Hindi sexi stori मैं हूँ हसीना गजब की compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Hindi sexi stori मैं हूँ हसीना गजब की

Unread post by rajaarkey » 12 Nov 2014 07:30

"samne ki or thoda jhuko" unhon ne mujhe kaha to mai samne ki or

jhuki. Mere T shirt ke gale se mere poore ubhar bahar jhankne lage.

Poora stan sunki najron ke samne tha.

"peechhe ghoomo" unhon ne fir kaha

mai dheere dheere peechhe ghumi. Mujhe poori ummid hai ki mere jhuke

hone ke karan peechhe ghoomne par chhote se skirt ke andar se meri

yoni unko najar a gayee hogi. unhon ne meri tareef karte huye

kaha "by god tum aag laga dogi sare Paris me"

muskurate huye mai wapas bed room me chali gayee. kuchh der baad ek

ke bbad ek sare skirt aur T shirt try kar liye. ab sirf bikni bachi

thi.

"daddy sare kapde khatm ho gaye ab sirf bikni hi bachi hain" maine

kaha

"to kya unhe bhi pahan kar dikhao" unhon ne kasmasate huye apne tane

huye ling ko set kiya. Is tarah ki harkat karte huye unko mere samne

kisi tarah ki sharm mahsoos nahi ho rahi thi.

mai wapas kamre me jakar pahli bikni uthai. use apne badan par pahan

kar dekhi. bikni sirf bra aur panty ki tarah two piece thi. baki

sara badan nagn tha. unhi kapdon me chalti hui Rajkumar ji ke paas

ayee. rajkumar ji ki jeebh mere lagbhag nagn bada ko dekh kar

honthon par firne lagi.

"mujhe to apne ladke ki kismat par jalan ho rahi hai. aisi

khoobsoorat apsara to bus kismet walo ko hi naseeb hoti hai." Unhon

ne meri tareef ki. Maine unke samne akar usi tarah jhuk kar apne

stano ko unki ankhon ke samne kiya fir ek halke jhatke se stano ko

hilaya aur ghoom kar apni nitambon par chipki panty ke bharpoor

darshan karaye. Fir andar chali gayee.

Ek ke baad ek bikni try karne lagi. har bikni pichhliwali bikni se

jyada chhoti rahti thi. akhiri bikni to bus to bus nipple ko dhakne

ke liye do inch gher ke do gol akar ke kapde ke tukde the. Dono ek

doosre se patli dor se bandhe the. unhe nipple ke upar set karke

maine dor apne peechhe bandh liye. panty ke nam par ek chhota sa ek

hi rang ka tikona kapda yoni ko dhakne ke liye elastic se

bandha hua tha. maine aine me dekha. mai poori tarah nagn najar a

rahi thi.

Mai wo pahan kar jab chalte huye unke samne pahunchi to unke hath ka

glass fisal kar carpet par gir pada. mai unki halat dekh kar hans

padi. Lekin turant hi sharm se mera chehra laal ho gaya.

maine ab tak kai gair mardon ke saath majboori me sab kuchh kiya tha

magar Kamal ji saath hi sex ko enjoy kiya tha. Unki tarah inke saath

to mai bhi enjoy kar rahi thi. mai is baar unke kuchh jyada hi paas

pahunch gayee. unke same jakar jhuki to mere bade bade boobs unki

ankhon ke samne nachne lage. Mere dono stan unse bus ek hath ki

doori par the. Wo apne hathon ko utha kar unhe chho sakte the. Maine

apne badan ko ek jhataka diya jisse mere stan buri tarah uchhal

uthe. fir mai peechhe mudkar apne kamre me jane ko hui to unhon ne

mera hath pakad kar mujhe apni god me kheencha. Mai lahra kar unki

god me a gir gayee. Unke honth mere honthon se chipak gaye. unke

hath meri golaiyon ko masalne lage. ek hath mere nagn badan par

firta hua neeche tangon ke jod tak pahuncha. unhon ne meri yoni ke

upar apna hath rakh kar panty ke upar se hi us jagah ko mutthi me

bhar kar masla. ab unke hath mere bra ko mere badan se alag karna

chahte the.

Wo kuchh aur karte ki unka mobile baj utha. Unke office ke kisi admi

ka phone tha. Wo kisi official kaam bare me baat kar raha tha. Mai

mauka dekh kar un kapdo ko samet kar wahan se bhag gayee. maine apne

kapde utar kar wapas salwar kameej pahni aur sare kapdon ko samet

kar box me rakh diya. Mai poori tarah taiyaar hokar dus minute baad

bahar ayee. tab tak Rajkumar ji ja chuke the. mai table se drinks ka

sara saman uthane ko jhuki to mujhe sofe par ek geela gol dhabba

najar aya. wo dhabba unke veery se bana tha. mai sab samajh kar

muskura uthi.

Mai apne kamre me jakar so gayee. Aaj mere sasur ji ki raat kharab

honi thi. Aur mai ane wale dino ke bare sochti hui so gayee jub

hafte bhar ke liye hum dono ko ek saath rahna tha Paris jaisi

rangeen jagah me.

Hum as per schedule France ke liye nikal pade. Paris me hamari tarah

takreeban 100 company ke representative aye the. Hume ek shaandaar

hotel me thahraya gaya. Us din shaam ko koi program nahi tha. Hume

site seeing ke liye le jaya gaya. Wahan eifle tower ke neeche khade

hokar hum don one kai photo khinchwaye. Photographers ne hum dono ko

husband wife samjha. Wo hum dono ko kuchh intimate photo ke liye

uksane lage. Sasurji ne mujhe dekha aur meri rai mangi. Mai kuchh

kahe bina unke seene se lipat kar apni rajamandi jata di. Hum don

one ek doosre ko choomte huye aur lipte huye kai photo kheence.

Maine unki god me baith kar bhi kai photo khinchwaye. Ye sab photo

unhon ne chhipa kar rakhne ki mujhe santvana di. Ye rishta kisi bhi

tarah se Indian culture me acceptable nahi tha.

Agle din subah se bahut busy program tha. Subah se hi mai Seminar me

busy rahi. Rajkumarji yani mere sasur ji ek black suite jispar

golden lining thi me bahut jach rahe the. Unhe dekh kar kisi ko

andaz lagana mushkil ho jaye ki unke ladkon ki shadi bhi ho chuki

hogi. Wo khud 40 saal se jyada ke nahi lagte the. Jaisa ki maine

pahle parts me likha tha shadi se pahle se hi mai un par mar miti

thi. Agar meri Pankaj se shadi nahi hui hoti to mai to unki mistress

bankar rahne ko bhi taiyaar thi. Pankaj se mulakat kuchh dino ke

baad bhi hoti to mai apni virginity Rajkumar ji par nyochhawar kar

chuki hoti.

Khair wapas ghatnao par lauta jaye. Subah as per dress code mai

skirt blouse pahan rakhi thi. 12 baje ke aas paas do ghanton ka

break milta tha. jisme swiming aur lunch karte the. Sab kuchh as per

strict time table kiya ja raha tha. subah uthne se lekar kab kab kya

kya karna hai sab kuchh pahle se hi decided tha.

Hume apne apne kamre me jakar taiyaar hokar swimming pool par milne

ke liye kaha gaya. Maine ek chhoti si two piece bikni pahni hui thi.

bikni kafi chhoti si thi. isliye maine uske upar ek shirt pahan li

thi. Kamre se bahar nikal kar bagal wale kamre me jisme Sasur ji rah

rahe the usme chali gayee. Sasur ji kamre me nahi the. maine idhar

udhar najar daudayee. bathroom se pani bahne ki awaj sunkar us taraf

gayee to dekha ki bathroom ka darwaja adha khula hua tha. Samne

Rajkumarji peshab kar rahe the. unke hath me unka kala ling samhal

rakha tha. ling adha uttejit awastha me tha isliye kafi bada dikh

raha tha. mai jhat thoda ot me ho gayee jisse ki unki najar achanak

mujh par nahi pade aur mai wahan se unko peshaab karte huye dekhti

rahi. Jaise hi unhon ne peshab khatm karke apne ling ko andar kiya

to mai ek banawati khansi dete huye unhe apne ane ki soochna di. wo

kapde theek karke bahar nikale. Rajkumar ji ne nagn badan par ek

chhoti se V shape ka swimming costume pahan rakha tha. jisme se unke

ling ka ubhar saaf saaf dikh raha tha. unhon ne apne ling ko upar ki

or karke set kar rakha tha.

Unhon ne mujhe bahon se pakad kar apni or kheencha to mai unke nagn

badan se lag gayee. usi awastha me unhon ne mere kandhe par apni

banh rakh kar mujhe apne se chipka liya. hum dono ek doosre ke gale

me hath dale kisi nav viwahit jode ki tarah swimming pool tak

pahunche.

Yahan par koi sharm jaisi baat nahi thi. Sare lady secretaries mujh

se bhi chhote kapdon me the. Unke samne to mai kafi decent lag rahi

thi. sare mard chhote swiming costumes pahan rakhe the aur nagn

badan the. unki masal chhatiyan dekh kar kisi bhi yuvati ka man

lalcha jaye. Rajkumar ji is umr me bhi apne health ka bahut khayal

rakhte the. roj subah jim jane ke karan unka badan kafi kasa hua

tha. Unke seene se lag kar mai bahut chahak rahi thi. yahan dekhne

ya tokne wala koi nahi tha.

hum kafi der tak swimming karte rahe. Wahan hum kutchh couples

milkar ek ball se khel rahe the. Wahin par germany se aye huye

Hamilton aur uski sexy secretary Shasha se mulakat hui. Hum kafi der

tak unke saath khelte rahe. Shasha ek bahut hi chhoti si bra aur

panty pahan rakhi thi. Wo un kapdon me bahut hi sexy lag rahi thi.

doodh ke jaisi rangat aur sunahre baal use kisi pari jaisa look de

rahe the. uska chehra bahut hi khoobsoorat tha. aur uske boobs itne

sakht the ki lag raha tha usne apne seene par do tarbooj bandh rakhe

hoon.

Hamilton ka kad kafi lamba tha kareeb 6'2". uske poore badan par

sunahre ghane royen the. sir par bhi sunahre baal the. halki si

betarteeb badhi dadhi uske vyaktitva ko aur khoobsoorat banati thi.

dono ke beech kafi antarangta thi. shasha to be jhijhak usko kiss

karti uske seene par apne stano ko ragadti aur kai baar to usne

Hamilton ke ling ko bhi sab ke samne masal diya tha. Hamilton bhi

beech beech me uske bra ke andar hath daal kar Shasha ke stano ko

masal deta tha. Paris me unmukt sex ka bolbala tha. koi agar us

jaise public place me bhi apne sathi ko nagn kar deta aur sambhog

karne lagta to bhi kisi ki najar tak nahi atakti.

Wahan swimming pool par hi cocktail serve kiya jar aha tha. Maine ek

glass liya aur pass khade Rajkumar ji ke honthon se laga diya. Raj

kumar ji meri kamar ko tham kar mujhe apne seene se sata liye aur

mere hathon se glass me se cocktail sip karne lage. Unhon ne ek sip

karne ke baad mere honthon se glass ko sata diya. maine kabhi sharab

nahi peethi. magar unke request karne par ek sip usme se li. Mera

nagn badan unke badan se ragad kha raha tha. Dono ke nagn badan ke

ek doosre se ragad khane ke karan ek sihran si poore badan me faili

huyi thi.

Jab Rajkumar ji ne apne glass ko khatm kiya to maine glass ko pool

ke paas jameen par rakh kar unki bahon se nikal gayee aur wapas

swimming pool me tairne lagi. Mujhe dekh kar Hamilton bhi mere saath

tairne laga. Jab mai kuchh der baad doosre kone par pahunchi to

Hamilton mere paas akar mujhe kheench kar apne seene se laga liya.

" I envy your employer. What a sexy damsel he has for a secretary!"

usne kaha aur mujhe kheench kar apne badan se kas kar sata liya.

Usne apne tapte honth meri honthon par rakh diye. Aur apni jeebh ko

mere munh me daalne ke liye jor lagane laga. mai pahle pahle apne

upar huye is hamle se ghabra gayee thi, "mmmmm" awaj ke saath maine

use thelne ki koshish ki magar wahan ka mahol hi kuchh aisa tha ki

mera virodh kamjor aur chhanik hi raha. kuchh hi der me maine apne

honthon ke beech uski jeebh ko pravesh karne ke liye jagah de di.

uski jeebh mere munh ke ek ek kone par ghoomne laga. meri jeebh ke

saath wo balle kar raha tha.

Ye dekh kar Shasha bhi Rajkumar ji ke paas sarak gayee aur unse

lipat kar unhe choomne lagi. maine unki or dekha to Shasha ne apne

angoothe ko hila kar mujhe age badhne ka ishara kiya. Hamilton ke

hath mere nitambon ko kas kar jakad rakhe the. usne mere nitambon ko

kas kar apne ling par dab rakha tha. uske khade ling ka abhas mujhe

mil raha tha.


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Hindi sexi stori मैं हूँ हसीना गजब की

Unread post by rajaarkey » 12 Nov 2014 07:31

मैं हूँ हसीना गजब की --पार्ट--8



गतान्क से आगे........................


"डज़ ही फक यू रेग्युलर्ली" हॅमिल्टन ने मुझ से पूचछा.

"स्श्ह्ह…. ही ईज़ नोट ओन्ली माइ एंप्लायर. ही ईज़ माइ फादर इन लॉ टू… सो
यू सी देर ईज़ ए डिस्टेन्स टू बी मेंटेंड बिट्वीन उस"

"ऊह फक ऑफ…" ही सेड " इट'स शियर बुलशिट"

" बिलीव मी….. इन इंडिया इन्सेस्ट रिलेशन्षिप्स आर इल्लीगल. दे आर
बॅंड बाइ दा सोसाइटी"

" इट ईज़ नोट इंडिया बेबी….यू आर इन पॅरिस कॅपिटॉल ऑफ फ्रॅन्स. हियर
एवेरी थिंग ईज़ लीगल" उसने मेरे एक ब्रेस्ट को मसल्ते हुए कहा "
हॅव यू नेवेर बिन टू एनी न्यूड बीचस ऑफ फ्रॅन्स. देर यू विल
फाइंड दा होल फॅमिली एंजायिंग कंप्लीट न्यूडिटी. गो ऑन….. एंजाय
बेबी…… फक हिज़ ब्रेन्स आउट" मैं खिल खिला कर वहाँ से हट गयी.
कुच्छ देर बाद हम वापस सेमिनार मे पहुँच गये. फिर शुरू हुई
कुच्छ घंटों की बक बक. मैं आमने ससुर जी से सॅट कर बैठी थी.
उनके बदन से उठ रही कोलोज्ञ की खुश्बू मुझे मदहोश कर दे रही
थी. पहले तो उन्हों ने कुच्छ नोटीस नही किया लेकिन बाद मे जब उनको
मेरे दिल का हाल पता चला तो वो मेरे नितंबों पर और मेरी जांघों
को सहला रहे थे. मैने पहले एक दो बार उनको रोकने की नाकाम
कोशिश की लेकिन उनके नही मानने पर मैने कोशिश छ्चोड़ दी.

शाम को ड्रेस कोड के हिसाब से कमरे मे आकर मैने अपने सारे वस्त्र
उतार दिए फिर बिना किसी अंडर गारमेंट्स के एक माइक्रो स्कर्ट और टाइट

टी
शर्ट पहनी. मैने आईने मे अपने को देखा. मेरे निपल्स टी शर्ट के
उपर से उभरे हुए दिख रहे थे. मैने पहले घूम कर फिर झुक
कर अपने को देखा फिर आईने के पास जा कर अपने को अच्छे से निहारा.
मेरे सुडोल जिस्म का एक एक कटाव एक एक उभार साफ दिख रहा था. मैने
पीछे घूम कर आईने के आगे झुकी तो मैने देखा कि झुकने के
कारण स्कर्ट उठ जाती थी और मेरी पंटयलेशस चूत और गंद साफ दिख
रही थी. मैने ड्रेस को खींच कर नीचे करने की कोशिश की
लेकिन वो बिल्कुल भी नीचे नही सर्की. मैं उसी ड्रेस मे बाहर आई.
और राज जी के कमरे मे घुस गयी. मेरे फादर इन लॉ उस वक़्त
तैयार हो रहे थे. उन्हों ने दोबारा शेविंग की थी. और एक टी शर्ट
और जीन्स मे इतने हंडसॉम लग रहे थे कि क्या बयान करूँ.

"हाई हंडसॉम आज लगता है शशा की शामत आई है. बहुत चिपक
रही थी आपसे." मैने उन्हे छेड़ते हुए कहा.

" शशा? अरे जिसकी बगल मे तुम जैसी हसीना हो तो उसे सौ शशा
भी नही बहला सकती." कह कर उन्हों ने मेरी तरफ देखा.मुझे ऊपर
से नीचे तक कुच्छ देर तक निहारते ही रह गये. उनके होंठों से एक
सीटी जैसी आवाज़ निकली. जैसी आवाज़ आवारा टाइप के मजनू निकाला
करते हैं.

"एम्म्म आज तो पॅरिस जलकर राख हो जाएगा" उन्हों ने मुस्कुराते हुए
मेरी तारीफ की.


"आप भी बस मेरी खिंचाई करते रहते हो." मैं शर्म से लाल हो
गयी थी. उन्हों ने अपने हाथ सामने की ओर फैला दिए. मैं मुस्कुराते
हुए उनके पास आ खड़ी हुई.

हम दोनो एक साथ हॉल मे एंटर किए. वाहा एक तरफ डॅन्स के लिए
जगह छ्चोड़ी हुई थी. बाकी जगह मे टेबल कुर्सियाँ बिछि थी. मैं
सकुचती हुई अपने ससुर जी की बाँहों मे समाए कमरे मे घुसी.
वहाँ का महॉल बहुत ही एग्ज़ोटिक था. मद्धिम रोशनी मे चारों तरफ
पेर्स बैठे हुए थे. सब अपने पार्ट्नर्स के साथ थे. सारे कपल्स
सेक्स क्रिराओं मे बिज़ी हो रहे थे. कोई किस्सिंग मे बिज़ी था तो कोई अपने
पर्टेर्स को सहला रहा था. किसी के हाथ पार्ट्नर्स के कपड़ों के नीचे
घूम रहे थे तो कुच्छ अपने पार्ट्नर्स को निवस्त्रा भी कर चुका था.

हम टेबल ढूढ़ते हुए आगे बढ़े तो एक टेबल से हॅमिल्टन ने हाथ
हिला कर हमे बुलाया. हम वहाँ पहुँचे. शशा हॅमिल्टन की गोद मे
बैठी हुई थी. हॅमिल्टन का एक हाथ उसकी टी-शर्ट के नीचे घुसा हुआ
उसकी चूचियो को सहला रहा था. शशा के सन्तरो के उभार बता रहे
थे कि उनपर हॅमिल्टन के हाथ फिर रहे थे.हमे देखते ही शशा
हॅमिल्टन की गोद से उठ गयी. हॅमिल्टन ने मुझे अपनी गोद मे खींच
लिया और शशा ससुर जी की गोद मे जा बैठी. हॅमिल्टन ने मेरे बूब्स
पर टी-शर्ट के ऊपर से हाथ फिराया.

"ई अगेन टेल यू स्वीटहार्ट यू आर टू सेक्सी टू ड्राइव एनिवन क्रेज़ी"
उसने कहा और टी शर्ट के बाहर से मेरे स्तनो को मसल्ने लगा. मैने
राज जी की तरफ देखा. वो मुझे हमलटों से बूब्स मसळवते हुए
बड़ी गहरी नज़रों से देख रहे थे. मैने शर्मा कर दूसरी ओर
नज़रें फेर ली. मैं बीच मे बने डाइयास पर थिरक रहे जोड़ों को
देखने लगी.

" कॉम'ऑन स्वीट हार्ट लेट'स डॅन्स." हॅमिल्टन ने मुझे खींच कर
उठाते हुए कहा. मैने राज जी की तरफ एक नज़र देखा. उन्हों
ने सिर हिला कर अपनी रजा मंदी देदी. हम बीच सर्कल मे डॅन्स
करने लगे. डॅन्स फ्लोर पर बहुत ही कम रोशनी थी. इसलिए डॅन्स तो
कम चल रहा था एक दूसरे को मसलना ज़्यादा चल रहा था. कुच्छ
पार्ट्नर्स बिल्कुल नग्न होकर डॅन्स कर रहे थे.


हॅमिल्टन भी मुझे अपने सीने मे दाब कर मेरे टी शर्ट के अंदर हाथ
डाल कर मेरे बूब्स को ज़ोर से मसल्ने लगा. फिर मेरे टी शर्ट को उँचा
कर के मेरे बूब्स को नंगा कर दिया और अपने मुँह मे मेरा एक निपल
भर कर चूसने लगा. मैने अपने आस पास नज़रें दौरई. उनकी हालत
तो मेरे से भी बुरी थी. ज़्यादातर लड़कियाँ या तो टॉपलेस हो चुकी
थी या पूरी तरह ही नंगी हो गयी थी. हमारे पास एक जोड़ा तो
म्यूज़्क पर ही खड़े खड़े कमर हिलहिला कर एक दूसरे से संभोग मे
लीन था.

हॅमिल्टन का दूसरा हाथ मेरे स्कर्ट के अंदर घुस कर मेरे टाँगों के
जोड़ पर फिर रहा था. मेरी बालों रहित चिकनी योनि पर मैं उसके
हाथों का दबाव महसूस कर रही थी. मैने अपने टेबल की तरफ अपनी
नज़रें दौराई तो पाया की
शशा घुटनो के बल ज़मीन पर बैठ कर राज जी का लिंग अपने
मुँह मे भर कर चूस रही है. मैने भी अपने हाथ हॅमिल्टन के
लिंग पर रख कर उसके जीन्स के उपर से ही उसके लिंग को सहलाने
लगी. हॅमिल्टन ने खुश हो कर अपने जीन्स की ज़िप नीचे कर दी.
मैने अपना हाथ उसकी पॅंट के भीतर डाल कर उसके लिंग को पकड़ कर
बाहर निकाला. मैं उसके लिंग को अपने हाथों से सहलाने लगी. मेरी
नज़रें बराबर अपने ससुर जी पर टिकी हुई थी.

" लेट `एम एंजाय. एन लेट मी डू दा सेम" हॅमिल्टन ने मेरी नज़रों को
भाँपते हुए कहा. "कोँमन लेट'स गो टू सम कॅबिन फॉर ए क़ुककी"

मैं उसका आशय सम्झ नही पाई और उसकी ओर देखस तो उसने बात क्लियर
की,

"देर आर सम क्बीन्स मेड फॉर कपल्स हू आर शी टू फक इन दा
पब्लिक. कम ऑन लेट्स गो देर फॉर ए फक."

"नो...नो आइ वोंट डू तट" मैं ने उसका विरोध करते हुए कहा "मी
फादर इन लॉ मे टेक इट अदरवाइज़."

" हः यू इंडियन्स आर सो शाइ. आइ लव इंडियन्स. लुक सेक्सी युवर फादर
इन लॉ ईज़ बिज़ी फक्किंग माइ शशा" उसने हमारी टेबल की तरफ इशारा
किया. मैने देखा शशा राज जी की गोद मे बिकुल नग्न बैठी
है. उसका चेहरा सामने की ओर है और वो टेबल पर अपने दोनो हाथों
का सहारा लेकर अपनी कमर को उनके लिंग पर उपर नीचे कर रही
है.डॅडी के दोनो हाथ शशा के स्तनो को मसल्ने मे व्यस्त हैं.

हॅमिल्टन मुझे खींचता हुआ दीवार के पास बने कुच्छ कॅबिन मे से
एक मे ले गया. मैं झिझक रही थी उसको इतना लिफ्ट देते हुए लेकिन
उसने ज़बरदस्ती मुझे कॅबिन के अंदर खींच ही लिया. मुझे वहाँ
रखे टेबल के पास खड़ी करके उसने मेरे हाथ टेबल पर टीका दिए.
मेरे बदन
से मेरी टी शर्ट को नोच कर फेंक दिया और मेरे बूब्स को पीछे की
तरफ से पकड़ कर मुझे टेबल के ऊपर झुका दिया और मेरे स्कर्ट को
खींच कर उतार दिया. मेरे कपड़े उसने उतार कर एक तरफ फेंक दिए.
उसने जल्दी जल्दी अपने सारे कपड़े उतार कर बिल्कुल नग्न हो गया. लाइट
ऑन करके हमने एक दूसरे के नग्न बदन को निहारा. उसका लिंग हल्का
गुलाबी रंग का था जो कि उसके एक दम गोरे रंग से मेल खा रहा था.
उसने दोबारा मुझे टेबल पर झुका दिया और
पीछे से अपना लिंग मेरी योनि पर लगा दिया. फिर मेरे बूब्स को ज़ोर
से पकड़ कर एक ज़ोर का धक्का मारा और मेरे मुँह से "आआआहह "
की आवाज़ के साथ उसका लिंग मेरी योनि मे घुस गया. उसका लिंग कोई
अस्वाभाविक बड़ा नही था. इसलिए उसे अपनी योनि मे लेने मे किसी तरह
की कोई दिक्कत नही आई.

वो मुझे ज़ोर ज़ोर से पीछे से धक्के मारने लगा. कुच्छ देर तक इसी
तरह मुझे चोदने के बाद वो सोफे पर बैठ गया और अपने लिंग पर
मुझ बिठा लिया मेरे दोनो बगलों मे अपने हाथ डाल कर मेरे हल्के
बदन को अपने हाथो से अपने लिंग पर ऊपर नीचे करने लगा. कुच्छ
देर बाद मुझे खड़ा कर के खुद भी खड़ा हो गया. फिर मेरी बाहों
को अपने गर्देन के चारों ओर डाल कर मुझे ज़मीन से ऊपर उठा
लिया. उसका लिंग मेरी योनि मे घुस गया. मैं अपने को गिरने से बचाने
के लिए उसकी कमर के चारों ओर अपने पैरों का घेरा डाल दिया. इस

तरह से अपने लिंग पर मुझे बिठा कर अपने लिंग को मेरी योनि मे आगे
पीछे करने लगा. मुझे अपने लिंग पर बिठाए हुए इसी अवस्था मे
मुझे लेकर सोफे तक पहुँचा. फिर सोफे पर खुद लेट कर मुझे अपने
लिंग पर वापस बिठा लिया. मैं उसके लिंग पर कूदने लगी. उसकी
ठुकाई से सॉफ लग रहा था कि ये जर्मन चुदाई के मामले मे तो
अच्च्चे अच्च्हों को ट्रैनिंग दे सकता है. मुझे करीब करीब एक
घंटे तक उसने अलग अलग पोज़ मे चोदा. मेरे मुँह मे मेरे गुदा मे
मेरी योनि मे हर जगह अपने लिंग को रगड़ा. जब उसके लिंग से फुहार
छूटने को हुई तो उसने अपने लिंग को मेरी योनि से निकाल कर मेरे मुँह
मे डाल दिया और ढेर सारा वीर्य मेरे मुँह मे भर दिया. मैं उसके
छूटने तक तीन बार झाड़ चुकी थी. मैने उसके वीर्य को छ्होटे
छ्होटे घूँट मे पी गयी.


मैं लहरा कर कर नीचे ज़मीन पर गिर गयी. और वहीं पड़े
पड़े लंबी लंबी साँसे ले रही थी. हॅमिल्टन के लिंग से अभी भी
हल्की हल्की वीर्य की पिचकारी निकल रही थी. जिसे वो मेरे स्तनो
पर गिरा रहा था. स्तानो पर छलके हुए वीर्य को उसने मेरे टी शर्ट
से सॉफ किया. टी शर्ट से उसने अपने वीर्य को कुच्छ इस तरह पोंच्छा
की जब मैने दोबारा टी शर्ट पहनी तो मेरे दोनो निपल्स के उपर दो
बड़े बड़े गीले धब्बे थे. टी शर्ट मेरे दोनो निपल्स पर चिपक
गयी थी. और निपल्स बाहर से दिखने लगे थे.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Hindi sexi stori मैं हूँ हसीना गजब की

Unread post by rajaarkey » 12 Nov 2014 07:32


कुच्छ देर बाद हम वहीं रेस्ट करके अपने कपड़े पहन कर बाहर आ
गये. बाहर अपने टेबल पर

आकर देखा कि टेबल खाली थी. मैने बैठते हुए इधर उधर नज़र
दौड़ाई. लेकिन शशा और ससुर जी कहीं नही दिखे. हॅमिल्टन अपनी
कुर्सी पर बैठ कर मुझे अपनी गोद मे खींच लिया. मैं उसकी गोद मे
बैठ कर उसके गले मे अपनी बाहों का हर डाल दी और हम दोनो एक
दूसरे को चूमने लगे. आस पास सारे कपल्स सेक्स मे ही लिप्त दिखे.
किसी को किसी की फ़िक्र नही थी. कुच्छ तो वहीं पूरे नंगे हो कर
चुदाई मे लगे हुए थे. वेस्टर्न कल्चर मे तो ये एक मामूली सी बात
थी. तभी वेटर डिन्नर सर्व कर गया. हॅमिल्टन की गोद मे बैठे
बैठे हमने डिन्नर लिया. हम एक दूसरे को खिलते रहे. हॅमिल्टन का
लिंग वापस मेरे नितंबों के नीचे खड़ा हो रहा था. उसने मुझे
उठाया और मेरी योनि पर लिंग को सेट करके वापस अपनी गोद मे बिठा
लिया. इस बार हम दोनो ने किसी तरह की उच्छल कूद नही की. मैं
उसके लिंग को अपनी योनि मे लेकर डिन्नर करने मे व्यस्त हो गयी. वो
भी डिन्नर ले रहा था.


थोड़ी देर बाद राज जी शशा को बाहों मे लिए इधर आते हुए
दिखे. मैं झट से हॅमिल्टन की गोद से उतर कर अपनी सीट पर बैठ
गयी. आख़िर हम इंडियन्स की आँखों मे कितने भी अड्वॅन्स्ड हो जाएँ
कुच्छ तो शर्म बची ही रहती है. हॅमिल्टन ने अपने लिंग को अंदर
करने की कोई कोशिश नही की.

ससुरजी आकर अपनी अपनी सीट पर बैठ गये. हम दोनो एक दूसरे से
नज़रें नही मिला पा रहे थे. हॅमिल्टन और शशा चुहलबाजी करते
रहे. हॅमिल्टन ने खींच कर शशा को अपने लिंग पर बिठा लिया.
शशा ने भी एक झटके से अपनी टी शर्ट उतार दी और हॅमिल्टन के लिंग
की सवारी करने लगी.

लेकिन हम दोनो चुप चाप अपने अपने विचारों मे खोए खाना खाते
रहे और बीच बीच मे चोर निगाहों से अपने सामने चल रही ब्लू
फिल्म का भी मज़ा लेते रहे. सामने उन दोनो की चुदाई देखते हुए
अक्सर हम दोनो की निगाहें टकरा जाती तो मैं शर्मा कर और ससुर जी
मुस्कुरा कर अपनी निगाहें हटा लेते.

खाना खाकर हम दोनो ने उन दोनो से विदा लिया. मैं अपने ससुर की
बाहों मे अपनी बाहें डाल कर अपने रूम की तरफ बढ़ी.


"मैं शशा के साथ किसी नये प्रॉजेक्ट के बारे मे डिसकस करने पास
के एक कॅबिन मे गया था. तुमको बता नही पाया क्योंकि तुम कहीं मिली
नही. पता नही भीड़ मे तुम कहा हॅमिल्टन के साथ डॅन्स कर रही
थी."

उनके मुँह से ये बात सुन कर मुझे बहुत रिलीफ मिली कि उनको नही
पता चल पाया की उसी दौरान मैं भी पास के ही किसी कॅबिन मे
हॅमिल्टन के संग संभोग करवा रही थी.हम दोनो के अलग अलग रूम्स
थे. मैं अपने कमरे के सामने पहुँच कर उन्हे गुडनाइट कहा और
कमरे की तरफ बढ़ने लगी.

"कहाँ जा रही हो. आज मेरे कमरे मे ही सो जाओ ना" ससुर जी ने कहा.
उनका इरादा साफ था. आज बर्फ पिघल रही थी. लेकिन मुझे भी अपनी
मर्यादा तो बनाए ही रखनी थी. इसलिए मैने उनकी तरफ देख कर
अपनी नज़रें झुका ली और अपने कदम कमरे की तरफ बढ़ाए.

"अच्च्छा ठीक है तुम अपने कमरे मे चलो. मैं अभी आता हूँ कपड़े
चेंज मत करना." उन्हों ने मुझसे कहा.

"क्यों क्या हुआ?" मैने पूचछा

"नही कुच्छ नही तुम इन कपड़ों मे बहुत खूबसूरत लग रही हो तुम्हे
इन कपड़ों मे कुच्छ देर तक देखना चाहता हूँ."

"क्यों इतनी देर देख कर भी मन नही भरा क्या?" मैने उनकी तरफ
मुस्कुरा कर देखा " ससुर जी अपने मन को कंट्रोल मे रखिए. अब मैं
आपके लड़के की बीवी हूँ" कहते हुए मैं हँसती हुई कमरे मे चली
गयी. अंदर आकर मैने अपने शरीर पर पड़े टी शर्ट और स्कर्ट को
उतार दिया और शवर मे अपने बदन को अच्छि तरह से सॉफ किया.
बदन पर सिर्फ़ तौलिया लपेटे बाथरूम से बाहर आकर मैने ड्रेसिंग
टेबल के सामने खड़े होकर अपने टवल को हटा दिया. मेरा नग्न
शरीर रोशनी मे चमक उठा. मैं अपने नग्न बदन को निहार रही
थी. शादी के बाद कितने लोगों से मैं सहवास कर चुकी थी. इस
बदन मे कुच्छ ऐसा ही आकर्षण था कि हारकोई खींचा चला आता था.
मैने उसी अवस्था मे खड़े होकर डियो लगाया और हल्का मेकप किया.
अपने बालों मे कंघी कर ही रही थी कि डोर बेल बजा.

"कौन है"

"मैं हूँ….दरवाजा खोलो" बाहर से ससुर जी की आवाज़ आई.

मैने झट अपने शाम को पहने हुए कपड़ों को वापस पहना और
दरवाजे को खोल दिया. उन्हों ने मुझसे अलग होने से पहले उन्ही कपड़ों
मे रहने को कहा था. अब दोनो निपल्स के उपर टी शर्ट पर लगा
धब्बा सूख गया था लेकिन धब्बा साफ दिख रहा था की वहाँ कुच्छ
लगाया गया था. राज जी अंदर आए. उन्हों ने शायद अपने कमरे
मे जाकर भी एक दो पेग लगाया था. उनके चल मे हल्की लड़खड़ाहट
थी. कमरे मे आकर वो बिस्तर पर बैठ गये.

"आओ मेरे पास " उन्हों ने मुझे बुलाया. मैं धीरे धीरे चलती हुई
उनके पास पहुँची. उन्हों ने अपनी जेब मे हाथ डाल कर एक
खूबसूरत सा लॉकेट निकल कर मुझे पहना दिया.

"वाउ क्या खूबसूरत है" मैने खुश होकर कहा" किसके लिए है ये?

"तुम्हे पसंद है?" मैने हामी मे सिर हिलाया"ये इस खूब्ड़सूरत गले
के लिए ही है." कहकर उन्हों ने मेरे गले को चूम लिया.

"एम्म बहुर सुंदर है ये." मैने लॉकेट को अपने हाथों से उठाकर
निहारते हुए कहा.

" मुझे भी तो पता चले कि तुम कितनी खुश हो. खुश हो भी या……"
मैं झट से उनकी गोद मे बैठ गयी और उनके गले मे अपनी बाहों का
हार डाल कर उनके होंठों पर अपने होंठ सटा दिए. मैने उनको एक
डीप किस दिया. जब हम दोनो अलग हुए तो उन्हों ने मुझे उठाया.

"स्टेरीयो पर कोई सेक्सी गाना लगाओ" उन्हों ने कहा मैने स्टेरीयो ऑन कर
दिया. वॉल्यूम को तेज रखने के लिए कहने पर मैने वॉल्यूम को काफ़ी
तेज कर दिया.


"अब तुम नछो. " उन्हों ने कहा. मैं चुपचाप खड़ी रही. मैं
असमंजस मे थी समझ मे नही आ रहा था कि मुझे क्या करना चाहिए.

" तुम बहुत अच्च्छा नाचती हो. मैने कई बार देखा है तुम्हे नाचते
हुए"

"लेकिन यहाँ ? "

"क्यों यहाँ क्या प्राब्लम है ? मैं देखना चाहता हूँ तुम्हारे बदन
की थिरकन. "

मैं धीरे धीरे वेस्टर्न म्यूज़िक पर थिरकने लगी. आन्द्रूनि कपड़े
नही होने के कारण मेरे स्तन उच्छल रहे थे और मेरा ध्यान डॅन्स
पर कम और अपनी उस मिनी स्कर्ट पर था कि नाचते हुए मेरी योनि उनकी
नज़रों के सामने ना जाए.

" अपने उन दोनो स्तनो को ज़ोर से हिलाओ. खोब शानदार हैं ये दोनो
बूब्स तुम्हारे. " मैं उनकी पसंद का ख़याल रखते हुए अपने स्तनो को
हिलाने लगी.

" अब नाचते नाचते अपने कपड़े उतार दो. सारे कपड़े उतार देना.
स्ट्रिपटीज़ जानती हो?" उन्हों ने मुझसे पूचछा

"हाँ" मैं उनकी बातों से हैरान हो रही थी. उनपर कुच्छ तो शराब
का और कुच्छ उन्मुक्त महॉल का नशा चढ़ा हुआ था.

"चलो मेरे सामने स्ट्रिपटीज़ करो" कहते हुए उन्हों ने अपने गाउन को
खोल कर अलग कर दिया. गाउन के नीचे वो बिल्कुल नग्न थे. मैं
नाचना छ्चोड़ कर मुँह फाडे उनके लिंग को देख रही थी.

"डॅडी….ये सब ठीक नही है." मैने उनसे कहा

"क्या ठीक नही है?"


"यही जो आप कर रहे हैं या करना चाहते हैं."

"क्यों….इसमे क्या बुराई है. तुम्ही तो शादी के पहले से ही मुझ से
चुदाना चाहती थी" उनके मुँह से इस तरह की गंदी बातें सुन कर
मई शर्म से गड़ गयी.

"जी…जी….वो…..उस समय की बात और थी. तब मैं आपकी सेक्रेटरी थी."

"तो…?"

"आज मैं आपके लड़के की बीवी हूँ."

" लेकिन पहले तू मेरी सेक्रेटरी है. यहा पर तू मेरी सेक्रेटरी बन
कर आई है मेरे बेटे की बहू नही. और सेक्रेटरी का काम होता है
अपने एंप्लायर को खुश रखना. देखा नही यहाँ मौजूद दूसरी
सेक्रेटरीस को"