बिन बुलाया मेहमान compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: बिन बुलाया मेहमान

Unread post by raj.. » 10 Nov 2014 16:58

नेक्स्ट डे:

अगले दिन गगन ऑफीस चले गये और चाचा भी अपना चेक अप कराने हॉस्पिटल चला गया. घर के सभी काम निपटा कर मैं बेडरूम में रेस्ट कर रही थी तो अचानक मेरा ध्यान चाचा की डाइयरी पर गया.

"देखूं तो सही आगे क्या लिखा है उस देहाती ने."मगर अगले ही पल दूसरा विचार आया, "नही नही मुझे ऐसी गंदी बाते नही पढ़नी चाहिए."

फिर मैने निर्णय लिया कि मैं बालिग हूँ अगर ये सब पढ़ भी लूँ तो क्या फरक पड़ेगा. देखूं तो सही इस चाचा ने और क्या गुल खीलाए हैं.

मैं उठ कर चाचा के कमरे में आ गयी. मैने हर तरफ डाइयरी ढुंडी पर मुझे कही नही मिली. तभी मुझे ख्याल आया कि कही उसने डाइयरी टाय्लेट में तो नही रख छ्चोड़ी फिर से. मैं टाय्लेट में आई तो मेरा शक सही निकला. डाइयरी को वहाँ देखते ही मेरा चेहरा गुस्से से लाल हो गया.

"जान बुझ कर मेरे लिए यहा डाइयरी छ्चोड़ गया वो. बहुत बेशरम है ये देहाती."

डाइयरी ले कर मैं बेडरूम में आ गयी और लेट कर आगे के पन्ने पढ़ने लगी.

डाइयरी के पन्नो से:

कैसे मेरे लंड को पहली गांद मिली: हुआ यू कि एक दिन दोपहरी को मैं भैया से मिलने खेत जा रहा था. रास्ते में खेत ही खेत थे दोनो तरफ. अचानक मुझे कुछ आवाज़ सुनाई दी. आवाज़ सुनते भी मैं रुक गया. मुझे अहसास हुआ कि हो ना हो खेतों में ज़रूर कोई रास लीला चल रही है. मैं दबे पाँव आवाज़ की दिसा में चल दिया. मैं वहाँ पहुँचा तो दंग रह गया.

बब्बन जो कि सरपंच का नौकर था उसकी बेटी कोयल को ठोक रहा था. कोयल कुत्तिया बनी हुई थी और बब्बन उसकी चूत में ज़ोर ज़ोर से धक्के मार रहा था. ये देखते ही मैं आग बाबूला हो गया. कोयल को कयि बार मैने पटाने की कोसिस की थी. पर उसने हर बार मेरा मज़ाक उड़ाया था. कहती थी शीसे में शकल देखो जाकर. मुझसे रहा नही गया और आगे बढ़कर बब्बन को ज़ोर से धक्का दिया.

"पीछे हट अब मैं लूँगा इसकी." मैं चिल्लाया.

"राघव ये क्या मज़ाक है."बब्बन ने कहा.

"बब्बन चुप रह तू मुझे इस से हिसाब बराबर करना है." मैने कोयल की गांद को कश कर थाम लिया. कोयल घबराई हुई थी. वो तुरंत उठ कर खड़ी हो गयी और बोली, "दफ़ा हो जा यहाँ से."

"हां चला जाता हूँ और तेरे बापू को यहाँ की तेरी सारी करतूत बताता हूँ. बब्बन तो मरेगा ही तू भी नही बचेगी."मैं कह कर चल दिया.

"रूको राघव..."बब्बन ने आवाज़ दी.

मैं रुक गया. "बोलो क्या बात है."

"सरपंच को कुछ मत बताना."बब्बन गिद्गिडाया.

"ठीक है नही बताउन्गा. कोयल को बोल चुपचाप मेरे आगे झुक जाए आकर."

"मैं ऐसा हरगिज़ नही करूँगी"कोयल चिल्लाई.

"ठीक है फिर मैं चला तेरे बापू के पास."

"रूको" बब्बन और कोयल दोनो चिल्लाए.

मैं रुक गया और वापिस कोयल के पास आ गया, "चल झुक मेरे आगे."

कोयल ने बब्बन की तरफ देखा और मेरे आगे झुक गयी. जैसे वो बब्बन के लिए कुतिया बनी हुई थी वैसे ही मेरे लिए भी बन गयी. मैने उसकी गांद पर ज़ोर से तमाचा मारा.

"ऊऊहह...बब्बन इसे बोल दो कि दुबारा ऐसा ना करे."

"आराम से कर ना राघव." बब्बन गिड्गिडाया.

मैने उनकी बात अनसुनी करके कोयल की गांद पर फिर से ज़ोर से चाँटा मारा. उसकी गांद लाल हो गयी.

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: बिन बुलाया मेहमान

Unread post by raj.. » 10 Nov 2014 16:59

"तूने कभी मारी है क्या इसकी गान्ड?"मैने बब्बन की ओर देखते हुए कहा.

"नही..."बब्बन ने जवाब दिया.

"आज मैं मारूँगा हहहे इसकी गांद." मैने कहा.

"नही मुझे वहाँ से अच्छा नही लगता." कोयल गिड्गिडाइ

"चुप कर. तेरी पसंद पूछी क्या किसी ने"

मैने अपना लंड बाहर निकाला और उसे कोयल की गान्ड पर रगड्ने लगा.

"अंदर मत डालना. मुझे अच्छा नही लगता."कोयल ने पीछे मूड कर कहा. मगर जब उसकी नज़र मेरे लंड पर पड़ी तो उसकी आँखे फटी की फटी रह गयी.

"हे भगवान ये तो बहुत बड़ा है. किसी का इतना बड़ा कैसे हो सकता है." कोयल ने हैरानी में कहा.

बब्बन भी आँखे फाडे मेरे लंड को देख रहा था.

मैने अपने लंड पर बहुत सारा थूक लगा लिया और कोयल की गांद को फैला कर लंड उसके छेद पर रख दिया.

"नही जाएगा ये अंदर. जब बब्बन का नही गया तो इतना बड़ा कैसे जाएगा." कोयल गिड़गिडाई

मैने सवालिया नज़रो से बब्बन की तरफ देखा.

क्रमशः…………………………………


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: बिन बुलाया मेहमान

Unread post by raj.. » 10 Nov 2014 17:00


Bin Bulaya Mehmaan-3

gataank se aage……………………
Jeendagi mein pahli baar maine aisa kuch padha tha. Meri yoni gili ho gayi thi. phir achaanak mujhe gussa aa gaya ki is dehati chacha ne ye diary toilet mein kyon rakh chhodi. Main diary tank par hi rakh kar baahar aa gayi. Main kitchen ki taraf ja rahi thi to chacha ne mujhe peeche se awaaj di, ?beta meri ek diary nahi mil rahi. Tumne dekhi kya kahi. Blue rang ka cover hai uska.?


"maine nahi dekhi..." kah kar main kitchen mein aa gayi. Maine chacha ke liye dining table par khana rakh diya aur apna khana lekar apne bedroom mein aa gayi.


maine apne bedroom mein hi khana khaya aur khana kha kar shone ke liye late gayi. rojana lunch ke baad mujhe shone ki aadat thi. magar aaj aankho se neend gaayab thi. diary mein jo kuch maine padha vo mere deemag mein ghum raha tha.


"kaise koyi itni gandi baate likh sakta hai. ye dehati bahut ganda hai. apne man ki gandagi nikaal rakhi hai isne diary mein. par isne vo diary toilet mein kyon rakh chhodi thi. kahi vo use mujhe to padhana nahi chaahta."


ye sochte hi meri aankho mein khun utar aaya. main ye soch kar gusse se aag babula ho gayi ki uski himmat kaise huyi vo diary mere liye toilet mein rakhne ki.


phir mujhe khud par gussa aaya ki maine uski diary ke vo 2-3 panne kyon padhe. sochte sochte meri aankh lag gayi.


achaanak mere bedroom par huyi dastak se meri aankh khul gayi. maine darvaja khola to mere saamne chacha khada muskura raha tha.


"kahiye kya baat hai?" maine puchha.


"kuch nahi nidhi beti. mujhe chaaye ki ichha ho rahi thi. socha tumhe bata dun. kahi tum sho to nahi rahi."


"ji haan main sho rahi thi."maine gusse mein kaha.


"oh..phir to maine galti kar di tumhe utha kar."


"ghar mein dudh nahi hai. isliye chaaye nahi bana sakti aapke liye abhi."


"mujhe kaali chaaye pasand hai. dudh wali main peeta bhi nahi."chacha ne ghinoni hansi ke saath kaha.


man to kar raha tha ki abhi uske muh par ek thappad jad dun par main chup rahi. ghar aaye mehmaan ki bejati nahi karna chaahti thi main.



"theek hai aap thoda intezaar kijiye main chaaye banaati hun." maine kaha.
chacha mud kar jaane laga magar jaate jaate achaanak ruk gaya aur vaapis meri taraf mud kar bola, "arey haan nidhi beti vo diary mujhe mil gayi thi. toilet mein bhool gaya tha use. tumne to dekhi hogi vaha. kahi padh to nahi li."


"m...m...main kyon padhungi aapki diary. maine toilet mein koyi diary nahi dekhi thi." chacha ke achaanak puchne par main hadbada gayi thi.


"haan beti kisi ki niji diary padhni bhi nahi chaahiye." chacha kah kar chala gaya.
main apne paanv patak kar rah gayi.


maine gusse mein kaali chaaye bana kar chacha ko unke kamre mein jaakar thama di, "ye lijiye aapki chaaye."


"arey bahut jaldi bana di. ghar ke kaamon mein maahir ho tum nidhi beti. achhi baat hai. gagan aur tumhari jodi bahut achhi hai."


"dopahar ko main shoyi hoti hun. please dubara mera darvaja mat khadkana"


"haan haan beti aage se dhyaan rakhunga. beti ye lo meri diary. isme mere jeevan ki kuch ghatnaao ka vivran hai. padh lo aur padh kar vaapis de dena."chacha ne gandi si hansi ke saath kaha.

"ji nahi mujhe koyi shouk nahi hai aapke jeevan ke baare mein jaanane ka. apni diary apne paas rakhiye." kah kar main baahar aa gayi. main gusse se tilmila rahi thi.


"himmat to dekho is dehati ki. mujhe apni ashleel dairy padhne ko de raha hai. chaahta kya hai ye. shaam ko mujhe gagan se mujhe baat karni hi hogi. aise vyakti ka hamaare ghar mein rahna theek nahi hai."