चुदासी चौकडी compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 06 Dec 2014 07:54

4
gataank se aage…………………………………….

Main baith gaya Maa ke bagal aur uski or dekhta hua kahna chaaloo rakhaa " Maa suno...tu kehti hai na ke main kisi aur auraton ko bhaw nahin deta ...par tu bataa ..kyoon doon..? Jab tere aur teri betiyon jaisee auratein mere saath hain ..main kyoon bahar jaoon..bolo na Maa kyoon...? Maa main tum teenon se behad pyaar karta hoon aur teri dono betiyon ke baare main bol sakta hoon wo hi mujhe chahti hain aur apna sab kuch mujhe de sakti hain ...tere upar bhi main apni jaan de sakta hoon .bahar se kisi ko yahan aane ki jaroorat nahin ..na kisi ko bahar jaane ki ......Maa main saari jindagi tum sab ke saath guzaar saktaa hoon ..apni saari jindagi Maa ..bolo na manjoor hai ....???"

Maa ne jindagi dekhi thee ..gareebi ki maar jheli thee ...aur sab samajhtee thee .....

Use meri baat poori tarah samajh mein aa gayee thee ...poori tarah .

Usne mujhe gale laga liya ..mujhe choomne lagee " Mera beta bada samajhdaar ho gaya hai ...bahut samajhdaar..haan beta mujhe sab kuch manjoor hai ..aaj se is ghar mein bas khooshiyan hi khooshiyan dikhegi ..hum jhopdi mein bhi mahalon ki tarah rahenge ....."

Main khushi se jhoom uthaa ..Maa se lipat gaya ..use pagalon ki tarah apne seene se laga liya

"Maa ..Maaa tu sahi mein Raani ban kar rahegi ..meri Raani......."

Hamaare shor gul se meri baki do raaniyan bhi jag gayeen .....unhone Maa bete ko is tarah choomte dekha ...maine unki taraf ankh maar dee..dono muskura utheen ....

Aur dono bol uthe " Wah Bhai , Aai to teri raani ho gayee aur hum dono ...???"

"Are meri teen teen raaniyan hain re ..teen teen..." Maine apni awaaz thodi unchi karte hue kaha

Aur baaki dono raaniyan bhi hum se lipat gayeen ....

Hum sab ek doosre se leepte ek doosre ko choom rahe the aur aanewaale khushiyon ki jhalak se jhoom uthe .........

Meri to khushi ke maare jaan hi nikal rahee thee...uffffff....Maa ne sab kuch maan liya thaa ..mujhe to aetbaar hi nahee ho rahaa thaa...ye sapna hai ya sach.....main Maa se boori tarah lipat gaya ...aur Maa ko bola "Maa .mere gaal kaat na ...kaat na Maa.."

Maa ne hanste hue kaha " Kyoon re ..."

dono behenein meri peeth se chipaki theen aur main Maa ke upar thaa.. Sindhu ne mera lund apni muthhee mein bhar use dabati aur phir sehlaati jaa rahee thee....aur Bindu meri gardan par apne honth chipakaye choom rahee thee ...

"Are kaat to...jor se kaat na ..mujhe dard mehsoos hona chahiye ...main jan na chahta hoon ye sapna hai yah sach ....Maa ...kaat na..." Aur maine apna gaal unke munh par rakh diya

" Hai re mera beta mere liye itna pagal hai .." Aur apne dant se halke se kaataa

" Nahin Maa jor se kato na ..." Aur Maa ne apne dant mere gaal pe gada diye ..danton ka nishan ban gaya ;;mujhe kuch dard hua ..

Mere munh se ek meethe dard ki siskari nikal gayee

"Oh Maaa ye hakikat hai ...ooooh Maa ..Maaa " Aur main us se aur bhi boori tarah chipak gaya aur uske blouse ke upar se hi uski bhari bhari chuchiyaan choosne laga .... dono bahano ki harkaton ne bhi jor pakad liya thaa ..

Maa ankhein band kiye apne bete ke is tarah pyaar ke andaaz ka mehsoos karne lagi...

Par phir bhi Maa mein kuch hichak . sharm thee aur apni dono betiyon ke saath hone ki wajeh se wo khul kar kuch karna nahin chaah rahee thee

" Jaggu , kuch to sharm kar re ...Bindu aur Sindhu ke saamne to ye sab mat kar " Unhone mere kaan par apna munh rakhte hue dheemi awaaz mein kaha ...

Par Bindu ko Maa ki baat samajh aa gayee...

Wo jhat uth gayee ..apne kapde theek kiye aur Sindhu se kaha

" Sindhu chal na re jara bahar ghoom aate hain..kuch sabjiyan bhi le aayenge raat ke khaane ke liye ..."

Main abhi tak Maa ki choochiyon par apna munh lagaye thaa

Sindhu bhi samajh gayee ..wo bhi khaat se uth gayee ...

" Haan re Bindu ..chal .... "

Waah re waah kitna achhaa ek unkaha samjhauta in logo ne kar liya thaa ....

Aur dono behenein mujhe ankh martee hui saath saath nikal gayeen ..

Maa ki ankhein abhi bhi band theen , main jhat se uthaa , darwaazaa band kiya aur Maa ke bagal baith gaya ....

Main use nihaare jaa rahaa thaa ....uski khoobsoorti , uski aag bhadkaane wali jism ki ubhaar , chehre ki masti sab kuch apne andar le raha thaa ...

" Aise kya dekh rahaa hai re..apni Maa ko kabhi dekha nahin kya..?" Maa ne apni ankhein poori tarah kholte hue kaha ..

" Haan Maa dekha hai aur hazaron baar dekha hai ..par is tarah se aaj tak nahin..aaj sirf main tumhein dekh raha hoon ..sirf main .. ye meri khwahish thee ..aur aaj ye hakikat hai...ufff Maa tum kitni khubsoorat ho ....duniya ki sab se khubsoorat aurat ...oooh Maa ..."

Aur main use uski bahon se jakadta hua uthaa liya , apni taraf khichaaa aur apne se chipaka liya ... use choomne laga ...betahashaa ..paglon ki tarah ..kabhi gaal ..kabhi honth kabhi uski chaatee ....ufff kya karoon main pagal thaa

Maa ne apne ap ko mere hawaale kar diya thaa ...apne bete ke hathon wo bhi majboor ho gayee thee ..us ne bhi aaj tak apni jindagi mein itna pyaar nahin dekhaa thaa ...us ne ankhein band kiye is pyaar pe apne ap ko loota diya

"Haan ..haan Jaggu ..mujhe jee bhar ke pyaar kar re...main kitna tadpi hoon is ke liye..tu jo chaahe kar le ..meri pyaas boojha de re....haaan beta ..main bahut pyaasi hoon ...." wo bhi apne haath meri peeth pr rakh mujh se aur bhi chipak gayee ...

Dono ek doosre se chipaki ek doosre mein samaa jane ko betab the..

Main uske honth apne honthon mein bhar liya choosne laga ....kabhi neeche , kabhi upar ..choosta raha ...Maa ne apna munh khol diya ...maine apna munh uske andar dalne ki koshish mein use khaane laga ..

chap chap uske honthon par apne honth laga laga choosne laga ..uska geelapan , uska laar uski munh se mere andar ja rahaa thaa ..main sab kuch apne gale se neeche utarta jaa rahaa thaa ..Maa ka amrit apne munh mein le raha thaa ...kitna ajeeb aur kitna meetha thaa Maa ka amrit ...

Uff man bharta hi nahin thaa ..baar baar choosta ..munh hatata ..phir choosta .....

Dono hanf rahe the ..lambi lambi sansein le rahe the ...dono ke honth aur gaal thook aur laar se geele ho gaye the ....

Maine Maa ki blouse khol dee ..usne apne haath upar karte hue use bahar nikal diya ....aur usi jhatke mein maine uski bra bhi nikal dee ...

Maine Maa ko lita diya khaat par ...

Upar se nangi thee ....chaatee bilkul nangi ..saaree beekhre the ..khaat se neeche latak rahee thee

Main uske oopar aa gaya ...uski gol gol bhari chuchiyaan , sudaul chuchiyaan ..dekhta rahaa ....

Maa ne chup chap mere sar ko thaamate hue apni chaatee se laga liya ..aur apni choochiyon par dabaya ..joron se ...

Mere chehre par aisa mehsoos hua jaise kisi takiye se laga ho , maine apni hatheliyon se uski chooochiyan masal raha thaa aur choos raha thaa ..baari baari dono choochiyon ko ..apni Maa ki chuchiyaan ,,jin se main doodh peeta thaa ..aaj phir se unhein choos raha thaa ...Maa ke haath mere sar sehla rahe the

" Haan beta ..apni Maa ko choos ..tera hi to hai re ..choos le jee bhar ....apni bhookh meeta le ..."

Aur mera choosna aur bhi jor pakad liya ..mano main poori ki poori choochee munh se andar le loon

Maa sisak rahee thee..karah rahee thee ..meri peeth ..mera sar sehla rahee thee

Mera louDaa uski janghon ke beech uski saaree ke upar se hi uski choot se takraaye ja rahaa rahaa thaa ..main jor aur jor se use janghon ke beech dabaaye ja rahaa thaa

Saaree ke upar se hi uski choot ke geelepan ko maine mehsoos kiya ....jitni bar uski choochi choosta ..utni baar uski choot se paani ka dhaar phoot padta ....

Main tadap rahaa thaa ..Maa behaal thee ..baar baar mere louDe ko apni choot se ragad rahee thee

" Maa , saaree utaar na .?" Maine us se dheemi awaaz mein kahaa ..

" Haan beta ..mera raja beta ..tu hi utar de na ....bas jo jee mein aaye kar na ..main to bilkul tumhaari hoon na ....kuch bhi kar le ..." Us ne taDapati hui awaaz mein kaha ...

Main phauran uski saaree utaari , uske petticoat ka naadaa khichaata hua uske pairon ko uthaa pairon se bahar kar diya ..aur phir apne kapde bhi utaar diye ..

Ab mere saamne Maa nangi leti thee ..bilkul nangi....uski ankhein band theen aur honthon par halki muskurahat ...pair phaile hue ..choot ke upar halke halke baal ...aur uske beech choot ki gulabi phank ...aah sanwali choot ke beech uska gulabipan nikhar raha thaa...aur itni geeli thee uski gulabi phank ..chamak rahee thee ...

Main uski tangein phailate hue choot ki pankhudiyon ko apni ungliyon se alag kiya aur jhook gaya uski choot par, aur apne honthon se choot ko jakadta hua joron se choosa ......

Maa uchaal padee .uske chutad hawa mein uchaal gaye ..maine apne hathon ko uski chutad ke neeche lagate hue use jakad liya ....aur phir aur bhi joron se choosne laga ..uska saaraa ras mere munh mein ja rahaa thaa ....aaah , Maa tadap rahee thee ,...uske chutad mere hathon mein kanp rahe the uski tangein thartharaa rahee thee ...Maa sisak rahee thee ...aisa uske saath aaj tak nahee hua thaa ..main lagatar choose ja rahaa thaaa .... Maa ki choot phaDakne lagi .mere honthon ne mehsoos kiya ....main phir bhi choosta rahaa ...Maa akad gayee ...uske chutaDo ne mere hathon ki jakad ke bawjood uchaal maaraa ...aur jhatke khane lageee aur ek jordaar phawaaraa mere munh ke andar gaya ..aur Maa dheeli pad gayee ... shaant ho gayee ...

" Beta ..ufff ye kaisa sukh thaa......oooh mere lal ....mere bachche.....oooh tu kitna pyaar karta hai....aah main mar jaoongi tere pyaar mein ....main nihaal ho gayee .....aa jaa ..aa jaa mere lal....aa jaa na mere andar ...haan aa jaa ..mere andar ....main phir se apne bachhe ko apne andar daal lungi....haan re aa ja na .....bas aa jaa ..." Wo masti mein bad badaa rahee thee aur main uski aisi baton se bilkul pagal ho uthaa thaa

Maa ki choot bahut geeli thee ..aur mera lund boori tarah akda hua thaa ...uski choot ke honth kanp rahe the

Main ghutnon ke bal uski tangon ke beech baith gaya ..us ne khud hi apni tangein phaila dee ...haath badhaayaa aur mere louDe ko thaam liya , apne choot par laga diya ...."AA jaa beta ..aa jaa ...." Aur apne chutad upar kee saath saath maine bhi apne louDe ko andar dhansaya ....choot itni geeli thee ..poore ka poora ek hi baar phisalta hua jad tak pahoonch gaaya..apni Maa ke andar samaa gaya ..

" Aaaaaaaaaah ...ooh .haan haan beta ..beta aaaah " Maa ne apni tangein mere chotad par rakh use dabati rahee , " Haan aur andar haan jitna kar sakta hai kar na ..mere lal..."

Main bhi kanp uthaa ..Maa ne choot ko tight kar lee , aur main bhi use jakadta hua lund aur bhi andar dalne ki koshish kee ..mere balls aur jangh uski choot se chipak gaye ...main bilkul Maa ke andar thaa , us se chipaka .us se leepta , uske honth choom raha thaa ..uski chuchiyaan masal raha tha aur dono leepte the ...

Maa mere louDe ko apni choot se choos rahee thee..kabhi choot tight kar deti kabhi dheeli ...ufff main tadap raha thaa ...main jhel nahin sakaa ...main apna louDaa andar kiye hi boori tarah jhadne laga ..Maa ne ek hi baar mein apne bete ko choos liya thaa ...mera lund boori tarah jhatke khata raha Maa ki choot ke andar ..Maa ne mujhe apne se lagaye rakhaa ..main us se chipaka raha ..jhadta rahaa 'jhadta rahaa .....aur phir mera lund poora khali ho gaya apni Maa ki choot mein .....main Maa ki chaatee par dher ho gayaa ..uski choochiyon par sar rakhe ....Maa ki god mein ....apne swarg mein ....

" Haan beta ..aaraam kar ..mere seene se lage reh beta .." Main ankhein band kiye padaa thaa ..Maa mera sar sehla rahee thee aur mujhe choome jaa rahee thee ....

Main dunyia ki sab se mehfooz , shaant aur sukh se bharpoor jagah .Maa ke seene par padaa rahaa ...

Main Maa ke seene par apna sar rakhe padaa thaa , Maa mere baal sehla rahee thee ..aur main uske seene se laga uski choochiyon ki garmi aur narmi ke ahesas ke maze le raha thaa ...

Tabhi Maa ne kahaa " Beta ...sach sach bataa..kya tu ne pehle bhi kisi ke saath ye sab kaam kiya hai ..?"

Main uske is sawaal se thoda chaunk gaya ...apna chehra upar karte hue pucha

" Kyoon Maa ..tu aisa kyoon pooch rahee hai ..?"

" Are bataa na ..ab to sab kuch ho gaya...chupane ko kya rakhaa hai..?" Maa ne kahaa

" Phir bhi Maa bataa na ..tu bataa phir main bataataa hun ..chupaaungaa nahin ...."

" Hmmmm matlab tu pehle bhi ye sab kar chooka hai..tabhi main kahoon itne achhe se kaise kar liya sab kuch ..aur jo choosnewaalaa kaam ...ufffff ..Jaggu abhi bhi mujhe wahaan gudgudi jaisa lag raha hai re ....tere bap ne to choosna to door ...saale ne kabhi haath tak nahin lagayaa.. saaree upar kee aur bas chaaloo...aur teen chaar baar andar bahaar karte hi saalaa jhad jata thaaa ..main kab se pyaasi thee Beta...aaj mujhe pataa chalaa pyaar kya cheez hai ......" Maa ne mere chehre ko apne hatheli se thaamte hue choom liya ...

" Ooooh Maa ..main kitna khush hoon..tere ko mere saath itna achhaa laga ....bas dekhtee jaa Maa main aur bhi kitna pyaar daungaa tere ko..tu sambhaal nahin sakegi Maa ...tere ko main apne pyaar se sarabor kar daungaa ...nehla daungaa .." Aur main aisa kehta hua uske honthon ko choosne laga ...

"Achhaa beta ye bataa wo kismatwaali kaun thee re..??" Maa ne mere chehre ko apne honthon se pyaar se alag karte hue kahaa..

Maine Maa ki chuchiyaan halke halke masalte hue kahaa

" Dekh Maa ..bataa to daungaa..par tu gussa to nahin karegi na ..?"

" GUssa..? Kyoon ..?gussa kyoon karoongi beta ..tu itna lamba-tagda jawaan hai ..koi bhi aurat tere saath ye sab karke khush hogi..tu agar kisi se kar bhi liya to koi badi baat nahin..main to bas itna jan na chahti hoon wo kaun thee jis par mera beta dhulak gaya..?? Bol na re ...main bilkul gussa nahin karoongi..."

" Hmmm to sun..wo koi bhi baahar ki nahin thee Maa ..maine aaj tak tum teenon ke siwa aur kisi ko bhi apnaa dil nahin diya ..aaj din mein hi jab tu aur Bindu kaam par thee .. maine Sindhu ke saath kiya Maa ....apni pyaari behen ke saath .....tu naraaz to nahin hai na..? "

Maa pehle to thoda chaunk gayee ... thodi der chup rahee ..phir us ne kahaa

" Hmmmm tabhi main kahoon wo chalte waqt ladkhadaa kyoon rahee hai....chalo akhir ye to hona hi thaa ..ek na ek din ... aur ab to maine tumhaari baat maan li hai ....use kaphi dard hua hoga na Jaggu .." Maa ki awaaz mein beti ka dard thaa ..

" Nahin Maa kuch jyaadaa nahin ..maine bahut khayal rakhte hue ye sab kiya ..tu us se pooch lena na ...yei to faydaa hai na Maa ghar ke aadmi se karne ka....main akhir uska bhai hoon..apni pyaari gudia jaisi behen ko dard kaise de sakta hoon Maa ..bataao na...?"

" Haan beta yei sab to soch ke maine bhi haan kar dee ... tu kitna samajhdaar hai ..kitna pyaar karta hai hum sab se ....isliye tujhe itna khayaal hai hum sab ka...wo bhi jawaan hain ..shaadi jaane kab hogi .. bahaar kisi ke saath munh kaalaa karne se to achha hai tu hi apna bhi aur unka bhi khayaal rakhe .... "

" Haan Maa maine bhi to yei sab soch ke tere se kahaa ..."

" Haan haan re mera pyaara , dularaa bachaa kitna samajhdaar hai ...."

Ye sunte hi main apni Maa ko phir se gale laga liya , uske seene se chipak gaya aur honth phir se choosne laga .....ufff Maa ke honth itne raseele , mulayam aur garn the..unhein choosne se kabhi man hi nahin bharta ....
kramashah…………………………………………..


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 07 Dec 2014 02:44

5

गतान्क से आगे…………………………………….

थोड़ी देर उस ने भी मेरा बड़े प्यार से साथ दिया .....मेरे होंठ भी वो चूस रही थी ..

फिर मेरे चेहरे को अपनी हथेलियों से थामते हुए पूछा

" अच्छा ये बता..सिंधु के बारे बिंदु को मालूम है के नहीं..?"

मैने उसकी ओर मुस्कुराते हुए कहा .

" अरे उसी ने तो हमें और सिंधु को अकेला छोड़ा खुद काम पर निकल गयी ....और मुझे और सिंधु को मौका दिया .."

" देख बिंदु कितनी समझदार है ...अभी भी देख ना उसी ने सिंधु को यहाँ से हटाया , और हमें भी मौका दिया ... " और उस ने मुझे अपने करीब और भी खिचते हुए मुझे चूमा और कहती गयी " देख बेटा उसे बड़ी हिफ़ाज़त से करना ..फूल सी है मेरी बिंदु ..खुद से कुछ नहीं करेगी मैं जानती हूँ ...तू ही सब कुछ बड़े आराम से करना ...

" हां मा तू बिल्कुल भी चिंता मत करो ..मैं उसे बहुत प्यार से ....और ये तू करना ..करना क्या लगा रखी है मा ..सॉफ सॉफ बोल ना चोद्ना ...." और मैं उसकी चुचियाँ मसलता हुआ उसे फिर से जोरदार किस करने लगा .."

मा मेरे होंठ चूसने और अपनी चुचियाँ दब्वाने के मारे सीस्ककियाँ लेने लगी , मेरी बाहों में छटपटा उठी ..बेचैन हो गयी ..पर उसे अपनी बेटियों के आने का भी डर था ..उस ने अपने को बड़ी मुश्किल से मेरी बाहों से अलग किया और हानफते हुए कहा ...

" हाई रे देख तो मेरा बेटा अपने साथ मुझे ही बेशरम बना रहा है..." और अपनी आँखें नीचे कर ली

" हां मा ऐसे वक़्त बेशरम बन ना पड़ता है ..बोल ना सॉफ सॉफ मुझे क्या करना है बिंदु को ...?'' और मैने उसे फिर से जाकड़ लिया ...

" अरे चोद ना रे जग्गू ....देख वो दोनो भी आते ही होंगे ..छोड ना ..." कसमसाते हुए मा ने कहा

" फिर जल्दी बोल ना क्या करना है ...नहीं तो मैं छोड़ने वाला नहीं " और मैं फिर से उसके होंठ चूसने लगा और हाथ नीचे कर उसकी चूत भी मसल दी ..मा कराह उठी

"अयाया ....बेटा ये क्या कर रहा है ....उफफफफफफ्फ़ ... ये चूम्मा चाटी बंद करेगा तभी तो बोलूँगी ना ...चल छोड़ ..बोलती हूँ.."

मैने उसे छोड़ दिया ..मा हाँफ रही थी ...उसने थोड़ी देर तक अपनी सांस ठीक की और कहा

" ले सुन ...."

मैने झट उसे फिर से अपनी बाहों में लिया ..अपने सीने से लगाया ..उसका चेहरा उठाते हुए अपनी ओर किया ..उसकी आँखों में देखता हुआ बोला ..

" हां अब मेरी आँखों में देखते हुए बोल .."

पहले तो उस ने अपनी आँखें बंद कर दी ..फिर मुस्कुराते हुए खोला और कहा

" बेटा उसकी फुद्दि फाड़ना नहीं ..उसे बड़ी आराम आराम से चोद्ना ..." और मेरी ओर एक तक देखती रही , एक दम बेबाक.

मैं झूम उठा उसकी इस प्यारी बेशर्मी से ...." ओओओओह मा तू कितनी प्यारी है ...उफफफफफफ्फ़ ..मन करता है जिंदगी भर तुझे ऐसे ही चिपकाए रखूं अपने सीने से ...."

मैने उसे और भी करीब खिच लिया ..अपनी तरफ...

मैं कुछ और करता ,उस के पहले ही उस ने मेरे हाथ पकड़ लिए और कहा ..

" अछा अछा बहुत हो गया अब..चल तू कपड़े पहेन ले ..मैं भी तैय्यार हो जाती हूँ..बिंदु और सिंधु भी अब आते ही होंगे ..देख ना कितनी समझदार हैं दोनो .... " और मेरी ओर देख हँसने लगी.

मैं भी मौके की नज़ाक़त समझते हुए बिस्तर से उठा और अपने कपड़े पहेन ने लगा ..

मा झोपड़ी के कोने में बाल्टी के पानी से एक कपड़े को भीगो कर अपनी टाँगें फैलाते हुए , उस गीले कपड़े से अपनी चूत सॉफ किया ..और एक सूखे कपड़े से जांघों के बीच अच्छी तरह सफाई की ..

मा नंगी चलते हुए बड़ी हसीन लग रही थी ...उसकी सुडौल चुचियाँ डोल रही थीं...गुदाज़ .जंघें थरथरा रही थीं ..मैं फिर से उस के करीब गया और उसकी चुचियाँ मसल्ते हुए चूसने लगा.....

" उफफफफ्फ़ ...अब छोड़ भी ना बेटा ..अब मैं कहाँ जानेवाली हूँ.तेरे साथ ही तो हूँ..आज कोई आखरी बार तो नहीं ..चल हट मुझे कपड़े पहेन ने दे .."

मैने एक बार जोरदार चूसाई की और उसे छोड़ दिया ....

उस ने अपनी चूची पर मेरी चुसाइ से लगे थूक हाथ से पोंच्छा ...मुस्कुराते हुए खाट के पास आई और सारी लपेट ते हुए कहा:

" अच्छा ये बता अब बिंदु का नंबर कब लगा रहा है...." और जोरों से हंस पड़ी

मैं अब तक कपड़े पहेन चूका था ..मैं मा से लिपट गया ...और कहा

" मा तू भी ना ... " और उसकी चुचियाँ फिर से मसल दीं मैने ..

"उफफफफ्फ़ छोड़ ना रे अब ..इतने जोरों से दबा दिया ,,देख तो ..कुछ तो रहेम कर ... ऐसे मत करना बिंदु के साथ मर जाएगी बेचारी ..सब से शांत और सीधी सादी है वो ..."

" हा हा हा !! मा आइ लव यू ...." और मैने उसके होंठ चूम लिए..

" वाह रे अँग्रेज़ी निकल गयी ....तेरे मुँह से ..? "मा ने जोरों से हंसते हुए कहा

" हां मा जब बहुत प्यार आता है ना तो अँग्रेज़ी निकल जाती है मुँह से ..." मेरी बात पूरी होती इस से पहले ही दरवाज़े पे खटखट हुई ...

" लगता है दोनो आ गये ..तू बैठ मैं खोलती हूँ दरवाज़ा .." और मैं खाट पर इतमीनान से पैर नीचे लटकाए बैठ गया..मा दरवाजे की ओर बढ़ गयी...

मा ने आगे बढ़ कर दरवाज़ा खोला ..दोनो बहेनें अंदर आईं...और मेरी और मा पर नज़र डाली और मुस्कुराते हुए आँखों आँखों में ही पूछा " क्या हुआ....? "

मैने जवाब में आँखें मार दीं ...दोनो खुशी से झूम उठीं ..

तब तक मा दरवाज़ा बंद कर हमारे पास आ गयी थी ...

" अरे वाह दोनो तो काफ़ी कुछ ले आई आज .." और सिंधु और बिंदु के हाथ से सामानो से भरा पॅकेट लेते हुए कहा.." देखें क्या क्या लाई है ...

मा ने देखा कुछ सब्जियाँ थीं और कुछ खाने के लिए भी था ..समोसे और नमकीन .

' वाह तुम ने अच्छा किया समोसे ले आई ....चलो मैं चाइ बनती हूँ ..साथ में समोसे भी खाएँगे .तुम लोग बैठो." और मा चूल्‍हे की तरफ चली गयी

सिंधु और बिंदु माथे से पसीना पोंछते हुए मेरे दोनो ओर खाट पे बैठ गयीं ..

सिंधु की चाल में अब लड़खड़ाहट नहीं थी ..शायद बाहर पैदल चलने की वजेह से मसल्स ढीले हो गये थे ...

सब से ज़्यादा सिंधु मचल रही थी जान ने को ..मैने मा के साथ कैसे किया

उस ने पूछा " भाई कैसा रहा ..?? "

मैने जवाब दिया " मस्त ..." और हँसने लगा

" बताओ ना भाई ..कैसा मस्त ..? "

बिंदु बोली " अरे बेशरम ..मस्त कैसा होता है..? तेरे को नहीं मालूम क्या ..? तू ने तो मस्ती ले ली अब पूछती क्या है ..?"

" ह्म्‍म्म पर दीदी मेरे और मा में बहुत फ़र्क है ना ....क्यूँ भाई ठीक बोली ना मैं ..." सिंधु ने जवाब दिया

" हा हा हा !! वो तो है सिंधु..पर उफफफ्फ़ क्या बोलूं यार तुम दोनो की मस्ती ने मेरे को तो बिल्कुल मस्त कर दिया ....."

" हां भाई ..अब देखना दीदी की मस्ती से तू और कितना मस्त होता है ....."

" हां रे सिंधु ...बिंदु भी तो मस्त है रे .." और मैने बिंदु को अपने सीने से लगा लिया और उसके चेहरे को अपनी तरफ करते हुए चूम लिया और फिर कहा " एक दम फुल मस्त है..."

बिंदु ने अपने को अलग करते हुए कहा .." भाई ..क्या कर रहे हो ...कुछ तो शर्म करो...मा देख लेगी ."

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 07 Dec 2014 02:46

सिंधु टपक पड़ी " देख तो भाई ..कितना नाटक करती है...अंदर से तो मरी जा रही है तेरे साथ सोने को और बाहर से शर्मा रही है... दीदी शरमाना छोड़ और बैठ जा भाई की गोद में ..ज़रा उसके हथियार की झलक तो ले ले बाहर से ..देख ना कैसा कड़क हो रहा है "

और ऐसा बोलते हुए सिंधु झट खाट से उठी , बिंदु के सामने गयी , उसे हाथों से थामा , उठाया और मेरी गोद में डाल दिया...और खुद भागती हुई मा के पास चली गयी ..

मेरा लंड सही में तना था ...बिंदु के भारी भारी मुलायम चूतड़ के भार से मैं सिहर उठा ..मैने उसे अपने सीने से लगाया और उसकी भारी भारी चुचियाँ हल्के हल्के मसल्ने लगा ...बिंदु मेरी गोद में कसमसा रही थी और मेरा लौडा उसकी चूतड़ की गुदाज़ फांकों में धंसा था ...बिंदु भी सिहर उठी

मैने उसके चेहरे को अपनी तरफ करते हुए उसके नर्म और गर्म होंठों पर अपने होंठ रख दिए और चूसने लगा ...

बिंदु ने आँखें बंद कर ली थीं और सिसकारियाँ ले रही थी ...पर वो सिंधु की तरह बेधड़क और बिंदास नही थी...थोड़ी देर में ही उसकी शर्म और लाज़ उस पर हाबी हो गये , उस ने सिसकारियाँ लेते हुए फुसफुसाते हुए कहा .." भाई ..अभी छोड़ो ना ....क्या करते हो ...मा देखेगी ना ...."

मैने धीमी आवाज़ में उसके गालों को चूमते हुए कहा.." ह्म्‍म्म्मम.. ..तो फिर अकेले में सब कुछ करेगी क्या ..?"

" जब अकेले होंगे तो देखेंगे .." और झट से अपने को मेरी बाहों से छूटती हुई मेरे गालों की चूम्मी लेते हुए वो भी मा की तरफ चली गयी ..

मैं उसकी इस अदा पर बस मर मिटा ...बिंदु दोनो से कितना अलग थी ...उसकी झिझक , उसका शरमाना उसे और भी हसीन बना देता था ...

थोड़ी देर में ही एक थाली में समोसे और नमकीन लिए और दूसरी थाली में चार ग्लास चाइ लिए तीनों मा बेटियाँ आ गयीं ...समोसे और चाइ की थालिया नीचे फर्श पर रख , तीनों नीचे बैठ गयीं , मैं भी मा के पास आ कर बैठ गया ...

हम कितने दिनों बाद आज इस तरह साथ बैठ चाइ पी रहे थे...

"मा ..आज कितना अच्छा लग रहा है ना...सब साथ साथ बैठे चाइ पी रहे हैं .." मैने कहा

सिंधु ने भी कहा " हां ..मा ..भाई ठीक ही बोल रहा है..अब से रोज अपन ऐसे ही साथ चाइ पिएँगे ..कितना अच्छा लगता है..."

मा की आँखों में आँसू थे ... "हां मेरे बच्चों ...अपनी जिंदगी में और क्या है..बस हम सब का साथ ...भगवान हमेशा हमें ऐसे ही साथ बनाए रखे ..."

बिंदु से रहा नहीं गया वो भी बोल उठी " हां मा ..हम सब हमेशा ऐसे ही रहेंगे ..हमें और कोई नहीं चाहिए..और कुछ नहीं चाहिए ...बस ....हम सब एक दूसरे के लिए सब कुछ हैं ..सब कुछ ..."

" वाह वाह ,,वाह रे बिंदु ..तू बोलती कम है पर जब बोलती है खूब बोलती है . कितनी बड़ी बात बोल दी तू ने ..हम सब एक दूसरे के लिए सब कुछ हैं .... " मैने कहा

" हां भाई सब कुछ .....है ना मा ...??" बिंदु ने फिर से बोला..

मा ने अपने आँसू पोंछते हुए कहा " हां बिंदु ... "

माहौल ज़रा सीरीयस हो गया था..मैने उसे हल्का बनाने की कोशिश करते हुए कहा

" अरे वाह री बिंदु ..तू तो मेरी सब कुछ है...फिर इतनी दूर क्यूँ बैठी है....पास आ ना ..." बिंदु ने शरमाते हुए नज़रें झुका ली ..पर मा और सिंधु हंस पड़े ....

तब तक चाइ पीनी ख़त्म हो गयी थी ...मा और सिंधु ने सब समेटा और दोनो चले गये चूल्‍हे की तरफ ...बिंदु भी उनके साथ जाने लगी ..मैने उसे थामते हुए अपनी तरफ खिचा

" तू तो मेरी सब कुछ है मेरी रानी ...." ऐसा बोलते हुए उसके होंठ चूम लिए ..इस बार उस ने भी मेरा साथ दिया ..पर फिर थोड़ी देर बाद कहा :

" भाई इतनी बेसब्री क्यूँ कर रहे हो....बस आज रात भर की तो बात है..कल मेरा सब कुछ ले लेना ना भाई.....सच मानो भाई मैं सब कुछ तुझ पे लूटा दूँगी ..सब कुछ..."

और मेरे गालों को चूमते हुए सिंधु और मा की तरफ भागती हुई चली गयी..

मैने उसकी आँखों में एक अजीब तड़प, प्यार और शर्म की मिलीजुली झलक देखी...

मैं मन ही मन आनेवाली खुशियों से झूम उठा ...

आज मुझे समझ आ गया अच्छी तरह ..... हम ग़रीब थे ज़रूर , पर प्यार , एक दूसरे का साथ और खुशियों में कितने अमीर थे.... कितने अमीरों से भी अमीर...

तीनों मा बेटियाँ चूल्‍हे के पास जाने क्या क्या ख़ूसूर पूसूर करती रात के खाने की तैय्यारियाँ कर रहीं थीं ..मैं ऐसे ही खाट पर आँखें बंद किए लेटा लेटा बोर हो रहा था .

मैं थोड़ी देर बाहर निकल गया , घूमा घामा और वापस आया ..फिर सब साथ मिल कर खाना खाए और मैं तो खाट पर जाते ही सोने लगा ..काफ़ी थक गया था .... सिंधु और मा की चुदाइ का असर था शायद ..

थोड़ी देर बाद मुझे ऐसा लगा मेरे बगल कोई आ कर लेटा है....देखा तो सिंधु थी ..

"क्या है सिंधु ...मुझे सोने दे ना .." मैने आधी नींद में ही उस से बोला ..

" भाई तो मैने कब कहा मत सो...तू सो ना ..बस मैं तेरे हथियार को पकड़ के तेरे साथ सोती हूँ ...मुझे उसे थामे बिना चैन नही आ रहा है ...पकड़ने दे ना ..मैं और कुछ नहीं करूँगी ...."

उस ने धीमी आवाज़ में कहा और अपने हाथ से मेरे पॅंट की ज़िप खोल दी , पॅंट को कमर से नीचे सरका दिया और अंडरवेर के अंदर हाथ डाल मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में ले लिया ..मैं सिहर उठा

" उफ्फ तू भी ना सिंधु ..." मैने झुझलाते हुए कहा

" अरे भाई ..कहे को अपना दिमाग़ खराब करते हो...तू चुपचाप लेटा रह ..मैं बस अपने प्यारे लंड को सहलऊंगी..देख ना मा और बिंदु कैसे सो रहे हैं नीचे..उन्हें कुछ पता नहीं चलेगा .."

'ठीक है बाबा तेरा जो जी में आए कर मैं सोता हूँ " और मैने उसकी ओर पीठ कर आँखें बंद कर ली .

सिंधु बड़े आराम आराम से उसे सहलाती जाती ,कभी दबा देती , कभी सुपाडे के उपर नाख़ून चलाती ....मुझे भी अच्छा लग रहा था , बहुत हल्का हल्का महसूस हुआ और मैं जाने कब गहरी नींद में सो गया..

सुबेह उठा तो देखा सब कुछ नॉर्मल था ..पॅंट की ज़िप लगी थी ..पर तंबू ज़रूर बना था ....एक दम उँचाई लिए हुए ...

मा चाइ बना कर काम पे निकल गयी थी , सिंधु जाने की तैय्यारि में थी और बिंदु कोने में खड़ी सारी पहेन रही थी ....बिंदु हमेशा सारी ही पेहेन्ति थी और सिंधु सलवार कुर्ता ...बिंदु थोड़ी भारी भारी थी ..सारी उस पर अच्छी लगती ....

सिंधु ने कहा " बिंदु देख ले रे कैसा तैय्यार है भाई का हथियार ....बस ले ले आज अपने अंदर ...देखना कितना मस्त है रे ...उफ़फ्फ़ मेरा तो जी कर रहा है आज फिर से ले लूँ अंदर ..." और उस ने फिर से मेरे लौडे को कस के पकड़ लिया

" अरे छोड़ सिंधु .....मुझे मूतास लगी है रे ...जाने दे ..छोड़ ना ..." और मैं हड़बड़ाता हुआ उठा ...अपने हाथों से अपने लंड को दबाता हुआ.....और पानी से भरा मग्गा उठाया और बाहर निकल गया ...

बिंदु और सिंधु मेरी बदहाली पर जोरों से हंस पड़ीं....

जब मैं वापस आया तो देखा बिंदु खाट पर बैठी थी ... सिंधु का पता नहीं था ...

मैने इधर उधर देखा और पूछा " सिंधु नहीं दिख रही ...गयी क्या..?"

" हां भाई गयी वो काम पर ..." और अपना चेहरा मुँह से छुपाते हुए हँसने लगी ...

" ह्म्‍म्म्म ... याने कि मैदान सॉफ ..." और मैं उसे अपने से जाकड़ लिया और उसे खाट पर लिटाते हुए उसके उपर आ गया ,

...उसकी सारी की पल्लू सीने से अलग हो गयी थी ..उसका सीना धौंकनी की तरह चल रहा था .उसकी चुचियाँ उपर नीचे हो रहीं तीन ..बड़ी सुडौल थी , सिंधु से.थोड़ी बड़ी ,हथेलियों मे भरा भरा , बड़े अच्छे से मेरे हाथों में समा गयी दोनो चुचियाँ ,.मैं उन्हें मसल्ते हुए बिंदु के होंठ चूमने लगा ..

" उफफफफ्फ़ भाई थोड़ा तो सब्र करो ना बाबा..मैं कहाँ भाग रही हूँ..आज तो पूरा दिन है अपने पास ..,मैने आज काम की छुट्टी कर ली है...चलो उठो भाई ..हाथ मुँह धो लो ..साथ चाइ पीते हैं ...फिर जो जी में आए करो ...." बिंदु ने मेरे हाथ हटा दिए अपने सीने से और मेरे चेहरे को थामते हुए चूम लिया ...." मेरे राजा भाई ..चल उठ ..." और मेरी ओर मुस्कुराते हुए देखी और खाट से उठी , चूल्‍हे की तरफ चली गयी ..

मैं तो उसके इस रूप से फिर से दंग रह गया..कहाँ तो इतनी चुप रहती है और अभी इतनी बातें कर ली ...येई था बिंदु का कमाल ... मौके के हिसाब से अपने आप को ढाल लेती ...

मैं भी उठ गया और हाथ मुँह धो , खाट पर बैठा बिंदु के चाइ लाने का इंतेज़ार कर रहा था.

बिंदु एक थाली में दो ग्लास चाइ और कल शाम के बचे नमकीन गरम कर ले आई थी ...

हम दोनो ने एक एक ग्लास ले ली और बिंदु मेरे बगल बैठ गयी और नमकीन वाली थाली को अपनी गोद में रख लिया ...

मैं सरकते हुए उस से बिल्कुल चिपक गया ...मैं उसकी सुडौल, मांसल और मुलायम जांघों की गर्मी अपने जाँघ पर महसूस कर रहा था.... मैं चाइ की चुस्कियाँ लिए जा रहा था ...

" भाई ..नमकीन भी खाओ ना ...'"

" तुम खिलाओ ना बिंदु अपने हाथ से ....अभी तो कोई देख नहीं रहा ना ..." मैने उसे छेड़ते हुए कहा ..

"उफ़फ्फ़ तुम भी ना भाई ...बड़े बदमाश हो गये हो ....अच्छा चलो ..मुँह खोलो ..."

क्रमशः…………………………………………..