बिना झान्टो वाली बुर compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: बिना झान्टो वाली बुर

Unread post by rajaarkey » 09 Nov 2014 02:01

RajSharma stories

बिना झान्टो वाली बुर पार्ट--5
गतान्क से आगे....................
जीजाजी घुटनो के बल बैठ कर कामिनी के बुर को चूमा और उसकी टीट को जीभ से सहला दिया. उसकी बुर पाव-रोटी की तरह उभरदार थी और उसने अपनी बुर को बरी सफाई से सेव किया था. बुर के उपरी भाग में बाल की एक हल्की खरी लाइन छोड़ दिया था जिससे उसकी बुर सेक्सी और आकर्षक लग रही थी. फिर मेरी बारी आई जीजाजी नेघुटनो के बल बैठ कर बड़े सलीके से बुर को चूम कर अभिवादन किया पर नज़रें बुर पर जमी थी. अब चमेली की बारी थी जीजाजी ने उसके हल्के रोएँ वाली बुर को उंगलियों से तोड़ा फलाया फिर टीट को ओठों से पकड़ कर थोड़ा चूसा और उसके चूतर को सहला कर बोले "झार दूँ" चमेली शर्मा गयी और सब लोग ज़ोर से हंस परे.

इसके बाद कामिनी ने एक-एक पारदर्शक गाउन (नाइटी) हमलोगो को पहना दिया जो आगे की तरफ से खुला था. इस कपड़े से नग्नता और उभर आई.

कामिनी बोली "अब हम सब नस्ता कर उपर के लिए प्रस्थान करेंगे" जीजाजी बादशाह की अंदाज मे बोले, "नाश्ता, दरबार लगाने के बाद उपर किया जाएगा" "जो हूकम बादशाह सलामत, कनीज उपर ले चलने के लिए हाजिर है" हम तीनो सीधी पर खरी हो गयी और जीजाजी वाजिदली शाह की तरह चून्चिया पकड़ पकड़ कर सीढ़ियाँ चढ़ने लगे. उपर पहुँच कर जीजाजी का लंड तन कर हुस्न को सलामी देने लगा.

जीजाजी बोले, "आज इस हुस्न के दरबार में शम्पेन खोला जाइ, "कामिनी बोली "शम्पेन हाजिर किया जाय" चमेली को पता था कि जीजाजी के बॅग में दारू की बोतलें हैं, वह नीचे गयी और उनका पूरा बॅग ही उठा लाई. जीजाजी उसमे से शम्पेन की बोतल निकाली और हिला कर खोली तो हम तीनो शम्पेन की बौच्हर से भीग गये. जीजाजी ने चार प्याली में शम्पेन डाली और हमलोगो ने अपनी अपनी प्याली उठाकर चियर्स कर शम्पेन की चुस्की ली और फिर उसे टेबल पर रख शम्पेन से भीग गये एकमात्र कपड़े को उतार दिया, अब हमलोग पूरी तरह नंगे हो गये.

चमेली बोली, "लो जीजाजी हमलोग मादर चोद नंगे हो गये" अब की बार उसने यह बात हसने के लिए ही कही थी और हम्सब ठहाका मार कर हसने लगे. मैने हँसी पर ब्रेक लगाते हुए कहा "अरे.. गुस्ताख लड़की! तू दरबार में गाली बकती है, जहांपनाह! इसे सज़ा दी जाय.

जीजाजी सज़ा सुनाते हुए बोले "आज इसकी चुदाई नही होगी यह केवल चुदाई देखे गी"

"जहापनाह! मौत की सज़ा दे दीजिए पर इस सज़ा को ना दीजिए मैं तो जीतेज़ी मर जाउन्गि" चमेली ने अपनी भूमिका में जान डालते हुए बड़े नाटकिया ढंग से इस बात को कहा.

कामिनी ने दरबार से फरियाद की, "रहम.. रहम हो सरकार .. कनीज अब यह ग़लती नही करेगी". "ठीक है, इसकी सज़ा माफ़ की जाती है पर अब यह ग़लती बार-बार कर हमारा मनोरंजन करती रहे गी, मैं इसकी अदाओं से खुश हुआ".

इसके बाद जीजाजी थोरी शम्पेन कामिनी के बूब्स पर छलका कर उसे चाटने लगे. मैने अपनी शम्पेन की प्याली मे जीजाजी के लौरे को पकड़ कर डुबो दिया फिर उसे अपने मूह में ले लिया. कामिनी की चून्चियो को चाटने के बाद चमेली की चून्चियो को जीजाजी ने उसी तरह चूसा. फिर मुझे टेबल पेर लिटा कर मेरी बुर पर बोतल से शॅंपन डालकर मेरी चूत को चाटने लगे. कामिनी मेरी चून्चियो को गीला कर चाट रही थी और चमेली के मूह में उसका मनपसंद लंड था. हम सब इन क्रिया-कलापों से काफ़ी गरम हो गये. अपनी-अपनी तरह से शम्पेन पीकर हम चारों ने मिलकर उसे ख़तम कर दिया, जिसका हलका सुरूर आने लगा था.

जीजाजी बोले, "चलो अब एक बाजी हो जाय..." कामिनी जीजाजी के लंड को बरी हसरत भरी निगाहों से देखते हुए बोली, "शहबे आलम पहले किस कनीज का लेंगे" मैने जीजाजी की दुविधा को समाप्त करते हुए कहा, "पहले तो होस्ट का ही नंबर होता है, वैसे हमलोग तुझे हारने नही देंगे"

चमेली फिर बोली "हाँ! दीदी जीजाजी है तो बहुत दमदार जल्दी झरने का नाम नही लेते पर तुम चिंता मत करो, सुधा दीदी ने इन्हे जल्दी खलास करने का उपाय मुझे बता दिया है, चून्चि से गंद मार दो ...खलास"

जीजाजी का मन कामिनी पर तो था ही उन्होने उसे अपनी बाहों में उठा लिया और हॉल में बिछे गद्दे पर ले आकर लिटा दिया. फिर उसपर झुक कर उसके निपल को मूह में लिया. कुछ देर उसके दोनो निपल को चूसने के बाद उसकी टाँगो को फैला कर बुर पर मूह लगा कर टीट चाटने लगे. कामिनी तो पहले से ही चुदवाने के लिए बेचैन थी उसने जीजाजी को अपने उपर खींच लिया और लंड पकड़ कर बोली, "अब नही सहा जा रहा है.... अब इसे अंदर कर दो.... मेरी बुर इसे चूसना चाहती है" उसने लंड को अपनी बुर के मूह पर लगा दिया. जीजाजी ने एक जोरदार शॉट लगाया कामिनी चीख उठी, " ओह मार डाला ... बरा तगरा है.... ओह .... ज़रा धीरे...." एधर मैने और चमेली ने कामिनी की एक एक निपल अपने मूह में ले लिया. जीजाजी धक्के की रफ़्तार धीरे-धीरे बढ़ा रहे थे और कामिनी "उहह हाईईईईईईई ओह" करती हुई नीचे से चूतर उठा-उठा कर अपनी बुर में लंड ले रही थी. चमेली पिछे से जाकर कामिनी की बुर में अंदर बाहर होते हुए लंड को देखने लगी फिर देखते-देखते जीजाजी के अंडकोष को हलके हलके सहलाने लगी जो कामिनी के चूतर पर थाप दे रहा था.

मैं चुदाई कर रहे जीजाजी के सामने खरी हो गई और उन्होने मेरी बुर को अपने मूह मे ले लिया. कामिनी नीचे से अब मज़े लेकर चुदवा रही थी और बर्बरा रही थी, " हाई मेरे कामदेव.... हाई! मेरे चोदु सनम.... तुम्हारा लौरा बरा जानदार है..... लगता है पहली बार चुदवा रही हूँ.... मारो राजा धक्का .... और ज़ोर से.... हाईईईई! और ज़ोर से... और जूऊओर सीईए.... आज तो रात भर चुदाई का प्रोग्राम है..... तीन-तीन बुर से लोहा लेना है..... तुमने तो चोद-चोद कर जान निकाल दी.... हाईईईईईईईई इस जालिम लौरे से फाड़ दो मेरी बुर्र्र्र्र्र्र्र्र्ररर.... बहुत आच्छा लग रहा हाईईईईईईईईईईईईईई.... हाईईईईईई और ज़ोर सीईई मेरे रज्जा और ज़ोर सीईए..... अरी सुधा अपनी बुर मुझे भी चूसा...बरा मज़ा आ रहा है.." मैने घुटनो के बल बैठ कर अपनी बुर कामिनी के मूह में लगा दिया. अब जीजाजी मेरी चून्चियो पर मूह मारते हुए धक्के-पर-धक्के लगाने लगे और कामिनी नीचे से अपनी गंद उच्छाल-उच्छाल कर चुदवा रही थी और पूरे कमरे में चुदाई की आवाज़ गूँज रही थी.

थोरी देर बाद जीजाजी ने कामिनी को उपर कर लिया और अब कामिनी उपर से धक्का मार मार कर चुदाई करते हुए बर्बरा रही थी, "हाई राजा! क्या लंड है..... ओह हाईईईईईई ... चोदो राजा.... बहुत अच्च्छा लग रहा है..... ओह हह हाऐईयइ मेरा निकलने वाला है.... ओह्ह्ह्ह मैईईईईई गइईईई" वह झार चुकी थी और उसने जीजाजी के ओठों चूम चूम लिया.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: बिना झान्टो वाली बुर

Unread post by rajaarkey » 09 Nov 2014 02:02


जीजाजी अभी झाडे नही थे. उन्होने अपना लॉरा कामिनी की बुर से निकाल कर मेरी बुर में पेल दिया. मैं भी अब तक काफ़ी गरम हो चुकी थी. नीचे से गंद उच्छाल-उच्छाल कर जीजाजी के बेताब लंड को अपने बुर में लेने लगी. चमेली मेरी चून्चियो के निपल को एक-एक कर चुभालने लगी. मैं भी झरने के करीब थी बोली, "ओह मेरे चोदु सनम.... क्या जानदार लॉरा है....मेरी बुर को चोद चोद कर निहाल कर दो.... मारो राजा मारो.....कस कस कर धक्के.....चोद दो....चोद दूऊऊओ ईईई हाईईईईईईईई मैईईईईईई गइईईई" और मैं भल भला कर झार गयी. अब चमेली की बारी थी. चमेली जीजाजी के उपर आ गयी और बोली, "बारे चूडदकर बनते हो अब मैं तुम्हे झरोनगी"

उसने जीजाजी के लौरे को बुर में लगाया और एक ही झटके में पूरा निगल लिया फिर उसने अपनी चून्चि जीजाजी के मूह में लगा कर चुदाई करने लगी. कामिनी ने अपनी चूंची चमेली के मूह में लगा दिया. मैं काफ़ी ढक गयी थी जीजाजी ने चार बार चोद कर लास्ट कर दिया था. मैं लेटा कर इन तीनो को देखने लगी. चमेली उपर से कस-कस कर धक्के लगा रही थी और बर्बरा रही थी, "है! मेरे बुर के चोदन हार.... चोद चोद कर इस साले लंड को डाउन करना है ...... हाईईईईईईई रजाआ ले लो अपनी बुर को.... हाआ रज्जाअ अब आ जाओ नाआअ साथ-साथ....हाँ राजा हाँ हम दोनो साथ झरेंगीईई ओह माआअ मैं अपने को रोक नही पा रही हूँ ... जल्दी करो .. ओह मैं गैईईईइ" चमेली झर कर जीजाजी के सीने पर निढाल हो गयी. जीजाजी ने अपने उपर से चमेली को हटाया और कामिनी को पकड़ कर बोले, " आओ रानी अब तुझे अमृतपान कराउँगा" उन्होने कामिनी को लिटा कर उसके पैरों को फैलाया और उसके चूतर के नीचे तकिया लगा कर बुर को उँचा किया फिर उसे चूम लिया और बोले, " हाई
रानी क्या उभरी हुई बुर है इसे चोदने के पहले इसे चूसने का मन कर रहा है" कामिनी बोली, "ओ! मेरे बुर के यार.... जैसे चाहे करो ये तीनो बुर आज तुम्हारी है" जीजाजी कामिनी की बुर की टीट चूसने लगे. कामिनी मुझसे बोली, "सुधा आ तू, मुझे अपनी बरी-बरी चून्चि पीला दे" मैं बोली, "ना बाबा! मेरे में अब और ताक़त नही है, चार बार झार चुकी हूँ. तू अब आपस में ही सुलट ले"

इस पर चमेली उस के पास आ गयी और अपनी चून्चि उसके मूह में लगा दिया. कुछ देर बुर चूसने के बाद जीजाजी उठे और कामिनी की बुर में अपना लौरा घुसा दिया और दनादन धक्के मारने लगे कामिनी नीचे से सहयोग करने के साथ गंदे गंदे सब्दो को बोल कर जीजाजी को उत्साहित कर रही थी, " जीजाजी आप पक्के चुदक्कर हैं तीन तीन बुर को पछाड़ कर मैदान में डटे हैं..... छोड़ड़ूऊव रज्जाआ चोदो... मेरी बुर भी कम नही है..... कस कस कर धक्के मरूऊऊ मेरे चुद्दकर रज्जाआअ.. मेरी बुर को फार डूऊऊ ..... अपने मदन रस से सींच दूऊ मेरी बुर को.... ओह राजा बरा अच्छा लग रहा है .... चोद्दो ... छोद्दो....चोदो ... और चोदो ..... राजा साथ-साथ गिरना .... ओह हाईईइ आ बा भी जाओ मेरे चुदक्कर बलम" जीजा जी हाफ्ते हुए बोले "ओह मेरी बुर की मालिका ... थोरा और रूको बस आने वाला हूँ ओह्ह्ह्ह मैं अब गयाआअ ....कामिनी भी बिल्कुल साथ-साथ झरी. उसकी बुर वीर्य की सिंचाई से मस्त हो गयी.

कामिनी बोली, "जीजाजी आज पूरी तरह चुदाई का मज़ा मिला"

जीजाजी काफ़ी थक गये थे और कामिनी की चून्चियो के बीच सर रख कर लेट गये. थोरी देर बाद कामिनी के उपर से उठे ओरमेरी बगल में लेट गये. उनका लौरा सुस्त पड़ा था मैने उसे हिला कर कहा, "आज एस बेचारे को बड़ी मेहनत करनी पड़ी, ओ! कामिनी जीजाजी को तरोताजा करने के लिए कुच्छ टनिक चाहिए" कामिनी अपनी बुर साफ कर चुकी थी और जीजाजी के लंड को साफ करते हुए बोली, "ताक़त और मस्ती के लिए सारा इंतज़ाम है आ जाओ टेबल पर, हम चारो नंगे टेबल पर आ गये जहाँ विस्की की बोतल और ग्लास रखी थी...
कामिनी जीजू को विस्की की बॉटल देती हुई बोली, "जीजाजी! सुधा की शील तो तोड़
चुके अब इसकी शील तोड़िए" जीजाजी ने बोतल ले लिया और ढक्कन घुमा कर उसका
शील तोड़ दिया और कामिनी को दे दिया. चमेली बोली, "जीजाजी! अब तक आप कितनी
शील तोड़ चुके हैं" सब हंस परे. कामिनी ने काँच के सुंदर ग्लास में चार
पेग तैयार किए फिर सब ने ग्लास को उठा कर "चियर्स" कहा. कामिनी बोली, "आज
का जाम जवानी के नाम" मैने अपना ग्लास जीजू के लंड से च्छुआ कर कहा, " आज का
जाम इस चोदु के नाम" चमेली जीजाजी के लंड को ग्लास के विस्की में डुबो कर
बोली, " दीदी की शील तोड़ने वाले के नाम" जीजाजी ने हम तीनो की चून्चियो से
जाम छुआते कहा, "आज का जाम मदमस्त हसिनाओं के नाम" फिर हम चारों ने
अपने ग्लास टकराए और सराब का एक घूट लिया. थोरी छेड़-छाड़ करते हुए
हम चारों ने अपने-अपने ग्लास खाली किए. शराब का हल्का सुरूर आ चुका था.
जीजाजी बोले "शुधा! कामिनी को ब्लू फिल्म की सीडी दे दो वह लगा देगी" जीजाजी जो सीडी
आते समय ले आए थे उसे मैने कामिनी को दे दिया. कामिनी अपनी चूतर हिलाती
हुई टीवी तक गयी और और सीडी लगा कर सीडी प्लेयर ऑन कर दिया और पास पड़े
सिगरेट के पकेट ले वापस आ कर नंगे जीजाजी की गोद में दोनो तरफ पैर कर
बैठ गयी और थोड़ा अडजेस्ट कर लंड को अपनी बुर के अंदर कर लिया. एधर
मैने दूसरा पेग बना दिया. कामिनी ने मुझसे एक सिगरेट सुलगाने के लिए
कहा. मैने सिगरेट सुलगा कर एक कश लिया और कामिनी की चून्चियो पर
धुआ उड़ा दिया फिर कामिनी के मूह में लगा दिया.

इधर चमेली ने भी एक सिगरेट जलाया और एक कश ले कर मेरी बुर में खोष
दिया जीजाजी ने उसे हाथ बढ़ा कर निकाल लिया और धुए के छल्ले बनाने लगे.
कामिनी ने मुझे अपना सिगरेट पकड़ा कर ग्लास उठा लिया और एक ग्लास में ही
जीजा-साली पीने लगे.

टीवी पर ब्लू फिल्म के सुरूआती द्रिश्य तीन लरकियाँ और दो मर्द ड्रिंक के साथ चूमा
चाती के बाद सभी नंगे हो चुके थे और एक लड़की को एक उँचे टेबल पर खरा
कर उसकी झांट रहित बुर को खरे-खरे चाटने लगा दूसरी लड़की ने उसके
लंड को मूह में लेलिया औरे उसे कभी चूसति कभी चाटती और कभी हाथ
में लेकर सहलाती. तीसरी लड़की जो सिगरेट पी रही थी नंगी टेबल पर टिक
कर अढ़लेटी थी ने अपने सिगरेट.को बुर मे खोस दिया जिसे दूसरे लड़के ने
निकाल कर पिया और फिर उस लड़की को पकड़ा कर उसकी चूत चूसने लगा. फिर
दोनो टेबल पर लेट कर 69 करने लगे अर्थात एक दूसरे की चूत और लंड
चूसने और चाटने लगे.

इधर हम चारों गरमा-गरम दृश्या देखा कर मस्त हो रहे थे. जीजाजी ने अपने
ग्लास से थोड़ी सी शराब कामिनी की चून्चि ऑर गिरा कर उसे चाटने लगे. थोरी
देर विस्की के साथ चून्चि पीने के बाद चून्चि से झलके जाम को पीने के लिए
कामिनी को गोद से उतार कर टेबल पर बैठा दिया और बुर तक बह आए मदिरा के
तार को चाटते-चाटते बुर की टीट को मूह में ले लिया. अब कामिनी धार बना
कर शराब अपने पेट पर गिराने लगी जिसे जीजाजी बुर के रस के साथ मिक्स कर
पीने लगे. देखा देखी चमेली ने मुझे कामिनी के बगल टेबल पर बैठा कर कामिनी
की तरह शराब गिराने के लिए कहा. मैने जैसे ही थोरी सी मदिरा अपनी बुर
पर झलकाया जीजाजी कामिनी की बुर छोड़ कर मेरी बुर की तरफ झपट परे और
मेरी बुर की छेद से अपनी जीभ सटा दिया और बुर के रस से शराब को मिला
कर कॉकटेल का मज़ा लेने लगे. चमेली अब कामिनी की बुर में मूह लगा कर
शराब पीने लगी. मैं जीजाजी के बुर चाटने और दो पग पीने के बाद बहक कर
बोली "ओ मेरे चुदक्कर राजा ज़रा ठीक से अपनी साली का मिक्स सोडा को पियो ... ओह
राजा ज़रा जीभ को और गहराई तक पेलो... ओह अहह हाईईईई राजा ज़रा
स्क्रीन पर देखो.. साला बहन्चोद चूत में लंड पेल रहा है ... और तुम
भोसरी के...बिना झांट की बुर को चाट-चाट कर मेरी मुतनी को झरने पर
मजबूर कर रहे हो..... ओह मेरे चोदु .. अब लौरे का मज़ा दो ना...."

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: बिना झान्टो वाली बुर

Unread post by rajaarkey » 09 Nov 2014 02:03



मैं मेज पर पैर फैला कर लेट गयी और जीजाजी खरे-खरे मेरी बुर में लंड
डालकर चुदाई करने लगे. वे जबारजस्ट शॉट लगा रहे थे मैं चिल्लाई " हाँ
राजा हाँ फार दो इस साली बुर को.... राजा तुम्हारा लौरा बरा दमदार है.. क्या
चुदाई करता है... राजा आज रात भर चुदाना है.. ओह मेरे चुदक्कर सनम
शादी तो मेरी बहन से की है लेकिन अब मैं भी तुम्हारे लौरे की दासी बन कर
रहूंगी.... जब भी मौका मिलेगा ये साली चूत तुम्हारे लौरे से चुदवाति
रहेगी.... मारो राजा कश-कश कर धक्का .... फार दो बुर को .. मसल दो इन
चूंचियो को..... ओह माइ डियर फक मी हार्ड ...फक मी..." जीजाजी सटा-सॅट लॉरा
मेरे बुर में पेल रहे थे, तभी उनकी निगाह कामिनी की बुर गयी जो उसी मेज
पर अढ़लेटी चमेली को अपनी बुर चटवा चटवा कर शराब पिला रही थी.
जीजाजी अचानक मेरी बुर से लॉरा निकाल कर बगल में मेज के सहारे आढालेटी
कामिनी के बुर में ठूंस दिया और चमेली को भी बगल में लिटा लिया. अचानक
मेरी बुर से लंड निकाले जाने से मुझे बहुत बुरा लगा लेकिन स्क्रीन पर चल रहे
द्रिश्य को देख कर जीजाजी की मंशा का पता चला जिसमे तीनो लड़कियो मेज पर
झुकी थी और पहला आदमी बारी बारी से उन तीनो को चोद रहा था और दूसरा
आदमी मेज पर लेटा अपना लॉरा चुसवा रहा था. सारा गिला-शिकवा समाप्त हो
गया और मैं भी कामिनी के बगल मे लेट अपनी पारी का इंतजार करने लगी, कामिनी
कि दूसरी तरफ चमेली थी. कामिनी की बुर में दस बारह बार धक्का लगाने के
बाद चमेली की बुर में लॉरा पेल कर कयि बार धक्के लगाए फिर मेरी बारी
आई. मैं अब तक बहुत गरम हो गयी थी मैं जीजू से बोली " जीजाजी अब मैं
रुक नही सकती.. पहले मेरा गिरा दो फिर इन दोनो के साथ मूह काला करते
रहना... राजा निकालना नही मैं बहुत जल्दी आ रही हूँ.... प्लीज़ जीजू ज़रा
और ....ओह मा मैं गइईईईईईईईई आह राजा बहुत सुख मिलाआआअ. और मैं
भालभाला कर झार गई.

जीजाजी अभी नही झारे थे. मेरी बुर से अपने खरे लंड को निकाल कर उन्होने
कामिनी के बुर में डाल दिया और फिर कामिनी और चमेली को बराबर चोदना शुरू
किया.

मैं थक गयी थी. मैने अपने लिए एक पेग बनाया और एक सिगरेट सुलगा कर
ब्लू फिल्म देखने सोफा पेर बैठ गयी. स्क्रीन पर घमासान चुदाई का द्रिश्य
चल रहा था. मुझे पेशाब लग रही थी पर मैं सिगरेट और विस्की
ख़तम कर बाथरूम जाना चाह रही थी. इसी समय स्क्रीन पर दूसरा द्रिस्य
उभरा. अब पहला युवक लेटा था और एक लड़कीने उसके उपर चढ़ कर उसके लंड
को अपने बुर में ले लिया. उसकी गंद की छेद दिखाई पड़ रही थी, दूसरा युवक
पास आया और अपने खरे लंड पर थूक लगा कर उसकी गंद में पेल दिया.
तीसरे आदमी ने अपना लंड उसके मूह में लगा दिया और दूसरी लड़की उसकी
चून्चिया एक-एक कर चूस रही थी. मैने एक दो ब्लू फिल्म देखी थी पर दुहरे
चुदाई वाले इस द्रिश्य को देख कर मैं नशे से स्रोबोर हो गयी, वहाँ से
हटने का मन नही हो रहा था पर पेशाब ज़ोर मार रहा था मैने पास ही रखे
ग्लास को बुर के नीचे लगा कर उसमे पेशाब कर लिया और उसे उठा कर सोफा के
बगल स्टूल पर रख दिया, यह सोंच कर कि जब फिल्म ख़तम होगी तो उठ कर
बाथरूम में फेक आउन्गि. जब ग्लास को रखा तो पेसाब की बू आई, तब उस बू को
दबाने के लिए मैने उस ग्लास में बॉटल से विस्की डाल दी और फिल्म देखने के
साथ विस्की और सिगरेट पीती रही. इस दुहरी चुदाई को देखने के लिए मैने
सब से कहा.
क्रमशः.........