खेल खिलाड़ी का compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: खेल खिलाड़ी का

Unread post by raj.. » 04 Nov 2014 11:15

"salam baba!salam didi!salam bhai!",1 mustanda vaha aya.

"kya re,Noora aaj aa raha hai.kitni ugahi hui is baar?"

"didi,is baar Shantipura ki randiyo ka dhanda manda hai.vaha se kam maal mila hai."

"hun.aur baki ka ilake ka kya haal hai?"

"mast,didi."

"thik hai.sara hisab Tiwari ji ko de de."

"salam,didi.",rano ne 1 bar fir chhat se charo taraf dekha.shehar ke is ilake me baba tab aye the jab rano kewal 3 mahine ki thi.1 chhote se ghar se is haweli tak ka safar vakai kabile tarif tha & ab to yaha unki ijazat ke bagair 1 parinda bhi yaha par nahi mar sakta tha.tabhi neeche ke ahate ka bada phatak khulne ki aavaz aayi,"bhaiya ji aa gaye.",1 gunde ne munder se neeche jhaka.

---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

"kya madam?!",divya apni jeep me baithi thi & raste ke kinare bani juice ki dukan se juice leke aya juicewala hairat me tha,"dame ka mariz?"

"haan.",divya ne 1 glass professor ko thamaya & dusra apne hotho se lagaya.

"madam..",juicewala apne hath rumal se ponchh raha tha,"..har jagah yehi baat garam hai ki ye kaam apne shehar ke kisi aadmi ka nahi hai.ye to koi baharwala gang hai.",ye juicewala 1 mukhbir tha.

"tumhari baat sahi hai,mangu lekin unhone yaha se 1 mahine pehle van churayi,use ranga & fir dacoity daal farar ho gaye.is sabke dauran kisi ne to unhe dekha hoga!"

"sahi baat hai,madam.aap bharosa rakhiye main apne kaan khule rakhunga."

"thik hai mangu.",divya ne juice khatm kiya & Rs.200 use thamaye & jeep badha di.

"bada mehanga juice tha!",professor ne mazak kiya magar divya khamosh rahi.

"aapko juice kafi pasand hai lagta hai?",professor ne use dobara chheda.

"ji.",divya jeep chalti rahi.

"mujhe guess karne dijiye aapko ganne ka juice sabse zyada pasand hoga?",professor ke ganne pe zor dene se divya uski baat ka dohra matlab samajh gayi.uska dil to kiya ki us badtamiz ko usi waqt jeep se utar de magar apne gusse pe kabu rakhte hue vo vaise hi raste pe dhyan lagaye rahi.

"..lekin mujhe juice se zyada doodh pasand hai.",divya janti thi ki gussa karne ya jawab dene se professor ko badhawa hi milega,vo vaise hi khamosh rahi & jeep chalati rahi.

--------------------------------------------------------------------------------

"Kaam to bahut khatarnak hai,Kabra Sahab.",duniya ke liye jo Bhaiyya ji tha Baba ke liye vo sirf Baldev Kabra tha & Bhaiyya ji ke liye vo sirf Raghu Kumbhat.

"ye ap keh rahe hain raghu bhai!",Rano & Ballu baithe dono ki bate sun rahe the.

"ji,aap samajhte hain Pradhan ko hath lagane ka matlab.itna dabav padega ki police ko majburan humare peche lagna hi padega.main 1 baar ye sab khote-2 bacha hu.ab baat mere bachcho ki hai,main ye khatra mol nahi le sakta."

"baba,kam ho sakta hai.",sabhi rano ko dekhne lage.bhaiyya ji jante the ki aajkal gang ki sarvesarva rano hi hai & agar usne haan keh di to kam ho gaya samjho.aajkal baba bas din bhar baithe tash khelte the lekin kuchh khas logo ke ane pe rano chahti thi ki vo hi unse bat karen nahi to aisa ho sakta tha kya ki baba ki sagi beti unke aadmi se khule aasman ke neeche chudti rahe & vo uski gardan na utar den.

"tum samajh rahi hai bat ko ya bas jawani ke josh me bol rahi hai?",baba ne beti ko jhidka.

"sab samajh rahi hu.kaam ho jayega,uncle & na apka naam samne ayega na humara lekin is bar keemat kuchh zyada hogi."

"jo rakam bol beti."

"rakam to jo dete ho de dena.",rano ne unhe gehri nigaho se dekha,"..lekin is bar Devalay East se mujhe baba ki jeet chahiye."

"pagal ho gayi hai kya?",baba chillaya,"..main koi chunav-vunav nahi ladne wala!",bhaiyya ji muskura rahe the,ladki bahut tez thi & badalte waqt ki nabz pe uska hath tha.janti thi ki agar uska bap MLA ban gaya to uske kale dhandhe thoda aur mehfuz ho jayenge.

"tumhare baba to taiyyar hi nahi."

"vo meri chinta hai,uncle.aap bas mujhe ye guarantee dijiye ki is bar devalay east se baba MLA banenge."

"di beti magar mera kaam ho jana chahiye.",bhaiya ji kursi pe thoda peechhe ho baith gaye,"..dekho Ranjita,agar pradhan is baar CM ban gaya to hum sabki dukan band samjho isliye mamle ki nazakat samajhte hue sara kaam karna."

"uncle,aaj tak apko humne kabhi shikayat ka mauka diya hai?nahi na.to ap befikr rahiye sab kuchh bilkul savdhani se hoga."

"are raghu bhai dekh kya rahe ho?!munh meetha karao bhai ab tum MLA banne vale ho.",bhaiyya ji ki baat pe sabhi ke kehkehe gunj uthe.

Jasjit Pradhan ko khabar bhi nahi thi & 1-1 karke uske dushman uske khilaf sazisho ki shuruat kar rahe the lekin in sabhi me se jo us se sabse zyada nafrat karta tha vo shakhs abhi thoda pareshan tha.uske paas itne paise to the ki vo 1 purani van kharid le lekin mushkil ye thi ki us van ko vo rakhega kaha.vo khud to kisi tarah us band pade bungle me chhipa tha lekin vaha bhi zyada din rehna khatre se khali nahi tha & vaha 1 gadi rakhna to namumkin tha.

vo inhi khayalo me gum bazar se guzar raha tha ki tabhi uski nigah 1 dukan me khadi 1 ladki pe padi....Mona!..uske ghumgin chehre pe barso me pehli baar muskan aayi & uske kadam dukan ki or badh gaye.abhi 4 kadam hi chala tha ki vo thithak gaya.dukan ke cash counter se baki paise apne purse me dalti mona ghumi to uski nazar uski mang me chamak rahe sindur & gale me pade mangalsutra pe padi.

vo fauran dukan me ghusne ke bajay furti se bayi taraf ghuma & 1 dukan me ghus gaya.thik usi waqt mona ne apna sar upar uthaya & apna purse band karti hui dukan se bahar nikal gayi.vo bhi uske thoda aage badhne pe bahar nikal aya & mona ke peechhe chal pada.uska dimagh use jhakjhor raha tha ki vo kyu uske peechhe chal raha tha?..vo ab kisi aur ki ho chuki thi..vo nashila badan jo pehle kewal uski milkiyat thi ab uske nakhun ko bhi vo chhune ka haq nahi rakhta tha..lekin insan ke dil ne kab tark se kaam liya hai.vo vaise hi apni mehbuba ke peechhe chalta raha.

kuchh aur dukano ka chakkar lagane ke baad mona 1 coffee shop me ghus gayi,"hi!bhabhi.",vo 1 aurat ke sath baith ke coffee pine lagi.

vo dono ki nazar bacha ke coffee shop ke andar gaya & mona ki or pith kar baith gaya & waiter ke aane pe ishare se 1 coffee ka order de diya.vo us aurat ko dekhte hi pehchan gaya tha,vo uski mehbuba ke bade bhai ki biwi thi & yehi paas me hi kisi daftar me kaam karti thi.usne ghadi dekhi 3 baj rahe the.abhi lunch break me vo apni nanad se milne bahar aayi thi,aisa lagta tha.

"kya bhabhi!main abhi-2 aayi & aaplog ja rahe ho!ye achhi baat nahi hai."

"mona,mujhe achha lag raha hai aise jana!lekin kya karu,tere bhaiyya kitne pareshan the tujhe pata hai na!..ab itni mushkil se ye mauka hath laga hai..fir 3 mahino ki to baat hai....hum yu gaye & yu aaye!"

"bhabhi,videsh ja rahi ho bagal ke cinema me film dekhne nahi!",dono aurate hans padi.

"tu vaise to badi shikayat kar rahi hai lekin jab pichhle sunday bulaya to kyu nahi ayi thi?main achhe se janti hu mujhe keh rahi hai ki mere bina bore ho jayegi jabki tu abhi tak honeymoon mana rahi hai!kya kiya pure etvar?..achha vo to mujhe pata hai kya kiya ye bata ki kaise kiya?"

"kya bhabhi!..jagah ka to khayal karo!",mona ki aavaz me sharm & khushi & banawati gusse ki laraz thi.uske dil me tees si uthi..mona khush thi us dusre mard ke sath..usne apni coffee ka lumba ghunt bhara..lekin vo kyu dukhi ho raha tha?..kya uska ishq itna matlabi tha?..pehle to kabhi vo mona ki khushi se dukhi nahi hua & vo kya chahta tha ki mona uska intezar karti rehti..1 sazayafta mujrim ka?..usne apni zindagi ki kadvi sachayi ko maan liya tha & ab use is sachai ko bhi maan lena hoga ki mona ab uski nahi thi.

"..kiraye ka hi sahi magar mujhe to apna ghar vahi makan lagta tha bhabhi."

"haan,mona.kitni yaaden judi hain na us ghar se?tujhe yaad hai peechhe vale Murthy sahab?"

"jinke peechhe 1 baar gali ke kutte pad gaye the!",1 baar fir dono aurato ki hansi gunj uthi.vo janta tha mona apne ghar ki baat kar rahi thi.vohi ghar jis se kuchh duri pe vo use har roz utarta tha & jab tak vo apne gulabi labo se use 1 goodbye kiss nahi de deti vo use jane nahi deta tha.

"bhabhi,tumhare is naye ghar ka to mujhe pata bhi nahi yaad.1 baar batao likh lu.",mona pata likh rahi thi & uska dimagh 1 baar fir apne maqsad ke bare me sochne laga tha.jab tak mona ne pata likha vo apna bill ada kar coffee shop se bahar nikal chuka tha.mona ke bhaiyya ke naye ghar se use 1 baat sujh gayi thi.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

क्रमशः...........


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: खेल खिलाड़ी का

Unread post by raj.. » 04 Nov 2014 11:16

गतान्क से आगे..............

श्लोक & मुकुल जा चुके थे & नीना घर मे अकेली थी.आज वो बड़े अच्छे मूड मे थी.जब से मुकुल ने चुनाव लड़ने का फ़ैसला किया था तब से नीना ने गौर किया था कि उसमे जैसे नया जोश भर गया था.आजकल वो हर काम बड़ी मुस्तैदी & गर्मजोशी से कर रहा था & अरसे बाद कल रात बिस्तर मे नीना को उसने 1 बार झाड़वा भी दिया था.नीना ने नौकरो को छुट्टी दे दी थी.वो ड्रॉयिंग रूम मे आई & सोफे पे लेट गयी.उसने 1 केमिसोल पहना था जोकि उसके घुटनो के काफ़ी उपर था....अगर बस चुनाव लड़ने की बात से मुकुल ऐसा हो गया था तो चुनाव जीतने के बाद क्या होगा?!..उसके होंठो पे मुस्कान खिल गयी..फिर उसे अपने सपनो को हक़ीक़त मे बदलने के लिए किसी महेश की ज़रूरत नही होगी..तभी दरवाज़े की घंटी बजी.

ज़रूर महेश ही आया होगा..आगे का तो पता नही लेकिन फिलहाल उसे महेश की ज़रूरत थी.उसने दरवाज़ा खोला तो महेश अंदर आया & उसके दरवाज़ा बंद करते ही उसे बंद दरवाज़े से सटा अपने जिस्म से उसका बदन दबा उसे चूमने लगा.नीना आहे भरती उसकी गिरफ़्त से छूटना चाह रही थी मगर महेश मानो पागल हो चुका था & होता भी क्यू ना?!पीच कलर के झीने से केमिसोल मे नीना का गोरा बदन लग ही ऐसा नशीला रहा था.

"उउंम..उउन्न्ञन्....!",महेश अपने लंड को नीना की चूत पे रगड़ते हुए उसके गुलाबी होंठो को ऐसे चूम रहा था मानो उनका सारा रस 1 बार ही मे पी जाना चाहता हो.कपड़ो के उपर से ही सही उसके मस्ताने लंड की हर्कतो को अपनी चूत पे महसूस करते ही नीना भी मदहोश हो गयी & उसका दिल महेश के साथ उसी अंदाज़ मे प्यार करने को ललचा उठा जैसे वो हमेशा करते थे.अभी तक जो हाथ महेश के सीने पे जमे उसे परे धकेल रहे थे वो अब उसकी कमीज़ के बटन खोल उसे उसकी शर्ट निकालने मे जुट गये.महेश ने भी बिना नीना के लबो को छ्चोड़े अपनी बाँहे उसके जिस्म से हटा अपनी कमीज़ उतारी.

नीना ने फ़ौरन उसके जिस्म को अपनी बाहो मे कसा & अपने नाख़ून ज़ोर से उसकी पीठ मे धंसा दिए,"आहह..!",कराहते हुए महेश ने नीना के होंठ छ्चोड़े तो नीना ने उसके दाए गाल पे काट लिया,"ऊव्व..!",महेश का हाथ अपने गाल पे चला गया तो नीना हंसते हुए वाहा से भागी & आके सोफे पे अपनी टाँगे पसार के बैठ गयी.उसका बाया हाथ सोफे की पीठ पे रखा था & गौर से देखने पे पता चल रहा था की केमिसोल के झीने कपड़ो के नीचे उसने कुच्छ और नही पहना है.मस्ती के आगाज़ के साथ ही उसके निपल्स कड़े हो गये थे & केमिसोल मे से सॉफ झलक रहे थे.

महेश आगे बढ़ा & उसके करीब आ गया.दोनो की नज़रे लगातार 1 दूसरे को देखे जा रही थी.महेश की आँखो मे वासना की भूख थी & नीना की नज़रो मे शोखी & हवस.महेश ने हौले से अपनी पॅंट के बटन को खोला & पॅंट को नीचे सरकाया .उसका अंडरवेर हिल रहा था,उसका लंड बाहर आने को मचल रहा था.नीना ने ये नज़ारा देखा तो अपनेआप ही उसकी जीभ उसके उपरी होंठ पे फिर गयी.महबूबा की ज़ुबान की हरकत देख महेश का दिल उसे अपने लंड का स्वाद चखने को मचल उठा.उसने उंड़रेअर नीचे किया & नीना के करीब आ गया.

"अब तुम्हे तुम्हारी गुस्ताख़ी की सज़ा मिलेगी.",उसने नीना के बालो को पकड़ खींच के उसके चेहरे को अपनी झांतो मे घुसा दिया,"..इस बार दांतो का इस्तेमाल किया तो मुझसे बुरा कोई ना होगा!",वो नीना के चेहरे को अपनी झांतो मे रगडे जा रहा था.नीना की मस्ती पल-2 बढ़ रही थी.महेश के लंड की खुश्बू,उसका 1 ही वक़्त मे सख़्त & मुलायम एहसास उसे पागल कर रहा था.नीना ने अपना मुँह खोल महेश के पेट के निचले हिस्से को चाटना शुरू कर दिया.उसकी जीभ उसकी उंगलियो की तरह उसके पेट पे चलने लगी.महेश की आह निकल गयी & कुच्छ ही पॅलो मे वो नीना के सर को पकड़ अपनी कमर हिला उसके मुँह को चोद रहा था.

"चूसो..आआहह....& ज़ोर से....मेरे लंड को पूरा लो..निनाआआ....आहह..!",नीना अपने प्रेमी के जोश से लाल हो आरहे चेहरे को देखते हुए लंड पे अपनी ज़ुबान चला रही थी.नीना की जीभ लंड के छेद को ऐसे छेड़ रही थी मानो उसमे घुसाना चाहती हो,उसके हाथ महेश की गान्ड & आंडो को बेरहमी से दबाते हुए अपने नखुनो से खरोंच रहे थे.जब महेश को लगा की वो अब अपने उपर काबू नही रख पाएगा,उसने नीना के बाल पकड़ उसके मुँह को अपने लंड से अलग कर दिया & सोफे पे उसके सामने बैठ गया.

नीना ने अपने पैर झट से उसकी गोद मे रख दिए & दोनो पैरो मे उसके लंड को पकड़ हिलाने लगी,"मुकुल चुनाव के लिए तैय्यार है लेकिन केवल इसी बात से हमारा काम नही हो जाएगा."

"जानता हू.",वो उसके अपने लंड को हिलाते कोमल पैरो को सहला रहा था,"..ये तो बस पहली सीधी है.बद्डल मे जितनी भी फॅक्टरीस या यूनिट्स हैं उनमे से 90% के मलिक डेवाले मे रहते हैं.मुकुल चुनाव जीत गया तो हम उसके ज़रिए बद्डल के रईसो को अपनी तरफ कर सकते हैं.."

"..उसके बाद डेवाले की 5 मे से 2 सीट्स तो हमारे पास आ ही जाएँगी & तब हार कर..",उसने नीना की आएडियो को पकड़ा & अपने लंड से अलग किया & उन्हे फैला उसके उपर सवार हो गया,"..जनहित या लोक विकास मे से 1 को हमसे हाथ मिलाना ही पड़ेगा."

"ये तो आगे की बात है..",नीना ने उसे पलट के अपने नीचे किया & अपने घुटनो पे बैठ अपनी गंद को महेश के लंड पे दबाते हुए अपने केमिसोल को अपने सर से निकाल दिया.उसके नंगे हुस्न को देख मुकुल का जोश और बढ़ गया & उसके शहद के रंग के निपल्स का स्वाद चखने के लिए वो उठ बैठा & अपने बाज़ू नीना के गिर्द कसते हुए अपने होंठ उसके दाए निपल से लगा दिए,"....उउम्म्म्म....मगर पहले हमे ना केवल ये पक्का करना है कि मुकुल की जीत हो मगर साथ ही ये भी की जसजीत की हार हो."

"क्या मतलब?",

नीना ने मुस्कुराते हुए महेश को दोबारा सोफे पे गिरा दिया & अपने दाए हाथ को पीछे ले जाके उसके लंड को मज़बूती से पकड़ अपने घुटनो पे खड़ी हुई & फिर चूत को लंड पे झुकाने लगी.

"मतलब ये कि तुम अपनी चाले चलते रहो & बाकी सारे नेता बैठे देखते रहें..",नीना की चूत जसजीत के लंड के सूपदे के सिरे को च्छू रही थी मगर नीना उस से नीचे बैठ ही नही रही थी.

"..लेकिन मैं कयि लोगो से बात कर चुका हुआ & बद्डल के आधे से ज़्यादा वर्कर्स की यूनियन के नेता मेरे बताए आदमी को ही वोट देंगे.",उसने उसकी कमर थाम उसे नीचे झुकाने की नाकाम कोशिश की.

"वो ठीक है..",नीना लंड को चूत की दरार पे फिरा रही थी मगर अंदर नही ले रही थी,"..लेकिन जब तुम बद्डल के बाद डेवाले मे पैर जमाने की कोशिश करोगे तब क्या होगा?और बद्डल मे भी तुमने बात की है तो क्या वो लोग बात नही कर सकते?",महेश पागल हो रहा था.उसका लंड नीना की चूत की कोमलता महसूस कर रहा था मगर अंदर नही जा पा रहा था & ये तड़प अब उसे बर्दाश्त नही हो रही थी उपर से पता नही नीना कहना क्या चाह रही थी!

"सॉफ-2 कहो ना क्या कहना चाहती हो?",महेश ने 1 बार फिर अपनी कमर उचका के लंड घुसाने की नाकाम कोशिश की.नीना उसे काफ़ी तडपा चुकी थी & अब उसकी चूत से भी पानी रिसने लगा था.उसने अपनी कमर थोड़ी नीचे की & लंड के मत्थे को अंदर ले लिया.

"आहह..!",महेश ने मज़े मे आँखे बंद की & उसकी कमर थामनि चाही मगर नीना ने फुर्ती से उसकी दोनो कलाइयाँ पकड़ के उसे उसके सर के पीछे कर दिया & उसके उपर झुक गयी.महेश ने नीचे से ज़ोर से कमर उचकाई & लंड को और अंदर धकेल के ही दम लिया.

"हमे कुच्छ ऐसा करना होगा..ऊव्ववव..!",महेश तेज़ी से धक्के लगा रहा था,"..महेश,हमे कुच्छ ऐसा करना होगा की जसजीत का ध्यान चुनाव से हट जाए बल्कि अगर वो चुनाव लड़े ही ना तो सबसे बेहतर..उउफफफफफ्फ़..!"

"लेकिन ये होगा कैसे मेरी जान?",अब नीना कमर हिला रही थी & महेश उसकी चूत का लुत्फ़ उठाता हुआ अपना सर उठा उसकी नज़रो के सामने झूल रहे उसके सीने के संतरो को बारी-2 से चूस रहा था.

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: खेल खिलाड़ी का

Unread post by raj.. » 04 Nov 2014 11:16

"उउम्म्म्मम....!",नीना झुकी & महेश के कान मे फुशफुसाने लगी.

"क्या?!!पागल तो नही हो गयी तुम?!",महेश उसे लिए-दिए उठ बैठा था,"..समझती हो क्या कह रही हो & इसका अंजाम क्या होगा?"

"बहुत अच्छे तरीके से..",नीना ने उसके चेहरे को अपने हाथो मे भरा.वो अभी भी अपनी कमर हिला के चुदाई जारी रखे हुए थे,"..जसजीत प्रधान नाम का वो काँटा जो तुम्हे चुभता है & मुझे भी हमेशा-2 के लिए हमारे कदमो से निकल जाएगा & हम अपनी तरक्की की राह पे बेरोक-टोक आगे बढ़ जाएँगे."

"मगर इसमे बहुत ख़तरा है,नीना?",उसने उसकी गंद की मांसल फांको को हाथो मे भर दबाया तो नीना चिहुन्क के उस से और चिपक गयी.महेश कुच्छ सोचता हुआ उसकी चूचियो को चूमने,चूसने लगा & नीना अपनी कमर हिलाती उसके सर के बालो से खेलते हुए उसके माथे को चूमती रही.

"जितना बड़ा फायदा उतना बड़ा ख़तरा तो उठना पड़ेगा,महेश डार्लिंग....ऊन्नह..!",नीना ने उसकी पीठ पे नाख़ून फिराए तो महेश के बदन मे सुरसुरी सी दौड़ गयी.उसने उसकी गंद को भींचते हुए उसकी बाई छाती के निपल के उपर के हिस्से को चूस लिया,"..ज़रा सोचो महेश,काम हो गया तो पूरा डेवाले फिर हमारे कदमो मे होगा."

"& नहीं हुआ तो?",महेश ने उसके सीने से सर उठाया.

"ऐसा हो ही नही सकता.",नीना की आँखो मे शोले भड़क रहे थे ना केवल जिस्म की आग के बल्कि अपने मक़सद को कामयाब बनाने की वहशी चाह के भी.1 पल को महेश को उन आँखो से डर सा लगा मगर फिर प्रधान की बर्बादी & उस से होने वाले फ़ायदे के ख़याल ने उस डर को दबा दिया.

"ठीक है.मैं कुच्छ पता लगाता हू.",उसने नीना की गंद थामी & खड़ा हो गया & चलने लगा.

"कहा जा रहे हो?",नीना उसके चेहरे को चूम रही थी.महेश हमेशा ऐसी ही कोई हरकत कर अपनी मर्दाना ताक़त की नुमाइश करता था & नीना को उसकी ये अदा बहुत भाती थी.

"तुम्हारे बेडरूम मे.तुम्हे उसी बिस्तर पे चोदुन्गा जहा तुम अपने पति के साथ सोती हो.",इस बात ने आग मे घी का काम किया.नीना महेश को अब पागलो की तरह चूमने लगी & ज्यो ही महेश ने उसे उसके बिस्तर मे लिटाया उसने अपनी बाहे & टाँगे उसके जिस्म के गिर्द कस दी & नीचे से अपनी कमर उचकाने लगी.

"हाईईईईई......ऐसे ही...और ज़ोर से चोदो न्ना...ऊव्ववव..!",दोस्त की बीवी की मस्ताना फरमाशो ने महेश के खून को और गर्म कर दिया & उसने अब गहरे धक्के लगाने शुरू कर दिए,"..वी माआ...क्या बात है..हॅयियी....आज तुम्हारा छ्होटा सा लंड कुच्छ ज़्यादा बड़ा लग रहा है?..कोई दवा खाई है क्या?",नीना ने उसे छेड़ा.

"दवा..!वो तुम्हारा पति ख़ाता होगा..",महेश उसके उपर अब उच्छल रहा था,"..मेरा लंड छ्होटा है..हैं..?"

"हाँ,बिल्कुल चूहे जैसा..ओऊऊऊऊऊऊईईईईईईईई माआआआआ.....!",नीना ने अपने नखुनो से महेश की पीठ छल्नी कर दी & फिर हाथो को नीचे उसकी गंद पे ले गयी & अपने नखुनो कीं कारस्तानी महेश की गंद पे करने लगी.

"मेरा लंड चूहे जैसा है तो तुम्हारे पति का कैसा है हैं?..बोल!",महेश ज़ोरो से उसकी चूत मार रहा था.नीना की कसी चूत की रगड़,उसकी बाते,उसके चेहरे पे फैली मदहोशी की लाली सब मिल उसे उसकी मंज़िल की ओर ले जा रहे थे,"..वो चोद्ता है तुम्हे ऐसे?..बोलो?",मीना तकिये पे अपना सर दाए-बाए हिला रही थी.उसने उसके चेहरे को हाथो मे भरा & अपनी निगाहे उस से मिला दी.

"नही.उसमे ज़रा भी दम नही.",नीना जानती थी उसे यही सुनना था.ये सुनते ही महेश के अंदर मानो जोश का सैलाब फुट पड़ा.उसने अपने हाथ नीना की पीठ के नीचे ले जा उसे अपनी बाँहो मे कस लिया & उसके मस्त चेहरे & उतनी ही मस्त चूचियो को चूमते हुए वो बड़े गहरे धक्को के साथ उसकी चुदाई करने लगा.नीना भी अब अपने होश खो चुकी थी.उसके नाख़ून महेश की गंद मे धन्से ही जा रहे थे & उसके होंठ उसके बाए कंधे से चिपके हुए थे.अपनी टाँगो मे उसने महेश की कमर को जाकड़ रखा था & अपनी कमर उच्छाल वो उसके हर धक्के का जवाब दे रही थी. कमरे मे दोनो की आहो & जिस्मो के मिलन की आवाज़ो का शोर अपने चरम पे पहुँच गया.दोनो प्रेमियो ने 1 साथ चीख भरी & अगले ही पल सब शांत हो गया.दोनो ने अपने जिस्मो की भूख मिटाने के सफ़र की पहली मंज़िल पार कर ली थी.

"महेश..",नीना उसके जिस्म के नीचे पड़ी उसके बाए कान को चूम रही थी.

"हूँ.",महेश ने उसके बालो को चूमा.

"मैने जो कहा है उसपे फ़ौरन काम शुरू कर दो.ये 1 रेस है & हमे इसमे पिच्छाड़ना नही है."महेश ने अपना सर उठाके नीना की आँखो मे देखा.उसका लंड पूरी तरह से सिकुदा नही था.नीना ने घड़ी देखी अभी 11 ही बजे थे,अभी तो उनके पास 3 घंटो से भी ज़्यादा वक़्त था.महेश अपनी कमर हिला अपने आधे सख़्त लंड को दोबारा हरकत मे लाया,ठीक है जानेमन जैसा तुम कहो.",नीना मुस्कुराइ & उसे बाहो मे भर चूमने लगी.

.....................

अपने कॅबिन मे बैठी दिव्या सोच मे डूबी थी,अभी तक उसके किसी भी मुखबिर ने किसी दमे की बीमारी वाले मुजरिम का कोई सुराग नही दिया था & वो अब फोरेन्सिक रिपोर्ट से कुच्छ और सुराग निकालने मे जुटी थी.

"दिव्या जी.",सामने बैठे प्रोफेसर डिक्सिट की आवाज़ उसे उसके ख़यालो से बाहर ले आई.वो कोई 20 मिनिट से बैठा उसे वैसे ही सोचते देख रहा था,"बुरा ना माने तो अपनी सोच मेरे साथ बाँटे,हो सकता है कोई रास्ता निकल आए."

दिव्या ने कोई जवाब नही दिया बस ऐसे देखा जैसे कहना चाह रही हो की अगर तुम्हे 1 बार बोलने का मौका दे दिया फिर क्या तुम कोई काम की बात करोगे भी!

"सिर्फ़ काम की बाते करूँगा,प्रॉमिस!",उसने तो मानो दिव्या का दिमाग़ पढ़ लिया था!इस वक़्त उसकी मुस्कान भी बड़ी भली लग रही थी वो हमेशा वाली नही जिसमे दिव्या को खिलँददपन & कभी छिछोरापन नज़र आता था.

----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

क्रमशः...........