चुदासी चौकडी compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 07 Dec 2014 02:48

5
gataank se aage…………………………………….

Thodi der us ne bhi mera bade pyaar se saath diya .....mere honth bhi wo choos rahee thee ..

Phir mere chehre ko apni hatheliyon se thaamte hue pucha

" Achaa ye bataa..Sindhu ke baare Bindu ko maloom hai ke nahin..?"

Maine uski or muskurate hue kahaa .

" Are usi ne to hamein aur Sindhu ko akela chod khud kaam par nikal gayee ....aur mujhe aur Sindhu ko mauka diya .."

" Dekh Bindu kitni samajhdaar hai ...abhi bhi dekh na usi ne Sindhu ko yahan se hataayaa , aur hamein bhi mauka diya ... " Aur us ne mujhe apne kareeb aur bhi khichaate hue mujhe chooma aur kehti gayee " Dekh beta use badi hifaazat se karna ..phool see hai meri Bindu ..khud se kuch nahin karegi main janti hoon ...tu hi sab kuch bade aaraam se karna ...

" Haan Maa tu bilkul bhi cheenta mat karo ..main use bahut pyaar se ....aur ye tu karna ..karna kya laga rakhee hai Maa ..saaf saaf bol na chodna ...." Aur main uski chuchiyaan masalta hua use phir se jordaar kiss karne laga .."

Maa mere honth choosne aur apni chuchiyaan dabwaane ke maare seeskkiyan lene lagee , meri bahon mein chatpataa uthee ..bechain ho gayee ..par use apni betiyon ke aane ka bhi dar thaa ..us ne apne ko badi mushkil se meri bahon se alag kiya aur hanfte hue kaha ...

" Hai re dekh to mera beta apne saaath mujhe hi besharam bana rahaa hai..." Aur apni ankhein neeche kar lee

" Haan Maa aise waqt besharam ban na padta hai ..bol na saaf saaf mujhe kya karna hai Bindu ko ...?'' Aur maine use phir se jakad liya ...

" Are chod na re Jaggu ....dekh wo dono bhi aate hi honge ..chod na ..." Kasmasaate hue Maa ne kaha

" Phir jaldi bol na kya karna hai ...nahin to main chodne waala nahin " Aur main phir se uske honth choosne laga aur haath neeche kar uski choot bhi masal dee ..Maa karah uthee

"aaaah ....beta ye kya kar rahaa hai ....ufffffff ... ye choomma chaatee band karega tabhi to boloongi na ...chal chod ..bolti hoon.."

Maine use chod diya ..Maa hanf rahee thee ...usne thodi der tak apni sans theek ki aur kaha

" Le sun ...."

Maine jhat use phir se apni bahon mein liya ..apne seene se lagaya ..uska chehra uthate hue apni or kiya ..uski ankhon mein dekhta hua bola ..

" Haan ab meri ankhon mein dekhte hue bol .."

Pehle to us ne apni ankhein band kar dee ..phir muskuraate hue khola aur kaha

" Beta uski phuddi phaadnaa nahin ..use badi aaraam aaraam se chodna ..." Aur meri or ek tak dekhti rahee , ek dum bebaak.

Main jhoom uthaa uski is pyaari besharmi se ...." OOOOh Maa tu kitni pyaari hai ...ufffffff ..man karta hai jindagi bhar tujhe aise hi chipakaye rakhoon apne seene se ...."

Maine use aur bhi kareeb khichaa liya ..apni taraf...

Main kuch aur kartaa ,us ke pehle hi us ne mere haath pakad liye aur kahaa ..

" Achaa achaa bahut ho gaya ab..chal tu kapde pehen le ..main bhi taiyyar ho jatee hoon..Bindu aur Sindhu bhi ab aate hi honge ..dekh na kitni samajhdaar hain dono .... " Aur meri or dekh hansne lagee.

Main bhi mauke ki nazaqat samajhte hue bistar se uthaa aur apne kapde pehen ne laga ..

Maa jhopdi ke kone mein balti ke paani se ek kapde ko bheego kar apni tangein phailate hue , us geele kapde se apni choot saaf kiya ..aur ek sukhe kapde se janghon ke beech achee tarah safaai ki ..

Maa nangi chalte hue badi haseen lag rahee thee ...uski sudaul chuchiyaan dol rahee theen...gudaaz .janghein thartharaa rahee theen ..main phir se us ke kareeb gaya aur uski chuchiyaan masalte hue choosne lagaa.....

" Ufffff ...ab chod bhi na beta ..ab main kahan janewaali..tere saath hi to hoon..aaj koi aakhri baar to nahin ..chal hat mujhe kapde pehen ne de .."

Maine ek baar jordaar choosaai kee aur use chod diya ....

Us ne apni choochee par meri choosai se lage thook haath se ponche ...muskuraate hue khaat ke paas aayee aur saaree lapet te hue kahaa:

" Achhaa ye bataa ab Bindu ka number kab lagaa raha hai...." Aur joron se hans padee

Main ab tak kapde pehen chooka thaa ..main Maa se lipat gaya ...aur kahaa

" Maa tu bhi na ... " aur uski chuchiyaan phir se masal deen maine ..

"Ufffff chod na re ab ..itne joron se daba diya ,,dekh to ..kuch to rahem kar ... aise mat karna Bindu ke saath mar jayegi bechaari ..sab se shaant aur seedhi saadi hai wo ..."

" Ha ha ha !! Maa I love youuu ...." Aur maine uske honth choom liye..

" waah re angrezi nikal gayee ....tere munh se ..? "Maa ne joron se hanste hue kahaa

" Haan Maa jab bahut pyaar aataa hai na to angrezi nikal jaati hai munh se ..." Meri baat poori hoti is se pehle hi darwaaze pe khatkhat hui ...

" Lagta hai dono aa gaye ..tu baith main kholti hoon darwaazaa .." Aur main khaat par itminaan se pair neeche latkaaye baith gaya..Maa darwaaje ki or badh gayee...

Maa ne aagey badh kar darwaazaa khola ..dono behenein andar aayeen...aur meri aur Maa par nazar daali aur muskurate hue ankhon ankhon mein hi pucha " Kya hua....? "

Maine jawaab mein ankhein maar deen ...dono khushi se jhum utheen ..

Tab tak Maa darwaazaa band kar humaare paas aa gayee thee ...

" Are waah dono ne to kaphi kuch le aayaa aaj .." Aur Sindhu aur Bindu ke haath se samano se bharaa packet lete hue kaha.." dekhein kya kya laaee hai ...

Maa ne dekha kuch sabjiyaan theen aur kuch khane ke liye bhi thaa ..samose aur namkeen .

' Waah tum ne achhaa kiya samose le aayee ....chalo main chai banati hoon ..saath mein samose bhi khayenge .tum log baitho." Aur Maa chulhe ki taraf chali gayee

Sindhu aur Bindu mathe se paseena ponchte hue mere dono or khaat pe baith gayeen ..

Sindhu ki chaal mein ab ladkhadahaat nahin thee ..shayad bahar paidal chalne ki wajeh se muscles dheele ho gaye the ...

Sab se jyada Sindhu machal rahee thee jan ne ko ..maine Maa ke saath kaise kiya

Us ne pucha " Bhai kaisa rahaa ..?? "

Maine jawaab diya " Mast ..." aur hansne lagaa

" Bataao na Bhai ..kaisa mast ..? "

Bindu boli " Are besharam ..mast kaisa hota hai..? Tere ko nahin maloom kya ..? Tu ne to masti le li ab poochtee kya hai ..?"

" Hmmm par Didi mere aur Maa mein bahut fark hai na ....kyoon Bhai theek boli na main ..." Sindhu ne jawaab diya

" Ha ha ha !! Wo to hai Sindhu..par uffff kyaa boloon yaar tum dono ki masti ne mere ko to bilkul mast kar diya ....."

" Haan Bhai ..ab dekhna Didi ki masti se tu aur kitna mast hota hai ....."

" Haan re Sindhu ...Bindu bhi to mast hai re .." Aur maine Bindu ko apne seene se lagaa liya aur uske chehre ko apni taraf karte hue choom liya aur phir kaha " Ek dum full mast hai..."

Bindu ne apne ko alag karte hue kaha .." Bhai ..kya kar rahe ho ...kuch to sharm karo...Maa dekh legi ."

Sindhu tapak padee " Dekh to Bhai ..kitna natak karti hai...andar se to mari ja rahee hai tere saath sone ko aur bahar se sharmaa rahee hai... Didi sharmaanaa chod aur baith jaa BHai ki god mein ..jara uske hathiyaar ki jhalak to le le bahar se ..dekh na kaisa kadak ho raha hai "

Aur aisa bolte hue Sindhu jhat khaat se uthee , BIndu ke saamne gayee , use hathon se thamaa , uthaayaa aur meri god mein daal diya...aur khud bhaagti hui Maa ke paas chali gayee ..

Mera lund sahee mein tann thaa ...Bindu ke bhari bhari mulayam chutad ke bhaar se main sihar uthaa ..maine use apne seene se lagayaa aur uski bhari bhari chuchiyaan halke halke masalne laga ...Bindu meri god mein kasmasaa rahee thee aur mera louDaa uski chutad ki gudaaz phankon mein dhansa thaa ...Bindu bhi sihar uthee

Maine uske chehre ko apni taraf karte hue uske narm aur garm honthon par apne honth rakh diye aur choosne laga ...

Bindu ne ankhein band kar lee theen aur siskariyan le rahee thee ...par wo Sindhu ki tarah bedhadak aur bindaas nahee thee...thodi der mein hi uski sharm aur laaz us par haabi ho gaye , us ne siskaariyaan lete hue phusphusaate hue kaha .." Bhai ..abhi chodo na ....kya karte ho ...Maa dekhegi na ...."

Maine dheemi awaaz mein uske galon ko choomte hue kahaa.." Hmmmmm.. ..to phir akele mein sab kuch karegi kya ..?"

" Jab akele honge to dekhenge .." Aur jhat se apne ko meri bahon se chhoodaati hui mere galon ki choommee lete hue wo bhee Maa ki taraf chali gayee ..

Main uski is adaa par bas mar meeta ...Bindu dono se kitna alag thee ...uski jhijhak , uska sharmaanaa use aur bhi haseen banaa deta thaa ...

Thodi der mein hi ek thaali mein samose aur namkeen liye aur doosri thaali mein chaar glass chai liye teenon Maa betiyan aa gayeen ...samose aur chai ki thaliyan neeche farsh par rakh , teenon neeche baith gayeen , main bhi Maa ke paas aa kar baith gaya ...

Hum kitne dinon baad aaj is tarah saath baith chai pee rahe the...

"Maa ..aaj kitna achhaa lag raha hai na...sab saath saath baithe chai pee rahe hain .." Maine kaha

Sindhu ne bhi kaha " Haan ..Maa ..Bhai theek hi bol raha hai..ab se roj apan aise hi saath chai piyenge ..kitna achhaa lagta hai..."

Maa ki ankhon mein aansoo the ... "Haan mere bachhon ...apnee jindagi mein aur kya hai..bas hum sab ka saath ...Bhagwaan hamesha hamein aise hi saath bananye rakhe ..."

Bindu se rahaa nahin gaya wo bhi bol uthee " Haan Maa ..hum sab hamesha aise hi rahenge ..hamein aur koi nahin chahiye..aur kuch nahin chahiye ...bas ....hum sab ek doosre ke liye sab kuch hain ..sab kuch ..."

" Waah waah ,,waah re Bindu ..tu bolti kam hai par jab bolti hai khoob bolti hai . kitni badi baat bol di tu ne ..hum sab ek doosre ke liye sab kuch hain .... " Maine kaha

" Haan Bhai sab kuch .....hai na Maa ...??" Bindu ne phir se bola..

Maa ne apne aansoo ponchte hue kaha " Haan Bindu ... "

Mahaul jara serious ho gayaa thaa..maine use halka banane ki koshish karte hue kaha

" Are waah re Bindu ..tu to meri sab kuch hai...phir itni door kyoon baithee hai....paas aa na ..." Bindu to sharmaate hue nazrein jhuka lee ..par Maa aur Sindhu hans pade ....

Tab tak chai peeni khatm ho gayee thee ...Maa aur Sindhu ne sab sameta aur dono chale gaye chulhe ki taraf ...Bindu bhi unke saath jane lagi ..maine use thaamate hue apni taraf khichaaa

" Tu to meri sab kuch hai meri raani ...." Aisa bolte hue uske honth choom liye ..is baar us ne bhi mera saath diya ..par phir thodi der baad kahaa :

" Bhai itni besabri kyoon kar rahe ho....bas aaj raat bhar ki to baat hai..kal mera sab kuch le lena na Bhai.....sach mano Bhai main sab kuch tujh pe loota doongi ..sab kuch..."

Aur mere galon ko choomte hue Sindhu aur Maa ki taraf bhaagtee hui chali gayee..

Maine uski ankhon mein ek ajeeb tadap, pyaar aur sharm ki milijuli jhalak dekhi...

Main man hi man aanewaali khushiyon se jhum uthaa ...


Aaj mujhe samajh aa gayaa achhee tarah ..... hum gareeb the jaroor , par pyaar , ek doosre ka saath aur khushiyon mein kitne amir the.... kitne amiron se bhi amir...

Teenon Maa betiyan choolhe ke paas jane kya kya khoosoor poosoor kartee raat ke khaane ki taiyyariyan kar raheen theen ..main aise hi khaat par ankhein band kiye leta leta bore ho raha thaa .

Main thodi der bahar nikal gaya , ghoomaa ghaamaa aur wapas aaya ..phir sab saath mil kar khanaa khaye aur main to khaat par jate hi sone laga ..kaphi thak gaya thaaa .... Sindhu aur Maa ki choodai ka asar thaa shayad ..

Thodi der baad mujhe aisa laga mere bagal koi aa kar leta hai....dekha to Sindhu thee ..

"Kya hai Sindhu ...mujhe sone de na .." Maine aadhi neend mein hi us se bola ..

" Bhai to maine kab kaha mat so...tu so na ..bas main tere hathiyaar ko pakad ke tere saath soti hoon ...mujhe use thaame bina chain nahee aa raha hai ...pakadne de na ..main aur kuch nahin karoongi ...."

Us ne dheemi awaaz mein kaha aur apne haath se mere pant ki zip khol dee , pant ko kamar se neeche sarka diya aur underwear ke andar haath daal mere lund ko apni muthee mein le liya ..main sihar uthaa

" Uff tu bhi na Sindhu ..." Maine jhujhlate hue kahaa

" Are Bhai ..kahe ko apna deemag kharaab karte ho...tu chupchap leta reh ..main bas apne pyaare lund ko sehlaoongi..dekh na Maa aur Bindu kaise so rahe hain neeche..unhein kuch pataa nahin chalega .."

'theek hai baba tera jo ji mein aaye kar main sota hoon " Aur maine uski or peeth kar ankhein band kar lee .

Sindhu bade aaraam aaraam se use sehlati jaati ,kabhi dabaa deti , kabhi supaadE ke upar nakhoon chalaati ....mujhe bhi achhaa lag rahaa thaa , bahut halka halka mehsoos hua aur main jaane kab gehri neend mein so gayaa..

Subeh uthaa to dekha sab kuch normal thaa ..pant ki zip lagee thee ..par tambu jaroor banaa thaa ....ek dum unchai liye hue ...

Maa chai banaa kar kaam pe nikal gayee thee , Sindhu jaane ki taiyyari mein thee aur Bindu kone mein khadi saaree pehen rahee thee ....Bindu hamesha saaree hi pehenti thee aur Sindhu salwaar kurta ...Bindu thodi bhari bhari thee ..saaree us par achee lagati ....

Sindhu ne kaha " Bindu dekh le re kaisa taiyyar hai Bhai ka hathiyaar ....bas le le aaj apne andar ...dekhna kitna mast hai re ...ufff mera to jee kar raha hai aaj phir se le loon andar ..." Aur us ne phir se mere louDe ko kas ke pakad liya

" Are chod Sindhu .....mujhe mootaas lagi hai re ...jaane de ..chod na ..." Aur main hadbadaataa hua uthaa ...apne haathon se apne lund ko dabaataa hua.....aur pani se bharaa mugga uthaayaa aur bahaar nikal gayaa ...

Bindu aur Sindhu meri badhaali par joron se hans padeen....

Jab main wapas aaya to dekha Bindu khaat par baithee thee ... Sindhu ka pataa nahin thaa ...

Maine idhar udhar dekha aur pucha " Sindhu nahin dikh rahee ...gayee kya..?"

" Haan Bhai gayee wo kaam par ..." Aur apna chehra munh se chupate hue hansne lagee ...

" Hmmmm ... yaane ki maidan saaf ..." Aur main use apne se jakad liya aur use khat par litate hue uske upar aa gaya ,

...uski saaree ki pallu seene se alag ho gayee thee ..uska seena dhaunkni ki tarah chal raha thaa .uski chuchiyaan upar neeche ho raheen theen ..badi sudaul thee , Sindhu se.thodi badi ,hatheliyon me bharaa bharaa , bade achhe se mere hathon mein samaa gayee dono chuchiyaan ,.main unhein masalte hue Bindu ke honth choomne laga ..

" Ufffff Bhai thoda to sabra karo na baba..main kahan bhaag rahee hoon..aaj to poora din hai apne paas ..,maine aaj kaam ki chhottee kar lee hai...chalo utho Bhai ..haath munh dho lo ..saath chai peete hain ...phir jo jee mein aaye karo ...." Bindu ne mere haath hataa diye apne seene se aur mere chehre ko thaamate hue choom liya ...." Mere raja Bhai ..chal uth ..." Aur meri or muskuraate hue dekhi aur khaat se uthee , choolhe ki taraf chali gayee ..

Main to uske is roop se phir se dang reh gaya..kahaan to itni chup rehti hai aur abhi itni batein kar lee ...yei thaa Bindu ka kamaal ... mauke ke heesaab se apne ap ko dhaal leti ...

Main bhi uth gaya aur haath munh dho , khaat par baithaa Bindu ke chai laane ka intezaar kar rahaa thaa.

Bindu ek thaali mein do glass chai aur kal shaam ke bachche namkeen garam kar le aayee thee ...

Hum dono ne ek ek glass le li aur Bindu mere bagal baith gayee aur namkeen waali thaali apni god mein rakh liya ...

Main sarakte hue us se bilkul chipak gaya ...main uski sudaul, mansal aur mulayam janghon ki garmi apne jangh par mehsoos kar raha thaa.... main chai ki chuskian liye jaa raha thaa ...

" Bhai ..namkeen bhi khao na ...'"

" Tum khilao na Bindu apne haath se ....abhi to koi dekh nahin raha na ..." Maine use chhedte hue kahaa ..

"Ufff tum bhi na Bhai ...bade badmaash ho gaye ho ....achha chalo ..munh kholo ..."
kramashah…………………………………………..


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 08 Dec 2014 03:06

6

गतान्क से आगे…………………………………….

उस ने एक नमकीन उठाई अपनी उंगलियों से मेरे मुँह के अंदर डाला ..मैने उसका हाथ थाम लिया , नमकीन दाँतों से काटा और साथ में उसकी लंबी पतली उंगलियाँ भी अपने मुँह के अंदर ले लिया ..और उन्हें चूसने लगा .....

बिंदु ने हाथ हटाने की नाकामयाब कोशिश की ..मेरी पकड़ बहुत मजबूत थी ...

मैं उन्हें चूस्ता रहा ....

" भाई तू कितना प्यार करता है हम सब से ..? तुझे मेरी उंलगलियाँ भी इतनी प्यारी हैं..?''

मैने उसकी उंगली अपने हाथ से पकड़ा रहा पर उंगलियाँ मुँह से निकालते हुए कहा ..

:" हां री बिंदु ..बहुत ...मैं तेरे लिए कितना तड़प रहा था कल से ...मेरा वश चले तो तुझे नंगा कर के पूरे का पूरा खा जाऊं बिंदु ..सही में ...."

" चल गंदे..ऐसा भी कोई करता है... मेरा हाथ छोड़ो..चाइ तो पूरी पी लो भाई ."

" बिंदु प्यार में कुछ भी गंदा नहीं होता ..सब अच्छा लगता है रे ..." मैं फिर चाइ की चुस्की ली और उसकी उंगलियाँ चूसने लगा .....

" तू मान ने वाला नहीं ठीक है बाबा तू चाइ और मेरी उंगलियों का ही नाश्ता कर ..." हारते हुए उस ने अपना वो हाथ मेरे हवाले छोड़ दिया और खुद चाइ और नमकीन खाती रही ...

मैं नमकीन भी खाता..चाइ की चूस्कियाँ भी लेता उसकी उंगलियाँ भी चूस्ता रहा ....

बिंदु भी काफ़ी गर्म हो गयी थी ..उसकी आँखों में एक हल्का सा शुरूर सा छा गया था ...

वो भी अब मस्ती के अलाम में थी..

चाइ पीने के बाद मैने सोचा के वो थाली रखने कोने की ओर जाएगी ..पर अब उसे मेरे साथ की इतनी प्यास थी..उस ने थाली नीचे फर्श पर रखते हुए उसे खाट के अंदर ही सरका दिया ..और एक नशीली मुस्कुराहाट अपने चेहरे पर लाते हुए मेरी ओर देखती रही ....मानो मेरे अगले कदम का उसे इंतेज़ार हो...

मैं भी उसे देखता रहा..एक टक..उस ने नज़रें झुका लीं ..मैं उसके इस अदा पर मर मिटा..

उसकी खाट से नीचे लटकती टाँगों को उठाते हुए अपनी गोद पर ले आया ...इस तरह कि उसकी चूतड़ मेरी गोद में थी और टाँगें खाट पर ..उसकी पीठ को जकड़ता हुआ अपनी तरफ खिचा ..अपने सीने से लगाया और बूरी तरह उस से चिपक गया ..उसके होंठ चूमने लगा..उसकी गर्दन चूमने लगा ..उसकी छाती चूमने लगा ..बिंदु ने अपनी बाहें मेरी गर्दन के गिर्द लपेट ली और मेरे से और भी चिपक गयी ....

सिसकारियाँ निकल रही थी ...उसके मुँह से ....मैने अब उसके होंठों को जोरों से चूसना शुरू कर दिया और अपनी जीभ भी उसके होंठों के बीच लगाया ...उसके होंठ चाटने लगा ....उस ने अपना मुँह खोल दिया मैं टूट पड़ा उसके मुँह के अंदर ....जीभ पूरा अंदर कर दिया और अंदर उसके मुँह का रस, लार सब कुछ जीभ से चाट ता जाता ...उसके तालू पर जीभ फिराता ..उसके गालों के अंदर चाट ता ....उफफफफफ्फ़ ..एक अजीब ही स्वाद था बिंदु का ...

वो आँखें बंद किए मेरे गले में बाहें डाले मस्ती में थी ..सिसक रही थी...

मैने अपने हाथ उसकी पीठ पर ले जाते हुए उसकी ब्लाउस के हुक खोले ...उसके बाहों से अलग करते हुए उतार दिया .....उफफफफ्फ़ उस ने ब्रा भी नहीं पहना था ...उसकी भारी भारी चुचियाँ उछलते हुए मेरे सीने से लगीं .....अयाया ..कितना मुलायम , और भरा भरा था ..मैं उसके मुँह के अंदर जीभ फिरना चालू रखा ..अपने हाथ उसकी चूचियों पर रखा और मसल्ने लगा..उसकी घूंदियों पर अपनी उंगलियाँ चलाता रहा ..घुमाता रहा ....

बिंदु मेरी गोद में तड़प रही थी ...इसी तड़प में उस ने मेरी जीभ अपने होंठों से पकड़ लिया और जोरों से चूसने लगी ..मानो अपनी तड़प मेरी जीभ से चूस चूस मिटाना चाह रही हो..उसके हाथ मेरे गले में और , और टाइट होते जा रहे थे ...वो मुझ में समा जाना चाह रही थी ...

मैं मुँह को उसके मुँह से हटाया ..उसका उसकी पीठ अपने हाथों से थामा और मुँह उसकी चूची पर लगा जोरों से चूसने लगा

"आअहह ......उफ़फ्फ़ हाइईईईई ...ऊवू भाई ...आआआआः क्या कर रहे हो....." बोले जा रही थी , उसका चेहरा पीछे की ओर लटक गया था ..आँखें बंद थीं ....सर हिलाए जा रही थी और मैं उसकी एक चूची चूस रहा था दूसरी मसल रहा था ....

उसके पैर भी कांप रहे थे मेरी गोद में ...उसकी चूतड़ भी उछल रही थी ...जितना चूस्ता उतना ही काँपती और चूतड़ उछालती ...

" भाई ..मैं मर जाऊंगी ..ऊवू भाई ये क्या है ....आआअह्ह "

मेरा लौडा भी उसके चुतडो के बीच फनफना रहा था ..

मैने उसकी कमर से सारी ढीली कर दी ....पेटिकोट का नडा खोल दिया ...वो भी समझ गयी और अपने चूतड़ उपर कर दी....

मैने एक झटके में ही उसकी पेटिकोट और सारी टाँगों से बाहर कर दी ..वो मेरी गोद में बिल्कुल नंगी थी .....

मैने सब कुछ छोड़ उसके नंगे बदन निहार रहा था ...हम दोनो बस हाँफ रहे थे ..एक दूसरे को देखे जा रहे थे ....

मैं उसे फिर से अपनी बाहों में लिया और खाट पे लिटा दिया और खुद भी अपने कपड़े उतार उसके उपर आ गया..

आआआह दो नंगे बदन आपस में चिपके ..दोनो एक दूसरे में समाए को बेताब ..दोनो एक दूसरे की गर्मी और शरीर की नर्मी महसूस कर रहे थे ...

मैने फिर से उसे चूमना शुरू कर दिया ..उसकी चुचियाँ मेरे सीने से चिपकी थीं ..मेरी जाँघ उसकी जाँघो पर थी ..मेरा लौडा उसकी अब तक बूरी तरह गीली चूत दबाए जा रहा था और मेरे होंठ उसके होंठ चूस रहे थे ....अब वो भी मुझ में समा जाने की जोश में अपने हाथों से मेरी पीठ को जाकड़ लिया था और अपनी तरफ दबाए जा रही थी और मेरे होंठ चूसे जा रहे थी ..चूसे जा रही थी ..

" उफफफ्फ़ भाई.....भाई ..क्या हो रहा है..मेरे अंदर ...लगता है सब कुछ बाहर निकल जाएगा ...ऊवू भाई ..कुछ करो ना ....आआआः.." बिंदु कुछ भी बोले जा रही थी ....

अब मेरा भी धीरज छूट रहा था ..

मैं उसकी जांघों के बीच आ गया ..उसकी टाँगें फैला दीं ''उफ़फ्फ़ क्या टाइट फुद्दि थी बिंदु की ...थोड़ी और चौड़ी सिंधु से और ज़्यादा फूली फूली ....

रस से सराबोर ....मैने अपनी उंगलियों से उसकी फुद्दि की फाँक अलग की ....वोई गुलाबीपन ..वोई चमकीला गुलाबी .....मैं देखता रहा ..

बिंदु आँखें बंद किए लंबी लंबी सांस ले रही थी

मैने उसे और भी गीली करना चाहता था ''जिस से उस कुँवारी चूत में मेरा मोटा लंड बिना ज़्यादे मुश्किल के चला जाए ..

मैं उसकी फैली टाँगों के बीच झूक गया ..उसकी फुद्दि उंगलियों से अलग की और अपनी जीभ वहाँ लगा दी ...और एक बार उपर नीचे किया ..

बिंदु एक दम से उछल पड़ी ...उसकी टाँगें थरथरा गयी " ऊऊऊउउउउह भाई ....अया क्या किया तू ने .....सहा नहीं जाता भाई ......." उसकी चूत से पानी रीस्ता जा रहा था ..मैं थोड़ी देर तक अपनी जीभ फुद्दि पर चलाता रहा ..वो तड़प उठ ती हर बार .... उसकी फुददी के अंदर कपकपि होने लगी ..चूतड़ उछलने लगे ......

" भाई ..भाई कुछ करो ना ...करो ना ..अब सहा नहीं जाता ..मैं मर जाऊंगी भाई ...मर जाऊंगी ....हाई रे ..आह ये क्या है....भाई रहेम करो मेरे पर ..कुछ करो ना ....." बिंदु तड़प रही थी ...

मैं भी तड़प रहा था ...

" बिंदु ,,,देख थोड़ा दर्द होगा ..तू संभाल लेना ..." मैने कहा

" हां भाई मैं जानती हूँ ..तू फिकर मत कर भाई ...आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह तू डाल दे अब ..डाल ना रे ...डाल दे ना देर मत कर .."

मैं घुटनों के बल बैठ गया , अपना तन्नाया लौडा हाथ से थामते हुए उसकी संकरी फुद्दि के मुँह में लगाया और हल्के से दबाया...बिंदु की चूत इतनी गीली थी और मेरी जीभ चलाने से शायद उसके मसल्स ढीले हो गये थे ..फतच से सुपाडा अंदर चला गया ....

बिंदु सिहर गयी ... मैं रुक गया ...

" मत रूको भाई ..पूरा डाल दो कुछ नहीं होगा ....बस डाल दो "

उस ने मेरी चूतड़ अपने हाथों से थाम लिया और अपनी ओर दबाया ..उसी के साथ मैने भी धक्का लगाया ...साला लंड फथचफाचता हुआ अंदर चला गया ..आधे से भी ज़्यादा ..

पर बिंदु की दबी सी चीख निकल गयी और आँखों से आँसू टपकने लगे ..

मैं रुक गया ..उसे अपने से और भी चिपका लिया और उसके होंठ चूसने लगा..उसकी चुचियाँ हल्के हल्के मसल्ने लगा ..

वो शांत हो गयी ...अब मैने अपना लौडा बाहर निकाला सिर्फ़ सुपाडे तक ..और फिर जोरों से धक्का दिया ..बिंदु ने भी मेरे चूतड़ दबाए ..पूरा लंड अंदर था ...

बिंदु कांप रही थी ..उसकी फुद्दि भी कांप रही थी ..उस ने बड़ी मुश्किल से अपनी चीख दबाई थी ...मैं लौडा अंदर लिए लिए ही पड़ा रहा थोड़ी देर ..

मुझे ऐसा महसूस हुआ जैसे किसी ने बड़ी जोरों से अपनी मुट्ठी से मेरे लौडे को जाकड़ रखा हो ...

मैं बिंदु को चूमे जा रहा था ..चूसे जा रहा था , उसे अपने सीने से चिपकाए रखा ..

अब फिर थोड़ी देर बाद धीरे धीरे अंदर बाहर , अंदर बाहर का खेल चालू हो गया ...बिंदु पसीने से लत्पथ थी ...

अब उसे अंदर लेने में कोई परेशानी नहीं थी ...." हां भाई अब डालते जाओ ..रूको मत ..हां भाई अब दर्द नही है भाई ..तू कितना अच्छा है ..मेरा सोना भाई..मेरा राजा भाई ,,हां रे मैं निहाल हो गयी ...हां अब करते जाओ ..करते जाओ ...एयाया हाआँ रे मत रुक .."

उसकी ऐसी बातें सुन सुन मैं मस्त होता जा रहा था और मेरे धक्के भी ज़ोर पकड़ते जा रहे थे....

मेरा भी बुरा हाल था ...टाइट चूत में लंड भी काफ़ी अकड़ जाता है ....काफ़ी घिसाई के मारे सारा मज़ा वहाँ लंड के अंदर जमा होता जाता है ....बाहर निकलने को बेताब ..

बिंदु हाई हाई कर रही थी ..कांप रही थी .उसकी चूत बहुत गीली थी


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 08 Dec 2014 03:09

अचानक मुझे ऐसा महसूस हुआ उसकी चूत की पकड़ मेरे लंड पर टाइट हो गयी ..मानो उसे और भी जाकड़ लेगी ..फिर ढीली हुई ..फिर टाइट और फीर बिंदु का पूरा बदन ऐंठ गया ..उसकी चूतड़ ने मेरे लंड पर एक दो बार उछाल मारी और तेज धार मेरे लंड पर महसूस हुआ ..बिंदु ढीली पड़ गयी मेरे नीचे ...उसके हाथ पैर ढीले पड़ गये ..वो निढाल हो कर मेरे नीचे पड़ी थी..

मैं भी दो चार धक्के और लगा उसकी चूत में फव्वारे छोड़ दिया..मेरा लंड झटके ख़ाता हुआ झड़ता रहा ...बिंदु मेरे गर्म वीर्य की महसूस से कांप उठी ..सिहर उठी .. मैं पूरा झाड़ता हुआ , हांफता हुआ उसके सीने पर ढेर हो गया ..

दोनो हाँफ रहे थे ..

जब मेरी सांस ठीक हुई ..मैने अपना सर उसके मुलायम सीने से उपर उठाया ..उसे देखा ..बिंदु की आँखें अभी भी बंद थीं ..चेहरे पे एक सुकून था , मानो उस ने सारा जहाँ फ़तेह कर लिया हो .. ...होंठों पे हल्की सी मुस्कान थी ...

मैने उसके होंठों को चूम लिया ..

बिंदु ने आँखें खोल दीं ..मेरी ओर देखा ..मेरे बाल सहलाने लगी

" बिंदु ....दर्द ज़्यादा हुआ क्या..?"

उस ने कहा " भाई ..अगर येई दर्द है तो ऐसे हज़ारों बार का दर्द अपने भाई पर कुर्बान है ...तू रोज मुझे ऐसा दर्द दे भाई ..... "

और वो मुझ से चिपक गयी और खुशी के मारे फफक फफक के रो पड़ी .... ये रोना तभी आता है जब खुशियाँ सारी सीमायें तोड़ डालती हैं, जब किसी को ये समझ में ना आए के क्या कहे , कैसे कहे ....फिर आँसू ही आखरी सहारा होता है अपने आप को ज़ाहिर करने का ....

"भाई तुम कितने अच्छे हो ..कितने प्यारे हो ....उफफफफ्फ़ कितना प्यार है तुझे हम सब से ...."

" हां बिंदु .." और मैं फिर से उसके सीने पर सर रख दिया , दोनो एक दूसरे की बाहों में पड़े पड़े सो गये...

थोड़ी देर बाद मेरी नींद खुली ..मैने आँखें खोलीं..देखा बिंदु दुनिया से बेख़बर मेरे सीने से लगे अभी भी सो रही थी..कितनी मासूम लग रही थी ... उसका एक हाथ मेरे सीने पर रखा था ...

दीवार पर टाँगे एक पुरानी सी घड़ी पर नज़र गयी ...10 बज गये थे..मेरे काम पर जाने का टाइम हो चूका था .... बिंदु की तरफ नज़र गयी ..अफ कितनी हसीन लग रही थी ...उसका नंगा बदन मेरे से चिपका...चेहरे पर सुकून ..मानो मेरे सीने से लगी अपने आप को कितना महफूज़ समझ रही हो ...

मैं उठना चाहा ..पर जाने क्यूँ उसके हाथ मेरे सीने पर कस गये ...मानो मुझे रोक रही हो...मुझे समझ नही आया ये अंजाने में हुआ या उस ने जान बूझ कर किया....

मैं रुक गया...अपनी शर्मीली बहेन पर मेरा मन फिर से डोल गया ...मैने सोचा चलो आज का काम अपनी बहेन पर कुर्बान कर दो..उस ने भी तो आज सब कुछ मेरे पर कुर्बान कर दिया है...ऐसा मौका बार बार नहीं आता ....

मैं फिर से लेट गया ..और उस के चेहरे की तरफ घूमता हुआ आमने सामने लेट गया ..उसका चेहरा अपने हाथों में लिया और उसके होंठ चूमने लगा ...मेरे चूमने से उसकी नींद खुल गयी ...

" भाई ....अभी भी मन नहीं भरा ..? और कितना चूसोगे ..उफ्फ देखो ना मेरे होंठ कितने सूज गये हैं .." उस ने खुमारी से भारी आवाज़ में कहा ..

" बिंदु ..इस से कभी मन भरता है क्या..? मन करता है बस तुम्हें ऐसे ही चूस्ता रहूं .." और मैने ऐसा कहते हुए उसे अपने से और भी चिपका लिया.." तू ने ही तो कहा था ना मैं जो जी में आए करूँ ....तो रानी मैं वोई तो कर रहा हूँ.." मैने हंसते हुए कहा ..

बिंदु ने फिर से आँखें झुका लीं

" बड़े बेशरम हो ...तुम ..." धीमे से उस ने कहा ...और मेरे सीने पर प्यार से मुक्के लगाने लगी

मैने उसके हाथ पकड़ लिए और उसकी हथेली मुँह में डाल उसकी लंबी लंबी और मुलायम उंगलियाँ चूसने लगा ...

" भाई...तेरे को लगता है सब कुछ छोड़ मेरी उंगलियाँ ही इतनी अच्छी लगीं ...जब देखो चूसना शुरू करते हो .."

" हां रे बड़ी मस्त हैं ..." मैने कहा और चूसना शुरू कर दिया ...बिंदु भी अब मस्ती में आ रही थी ...उसकी आँखें बंद हो रही थीं

मैने एक टाँग उसकी जाँघ के उपर रख उसे अपने से और भी चिपका लिया ..अब उसकी चुचियाँ मेरे सीने से बिल्कुल चिपक गयी थीं ...मानो गुब्बारा चिपका हो..

मेरा लौडा भी उसकी जांघों के बीच उसकी चूत से रगड़ खा रहा था

बिंदु को भी अच्छा लगा ...उसकी चूतड़ भी अपने आप आगे की ओर हो गये ... मैने अपना हाथ नीचे किया उसकी चूत पर लगाया ...

काफ़ी चीपचीपा था ..मेरे वीर्य , उसके खून और रस से भरा भरा ...

बिंदु ने मेरे हाथ रोक लिए और कहा " भाई ज़रा रुक ना ..मैं अभी आई ...और उठ कर कोने की ओर गयी , मैने अपना सर घुमाया उसकी तरफ ...देखा तो पहले तो च्छुरर चुर्र मूतने की आवाज़ आई...बिंदु कोने में जहाँ पानी की बाल्टी रखी थी ..वहाँ एक नाली बनी थी ..वहीं बैठ कर मूत रही थी...अया उसकी चूत से मूत की धार की आवाज़ ने मुझे सन सना दिया .... फिर मैं देखा उस ने अपनी टाँगें फैलाई और एक गीले कपड़े से जांघों के बीच अच्छी तरह सॉफ किया , और दूसरा सूखा कपड़ा हाथ मे लेते हुए मेरी तरफ आई....

उफफफफ्फ़ ..पूरी की पूरी नंगी , मेरे सामने बिंदु खड़ी थी ...चलती हुई मेरी तरफ बढ़ रही थी ..मानो कोई मॉडेल फॅशन परदे में चल रही हो..इतना शेप्ली था बिंदु का बदन ..चुचियाँ उछलती हुई , पेट और भारी भारी जंघें हिलती हुई....चूत बिल्कुल सॉफ सुथरा , चमचमाती हुई .. चेहरे पर हल्की हल्की शर्मीली मुस्कान ...नज़रें आधी झुकी आधी खुली ...मैं तो बस पागल हो उठा और इसके पहले कि वो खाट पर बैठ टी , मैने उसे जाकड़ लिया ..अपने सीने से चिपका लिया ...और उसे बेतहाशा चूमने लगा ..कभी होंठों को, कभी चूचियों को..कभी पेट ..उफ़फ्फ़ मेरी समझ में नहीं आ रहा था क्या करूँ ..कहाँ कहाँ चूमूं...

" उफफफफफ्फ़.भाई क्या कर रहे हो...छोड़ो ना ...".और वो कसमसा रही थी मेरी बाहों में ...

मेरा लौडा फिर से खड़ा उसकी जांघों के बीच दबा था ...

"ठहरो ना भाई..इतने उतावले मत हो ना....देख ना तेरा हथियार भी गंदा है...मैं सॉफ कर देती हूँ..चल बैठ जा ...फिर जो चाहे करना ..छोड़ ना .."

और उस ने बड़ी मुश्किल से अपने को छुड़ाया ..मुझे धीरे से धकेलते हुए खाट पर बैठा दिया ..खुद नीचे फर्श पर बैठ गयी मेरे पैरों के बीच और मेरे तननाए लौडे को अपने हाथों में लिया और सूखे कपड़े से अच्छी तरह अपनी हथेली उपर नीचे करते हुए बड़े प्यार से पोंछने लगी...मेरे लौडे पर लगे खून , वीर्य और उसकी चूत के रस को पोंछती रही ...

मेरा लौडा हिल रहा था उसके हाथ के छूने से ...मैं बिल्कुल पागल हो गया ...

मैने उसे अपनी बाहों से जकड़ता हुआ उठाया और खाट पे लिटा दिया ..और उसके टाँग फैला दी ..आज पहली बार मैं इतना बेचैन हुआ था किसी की चूत में लंड पेलने को..

क्रमशः…………………………………………..