प्यास बुझती ही नही compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: प्यास बुझती ही नही

Unread post by 007 » 19 Dec 2014 10:25




Kamre me aate hi rashmi ne smriti ko gale lagaya aur pucha:
rashmi: kaisi rahi raat me......
smriti: kya matlab?
rashmi: jaan kar anjaan mat bano didi...bataao naa kaisa laga mere jethjee ka LUND
smriti: sharmate hue....dhattt..
rashmI:ple. didi bataao na
smriti: theek tha......par mujhse galti ho gayee...
rashmi: wo kya ddidi
smriiti: mene us bechare ko thappad mar diya tha
rashmi: kya?????
smriiti: hmmmm mene sorry bhi mangi thee...par wo kuchh nahi kiya sirf chudai ki
rashmi: yahi to punishment hai....
smriit: ye kaisa punishment hai.....?? punishment me to pain milta hai....naa ki anand
rashmi: aapko kaisa laga...ye punishment
smriit: mat puchho bahna...me bahak jaaoongi.
rashmi: to bahak jaao naa...kaun mana karta hai.

smriti ne rashmi ko apni banho me le liye aur bola:
smriiti: ab tum bataao ki ki tumhari chudai kaisi chal rahi hai
rashmi: mast.....jab me pahli baar hotel honeymoon me chudai karai thi to me kaafi mast ho gayee...aisa lagta thaa ki lund ko hamesa apne chut me dale rakhu.
par police ne sab gad-bad kar di.
smriiti: kaisi bad-bad?
rashmi: are police ka raid pada hotel me...hame yani females ko dhandhewali samajh rahe thee...bahut muskil se wanhaa se bhage hamlog...kyoki rishte to illegal hai hi.
aur phir jab ghar me hi malai mile to bahar jaane ki kya jarurat....tabhi se hamlog ghar me hi honeymoon manate hai...jee bhar ke....aur phir tumhari chudai bhi to yahi hye......ye (Raj) to chahte the ki koi hotel me tumhari chudai kari jaye...par mene manakar diya..........
smriit: dhatt......
rashmi: ab kahe ki sharmati ho....seal tutne ke baad aurat ko besharm ban jani chahiye.
smriiti: wo to ban hi gayee hu...aur phir meri seal bahut pahle hi tut chuki thee....
rashmi; wo to jiju ne todi thee..par bhar bhi to gaya hoga itne din ke bad.....ab theek hogi tumhari chut....tabhi to dard kar rahi hogi.
smriiti: haa...dard to kar raha hai abhi bhi...
rashmi: aat ki raat bhi karwa lo...jam ke...phir nahi karega
smriit: are nahi baba...ab himmat nahi hai...
rashmi: phir wahi??? are kara ke to dekho....
smriit: theek hai par ek shirt hai.................
rashmi: shart??? wo kya?
smriti: tumhe bhi bed par bilkul nangi aani hogi...me chudwaaoongi...par tum bhi mere saath hona chahiye...
rashmi: wow....tab to maja aa jayega.....par ye programme kal rakhte hai....tum bhi rest karo.....aur waise bhi ye (Raj) neha ke ghar jayenge...didi rahegi nahi...
bhai wah maja aa jayega....
smriti: hmmmmmmmmmmmm............tum theek kahti ho.....lets celebrate..................aur wo aage badhkar apni bahan ko chum liya .

Raj apne shop aa gaya thaa…..aak 3 din ke baad shop pe aya thaa …kaam jyada tha….paise ki recovery and staff ko salary bhi deni thee…wo pahle bank gaya phir shop pe aa gaya… ……shop par kaafi bhid thee..kyoki kai din se Doctor. Neha nahi aa rahi thee….pas wale doctor ke pas kaafi bhid umad padi thee..is wajah se Raj ki dukaan par bhi kaafi bhid thi…..Raj ne khud bhid ko handle kiya….karib 3 pm wo free hue…apne office me aa gaya…..is wajah se wo lunch ke liye ghar nahi aa saka…..aarti aaj kaafi ban-thak kar ayi thee….kyoki aaj aarti ka birthday thaa aur uska B.Pharma ke 1st year ka result bhi ana thaa…so wo subah se kaafi excitement thi. Aaj wo white silk saadi aur matchable blouse aur petticoat pahn rahi thee….kaafi khubsurat lag rahi thee….aj pata nahi Raj ko kya ho gaya tha…aaj jarurat se jyada hi khubsurat lag rahi thee….use dekhkar uska lund jyada hi erect ho chukka thaa…jab anita jhukti thee to uske dono kabutar blouse se bahar jhank leta tha…..jise dekhkar Raj kaafi romanchit ho raha thaa….wo ek tak anita ko dekhe jaa raha tha.a..aaj wo use guar se padh raha thaa….ki aisi kya baat hai is ladki me….jo naa chahte hue bhi ye itni garm lag rahi hai…..
Anilta: aise kya dekh rahe hai sir…….(sharmate hue) aur wo Raj ke bagal wale chair par baith gayi.
Raj: tum aaj jyada hi khubsurat lag rahi ho…..iski kya wajah hai?
Anilta: iski do bajah hai…ek to aaj mera birthday hai …aur dusra aaj meri 1st year b.pharma ka result aane wala hai….
Raj:are……aapne mujhe bataya nahi…..many happy returns of the day “JANM DIN MUBARAK HO” aur khade hokar anita ke gale lag gaya aur uske gaal par ek pappi le li……………..
Anilta buri tarah laja gayee…wow aha se bhag kar counter par aa gayee….use jate dekh kar Raj ne use rokne ki kosis ki…par tab tak chhotu aa chukka thaa….wo waqy ko badalte hue…..
Raj: chhotu….salary vouchure ban gaya hai…
Chhotu: ji sir…..ye lijiye……wo gaur se file dekhi………aur phr wo chhotu ko bola…sabhi ko bula lo…
Par staff to sirf 3 hi the…..chhotu, anita aur ek safai karmchari…………………..
Raj ne ye dono ko salary den eke baad anita ke pas aya….anita bulane par bhi office me nahi aye …..tabhi Raj ne aage badha aur anita ke haath pakad kar bola……ye lo salary…..
Aur ek packat pakada diya…………………….anita use receive kiya ……phir vouchure pe sign bhi kar diya….
Par vouchure dekha kar chaunk gayee…..ye kya salary to aaj 2000/- jyada mil raha hai….har mahine use 10,000/- milta thaa …..par aaaj to use 12000/- mil raha hai….
Anita: thank you sir……………sir aaj me aapse ek baat kahne wali thee…
Raj: haa haa bolo….kya kahna chahti ho….?
Anita: sir me aage continue nahi kar paaoongi……kyoki mera result aane wala hai…me 2nd yr me aa jaaoongi…..samay nhi milega…mene aapse kaafi kuchh sikha hai…..jiske liye thanks…..
raj: par me chahta hu ki tum job ko continue rakho…sirf tumhe manage karne hai……baaki kaa ham dekh lenge…..salary tumhare ghar pahunch jayegi…sirf 2 din aane honge in a week…..aur wo bhi 2 ghante ke liye…………………….kya itna kar sakti ho…?
Anita: ji…..me soch ke bataaoongi……………..
Raj: thanks…….aur ye lo bonus……5000/- ka ek cheque dete hue kaha…
Anita: sir iski kya jarurat thee……sir ye me nahi le sakti…
Raj: dekho…me tumpe koi upkar nahi kar raha hu…ye tumhar haq hai…aur ye sirf tumhe hi nahi sabhi staff ko de raha hu……….mere 4 shops hai…aur jis tarah se tum manage ki ho wo kabile-tarif hai.
Anita: thank you sir……
Sir…..me aapko aaj sham ko invite karna chahti hu…aapko aur aapke family ko apne birthday par….aaj sham ke 8 pm par me ghar par ek chhoti si party rakha hai…aapko aana jaruri hai.
Raj: thanks….par me nahi aa paaoonga…kyoki me aur meri wife Doctor. Neha ke ghar jaa raha hu….Doctor. Neha kaafi bimar hai…use dekhne ke liye jana hoga…..fir kabhi tumhare ghar par aynge....................

anita: thank you sir......phir wo office se jaane lagi.....tabhi Raj ne uska haath pakad liya.....aur bola...
Raj: sorry.........I am sorry for that
Anita: sorry....?? kis cheez ke liye?
Raj:mene tumhari izazat ke wagair Kiss jo kar liya......
Anita: sharma gayee.....par boli kuchh nahi....aur naa hi Raj ne uska haath choda.....mauke ko dekhte hue Raj ne use U turn kiya aur uske hontho par apne honth rakh diye aur buri tarah chumne chwo laga......anita iske liye taiyaar nahi the aur naa hi expectation thaa.....Raj ka ek haath uske chuchiyo par aa gaya aur use buri tarah dabane laga.......anita ko kuchh samajh me nahi aa raha thaa ki ise dhakka du...yaa thappar maru.......kyoki ye uska boss tha....

Jab anita se raha nah gaya to jor ka dhakka de diya...aur apne aapko chhuda kar wanhaa se bhag gaya.....Raj use dekhta rah gaya....use shamindagi bhi huee...ye mene kya kar diya.....ab me kya karu.....uska haal bahut kharab ho gaya..use ek dar satane laga...ki kahi anita bura na maj jaye....kahi wo naukri naa chod de......
Raj ne ab kya kar sakta thaa...aur anita ko dhundhne laga....anita ke aankho me aanshu the....par wo customer dealing kar rahi thee.......customer se paise aur de rahi thee...........Raj wanhaa se kahi chale jana uchit samjha.........wo uth kar neha ke clinic ke taraf chala gaya....karib 30 min ke baad wo dubara shop me aya.....ab wo anita se nazare bhi nahi mila raha thaa .........aur dusri taraf anita bhi use dekhkar chhenpgayee.....karib 5 pm anita apne ghar chali gayee....wo bhi bina batae............................

Raj ne ek care kar liya....kamla ko saath liya aur ghaziabad ki taraf chal diya....
karib 1 hr ke baad dono ghaziabad pahunch gaye....Doctor. Neha bed par padi hue thee...use saline laga hua thaa...pas me ek naukar fruit kaat raha thaa.....
Raj:hello...Doctor. sahiba.....ye kya haal bana raha hai....?
neha: hmmm theek hu...bas yu hi.....husband se panga le liya thaa...jor ka jhatka laga...........aur phir meri bleeding suru ho gayee...
Raj: tabhi to me kahta thaa ki thoda exparience hasil kar lo...par tum ho ki?
kamla: ohhhho..ab to bechari ko chod do....ek to ye bimar hai aur dusre tum sata rahe ho meri gudiya ko....
Raj: ohhhhoooo kya pyar hai.....ye gudiya nahi.....sex ki pudiya hai..waise neha .... dharmenDoctora ji (neha ke pati) kaha hai.....
neha: wo dawai lane gaya hai...abhi aa jayenge....
neha ne pas hi naukar ko kaha ki 2 chay le ane ke liye......naukar bahar chala gaya....kamla aur Raj dono idhar-udher ki baate karne lage.....
Raj: ab bataao ...kaisa lag raha hai......
neha: theek hu...2-4 din me clinic aane lagungi.....
tabhi dawaja khula aur dharmenDoctora room me aa gaya...wo jhuk kar dono ko pranam kiya.....Raj ne majak bhi kiya...are bhai...ye kya kar diya meri saali sahiba ko..............................dharmenDoctora sharmate hue wanhaa se jaane laga...tabhi kamla use rok li.....chay pi kar jaynenge.....baithiye..aur wo apna seat de diya...
dharmenDoctora: are nai...aap baithiye...me abhi aya...please biathiye....

kamla bathroom me jaane ke liye jane lagi....tabhi neha ne Raj se kaha....aaj kal kaafi busy rahte ho kya baat hai...do do ladkiyo ko handle kar rahe ho ...hai na.
Raj: are nahi......aur thahak maar kar hasne laga.
neha: ab to tum sudhar jaao...

Raj: tumhe hua kya hai…ye bataao…..
Neha: uterus infection hai…..
Raj: ye bimari kab se ho gayee
Neha: shaadi ke baad se
Raj: mahwari kaisi hai?
Neha: ye tum kyo puchh rahe ho? Aur phir tum doctor to ho nahi
Raj: me jo puchh raha hu wo bataao
Neha: theek hai …par pichhle month late aye thee
Raj: chudai kitne din ke baa dhoti hai
Neha: kya majak hai??? Jaiye me aapse nahi bolti
Raj: dekha……?? Tumhar men rog yahi hai…tum sab kuchh jaante hue bhi ignore karti ho…tabhi tumhari ye haal hai. Hame kya ….maro…me to chala….mere pas bhi waqt nahi hai…..
Neha: jiju…..naraz ho gaye…..? chalo maaf kar do….baba…..tum puchhte hi aisi baate ko mere ko kuchh hone lagta hai…
Raj: to phir ham hai na…?? agar dharmenDoctora se nahi hota hai to mujhe sewa ka mauka do? Mere hisaab se tumhara ilaaj ek hi hai……
Neha: achha………………?? wo kya?
Raj: agar me bata dunga to tum marne lagogi..yaa phir chillaogi….
Neha: muskurate hie….nahi bolungi…bolo
Raj: bas chudai…..aapko ek majboot lund ki jarurat hai…jo jam kar tumhari chudai kare.
Neha: aur kuchh????? Ya bol liye?
Raj: mere full and final hai…tumhe lund ki jarurat hai…naa ki dawai ki.
Tabhi room me kamla aa gayee…………………aate hie table par baith gayee aur bola….
Kamla: neha…tum ghabrao mat…sab theek ho jayega….dharmenDoctora ji aa rahe hai dawai lekar…saam tak chutti ho jayegi……par rest karne ki jarurat hai…….me yahi tumhare pas ruk jaati hu……subah niklenge ghar ke liye……kyo ji????
Raj: haa….haa…. par me gar chala jaaoonga…aur waise bhi mera yanha koi kaam to hai nahi.


NEHA: jiju....kya ghar jaaoge...yahi so jaao...bagal wale ward me....
Raj : mujhe neend nahi ayegi.....tum jaanti hi ho ki jab tak tumhari bahan meri banho me nahi rahti neend nahi aati hai
neha: to didi hai hi.....aur waise bhi ward me koi aur hai nai...ander se laga lena...kyo didi....
Raj: me to taiyaar hu....agar yahi makkhan mil jayegi to me bahar kyu jaaoonga......waise achha hota ki tumhar makkhan mil jaye khane ko to maja aajaye.
neha: my darling jiju......its red light area.....can't help u....sorry...aaj to didi se hi kaam chalana hoga....
kamla: are nahii.....tum ghar jaao...wanhaa ladkiya akeli hain....aur raat bhi ho rahi hai.....aur haa kal subah 9 baje aajana....
neha;oh hooo tabhi ye baar baar ghar jaane ko kah rahe hai...haa bhai 2-2 ladkiya jo hai....aur wo bhi kaafi sunder- samajhdar......rashmi to tumhara intezzar kar rahi hogi...aur uski sis ki to kahna kya...kya gazab ki maal hai.
Raj: tumne kab dekha use
neha: wo rashmi le kar ayee thee clinic me...use bhi uterus problem hai na.

Raj: meri ek paramarsh hai……ek baar tum meri rang me rang jaao…..sab theek ho jayega….kya kahti ho…..
Neha: dekhenge….filhal to theek hone se matlab hai….
Raj : wo to tum ho jaaogi…..aur wo jhuk kar neha ke gaal par ek kiss kar liya…… aur wanhaa se chala gaya………….use jaate hue dekh kar neha ne apne-aapse kaha…kya yah sahi kadam hoga….?? Kya kisi dusre mard se sex karna kya theek hoga???? Shayad nahi? Yaa shayad haa??? Uske man me kai sawal uth gaye……..nahi bilkul nahi….. aur phir dharmenDoctora kitna pyar karte hai…unhe me kabhi dhoka nahi de sakti…….aur phir kabhi bhi is tarah ke khayalat nahi aye…..ye baat aur hai ki kabhi kabhi BF dekh lati thee…..dosto se non-veg baate kar leti thee…par jab se mere jijaji aye hai…mera thought change ho gaya hai…..ye me kya soch rahi hi….ek Indian lady aur wo bhi married is tarah ki baate sochna theek nahi hai…..yahi sochte sochte wo so gayee………………………………………………………….
Ghar pahunchte hi Raj bathroom ki or chala gaya….use ab kisi ka dar to thaa hi nahi…bathroom ka dawaja khule hue hi lund nikalkar mutne laga….use kaafi jor ki sususu aa rahi thee……apni aankhe munde hue karib 5 min tak mut raha tha….jab mut khatam hue to apna lund ko jor jor se hilane laga aur turn ho gaya…..saamne rashmi khadi dekh kar muskura rahi thee………Raj ne jab dekha ki rashmi sabkuchh dekh li hai …tum muskurate hue uske pas aa gaya aur bina chain lagaye hi use chipak gaya………aur uske galo par ek pappy le li….rashmi bhi use chipak gayee………..aur boli:
Rashmi: neha kaisi hai?
Raj: theek hai….lund ka intjaar hai….
Rashmi: to de kyo nahi diya?
Raj: me to chahta tha par wo haa nai kaha to me kya karu
Rashmi: aurat ka “Na” Haa hota hai…..samjhe buddhu
Raj: mujhe malum hai par mujhe jabardasti chodna pasand nahi hai….Ab smriti ke case me dekho…ye akhir-kar chudi par mujhe achha aur maja nahi aya……
Rashmi: hmmmm me samjh sakti hu…par aurate itni asani se nahi khulti….samajik bandhan hoti hai….kya kare…bachpan se sikhaya jata hai ki kisi paraya mard se baat mat karna….akeli mat ghumna…wagairah wagairah…….
Raj: par ye to tum par bhi lagu hota hai…par tum ho ki……………..
Rashmi : is bandish me me bhi thee…me yu aapko apna sharer nahi di hu…isme mere husband ka bhi rajamandi thee…kai dafa wok ah chukka tha ki kisi dusre mard ke pas chali jaao…me kya karti………….aur uspe uska “Namardi”…..me kya karu….me to is ghar ko barbaad hone se bachaya hai…..ghar ki izaat ghar me rahni chahiye….tabhi ham aur aap ek hue hai….
Raj: ab jyada bhasan mat do….iske bare me socho…isme aag lagi hue hai…
Rashmi: to me kab mana kar rahi hu….lekin pahle khana kha lijiye………………aur ise ander karo
Raj: kyu…isne kya kia…ye to bechara hawa kha raha hai.
Rashmi: hawa nahi ghur raha hai…ki ghar me kaun kaun hai…kiska darwaja khula hai…..ghwo ke taiyaar hai……jise dekh kar mera darwaja bhi khulne ko taiyaar hai.
Raj: ne use apni baanho me le liya aur waise hi sidihiya chadhte hue smriti ke room ki taraf chalne laga….rashmi sirf ek gown me thee….ander ek pink color ki panty aur bra penh raha thaa…jo ki kaafi dikh raha thaa…..uska sara jism tarasa hua thaa…aur aisa lagta thaa ki rashmi aaj subah hi beauty parlour gayee thee..kyoki tango me ek bhi baal nahi tha….ek dam chikna….jise dekh kar Raj ka lund aur kada ho gaya….wo socha ki agar pair me bal nahi hai to chut par bhi baal saaf hoga……waise bhi rashmi apni chut hamesha shaved rakhti hai….jise Raj ko pata hai….use kai bar chod chukka hai…to use pata hai ki is kaam me rashmi ek dam parfect hai…wo ye bhi janti hai ki Raj ko kya chahiye…….ab wo uske arm-pitch ko dekhne laga…jo ki safachat theee….rashmi kaafi sexy dikh rahi thee…..jab 1st floor par aa gaya to rashmi ne kaha …aap mujhe niche utaro….didi ka room aa gaya hai….aap ander chalo…me khana lagati hu……smriti ko bhi bula lo…ai dinning room me wait karti hu….
Jab rashmi niche utri to uske lund se takra gayee……lund ka touch uske gaand par hua….
Rashmi: uiiiiii mmaaa lag gaye….ap ko kaha thaa na ki ise ander karo….lag gayee….
Raj: lag gayee….kahan meri jaan
Rashmi: chup besharm…..kutte
Raj: bataaogi bhi kuttia
Rashmi: meri ass par
Raj: ass means???
Rashmi: gaaaaaaaand……………….khus?
Raj:hmmmm to kahne me sharmati kyu ho
Rashmi: sharmati nahi….acting karti hu….jab acting hogi tabhi isme josh ayega…hai na?
Raj: tumhari isi ada par me marta hu…..aaj me tumhe puri nangi karke chodunga
Rashmi: hmmm par pahle khana khaya jaye.
Raj: achha tum chalo me abhi aya…..aur wo ander room me chala gaya…


007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: प्यास बुझती ही नही

Unread post by 007 » 19 Dec 2014 10:26

प्यास बुझती ही नही-15

राज रूम मे आया तो देखा कि मिरर के सामने स्मृति और ब्रा का हुक लगा रही है …वो बार बार अपना दोनो हाथ पीछे ले जाकर हुक लगाने की कोशिश कर रही थी……ये सीन देख कर कर राज को जोश आ गया…..क्या सीन था…उसने मिरर मे देखा….स्मृति की दोनो चुचिया….आज़ादी के लिए मिन्नते माँग रही थी…..कि आओ और मुझे मुक्त कराओ….ये मुझे मार डालेगी………………

राज: अरेरररीएरएरीई ये क्या कर रही हो….क्यो इन बेचारो पर इतना ज़ुल्म करती हो….देखो कैसे लाल हो गये है…ये दोनो……………..छोड़ो इसे मे कुच्छ करता हू….और ब्रा का स्ट्रॅप अपने हाथो मे लेना चाहा…तभी स्मृति ने उसे धकेल दिया………………….

स्मृति: खबरदार जो इन्हे च्छुआ…….तुम्ही ने इन्हे बिगड़ दिया है..हमेशा आज़ाद रहने को कहते है…मे क्या करू?….और फिर ये बिगड़ जाती है तो हमारी मुनिया भी बिगड़ जाती है….और आप को क्या है…..मतलब निकल जाने के बाद……….कोई मरे…या कोई जिए…उससे आपको क्या मतलब?

राज: अरे बाप रे….ये तो आग और धुआ दोनो साथ साथ है…..रब मुझे बचाए इन हसिनाओ से.

मेडम क्या बात है…..क्या मेरा कसूर है….क्यो मुझपर इल्ज़ाम लगा रही हो? अब देखो इस बेचारे को…जो तुम्हे देख कर आहे भर रहा है..

स्मृति: अरे बाप रे…ये तो हमे खड़े खड़े निगल जाएगा….ऐसे देख रहा है जैसे मानो खा जाएगा……पर है बहुत प्यारा……आइ लव इट.

राज: अब तुम आए हो लाइन पर….कितने नखरे कर रही थी….पर आइ आम अगेन सेयिंग “सॉरी फॉर दा दट” मुझे बिल्कुल अच्छा नही लगा…तुम्हारे साथ ज़ोर-ज़बरदस्ती करते हुए.

स्मरती: कोई नही….मुझे पता है कि आपलोगो ने जो भी किया है मेरे लिए…मेरी भलाई के लिए…मेरी लाइफ के लिए….थॅंक यू सो मच……सेक्स करने के बाद मेने जाना कि प्यार क्या होता है….मर्द का सुख क्या होती है.आपका और रश्मि का सुक्रिया …जो हमे जीना सिखाया.

राज: मेने जो कुच्छ भी किया रश्मि के कहने पर किया...और ये मेरा फ़र्ज़ भी था.....वाकई तुम बहुत हॉट लेडी हो...चोद्ने मे मज़ा आ गया क्या मस्त माल है...क्या मस्त चूत है.....

स्मृति: च्चिईीई....कितनी गंदी बाते करते हो

राज: क्यो...तुम्हे अच्छा न्ही लगा

स्मृति: ह्म्म पर मुझे कुच्छ कुच्छ होता है

राज: तो हो जाने दो.....कौन रोक रहा है

अच्छा छोड़ो ये लो लगाओ ब्रा का हुक

राज: ओह...हो....क्यो परे शान कर रही हो...अच्छा लाओ...और राज ने ज़ोर से खींच कर लगा दिया....बूब्स टाइट हो गयी....स्मृति ने यू तुर्न ले कर के अपनी बाँहे राज के गले मे डाल दी और उसके होंठो पर अपने होंठ रख लिए और चूसने लगी....दूसरी तरफ राज भी इसे आगोश मे ले कर उसके होंठो को चूसने लगा...साथ ही उसकी चुचियो से खेलने लगा.....स्मरती का एक हाथ उसके लंड पर था और दूसरा हाथ उसके सीने पर....दोनो फोरप्ले कर रहे थे...तभी रश्मि ने तालिया बजाई और कहा...खाना लग गया है....सॉरी फॉर इंट्रप्ट....पर खाना खाने के बाद अपना प्रोग्राम सुरू कर सकते है......

दीदी चले???

स्मरती: ह्म ठीक है...चलो

राज: ऐसे ही?

स्मृति: क्यो?

राज: सिर्फ़ ब्रा और पेटिकोट मे ही?

स्मृति: तो कौन सा सिनिमा देखने जा रही हू..घर मे ही तो हू...और फिर रश्मि को देखो...गाउन मे है सुबह से

राज: अरे नही मे तो ये कह रहा था कि आज कुच्छ स्पेशल करे क्या?

स्मृति: स्पेशल>>>> क्या?

राज:ह्म चाहते है कि तीनो बिल्कुल नंगे....हो जाए और जो मर्ज़ी आए वो करे....क्या कहती हो?

स्मृति: तुम्हारे सामने तो मे हो जाऊंगी...पर रश्मि के सामने मुझे शर्म आएगी.

राज: नही आएगी...मे हू ना.....और फिर रश्मि भी तो यही चाहती है....हम तीनो आज जी भर के सेक्स करेंगे...और जो मर्ज़ी होगी वो करेंगे...मंजूर?

स्मृति: ह्म्‍म्म्म अब मे भी आपके दौर मे शामिल हो गयी हू

जो चाहे वो करो..पर मर्यादा का ध्यान रखो.

राज: अरे मेरी जान चुदाई ही करेंगे...कारगिल लड़ाई करने नही जाएँगे.....तुम चिंता मत करो....बस मज़े लुटो....

अगर तुम्हारी इज़ाज़त हो तो ये ब्रा खोल दू?

स्मृति: अभी नही खाना खने के बाद....

राज ने अपने आपको समझाया...बेटा समय से पहले जल्द बाजी मत करो...उल्टी पड़ेगी...और फिर घी खुद दाल मे गिर रहा है तो उंगली क्यो टेढ़ी करे....?और मुस्कुरा कर वन्हा से चल दिया.

डिन्निंग टेबल पर रश्मि खाना लगा चुकी थी…..राज एक नेकेर पहने हुए था और आते ही सबसे पहले रश्मि को अपनी बाँहो मे लिया और उसके होंठो की चूमने-चूसने लगा……..रश्मि भी उनसे लिपट गयी और अपनी बाँहो का हार उन्हे पहना दिया…तभी रश्मि चौंक गयी…..क्योकि स्मृति सिर्फ़ एक ब्रा और पॅंटी मे सामने दिखी……आज पहली बार अपनी बड़ी बहन को इस रूप मे देख रही थी…वाउ…क्या ग़ज़ब का रूप था स्मृति का…..रश्मि अस्चर्य चकित रह गयी….

जब राज ने देखा तो उसे भी आनी बाँहो मे ले लिया….और कहा….

राज: ये रही ना बात…. क्या मस्त जवान है तुम्हारी……

स्मृति: सब आपका आसिर्वाद है…..

रश्मि: सिर्फ़ इनका ही नही मेरा भी है

स्मृति: ऑफ कोर्स यू ऑल्सो….

रश्मि:….थॅंक्स मेरी मा

राज: अरे यार तुम दोनो बाते ही करोगी भी या कुच्छ खिलाओगी.

रश्मि: अरे हां…खाना लगा है आ जाओ.

रश्मि खाना लगाने लगी…3 प्लेट लगाया…..पर राज ने कहा…नही सिर्फ़ 1 प्लेट होगी…और हम एक दूसरे को खिलाएँगे….और वो भी ज़मीन पर….

रश्मि:ये क्या बात हुई….? ज़मीन पर क्यू….टेबल पर क्यो नही

राज: इसलिए मेरी जान कि तुम दोनो मेरी गोद मे बैठकर खाना खओगि….और तुम दोनो ही मुझे खिलाओगी …और वो भी अपनी हाथो से नही ….अपने होंठो से….

रश्मि: ये क्या बात हुई…?? मेरे होंठो से खाएँगे….क्या मेरा जूठा खाएँगे?

राज: तो क्या हुआ….? अगर मे तुम्हारे होंठ चुसूंगा तो क्या वो जूठा नही होगा….तो फिर खाना खाने मे क्या है.

रश्मि: जैसी आपकी मर्ज़ी…..

रश्मि ने ज़मीन पर चादर बिच्छाया…..और राज, स्मृति और खुद बैठ गये…खाने को ज़मीन पर ही लगाया….एक तरफ रश्मि और दूसरी तरफ स्मृति………………….खाने को प्लेट मे लगाने के बाद रश्मि ने एक रोटी का टुकरा उठाया….और राज की तरफ बढ़ाया….

राज: अहहाा…मेडम…अपने होंठो से..ना कि हाथो से….

रश्मि : ओह यस….और रोटी का टुकड़ा अपने मुँह मे दबाया और फिर राज के होंठो के पास आ गयी…..पर बगल बैठे रहने से कनफ्र्टबल फील नही कर रही थी…..राज ने उसे कहा…तुम मेरी गोद मे आ जाओ एंटी डाइरेक्षन मे……रश्मि उठ कर उसकी गोद मे बैठ गयी रश्मि की चूचियाँ राज की छाती से टच करने लगी….रश्मि की चूत….राज के लंड पर दबने लगी.

पर गाउन की वजह से रश्मि को दिक्कत होने लगी…..राज ने कहा…डार्लिंग गाउन उतार दो….रश्मि ने मुस्कुराते हुए स्मृति को देखा….स्मृति ने भी मुस्कुराते हुए हामी भर दी…..रश्मि ने उठ कर अपना गाउन बड़ी अदा से उतारा…फिर राज के सर पर रख दिया….राज ने उसके गाउन को अपने लंड पर रगड़ा और फिर स्मृति के उप्पर फेंक दिया……स्मृति ने उसे टेबल पर रख दिया……रश्मि सिर्फ़ ब्रा और पॅंटी मे कयामत लग रही थी….भरा भर बदन, टाइट चुचिया…..(36द साइज़ की) और मोटी गांद पॅंटी के उप्पर से काफ़ी सेक्सी दिख रही थी….रश्मि ने अपने बदन को तोड़ते हुए टर्न किया जिससे रश्मि की गांद राज की नाक के पास आ गयी….राज गांद की गहराई मे अपनी नाक ले गया और सूंघने लगा…क्या मस्त सेंट थी….चूत के रस और गांद की गंध आ रही थी राज को ….जो कि काफ़ी मादक लग रही थी……अब उसने आगे बढ़कर रश्मि को टर्न किया जिससे उसकी चूत उसकी नाक के सामने आ गयी उसको भी ऐसा ही किया………..उधेर रश्मि को गुदगुदी हो रही थी….क्या कर रहे हो??? गुदगुदी हो रही है…..कुच्छ नही मेरी जान…? प्यार कर रहा हू….एक बात तो है…मे तुम्हारे बाप को धन्याबाद देना चाहता हू…क्या मस्त कुड़ी पैदा की है…मे तो जन्नत का सैर कर रहा हू…..भाई वाह क्या मस्त माल है.

007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: प्यास बुझती ही नही

Unread post by 007 » 19 Dec 2014 10:27

प्यास बुझती ही नही-15

राज रूम मे आया तो देखा कि मिरर के सामने स्मृति और ब्रा का हुक लगा रही है …वो बार बार अपना दोनो हाथ पीछे ले जाकर हुक लगाने की कोशिश कर रही थी……ये सीन देख कर कर राज को जोश आ गया…..क्या सीन था…उसने मिरर मे देखा….स्मृति की दोनो चुचिया….आज़ादी के लिए मिन्नते माँग रही थी…..कि आओ और मुझे मुक्त कराओ….ये मुझे मार डालेगी………………

राज: अरेरररीएरएरीई ये क्या कर रही हो….क्यो इन बेचारो पर इतना ज़ुल्म करती हो….देखो कैसे लाल हो गये है…ये दोनो……………..छोड़ो इसे मे कुच्छ करता हू….और ब्रा का स्ट्रॅप अपने हाथो मे लेना चाहा…तभी स्मृति ने उसे धकेल दिया………………….

स्मृति: खबरदार जो इन्हे च्छुआ…….तुम्ही ने इन्हे बिगड़ दिया है..हमेशा आज़ाद रहने को कहते है…मे क्या करू?….और फिर ये बिगड़ जाती है तो हमारी मुनिया भी बिगड़ जाती है….और आप को क्या है…..मतलब निकल जाने के बाद……….कोई मरे…या कोई जिए…उससे आपको क्या मतलब?

राज: अरे बाप रे….ये तो आग और धुआ दोनो साथ साथ है…..रब मुझे बचाए इन हसिनाओ से.

मेडम क्या बात है…..क्या मेरा कसूर है….क्यो मुझपर इल्ज़ाम लगा रही हो? अब देखो इस बेचारे को…जो तुम्हे देख कर आहे भर रहा है..

स्मृति: अरे बाप रे…ये तो हमे खड़े खड़े निगल जाएगा….ऐसे देख रहा है जैसे मानो खा जाएगा……पर है बहुत प्यारा……आइ लव इट.

राज: अब तुम आए हो लाइन पर….कितने नखरे कर रही थी….पर आइ आम अगेन सेयिंग “सॉरी फॉर दा दट” मुझे बिल्कुल अच्छा नही लगा…तुम्हारे साथ ज़ोर-ज़बरदस्ती करते हुए.

स्मरती: कोई नही….मुझे पता है कि आपलोगो ने जो भी किया है मेरे लिए…मेरी भलाई के लिए…मेरी लाइफ के लिए….थॅंक यू सो मच……सेक्स करने के बाद मेने जाना कि प्यार क्या होता है….मर्द का सुख क्या होती है.आपका और रश्मि का सुक्रिया …जो हमे जीना सिखाया.

राज: मेने जो कुच्छ भी किया रश्मि के कहने पर किया...और ये मेरा फ़र्ज़ भी था.....वाकई तुम बहुत हॉट लेडी हो...चोद्ने मे मज़ा आ गया क्या मस्त माल है...क्या मस्त चूत है.....

स्मृति: च्चिईीई....कितनी गंदी बाते करते हो

राज: क्यो...तुम्हे अच्छा न्ही लगा

स्मृति: ह्म्म पर मुझे कुच्छ कुच्छ होता है

राज: तो हो जाने दो.....कौन रोक रहा है

अच्छा छोड़ो ये लो लगाओ ब्रा का हुक

राज: ओह...हो....क्यो परे शान कर रही हो...अच्छा लाओ...और राज ने ज़ोर से खींच कर लगा दिया....बूब्स टाइट हो गयी....स्मृति ने यू तुर्न ले कर के अपनी बाँहे राज के गले मे डाल दी और उसके होंठो पर अपने होंठ रख लिए और चूसने लगी....दूसरी तरफ राज भी इसे आगोश मे ले कर उसके होंठो को चूसने लगा...साथ ही उसकी चुचियो से खेलने लगा.....स्मरती का एक हाथ उसके लंड पर था और दूसरा हाथ उसके सीने पर....दोनो फोरप्ले कर रहे थे...तभी रश्मि ने तालिया बजाई और कहा...खाना लग गया है....सॉरी फॉर इंट्रप्ट....पर खाना खाने के बाद अपना प्रोग्राम सुरू कर सकते है......

दीदी चले???

स्मरती: ह्म ठीक है...चलो

राज: ऐसे ही?

स्मृति: क्यो?

राज: सिर्फ़ ब्रा और पेटिकोट मे ही?

स्मृति: तो कौन सा सिनिमा देखने जा रही हू..घर मे ही तो हू...और फिर रश्मि को देखो...गाउन मे है सुबह से

राज: अरे नही मे तो ये कह रहा था कि आज कुच्छ स्पेशल करे क्या?

स्मृति: स्पेशल>>>> क्या?

राज:ह्म चाहते है कि तीनो बिल्कुल नंगे....हो जाए और जो मर्ज़ी आए वो करे....क्या कहती हो?

स्मृति: तुम्हारे सामने तो मे हो जाऊंगी...पर रश्मि के सामने मुझे शर्म आएगी.

राज: नही आएगी...मे हू ना.....और फिर रश्मि भी तो यही चाहती है....हम तीनो आज जी भर के सेक्स करेंगे...और जो मर्ज़ी होगी वो करेंगे...मंजूर?

स्मृति: ह्म्‍म्म्म अब मे भी आपके दौर मे शामिल हो गयी हू

जो चाहे वो करो..पर मर्यादा का ध्यान रखो.

राज: अरे मेरी जान चुदाई ही करेंगे...कारगिल लड़ाई करने नही जाएँगे.....तुम चिंता मत करो....बस मज़े लुटो....

अगर तुम्हारी इज़ाज़त हो तो ये ब्रा खोल दू?

स्मृति: अभी नही खाना खने के बाद....

राज ने अपने आपको समझाया...बेटा समय से पहले जल्द बाजी मत करो...उल्टी पड़ेगी...और फिर घी खुद दाल मे गिर रहा है तो उंगली क्यो टेढ़ी करे....?और मुस्कुरा कर वन्हा से चल दिया.

डिन्निंग टेबल पर रश्मि खाना लगा चुकी थी…..राज एक नेकेर पहने हुए था और आते ही सबसे पहले रश्मि को अपनी बाँहो मे लिया और उसके होंठो की चूमने-चूसने लगा……..रश्मि भी उनसे लिपट गयी और अपनी बाँहो का हार उन्हे पहना दिया…तभी रश्मि चौंक गयी…..क्योकि स्मृति सिर्फ़ एक ब्रा और पॅंटी मे सामने दिखी……आज पहली बार अपनी बड़ी बहन को इस रूप मे देख रही थी…वाउ…क्या ग़ज़ब का रूप था स्मृति का…..रश्मि अस्चर्य चकित रह गयी….

जब राज ने देखा तो उसे भी आनी बाँहो मे ले लिया….और कहा….

राज: ये रही ना बात…. क्या मस्त जवान है तुम्हारी……

स्मृति: सब आपका आसिर्वाद है…..

रश्मि: सिर्फ़ इनका ही नही मेरा भी है

स्मृति: ऑफ कोर्स यू ऑल्सो….

रश्मि:….थॅंक्स मेरी मा

राज: अरे यार तुम दोनो बाते ही करोगी भी या कुच्छ खिलाओगी.

रश्मि: अरे हां…खाना लगा है आ जाओ.

रश्मि खाना लगाने लगी…3 प्लेट लगाया…..पर राज ने कहा…नही सिर्फ़ 1 प्लेट होगी…और हम एक दूसरे को खिलाएँगे….और वो भी ज़मीन पर….

रश्मि:ये क्या बात हुई….? ज़मीन पर क्यू….टेबल पर क्यो नही

राज: इसलिए मेरी जान कि तुम दोनो मेरी गोद मे बैठकर खाना खओगि….और तुम दोनो ही मुझे खिलाओगी …और वो भी अपनी हाथो से नही ….अपने होंठो से….

रश्मि: ये क्या बात हुई…?? मेरे होंठो से खाएँगे….क्या मेरा जूठा खाएँगे?

राज: तो क्या हुआ….? अगर मे तुम्हारे होंठ चुसूंगा तो क्या वो जूठा नही होगा….तो फिर खाना खाने मे क्या है.

रश्मि: जैसी आपकी मर्ज़ी…..

रश्मि ने ज़मीन पर चादर बिच्छाया…..और राज, स्मृति और खुद बैठ गये…खाने को ज़मीन पर ही लगाया….एक तरफ रश्मि और दूसरी तरफ स्मृति………………….खाने को प्लेट मे लगाने के बाद रश्मि ने एक रोटी का टुकरा उठाया….और राज की तरफ बढ़ाया….

राज: अहहाा…मेडम…अपने होंठो से..ना कि हाथो से….

रश्मि : ओह यस….और रोटी का टुकड़ा अपने मुँह मे दबाया और फिर राज के होंठो के पास आ गयी…..पर बगल बैठे रहने से कनफ्र्टबल फील नही कर रही थी…..राज ने उसे कहा…तुम मेरी गोद मे आ जाओ एंटी डाइरेक्षन मे……रश्मि उठ कर उसकी गोद मे बैठ गयी रश्मि की चूचियाँ राज की छाती से टच करने लगी….रश्मि की चूत….राज के लंड पर दबने लगी.

पर गाउन की वजह से रश्मि को दिक्कत होने लगी…..राज ने कहा…डार्लिंग गाउन उतार दो….रश्मि ने मुस्कुराते हुए स्मृति को देखा….स्मृति ने भी मुस्कुराते हुए हामी भर दी…..रश्मि ने उठ कर अपना गाउन बड़ी अदा से उतारा…फिर राज के सर पर रख दिया….राज ने उसके गाउन को अपने लंड पर रगड़ा और फिर स्मृति के उप्पर फेंक दिया……स्मृति ने उसे टेबल पर रख दिया……रश्मि सिर्फ़ ब्रा और पॅंटी मे कयामत लग रही थी….भरा भर बदन, टाइट चुचिया…..(36द साइज़ की) और मोटी गांद पॅंटी के उप्पर से काफ़ी सेक्सी दिख रही थी….रश्मि ने अपने बदन को तोड़ते हुए टर्न किया जिससे रश्मि की गांद राज की नाक के पास आ गयी….राज गांद की गहराई मे अपनी नाक ले गया और सूंघने लगा…क्या मस्त सेंट थी….चूत के रस और गांद की गंध आ रही थी राज को ….जो कि काफ़ी मादक लग रही थी……अब उसने आगे बढ़कर रश्मि को टर्न किया जिससे उसकी चूत उसकी नाक के सामने आ गयी उसको भी ऐसा ही किया………..उधेर रश्मि को गुदगुदी हो रही थी….क्या कर रहे हो??? गुदगुदी हो रही है…..कुच्छ नही मेरी जान…? प्यार कर रहा हू….एक बात तो है…मे तुम्हारे बाप को धन्याबाद देना चाहता हू…क्या मस्त कुड़ी पैदा की है…मे तो जन्नत का सैर कर रहा हू…..भाई वाह क्या मस्त माल है.