मस्त मेनका compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: मस्त मेनका

Unread post by rajaarkey » 09 Nov 2014 04:08

"ye lijiye apni drink.",usne bheed me se hath badha kar bartender se 1 glass liya & us ladki ko pakdaya.

"thankyou.",majid ne disco lights me us ladki ka chehra dekha-bala ki khubsurat thi & dress ke gale me se jhankta uska cleavage..uff!

"mujhe majid kehte hain."

"hi!i'm roma.",usne majid se hath milaya.

"aap akeli aayi yahan?"

"nahi.apni saheli & uske boyfriend ke sath aayi thi.pata nahi dono kaha gayab ho gaye."

"aap apne boyfriend ke sath nahi aayi?"

"mera break-up ho gaya hai."

"i'm sorry."

"no you shouldn't be.i'm not.usne mujhe kisi or ke liye chhod diya."

"oh.vo shartiya bevkuf insan hoga jisne aapke jaisi haseen ladki ko chhod diya.to aap fir se single hain?"

"tareef ke liye shukriya.ji haa,main single hu.aur aap?"

""main bhi."

"aap kya karte hain?"

"main taxi-driver hu."

"ji?!"

"ji.main 1 charter aircraft co.me pilot hu.jo log planes hire karte hain unhe unki manzil tak pahuchata hu."

"ohh.",dono hansne lage."aap bahut mazakiya hain,mr.majid?"

"please no mr. & no aap."

"ok.to tum pilot ho.kitna exciting kaam hai.bahut maza aata haoga na plane udane me...

...aur aisi hi baaton se roma urf malika ne us pilot ko sheeshe me utarna shuru kar diya.

thodi der baad hotel ke 1 kamre me majid nanga leta tha & uska lund uske upar baithi malika ki chut me tha.malika uske upar jhuk kar apne baaye hath se pakad kar apni baayi chhati majid ke munh me de rahi thi & majid ke hath uski pith par fisal rahe the.thodi der baad usne baayi nikali & daayi chhati uske munh me daal di.majid ne aisi khubsurat ladki pahle kabhi nahi chodi thi & uske liye ab apna pani rokna mushkil ho raha tha.usne apni kamar hila kar dhakke marna shuru kiya to malika uth kar baith gayi & kamar hila-2 kar use chodne lagi.

malika ne apne hath apne baalon me firane shuru kar diye,majid ki to halat buri ho gayi.usne apne hathon se uski chhatiyan masalani chalu kar di & zor-2 se kamar hilate hue uski chut me jhad gaya.malika nahi jhadi thi par jaise hi usne majid ka pani apni chut me mehsus kiya vo jhuk kar us se chipak gayi & jhadne ki acting karne lagi.

malika uske upar se utar kar uski bagal me let gayi.majid use banh me gher kar uska pet sehlane laga.

"majid..."

"hmm."

"tumhare plane me kafi mashoor log bhi aate honge na?"

"huun.",majid jhuk kar uski chhatiya chusne laga.

"kaun-2 baitha hai tumhare plane me?"

"rahul dravid,john abraham,preity zinta,sania mirza..",usne chusna chhod un urozon ko fir se dabana chalu kar diya.

"really!aur?",malika ne uska lund apne hath me le liya.

"..aur....kuchh politicians."

"..aur businessman?",vo ab lund hilkar use dubara khada kar rahi thi.

"haa...jindal steel ka malik aaya tha 1 baar.aur apne rajkul ke raja sahab ko to main humesha le jata hu."

"sach me?raja sahab ko bhi.wow!....kahi tum mujhe bana to nahi rahe majid?"

"are nahi,meri jaan.tumhe pata hai main har bar unki flight pilot karta hu.",vo is ladki ko impress karne ka mauka nahi chhodna chahta tha."..aur tumhe pata hai ki unka beta ..-"

"-..vo jo drug addict ho gaya hai?"

"haa,aur jiske bare me koi nahi janta ki vo kaha gaya hai."usne malika ko lita diya & apni ungli uski chut me dal di.,"...par main janta hu."

"..achha..",malika ne aankhe band kar aise jataya jaise use bahut maza aa raha tha jabki haqeeqat me uska pura dhyan majid ki baaton par tha.usne sapne me bhi nahi socha tha ki bina raja ka naam liye vo use ye sab batane lagega.

"haa.raja sahab ka beta bangalore me hai kisi dr.puri..nahi purve.....haa yaad aya.dr.purandare ke clinic me."

malika ka kaam ho gaya tha.usne majid ko apne upar kheech liya joki apna lund uski chut me ghusane laga.

thodi der baad majid ko gehri neend me sota chhod malika lift se neeche hotel ke exit ki taraf ja rahi thi.majid bechare ko pata bhi nahi tha ki usne kitni badi galti kar di thi.

malika ki chut me aag lagi thi.majid use zara bhi shant nahi kar paya tha.ghar pahunch kar jaise hi usne jabbar ko sari baat batayi vo khushi se pagal ho gaya & use kheench kar apni baahon me bhar chumne laga.yehi to malika chahti thi.usne bhi 1 hath se uska lund pakad liya & dusre se apne kapde utarne lagi.

Jabbar apne dono sathiyon ke sath bangalore jane ki taiyyari karne laga,"hum teeno alag-alag bangalore pahunchenge & is hotel ke restaurant me milenge.",usne milne ka din & samay bhi dono ko bataya.

"yaha se hum me se koi bhi seedhe bangalore nahi jayega.hum sab yaha se 3 alag-2 shahron ko jayenge & vaha se bangalore jayenge & koi bhi apna sahi naam istemal nahi karega."

"vaha pahunch to jayenge par vishwajeet ko rehab centre se kaise nikalenge?",ye sawal kallan ne puchha.

"vaha pahunch kar hum centre ke bare me sari jankari jutayenge & fir main aage ka plan banaoonga.filhal to main hum sab ke travel plans arange karta hu.",jabbar flat se bahar nikal gaya.

uske nikalte hi malika daud kar khade hue kallan ki god me chadh gayi,apni taango se usne uski kamar jakad li & use chumne lagi.kallan ke haathon ne uski gand ko tham liya.malika kewal 1 t-shirt pehne thi.kallan ne use 1 deewar se chipka diya & 1 hath se usko tham kar dusre se apni pant khol apna lund nikal liya.

usne khade-2 hi apna lund malika ki chut me utar diya & use deewar se laga kar dhakke marne laga.malika apni jeebh se uske kaan ko chatne lagi & uske bade lund ka maza uthane lagi.

-------------------------------------------------------------------------------

sawere thodi der se Menaka ki aankh khuli.kal Raja Sahab ne use kuchh zyada hi jum kar choda tha.use maza to bahut aya tha par utni hi thakan bhi ho gayi thi.usne socha ki aaj office na jaye par fir laga ki kal hi to use v-p banaya gaya hai & aaj pehle din hi gairhazir rahe,ye achha nahi lagega.fir aaj saturday tha,to office aadhe din me hi khatam ho jana tha.

menaka taiyyar hokar neeche aayi to pata chala ki raja sahab pehle hi office ja chuke hain to vo bhi fatafat nashta kar office pahunch gayi.aaj raja sahab ne office me kal wali harkat nahi dohrayi to usne rahat ki saans li par sath hi sath thoda nirash bhi hui.par phir aane wali raat ka khayal aate hi uske hothon par muskan & chut me gilapan aa gaya.

sham 4 baje raja sahab ne us se office se chalne ko kaha.dono car me baith gaye & raja sahab ne driving shuru kar di.

"are,ye kidhar ja rahe ho?ye rasta to ghar nahi jata."

"haa,hum ghar ja bhi nahi rahe."

"to fir kaha ja rahe hain?",menaka khisak kar apne sasur se sat kar baith gayi.

"vo to pahunch kar hi pata chalega.",unhone bhi use apni baanh me samet liya.

"hum raat tak vapas to aa jayenge na?"

"ab to hum kal sham ko hi lautenge."

"oh.par hume kapde to le lene lete ghar se."

"jaha hum ja rahen hai vaha kapdon ki koi zaroorat nahi hai,meri jaan.",raja sahab ne uske gaal par chum liya.

"hato.main bina kapdon ke nahi rahungi.",menaka banawati gusse se boli.

"vo to hum pahunch kar dekhenge.",unhone is bar uske hoth chum liye.

kareeb 3 ghante ke baad vo shahar ko paar karte hue apni manzil par pahunch gaye.vo 1 bada-sa farmhouse tha jiske agal-bagal aur koi building nahi thi.sabse paas wala farm house bhi 1/2km door tha.raja sahab ne car se utar kar gate pe latak raha tala khola,car andar ki aur gate vapas lock kar diya.

menaka utar kar apne sasur ka hath thame farmhouse ko ghum kar dekhne lagi.peechhe 1 bada swimming pool tha aur charo taraf hari ghas bichhi thi.farm house ki building bahut aalishan thi.kitchen me khane ka sara saman maujood tha.

"ye sara intezam,yaha ki dekh-rakh kaun karta hai?"

"caretaker hai.par humne use 2 din ki chhutti de di hai.abhi yaha hum dono ke alawa koi bhi nahi hai."raja sahab use baahon me pakadne ke liye aage badhe to menaka chhitak kar dur ho gayi.,"pehle kuchh kha len."

menaka ne khana nikala to raja sahab ne use khinch kar apni god me bitha liya & dono vaise hi khane lage.menaka ki badi gaand ka dabav padte hi raja sahab ka lund khada ho gaya & menaka uski chubhan apni gaand pe mehsus karne lagi.khana khatam hote-2 dono garam ho chuke the.

raja sahab ne god me baithi apni bahu ko chumna shuru kar diya.unke hath uski kamar & gand ko sehla rahe the.menaka bhi unki kiss ka pura jawab dete hue apni gand se unke lund ko ragad rahi thi.raja sahab ne apna hath kamar se hata uske blouse me dal diya to menaka bhi unke shirt ke button kholne lagi.dono jaldi se uth khade hue & 1 dusre ke kapde utarne lage.

nange hote hi dono 1 dusre ke gale lag gaye & chumne lage.raja sahab ne apni bahu ki bhari-2 gand ko jum ke sehlaya & masla.fir menaka unke hothon ko chhod unke seene ko chumte hue neeche unke lund tak aa gayi & apne ghutno pe baith use chusne lagi.unke ando ko apne komal hathon me daba kar jab lund ko usne zor se chusa to raja sahab ki aah nikal gayi.

unhon ne use apni god me utha liya & drawing room me aa gaye.vaha unhone menaka ko sofe pe lita diya & uske pet ko chumne lage.apni ungli se unhone uski chut ko kuredna chalu kar diya.

"oohhh..!",menaka ki mast aanhon se farmhouse ka veerana bhi gulzar ho gaya.raja sahab ka chehra uski chut pe jhuk gaya & vo uske dane ko apni jibh se chaatne lage.menaka paaglon ki tarah apni kamar uchkane lagi & jhad gayi.raja sahab ne uski chut ke chhode hue sare pani ko pi liya.

fir raja sahab uth kar uske sar ke peeche khade ho gaye,menaka ne unke lund ko apni aankhon ke samne dekha to hath peechhe le ja ke usne unki gaand ko pakad liya & apna sar peechhe kar ke unka lund 1 bar fir apne munh me lekar chusne lagi.raja sahab ne hath neeche le ja kar uski chhatiyon ko dabana & nipples ko masalna shuru kar diya.

tabhi raja sahab ko kuchh khayal aaya,unhone apne lund ko menaka ke munh se nikal liya & bhagte hue kitchen ki taraf chale gaye.menaka ko hairat hui par jab tak vo uthati raja sahab vapas aa gaye the.unke hath me 1 bowl tha.raja sahab uske paas baith gaye & bowl me rakhi cheez chamche se uski chhatiyon pe dalne lagi.

"ooohhh..!",seene pe thanda geelapan mehsus hua to menaka ki aah nikal gayi.usne dekha raja sahab uski choochiyon ko ice-cream se dhank rahe the.raja sahab ne bowl kinare rakha & toot pade apni bahu ki ice-cream se sarabor choochiyon par.menaka to pagal ho gayi.raja sahab ne chat-2 kar uske seene ko saaf kiya & fir pehle uski nabhi ko ice-cream se bhara & fir apni jibh se saaf kiya.

ab uski chut ki bari thi.raja sahab ne vaha bhi ice-cream lagai & fir chat-chat kar saaf kiya.apne sasur ki ice-cream chaatati jibh se menaka 2 baar jhad gayi.ab uski bari thi,vo uthi & pakad kar apne sasur ko sofe pe bitha diya & bowl se ice-cream nikal kar unke lund & ando pe laga diya.fir lagi apni jibh se vaha pe chaatne.sofe pe taange latkaye baithe raja sahab ke maze ka thikana nahi tha.jaise hi menaka ne ice-cream ki aakhri boond ko chaat kar saaf kiya,unhone use utha kar sofe pe baithe-2 apni god me apne lund pe bitha liya.

ab dono 1 dusre ki aankho me jhank rahe the,menaka ki chut raja sahab ke lund se bhari thi & uske haathon me unka chehra tha jise vo chum rahi thi. raja sahab bhi uske jism ko apni baahon me kase hue uski pith & gaand se khel rahe the.

menaka ne apne sasur ko chumte hue apni kamar hilakar unhe chodna shuru kar diya.raja sahab ka lund uski kokh par chot kar raha tha & uski chut me to jaise sailaab aa gaya tha-pani tha ki chhute hi ja raha tha.

usne apne sasur ke sar ko pakad kar apni chhatiyon par jhuka diya.raja sahab bhi uski chhatiyon ko chusne lage.uski chhhatiyan to ab puri tarah se unke hotho ke nishan se bhar gayi thi. raja sahab ke bhi ando me ab mitha dard hone laga tha.unhone apni bahu ki gand ko daboch liya & uske nipple ko chuste hue neeche se baithe-2 aise dhakke mar ke apna pani chhoda ki menaka 1 bar fir unke sath jhad gayi.

jhadne ke baad dono vaise hi baithe 1 dusre ko chumte rahe,"ye farmhouse tumhara hai?"

"nahi,humara hai."unka ishara menaka & apni taraf tha.menaka ne neeche dekha to lund jhadne ke baad sikudne ke bawjood uski chut me aise pada tha jaise ki abhi bhi khada ho.usne apni chut ko halke se hilana shuru kiya.

"ye unhi properties me se 1 hai jinke papers study me hain."

"tum to ye sab daan karne wale ho na."

"haa,bilkul.par sochte hain ki is farm house ko apne naam kar le & ise apne pyar ka aashiyana bana le.kya kehti ho?"

jawab me menaka ne muskara kar unke hoth chum liye.uski chut ki harkato se raja sahab ka lund fir se garam ho gaya.vo vaise hi uski chut me lund dale hue khade ho gaye & farmhouse ke bedroom ki taraf badh gaye.

bedroom me dakhil hote hi menaka chaunk gayi.pura kamra jaise suhagraat ke liye saja hua tha.kamre me charo taraf phool hi phool bhare the & beechobeech rakhe bade se palang par lal gulab ki pankhudiya bikhri hui thi.

usne raja sahab ki taraf sawaliya nazro se dekha.,"humne caretaker ko kaha ki humara koi jaan-pehchanwala apni nayi dulhan ko lekar yaha aayega & 1 raat thehrega to unke liye usne ye sajawat ki & isi bahane humne use chhutti bhi de di ki vo joda nahi chahta ki koi unhe disturb kare."

menaka ko liye diye raja sahab bistar par let gaye & lage fir se use chodne.thodi der tak menaka unke neeche padi chudti rahi,fir usne unhe pakde hue karwat le unhe apne neeche kiya & upar se kamar hila-2 kar chodne lagi.uski bhari chhatiyan uske sasur ke baalon bhare seene pe ragad kha rahi thi & hoth unke hothon se sate the.

thodi der dono aise hi chudai karte rahe ki fir raja sahab use palat kar us par sawar ho gaye & use chodne lage.dono ki is utha-patak se gulab ki pankhudiyan masal rahi thi & kamre me madhosh karne wali khushbu phaila rahi thi.menaka phir se hawa me ud rahi thi.usne apni taange apne sasur ki kamar pe kas di & neeche se jhatke marne lagi.raja sahab ne apna lund pura bahar nikala & phir 1 hi jhtake me jad tak andar dal diya.

"OOO...OOWW.!..",menaka chillayi.raja sahab ne fir se yehi harkat duhrate hue use & zor se chodna shuru kar diya.menaka ab bilkul aape se bahar ho gayi.us ne apne nakhun apne sasur ki gand me gada diye & uski chut pani chhodne lagi.nakhuno ki chubhan ne raja sahab ki kamar ke hilne ko aur tez kar diya & vo 1 baar fir apni bahu ki chut ke andar apna paani chhodne lage.

kramshah............................


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: मस्त मेनका

Unread post by rajaarkey » 09 Nov 2014 04:09



मस्त मेनका पार्ट-8

गतान्क से आगे...............


सवेरे राजा साहब की नींद खुली तो उन्होने देखा कि वो बिस्तर पर अकेले हैं,मेनका शायद बाथरूम मे थी.वो उठकर किचन मे आ गये & अपना अंडरवेर उठा कर पहन लिया,पॅंट उठा कर उसमे से मोबाइल निकाला & बॅंगलुर डॉक्टर.पुरन्दारे से बात करने लगे.

खबर अच्छी थी,विश्वा अपनी लत छ्चोड़ने की पूरी कोशिश कर रहा था.राजा साहब को खुशी हुई पर फिर मेनका का ख़याल आया तो चेहरे पे आई मुस्कान गायब हो गयी.वो जानते थे कि विश्वा आएगा तो ये सब बंद करना पड़ेगा पर वो मेनका के हुस्न & इश्क़ के दीवाने हो चुके थे.इसीलिए उन्होने ये फार्महाउस का प्रोग्राम बनाया था.वो चाहते थे कि बेटे के आने से पहले वो मेनका के साथ जम के प्यार के मज़े लूट ले.

इन्ही ख़यालों मे गुम उन्होने दुष्यंत वेर्मा को फोन मिलाया,"क्या हाल है,दोस्त?"

"सब बढ़िया,तू सुना."

"ठीक हू.उस तस्वीर वाले शख्स के बारे मे कुच्छ पता चला?"

"नही यार.पहुँची चीज़ लगता है.उसका कोई सुराग नही मिला है.जब्बार से भी उसके तार जुड़ते नही दिखते हैं.वैसे जब्बार आजकल शहर से बाहर गया हुआ है.कहा ये मालूम नही."

"दोस्त,इधर जब्बार हमे परेशान नही कर रहा.इसीलिए हमे डर है कि या तो वो कोई बड़ी साज़िश रच रहा है या साज़िश की शुरुआत कर चुका है.पता नही क्यू हमारा दिल कहता है कि विश्वा को नशे की लत लगाने मे उसी का हाथ है."

"तू अब इतनी फ़िक्र मत कर,दोस्त.सब ठीक हो जाएगा & मेरा चेला मनीष इस मामले की तह तक पहुँच तेरी सारी मुश्किल आसान कर देगा."

"तेरे पे मुझे पूरा भरोसा है,दोस्त."

इसके बाद दोनो दोस्तो ने कुच्छ इधर-उधर की बातें की & फोन काट दिया....सब ठीक हो जाएगा..हो तो जाएगा पर मेनका & उनके बीच का रिश्ता...क्या है इस रिश्ते की मंज़िल?..राजा साहब के मन मे सवाल घूमड़ रहे थे की तभी मेनका वाहा आ गयी.

उसने 1 बातरोब पहना हुआ था जोकि उसकी गंद तक ही आ रहा था,"मुझे कपड़े चाहिए?"

"पहने तो हुए हो.",राजा साहब का दिल उसे देखते ही फिर से हल्का हो गया & मस्ती के मूड मे आ गया.

"प्लीज़ यश.दो ना कपड़े.",मेनका बच्चों की तरह मच्लि.

"ओके.",राजा साहब वैसे ही केवल 1 काला अंडरवेर पहने बाहर कार तक गये & 1 पॅकेट लाकर उसे थमा दिया.

"ये..इसे पहनु ना पहनु सब बराबर है.",मेनका के हाथों मे 1 रेड कलर की 2-पीस स्ट्रिंग बिकिनी थी.

"अरे पहन कर दिखाओ तो."

"पहनुँगी & 2 मिनिट मे तुम उतार भी दोगे.रात भर तो मेरी हालत खराब करते रहे.अब आज मुझमे इतनी ताक़त नही है.प्लीज़ ढंग के कपड़े दो ना."

"अरे,जान!बस 1 बार इसे पहन कर दिखा दो.",राजा साहब ज़िद करने लगे.

"1 शर्त पे पहनुँगी."

"क्या?"

"पहनने के बाद तुम मुझे बिल्कुल भी हाथ नही लगाओगे."

"ये कैसी अजीब शर्त है?इसे पहन ने के बाद तो तुम्हे प्यार करने और ज़्यादा मज़ा आएगा.प्लीज़ छ्चोड़ो ये शर्त-वर्त & पहन कर दिखाओ ना."

"ऊंन-हुंग.शर्त मानो तो पहनुँगी."

"ठीक है मानता हू शर्त,पर मेरी भी 1 शर्त है,तुम खुद अपने कपड़े उतरोगी & फिर मैं तुम्हे तब तक प्यार करूँगा जब तक मैं चाहू."

"ठीक है.करते रहना इंतेज़ार.खुद तो मैं कपड़े उतारने से रही."

मेनका ने बातरोब खोल कर अपने जिस्म से सरका दिया.अब वो पूरी नंगी थी बस गले मे वोही चैन लटक कर उसकी छातिया चूम रही थी.मेनका ने बिकिनी की पॅंटी उठाई & उसे अपनी टाँगो से उपर किया & अपनी चूत को ढँकते हुए अपनी कमर पर उसकी डोरियाँ बाँधने लगी.उसकी नज़रे अपने ससुर के चेहरे पर टिकी थी & होठों पे शरारत भरी मुस्कान खेल रही थी.

राजा साहब के होठ सुख गये थे.वो बस भूखी निगाहों से अपनी बहू को घूर रहे थे.मेनका ने बिकिनी का ब्रा उठाया & अपने गले मे डाल लिया & अपने हाथ पीछे ले जाकर उसकी डोरियाँ बाँधने लगी.फिर घूम कर अपनी मखमली पीठ अपने ससुर के सामने कर दी,"इसे बाँध दो ना,प्लीस!...और हाँ च्छुना नही."

राजा साहब के सामने उनकी बहू की लगभग नंगी पीठ थी & नीचे स्विमस्यूट की पॅंटी मे मुश्किल से समाती गंद.उन्होने हाथ बढ़ा कर डोरी बाँध दी.मेनका ने खाने का समान निकाला & अपने ससुर को बैठने का इशारा किया & झुक-2 कर अपनी चूचिया उनके मुँह के सामने छल्काते हुए उन्हे नाश्ता परोसने लगी.राजा साहब की पेट की भूख तो उनके लंड की भूख के आगे कुच्छ भी नही थी.जब तक दोनो कहते रहे उनकी नज़रे बिकिनी के टॉप से झँकते अपनी बहू के क्लीवेज को घुरती रही.

मेनका को अपने ससुर को तड़पाने मे बहुत मज़ा आ रहा था.वो उठी & घूम कर किचन से बाहर चली गयी.राजा साहब भी उसके पीछे-2 चलने लगे.

मेनका जानती थी कि उसके ससुर उसके पीछे उसके रूप के जादू से खींचे चले आ रहे हैं & शर्त के कारण उनके हाथ बँधे है.उसने उन्हे और तड़पाने की सोची & अपनी गंद थोड़ा ज़्यादा मटका के & लहरा के चलने लगी.राजा साहब का लंड उनके अंडरवेर को फाड़ कर बाहर आने को बेताब हो उठा.

मेनका फार्महाउस के पीछे बने पूल पर आ गयी,"वाउ!कितना अच्छा पूल है.",और उसने उसमे गोता लगा दिया & लगी तैरने.राजा साहब वही बैठ कर उस जलपरी को निहारने लगे.मेनका तैरते हुए आती & पानी मे उपर नीचे होती तो उसकी चूचियाँ जैसे उसके ब्रा मे से निकलने को मचल उठती.

तभी मेनका पूल के उस हिस्से मे जहा सिर्फ़ 4 फ्ट पानी था,आके खड़ी हो गयी थी अपने ससुर के सामने.उसके गोरे बदन पे पानी की बूंदे हीरों की तरह चमक रही थी.

"क्या हुआ,यश?तबीयत तो ठीक है ना?",कह कर उसने हाथ सर के उपर ले जाके अंगड़ाई ली.ऐसा करने से उसकी छातिया उसके ब्रा के गले मे से और ज़्यादा नुमाया हो गयी.राजा साहब बुरी तरह तड़प रहे थे पर क्या कर सकते थे,शर्त जो मानी थी.

मेनका ने फिर तैरते हुए पूल के 2 चाक्कर लगाए & फिर वही आ के खड़ी हो गयी & लगी अपनी अदाओं से अपने ससुर को तड़पाने.पर इस बार राजा साहब ने भी जवाब सोच लिया था.वो खड़े हो गये & अपना अंडरवेर उतार दिया.राजा साहब का लंड फंफनता हुआ बाहर आ गया.राजा साहब ने उसे हाथ मे लिया & लगे हिलाने.

मेनका हैरत से उन्हे देखने लगी.वो पहली बार किसी मर्द को इस तरह से अपने लंड से खेलते देख रही थी.उसकी निगाहे अपने ससुर के लंड से चिपक गयी.इस लंड की तो वो दीवानी हो गयी थी.उसने राजा साहब को यूही तड़पाने के लिए शर्त दी थी पर हक़ीक़त मे वो भी हर वक़्त बस उनसे लिपट कर उनके लंड को अपने हाथों मे,अपने मुँह मे या अपनी चूत मे महसूस करना चाहती थी.

उसका हाथ अपने आप अपनी चूत पर चला गया था & उसे सहलाने लगा था.राजा साहब अपना लंड हिलाए चले जा रहे थे & मेनका की चूत गीली हुए जा रही थी.वो मस्ती मे आ रही थी & उसे अब कोई शर्त याद नही थी.उसने अपने हाथों से बिकिनी की डोरिया खोल दी & उसे पूल के पानी मे गिर जाने दिया.


राजा साहब की चाल काम कर गयी थी.वो भी पूल मे उतर गये & उसे बाहों मे भर उसे चूमने लगे.मेनका ने अपने हाथ मे उनका लंड पकड़ लिया & उनकी किस का जवाब देने लगी.राजा साहब ने उसकी गंद को दबाना चालू कर दिया तो मेनका हंसते हुए छितक कर उनसे दूर हो गयी & पानी मे तैरने लगी.राजा साहब भी उसके पीछे हो लिए & थोड़ी ही देर मे उसे पकड़ लिया.

पीछे से पकड़ के वो उस से चिपक गये & अपना लंड उसकी गंद की दरार मे अटका दिया.फिर तैरते हुए उसे कम गहराई वाली जगह लाके पूल की दीवार से लगा के पीछे से लंड चूत मे डालने लगे.

मेनका पलट गयी & उनके गले से लग गयी.अब उसकी चूत उसके ससुर के लंड के सामने थी उसने अपनी टाँगे फैला कर अपने हाथ से उनका लंड अपनी चूत मे डाला & फिर टाँगे उनकी कमर पर कस दी.दोनो के पेट के नीचे के हिस्से पानी मे थे.राजा साहब इसी तरह अपनी बहू की चूत चोदने लगे.मेनका उनसे चिपक कर मज़े के समंदर मे गोते लगाने लगी.अपने ससुर की चुदाई से ना जाने वो कितनी बार झड़ी उसे बाद मे याद भी नही था. बस इतना याद था कि उसकी चूत मे उसके ससुर का गरम वीर्या गिरा था & उसके बाद वो वैसे ही चूत मे लंड डाले उसे उठाए घर के अंदर आ गये थे & वो थक कर उनकी बाहों मे सो गयी थी.

मेनका की नींद खुली तो उसने देखा कि वो ड्रॉयिंग रूम के मखमली ईरानी गाळीचे पे लेटी थी,बगल मे उसके ससुर लेते थे & अपने ख़यालों मे खोए थे.घड़ी देखी तो 4 बज रहे थे...तो वो पिच्छले 4-5 घंटो से सो रही थी.और सोती भी क्यू ना,कल पूरी रात चोदने के बाद राजा साहब ने उसे सुबह 3:30 बजे छ्चोड़ा था.उसने करवट लेके उनके सीने पे सर रख दिया & वाहा पर के बालों से खेलने लगी,"क्या सोच रहे हो?"

"कुच्छ नही.",राजा साहब उसके सर पे हाथ फेरने लगे.

"ऐसी क्या बात है जो तुम मुझे बता नही रहे?उस दिन भी फोन आया &तुम भागते हुए शहर चले गये.आख़िर क्या मामला है,मैं जानना चाहती हू.",मेनका उनके सीने पे कोहनी रख उनके चेहरे को देख रही थी.

"बात तुम्हे पसंद नही आएगी."

"मैं फिर भी सुनना चाहती हू."

"तो सुनो मैं विश्वा के बारे मे सोच रहा था."

मेनका मुँह घुमा कर दूसरी तरफ देखने लगी.

"देखा,मैने कहा था ना.हो गयी ना अपसेट.",उ उसके गालों को सहलाने लगे.

"फिर भी बताओ शहर शहर क्यू गये थे?"

"तो सुनो.",राजा साहब ने करवट ली तो मेनका भी करवट लेकर लेट गयी.अब दोनो 1 दूसरे को देखते हुए करवट से लेते थे,"ये विश्वा की अपनी कमज़ोरी है कि वो इस बुरी लत का शिकार हुआ पर आख़िर वो कौन शख्स था जो उसे ड्रग्स देता था.मैं यही जानने की कोशिश कर रहा हू.",फिर उन्होने उसे दुष्यंत वेर्मा &उनके इन्वेस्टिगेशन के बारे मे बताया.

उन्होने उसकी बाई जाँघ खींच कर अपनी दाई जाँघ पर चढ़ा दी & अपनी दाई टांग उसकी टाँगो के बीच ऐसे डाल दी की लंड छूट से आ सता.अपनी बाई हाथ उसकी गर्दन के नीचे दल उसी हाथ से उसके कंधे को सहलाने लगे & डाए हाथ से उसकी चूत को.मेनका ने अपना बाया हाथ उनकी गंद पे रख दिया & दया नीचे ले जाकर उनके लंड & अंदो को रगड़ने लगी.

"आख़िर ये जब्बार आपसे इतनी नफ़रत क्यू करता है?"

"इसका जवाब तो हम नही जानते.पहले तो सोचते थे कि वो पैसो के लिए ऐसा कर रहा है पर अब लगता है कि दुश्मनी की वजह कुच्छ और है...पर हमे समझ नही आता कि क्या?हम तो उसे जानते तक नही थे जब उसने हमारी मिल्स मे हुन्गामा करने की कोशिश की थी.",अब तक लंड तन चुका था & चूत भी गीली हो गयी थी.उन्होने अपनी बहू को लिटाया & एक बार फिर उस पर सवार हो उसकी चिकनी चूत चोदने लगे.

-------------------------------------------------------------------------------

जब्बार बॅंगलुर पहुँच चुका था & डॉक्टर.पुरन्दारे का क्लिनिक भी उसने देख लिया था.अब असल काम शुरू होता था,उसे अंदर जाकर ये पता करना था कि अंदर कितने लोग हैं & विश्वा कहाँ पे रहता है.तभी उसके मोबाइल पे मलिका को फ़ोन किया,वो बॅंगलुर एरपोर्ट से बोल रही थी.जब्बार जब तक उसे लेने एरपोर्ट पहुँचा तब तक उसके शैतानी दिमाग़ ने क्लिनिक के अंदर जाने का रास्ता सोच लिया था.

थोड़ी देर बाद 1 कार रहाब सेंटर के गेट पर खड़ी थी,"प्लीज़ मैं देल्ही से आई हू &डॉक्टर.साहब से मिलना बहहुत ज़रूरी है."

"मैं समझता हू,मेडम पर बिना अपायंटमेंट आप डॉक्टर.साहब से नही मिल सकती."

"अच्छा भाय्या तो बस 1 बार मुझे उनसे फोन पर ही बात करवा दो,प्लीज़!मेरी रिसर्च का सवाल है."

"अच्छा मेडम मैं कोशिश करता हू.",वो गार्ड अपने कॅबिन मे जा अपने फोन का रिसीवर उठा कर डाइयल करने लगा.

"लीजिए बात कीजिए."

"हेलो!डॉक्टर.पुरन्दारे.गुड ईव्निंग,सर!मेरा नाम कविता कपूर है,मैं देल्ही के 'हेल्ती' मॅगज़ीन मे रिपोर्टर हू.बॅंगलुर 1 पर्सनल विज़िट पे आई थी कि मुझे आपके सेंटर & आपकी डे-अडिक्षन थियरीस का पता चला.सिर,मैं माफी चाहती हू कि बिना अपायंटमेंट,बिना फोन मैं इस तरह आ गयी पर सर क्या करू बिना आपका सेंटर देखे,आपसे मिले बिना जाने को मन नही माना.",जी हां,ये मलिका ही है जोकि सेंटर के अंदर जाने की कोशिश कर रही है.

जब्बार जानता था कि विश्वा उसे & कल्लन की शक्ल पहचानता है तो वोडोनो तो अंदर जेया ही नही सकते,इसीलिए उसने मलिका को इस्तेमाल किया.उसे इतना पता था कि सनडे की वजह से 6 बजे शाम तक केवल ट्रेनी डॉक्टर. ड्यूटी पे रहते हैं & सीनियर्स छुट्टी पे तो मलिका के पकड़े जाने का डर भी कम था.

"......थॅंक यू,सर!थॅंक यू सो मच!",उसने फोन गार्ड की तरफ बढ़ा दिया,"आपसे बात करेंगे."

"मेडम,आपका काम हो गया.मैं आपको सेंटर डॉक्टर.कुमार दिखा देंगे.जाइए.",मलिका के चेहरे पर जीत की मुस्कान खेल रही थी.

थोड़ी देर बाद मलिका की कार इन्स्टिट्यूट से बाहर आ गयी & बॅंगलुर शहर की ओर दौड़ने लगी.शहर पहुँचते ही जब्बार & वो 1 रेस्टोरेंट मे बैठ गये.,"क्या पता चला?"

"सेंटर मे सेक्यूरिटी बस गेट पे है.अंदर मे 2 फ्लोर्स पे 30 पेशेंट्स है.विश्वजीत किस फ्लोर पर है मुझे ये पता नही.पर रात मे बस 12 स्टाफ के लोग हैं &गेट पर 1 गार्ड."

"वेल डन,जान!",जब्बार ने टेबल के नीचे उसकी जाँघ पे हाथ से दबाया."अब बस कल्लन का इंतेज़ार है.चलो,कल तक वो भी आ जाएगा."

----------------------------------------------------------------

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: मस्त मेनका

Unread post by rajaarkey » 09 Nov 2014 04:09


राजा साहब अपनी बहू के साथ वापस महल आ गये थे & अब बैठ कर टीवी पर न्यूज़ देख रहे थे.मेनका अपने कमरे मे थी.सारे नौकर जा चुके थे & उन्हे डिस्टर्ब करने वाला कोई भी नही था.

तभी मेनका वाहा आ गयी,उसने फिर वोही बॉमबे वाली काली नाइटी पहनी थी & उसके गले मे से उसका क्लीवेज चमक रहा था.,"क्या देख रहे हो,सोना नही है क्या?"

"नही.",कह कर उन्होने उसे खींच कर अपने पास बिठा लिया.

"फिर वही बात.अभी तक मन नही भरा?",उसने उनके शरारती हाथों को अपने सीने से हटाते हुए बोला.

"नही & कभी भरेगा भी नही.",वो उसे चूमने लगे & रिमोट उठा कर टीवी बंद कर दिया.

फिर उसे गोद मे उठा लिया & चढ़ने लगे सीढ़ियाँ.थोड़ी देर बाद दोनो उनके बिस्तर मे लेते 1 दूसरे को चूम रहे थे.राजा साहब उसके उपर चढ़े हुए थे & उनके हाथ उसकी नाइटी मे घुस कर उसकी ब्रा मे कसी चुचियाँ दबा रहे थे.मेनका उनके कुर्ते मे हाथ डाल उनकी पीठ सहला रही थी.

राजा साहब बेसबरे हो गये & उठ कर नंगे हो गये & अपनी बहू को भी नंगा कर दिया.मेनक अब केवल काले रंग की ब्रा & पॅंटी मे थी.राजा साहब उस पर सवार हो उसे पागलों की तरह चूमने लगे.मेनका उनकी मर्दानगी का लोहा मान गयी पिच्छले 2 दीनो से इस आदमी ने सिवाय उसे चोदने के और कोई काम नही किया था फिर भी इतने जोश मे था.

उसने उनकी गांद को दबाना & अपने नाकुनो से हल्के-2 नोचना शुरू कर दिया.राजा साहब पॅंटी के उपर से ही उसकी चूत पर धक्के लगा रहे थे & मेनका गीली होती जा रही थी.उसने हाथ गंद से हटा उनका लंड पकड़ लिया & हिलाने लगी.राजा साहब ने करवट ली & उसे सीने से चिपका लिया &चूमते हुए हाथ पीछे ले जाके उसकी ब्रा खोल दी.

थोड़ी देर तक उसकी पीठ सहलाते हुए उसके मुँह मे अपनी जीभ घुसा उसकी जीभ से खेलते रहे & फिर अपना हाथ पीछे से उसकी पॅंटी के अंदर उसकी गंद पे सरका दिया & उसकी फांकों को मसल्ने लगे.मेनका मस्त हो गयी & जब राजा साहब उसकी पॅंटी सरका कर घुटनो तक ले आए तो उसने खुद ही उसे अपने जिस्म से अलग कर दिया.

राजा साहब ने उसकी गांद मसल्ते हुए उसकी दरार को सहलाना शुरू कर दिया.ऐसा पहले उन्होने कभी नही किया था &मेनका के लिए ये बिल्कुल नया एहसास था.तभी उन्होने अपनी 1 उंगली उसकी गंद की छेद मे डाल दी.

"ओउ..च!",मेनक चिहुनक कर उनसे अलग होने लगी पर राजा साहब ने अपनी पकड़ मजबूत कर उसकी गंद मे उंगली जस की तस रहने दी.

"क्या कर रहे हो...वाहा नही?"

"प्लीज़...",

"नही...तुम पागल हो...दर्द होगा..",मेनका शर्मा गयी.

"नही होगा...प्रॉमिस..होगा तो निकाल लूँगा...प्लीज़..जान,प्लीज़!",राजा साहब बच्चों की तरह ज़िद करने लगे.

"ओके..पर दर्द हुआ तो मैं फिर कभी कैसे भी प्यार नही करने दूँगी."

"अरे मेरी जान दर्द होगा तब तो.",राजा साहब ने उसके होठों को अपने होठ से बंद कर दिया &अपनी उंगली से उसकी गंद मारने लगे.थोड़ी देर मे 2 फिर 3 उंगलिया उसकी गंद मे अंदर-बाहर हो रही थी.मेनका को मज़ा आ रहा था.उसने सिर्फ़ सुना था पर आज पहली बार वो गंद मरवाने वाली थी.

राजा साहब उस से अलग होकर अपने क्लॉज़ेट मे गये & वाहा से 1 क्रीम ले कर आए.उन्होने अपनी बहू को उल्टा कर दिया & झुक कर उसकी मोटी गंद को चूमने& चूसने लगे.जम के चूसने के बाद उन्होने अपनी जीभ उसकी गंद के छेद मे डाल दी.मेनका फिर चिहुनकि,"..ऊऊ...ऊ.."

पर राजा साहब उसे मज़बूती से थामे अपनी जीभ से उसके छेद को चाट ते रहे.थोदिदेर के बाद उसकी गांद सहलाते हुए उन्होने कहा,"जान...बिल्कुल मत घबराना.हम पर भरोसा रखो.ज़रा भी दर्द होगा तो हम रुक जाएँगे.तुम बस रिलॅक्स होकर अपने बदन & इसको ढीला छ्चोड़ दो.",उन्होने उसकी गंद मे फिर उंगली कर दी.

काफ़ी दे तक उसकी गंद को उंगली से मारते हुए वो उसको चूमते & सहलाते रहे.जब उन्होने देखा कि मेनका अब रिलॅक्स हो रही है तो उन्होने उसे उठा कर घुटनो पे कर दिया.मेनका ने भी अपनी गंद हवा मे उठा दी & मुँह तकिये मे छुपा लिया.राजा साहब अपनी उंगलियो मे क्रीम लगा कर उसके छेद मे लगा रहे थे.कुच्छ क्रीम उन्होने अपने लंड पे भी लगाई & फिर उसकी गंद के पीछे पोज़िशन ले ली.

अपने हाथ से पकड़ कर उन्होने बहुत धीरे-2 से अपना लंड उसकी गंद मे घुसाना शुरू किया.लंड का सूपड़ा बहुत मोटा था,"...ऊओ...ऊहह..",मेनका की आह निकल गयी.

"बस मेरी जान..शुरू मे थोड़ी तकलीफ़ हो गी.."राजा साहब उसकी पीठ सहलाते हुए अपने सूपदे को अंदर धकेलने लगे.थोड़ी ही देर मे सूपड़ा अंदर था & उन्होने बस सूपदे को ही आंड अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया.मेनका कदर्द ख़तम हो गया & उसे अब मज़ा आने लगा.उसने सोचा भी नही था कि गंद मेलंड इतना मज़ा देता है.जब लंड अंदर जाता था तो उसकी गंद अपनेआप सिकुड कर लंड को कस लेती थी & उसके बदन मे मज़े की लहरें दौड़ जाती थी.गंद की इस हरकत से राजा साहब भी पागल हो रहे थे.

हल्के-2 धक्कों से उन्होने अब अपने पूरे लंड को गंद मे घुसाना शुरू किया.मेनका को हल्का दर्द हो रहा था पर उस से कही ज़्यादा मज़ा आ रहा था.गंद मरवाने से होनेवाले दर्द का डर भी ख़तम हो गया था & वो अब पूरा लुत्फ़ उठा रही थी.

थोड़ी ही देर मे लंड जड़ तक उसकी गंद मे था.जब राजा साहब ने धक्का मारा तो वो उठ कर पीछ्हे बैठ गयी तो राजा साहब भी बैठ गये.

अब राजा साहब अपने घुटनो पे बैठे थे & उनकी गांद उनकी आएडियो पे थी & मेनका भी वैसे ही उनके उपर बैठी थी & उसकी गंद उनके लंड से भरी थी.राजा साहब ने हाथ आगे ले जाकर उसकी चूचियो को मसल्ने लगे.उसके निपल्स पहले ही कड़े हो गये थे.राजा साहब उसकी गर्दन को चूम रहे थे की मेनका ने अपनी गर्दन घुमाई &अपने होठों को उनके होठों पर कस दिया.

"दर्द तो नही हो रहा?",उन्होने उसके होठों को छ्चोड़ते हुए & उसकी चुचियाँ दबाते हुए पूछा.अब उनका 1 हाथ उसकी चूत पे था & उसके दाने कोसेहला रहा था.

"उन्न.उन्ह.",मेनका ने इनकार किया.राजा साहब अब फिर से उठ गये & दोनो डॉगी पोज़िशन मे आ गये.अब मेनका ने अपना सारा वजन अपने हाथों & घुटनो पे लिया हुआ था & पीछे से अपने ससुर से गंद मरवा रही थी.थोड़ी देर तक राजा साहब उसकी कमर थामे घुटनो पे खड़े बस उसकी गंद मारते रहे.

फिर वो झुक गये & अपना सीना उसकी पीठ से सटा दिया,अपना मुँह उसकी गर्दन मे च्छूपा लिया & 1 हाथ नीचे ले जाकर उसकी चूचियो दबाने लगे.मेनका को अपनी पीठ पे राजा साहब के सीने के बाल गुदगुदी करते महसूस हुए.उसकी चूत तो बस पानी छ्चोड़े जा रही थी & गंद मे तो वो मज़ेदार एहसास हो रहा था की पुछो मत.

राजा सहब ने अपना हाथ उसकी चूचियो से हटा उसकी चूत पे लगा दिया & लगे उसकी चूत मे उंगली करने & उसके दाने को रगड़ने.मेनका ने मुँह पीछे किया & अपने ससुर को पागलों की तरह चूमने लगी.राजा साहब ने भी लंड के धक्के & उंगलियो की रगड़ तेज़ कर दी.मेनका की गंद ने भी अब तेज़ी से उनके लंड को कसना शुरू कर दिया था & उसकी चूत बस पानी छ्चोड़न ही वाली थी.

राज साहब ने अपनी जीभ से उसकी जीभ के साथ खेलना शुरू कर दिया कि तभी मेनका का जिस्म आकड़ गया & उसकी कमर हिलने लगी & उसकी चूत ने उनकी उंगली & गंद ने लंड को बिल्कुल कस के जाकड़ लिया.वो झाड़ गयी थी &गंद ने जैसी ही लंड को दबोचा,उनके लंड ने भी पानी छ्चोड़ दिया.मेनका की गंद ने अपने आप सिकुड कर उनके लंड का सारा पानी निचोड़ लिया.

दोनो निढाल होकर बिस्तर पे गिर गये.जब लंड सिकुड गया तो राजा साहब ने उसे बाहर खींचा & मेनका को सीधा कर अपनी बाहों मे भर लिया.,"तकलीफ़ नही हुई ना?",वो उसके चेहरे को चूम रहे थे.

"नही..",मेनका ने उन्हे अपने पास खींचा & उनके सीने मे मुँह च्चिपाकर वाहा हौले-2 चूमने लगी.


क्रमशः..................