन है और आज तुम रो रही हो ?”

“हाँ चंदू ! आज मुझे अपना पहला प्रेम याद आ गया था। मैं कल सारी रात उसे याद करके रोती रही थी। तुम नहीं जानते मैंने अपने दूसरे पति को भी कितना चाहा था पर उसे तो पता नहीं उस दो टके की छोकरी में ऐसा क्या नज़र आया था कि उसके अलावा वो सब कुछ ही भूल गया।”

उसने आगे बताया था कि उनकी पहली शादी चार साल के लम्बे प्रेम के बाद 25 साल की उम्र में हुई थी। एक साल कब बीत गया पता ही नहीं चला। पर होनी को कौन टाल सकता है। एक सड़क दुर्घटना में उनके पहले पति की मौत हो गई। घर वालों के जोर देने पर दूसरी शादी कर ली। उस समय उसकी उम्र कोई 28-29 साल रही होगी। नीरज भी लगभग 32-33 का रहा होगा पर मैंने कभी पूछा ना कभी इस मसले पर बात हुई थी। पर बाद में मुझे लगा कि कहीं ना कहीं उसके मन में एक हीन भावना पनप गई थी कि उन्हें एक पहले से चुदी हुई पत्नी मिली है। उसने कहीं पढ़ा था कि अगर कोई बड़ी उम्र का आदमी किसी कमसिन और कुंवारी लड़की के साथ और कोई बड़ी उम्र की औरत किसी किशोर लड़के के साथ सम्भोग करे तो उसके सेक्स की क्षमता दुगनी हो जाती है। ये तो निरा पागलपन और बकवास है। वैसे ये जो मर्दजात है सभी एक जैसी होती है। मुझे बाद में पता लगा उनका अपनी सेक्रेट्री के साथ भी सम्बन्ध था जो उम्र में लगभग उनसे आधी थी। पता नहीं इन छोटी और अनुभवहीन लौंडियों के पीछे ये सारे मर्द क्यों मरे जाते हैं। जो मज़ा और आनंद एक जानकार और अनुभवी स्त्री से मिल सकता है भला उन अदना सी लड़कियों में कहाँ ? पर इन मर्दों को कौन समझाए ? ओह….. चंदू… छोडो इन फजूल बातों को। आज हमारी सुहागरात है इस का मज़ा लो। आंटी ने अपने आंसू पोंछ लिए।

“चांदनी… मेरी चंदा ! मेरी प्रियतमा ! अब छोड़ो उन बातों को। क्यों ना हम फिर से नया जीवन शुरू करें ?”

“क्या मतलब ?”

“क्यों ना हम शादी कर लें ?”

“ओह… नहीं मेरे प्रेम यह नहीं हो सकता ? मैं नहीं चाहती कि तुम भी थोड़े सालों के बाद ऐसा ही करो। बस इन संबंधों को एक ट्रेनिंग ही समझो और बाकी बातें भूल जाओ !”

“क्यों ? ऐसा क्यों नहीं हो सकता ?”

“तुम अभी बहुत छोटे हो इन बातों को नहीं समझोगे। हम इस मसले पर बाद में बात करेंगे। आज तो बस तुम मुझे प्रेम करो ! बस” और उसने अपनी बाहें ऊपर कर मेरे गले में डाल दीं।

मैंने उसे फिर से अपनी बाहों में जकड़ लिया और फिर उसके होंठों को चूमने लगा। उसने अपनी जीभ मेरे मुंह डाल दी। किसी रस भरी कुल्फी की तरह मैंने उसे चूसने लगा। मेरा मिट्ठू तो लोहे की रॉड ही बना था जैसे। उसका तनाव तो इतना ज्यादा था कि मुझे लगने लगा था कि अगर जल्दी ही कुछ नहीं किया तो इसका सुपाड़ा तो आज फट ही जाएगा। चुम्बन के साथ साथ मैं अब उसके उरोजों को दबाने लगा। उसकी साँसें तेज होने लगी तो उसने मुझे कपड़े उतारने का इशारा किया। मैं जल्दी से अपने कपड़े उतारने लगा तो वो हँसते हुए बोली,” अरे बुद्धू अपने नहीं एक एक करके पहले मेरे उतारो !”

मेरे तो हंसी ही निकल गई। मैं तो उनका पूरा आज्ञाकारी बना था। मैंने पहले उसकी चुनरी फिर ब्लाउज और फिर धीरे से उनका घाघरा उतार दिया। अब वो केवल ब्रा और पैंटी में थी। संगेमरमर सा तराशा सफ्फाक बदन अब ठीक मेरे सामने था। ऐसे ही बदन वाली औरतों को गुलबदन कहा जाता है आज मैंने पहली बार महसूस किया था। अब मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए। केवल एक चड्डी के सिवा मेरे शरीर पर कुछ भी नहीं था। और फिर उछल कर उन्हें अपनी बाहों में भर लिया। वो एक ओर लुढ़क गई। मैं ठीक उसके ऊपर था। मैंने उसे कस कर अपनी बाहों में भर लिया। आंटी ने भी मुझे चूमना शुरू कर दिया। अब मैं एक हाथ से उसके उरोजों को ब्रा के ऊपर से ही मसलना चालू कर दिया और दूसरे हाथ से उसकी मुनिया को पैंटी के ऊपर से ही अपने हाथ में पकड़ लिया। मेरा शेर तो जैसे दहाड़ें ही मारने लगा था।

आंटी एक झटके से उठ बैठी और उसने मेरी चड्डी निकाल फेंकी। मैं चित्त लेटा था। अब तो मिट्ठू महाराज उसे सलाम ही बजाने लगे। आंटी ने अपनी नाज़ुक अँगुलियों के बीच उसे दबा लिया। उसके ऊपर प्री-कम की बूँद चमक रही थी। उसने एक चुम्बन उस पर ले लिया। प्री-कम उसके होंठों पर फ़ैल गया। मैं तो सोच रहा था की वो उसे गच्च से अपने मुंह में भर लेगी। पर उसने कोई जदबाजी नहीं दिखाई। मिट्ठू तो झटके पर झटके खा रहा था। उसने साइड में पड़ी स्टूल पर रखी तेल की शीशी उठाई और मेरे मिट्ठू को जैसे नहला ही दिया। अब एक हाथ से मेरे अंडकोष पकड़ लिए और दूसरे हाथ से मिट्ठू को नाच नचाने लगी। मैं तो आ … उन्ह … ओईईइ … करता मीठी सित्कारें मारने लगा। आंटी तेजी से हाथ चलाने लगी। मुझे लगा इस तरह तो मैं झड़ ही जाऊँगा। मैंने उसे रोकना चाहा पर उसने मुझे इशारे से मन कर दिया और मेरे अंडकोष जल्दी जल्दी हाथ से मसलते हुए लंड को ऊपर नीचे करने लगी। मैं जोर से उछला और उसके साथ ही मेरी पिचकारी फूट गई। सारा वीर्य उसके हाथों और जाँघों और मेरे पेट पर फ़ैल गया।

मुझे अपने आप पर बड़ी शर्म सी आई। इतनी जल्दी तो मैं पहले कभी नहीं झड़ा था। आज पता नहीं क्या हुआ था कि मैं तो 2 मिनट में ही खलास हो गया। मुझे मायूस देख कर वो बोली,” चिंता करने की कोई बात नहीं है। मैं जानती थी तुम पहली बार में जल्दी झड़ जाओगे। इस लिए यह करना जरुरी था। अब देखना, तुम बड़ी देर तक अपने आप को रोक पाओगे। मैं नहीं चाहती थी कि हमारे प्रथम मिलन में तुम जल्दी झड़ जाओ और ठीक से मज़ा ना ले पाओ !”

“पर मैंने तो सुना है कि लोग आधे घंटे तक चुदाई करते रहते हैं और वो नहीं झड़ते ?”

“पता नहीं तुमने कहाँ कहाँ से यह सब गलत बातें सुन रखी हैं। सच्चाई तो यह है कि योनि में लिंग प्रवेश करने के बाद बिना रुके सेक्स करने पर स्खलन का औसत समय 3 से 10 मिनट का ही होता है। यह अलग बात है कि लोग कई बार सेक्स के दौरान अपने घर्षण और धक्कों को विराम दे कर स्खलन का समय बढ़ा लेते हैं !”

“वैसे कुछ लोग दूसरे टोटके भी आजमाते हैं ;

मूली के बीजों को या कबूतर की बीट को तेल में पका कर उस तेल से अपने लिंग पर मालिश की जाए तो इस से स्तम्भन शक्ति बढ़ती है। अगर सम्भोग करते समय निरोध लगा लिया जाए या अपने लिंग पर रबर का छल्ला पहन लिया जाए तो भी वीर्य देरी से स्खलित होता है। प्याज (ओनियन) का रस और शहद मिलाकर रोज़ खाने से पुरुष शक्ति बढती है। काले चने खाने और उरद की दाल खाने से घोड़े जैसी ताकत मिलती है और वीर्य गाढ़ा होता है। महुवे, सतावर, अश्वगंधा और चमेली के फूलों का सेवेन करने से वीर्य में वृद्धि होती है।”

मैंने बाथरूम में जाकर अपने मिट्ठू, पेट, जाँघों और हाथों को अच्छी तरह धोये और जब बाहर आया तो आंटी दूध भरा गिलास लिए मेरा इंतज़ार ही कर रही थी। जब तक मैंने केशर बादाम मिला गर्म दूध पीया वो बाथरूम से अपने हाथ साफ़ करके बाहर आ गई। बड़ी अदा से अपने कुल्हे और नितम्ब मटकाती वो पलंग के पास आकर खड़ी हो गई। उसका गदराया बदन देख कर तो मेरा शेर फिर से कुनमुनाने लगा था।

मैंने उठ खड़ा हुआ और उसे अपनी बाहों में भर कर चूम लिया। वो तो जैसे कब की तरस रही थी। उसने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए। मैंने उसे पलंग पर चित्त लेटा दिया और उसके ऊपर आ गया। मैंने उसके गालों, होंठों, पलकों, गले और उरोजों की घाटियों पर चुम्बनों की झड़ी ही लगा दी। वो भी मुझे चूमे ही जा रही थी। मैंने उसकी पीठ सहलानी चालू कर दी अचानक मेरा हाथ उसकी ब्रा की डोरी से टकराया। मैंने उसे खींच दिया। दोनों कबूतर जैसे आजाद हो गए। आह… मोटे मोटे गोल कंधारी अनार हों जैसे। एरोला लाल रंग का और चूचक तो बस मूंगफली के दाने जितने गुलाबी रंग के। मैंने झट से एक अमृत कलश को अपने मुंह में भर लिया। आंटी ने मेरा सिर पकड़ लिया और एक मीठी सीत्कार लेकर बोली “चंदू इसे धीरे धीरे चूसो। चूचक को कभी कभी दांतों से दबाते रहो पर काटना नहीं …आह …”

“देखो सम्भोग से पहले पूर्व काम क्रीड़ा का बहुत महत्व होता है। प्रेम को स्थिर रखने के लिए सदैव सम्भोग से पहले पूर्व रति क्रीड़ा बहुत जरुरी होती है। पुरुष की उत्तेजना दूध के उफान या ज्वालामुखी की तरह होती है जो एक दम से भड़कती है और फिर ठंडी पड़ जाती है। परंतू स्त्री की उत्तेजना धीरे धीरे बढती है जैसे चाँद धीरे धीरे अपनी पूर्णता की ओर बढ़ता है लेकिन उनकी उत्तेजना का आवेग और समय ज्यादा होता है और फिर वो उत्तेजना धीरे धीरे ही कम होती है। इसके अलावा महिलाओं में उत्तेजना को प्राप्त करनेवाले अंग पुरुषों कि अपेक्षा ज्यादा होते हैं। शरीर विज्ञान के अनुसार महिलाओं की मदनमणि (भागनासा) में जितनी ज्यादा संख्या संवेदन शील ग्रंथियों की होती है उतनी पुरुषों के लिंग के सुपाड़े में होती हैं। इसी लिए पुरुष जल्दी चरमोत्कर्ष पर पहुँच जाते हैं। तुम्हें शायद पता नहीं होगा कि पूर्णिमा के दिन समुद्र का ज्वार सब से ज्यादा ऊंचा होता है। यही स्थिति स्त्री की होती है। चंद्रमा के घटने बढ़ने के साथ साथ ही स्त्री का काम ज्वर घटता बढ़ता रहता है उसके ऋतुचक्र में कुछ दिन ऐसे आते हैं जब उसके मन में सम्भोग की तीव्र इच्छा होती है। माहवारी के कुछ दिन पहले और माहवारी ख़तम होने के 3-4 दिन बाद स्त्री का कामवेग अपने उठान पर होता है। बाद में तो यह चन्द्र कला की तरह घटता बढ़ता रहता है। इसलिए हर स्त्री को अलग अलग दिन अलग अलग अंगों को छूना दबाना और चूमना अच्छा लगता है।”

एक और बात सुनो,” सम्भोग करने से पहले अपनी प्रेयसी को गर्म किया जाता है। उसके सारे अंगों को सहलाया और चूमा चाटा जाता है कोई जल्दबाजी नहीं, आराम से धीरे धीरे। पहले सम्भोग में पुरुष उत्तेजना के कारण जल्दी झड़ जाता है और सम्भोग का पूरा आनंद नहीं ले पाता इसलिए अगर सुहागरात को पहले दिन में एक बार मुट्ठ मार ली जाए तो अच्छा रहता है। मैंने इसी लिए तुम्हारा पानी एक बार पहले निकाल दिया था। एक और बात यदि सम्भोग करते समय लिंग पर निरोध (कंडोम) लगा लिया जाए तो वीर्य जल्दी नहीं स्खलित होता और अनचाहे गर्भ से भी बचा जा सकता है।”

अब मैंने उसे अपनी बाहों में जोर से भर कर उन अमृत कलशों को जोर जोर से चूसना चालू कर दिया। आंटी की तो सीत्कार पर सीत्कार निकल रही थी। बारी बारी दोनों उरोजों को चूस कर अब मैंने उनकी घाटियाँ और पेट को भी चूमना चालू कर दिया। अब मैंने उसकी नाभि और पेट को खूब अच्छी तरह से चाटा। नाभि के गोलाकार 1 इंच छेद में अपनी जीभ को डाल कर घुमाते हुए मैंने उसकी पैंटी के ऊपर से ही हाथ फिराना शुरू कर दिया और अपने हाथों को उसकी जाँघों के बीच ले जा कर उसकी चूत को अपनी मुट्ठी में भर कर मसलने लगा। उसकी चूत एक दम गीली हो गई थी इसका अहसास मुझे पैंटी के ऊपर से भी हो रहा था। मैंने उसकी मक्खन सी मुलायम जाँघों को भी खूब चाटा और चूमा। जब मैं हाथ बढ़ा कर उनकी पैंटी हटाने लगा तो आंटी ने अपनी पैंटी की डोरी खुद ही खोल दी।

हालांकि आंटी की मुनिया मैं पहले देख चुका था पर आज तो इसका रंग रूप और नज़ारा देखने लायक था। गुलाबी रंग के फांकें तो जैसे सूज कर मोटी मोटी हो गई थी। चूत की फांकें और बीच की लकीर कामरस से सराबोर हो रही थी। मदनमणि तो किसी किसमिस के फूले दाने जितनी बड़ी लग रही थी। मैंने एक चुम्बन उस पर ले लिया। आंटी की तो एक किलकारी ही निकल गई। फिर वो बोली,”ओह … चंदू जल्दबाजी नहीं, ठहरो !”

उन्होंने अपनी दोनों टाँगे चौड़ी कर के फैला कर अपना खज़ाना ही जैसे खोल दिया। मैं उसकी टांगो के बीच में आ गया। उसने अपनी चूत की फांकों पर लगी सोने की बालियों को दोनों हाथों से पकड़ कर चौड़ा किया और मुझे बोली,” हाँ, अब इसे प्यार करो !”

मैं इस प्यार का मतलब अच्छी तरह जानता था। उसकी मोटी केले के तने जैसी मांसल और गोरी जाँघों के बीच गुलाबी चूत चाँद के जैसे झाँक रही थी। उसकी चूत के गुलाबी होंठ गीले थे और ट्यूब लाईट की दुधिया रौशनी में चमक रहे थे। उसकी जाँघों को हलके से दांत से काटते हुए मैं जीभ से चाटने लगा। मैं चूत के चाटते हुए अपनी जीभ को घुमा भी रहा था। उसका नमकीन और कसैला स्वाद मुझे पागल बना रहा था। मैं तो धड़कते दिल से उस शहद की कटोरी को चूसे ही चला गया। मेरा शेर फिर दहाड़ें मारने लगा था। आंटी की सीत्कार पूरे कमरे में गूंजने लगी थी “उईईइ।.. बहुत अच्छे, बहुत खूब, ऐसे ही, ओह…. सीईईईईईइ….. ओह मैं तुम्हें पूरा गुरु बना दूंगी आज। ओह … ऐसे ही चूसते रहो…. ओईईइ ….”

मैंने अब उसके मदनमणि के दाने को अपनी जीभ से टटोला। मैंने उसे जीभ से सहलाया और फिर एक दो बार दांतों के बीच लेकर दबा दिया। आंटी तो अपने पैर ही पटकने लगी। उसने अपनी जांघें मेरी गर्दन के गिर्द लपेट ली और मेरा सिर पकड़ कर अपनी जाँघों की ओर दबा सा दिया। मैं तो मस्त हुआ उसे चाटता और चूसते ही चला गया। थोड़ी देर बाद उसने अपने पैर नीचे कर लिए और अपनी जाँघों की जकड़न थोड़ी सी ढीली कर दी। अब मैंने भी अपनी जीभ से उसकी चूत को ऊपर से नीचे और नीचे से ऊपर फिराया। उसकी सोने की बालियाँ मुंह में लेकर होले से चूसा। फिर उन बालियों को दोनों हाथों से पकड़ कर चौड़ा किया और अपनी जीभ को नुकीला करके उसके गुलाबी छेद पर लगा कर होले होले अन्दर बाहर करने लगा। उसने एक जोर की सीत्कार की और मुझे कुछ नमकीन सा पानी जीभ पर फिर महसूस हुआ। शायद उसकी मुनिया ने कामरस फिर छोड़ दिया था।

जब मैंने अपना सिर ऊपर उठाया और फिर से उसके उरोजों की ओर आने लगा तो उसने मेरा सिर पकड़ लिया और मेरे होंठों को चूम लिया। मेरे होंठों पर लगे उसका कामरस का स्वाद उसे भी मिल ही गया होगा। अब उसने अपना हाथ बढ़ा कर मेरे मिट्ठू को पकड़ लिया। मिट्ठू तो बेचारा कब का इंतज़ार कर रहा था। उसने उसकी गर्दन पकड़ ली और उसे मसलना चालू कर दिया। उसने पास पड़ी क्रीम मेरे मिट्ठू पर लगा दी। मैंने भी उनकी चूत पर अपना थूक लगा दिया। और फिर एक अंगुली से उनकी चूत का छेद टटोला। ओह कितना मस्त कसा हुआ छेद था। अब देरी की कहाँ गुन्जाइस थी। मैंने अपने मिट्ठू को उनकी चूत के नरम नाजुक छेद पर लगा दिया। मैं उसके ऊपर ही तो था। मैंने अपना एक हाथ उसकी गर्दन के नीचे लगा लिया और दूसरा हाथ उसकी कमर के नीचे। उसने अपनी जांघें चौड़ी कर ली। और फिर मैं एक धक्का जोर से लगा दिया। मेरा मिट्ठू तो एक ही धक्के में अन्दर चला गया। आह… क्या नर्म और गुदाज अहसास था। मिट्ठू तो मस्त ही हो गया। मैंने दो तीन धक्के तेजी से लगा दिए। आंटी तो बस उईई।… मा… करती ही रह गई।

मुझे लगा जैसे मुझे कुछ जलन सी हो रही है। मैंने सोच शायद पहली बार किसी को चोद रहा हूँ इस लिए ऐसा हो रहा है पर यह तो मुझे बाद में पता चला था कि मेरे लिंग के नीचे का धागा टूट गया है और मेरे लंड का कुंवारापन जाता रहा है।

मैंने धक्के चालू रखे। उसे चूमना और उरोजों को मसलना भी जारी रखा। अब चूत पूरी रवां हो चुकी थी। आंटी बोली “नहीं चंदू ऐसे जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। चलो मेरी मुनिया ने तो पता नहीं कितनी बार अन्दर लिया होगा और तुम्हारा भी ले लिया पर अगर कोई कुंवारी लड़की हो तो इतनी जोर से धक्का लगाने से उसकी तो हालत ही ख़राब हो जायेगी। कभी भी पहला धक्का जोर का नहीं, बिल्कुल धीरे धीरे प्यार से लगाना चाहिए।”

मैंने अपनी मुंडी हिला दी। अब मैंने उनके होंठ चूमने शुरू कर दिए। उनके उरोज मेरी छाती से लग कर दब रहे थे उनके कड़े हो चले चुचूकों का आभास तो मुझे तरंगित ही कर रहा था। मैं कभी उनके होंठ चूमता कभी कपोलों को। अब आंटी ने अपने पैर ऊपर उठा दिए। आह… अब तो मज़ा ही ओर था। मुझे लगा जैसे किसी ने अन्दर से मेरा लंड कस लिया है और जैसे कोई दूध दुह रहा है। अनुभवी औरतें जब अपनी चूत को अन्दर से इस तरह सिकोड़ती हैं तो ऐसा कसाव अनुभव होता है जैसे कोई 16 साल की कमसिन चूत हो। मैंने अपने धक्के चालू रखे। उसने अपने पैरों की कैंची बना कर मेरी कमर के गिर्द लगा ली। अब धक्के के साथ ही उसके नितम्ब भी ऊपर नीचे होने लगे। मैंने धक्के लगाने बंद कर दिए। आंटी ने एक तकिया अपने नितम्बों के नीचे लगा लिया और पैर नीचे कर दिए। ओह … अब तो जैसे मुझे आजादी ही मिल गई। मैंने अपने धक्कों की गति बढ़ा दी।

अपने जीवन में किसी चूत में अपना लंड डालने का यह मेरा पहला मौका था। यह ख़याल आते ही मेरे लंड की मोटाई शायद बढ़ गई थी और मैं अपने आप को बहुत जयादा उत्तेजित महसूस कर रहा था। लंड को उसके चूत की तह तक पेलते हुए मैं अपने पेडू से उनकी मदनमणि को भी रगड़ रहा था। मेरे तीखे नुकीले छोटे छोटे झांट उसे चुभ रहे थे और इस मीठी चुभन से उसे और भी रोमांच हो रहा था। उसकी तो सीत्कार पर सीत्कार निकल रही थी।

कोई 10 मिनट की धमाकेदार चुदाई के बाद मैं हांफने लगा। उसने मुझे कस कर पकड़ लिया। उनका शरीर कुछ अकड़ा और फिर उसने एक जोर की किलकारी मारी। शायद वो झड़ गई थी। मैं रुक गया। उनकी साँसें जोर जोर से चल रही थी। कुछ देर ऐसे ही पड़ी रहने के बाद वो बोली,”चंदू क्या मैं ऊपर आ जाऊं ?”

मुझे क्या ऐतराज़ हो सकता था। अब हमने एक पलटी मारी और आंटी ठीक मेरे ऊपर थी। अब सारी कमान जैसे उसी के हाथों में थी। उसका अपनी चूत को अन्दर से सिकोड़ना और मेरे लंड को अन्दर चूसना तो मुझे मस्त ही किये जा रहा था। यह तो उसने पहले ही मेरा पानी एक बार निकाल दिया था नहीं तो इतनी गर्मी और उत्तेजना के मारे मैं कब का झड़ जाता।

उसने अपने नितम्ब घुमाते हुए धक्के लगाने चालू कर दिए। वो थोड़ी झुक कर अपनी कोहनियों के बल बैठी धक्के लगने लगी। मैंने हाथ बढ़ा कर उसके उरोजों को पकड़ लिया और चूसने लगा। एक हाथ से उसके नितम्ब सहला रहा था और कभी कभी उसकी पीठ या कमर भी सहला रहा था। मैं तो मदहोश ही हुआ जा रहा था। जैसे ही उसके नितम्ब नीचे आते तो गच्च की आवाज आती जिसे सुनकर हम दोनों ही मस्त हो जाते। उसने बताया,”जब तुम्हें लगे की अब निकलने वाला है तो इस घड़ी की टिकटिक पर ध्यान लगा लेना, फिर तुम 5-6 मिनट तक नहीं झड़ोगे। जब झड़ने लगो तो मुझे बता देना !”

हम दोनों अब पूरी तरह से मदहोश होकर मजे की दुनिया में उतर चुके थे। अब मैं भी कितनी देर रुकता। मैंने जोर जोर से धक्के लगाने चालू कर दिए। अभी मैंने 4-5 धक्के ही लगाये थे कि मुझे लगा उसकी चूत ने संकोचन करना चालू कर दिया है। ऐसा महसूस होते ही मेरी पिचकारी और आंटी की सीत्कार दोनों एक साथ निकल गई। उसकी चूत मेरे गाढ़े गर्म वीर्य से लबालब भर गई। आंटी ने मुझे अपनी बाहों में इतनी जोर से जकड़ा कि उसके हाथों की 4-5 चूड़ियाँ ही चटक गई। पता नहीं कब तक हम इसी तरह एक दूसरे की बाहों में लिपटे पड़े रहे। आंटी ने बताया था कि स्खलन के बाद लिंग को तुरंत योनि से बाहर नहीं निकलना चाहिए कुछ देर ऐसे ही अन्दर पड़े रहने देना चाहिए इससे पौरुष शक्ति फिर से मिल जाती है।

रात भी बहुत हो चुकी थी और इतनी जबरदस्त चुदाई के बाद हम दोनों में से किसी को होश नहीं था, मैं आंटी के ऊपर से लुढ़क कर उसके बगल में लेट गया। वह भी अपनी आँखें बंद किये अपनी सांसो को सँभालने में लग गई। एक दूसरे की बाहों में लिपटे हमें कब नींद ने अपने आगोश में भर लिया पता ही नहीं चला।

सुबह कोई 8 बजे हम दोनों की नींद खुली। मैं एक बार उस परम सुख को फिर से भोग लेना चाहता था। जब आंटी बाथरूम से बाहर आई तो मैंने अपनी बाहें उसकी ओर फैलाई तो बोली,” नहीं चंदू ….. अब कुछ नहीं… गड़बड़ हो गई है ?”

“क … क.. क्या हुआ ?”

“लाल बाई आ गई है !”

“ये लाल बाई कौन है ?” मैंने हैरानी से पूछा।

“अरे बुद्धू महीने में एक बार हर जवान स्त्री रजस्वला होती है। और 3-4 दिन योनि में रक्त स्त्राव होता रहता है ताकि फिर से गर्भ धारण के लिए अंडा बना सके ?”

“ओह …” मेरा तो सारा उत्साह ही ठंडा पड़ गया।

“हालांकि इन दिनों में भी हम सम्भोग कर सकते हैं पर मुझे इन तीन दिनों में यह सब करना अच्छा नहीं लगता। कुछ विशेष परिस्थितियों में (जैसे नई शादी हुई हो या पति पत्नी कई दिनों बाद मिले हों) माहवारी के दौरान भी सम्भोग किया जा सकता है पर साफ़ सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए नहीं तो योनि में संक्रमण हो सकता है। कुछ दंपत्ति तो माहवारी के दौरान इसलिए सेक्स करना पसंद करते हैं कि वो समझते हैं कि इस दौरान सेक्स करने से गर्भ नहीं ठहरेगा। जबकि कई बार माहवारी के दिनों में सेक्स करने से भी गर्भ ठहर सकता है। मेरे साथ ऐसी कोई समस्या नहीं है, तुम घबराओ मत अब तो बस एक सबक ही और बचा है वो 3 दिनों के बाद तुम्हें सिखाउंगी !” आंटी ने समझाया।

मैं अपने कपड़े पहनते हुए यह सोच रहा था कि चुदाई के बाद अब और कौन सा सबक बाकी रह गया है।

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: लेखक-प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ

Unread post by The Romantic » 17 Dec 2014 03:32

आंटी गुलबदन और सेक्स (प्रेम) के सात सबक-5

7. गुदा-मैथुन (गांडबाज़ी)

मैंने अपने साथ पढ़ने वाले लड़कों से सुना भी था और मस्तराम की कहानियों में भी गांडबाजी के बारे में पढ़ा था। पर मुझे विश्वास ही नहीं होता था कि ऐसा सचमुच में होता होगा। आंटी ने जब सातवें सबक के बारे में बताया कि यह गुदा-मैथुन के बारे में होगा तो मुझे बड़ी हैरानी हुई लेकिन बाद में तो मैं इस ख़याल से रोमांचित ही हो उठा कि मुझे वो इसका मज़ा भी देंगी।

आंटी ने बताया कि ज्यादातर औरतें इस क्रिया बड़ी अनैतिक, कष्टकारक और गन्दा समझती हैं। लेकिन अगर सही तरीके से गुदा-मैथुन किया जाए तो यह बहुत ही आनंददायक होता है। एक सर्वे के अनुसार पाश्चात्य देशों में 70 % और हमारे यहाँ 15 % लोगों ने कभी ना कभी गुदा-मैथुन का आनंद जरुर लिया है। पुरुष और महिला के बीच गुदा-मैथुन द्वारा आनंद की प्राप्ति सामान्य घटना है। इंग्लैंड जैसे कई देशों में तो इसे कानूनी मान्यता भी है। पर अभी हमारे देश में इसके प्रति नजरिया उतना खुला नहीं है। लोग अभी भी इसे गन्दा समझते हैं। पर आजकल के युवा कामुक फिल्मों में यह सब देख कर इसके प्रति आकर्षित हो रहे हैं।

योनि के आस पास बहुत सी संवेदनशील नसें होती है और कुछ गुदा के अन्दर भी होती हैं। इस लिए गुदा-मैथुन में पुरुषों के साथ साथ स्त्रियों को भी मज़ा आता है। और यही कारण है कि दुनिया में इतने लोग समलिंगी होते हैं और ख़ुशी ख़ुशी गांड मरवाते हैं। महिलाओं को भी इसमें बड़ा मज़ा आता है। कुछ शौक के लिए मरवाती हैं और कुछ अनुभव के लिए। आजकल की आधुनिक औरतें कुछ नया करना चाहती हैं इसलिए उन में लंड चूसने और गांड मरवाने की ललक कुछ ज्यादा होती है। अगर वो बहुत आधुनिक और चुलबुली है तो निश्चित ही उसे इसमें बड़ा मज़ा आएगा। वैसे समय के साथ योनि में ढीलापन आ जाता है और लंड के घर्षण से ज्यादा मज़ा नहीं आता। पर गांड महारानी को तो कितना भी बजा लिया जाए वह काफी समय तक कसी हुई रहती है और उसकी लज्जत बरकरार रहती है क्योंकि उसमें लचीलापन नहीं होता। इसलिए गुदा-मैथुन में अधिक आनंद की अनुभूति होती है।

एक और कारण है। एक ही तरह का सेक्स करते हुए पति पत्नी दोनों ही उकता जाते हैं और कोई नई क्रिया करना चाहते हैं। गुदा-मैथुन से ज्यादा रोमांचित करने वाली कोई दूसरी क्रिया हो ही नहीं सकती। पर इसे नियमित तौर पर ना करके किसी विशेष अवसर के लिए रखना चाहिए जैसे कि होली, दिवाली, नववर्ष, जन्मदिन, विवाह की सालगिरह या वो दिन जब आप दोनों सबसे पहले मिले थे। अपने पति को वश में रखने का सबसे अच्छा साधन यही है। कई बार पत्नियां अपने पति को गुदा-मैथुन के लिए मना कर देती हैं तो वो उसे दूसरी जगह तलाशने लग जाता है। अपने पति को भटकने से बचाने के लिए और उसका पूर्ण प्रेम पाने के लिए कभी कभी गांड मरवा लेने में कोई बुराई नहीं होती।

प्रेम आश्रम वाले गुरुजी कहते हैं कि औरत को भगवान् ने तीन छेद दिए हैं और तीनों का ही आनंद लेना चाहिए। इस धरती पर केवल मानव ही ऐसा प्राणी है जो गुदा-मैथुन कर सकता है। जीवन में अधिक नहीं तो एक दो बार तो इसका अनुभव करना ही चाहिए। सुखी दाम्पत्य का आधार ही सेक्स होता है पर अपने प्रेम को स्थिर रखने के लिए गुदा-मैथुन भी कभी कभार कर लेना चाहिए। इस से पुरुष को लगता है कि उसने अपनी प्रियतमा को पूर्ण रूप से पा लिया है और स्त्री को लगता है कि उसने अपने प्रियतम को सम्पूर्ण समर्पण कर दिया है।

खैर मैं 4 दिनों के सूखे के बाद आज रात को ठीक 9.00 बजे आंटी के घर पहुँच गया। मुझे उस दिन वाली बात याद थी इसलिए आज मैंने सुबह एक मार मुट्ठ मार ली थी। मैंने पैंट और शर्ट डाल रखी थी पर अन्दर चड्डी जानकर ही नहीं पहनी थी। आंटी ने पतला पजामा और टॉप पहन रखा था। उसके नितम्बों पर कसा पजामा उसकी चूत और नितम्बों का भूगोल साफ़ नज़र आ रहा था लगता था उसने भी ब्रा और पैंटी नहीं पहनी है।

मैंने दौड़ कर उसे बाहों में भर लिया और उसे चूमने लगा तो आंटी बोली,”ओह … चंदू फिर जल्दबाजी ?”

“मेरी चांदनी मैंने ये 4 दिन कैसे बिताये हैं मैं ही जानता हूँ !” मैंने उसके नितम्बों पर अपने हाथ सहलाते हुए जोर से दबा दिए।

“ओह्हो ?” उसने मेरी नाक पकड़ते हुए कहा।

एक दूसरे की बाहों में जकड़े हम दोनों बेडरूम में आ गए। पलंग पर आज सफ़ेद चादर बिछी थी। साइड टेबल पर वैसलीन, बोरोप्लस क्रीम, नारियल और सरसों के तेल की 2-3 शीशियाँ, एक कोहेनूर निरोध (कंडोम) का पैकेट, धुले हुए 3-4 रुमाल और बादाम-केशर मिला गर्म दूध का थर्मोस रखा था। मुझे इस बात की बड़ी हैरानी थी कि एक रबर की लंड जैसी चीज भी टेबल पर पड़ी है। पता नहीं आंटी ने इसे क्यों रखा था। इससे पहले कि मैं कुछ पूछता, आंटी बोली,”हाँ तो आज का सबक शुरू करते हैं। आज का सबक है गधापचीसी। इसे बैक-डोर एंट्री भी कहते हैं और जन्नत का दूसरा दरवाज़ा भी। तुम्हें हैरानी हो रही होगी ना ?”

मैं जानता तो था पर मैंने ना तो हाँ कहा और ना ही ना कहा। बस उसे देखता ही रह गया। मैं तो बस किसी तरह यह चाह रहा था कि आंटी को उल्टा कर के बस अपने लंड को उनकी कसी हुई गुलाबी गांड में डाल दूं।

“देखो चंदू सामान्यतया लडकियां पहली बार गांड मरवाने से बहुत डरती और बिदकती हैं। पता नहीं क्यों ? पर यह तो बड़ा ही फायदेमंद होता है। इसमें ना तो कोई गर्भ धारण का खतरा होता है और ना ही शादी से पहले अपने कौमार्य को खोने का डर। शादीशुदा औरतों के लिए परिवार नियोजन का अति उत्तम तरीका है। कुंवारी लड़कियों के लिए यह गर्भ से बचने का एक विश्वसनीय और आनंद दायक तरीका है। माहवारी के दौरान अपने प्रेमी को संतुष्ट करने का इस से बेहतर तरीका तो कुछ हो ही नहीं सकता। सोचो अपने प्रेमी को कितना अच्छा लगता है जब वो पहली बार अपनी प्रेमिका की अनचुदी और कोरी गांड में अपना लंड डालता है।”

मेरा प्यारे लाल तो यह सुनते ही 120 डिग्री पर खड़ा हो गया था और पैंट में उधम मचाने लगा था। मैं पलंग की टेक लगा कर बैठा था और आंटी मेरी गोद में लेटी सी थी। मैं एक हाथ से उसके उरोजों को सहला रहा था और दूसरे हाथ से उसकी चूत के ऊपर हाथ फिरा रहा था ताकी वो जल्दी से गर्म हो जाए और मैं जन्नत के उस दूसरे दरवाज़े का मज़ा लूट सकूं।

आंटी ने कहना जारी रखा,”कहने में बहुत आसान लगता है पर वास्तव में गांड मारना और मरवाना इतना आसान नहीं होता। कई बार ब्लू फिल्मों में दिखाया जाता है कि 8-9 इंच लम्बा और 2-3 इंच मोटा लंड एक ही झटके में लड़की की गांड में प्रवेश कर जाता है और दोनों को ही बहुत मज़ा लेते दिखाई या जाता है। पर वास्तव में इनके पीछे कैमरे की तकनीक और फिल्मांकन होता है। असल जिन्दगी में गांड मारना इतना आसान नहीं होता इसके लिए पूरी तैयारी करनी पड़ती है और बहुत सी बातों का ध्यान रखना पड़ता है।”

मुझे बड़ी हैरानी हो रही थी भला गांड मारने में क्या ध्यान रखना है। घोड़ी बनाओ और पीछे से ठोक दो ? पर मैंने पूछा “किन बातों का ?”

“सबसे जरुरी बात होती है लड़की को इस के लिए राज़ी करना ?”

“ओह …”

“हाँ सबसे मुश्किल काम यही होता है। इस लिए सबसे पहले उसे इसके लिए मानसिक रूप से तैयार करना जरुरी होता है। भगवान् या कुदरत ने गांड को सम्भोग के लिए नहीं बनाया है। इसकी बनावट चूत से अलग होती है। इसमें आदमी का लंड उसकी मर्ज़ी के बिना प्रवेश नहीं कर सकता। इसके अन्दर बनी मांसपेशियाँ और छल्ला वो अपनी मर्ज़ी से ढीला और कस सकती हैं। ज्यादातर लडकियां और औरतें इसे गन्दा और कष्टकारक समझती हैं। इसलिए उन्हें विश्वास दिलाना जरुरी होता है कि प्रेम में कुछ भी गन्दा और बुरा नहीं होता। उसका मूड बनाने के लिए कोई ब्लू फिल्म भी देखी जा सकती है। उसे गुदा-मैथुन को लेकर अपनी कल्पनाओं के बारे में भी बताओ। उसे बताओ कि उसके सारे अंग बहुत खूबसूरत हैं और नितम्ब तो बस क़यामत ही हैं। उसकी मटकती गांड के तो तुम दीवाना ही हो। अगर एक बार वो उसका मज़ा ले लेने देगी तो तुम जिंदगी भर उसके गुलाम बन जाओगे। उसे भी गांड मरवाने में बड़ा मज़ा आएगा और यह दर्द रहित, रोमांचकारी, उत्तेजक और कल्पना से परिपूर्ण तीव्रता की अनुभूति देगा। और अगर जरा भी कष्ट हुआ और अच्छा नहीं लगा तो तुम उससे आगे कुछ नहीं करोगे।

एक बात ख़ासतौर पर याद रखनी चाहिए कि इसके लिए कभी भी जोर जबरदस्ती नहीं करनी चाइये। कम से कम अपनी नव विवाहिता पत्नी से तो कभी नहीं। कम से कम एक साल बाद ही इसके लिए कहना चाहिए।”

“हूँ ….”

“उसके मानसिक रूप से तैयार होने के बाद भी कोई जल्दबाज़ी नहीं। उसे शारीरिक रूप से भी तो तैयार करना होता है ना। अच्छा तो यह रहता है कि उसे इतना प्यार करो कि वो खुद ही तुम्हारा लंड पकड़ कर अपनी गांड में डालने को आतुर हो जाए। गुदा-मैथुन से पूर्व एक बार योनि सम्भोग कर लिया जाए अच्छा रहता है। इस से वो पूर्ण रूप से उत्तेजित हो जाती है। ज्यादातर महिलायें तब उत्तेजना महसूस करती हैं जब पुरुष का लिंग उनकी योनि में घर्षण कर रहा होता है। इस दौरान अगर उसकी गांड के छेद को प्यार से सहलाया जाए तो उसकी गांड की नसें भी ढीली होने लगेंगी और छल्ला भी खुलने बंद होने लगेगा। साथ साथ उसके दूसरे काम अंगों को भी सहलाओ, चूमो और चाटो !”

“और जब लड़की इसके लिए तैयार हो जाए तो सबसे पहले अपने सारे अंगों की ठीक से सफाई कर लेनी चाहिए। पुरुष को अपना लंड साबुन और डिटोल से धो लेना चाहए और थोड़ी सी सुगन्धित क्रीम लगा लेनी चाहिए। मुंह और दांतों की सफाई भी जरुरी है। नाखून और जनन अंगों के बाल कटे हों। लड़कियों को भी अपनी योनि, गुदा नितम्ब, उरोजों और अपने मुंह को साफ़ कर लेना चाहिए। गुदा की सफाई विशेष रूप से करनी चाहिए क्यों कि इसके अन्दर बहुत से बेक्टीरिया होते हैं जो कई बीमारियाँ फैला सकते हैं। दैनिक क्रिया से निपट कर एक अंगुली में सरसों का तेल लगा कर अन्दर डाल कर साफ़ कर लेनी चाहिए। गुदा-मैथुन रात को ही करना चाहिए। और जिस रात गुदा-मैथुन करना हो दिन में 3-4 बार गुदा के अन्दर कोई एंटीसेफ्टिक क्रीम लगा लेनी चाहिए। कोई सुगन्धित तेल या क्रीम अपने गुप्तांगों और शरीर पर लगा लेनी चाहिए। पास में सुगन्धित तेल, क्रीम, छोटे तौलिये और कृत्रिम लिंग (रबर का) रख लेना चाहिए।”

“ओह …” मेरे मुंह से तो बस इतना ही निकला।

“चलो अब शुरू करें ?”

“ओह… हाँ…”

मैंने नीचे होकर उसके होंठ चूम लिए। उसने भी मुझे बाहों में कस कर पकड़ लिया। और बिस्तर पर लुढ़क गए। आंटी चित्त लेट गई। मेरा एक पैर उसकी जाँघों के बीच था लगभग आधा शरीर उसके ऊपर था। उसकी बाहों के घेरे ने मुझे जकड़ रखा था। मैंने उसके गालों पर होंठों पर गले और माथे पर चुम्बनों की झड़ी लगा दी। साथ साथ कभी उसके उरोज मसलता कभी अपना हाथ पजामे के ऊपर से ही उसकी मुनिया को सहला और दबा देता। उसकी मुनिया तो पहले से ही गीली हो रही थी।

अब हमने अपने कपड़े उतार दिए और फिर एक दूसरे को बाहों में भर लिया। मैं उसके ऊपर लेटा था। पहले मैंने उसके उरोजों को चूसा और फिर उसके पेट नाभि, पेडू को चूमते चाटते हुए नीचे तक आ गया। एक मीठी और मादक सुगंध मेरे नथुनों में भर गई। मैंने गप्प से उसकी मुनिया को मुंह में भर लिया। आंटी ने अपने पैर चौड़े कर दिया। मोटी मोटी फांकें तो आज फूल कर गुलाबी सी हो रही थी। मदनमणि तो किसमिस के फूले दाने जैसी हो रही थी। मैं अपनी जीभ से उसे चुभलाने लगा। उसकी तो सीत्कार ही निकल गई। कभी उसकी तितली जैसी पतली पतली अंदरुनी फांकें चूसता कभी उस दाने को दांतों से दबाता। साथ साथ उसके उरोजों को भी दबा और सहला देता।

आंटी ने अपने घुटने मोड़ कर ऊपर उठा लिए। मैंने एक तकिया उसके नितम्बों के नीचे लगा दिया। आंटी ने अपनी जांघें थोड़ी सी चौड़ी कर दी। अब तो उसकी चूत और गांड दोनों के छेद मेरी आँखों के सामने थे। गांड का बादामी रंग का छोटा सा छेद तो कभी खुलता कभी बंद होता ऐसे लग रहा था जैसे मुंबई की मरीन ड्राइव पर कोई नियोन साइन रात की रोशनी में चमक रहा हो। मैंने एक चुम्बन उस पर ले लिया और जैसे ही उस पर अपनी जीभ फिराई तो आंटी की तो किलकारी ही निकल गई। उसकी चूत तो पहले से ही गीली हुई थी। फिर मैंने स्टूल पर पड़ी वैसलीन की डब्बी उठाई और अपनी अंगुली पर क्रीम लगाई और अंगुली के पोर पर थोड़ी सी क्रीम लगा कर उसके खुलते बंद होते गांड के छेद पर लगा दी। दो तीन बार हल्का सा दबाव बनाया तो मुझे लगा आंटी ने बाहर की ओर जोर लगाया है। उसकी गांड का छेद तो ऐसे खुलने लगा जैसे कोई कमसिन कच्ची कलि खिल रही हो। मेरा एक पोर उसकी गांड के छेद में चला गया। आह… कितना कसाव था। इतना कसाव महसूस कर के मैं तो रोमांच से भर उठा। बाद में मुझे लगा कि जब अंगुली में ही इतना कसाव महसूस हो रहा है तो फिर भला मेरा इतना मोटा लंड इस छोटे से छेद में कैसे जा पायेगा ?

मैंने आंटी से पूछा “चांदनी, एक बात पूछूं ?”

“आह … हूँ । ?”

“क्या तुमने पहले भी कभी गांड मरवाई है ?”

“तुम क्यों पूछ रहे हो ?”

“वैसे ही ?”

“मैं जानती हूँ तुम शायद यह सोच रहे होगे कि इतना मोटा लंड इस छोटे से छेद में कैसे जाएगा ?”

“हूँ …?”

“तुम गांड रानी की महिमा नहीं जानते। हालांकि इस में चूत की तरह कोई चिकनाई नहीं होती पर अगर इसे ढीला छोड़ दिया जाए और अन्दर ठीक से क्रीम लगा कर तर कर लिया जाए तो इसे मोटा लंड अन्दर लेने में भी कोई दिक्कत नहीं होगी। पर तुम जल्दबाज़ी करोगे तो सब गुड़ गोबर हो जाएगा !”

“क्या मतलब?”

मेरे पति ने एक दो बार मेरी गांड मारने की कोशिश की थी पर वो अनाड़ी था। ना तो मुझे तैयार किया और ना अपने आप को। जैसे ही उसने अपना लंड मेरे नितम्बों के बीच डाला अति उत्तेजना में उसकी पिचकारी फूट गई और वो कुछ नहीं कर पाया ? पर तुम चिंता मत करो मैं जैसे समझाऊँ वैसे करते जाओ। सब से पहले इसे क्रीम लगा कर पहले रवां करो “

“ओके …”

अब मैंने बोरोप्लस की ट्यूब का ढक्कन खोल कर उसकी टिप को गांड के छेद पर लगा दिया। ट्यूब का मुंह थोड़ा सा गांड के छेद में चला गया। अब मैंने उसे जोर से पिचका दिया। लगभग ट्यूब की आधी क्रीम उसकी गांड के अन्दर चली गई। आंटी थोड़ा सा कसमसाई। लगता था उसे गुदगुदी और थोड़ी सी ठंडी महसूस हुई होगी। मैंने अपनी अंगुली धीरे धीरे अन्दर खिसका दी। अब तो मेरी अंगुली पूरी की पूरी अन्दर बाहर होने लगी। आह… मेरी अंगुली के साथ उसका छल्ला भी अन्दर बाहर होने लगा। अब मुझे लगने लगा था की छेद कुछ नर्म पड़ गया है और छल्ला भी ढीला हो गया है। मैंने फिर से उसकी चूत को चूसना चालू कर दिया। आंटी के कहे अनुसार मैंने यह ध्यान जरूर रखा था कि गांड वाली अंगुली गलती से उसकी चूत के छेद में ना डालूं।

आंटी की मीठी सीत्कार निकलने लगी थी। आंटी ने अब कहा “उस प्यारे लाल को भी उठाओ ना ?”

“हाँ वो तो कब का तैयार है जी !” मैंने अपने लंड को हाथ में लेकर हिला दिया।

“अरे बुद्धू मैं टेबल पर पड़े प्यारे लाल की बात कर रही हूँ !”

“ओह …”

अब मुझे इस प्यारे लाल की उपयोगिता समझ आई थी। मैंने उसे जल्दी से उठाया और उस पर वैसलीन और क्रीम लगा कर धीरे से उसके छेद पर लगाया। धीरे धीरे उसे अन्दर सरकाया। आंटी ने बताया था कि धक्का नहीं लगाना बस थोड़ा सा दबाव बनाना है। थोड़ी देर बाद वो अपने आप अन्दर सरकना शुरू हो जाएगा।

धीरे धीरे उसकी गांड का छेद चौड़ा होने लगा और प्यारे लाल जी अन्दर जाने लगे। गांड का छेद तो खुलता ही चला गया और प्यारे लाल 3 इंच तक अन्दर चला गया। आंटी ने बताया था कि अगर एक बार सुपाड़ा अन्दर चला गया तो बस फिर समझो किला फतह हो गया है। मैं 2-3 मिनट रुक गया। आंटी आँखें बंद किये बिना कोई हरकत किये चुप लेटी रही। अब मैंने धीरे से प्यारे लाल को पहले तो थोड़ा सा बाहर निकला और फिर अन्दर कर दिया। अब तो वह आराम से अन्दर बाहर होने लगा था। मैंने उसे थोड़ा सा और अन्दर डाला। इस बार वो 5-6 इंच अन्दर चला गया। मेरा लंड भी तो लगभग इतना ही बड़ा था। अब तो प्यारे लाल जी महाराज आराम से अन्दर बाहर होने लगे थे।

3-4 मिनट ऐसा करने के बाद मुझे लगा कि अब तो उसका छेद बिलकुल रवां हो गया है। मेरा लंड तो प्री-कम छोड़ छोड़ कर पागल ही हो रहा था। वो तो झटके पर झटके मार रहा था। मैंने एक बार फिर से उसकी मुनिया को चूम लिया। थोड़ी देर उसकी मुनिया और मदनमणि हो चूसा और दबाया। उसकी मुनिया तो कामरस से लबालब भरी थी जैसे। आंटी ने अपने पैर अब नीचे कर के फैला दिए और मुझे ऊपर खींच लिया। मैंने उसके होंठों को चूम लिया।

“ओह … मेरे चंदू … आज तो तुमने मुझे मस्त ही कर दिया !” आंटी उठ खड़ी हुई। “क्या अब तुम इस आनंद को भोगने के लिए तैयार हो ?”

“मैं तो कब से इंतज़ार कर रहा हूँ ?”

“ओह्हो … क्या बात है ? हाईई।.. मैं मर जावां बिस्कुट खा के ?” आंटी कभी कभी पंजाबी भी बोल लेती थी।

“देखो चंदू साधारण सम्भोग तो किसी भी आसन में किया जा सकता है पर गुदा-मैथुन 3-4 आसनों में ही किया जाता है। मैं तुम्हें समझाती हूँ। वैसे तुम्हें कौन सा आसन पसंद है ?”

“वो… वो… मुझे तो डॉगी वाला या घोड़ी वाला ही पता है या फिर पेट के बल लेटा कर …?”

“अरे नहीं… चलो मैं समझाती हूँ !” बताना शुरू किया।

पहली बार में कभी भी घोड़ी या डॉगी वाली मुद्रा में गुदा-मैथुन नहीं करना चाहिए। पहली बार सही आसन का चुनाव बहुत मायने रखता है। थोड़ी सी असावधानी या गलती से सारा मज़ा किरकिरा हो सकता है और दोनों को ही मज़े के स्थान पर कष्ट होता है।

देखो सब से उत्तम तो एक आसन तो है जिस में लड़की पेट के बल लेट जाती है और पेट के नीचे दो तकिये लगा कर अपने नितम्ब ऊपर उठा देती है। पुरुष उसकी जाँघों के बीच एक तकिये पर अपने नितम्ब रख कर बैठ जाता है और अपना लिंग उसकी गुदा में डालता है। इस में लड़की अपने दोनों हाथों से अपने नितम्ब चौड़े कर लेती है जिस से उसके पुरुष साथी को सहायता मिल जाती है और वो एक हाथ से उसकी कमर या नितम्ब पकड़ कर दूसरे हाथ से अपना लिंग उसकी गुदा में आराम से डाल सकता है। लड़की पर उसका भार भी नहीं पड़ता।

एक और आसन है जिसमें लड़की पेट के बल अधलेटी सी रहती है। एक घुटना और जांघ मोड़ कर ऊपर कर लेती है। पुरुष उसकी एक जांघ पर बैठ कर अपना लिंग उसकी गुदा में डाल सकता है। इस आसन का एक लाभ यह है कि इसमें दोनों ही जल्दी नहीं थकते और धक्के लगाने में भी आसानी होती है। जब लिंग गुदा में अच्छी तरह समायोजित हो जाए तो अपनी मर्ज़ी से लिंग को अन्दर बाहर किया जा सकता है। गांड के अन्दर प्रवेश करते लंड को देखना और उस छल्ले का लाल और गुलाबी रंग देख कर तो आदमी मस्त ही हो जाता है। वह उसके स्तन भी दबा सकता है और नितम्बों पर हाथ भी फिरा सकता है। सबसे बड़ी बात है उसकी चूत में भी साथ साथ अंगुली की जा सकती है। इसका सबसे बड़ा फायदा तो यह है कि धक्का मारते या दबाव बनाते समय लड़की आगे नहीं सरक सकती इसलिए लंड डालने में आसानी होती है।

एक और आसन है जिसे आमतौर पर सभी लड़कियां पसंद करती है। वह है पुरुष साथी नीचे पीठ के बल लेट जाता है और लड़की अपने दोनों पैर उसके कूल्हों के दोनों ओर करके उकडू बैठ जाती है। उसका लिंग पकड़ कर अपनी गुदा के छल्ले पर लगा कर धीरे धीरे नीचे होती है। लड़की अपना मुंह पैरों की ओर भी कर सकती है। इस आसन का सबसे बड़ा फायदा यह है कि सारी कमांड लड़की के हाथ में होती है। वो जब चाहे जितना चाहे अन्दर ले सकती है। कुछ महिलाओं को यह आसन बहुत पसंद आता है। यह आसन पुरुषों को भी अच्छा लगता है क्योंकि इस दौरान वे अपने लिंग को गुदा के अन्दर जाते देख सकते हैं। पर कुछ महिलायें शर्म के मारे इसे नहीं करना चाहती।

इसके अलावा और भी आसन हैं जैसे गोद में बैठ कर या सोफे या पलंग पर पैर नीचे लटका कर लड़की को अपनी गोद में बैठा कर गुदा-मैथुन किया जा सकता है। पसंद और सहूलियत के हिसाब से किसी भी आसन का प्रयोग किया जा सकता है।

“ओह… तो हम कौन सा आसन करेंगे ?”

“मैं तुम्हें सभी आसनों की ट्रेनिंग दूँगी पर फिलहाल तो करवट वाला ही ठीक रहेगा ”

“ठीक है।” मैंने कहा।

मुझे अब ध्यान आया मेरा प्यारे लाल तो सुस्त पड़ रहा है। ओह … बड़ी मुश्किल थी। आंटी के भाषण के चक्कर में तो सारी गड़बड़ ही हो गई। आंटी धीमे धीमे मुस्कुरा रही थी। उसने कहा,” मैं जानती हूँ सभी के साथ ऐसा ही होता है। पर तुम चिंता क्यों करते हो ? मेरे पास इसका ईलाज है।”

अब वो थोड़ी सी उठी और मेरे अलसाए से लंड को हाथ में पकड़ लिया वो बोलीं,”इसे ठीक से साफ़ किया है ना ?”

“जी हाँ”

अब उसने मेरा लंड गप्प से अपने मुंह में भर लिया और चूसने लगी। मुंह की गर्मी और लज्जत से वो फिर से अकड़ने लगा। कोई 2-3 मिनट में ही वो तो फिर से लोहे की रोड ही बन गया था।

उसने पास रखे तौलिए से उसे पोंछा और फिर पास रखे निरोध की ओर इशारा किया। मुझे हैरानी हो रही थी। आंटी ने बताया कि गुदा-मैथुन करते समय हमेशा निरोध (कंडोम) का प्रयोग करना चाहिए। इससे संक्रमण नहीं होता और एड्स जैसी बीमारियों से भी बचा जा सकता है।

अब मैंने अपने लंड पर निरोध चढ़ा लिया और उस पर नारियल का तेल लगा लिया। आंटी करवट के बल हो गई और अपना बायाँ घुटना मोड़ कर नीचे एक तकिया रख लिया। अब उसके मोटे मोटे गुदाज नितम्बों के बीच उसकी गांड और चूत दोनों मेरी आँखें के सामने थी। मैंने अपना सिर नीचे झुका कर एक गहरा चुम्बन पहले तो चूत पर लिया और फिर उसकी गांड के छेद पर। अब मैंने फिर से बोरोप्लस के क्रीम की ट्यूब में बाकी बची क्रीम उसकी गांड में डाल दी। आंटी ने अपने बाएं हाथ से अपने एक नितम्ब को पकड़ कर ऊपर की ओर कर लिया। अब तो गांड का छेद पूरा का पूरा दिखने लगा। उसके छल्ले का रंग सुर्ख लाल सा हो गया था। अब एक बार प्यारे लाल की मदद की जरुरत थी। मैंने उस पर भी नारियल का तेल लगाया और फिर से उसकी गांड में डाल कर 5-6 बार अन्दर बाहर किया। इस बार तो आंटी को जरा भी दर्द नहीं हुआ। वो तो बस अपने उरोजों को मसल रही थी। मैं उसकी दाईं जाँघ पर बैठ गया और अपने लंड के आगे थोड़ी सी क्रीम लगा कर उसे आंटी की गांड के छेद पर टिका दिया।

मेरा दिल उत्तेजना और रोमांच के मारे धड़क रहा था। लंड महाराज तो झटके ही खाने लगे थे। उसे तो जैसे सब्र ही नहीं हो रहा था। मैंने अपने लंड को उसके छेद पर 4-5 बार घिसा और रगड़ा, फिर उसकी कमर पकड़ी और अपने लंड पर दबाव बनाया। आंटी थोड़ा सा आगे होने की कोशिश करने लगी पर मैं उसकी जाँघ पर बैठा था इसलिए वो आगे नहीं सरक सकती थी। मैंने दबाव बनाया तो मेरा लंड थोड़ा सा धनुष की तरह मुड़ने लगा। मुझे लगा यह अन्दर नहीं जा पायेगा जरूर फिसल जाएगा। इतने में मुझे लगा आंटी ने बाहर की ओर जोर लगाया है। फिर तो जैसे कमाल ही हो गया। पूरा सुपाड़ा अन्दर हो गया। मैं रुक गया। आंटी का शरीर थोड़ा सा अकड़ गया। शायद उसे दर्द महसूस हो रहा था। मैंने उसके नितम्ब सहलाने शुरू कर दिए। प्यार से उन्हें थपथपाने लगा। गांड का छल्ला तो इतना बड़ा हो गया था जैसे किसी छोटी बच्ची की कलाई में पहनी हुई कोई लाल रंग की चूड़ी हो। उसकी चूत भी काम रस से गीली थी। मैंने अपने बाएं हाथ की अँगुलियों से उसकी फांकों को सहलाना शुरू कर दिया।

2-3 मिनट ऐसे ही रहने के बाद मैंने थोड़ा सा दबाव और बनाया तो लंड धीरे धीरे आगे सरकाना शुरू हो गया। अब तो किला फ़तेह हो ही चुका था और अब तो बस आनंद ही आनंद था। मैंने अपना लंड थोड़ा सा बाहर निकाला और फिर अन्दर सरका दिया। आंटी तो बस कसमसाती सी रह गई। मेरे लिए तो यह किसी स्वर्ग के आनंद से कम नहीं था। एक नितांत कोरी और कसी हुई गांड में मेरा लंड पूरा का पूरा अन्दर घुसा हुआ था। मैंने एक थपकी उसके नितम्बों पर लगाईं तो आंटी की एक मीठी सीत्कार निकल गई।

“चंदू अब धीरे धीरे अन्दर बाहर करो !” आंटी ने आँखें बंद किये हुए ही कहा। अब तक लंड अच्छी तरह गांड के अन्दर समायोजित हो चुका था। बे रोक टोक अन्दर बाहर होने लगा था। छल्ले का कसाव तो ऐसा था जैसे किसी ने मेरा लंड पतली सी नली में फंसा दिया हो।

“चांदनी तुम्हें दर्द तो नहीं हो रहा ?”

“अरे बावले, तुम्हारे प्रेम के आगे ये दर्द भला क्या मायने रखता है। मेरी ओर से ये तो नज़राना ही तुम्हें। तुम बताओ तुम्हें कैसा लग रहा है ?”

“मैं तो इस समय स्वर्ग में ही हूँ जैसे। तुमने मुझे अनमोल भेंट दी है। बहुत मज़ा आ रहा है।” और मैंने जोर से एक धक्का लगा दिया।

“ऊईई … माआअ … थोड़ा धीरे …”

“चांदनी मैंने कहानियों में पढ़ा है कि कई औरतें गांड मरवाते समय कहती हैं कि और तेजी से करो … फाड़ दो मेरी गांड… आह… बड़ा मज़ा आ रहा है ?”

“सब बकवास है… आम और पर औरतें कभी भी कठोरता और अभद्रता पसंद नहीं करती। वो तो यही चाहती हैं कि उनका प्रेमी उन्हें कोमलता और सभ्य ढंग से स्पर्श करे और शारीरिक सम्बन्ध बनाए। यह तो उन मूर्ख लेखकों की निरी कल्पना मात्र होती है जिन्होंने ना तो कभी गांड मारी होती है और ना ही मरवाई होती है। असल में ऐसा कुछ नहीं होता। जब सुपाड़ा अन्दर जाता है तो ऐसे लगता है जैसे सैंकड़ों चींटियों ने एक साथ काट लिया हो। उसके बाद तो बस छल्ले का कसाव और थोड़ा सा मीठा दर्द ही अनुभव होता है। अपने प्रेमी की संतुष्टि के आगे कई बार प्रेमिका बस आँखें बंद किये अपने दर्द को कम करने के लिए मीठी सीत्कार करने लगती है। उसे इस बात का गर्व होता है कि वो अपने प्रेमी को स्वर्ग का आनंद दे रही है और उसे उपकृत कर रही है !”

आंटी की इस साफगोई पर मैं तो फ़िदा ही हो गया। मैं तो उसे चूम ही लेना चाहता था पर इस आसन में चूमा चाटी तो संभव नहीं थी। मैंने उसकी चूत की फांकों और दाने को जोर जोर से मसलना चालू कर दिया। आंटी की चूत और गांड दोनों संकोचन करने लगी थी। मुझे लगा कि उसने मेरा लंड अन्दर से भींच लिया है। आह… इस आनंद को शब्दों में तो बयान किया ही नहीं जा सकता।

लंड अन्दर डाले मुझे कोई 10-12 मिनट तो जरूर हो गए थे। आमतौर पर इतनी देर में स्खलन हो जाता है पर मैंने आज दिन में मुट्ठ मार ली थी इसलिए मैं अभी नहीं झड़ा था। लंड अब आराम से अन्दर बाहर होने लगा था।

आंटी भी आराम से थी। वो बोली,” मैं अपना पैर सीधा कर रही हूँ तुम मेरे ऊपर हो जाना पर ध्यान रखना कि तुम्हारा प्यारे लाल बाहर नहीं निकले। एक बार अगर यह बाहर निकल गया तो दुबारा अन्दर डालने में दिक्कत आएगी और हो सकता है दूसरे प्रयाश में अन्दर डालने से पहले ही झड़ जाओ ?”

“ओके।..”

अब आंटी ने अपना पैर नीचे कर लिया और अपने नितम्ब ऊपर उठा दिए। तकिया उसके पेट के नीचे आ गया था। मैं ठीक उसके ऊपर आ गया और मैंने अपने हाथ नीचे करके उसके उरोज पकड़ लिए। उसने अपनी मुंडी मोड़ कर मेरी ओर घुमा दी तो मैंने उसे कस कर चूम लिया। मैंने अपनी जांघें उसके चौड़े नितम्बों के दोनों ओर कस लीं। जैसे ही आंटी अपने नितम्बों को थोड़ा सा ऊपर उठाया तो मैं एक धक्का लगा दिया।

आंटी की मीठी सीत्कार सुनकर मुझे लग रहा था कि अब उसे मज़ा भले नहीं आ रहा हो पर दर्द तो बिलकुल नहीं हो रहा होगा। मुझे लगा जैसे मेरा लंड और भी जोर से आंटी की गांड ने कस लिया है। मैं तो चाहता था कि इसी तरह मैं अपना लंड सारी रात उसकी गांड में डाले बस उसके गुदाज बदन पर लेटा ही रहूँ। पर आखिर शरीर की भी कुछ सीमाएं होती हैं। मुझे लग रहा था कि मेरा लंड थोड़ा सा फूलने और पिचकने लगा है और किसी भी समय पिचकारी निकल सकती है। आंटी ने अपने नितम्ब ऊपर उठा दिए। मैंने एक हाथ से उसकी चूत को टटोला और अपने बाएं हाथ की अंगुली चूत में उतार दी। आंटी की तो रोमांच और उत्तेजना में चींख ही निकल गई। और उसके साथ ही मेरी भी पिचकारी निकलने लगी।

“आह।.. य़ाआआ……” हम दोनों के मुंह से एक साथ निकला। दो जिस्म एकाकार हो गए। इस आनंद के आगे दूसरा कोई भी सुख या मज़ा तो कल्पनातीत ही हो सकता है। पता नहीं कितनी देर हम इसी तरह लिपटे पड़े रहे।

मेरा प्यारे लाल पास होकर बाहर निकल आया था। हम दोनों ही उठ खड़े हुए और मैंने आंटी को गोद में उठा लिया और बाथरूम में सफाई कर के वापस आ गए। मैंने आंटी को बाहों में भर कर चूम लिया और उसका धन्यवाद किया। उसके चहरे की रंगत और ख़ुशी तो जैसे बता रही थी कि मुझे अपना सर्वस्व सोंप कर मुझे पूर्ण रूप से संतुष्ट कर कितना गर्वित महसूस कर रही है। मुझे पक्का प्रेम गुरु बनाने का संतोष उसकी आँखों में साफ़ झलक रहा था।

उस रात हमने एक बार फिर प्यार से चुदाई का आनंद लिया और सोते सोते एक बार गधापचीसी का फिर से मज़ा लिया। और यह सिलसिला तो फिर अगले 8-10 दिनों तक चला। रात को पढ़ाई करने के बाद हम दोनों साथ साथ सोते कभी मैं आंटी के ऊपर और कभी आंटी मेरे ऊपर ………

मेरी प्यारी पाठिकाओं ! आप जरूर सोच रही होंगी वाह।.. प्रेम चन्द्र माथुर प्रेम गुरु बन कर तुम्हारे तो फिर मज़े ही मज़े रहे होंगे ?

नहीं मेरी प्यारी पाठिकाओं ! जिस दिन मेरी परीक्षा ख़त्म हुई उसी दिन मुझे आंटी ने बताया कि वो वापस पटियाला जा रही है। उसने जानबूझ कर मुझे पहले नहीं बताया था ताकि मेरी पढ़ाई में किसी तरह का खलल (विघ्न) ना पड़े। मेरे तो जैसे पैरों के नीचे से जमीन ही निकल गई। मैंने तो सोच था कि अब छुट्टियों में आंटी से पूरे 84 आसन सीखूंगा पर मेरे सपनों का महल तो जैसे किसी ने पूरा होने से पहले तोड़ दिया था।

जिस दिन वो जाने वाली थी मैंने उन्हें बहुत रोका। मैं तो अपनी पढ़ाई ख़त्म होने के उपरान्त उससे शादी भी करने को तैयार था। पर आंटी ने मना कर दिया था पता नहीं क्यों। उन्होंने मुझे बाहों में भर कर पता नहीं कितनी देर चूमा था। और कांपती आवाज में कहा था,”प्रेम, मेरे जाने के बाद मेरी याद में रोना नहीं… अच्छे बच्चे रोते नहीं हैं। मैं तो बस बुझती शमा हूँ। तुम्हारे सामने तो पूरा जीवन पड़ा है। तुम अपनी पढ़ाई अच्छी तरह करना। जिस दिन तुम पढ़ लिख कर किसी काबिल बन जाओगे हो सकता है मैं देखने के लिए ना रहूँ पर मेरे मन को तो इस बात का सकून रहेगा ही कि मेरा एक शिष्य अपने जीवन के हर क्षेत्र में कामयाब है !”

मैंने छलकती आँखों से उन्हें विदा कर दिया। मैंने बाद में उन्हें ढूंढ़ने की बहुत कोशिश की पर उनसे फिर कभी मुलाकात नहीं हो सकी। आज उनकी उम्र जरूर 45-46 की हो गई होगी पर मैं तो आज भी अपना सब कुछ छोड़ कर उनकी बाहों में समा जाने को तैयार हूँ। आंटी तुम कहाँ हो अपने इस चंदू के पास आ जाओ ना। मैं दिल तो आज 14 वर्षों के बाद भी तुम्हारे नाम से ही धड़कता है और उन हसीं लम्हों के जादुई स्पर्श और रोमांच को याद करके पहरों आँखें बंद किये मैं गुनगुनाता रहता हूँ :

तुम मुझे भूल भी जाओ तो ये हक है तुमको

मेरी बात ओर है, मैंने तो मोहब्बत की है।


आपका प्रेम गुरु

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: लेखक-प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ

Unread post by The Romantic » 17 Dec 2014 03:34

काली टोपी लाल रुमाल-1

मेरे प्रिय पाठको और पाठिकाओ,

आप सभी ने मेरी पिछली सभी कहानियों को बहुत पसंद किया है उसके लिए मैं आप सभी का आभारी हूँ। मैंने सदैव अपनी कहानियों के माध्यम से अपने पाठकों को अच्छे मनोरंजन के साथ साथ उपयोगी जानकारी भी देने की कोशिश की है। मेरी बहुत सी पाठिकाएं मुझे अक्सर पूछती रहती हैं कि मैं इतनी दुखांत, ग़मगीन और भावुक कहानियां क्यों लिखता हूँ। विशेषरूप से सभी ने मिक्की (तीन चुम्बन) के बारे में अवश्य पूछा है कि क्या यह सत्यकथा है? मैं आज उसका जवाब दे रहा हूँ। मैं आज पहली बार आपको अपनी प्रियतमा सिमरन (मिक्की) के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसके बारे में मैंने आज तक किसी को नहीं बताया। यह कहानी मेरी प्रेयसी को एक श्रद्धांजलि है जिसकी याद में मैंने आज तक इतनी कहानियां लिखी हैं। आपको यह कहानी कैसी लगी मुझे अवश्य अवगत करवाएं।

काश यह जिन्दगी किसी फिल्म की रील होती तो मैं फिर से उसे उल्टा घुमा कर आज से 14 वर्ष पूर्व के दिनों में ले जाता। आप सोच रहे होंगे 14 साल पहले ऐसा क्या हुआ था कि आज बैठे बिठाए उसकी याद आ गई? हाँ मेरी पाठिकाओ बात ही ऐसी है:

आप तो जानते हैं कोई भी अपने पहले प्रेम और कॉलेज या हाई स्कूल के दिनों को नहीं भूल पाता, मैं भला अपनी सिमरन, अपनी निक्कुड़ी और खुल जा सिमसिम को कैसे भूल सकता हूँ। आप खुल जा सिमसिम और निक्कुड़ी नाम सुन कर जरूर चौंक गए होंगे। आपको यह नाम अजीब सा लगा ना ? हाँ मेरी पाठिकाओं आज मैं अपनी खुल जा सिमसिम के बारे में ही बताने जा रहा हूँ जिसे स्कूल के सभी लड़के और प्रोफ़ेसर केटी और घरवाले सुम्मी या निक्की कह कर बुलाते थे पर मेरी बाहों में तो वो सदा सिमसिम या निक्कुड़ी ही बन कर समाई रही थी।

स्कूल या कॉलेज में अक्सर कई लड़के लड़कियों और मास्टरों के अजीब से उपनाम रख दिए जाते हैं जैसे हमने उस केमेस्ट्री के प्रोफ़ेसर का नाम “चिड़ीमार” रख दिया था। उसका असली नाम तो शीतला प्रसाद बिन्दियार था पर हम सभी पीठ पीछे उसे चिड़ीमार ही कहते थे। था भी तो साढ़े चार फुटा ही ना। सैंट पॉल स्कूल में रसायन शास्त्र (केमेस्ट्री) पढ़ाता था। मुझे उस दिन मीथेन का सूत्र याद नहीं आया और मैंने गलती से CH4 की जगह CH2 बता दिया ? बस इतनी सी बात पर उसने पूरी क्लास के सामने मुझे मरुस्थल का ऊँट (मकाऊ-केमल) कह दिया। भला यह भी कोई बात हुई। गलती तो किसी से भी हो सकती है। इसमें किसी को यह कहना कि तुम्हारी अक्ल घास चरने चली गई है सरासर नाइंसाफी है ना ? अब मैं भुनभुनाऊँ नहीं तो और क्या करूँ ?

बात उन दिनों की है जब मैं +2 में पढता था। मुझे केमेस्ट्री के सूत्र याद नहीं रहते थे। सच पूछो तो यह विषय ही मुझे बड़ा नीरस लगता था। पर बापू कहता था कि बिना साइंस पढ़े इन्जीनियर कैसे बनोगे। इसलिए मुझे अप्रैल में नया सत्र शुरू होते ही केमेस्ट्री की ट्यूशन इसी प्रोफ़ेसर चिड़ीमार के पास रखनी पड़ी थी और स्कूल के बाद इसके घर पर ही ट्यूशन पढ़ने जाता था। इसे ज्यादा कुछ आता जाता तो नहीं पर सुना था कि यह Ph.D किया हुआ है। साले ने जरूर कहीं से कोई फर्जी डिग्री मार ली होगी या फिर हमारे मोहल्ले वाले घासीराम हलवाई की तरह ही इसने भी Ph.D की होगी (पास्ड हाई स्कूल विद डिफिकल्टी)।

दरअसल मेरे ट्यूशन रखने का एक और कारण भी था। सच कहता हूँ साले इस चिड़ीमार की बीवी बड़ी खूबसूरत थी। किस्मत का धनी था जो ऐसी पटाखा चीज मिली थी इस चूतिये को। यह तो उसके सामने चिड़ीमार ही लगता था। वो तो पूरी क़यामत लगती थी जैसे करीना कपूर ही हो। कभी कभी घर पर उसके दर्शन हो जाते थे। जब वो अपने नितम्ब लचका कर चलती तो मैं तो बस देखता ही रह जाता। जब कभी उस चिड़ीमार के लिए चाय-पानी लेकर आती और नीचे होकर मेज पर कोई चीज रखती तो उसकी चुंचियां देख कर तो मैं निहाल ही हो जाता था। क्या मस्त स्तन थे साली के- मोटे मोटे रस भरे। जी तो करता था कि किसी दिन पकड़ कर दबा ही दूं। पर डरता था मास्टर मुझे स्कूल से ही निकलवा देगा। पर उसके नाम की मुट्ठ लगाने से मुझे कोई भला कैसे रोक सकता था। मैं कभी कभी उसके नाम की मुट्ठ लगा ही लिया करता था।

मेरी किस्मत अच्छी थी 5-7 दिनों से एक और लड़की ट्यूशन पर आने लगी थी। वैसे तो हमने 10वीं और +1 भी साथ साथ ही की थी पर मेरी ज्यादा जान पहचान नहीं थी। वो भी मेरी तरह ही इस विषय में कमजोर थी। नाम था सिमरन पटेल पर घरवाले उसे निक्की या निक्कुड़ी ही बुलाते थे। वो सिर पर काली टोपी और हाथ में लाल रंग का रुमाल रखती थी सो साथ पढ़नेवाले सभी उसे केटी (काली टोपी) ही कहते थे। केटी हो या निक्कुड़ी क्या फर्क पड़ता है लौंडिया पूरी क़यामत लगती थी। नाम से तो गुजराती लगती थी पर बाद में पता चला कि उसका बाप गुजराती था पर माँ पंजाबी थी। दोनों ने प्रेम विवाह किया था और आप तो जानते ही हैं कि प्रेम की औलाद वैसे भी बड़ी खूबसूरत और नटखट होती है तो भला सिमरन क्यों ना होती।

लगता था भगवान् ने उसे फुर्सत में ही तराश कर यहाँ भेजा होगा। चुलबुली, नटखट, उछलती और फुदकती तो जैसे सोनचिड़ी ही लगती थी। तीखे नैन-नक्श, मोटी मोटी बिल्लोरी आँखें, गोरा रंग, लम्बा कद, छछहरा बदन और सिर के बाल कन्धों तक कटे हुए। बालों की एक आवारा लट उसके कपोलों को हमेंशा चूमती रहती थी। कभी कभी जब वो धूप से बचने आँखों पर काला चश्मा लगा लेती थी तो उसकी खूबसूरती देख कर लड़के तो अपने होश-ओ-हवास ही खो बैठते थे। मेरा दावा है कि अगर कोई रिंद(नशेड़ी) इन आँखों को देख ले तो मयखाने का रास्ता ही भूल जाए। स्पोर्ट्स शूज पहने, कानों में सोने की छोटी छोटी बालियाँ पहने पूरी सानिया मिर्ज़ा ही लगती थी। सबसे कमाल की चीज तो उसके नितम्ब थे मोटे मोटे कसे हुए गोल मटोल। आमतौर पर गुजराती लड़कियों के नितम्ब और बूब्स इतने मोटे और खूबसूरत नहीं होते पर इसने तो कुछ गुण तो अपनी पंजाबी माँ से भी तो लिए होंगे ना। उसकी जांघें तो बस केले के पेड़ की तरह चिकनी, मखमली, रोमविहीन और भरी हुई आपस में रगड़ खाती कहर बरपाने वाली ही लगती थी। अगर किसी का लंड इनके बीच में आ जाए तो बस पिस ही जाए। आप सोच रहे होंगे कि मुझे उसकी जाँघों के बारे में इतना कैसे पता ?

मैं समझाता हूँ। ट्यूशन के समय वो मेरे साथ ही तो बैठती थी। कई बार अनजाने में उसकी स्कर्ट ऊपर हो जाती तो सफ़ेद रंग की पैंटी साफ़ नज़र आ जाती है। और उसकी कहर ढाती गोरी गोरी रोमविहीन कोमल जांघें और पिंडलियाँ तो बिजलियाँ ही गिरा देती थी। पैंटी में मुश्किल से ढकी उसकी छोटी सी बुर तो बेचारी कसमसाती सी नज़र आती थी। उसकी फांकों का भूगोल तो उस छोटी सी पैंटी में साफ़ दिखाई देता था। कभी कभी जब वो एक पैर ऊपर उठा कर अपने जूतों के फीते बांधती थी तो उसकी बुर का कटाव देख कर तो मैं बेहोश होते होते बचता था। मैं तो बस इसी ताक में रहता था कि कब वो अपनी टांग को थोड़ा सा ऊपर करे और मैं उस जन्नत के नज़ारे को देख लूं। प्रसिद्द गीतकार एन. वी. कृष्णन ने एक पुरानी फिल्म चिराग में आशा पारेख की आँखों के लिए एक गीत लिखा था। मेरा दावा है अगर वो सिमरन की इन पुष्ट, कमसिन और रोमविहीन जाँघों को देख लेता तो यह शेर लिखने को मजबूर हो जाता :

तेरी जाँघों के सिवा

दुनिया में रखा क्या है

आप सोच रहे होंगे यार क्या बकवास कर रहे हो- 18 साल की छोकरी केवल पैंटी ही क्यों पहनेगी भला ? क्या ऊपर पैंट या पजामा नहीं डालती ?

ओह ! मैं बताना भूल गया ? सिमरन मेरी तरह लॉन टेनिस की बहुत अच्छी खिलाड़ी थी। ट्यूशन के बाद वो सीधे टेनिस खेलने जाती थी इस वजह से वो पैंट नहीं पहनती थी, स्कर्ट के नीचे केवल छोटी सी पैंटी ही पहनती थी जैसे सानिया मिर्ज़ा पहनती है। शुरू शुरू में तो उसने मुझे कोई भाव नहीं दिया। वो भी मुझे कई बार मज़ाक में मकाऊ (मरुस्थल का ऊँट) कह दिया करती थी। और कई बार तो जब कोई सूत्र याद नहीं आता था तो इस चिड़ीमार की देखा देखी वो भी अपनी तर्जनी अंगुली अपनी कनपटी पर रख कर घुमाती जिसका मतलब होता कि मेरी अक्ल घास चरने चली गई है। मैं भी उसे सोनचिड़ी या खुल जा सिमसिम कह कर बुला लिया करता था वो बुरा नहीं मानती थी।

मैं भी टेनिस बड़ा अच्छा खेल लेता हूँ। आप सोच रहे होंगे यार प्रेम क्यों फेंक रहे हो ? ओह … मैं सच बोल रहा हूँ 2-3 साल पहले हमारे घर के पास एक सरकारी अधिकारी रहने आया था। उसे टेनिस का बड़ा शौक था। वो मुझे कई बार टेनिस खेलने ले जाया करता था। धीरे धीरे मैं भी इस खेल में उस्ताद बन गया। सिमरन तो कमाल का खेलती ही थी।

ट्यूशन के बाद अक्सर हम दोनों सहेलियों की बाड़ी के पास बने कलावती खेल प्रांगण में बने टेनिस कोर्ट में खेलने चले जाया करते थे। जब भी वो कोई ऊंचा शॉट लगाती तो उसकी पुष्ट जांघें ऊपर तक नुमाया हो जाती। और उसके स्तन तो जैसे शर्ट से बाहर निकलने को बेताब ही रहते थे। वो तो उस शॉट के साथ ऐसे उछलते थे जैसे कि बैट पर लगने के बाद बाल उछलती है। गोल गोल भारी भारी उठान और उभार से भरपूर सीधे तने हुए ऐसे लगते थे जैसे दबाने के लिए निमंत्रण ही दे रहे हों।

गेम पूरा हो जाने के बाद हम दोनों ही पसीने से तर हो जाया करते थे। उसकी बगल तो नीम गीली ही हो जाती थी और उसकी पैंटी का हाल तो बस पूछो ही मत। मैं तो बस किसी तरह उसकी छोटी सी पैंटी के बीच में फंसी उसकी मुलायम सी बुर (अरे नहीं यार पिक्की) को देखने के लिए जैसे बेताब ही रहता था। हालांकि मैं टेनिस का बहुत अच्छा खिलाड़ी था पर कई बार मैं उसकी पुष्ट और मखमली जाँघों को देखने के चक्कर में हार जाया करता था। और जब मैं हार जाता था तो वो ख़ुशी के मारे जब उछलती हुई किलकारियाँ मारती थी तो मुझे लगता था कि मैं हार कर भी जीत गया।

3-4 गेम खेलने के बाद हम दोनों घर आ जाया करते थे। मेरे पास बाइक थी। वो पीछे बैठ जाया करती थी और मैं उसे घर तक छोड़ दिया करता था। पहले पहले तो वो मेरे पीछे जरा हट कर बैठती थी पर अब तो वो मुझसे इस कदर चिपक कर बैठने लगी थी कि मैं उसके पसीने से भीगे बदन की मादक महक और रेशमी छुअन से मदहोश ही हो जाता था। कई बार तो वो जब मेरी कमर में हाथ डाल कर बैठती थी तो मेरा प्यारेलाल तो (लंड) आसमान ही छूने लग जाता था और मुझे लगता कि मैं एक्सिडेंट ही कर बैठूँगा। आप तो जानते ही हैं कि जवान औरत या लड़की के बदन से निकले पसीने की खुशबू कितनी मादक और मदहोश कर देने वाली होती है और फिर यह तो जैसे हुस्न की मल्लिका ही थी। जब वो मोटर साइकिल से उतर कर घर जाती तो अपनी कमर और नितम्ब इस कदर मटका कर चलती थी जैसे कोई बल खाती हसीना रैम्प पर चल रही हो। उसके जाने के बाद मैं मोटर साइकिल की सीट पर उस जगह को गौर से देखता जहां ठीक उसके नितम्ब लगते थे या उसकी पिक्की होती थी। उस जगह का गीलापन तो जैसे मेरे प्यारेलाल को आवारालाल ही कर देता था। कई बार तो मैंने उस गीली जगह पर अपनी जीभ भी लगा कर देखी थी। आह… क्या मादक महक आती है साली की बुर के रस से ……

कई बार तो वो जब ज्यादा खुश होती थी तो रास्ते में इतनी चुलबुली हो जाती थी कि पीछे बैठी मेरे कानों को मुंह में लेकर काट लेती थी और जानबूझ कर अपनी नुकीली चुंचियां मेरी पीठ पर रगड़ देती थी। और फिर तो घर आ कर मुझे उसके नाम की मुट्ठ मारनी पड़ती थी। पहले मैं उस चिड़ीमार की बीवी के नाम की मुट्ठ मारता था अब एक नाम सोनचिड़ी (सिमरन) का भी शामिल हो गया था।

मुझे लगता था कि वो भी कुछ कुछ मुझे चाहने लगी थी। हे भगवान ! अगर यह सोनचिड़ी किसी तरह फंस जाए तो मैं तो बस सीधे बैकुंठ ही पहुँच जाऊं। ओह कुछ समझ ही नहीं आ रहा ? समय पर मेरी बुद्धि काम ही नहीं करती ? कई बार तो मुझे शक होता है कि मैं वाकई ऊँट ही हूँ। ओह हाँ याद आया लिंग महादेव बिलकुल सही रहेगा। थोड़ा दूर तो है पर चलो कोई बात नहीं इस सोनचिड़ी के लिए दूरी क्या मायने रखती है। चलो हे लिंग महादेव ! अगर यह सोनचिड़ी किसी तरह मेरे जाल में फस जाए तो मैं आने वाले सावन में देसी गुड़ का सवा किलो चूरमा तुम्हें जरूर चढाऊंगा। (माफ़ करना महादेवजी यार चीनी बहुत महंगी है आजकल)

ओह मैं भी कैसी फजूल बातें करने लगा। मैं उसकी बुर के रस और मखमली जाँघों की बात कर रहा था। उसकी गुलाबी जाँघों को देख कर यह अंदाजा लगाना कत्तई मुश्किल नहीं था कि बुर की फांकें भी जरूर मोटी मोटी और गुलाबी रंग की ही होंगी। मैंने कई बार उसके ढीले टॉप के अन्दर से उसकी बगलों (कांख) के बाल देखे थे। आह… क्या हलके हलके मुलायम और रेशमी रोयें थे। मैं यह सोच कर तो झड़ते झड़ते बचता था कि अगर बगलों के बाल इतने खूबसूरत हैं तो नीचे का क्या हाल होगा। मेरा प्यारेलाल तो इस ख़याल से ही उछलने लगता था कि उसकी बुर पर उगे बाल कैसे होंगे। मेरा अंदाजा है कि उसने अपनी झांटें बनानी शुरू ही नहीं की होगी और रेशमी, नर्म, मुलायम और घुंघराले झांटों के बीच उसकी बुर तो ऐसे लगती होगी जैसे घास के बीच गुलाब का ताज़ा खिला फूल अपनी खुशबू बिखेर रहा हो।

उस दिन सिमरन कुछ उदास सी नज़र आ रही थी। आज हम दोनों का ही ट्यूशन पर जाने का मूड नहीं था। हम सीधे ही टेनिस कोर्ट पहुँच गए। आज उसने आइसक्रीम की शर्त लगाई थी कि जो भी जीतेगा उसे आइसक्रीम खिलानी होगी। मैं सोच रहा था मेरी जान मैं तो तुम्हें आइसक्रीम क्या और भी बहुत कुछ खिला सकता हूँ तुम एक बार हुक्म करके तो देखो।

और फिर उस दिन हालांकि मैंने अपना पूरा दम ख़म लगाया था पर वो ही जीत गई। उसके चहरे की रंगत और आँखों से छलकती ख़ुशी मैं कैसे नहीं पहचानता। उसने पहले तो अपने सिर से उस काली टोपी को उतारा और दूसरे हाथ में वही लाल रुमाल लेकर दोनों हाथ ऊपर उठाये और नीचे झुकी तो उसके मोटे मोटे संतरे देख कर तो मुझे जैसे मुंह मांगी मुराद ही मिल गई। वाह … क्या गोल गोल रस भरे संतरे जैसे स्तन थे। एरोला तो जरूर एक रुपये के सिक्के जितना ही था लाल सुर्ख। और उसके चुचूक तो जैसे चने के दाने जितनी बिलकुल गुलाबी। बीच की घाटी तो जैसे क़यामत ही ढा रही थी। मुझे तो लगा कि मेरा प्यारेलाल तो यह नज़ारा देख कर ख़ुदकुशी ही कर बैठेगा।

हमनें रास्ते में आइसक्रीम खाई और घर की ओर चल पड़े। आमतौर पर वो सारे रास्ते मेरे कान खाती रहती है एक मिनट भी वो चुप नहीं रह सकती। पर पता नहीं आज क्यों उसने रास्ते में कोई बात नहीं की। मुझे इस बात की बड़ी हैरानी थी कि आज वो मेरे साथ चिपक कर भी नहीं बैठी थी वर्ना तो जिस दिन वो जीत जाती थी उस दिन तो उसका चुलबुलापन देखने लायक होता था। जब वह मोटर साइकिल से उतर कर अपने घर की ओर जाने लगी तो उसने पूछा, “प्रेम एक बात सच सच बताना ?”

क्या ?”

“आज तुम जानबूझ कर हारे थे ना ?”

“न … न … नहीं तो ?”

“मैं जानती हूँ तुम झूठ बोल रहे हो ?”

“ओह … ?”

“बोलो ना ?”

“स … स … सिमरम … मैं आज के दिन तुम्हें हारते हुए क …क … कैसे देख सकता था यार ?” मेरी आवाज़ जैसे काँप रही थी। इस समय तो मैं शाहरुख़ कहाँ का बाप ही लग रहा था।

“क्या मतलब ?”

“मैं जानता हूँ कि आज तुम्हारा जन्मदिन है !”

“ओह … अरे … तुम्हें कैसे पता ?” उसने अपनी आँखें नचाई।

“वो वो… दरअसल स … स … सिम … सिम … मैं ?” मेरा तो गला ही सूख रहा था कुछ बोल ही नहीं पा रहा था।

सिमरन खिलखिला कर हंस पड़ी। हंसते हुए उसके मोती जैसे दांत देख कर तो मैं सोचने लगा कि इस सोनचिड़ी का नाम दयमंती या चंद्रावल ही रख दूं।

“सिमरन तुम्हें जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई हो !”

“ओह, आभार तमारो, मारा प्रेम” (ओह… थैंक्स मेरे प्रेम) वो पता नहीं क्या सोच रही थी।

कभी कभी वो जब बहुत खुश होती थी तो मेरे साथ गुजराती में भी बतिया लेती थी। पर आज जिस अंदाज़ में उसने ‘मारा प्रेम’ (मेरे प्रेम) कहा था मैं तो इस जुमले का मतलब कई दिनों तक सोच सोच कर ही रोमांचित होता रहा था।

वो कुछ देर ऐसे ही खड़ी सोचती रही और फिर वो हो गया जिसकि कल्पना तो मैंने सपने में भी नहीं की थी। एक एक वो मेरे पास आई और और इससे पहले कि मैं कुछ समझता उसने मेरा सिर पकड़ कर अपनी ओर करते हुए मेरे होंठों को चूम लिया। मैंने तो कभी ख्वाब-ओ-खयालों में भी इसका गुमान नहीं किया था कि वो ऐसा करेगी। मुझे तो अपनी किस्मत पर यकीन ही नहीं हो रहा था कि इतनी जल्दी यह सब हो जाएगा।

आह … उस एक चुम्बन की लज्जत को तो मैं मरते दम तक नहीं भूलूंगा। क्या खुशबूदार मीठा अहसास था। उसके नर्म नाज़ुक होंठ तो जैसे शहद भरी दो पंखुड़ियां ही थी। आज भी जब मैं उन लम्हों को कभी याद करता हूँ तो बरबस मेरी अंगुलियाँ अपने होंठों पर आ जाती है और मैं घंटों तक उस हसीन फरेब को याद करता रहता हूँ।

सिमरन बिना मेरी ओर देखे अन्दर भाग गई। मैं कितनी देर वहाँ खड़ा रहा मुझे नहीं पता। अचानक मैंने देखा कि सिमरन अपने घर की छत पर खड़ी मेरी ओर ही देख रही है। जब मेरी नज़रें उससे मिली तो उसने उसी पुराने अंदाज़ में अपने दाहिने हाथ की तर्ज़नी अंगुली अपनी कनपटी पर लगा कर घुमाई जिसका मतलब मैं, सिमरन और अब तो आप सब भी जान ही गए हैं। पुरुष अपने आपको कितना भी बड़ा धुरंधर क्यों ना समझे पर नारी जाति के मन की थाह और मन में छिपी भावनाओं को कहाँ समझ पाता है। बरबस मेरे होंठों पर पुरानी फिल्म गुमनाम में मोहम्मद रफ़ी का गया एक गीत निकल पड़ा :

एक लड़की है जिसने जीना मुश्किल कर दिया

वो तुम्हीं हो वो नाजनीन वो तुम्हीं हो वो महज़बीं …

गीत गुनगुनाते हुए जब मैं घर की ओर चला तो मुझे इस बात की बड़ी हैरानी थी कि सिमरन ने मुझे अपने जन्मदिन पर क्यों नहीं बुलाया? खैर जन्मदिन पर बुलाये या ना बुलाये उसके मन में मेरे लिए कोमल भावनाएं और प्रेम का बिरवा तो फूट ही पड़ा है। उस रात मैं ठीक से सो नहीं पाया। सारी रात बस रोमांच और सपनीली दुनिया में गोते ही लगाता रहा। मुझे तो लगा जैसे मेरे दिल की हर धड़कन उसका ही नाम ले रही हैं, मेरी हर सांस में उसी का अहसास गूँज रहा है मेरी आँखों में वो तो रच बस ही गई है। मेरा जी तो कर रहा था कि मैं बस पुकारता ही चला जाऊं….

मेरी सिमरन …. मेरी सिमसिम ……

अगले चार दिन मैं ना तो स्कूल जा पाया और ना ही ट्यूशन पर। मुझे बुखार हो गया था। मुझे अपने आप पर और इस बुखार पर गुस्सा तो बड़ा आ रहा था पर क्या करता ? बड़ी मुश्किल से यह फुलझड़ी मेरे हाथों में आने को हुई है और ऐसे समय पर मैं खुद उस से नहीं मिल पा रहा हूँ। मैं ही जानता हूँ मैंने ये पिछले तीन दिन कैसे बिताये हैं।

काश ! कुछ ऐसा हो कि सिमरन खुद चल कर मेरे पास आ जाए और मेरी बाहों में समा जाए। बस किसी समंदर का किनारा हो या किसी झील के किनारे पर कोई सूनी सी हवेली हो जहां और दूसरा कोई ना हो। बस मैं और मेरी नाज़नीन सिमरन ही हों और एक दूसरे की बाहों में लिपटे गुटर गूं करते रहें क़यामत आने तक। काश ! इस शहर को ही आग लग जाए बस मैं और सिमरन ही बचे रहें। काश कोई जलजला (भूकंप) ही आ जाए। ओह लिंग महादेव ! तू ही कुछ तो कर दे यार मेरी सुम्मी को मुझ से मिला दे ? मैं उसके बिना अब नहीं रह सकता।

उस एक चुम्बन के बाद तो मेरी चाहत जैसे बदल ही गई थी। मैं इतना बेचैन तो कभी नहीं रहा। मैंने सुना था और फिल्मों में भी देखा था कि आशिक अपनी महबूबा के लिए कितना तड़फते हैं। आज मैं इस सच से रूबरू हुआ था। मुझे तो लगने लगने लगा कि मैं सचमुच इस नादान नटखट सोनचिड़ी से प्रेम करने लगा हूँ। पहले तो मैं बस किसी भी तरह उसे चोद लेना चाहता था पर अब मुझे लगता था कि इस शरीर की आवश्यकता के अलावा भी कुछ कुनमुना रहा है मेरे भीतर। क्या इसी को प्रेम कहते हैं ?

चुम्बन प्रेम का प्यारा सहचर है। चुम्बन हृदय स्पंदन का मौन सन्देश है और प्रेम गुंजन का लहराता हुआ कम्पन है। प्रेमाग्नि का ताप और दो हृदयों के मिलन की छाप है। यह तो नव जीवन का प्रारम्भ है। ओह… मेरे प्रेम के प्रथम चुम्बन मैं तुम्हें अपने हृदय में छुपा कर रखूँगा और अपने स्मृति मंदिर में मूर्ति बना कर स्थापित करूंगा। यही एक चुम्बन मेरे जीवन का अवलंबन होगा।

जिस तरीके से सिमरन ने चुम्बन लिया था और शर्मा कर भाग गई थी मैं यकीन के साथ कह सकता हूँ कि उसके मन में भी मेरे लिए कोमल भावनाएं जरूर आ गई हैं जिन्हें चाहत का नाम दिया जा सकता है। उस दिन के बाद तो उसका चुलबुलापन, शौखियाँ, अल्हड़पन और नादानी पता नहीं कहाँ गायब ही हो गई थी। ओह … अब मुझे अपनी अक्ल के घास चरने जाने का कोई गम नहीं था।

शाम के कोई चार बजे रहे थे मैंने दवाई ले ली थी और अब कुछ राहत महसूस कर रहा था। इतने में शांति बाई (हमारी नौकरानी) ने आकर बताया कि कोई लड़की मिलने आई है। मेरा दिल जोर से धड़का। हे लिंग महादेव ! यार मेरे ऊपर तरस खा कर कहीं सिमरन को ही तो नहीं भेज दिया ?

“हल्लो, केम छो, प्रेम ?” (हेल्लो कैसे हो प्रेम?) जैसे अमराई में कोई कोयल कूकी हो, किसी ने जल तरंग छेड़ी हो या फिर वीणा के सारे तार किसी ने एक साथ झनझना दिए हों। एक मीठी सी आवाज ने मेरा ध्यान खींचा। ओह…. यह तो सचमुच मेरी सोनचिड़ी ही तो थी। मुझे तो अपनी किस्मत पर यकीन ही नहीं हो रहा था कि सिमरन मेरे घर आएगी। गुलाबी रंग के पटयालवी सूट में तो आज उसकी ख़ूबसूरती देखते ही बनती थी पूरी पंजाबी मुटियार (अप्सरा) ही लग रही थी। आज सिर पर वो काली टोपी नहीं थी पर हाथ में वही लाल रुमाल और मुंह में चुइंगम।

“म … म … मैं … ठीक हूँ। तुम ओह… प्लीज बैठो … ओह… शांति बाई …ओह…” मैंने खड़ा होने की कोशिश की। मुझे तो उसकी ख़ूबसूरती को देख कर कुछ सूझ ही नहीं रहा था।

“ओह लेटे रहो ? क्या हुआ है ? मुझे तो प्रोफ़ेसर साहब से पता चला कि तुम बीमार हो तो मैंने तुम्हारा पता लेने चली आई।”

वह पास रखी स्टूल पर बैठ गई। उसने अपने रुमाल के बीच में रखा एक ताज़ा गुलाब का फूल निकाला और मेरी ओर बढ़ा दिया “आ तमारा माते” (ये तुम्हारे लिए)

“ओह … थैंक्यू सिमरन !” मैंने अपना बाएं हाथ से वो गुलाब ले लिया और अपना दायाँ हाथ उसकी ओर मिलाने को बढ़ा दिया।

उसने मेरा हाथ थाम लिया और बोली “हवे ताव जेवु लागतु तो नथी ” (अब तो बुखार नहीं लगता)

“हाँ आज ठीक है। कल तो बुरी हालत थी !”

उसने मेरे माथे को भी छू कर देखा। मुझे तो पसीने आ रहे थे। उसने अपने रुमाल से मेरे माथे पर आया पसीना पोंछा और फिर रुमाल वहीं सिरहाने के पास रख दिया। शान्ती बाई चाय बना कर ले आई। चाय पीते हुए सिमरन ने पूछा “कल तो ट्यूशन पर आओगे ना ?”

“हाँ कल तो मैं स्कूल और ट्यूशन दोनों पर जरूर आऊंगा। तुम से मिठाई भी तो खानी है ना ?

“केवी मिठाई ” (कैसी मिठाई)

“अरे तुम्हारे जन्मदिन की और कौन सी ? तुमने मुझे अपने जन्मदिन पर तो बुलाया ही नहीं अब क्या मिठाई भी नहीं खिलाओगी ?” मैंने उलाहना दिया तो वो बोली “ओह…. अरे……ते……..ओह……सारु ………तो …….काले खवदावी देवा” (ओह… अरे… वो… ओह… अच्छा… वो… चलो कल खिला दूंगी)

पता नहीं उसके चहरे पर जन्मदिन की कोई ख़ुशी नहीं नज़र आई। अलबत्ता वो कुछ संजीदा (गंभीर) जरूर हो गई पता नहीं क्या बात थी।

चाय पी कर सिमरन चली गई। मैंने देखा उसका लाल रुमाल तो वहीं रह गया था। पता नहीं आज सिमरन इस रुमाल को कैसे भूल गई वर्ना तो वह इस रुमाल को कभी अपने से जुदा नहीं करती ?

मैंने उस रुमाल को उठा कर अपने होंठों पर लगा लिया। आह… मैं यह सोच कर तो रोमांचित ही हो उठा कि इसी रुमाल से उसने अपने उन नाज़ुक होंठों को भी छुआ होगा। मैंने एक बार फिर उस रुमाल को चूम लिया। उसे चूमते हुए मेरा ध्यान उस पर बने दिल के निशान पर गया। ओह… यह रुमाल तो किसी जमाने में लाहौर के अनारकली बाज़ार में मिला करते थे। ऐसा रुमाल सोहनी ने अपने महिवाल को चिनाब दरिया के किनारे दिया था और महिवाल उसे ताउम्र अपने गले में बांधे रहा था। ऐसी मान्यता है कि ऐसा रुमाल का तोहफा देने से उसका प्रेम सफल हो जाता है। सिमरन ने बाद में मुझे बताया था कि यह रुमाल उसने अपने नानके (ननिहाल) पटियाला से खरीदा था। आजकल ये रुमाल सिर्फ पटियाला में मिलते हैं। पहले तो इन पर दो पक्षियों के चित्र से बने होते थे पर आजकल इन पर दो दिल बने होते हैं। इस रुमाल पर दोनों दिलों के बीच में एस और पी के अक्षर बने थे। मैंने सोचा शायद सिमरन पटेल लिखा होगा। पर बीच में + का निशान क्यों बना था मेरी समझ में नहीं आया।

मैंने एक बार उस गुलाब और इस रुमाल को फिर से चूम लिया। मैंने कहीं पढ़ा था सुगंध और सौन्दर्य का अनुपम समन्वय गुलाब सदियों से प्रेमिकाओं को आकर्षित करता रहा है। लाल गुलाब मासूमियत का प्रतीक होता है। अगर किसी को भेंट किया जाए तो यह सन्देश जाता है कि मैं तुम्हें प्रेम करता हूँ। ओह… अब मैं समझा कि S+P का असली अर्थ तो सिमरन और प्रेम है। मैंने उस रुमाल को एक बार फिर चूम लिया और अपने पास सहेज कर रख लिया। ओह … मेरी सिमरन मैं भी तुम्हें सचमुच बहुत प्रेम करने लगा हूँ ….

अगले दिन मैं थोड़ी जल्दी ट्यूशन पर पहुंचा। सिमरन प्रोफ़ेसर के घर के नीचे पता नहीं कब से मेरा इंतज़ार कर रही थी। जब मैंने उसकी ओर प्रश्नवाचक निगाहों से देखा तो उसने अपना सिर झुका लिया। अब मैं इतना गाउदी (मकाउ) भी नहीं रहा था कि इसका अर्थ न समझूं। मेरा दिल तो जैसे रेल का इंजन ही बना था। मैंने कांपते हाथों से उसकी ठोड़ी को थोड़ा सा ऊपर उठाया। उसकी तेज और गर्म साँसें मैं अच्छी तरह महसूस कर रहा था। उसके होंठ भी जैसे काँप रहे थे। उसकी आखों में भी लाल डोरे से तैर रहे थे। उसे भी कल रात भला नींद कहाँ आई होगी। भले ही हम दोनों ने एक दूसरे से एक शब्द भी नहीं कहा पर मन और प्रेम की भाषा भला शब्दों की मोहताज़ कहाँ होती है। बिन कहे ही जैसे एक दूसरे की आँखों ने सब कुछ तो बयान कर ही दिया था।

ट्यूशन के बाद आज हम दोनों का ही टेनिस खेलने का मूड नहीं था। हम दोनों खेल मैदान में बनी बेंच पर बैठ गए।

मैंने चुप्पी तोड़ी “सिमरन, क्या सोच रही हो ?”

“कुछ नहीं !” उसने सिर झुकाए ही जवाब दिया।

“सुम्मी एक बात सच बताऊँ ?”

“क्या ?”

“सुम्मी वो… वो दरअसल…” मेरी तो जबान ही साथ नहीं दे रही थी। गला जैसे सूख गया था।

“हूँ …”

“मैं तुमसे कुछ कहना चाहता हूँ ?”

” ?” उसने प्रश्न वाचक निगाहों से मुझे ताका।

“मैं … मैं … तुम से प … प … प्रेम करने लगा हूँ सुम्मी ?” पता नहीं मेरे मुंह से ये शब्द कैसे निकल गए।

“हूँ … ?”

“ओह … तुम कुछ बोलोगी नहीं क्या ?”

“नहीं ?”

“क … क … क्यों ?”

“हूँ नथी कहेती के तमारी बुद्धि बेहर मारी जाय छे कोई कोई वार ?” (मैं ना कहती थी कि तुम्हारी अक्ल घास चरने चली जाती है कई बार ?) और वो खिलखिला कर हंस पड़ी। हंसते हुए उसने अपनी तर्जनी अंगुली अपनी कनपटी पर लगा कर घुमा दी।

सच पूछो तो मुझे पहले तो कुछ समझ ही नहीं आया। मैं तो सोच रहा था कहीं सिमरन नाराज़ ही ना हो जाए। पर बाद में तो मेरे दिल की धड़कनों की रफ़्तार ऐसी हो गई जैसे कि मेरा दिल हलक के रास्ते बाहर ही आ जाएगा। अब आप मेरी हालत का अंदाजा लगा सकते हैं कि मैंने अपने आप को कैसे रोका होगा। थोड़ी दूर कुछ लड़के और लड़कियां खेल रहे थे। कोई सुनसान जगह होती तो मैं निश्चित ही उसे अपनी बाहों में भर कर चूम लेता पर उस समय और उस जगह ऐसा करना मुनासिब नहीं था। मैंने सिमरन का हाथ अपने हाथ में ले कर चूम लिया।

प्रेम को बयान करना जितना मुश्किल है महसूस करना उतना ही आसान है। प्यार किस से, कब, कैसे और कहाँ हो जाएगा कोई नहीं जानता। वो पहली नजर में भी हो सकता है और हो सकता है कई मुलाकातों के बाद हो।

“सुम्मी ?”

“हूँ … ?”

“सुम्मी तुमने मुझे अपने जन्मदिन की मिठाई तो खिलाई ही नहीं ?” उसने मेरी ओर इस तरह देखा जैसे मैं निरा शुतुरमुर्ग ही हूँ। उसकी आँखें तो जैसे कह रही थी कि ‘जब पूरी थाली मिठाई की भरी पड़ी है तुम्हारे सामने तुम बस एक टुकड़ा ही मिठाई का खाना चाहते हो ?”

“एक शेर सम्भादावु?” (एक शेर सुनाऊं) सिमरन ने चुप्पी तोड़ी। कितनी हैरानी की बात थी इस मौके पर उसे शेर याद आ रहा था।

“ओह … हाँ … हाँ …?” मैंने उत्सुकता से कहा।

सिमरन ने गला खंखारते हुए कहा “अर्ज़ किया है :

वो मेरे दिल में ऐसे समाये जाते हैं…. ऐसे समाये जाते हैं …

जैसे कि… बाजरे के खेत में कोई सांड घुसा चला आता हो ?”

हंसते हँसते हम दोनों का बुरा हाल हो गया। उस एक शेर ने तो सब कुछ बयान कर दिया था। अब बाकी क्या बचा था।

“आ जाड़ी बुध्धिमां कई समज आवी के नहीं?” (इस मोटी बुद्धि में कुछ समझ आया या नहीं) और फिर उसने एक अंगुली मेरी कनपटी पर लगा कर घुमा दी।

“ओह … थैंक्स सुम्मी … मैं … मैं … बी … बी … ?”

“बस बस हवे, शाहरुख खान अने दिलीप कुमार न जेवी एक्टिंग करवा नी कोई जरुरत नथी मने खबर छे के तमने एक्टिंग करता नथी आवडती” (बस बस अब शाहरुख खान और दिलीप कुमार की तरह एक्टिंग करने की कोई जरुरत नहीं है? मैं जानती हूँ तुम्हें एक्टिंग करनी भी नहीं आती)

“सिम … सिमरन यार बस एक चुम्मा दे दो ना ? मैं कितने दिनों से तड़फ रहा हूँ ? देखो तुमने वादा किया था ?”

“केवूँ वचन ? में कदी एवुं वचन आप्युं नथी” (कौन सा वादा ? मैंने ऐसा कोई वादा नहीं किया)

“तुमने अपने वादे से मुकर रही हो ?”

“ना, फ़क्त मिठाई नी ज वात थई हटी ?” (नहीं बस मिठाई की बात हुई थी)

“ओह … मेरी प्यारी सोनचिड़ी चुम्मा भी तो मिठाई ही है ना ? तुम्हारे कपोल और होंठ क्या किसी मिठाई से कम हैं ?”

“छट गधेड़ा ! कुंवारी छोकरी ने कदी पुच्ची कराती हशे ?” (धत्त…. ऊँट कहीं के… कहीं कुंवारी लड़की का भी चुम्मा लिया जाता है?)

“प्लीज… बस एक बार इन होंठों को चूम लेने दो ! बस एक बार प्लीज !”

“ओह्हो ….एम् छे !!! हवे हूँ समजी के तमारी बुध्धि घास खाईने पाछी आवी गई छे! हवे अहि तमने कोई मिठाई – बिठाई मलवानी नथी? हवे घरे चालो” (ओहहो… अच्छा जी ! मैं अब समझी तुम्हारी बुद्धि घास खा कर वापस लौट आई है जी ? अब यहाँ आपको कोई मिठाई विठाई नहीं मिलेगी ? अब चलो घर) सिमरन मंद मंद मुस्कुरा रही थी।

“क्या घर पर खिलाओगी ?” मैंने किसी छोटे बच्चे की तरह मासूमियत से कहा।

“हट ! गन्दा छोकरा ?” (चुप… गंदे बच्चे)

सिमरन तो मारे शर्म से दोहरी ही हो गई उसके गाल इस कदर लाल हो गए जैसे कोई गुलाब या गुडहल की कलि अभी अभी चटक कर खिली है। और मैं तो जैसे अन्दर तक रोमांच से लबालब भर गया जिसे मैं शब्दों में बयान नहीं कर सकता। क्यों कि मैं शायरों और अदीबों (साहित्यकारों) की प्रणय और श्रृंगाररस की भाषा कहाँ जानता हूँ। मैं तो सीधी सादी ठेठ भाषा में कह सकता हूँ कि अगर इस मस्त मोरनी के लिए कोई मुझे कुतुबमीनार पर चढ़ कर उसकी तेरहवी मंजिल से छलांग लगाने को कह दे तो मैं आँखें बंद करके कूद पडूँ। प्रेम की डगर बड़ी टेढ़ी और अंधी होती है।

घर आकर मैंने दो बार मुट्ठ मारी तब जा कर लंड महाराज ने सोने दिया।