तीन देवियाँ compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: तीन देवियाँ

Unread post by raj.. » 08 Nov 2014 03:33

थोड़ी देर हम दोनो ऐसे ही लेटे रहे. मेरे लंड को अनु की चूत की भूक अभी ख़तम नही हुई थी मैं अनु को एक बार और चोदना चाहता था. उसके मस्त बूब्स को दबाने लगा और उसके पिंक कलर के किशमिश जैसे निपल्स को भी अपने मूह मे ले के चूसने लगा. अनु और मैं दोनो एक दूसरे की तरफ मूह कर के करवट से लेटे थे. इतनी देर मे मेरा मूसल जैसा लंड फिर से तंन के खड़ा हो गया था और अनु की चूत के सुराख के सामने मस्ती मे लहराने लगा. मैं ने अनु का हाथ पकड़ के अपने अपने लंड पे रख दिया तो अनु ने अपना हाथ हटा लिया पर मैने फिर से उसका हाथ पकड़ के अपने लंड पे रखा तो उसने लंड को फिर भी नही पकड़ा पर अपना हाथ लंड पे से हटाया भी नही. अपने एक हाथ से अनु की चूत के सहलाने लगा तो अनु ने ऑटोमॅटिकली अपनी एक टांग उठा के मेरे हिप पे रख ली जिस से उसकी चूत थोड़ी सी खुल गई और फिर अनु ने खुद ही मेरे लंड को अपने हाथ मे ले के पकड़ लिया और दबा दिया और बोली उफफफफ्फ़ राज्ज्जज्ज यह तो बोहोत ही मोटा और बड़ा है. यह मेरे इतने छोटे से सुराख मे कैसे घुस गया यह मैं ने कहा के यह एक नॅचुरल बात है. चूत के मसल्स अपने आप ही बड़े और मोटे लंड के हिसाब से अड्जस्ट हो जाते हैं तो वो बोली के मुझे ताज्जुब है के मेरे इतने छोटे से सुराख मे यह इतना बड़ा और इतना मोटा कैसे समा गया. इतनी देर मे मैं अपने हिप्स को आगे पीछे कर के उसके हाथ मे अपने लंड को आगे पीछे करने लगा और कभी मेरा लंड उसके हाथ से आगे निकलता हुआ उसकी चूत से टकराने लगा. ऐसी बोहोत

सी चीज़ें होती है जो इंसान ऑटोमॅटिकली खुद से ही सीख जाता है. इसी तरह से अनु ने भी मेरे लंड के डंडे को पकड़ के लंड के सूपदे को अपनी चूत के अंदर ऑटोमॅटिकली रगड़ना शुरू कर दिया. मेरे लंड मे से प्री कम कंटिन्यू निकल रहा था. जब मेरे मूसल लंड का सूपड़ा अनु की क्लाइटॉरिस से टच करता तो उसके मूह से आआआआआहह और ऊऊऊऊऊऊऊहह जैसी मस्ती भरी आवाज़ें निकल जाती.

हम दोनो एक दूससरे की जीभ चूस्ते हुए टंग सकिंग किस करने लगे और मैं अपने हाथो से उसके मस्त कड़क चुचिओ को मसल रहा था दबा रहा था तो वो भी फुल मस्ती मे आ गई. मैं पीठ के बल सीधा लेट गया और अनु को अपने बदन के ऊपेर खेच लिया. अभी भी अनु की चूत पे और मेरे लंड पे पहले की चुदाई के टाइम पे लगाई हुई की जेल्ली लगी हुई थी इसी लिए मैं ने उसकी चूत को चाटना या अपने लंड को उसके मूह मे देना ठीक नही समझा. अब अनु मेरे बदन के ऊपेर चढ़ के बैठ गयी. मेरे पैर अभी सीधे ही थे. मेरे लंड मेरे नवल पे पड़ा हुआ था. अनु को अपने ऊपेर ऐसे बिठा लिया के उसकी चूत की पंखाड़ियाँ खुल के मेरे लंड के डंडे के बॅकसाइड पे रखे थे. अनु को अपने ऊपेर झुका के उसकी चुचिओ को चूसने लगा तो वो फिर से मूड मे आ गयी और मेरे लंड के डंडे पे आगे पीछे फिसलने लगी. अनु बोली के देखो राज मुझे अभी तक दरद हो रहा है अब तुम कुछ भी नही करना मेरा सारा बदन दुख रहा है. अभी तक अनु ने एक टाइम भी लंड या चूत का शब्द नही बोला था. मैं ने कहा के तुम फिकर ना करो अब तुम्है कभी दरद नही होगा और तुम्है अब मज़ा ही मज़ा आएगा तुम देख लेना तुम्हारे दरद का टाइम ख़तम हो गया है यह फर्स्ट टाइम चुदाई का दरद ही दरद होता है फिर मज़ा ही मज़ा तो वो कुछ बोली नही बस थोडा सा मुस्कुरा दी.

अनु आगे पीछे हिल हिल के मेरे लंड पे फिसल रही थी. उसकी चूत बोहोत ही गीली हो चुकी थी और मेरे लंड मे से भी कंटिन्यू प्री कम निकलना शुरू हो गया था. कभी मेरे लंड का सुपाड़ा उसकी छोटी सी चूत के सुराख मे अटक जाता तो वो अपनी जगह से उछल पड़ती और लंड को बाहर निकाल देती पर फिर से डंडे पे बैठ के आगे पीछे फिसलना शुरू कर देती तो मैं समझ गया के अब उसको भी मज़ा आने लगा है. पता नही क्यों मुझे लड़कियों की चूत के अंदर एक ही ज़ोरदार झटके से लंड घुसेड़ने मे बड़ा मज़ा आता है इसी लिए जब मैं ने महसूस किया के अनु की चूत बोहोत ही गीली हो चुकी है और चुदवाने को तय्यार है तो मैं अनु को थोड़ा झुका के उसकी बगल से हाथ निकाल के उसके शोल्डर्स को पकड़ लिया और किस

करने लगा जिस से उसकी चूत मेरे लंड से थोड़ा ऊपेर उठ गई और मेरे लंड का सूपड़ा उसकी चूत के सुराख मे जा के अटक गया. मैने अपनी गंद उठा के उसकी चूत मे सूपदे को अंदर धकेल दिया तो वो चोंक गई पर मैं ने उसको छोड़ा नही ऐसे ही टाइट ग्रिप से पकड़े रखा और फिर ऐसे ही सूपदे को तीन चार टाइम अंदर बाहर करते करते जब उसकी चूत बोहोत ज़ियादा गीली हो गयी उसकी चूत के मसल्स रिलॅक्स हो गये और उसको मज़ा आने लगा और मुझे महसूस हुआ के सूपड़ा उसकी चूत मे आसानी से अंदर बाहर हो रहा है तो अपनी गंद को उठा के एक पवरफुल झटका मारा और साथ मे ही उसके शोल्डर्स को टाइट पकड़ के ज़ोर से नीचे खेच लिया जिस से मेरा आधा लंड उसकी टाइट चूत मे घुस्स गया और वो फिर से छटपटाने लगे चिल्लाई आआआआआआआआईईईईईईईईईईई राज्ज्जज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज ऊऊऊऊऊहह न्‍न्‍नन्निईीईईिककककककककककाआाालल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल ब्बबाअद्ड्द्डमम्माआआसस्स्स्स्स्स्स्शह. अनु मेरे सीने पे हाथ मारने लगी सीने के बाल नोचने लगी और मेरी ग्रिप से निकलने को तड़पने लगी पर मैं ने उसको बोहोत टाइट पकड़ा हुआ था और अपने लंड पे दबा रहा था जिस से वो मेरे लंड के ऊपेर से उठ नही पा रही थी. मेरी टाँगें घुटनो से मूडी हुई थी और वो मेरे लंड पे किसी जॉकी की तरह सवार थी जिसकी वजह से उसको मेरे लंड से ऊपेर उठने का कोई चान्स नही था. अनु को फिर से झुका के उसके चुचिओ को चूसने लगा तो उसकी चूत के मसल्स कुछ रिलॅक्स हो गये और फिर ऐसे ही आधा लंड उसकी गीली टाइट चूत मे अंदर बाहर अंदर बाहर करते करते एक और पूरी ताक़त से धक्का मारा तो लंड पूरा का पूरा जड़ तक उसकी छोटी सी टाइट चूत मे घुस्स गया और उसके मूह से ऊऊऊऊऊऊओिईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई और फफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ निकला और वो मेरे बदन से चिपेट गई उसकी आँखें ऊपेर की तरफ च्चढ़ गई उसकी आँख से आँसू निकलने लगे और वो मेरे बदन पे गिर गई..

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: तीन देवियाँ

Unread post by raj.. » 08 Nov 2014 03:34

थोड़ी देर तक लंड ऐसे ही अनु की चूत मे डाले रखने के बाद वो रिलॅक्स हो गई और उसकी ब्रीदिंग नॉर्मल हुई तो उसकी लंबी बाहों एक बार फिर मुझे लपेट लिया और उसकी टाँगें भी मेरी टाँगों से लिपट रही थी जैसे ठीक से चुदाई के लिए पोज़िशन ले रही हो थोड़ी देर मे मुझे लगा के अब वो दर्द भूल गई है तो अचानक मैं ने लंड को थोड़ा सा बाहर निकालते हुए एक भरपूर शॉट मारा और मेरा यह शॉट इतना पवरफुल था के वो आआआआआआहह र्र्र्र्र्र्र्ररराआआआआआजजजज्ज्ज्ज्ज्ज ऊऊऊऊऊऊओिईईईईईईईई म्‍म्म्ममममममममममाआआआआआआआ कहते हुए मुझ से

लिपट गयी और मैं अपनी गंद उठा के उसको मस्ती मे चोदने लगा. थोड़ी देर मे ही अनु भी मज़े ले के चुदवा रही थी उसका सारा दरद ख़तम हो गया था. अब वो मेरे लंड पे ठीक से बैठी थी और उछल रही थी जिस से उसकी चुचियाँ भी हिल हिल के डॅन्स कर रही थी.. जैसा मैं पहले बता चुका हू के सब कुछ नॅचुरली ही इंसान सीख जाता है उसी तरह से अनु भी उछल उछल के चुदवाना सीख गई थी. उसके बाल हवा मे उड़ रहे थे, उसके मस्त बूब्स डॅन्स कर रहे थे मैं उनको अपने हाथो से पकड़ के दबाने और मसल्ने लगा. अनु ने अपने हाथ मेरे चेस्ट पे रखे हुए थे और मेरे लंड पे उछल रही थी. अनु की छोटी सी चूत पूरी तरह से खुल चुकी थी और मेरा लंड उसकी चूत के गहराइयों मे घुस्स चुका था और उसकी बच्चे दानी से लग रहा था. अनु के मूह से मस्ती की आआआअहह राअज्जजज्ज्ज्ज्ज ब्बूहूऊऊऊऊथततटटतत्त मज़ाआअ आआआआआआ र्र्र्र्ररराआआआहहााअ हीईईईईईईईईईई आआआअहह ऊऊऊऊओ और उसकी स्पीड बढ़ गई अब तो तेज़ी से उछल रही थी और उसके मूह से एक बड़ी सी सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स और आआआाअगगगगगगगगगगगगगघह की आवाज़ निकली, उसका बदन थर थर काँपने लगा और वो मेरे बदन पे गिर पड़ी और झड़ने लगी. मैने उसको टाइट पकड़ा हुआ था और वो मेरी बाँहो मे काँप रही थी और झाड़ रही थी. उसकी चूत मे से जूस निकल निकल के मेरे लंड के डंडे से नीचे मेरे गंद के क्रॅक तक चला गया और बेडशीट पे गिरने लगा मैं ऐसे लंड उसकी चूत मे डाले लेटा रहा और वो झड़ती रही उसकी गीली चूत मेरे लंड पे खुल बंद खुल बंद होती रही और चूत के मसल्स मेरे लंड को टाइट पकड़े रहे.. जब उसका ऑर्गॅज़म ख़तम हो गया और उसका झड़ना बंद हो गया तो वो दीवानो की तरह से मेरे मूह पे किस करने लगी और बोलने लगी के राज्ज्जज मुझे तो पता ही नही था के सेक्स मे इतना मज़ा होता है और ऐसा मज़ा तो कभी भी नही मिला. यह क्या कर दिया है तुम ने मुझे. मैं मुस्कुराने लगा और बोला के यह हेट्रोसेक्स मे जो मज़ा है वो होमोसेक्श मे और लेज़्बियेनिज़्म मे नही उस्मै तुमको मज़ा ज़रूर आता होगा लैकिन चूत को ऐसा सॅटिस्फॅक्षन उसी वक़्त मिलता है जब उस्मै चुदाई के बाद लंड मे से निकला हुआ गरम गरम लावा गिरने से मिलता है. लड़की को जब किसी तगड़े लंड का मज़ा लगता है तो वो मज़े से दीवानी हो जाती है और सॅटिस्फाइ हो जाती है इसी तरह से आज तुम्हारी चूत को ऐसा ही एक लंड मिला है जिसने तुम्हारी चूत की प्यास को बुझा दिया. अनु बोली के पर राज मुझे तो ऋतु से भी मज़ा आता है और मैं उसके साथ भी कंटिन्यू करना चाहती हू तो मैं ने कहा ठीक है के कोई बात नही ऐसा होता है लड़की कभी कभी लड़की के साथ भी मज़ा लेती है और लड़के के साथ चुदवाती भी है कोई बात नही तुम ऋतु के

साथ अपने रिलेशन्स कंटिन्यू रख सकती हो तो अनु बोली के राज प्लीज़ ऋतु को नही बताना के तुम ने मेरे साथ यह सब किया है तो मैं ने कहा के कोई बात नही मैं ऋतु को कुछ नही बताउन्गा तुम फिकर ना करो.

मेरा लंड उसकी चूत मे ही फूल पिचक के साँस ले रहा था और इतनी देर मे उसकी चूत भी पूरी तरह से सॅटिस्फाइ हो के रिलॅक्स हो चुकी थी. मैं एक टाइम झाड़ चुका था और दूसरे टाइम इतनी आसानी से झड़ने वाला नही था इसी लिए अनु को अपने ऊपेर लिटाए मैं भी लेटा रहा. अनु मेरे बदन पे लेटी हुई थी और मेरे चेहरे पे किस करने लगी और ऐसे ही किस करते करते फिर से मेरे होंठो पे किस किया तो मैं ने अपना मूह खोल दिया जिस से उसने अपनी ज़ुबान मेरे मूह मे डाल दी और मैं उसकी टंग को चूसने लगा और दोनो फिर से टंग सकिंग किस करने लगे. मेरे दोनो हाथ उसके गंद पे थे और मैं उसके चिकने चूतडो को मसाज कर रहा था और दबा रहा था जिस से उसके बदन मे फिर से वासना जाग उठी और फिर से गरम हो गयी और मेरे लंड जो ऑलरेडी उसकी चूत मे रेस्ट ले रहा था उसपे पे आगे पीछे होने लगी. थोड़ी ही देर मे उसकी चूत फिर से गीली हो गई और वो फिर से मस्ती मे आ गई और मैं भी अपनी गंद उठा उठा के उसको चोदने लगा.

थोड़ी देर तक ऐसे ही धीमी गति से चोदने के बाद अब मे फिर से उसकी चूत मैं ज़ोर ज़ोर से झटके मारना चाहता था इसी लिए अनु को पलटा दिया और अब वो नीचे बेड पे पीठ के बल लेट गई और मैं उसके ऊपेर आ गया. अनु के पैर ऑटोमॅटिकली उठ गये और मेरे बॅक से लिपट गये. मैं अनु के बदन पे झुक गया और अपने पैर पीछे कर के बेड के किनारे से टीका दिया और अपना लंड बाहर निकाल के चोदना शुरू कर दिया. फिर से उसकी बगल से हाथ डाल के उसके शोल्डर्स को टाइट पकड़ लिया और दबा फुल स्पीड से ज़ोर ज़ोर से झटके मारने लगा. मेरे एक एक झटके से उसके मूह से हप्प्प्प्प्प हप्प्प्प हप्प्प्प और फफफफफफफूऊऊऊऊ फफफफफफूऊओ ऊऊऊऊओह जैसी आवाज़ें निकल रही थी और फिर से उसकी आँखें ऊपेर चढ़ गई थी और मेरे बदन को फिर से टाइट पकड़ लिया था. मेरे चोदने की स्पीड बढ़ गई थी. फुल स्पीड से चोद रहा था ज़ोर ज़ोर से अपनी गंद उठा उठा के लंड को पूरा सूपदे तक बाहर निकाल निकाल के घचा घच चोद रहा था. मेरे झटको से अनु की चुचियाँ आगे पीछे हिलने लगी थी. अब मुझे भी महसूस हो रहा था के अब मेरी मलाई भी निकलने को रेडी है. मैं दीवानो की तरह तूफ़ानी रफ़्तार से अनु को चोद रहा था उसकी टाइट चूत को चोदने मे बोहोत ही मज़ा आ रहा था उसकी चूत बोहोत ही गीली हो चुकी थी और वो भी अब एक बार फिर से झड़ने के करीब आ

गयी थी इसी लिए मेरे बदन को टाइट पकड़ के लिपट गई थी और उसी समय मैं ने एक इतनी ज़ोर से झटका मारा के उसके मूह से एक चीख निकल गई आआआआआआआआआऐईईईईईईईईईई म्‍म्म्ममममममाआआआआआआआआआआ सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स और उसका बदन किसी सूखे पत्ते की तरह काँपने लगा और उसकी चूत मे मेरे लंड से निकली गरम गरम मलाई की बरसात होने लगी और मेरे लंड से पहली पिचकारी गिरते ही उसकी चूत भी बर्दाश्त नही कर सकी और झड़ने लगी दोनो का ऑर्गॅज़म साथ साथ चलता रहा मेरे धक्के अब स्लो होने लगे पर हर धक्के के साथ मलाई की पिचकारी निकल निकल के उसकी चूत को भरने लगी और थोड़ी देर मे ही उसकी चूत मे से दोनो का मिला जुला रस्स निकल के उसकी गंद मे से नीचे बेड पे गिरने लगा. जितनी देर ऑर्गॅज़म चलता रहा उसने मुझे टाइट पकड़े रखा और गहरी गहरी साँसे लेती रही उसकी आँखें मस्ती मे बंद हो चुकी थिया फिर जैसे जैसे ऑर्गॅज़म ख़तम होने लगा तो उसकी ग्रिप भी मेरे बदन पे लूज़ हो गई और मैं भी उसके बदन पे लेट गया जिस से उसकी चुचियाँ दब गयी. लंड अनु की चूत के अंदर ही फूल रहा था और धीरे धीरे वो चूत के अंदर ही अंदर नरम होने लगा और एक प्लॉप की आवाज़ के साथी ही बाहर निकल गया जिस से उसकी चूत मे जो हम दोनो का मिला जुला रस बचा हुआ था वो भी बाहर निकल के बेड पे गिरने लगा. अनु फॉरन ही गहरी गहरी साँसें लेने लगी और उसे नींद आ गई और वो खर्राटे मारते हुए सो गयी शाएद यह फिज़िकल और मेंटल सॅटिस्फॅक्षन की नींद थी. मैं उसके बदन पे शॉल डाल के अपने कमरे मे आके सो गया.

--------------------------------------------------------------------------------------------------------

कामुक कहानियाँ

--------------------------------------------------------------------------------------------------------

क्रमशः........


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: तीन देवियाँ

Unread post by raj.. » 08 Nov 2014 03:35

Teen Deviyaan paart -4

gataank se aage..................

Meri chudai se Anu ke chuchian hilte hue dance kar rahe the aur bade ache lag rahe the to mai uske chuchion ko ek ke baad ek kar ke muh mei le ke chooste hue chodne laga. Anu ne mujhe tight pakad lia aur ek zor se aaaaaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh Raaaaaaaaaajjjjjjjjjjjjjjjjjjj oooooooooooooooooonnnnnnnnnnhhhhhhhhhhhhhhh sssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssss ki awaz ke sath hi uska badan pehle to badi zer se akad gaya phir zor zorse kaanpne laga aur wo jhadne lagi. Anu ki choot uske juice se bhar gayee thi aur Lund badi aasaani se ander baher ho raha tha mai Lund ko supade tak baher nikal nikal ke badi zoro se chod raha tha. Mai badi speed se Anu ki tight choot ko chod raha tha kamre mai chudai ki pach pach ki awazein aa rahi thi aur mujhe bhi laga ke ab mai bhi jhadne wala hu to Anu ko tight pakad lia aur poora Lund supade tak uski choot se baher nikal ke ek aur powerful stroke mara aur mere Lund ka supada uski choot ke bohot ander tak ghuss ke uske bache dani se takraya aur mere Lund se garam garam malai ki moti moti pichkariyan nikalne lagi. Meri malai nikalti hi rahi aur itni nikli ke uski choot bhar gayee laikin mai phir bhi usey deewano ki tarah se chode hi ja raha tha. Meri malai Anu ki choot me girte hi Anu ek baar phir se kaanpte hue jhadne lagi aur mujhe tight pakad lia. Jab meri malai complete nikal chuki to mere dhakke dheere dheere kam ho gaye aur mai ruk gaya aur Lund ko Anu ki choot ke ander hi chhor ke uske ooper gir gaya aur ham dono ki saansein gehri gehri chal rahi thi aankhein band thi. Jab ham dono achi tarah se jhad chuke to Anu ne mujhe apne ooper se dhakel dia aur mai uske badan se ludhak kegehri genri saansei leta hua uske baghal mai leit gaya. Mera Lund Anu ki choot ke baher nikal chuka tha par uski choot ka surakh jo kaafi bada ho chuka tha wo apne aap hi khul band ho raha tha jaise uski choot ke muscles abhi bhi mere Lund ko nichod rahe ho. This story is written by The Great Warrior for your pleasure.

Thodi der ke bad jab Anu ki breathing normal hui aur darad kuch kam hua to usne meri taraf ajeeb nazro se dekha aur poocha tumhai kaise pata chal mere aur Ritu ke bare mai to mai ne bola ke mai window se dekh raha tha aur tum logo ki batein bhi sun chuka hu aur dono ko kiss karte hue aur nange

ho ke ek doosre ki chooton ko chaat te hue bhi dekha hai to us ne kaha Rajjj please yeh baat kisi ko bhi nahi batana nahi to mai badnaam ho jaugi wo gidgidaane lagi. Ritu se bhi nahi kehna please to mai ne kaha ke theek hai kisi ko bhi nahi pata chalega par jab mera mood hoga mai tumhai choduga to us ne kaha ke nahi Rajjj please mujhe bohot darad hua hai pleeeeesss nahi karo na kahi mai pregnant ho gai to museebat hi khadi ho jayegi to mai ne kaha ke mei jo Jelly use kar raha hu wo spermicidal hai us se pregnant nahi hote aur condom bhi lagane ki zaroorat nahi padti to aur skin to skin chudai ka maza hi kuch aur hai aisa maza jo condom laga ke chodne mai nahi aata aur Lund ki cram choot mai girne se pregnant bhi nahi hoti bade kamal ki hai yeh jelly. Wo kuch sochne lagi par kuch boli nahi shaed wo meri ichcha se sehmat ho gai thi ya naa-chahte hue bhi jabardasti raazi ho gai thi. Jab mai ne table lamp jala dia aur usko Jelly ka dibba dikhaya jispe SPERMICIDAL (Sperm ko marne wali) likha hua tha to uske chehre pe itmenan aa gaya aur mai ne jelly ko table pe rakh ke table lamp band kar dia.

Thodi der ham dono aise hi lete rahe. Mere Lund ko Anu ki choot ki bhook abhi khatam nahi hui thi mai Anu ko ek baar aur chodna chahta tha. Uske mast boobs ko dabane laga aur uske pink colour ke kishmish jaise nipples ko bhi apne muh mai le ke choosne laga. Anu aur mei dono ek doosre ki taraf muh kar ke karwat se lete the. Itni der mai mera musal jaisa Lund phir se tann ke khada ho gaya tha aur anu ki choot ke surakh ke samne masti mai lehrane laga. Mai ne Anu ka hath pakad ke apne apne lund pe rakh dia to Anu ne apna hath hata lia par mai phir se uska hath pakad ke apne Lund pe rakha to usne Lund ko phir bhi nahi pakda par apna hath Lund pe se hataya bhi nahi. Apne ek hath se Anu ki choot ke sehlaane laga to Anu ne automatically apni ek tang utha ke mere hip pe rakh li jis se uski choot thodi si khul gai aur phir Anu ne khud hi mere lund ko apne hath mai le ke pakad lia aur daba dia aur boli ufffff Raajjjjj yeh to bohot hi mota aur bada hai. Yeh mere itne choti se surakh mai kaise ghus gaya Yeh kahani The Great Warrior ki likhi hui hai. Mai ne kaha ke yah ek natural bat hai. Choot ke muscles apne aap hi bade aur mote Lund ke hisab se adjust ho jate hain to wo boli ke mujhe taajjub hai ke mere itne chote se surakh mai yeh itna bada aur itna mota kaise sama gaya. Itni der mai mai apne hips ko aage peeche kar ke uske hath mai apne lund ko aage peeche karne laga aur kabhi mera lund uske hath se aage nikalta hua uski choot se takrane laga. Aise bohot

si cheezein hoti hai jo insaan automatically khhud se hi seekh jata hai. Isi tarah se Anu ne bhi mere Lund ke dande ko pakad ke Lund ke supade ko apni choot ke ander automatically ragadna shuru kar dia. Mera Lund mai se pre cum continue nikal raha tha. Jab mere musal Lund ka supada Anu ki clitoris se touch karta to uske muh se aaaaaaaaaahhhhhhhhhhh aur oooooooooooooohhhhhhhhhhhhhh jaisi masti bhari awazein nikal jati.

Ham dono ek doossre ki jeebh chooste hue tongue sucking kiss karne lage aur mei apne hatho se uske mast kadak chuchion ko masal raha tha daba raha tha to wo bhi full masti mai aa gai. Mai peeth ke bal seedha let gaya aur Anu ko apne badan ke ooper khech lia. Abhi bhi Anu ki Choot pe aur merre Lund pe pehle ki chudai ke time pe lagai hui KY Jelly lagi hui thi isi liye mai ne uski choot ko chaatna ya apne Lund ko uske muh mai dena theek nahi samjha. Ab Anu mere badan ke ooper chhad ke baith gayee. Mere pair abhi seedhe hi the. Mere Lund mere naval pe pada hua the. Anu ko apne ooper aise bitha lia ke uski choot ke pankhadiyan khul ke mere Lund ke dande ke backside pe rakhe the. Anu ko apne ooper jhuka ke uski chuchion ko choosne laga to wo phir se mood mai aa gayi aur mere lund ke dande pe aage peeche phisalne lagi. Anu boli ke dekho Rajj mujhe abhi tak darad ho raha hai ab tum kuch bhi nahi karna mera sara badan dukh raha hai. Abhi tak Anu ne ek time bhi Lund ya Choot ka shabd nahi bola tha. Mai ne kaha ke tum fikar na karo ab tumhai kabhi darad nahi hoga aur tumhai ab maza hi maza ayega tum dekh lena tumhare darad ka time khatam ho gaya hai yeh first time chudai ka darad hi darad hota hai phir maza hi maza to wo kuch boli nahi bas thoda sa muskura di.

Anu aage peeche hil hil ke mere Lund pe phisal rahi thi. Uski choot bohot hi geeli ho chuki thia aur mere lund mai se bhi continue pre cum nikalna shuru ho gaya tha. Kabhi mere Lund ka suapada uski choti si choot ke surakh mai atak jata to wo apni jagah se uchal padti aur Lund ko baher nikal deti par phir se dande pe baith ke aage peeche phisalna shuru kar deti to mai samajh gaya ke ab usko bhi maza aane laga hai. Pata nahi kyon mujhe ladkiyon ki choot ke ander ek hi zordaar jhatke se Lund ghusedne mei bada maza aata hai isi liye jab mai ne mehsoos kia ke Anu ki choot bohot hi geeli ho chuki hai aur chudwane ko tayyar hai to mai Anu ko thoda jhuka ke uske baghal se hath nikal ke uske shoulders ko pakad lia aur kiss

karne laga jis se uski choot mere lund se thoda ooper uth gai aur mere Lund ka supada uski choot ke surakh mai ja ke atak gaya. Yeh kahani The Great Warrior ki likhi hui hai Mai apni gand utha ke uski choot me supade ko ander dhakel dia to wo chonk gai par mai ne usko chhora nahi aise hi tight grip se pakde rakha aur phir aise hi Supade ko teen chaar time ander baher karte karte jab uski choot bohot ziada geeli ho gayee uski choot ke muscles relax ho gaye aur usko maza aane laga aur mujhe mehsoos hua ke Supada uski choot mai aasaane se ander baher ho raha hai to apni gand ko utha ke ek powerful jhatka mara aur sath mai hi uske shoulders ko tight pakad ke zor se neeche khech lia jis se mera aadha Lund uski tight choot mai ghuss gaya aur wo phir se chatpatane lage chillayee aaaaaaaaaaaaaaaaeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee Raajjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjj oooooooooohhhhhhhhhhhhhhhhhhh nnnnniiiiiiikkkkkkkkkkaaaaaaaallllllllllllll bbbaaaddddmmmaaaaaassssssssshhhhhhhhhhhhhh. Anu mere seene pe hath marne lagi seene ke baal nochne lagi aur meri grip se nikalne ko tadapne lagi par mai ne usko bohot tight pakda hua tha aur apne Lund pe daba raha tha jis se wo mere Lund ke ooper se uth nahi pa rahi thi. Meri tangein ghutno se mudi hui thi aur wo mere Lund pe kisi jockey ki tarah sawar thi jiski wajah se usko mere Lund se ooper uthne ka koi chance nahi tha. Anu ko phir se jhuka ke uske chuchion ko choosne laga to uski choot ke muscles kuch relax ho gaya aur phir aise hi aadha Lund uski geeli tight choot mai ander baher ander baher karte karte ek aur poori takat se dhakka mara to lund poore ka poora jadd tak uski choti si tight choot mai ghuss gaya aur uske muh se oooooooooooooiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii aur ffffffffffffffffffffffffffffffffff nikla aur wo mere badan se chipat gai uski aankhein ooper ki taraf chhad gai uski aankh se aansoo nikalne lage aur wo mere badan pe gir gai..