मर्दों की दुनिया compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

मर्दों की दुनिया compleet

Unread post by raj.. » 11 Dec 2014 16:27

मर्दों की दुनिया

सुबह के 11.11 बज चुके थे जब मुझे अनु के साथ अकेले मे बात

करने का मौका मिला.

"रात कैसी रही?"मेने पूछा.

"ओह सूमी में बता नही सकती, बहोत मज़ा आया. पूरी रात अमित

ने मुझे कम से कम चार बार चोदा. सुबह जब हम सोकर उठे उसने

अपने लंड को मेरी चूत पर घिसते हुए कहा, 'अनु मेरी जान, मेरा

लंड तुम्हारी चूत को सुबह की सलामी दे रहा है' फिर उसने मुझे

एक बार और जोरों से चोदा."

"सच मे सूमी में बहोत खुश हूँ, और कौन लड़की खुश ना होगी,

जब उसे दिन भर के लिए एक पर्सनल नौकरानी मिल जाए और रात को

चोदने के लिए इतना शानदार पति और इतना तगड़ा लंड." अनु ने जवाब

दिया.

"हां अनु में भी बहोत खुश हूँ पर में ये जानना चाहती हूँ कि

क्या अमित को तुम्हारी चूत की झिल्ली के बारे मे पता चला?"

"ओह्ह्ह उस विषय मे, मुझे नही लगता कि उसका ध्यान उस पर गया

हो... जब उसने मेरी चूत मे पहली बार लंड घुसाया था तो में तो

ज़ोर से चिल्ला भी पड़ी थी.... तुम्हारे साथ क्या हुआ?" अनु ने जवाब

देते हुए पूछा.

"शायद उसे भी कुछ पता नही चला, चलो अच्छा ही हुआ," मेने भी

हंसते हुए कहा.

फिर हम रात के बारे मे बात करने लगे.

"सूमी पता है अमित तो पूरी रात मेरे सारे बदन को चूमता रहा

ख़ास तौर पर मेरी चुचियों को. पूर रात वो उन्हे मसलता रहा और

चूस्ता रहा पर हां उसे मुझसे एक ही बात से शिकायत थी, मेरी

चूत पर उगे बालों से.... में तो शाम को उन्हे सॉफ कर दूँगी."

अनु ने कहा.

"ओह अनु.... मुझे लगता है कि दोनो भाइयों का एक जैसा टेस्ट है.

सुमित को भी मुझसे यही शिकायत है." मेने कहा.

उस रात सुमित मेरी एक दम साफा चट चूत को देख कर बहोत खुश हो

गया, "में खुश हूँ कि तुमने अपनी झाँते सॉफ कर ली नही तो हर

वक़्त मेरी नाक मे घुसती रहती ये." कहकर उसने मेरी चूत को इस

बेदर्दी से चूसा की में तो चार बार झाड़ गयी.

जब हम दो बार चुदाई कर चुके थे उसने ज़िद कीकि में उसका लंड

चूसू, शुरू में तो मेने इनकार कर दिया, लेकिन उसके काफ़ी ज़िद

करने पर मेने उसके लंड को अपने मुँह मे ले लिया और चूसने लगी.

बहुत ही अछा लगा मुझे कई दीनो के बाद लंड चूसने मे. उस रात

मेरे काफ़ी मना करने के बावजूद सुमित ने मेरी गंद मे लंड घुसा

मेरी गंद मार दी.

सुबह जब मेने अनु से बात की तो उसने बताया की अमित ने भी उसके

साथ वैसे ही किया था, जैसे की दोनो एक दूसरे से सलाह करके ही

कर रहे हो.

एक दिन अमित ने कहा, "अनु और सूमी आज हम दोनो तुम दोनो को हमारे

खेत दीखा के लाएँगे. खाना हम घर से बना के ले चलेंगे कारण

आते आते शाम हो जाएगी."

बत्रा परिवार के खेत काफ़ी दूरी तक फैले हुए थे. हम कार से

सफ़र कर रहे थे और गाड़ी जिस गाओं या खेत से गुज़रती लोग दोनो

भाइयों को सलाम करते. दोनो भाई अपनी बीवियों को खेत दीखाने

लाए है ये बात आग की तरह चारों तरफ फैल गयी. जहाँ से भी

हम गुज़रते गाओं वाले हम ज़बरदस्ती रोक चाइ नाश्ता करने के लिए

कहते.

जब हम खाना खाने के लिए एक जगह रुके तो अनु बोल पड़ी, भाई मेरा

तो पेट भर गया है, मुझसे खाना नही खाया जाएगा."

"क्या ये सब लोग तुम्हारे लिए काम करते है?" मेने पूछा.

"हां करीब करीब बच्चो को छोड़ कर." सुमित ने जवाब दिया.

में और अनु मिलकर खाना निकालने लगे तभी अमित और सुमित ने एक एक

सिग्रेट सुलगा ली.

"सुमित लगता कि आज चाचू की तो निकल पड़ी है." अमित ने

हंसते हुए कहा.

"तुम्हारा कहने का मतलब क्या है?" मेने पूछा.

"वो तांगा दीखाई दे रहा है, जिसमे दो खूबसूरत लड़कियाँ बैठी

है?" अमित ने एक तांगे की तरफ इशारा करते हुए कहा.

"हां दीख तो रहा है, पर ऐसी क्या बात है?" अनु ने पूछा.

"मनु जो तांगा चला रहा है वो चाचू का ख़ास नौकर है, वो इन

लड़कियों को उनके पास ले कर जा रहा है, और में शर्त के साथ

कह सकता हूँ कि चाचू हमसे ज़्यादा दूर नही है." अमित ने कहा.

"उनके पास लेकर जा रहा है... तुमहरा कहने का मतलब क्या है..

क्या ये लड़कियाँ रंडी है?" मेने पूछा.

"नही ये रंडिया नही है, ये इन गाओं मे काम करने वाले मज़दूरों

की बीवियाँ है." सुमित ने जवाब दिया.

"तो तुम ये कहना चाहते हो कि चाचू इन सबको ......." अनु ने कहते

हुए अपनी बात अधूरी छोड़ दी.

"हां में यही कहना चाहता हूँ कि चाचू इनकी चूत का कीमा बना

देगा." अमित ने हंसते हुए कहा.

"तुम्हे कैसे पता?" अनु ने पूछा.

"क्यों कि कई शाम हमने चाचू के साथ गुज़ारी है जब वो इन

मज़दूरों की बीवियों को चोद रहा होता है." अमित ने हंसते हुए

कहा.

"क्या ये औरतें बुरा नही मानती?" मेने पूछा.

"नही.....क्या तुम्हे दीखाई नही दे रहा है कि ये सब कितनी खुश

है?" अमित ने जवाब दिया.

"हां ये खुश तो नज़र आ रही है.... पर क्यों खुश हैं ये बात

मेरी समझ के बाहर है." अनु ने कहा.

"में तुम दोनो को समझाता हूँ, चाचू बहोत ही ताकतवर है, उसका

लंड काफ़ी मोटा और लंबा है, औरतें उसके लंड से बहोत प्यार करती

है. कई बार औरतों मे आपस मे झगड़ा भी होता है चाचू से

चुदवाने के लीये.... हमने तो सुना है कि गाओं की औरतें मनु को

घूस तक देती है कि अगली बार वो उन्हे चाचू के पास ले जाए.

अमित ने समझाते हुए कहा.

"अगर ये बात सच है तो फिर गाओं मे बच्चो की कमी नही होगी?"

मेने भी हंसते हुए कहा.

"बदक़िस्मती से ऐसा नही हो सकता, चाचू बच्चे पैदा नही कर

सकता. चाचू जब छोटे थे उन्हे एक बीमारी हो गयी थी जिससे उनके

वीर्या मे इन्फेक्षन हो गया था." सुमित ने कहा.

"तभी चाचू ने शादी नही की है ना?" अनु ने कहा.

"वो तो ठीक है... पर क्या इन औरतों के पति कोई अप्पति नही

उठाते?" मैने पूछा.

"नही पहली बात तो ये सब मज़दूर हमारे वफ़ादार है, फिर उन्हे

पैसा सुख आराम सभी चीज़ तो मिलती है हमसे...." सुमित ने कहा.

"तुम इसे वफ़ादारी कहते होगे में नही..." अनु ने कहा.

"तुम्हारी इस बात पर में कई सालों पहले की एक बात बताता हूँ."

सुमित ने कहा, "आज से 20 साल पहले चाचू इन खेतों का जायज़ा ले

रहे थे. तभी उनकी मुलाकात हमारे एक मज़दूर भानु से हुई जो अपनी

बैल गाड़ी हांकते हुए चला आ रहा था. तुम दोनो उससे नही मिली हो

लेकिन जब हम सहर जाएँगे तो तुम्हारी मुलाकात उससे हो जाएगी...

तुम्हारी जानकारी के लिए बता दूं वो मोना का बाप है."

"भानु तुम कहाँ थे इतने दिन, मेने तुम्हे देखा नही कई दीनो से?"

चाचू ने उससे पूछा.

"मालिक में अपने ससुराल गया था अपनी पत्नी को लाने," भानु ने

गाड़ी में बैठी एक औरत की और इशारा करते हुए कहा.

"तुम्हारी पत्नी? मुझे तो पता भी नही था कि तुम्हारी शादी हो

चुकी है?" चाचू ने चौंकते हुए कहा.

"मालिक हम दोनो की शादी तो बचपन मे ही हो गयी थी, अब मीना 18

की हो गयी है इसलिए इसका गौना कर घर ला रहे है." भानु ने

कहा, "मीना मालिक के पैर छुओ?"

मीना गाड़ी से उत्तरने लगी तो उसका घूँघट हट गया, "भानु तुम्हारी

बीवी तो बहोत सुन्दर है."

मीना चाचू की बात सुनकर शर्मा गयी और उसने अपना घूँघट एक

बार फिर ठीक कर लिया.

कुछ घंटो बाद चाचू जब घर पहुँचा तो देखा कि भानु वहीं

दरवाज़े पर उनका इंतेज़ार कर रहा था, "अरे भानु तुम यहाँ क्या कर

रहे हो? तुम्हे तो अपने घर होना चाहये था अपनी पत्नी के साथ मज़ा

करना चाहिए था," चाचू ने कहा फिर गाड़ी की ओर देखा जो खाली

थी, "तुम्हारी बीवी कहाँ है?"

"मालिक वो आपके कमरे मे आपका इंतेज़ार कर रही है. मेने उसे सब

समझा दिया है... वो आपको बिल्कुल भी परेशान नही करेगी." भानु

ने झुकते हुए सलाम किया और कहा.

कुछ देर के लिए तो चाचू को भानु की बातों पर विश्वास नही

हुआ, "ओह्ह्ह भानु तुम बहोत अच्छे हो तुम्हे इसका इनाम ज़रुरू मिलेगा,

अब तुम जाओ जब तुम्हारी ज़रूरत होगी में तुम्हे बुला लूँगा." चाचू

अपने कमरे की ओर भागते हुए बोले.

"तुम दोनो मनोगी नही चाचू दस दिन तक मीना को चोद्ता रहा फिर

ग्यारहवें दिन उसने भानु को बुलाया और इनाम देते हुए कहा, "भानु

हमे तुम्हारी वफ़ादारी पर नाज़ है. अब तुम अपनी बीवी को अपने घर ले

जाओ और मज़े करो इसके साथ," अब तुम दोनो बताओ इसे वफ़ादारी नही

कहेंगे तो क्या कहेंगे." सुमित ने अपनी बात ख़तम करते हुए कहा.

"क्या पापा भी चाचू की तरह इन मज़दूरों की बीवियों को चोद्ते

है?" अनु ने पूछा.

"हां.... हमने कई बार इन औरतों को पापा के कमरे मे जाते हुए

देखा है." अमित ने कहा.

"मम्मीजी को तो सब पता होगा? कैसे बर्दाश्त करती है वो ये सब?"

मैने पूछा.

"हां उन्हे सब पता है.... लेकिन वो बुरा नही मानती... यही सवाल

एक बार उनकी सहेली ने पूछा तो उन्हो ने जवाब दिया था "कि मुझे

अपने पति पर गर्व है कि एक औरत उन्हे संतूशट नही कर सकती...

ऐसी ताक़त है उनके लंड मे.... जब वो कमसिन लड़की को चोद्ते है

तो उस रात मुझे बहोत मज़ा आता है. में तो कहती हूँ कि तुम भी

अपने पति को तुम्हारी उस कमसिन नौकरानी को चोदने दो फिर देख वो

तुम्हारी कैसे बजाता है" मम्मी ने हंसते हुए कहा था.

"तो क्या मम्मीजी की सहेली ने उनकी बात मानी थी?" अनु ने मुस्कुराते

हुए पूछा.

"ये तो हमे नही पता लेकिन हां उस दिन के बाद उनके यहाँ एक नही

दो कमसिन नौकरानिया है." सुमित ने हंसते हुए कहा.

"और तुम दोनो का....क्या तुम दोनो भी किसी मज़दूर की बीवी को अपने

बिस्तर मे बुला सकते हो?" अनु ने पूछा.

"नही अभी तक नही बुलाया पर भविश्य का पता नही." अमित ने

कहा.

"मुझे तो अभी भी विश्वास नही हो रहा है कि ये मज़दूर लोग अपनी

बीवियों को अपने मालिक से चुदवाने के लिए भेजते है." मेने अपनी

गर्दन हिलाते हुए कहा.

"मुझे समझने दो तुम दोनो को.... तुम दोनो ने कीताबों मे पढ़ा ही

होगा की पुराने रजवाड़ों के ज़माने मे ज़मींदार अपने मज़दूरों को अपना

गुलाम ही मानते थे. हमारे परिवार मे भी कुछ ऐसा ही था, दादाजी के

जमाने मे गाओं की हर नई दुल्हन को पहले उनके पास लाया जाता जिससे

वो उसकी कुँवारी छूट को छोड़ सके. दादाजी काफ़ी टांदरुस्त थे और

उन्हे कुँवारी लड़कियों की चूत फाड़ने मे मज़ा भी बहोत आता था

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: मर्दों की दुनिया

Unread post by raj.. » 11 Dec 2014 16:27

mardon ki duniya paart--1

Subah ke 11.11 baj chuke the jab mujhe Anu ke sath akeyle me baat

karne ka mauka mila.

"Raat kaisi rahi?"meine pucha.

"Ohhhhh Sumi mein bata nahi sakti, bahot mazaa aya. Puri raat Amit

ne mujhe kam se kam chaar bar choda. Subah jab hum sokar uthe usne

apne lund ko meri choot par ghiste hue kaha, 'Anu meri jaan, mera

lund tumhari choot ko subah ki salami de raha hai' phir usne mujhe

ek bar aur joron se choda."

"Sach me Sumi mein bahot khush hun, aur kaun ladki khush na hogi,

jab use din bhar ke liye ek personal naukarani mil jaye aur raat ko

chodne ke liye itna shaandar pati aur itna tagda lund." Anu ne jawab

diya.

"Haan Anu mein bhi bahot khush hun par mein ye janna chahti hun ki

kya Amit ko tumhari choot ki jhilli ke bare me pata chala?"

"Ohhh us vishay me, mujhe nahi lagta ki uska dhyaan us par gaya

ho... jab usne meri choot me pehli bar lund ghusaya tha to mein to

jor se chilla bhi padi thi.... tumhare sath kya hua?" Anu ne jawab

dete hue pucha.

"Shayad use bhi kuch pata nahi chala, chalo accha hi hua," meine bhi

hanste hue kaha.

Phir hum raat ke bare me baat karne lage.

"Sumi pata hai Amit to puri raat mere sare badan ko choomta raha

khaas taur par meri chuchiyon ko. Puir raat wo unhe masalta raha aur

choosta raha par haan use mujhse ek hi baat se shikayat thi, meri

choot par uge baalon se.... mein to shaam ko unhe saaf kar doongi."

Anu ne kaha.

"Oh Anu.... mujhe lagta hai ki dono bhaiyon ka ek jaisa taste hai.

Sumit ko bhi mujhse yahi shikayat hai." meine kaha.

Us raat Sumit meri ek dam safa chat choot ko dekh kar bahot khush ho

gaya, "mein khush hun ki tumne apni jhaante saaf kar lee nahi to har

waqt meri naak me ghusti rehti ye." kehkar usne meri choot ko is

bedardi se choosa ki mein to char bar jhad gayi.

Jab hum do bar chudai kar chuke the usne jid ki mein uska lund

chooson, shuru mein to meine inkar kar diya, lekin uske kafi jid

karne par meine uske lund ko apne munh me le liya aur choosne lagi.

Bahot hi acha laga mujhe kai dino ke baad lund choosne me. Us raat

mere kafi mana karne ke bawjood Sumit ne meri gand me lund ghusa

meri gand mar di.

Subah jab meine Anu se baat k to usne bataya ki Amit ne bhi uske

sath waise hi kiya tha, jaise ki dono ek doosre se salah karke hi

kar rahe ho.

Ek din Amit ne kaha, "Anu aur Sumi aaj hum dono tum dono ko hamare

khet deekha ke layegne. Khana hum ghar se bana ke le chalenge karan

aate aate shaam ho jayegi."

Batra parivar ke khet kafi doori tak faiale hue the. Hum car se

safar kar rahe the aur gadi jis gaon ya khet se guzarti log dono

bhaiyon ko salam karte. Dono bahi apni biwiyon ko khet deekhane

laaye hai ye baat aag ki tarah charon taraf fail gayi. Jahan se bhi

hum guzarte gaon wale hum jabardasti rok chai naashta karne ke liye

kehte.

Jab hum khana khane ke liye ek jagah ruke to Anu bol padi, bhai mera

to pet bhar gaya hai, mujhse khaan nahi khaya jayega."

"Kya ye sab log tumhare liye kaam karte hai?" meine pucha.

"Haan kareeb kareeb bachoon ko chod kar." Sumit ne jawab diya.

Mein aur Anu milkar khana nikalne laga tabhi Amit aur Sumit ne ek ek

cigrette sulga li.

"Sumit lagta ahi ki aaj chaachu ki to nikal padi hai." Amit ne

hanste hue kaha.

"Tumhara kehne ka matlab kya hai?" meine pucha.

"Wo tanga deekhai de raha hai, jisme do khubsurat ladkiyan baithi

hai?" Amit ne ek tange ki taraf ishaara karte hue kaha.

"Haan deekh to raha hai, par aisi kya baat hai?" Anu ne pucha.

"Manu jo tanga chala raha hai wo chachu ka khaas naukar hai, wo in

ladkiyon ko unke paas le kar jaa raha hai, aur mein shart ke sath

keh sakta hun ki chachu hamse jyada door nahi hai." Amit ne kaha.

"Unke paas lekar jaa raha hai... tumahra kehne ka matlab kya hai..

kya ye ladkiyan randi hai?" meine pucha.

"Nahi ye randiya nahi hai, ye in gaon me kaam karne wale mazdooron

ki biwiyan hai." Sumit ne jawab diya.

"To tum ye kehna chahte ho ki chachu in sabko ......." Anu ne kehte

hue apni baat adhuri chod di.

"Haan mein yahi kehna chahta hun ki chachu inki choot ko keema bana

dega." Amit ne hanste hue kaha.

"Tumhe kaise pata?" Anu ne pucha.

"Kyon ki kai shaam hamne chachu ke sath guzari hai jab wo in

mazdooron ki biwiyon ko chod raha hota hai." Amit ne hanste hue

kaha.

"kya ye aurtein bura nahi manti?" meine pucha.

"Nahi.....kya tumhe deekhai nahi de raha hai ki ye sab ktini khush

hai?" Amit ne jawab diya.

"Haan ye khush to nazar aa rahi hai.... par kyon khush hain ye baat

meri samajh ke bahar hai." Anu ne kaha.

"Mein tum dono ko samjhata hun, chachu bahot hi takatwar hai, uska

lund kafi mota aur lamba hai, aurtein uske lund se bahot pyaar karti

hai. Kai bar aurton me aapas me jhagda bhi hota hai chachu se

chudwane ke liiye.... hamne to suna hai ki gaon ki aurtein Manu ko

ghhoos tak deti hai ki agli bar wo unhe chachu ke paas le jaye.

Amit ne samjhate hue kaha.

"Agar ye baat sach hai to fir gaon me bacchon ki kami nahi hogi?"

meine bhi hanste hue kaha.

"Badkismati se aisa nahi ho sakta, chachu bacche paida nahi kar

sakta. Chachu jab chote the unhe ek bimari ho gayi thi jisse unke

virya me infection ho gaya tha." Sumit ne kaha.

"Tabhi chachu ne shaadi nahi ki hai na?" Anu ne kaha.

"Wo to thik hai... par kya in aurton ke pati koi appati nahi

uthate?" Miene pucha.

"Nahi pehli baat to ye sab mazdoor hamare wafadar hai, fir unhe

paisa sukh araam sabhi cheez to milti hai humse...." Sumit ne kaha.

"Tum ise wafadari kehte hoge mein nahi..." Anu ne kaha.

"Tumhari is baat par mein kai saalon pehle ki ek baat batata hun."

Sumit ne kaha, "aaj se 20 saal pehle chachu in kheton ka jayja le

rahe the. Tabhi unki mulakat hamare ek mazdoor Bhanu se hui jo apni

bail gadi hankte hue chala aa raha tha. Tum dono usse nahi mili ho

lekin jab hum sehar jayenge to tumhari mulakat usse ho jayegi...

tumhari jaankari ke liye bata dun wo Mona ka baap hai."

"Bhanu tum kahan the itne din, meine tumhe dekha nahi kai dino se?"

Chachu ne usse pucha.

"Maalik mein apne sasural gaya tha apni patni ko lane," Bhanu ne

gadi mein baithi ek aurat ki aur ishaaara karte hue kaha.

"Tumhari patni? mujhe to pata bhi nahi tha ki tumhari shaadi ho

chuki hai?" Chachu ne chaunkte hue kaha.

"Maalik hum dono ki shaadi to bachpan me hi ho gayi thi, ab Meena 18

ki ho gayi hai isliye iska gauna kar ghar laa rahe hai." Bhanu ne

kaha, "Meena maalik ke pair chuo?"

Meena gadi se uttarne lagi to uska ghunghat hat gaya, "Bhanu tumhari

biwi to bahot sunder hai."

Meena chachu ki baat sunkar sharma gayi aur usne apna ghunghat ek

bar phir thik kar liya.

Kuch ghanto baad chachu jab ghar pahuncha to dekha ki Bhanu wahin

darwaze par unka intezar kar raha tha, "Are Bhau tum yahan kya kar

rahe ho? tumhe to apne ghar hona chahye tha apni patni ke sath maza

karna chahiye tha," chachu ne kaha fir gadi ki aur dekha jo khaali

thi, "tumhari biwi kahan hai?"

"Maalik wo aapke kamre me aapka intezar kar rahi hai. Meine use sab

samjha diya hai... wo aapko bilkul bhi pareshan nahi karegi." Bhanu

ne jhukte hue salam kiya aur kaha.

Kuch der ke liye to chachu ko Bhanu ki baaton par vishwaas nahi

hua, "ohhh Bhanu tum bahot acche ho tumhe iska inaam jaruru milega,

ab tum jao jab tumhari jaroorat hogi mein tumhe bula loonga." Chachu

apne kamre ki aur bhagte hue bole.

"Tum dono manogi nahi chachu dus din tak Meena ko chodta raha fir

gyarahaven din usne Bhanu ko bulaya aur inaam dete hue kaha, "Bhanu

hame tumhari wafadari par naaz hai. Ab tum apni biwi ko apne ghar le

jao aur maze karo iske saath," ab tum dono batao ise wafadari nahi

kahenge to kya kahenge." Sumit ne apni baat khatam karte hue kaha.

"Kya papa bhi chachu ki tarah in mazdooron ki biwiyon ko chodte

hai?" Anu ne pucha.

"Haan.... hamne kai bar in aurton ko papa ke kamre me jaate hue

dekha hai." Amit ne kaha.

"Mummyji ko to sab pata hoga? kaise bardasht karti hai wo ye sab?"

meien pucha.

"Haan unhe sab pata hai.... lekin wo bura nahi manti... yahi sawal

ek bar unki saehlli ne pucha to unho ne jawab diya tha "ki mujhe

apne pati par garv hai ki ek aurat unhe santoosht nahi kar sakti...

aisi takat hai unke lund me.... jab wo kamseen ladki ko chodte hai

to us raat mujhe bahot mazaa aata hai. Mein to kehti hoon ki tm bhi

apne pati ko tumhari us kamseen naukarani ko chodne de fir dekh wo

tumhari kaise bajata hai" mummy ne hanste hue kaha tha.

"To kya mmmyji ki saheli ne unki baat mani thi?" Anu ne muskurate

hue pucha.

"Ye to hame nahi pata lekin haan us din ke baad unke yahan ek nahi

do kamseen naukraniya hai." Sumit ne hanste hue kaha.

"Aur tum dono ka....kya tum dono bhi kisi mazdoor ki biwi ko apne

bistar me bula sakte ho?" Anu ne pucha.

"Nahi abhi tak nahi bulaya par bhavishya ka pata nahi." Amit ne

kaha.

"Mujhe to abhi bhi vishwaas nahi ho raha hai ki ye mazdoor log apni

biwiyon ko apne maalik se chudwane ke liye bhejte hai." Meine apni

gardan hilate hue kaha.

"Mujhe samjhane do tum dono ko.... tum dono ne keetabon me padha hi

hoga ki purane rajwadon ke zamane me zamindar apne mazdooron ko apna

gulam hi mante the. Hamare parivar me bhi kuh aisa hi tha, Dadaji ke

jamane me gaon ki har nai dulhan ko pehle unke paas laya jaata jisse

wo uski kunwari choot ko chod sake. Dadaji kafi tandarust the aur

unhe kunwari ladkiyon ki choot phadne me mazaa bhi bahot aata tha


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: मर्दों की दुनिया

Unread post by raj.. » 11 Dec 2014 16:28

मर्दों की दुनिया पार्ट--2



गतांक से आगे........................

मज़दूरों को ये बात पसंद नही थी, इसलिए हमारा धांडे मे बहोत

नुकसान भी हुआ कारण दादाजी सिर्फ़ दुल्हन को ही नही बल्कि उनके

परिवार की हर कुँवारी कन्या को चोद देते थे. जब भी वो खेतों मे

जाते तो मज़दूर अपने घर की कुँवारी लड़कियों को छुपा देते., अगर

उन्हे शक़ हो जाता तो अपने मुलाज़िमो से उनके घर की तलाशी लेते और

उस मज़दूर को मार मार कर उसकी चॅम्डी उधेड़ देते.

"फिर ये मज़दूर उन्हे छोड़ कर क्यों नही चले गये?" अनु ने पूछा.

"कुछ छोड़ कर चले गये... लेकिन ज़्यादा तर वहीं रुक गये, कारण

एक तो उस जमाने मे नौकरियाँ मिलती कहाँ थी, दूसरी बात कि उन्हे

पगार इतनी ज़्यादा मिलती थी कि वो छोड़ कर जा ही नही सकते थे.

"तुम्हारा कहना का मतलब है कि ये परंपरा अब भी तुम्हारे परिवार

मे चली आ रही है." मेने पूछा.

"हां चली तो आ रही है, लेकिन अब किसी के साथ ज़बरदस्ती नही की

जाती. जब पापा ने दादाजी की जगह ली तो मम्मी ने इस प्रथा को

बदल दिया. मम्मी ने पापा को समझाया कि गाओं की दुल्हन को चोदने

का हक सिर्फ़ उसके पति का है, उसे ही कुँवारी चूत को चोदने का

मौका मिलना चाहिए. इस बात ने मज़दूरों को खुश कर दिया और सब

मन लगाकर काम करते है जिससे हमारा धंधा भी काफ़ी बढ़ गया."

सुमित ने कहा.

मुझे लगा कि बात का विषय एक अंजाने ख़तरे की ओर बढ़ रहा है

तो में बात को बदलते हुए कहा, मम्मीजी सही मे बहोत अच्छी है..

कितना प्यार और अपनत्वपन है उनकी बातों मे."

"उनके चेहरे पर मत जाना." अमित ने कहा, तुमने कभी उन्हे गुस्सा

करते हुए नही देखा, गुस्से मे वो पूरी चंडिका बन जाती है." अमित

ने कहा.

"में विश्वास नही करती.... मम्मी और चंडिका हो ही नही सकता."

मेने कहा.

"तुम कभी उमा से मिली हो?" सुमित ने पूछा.

"तुम्हारा मतलब है मम्मीजी की पर्शनल नौकरानी जिसके कान पर

घाव है?" अनु ने पूछा.

"हां वही उमा पर वो उस घाव के साथ पैदा नही हुई थी, ये सब

मम्मी की मेहरबानी है." अमित ने कहा.

"तुम्हारा कहने का मतलब है कि वो घाव उसे मम्मी ने दिया है...नही

में नही मान सकती वो ऐसा कर ही नही सकती." मैने अपनी सास का

पक्ष लेते हुए कहा.

"अमित इन्हे बताओ कि क्या हुआ था तभी इन्हे विश्वास आएगा हमारी

बातों का." सुमित ने अपने भाई से कहा.

ये वो कहाँ है जो हमे अमित ने बताई.

जिस दिन चाचू ने मोना की मा मीना को चोदा था उसके ठीक तीन

महीने बाद की बात है. उमा की उम्र 18 साल थी जब मम्मी ने उसे

नौकरानी रखा था. वो मीना जितनी सुन्दर तो नही थी लेकिन उसका

बदन बहोत ही आकर्षक था. चाचू को वो पसंद आ गयी थी और वो

उसे चोदना चाहते थे. जब भी वो कमरे मे होती थी तो चाचू की

नज़र उसपर से हटती ही नही थी, ये बात एक दिन मम्मी ने देख ली.

"देवर्जी लगता है कि आपको हमारी उमा पसंद आ गयी है?" मम्मी ने

कहा.

"हां भाभी, उमा मुझे बहोत अछी लगती है." चाचू ने जवाब दिया.

"तो फिर क्या बात है, चोद दे हरमज़ाडी को." मम्मी ने कहा.

"भाभी में भी उसे चोदना चाहता हूँ, मेने कई बार उसे रात को

मेरे कमरे मे आने के लिए कहा लेकिन वो मानती ही नही" चाचू ने

शिकायत करते हुए कहा.

"चिंता मत करो, में उससे कहूँगी कि आज कि रात वो तुम्हारे कमरे

मे जाए." मम्मी ने चाचू से वादा कर दिया.

दूसरे दिन मम्मी चाचू को नाश्ते की टेबल पर देखकर चौंक

पड़ी, "देवर्जी आप इतनी सुबह यहाँ क्या कर रहे है? क्या उमा की

कोरी चूत पसंद नही आई? मम्मी ने पूछा.

"भाभी आप भी ना.... कौन सी चूत?" चाचू ने नाराज़गी भरे

स्वर मे कहा.

"तुम्हारा कहने का मतलब है कि उमा रात को तुम्हारे कमरे मे नही

आई, मेरे आदेश देने के बावजूद नही आई? मम्मी ने गुस्से मे

चाचू से पूछा.

चाचू ने हां मे गर्दन हिला दी.

"चिंता मत करो... तुम आज ही उसकी कुँवारी चूत चोदोगे.. ये

तुम्हारी भाभी का वादा है."

जब मैं अमित और सोना नाश्ते की टेबल पर पहुँचे तो देखा कि

मम्मी का चेहरा गुस्से से लाल हो रहा था. थोड़ी देर बाद पापा भी

आ गये. उस दिन खाने के टेबल पर किसी ने भी बात नही की थी सब

मम्मी का गुस्सा भरा चेहरा देख डरे हुए थे.

करीब आधे घंटे बाद मम्मी गुस्से मे चिल्ला उठी, "शेरा इस घर

मे अगर कोई हमारा कहना ना माने तो उसे क्या सज़ा मिलती है?"

"अगर कोई नौकर ऐसा करे तो उसे सख़्त सख़्त सज़ा मिलनी चाहिए."

पापा ने नाश्ता करते हुए कहा.

"में चाहती हूँ कि आप मेरी नौकरानी उमा को सज़ा दें, उसने मेरा

हुक्म मानने से इनकार किया है." मम्मी ने पापा से कहा.

"में तो कहूँगा की तुम उसे सज़ा दो कारण उसने तुम्हारा हुक्म नही

माना है." पापा ने जवाब दिया.

"हां में ही उसे कड़ी सज़ा दूँगी," कहकर मम्मी नाश्ते की टेबल से

खड़ी हो गयी, "बच्चो जल्दी से अपना नाश्ता ख़तम करो और अपने

कमरे मे जाओ, और वहीं रहना जब तक कि तुम्हे बुलाया नही जाए."

मम्मी ने गुस्से मे हम तीनो से कहा.

मम्मी का गुस्सा देख हम तीनो जल्दी जल्दी अपना नाश्ता ख़तम करने

लगे. सोना तो एक अछी बच्ची की तरह तुरंत अपने कमरे मे चली

गयी, लेकिन सुमित ने मुझे रोक लिया, "अमित लगता है कि कुछ ख़ास

होने वाला है, क्यों ना हम चुप चाप देंखे कि मम्मी क्या करती है."

हम दोनो चलते हुए एक खुल खिड़की के पास छुप गये और इंतेज़ार

करने लगे.

मम्मी ने दूसरे नौकर शामऊ को बुलाया जो हमे नाश्ता करा रहा था

और उससे बोली, "शामऊ जाकर उमा को यहाँ इस कमरे मे ले आओ, और

उसे इस कमरे से तब तक जाने ना देना जब तक में ना कहूँ."

थोड़ी देर बाद शामऊ उमा को पकड़े हुए कमरे मे आया. उमा डाइनिंग

टेबल की ओर मुँह किए खड़ी हो गयी.

"उमा मेने तुमसे देवर्जी के कमरे मे जाने के लिए कहा था क्या तुम

वहाँ गयी थी?" मुम्मय्ने पूछा.

उमा इतनी डरी हुई थी की उसने कोई जवाब नही दिया सिर्फ़ अपने पैरों

को घूरती रही.

"उमा में तुमसे बात कर रही हूँ, मुझे जवाब चाहिए?" मम्मी ने

धीरे से कहा.

उमा ने बिना उपर देखे अपनी गर्दन ना मे हिला दी.

"मेने सुना नही, मुँह खोल कर जवाब दो?मम्मी ने उँची आवाज़ मे

कहा.

उमा ने बड़ी मुश्किल से डरते हुए कहा, "नही मालकिन"

"तो तुमने जान बूझ कर मेरा आदेश नही माना." मम्मी उसके पास

आते हुए बोली. फिर मम्मी उसके चारों और घूम घूम कर उसे देखती

रही, "अब में समझी कि देवर्जी तुम्हे क्यों पसंद करते है."

"उमा अपने कपड़े उतारो? मम्मी ने आदेश दिया, लेकिन उमा अपनी जगह

से हिली भी नही. उसका चेहरा शरम से लाल हो गया था.

"सुना नही अपने कपड़े उतारो?" मम्मी ने फिर से कहा.

उमा ने चारों तरफ कमरे मे निगाह दौड़ाई कि शायद कोई उसे इस

मुसीबत से बचा ले लेकिन उसे बचाने वाला कोई नही था वहाँ.

"शामऊ इसके कपड़े उतार दो?" मम्मी ने शामऊ से कहा.

शामऊ उमा की तरफ बढ़ा तो शारदा घबराई हुई नज़रों से शामऊ को

देखने लगी, फिर आँखो मे आँसू लिए वो अपने ब्लाउस के बटन

खोलने लगी.

मम्मी ने उमा को कपड़े उत्तारते देखा तो शामऊ से कहा, "शामऊ रुक

जाओ. थोड़ी ही देर मे उमा कमरे मे नंगी खड़ी थी, उसकी आँखों से

आँसू बह रहे थे.

आज हम पहली बार किसी लड़की को नंगी देख रहे थे, "अमित उसकी

जाँघो के बीच उगे हुए बालों को देखो कैसे दिख रहे है,"

सुमित ने कहा.

"हां सुमित लेकिन उसके नूनी तो है ही नही वो पेशाब कैसे करती

होगी?" मेने कहा.

"ष्ह्ह्ह चुप कोई हमे सुन लेगा, हम इस बात पर बाद मे बात करेंगे,"

सुमित ने मुझे चुप करते हुए कहा.

हमने देखा कि मम्मी उसकी ओर बढ़ रही थी.

"बहोत अच्छा बहोत आछा, तभी तो देवर्जी को इतनी पसंद हो." मम्मी

उसे घूरते हुए बोली. फिर मम्मी ने अपनी उंगली उसकी टाँगो के बीच

रख कर कहा, "तो तूने इस चूत को चुदाई से बचाने के लिए मेरा

हुकुम नही माना, क्या तेरी चूत अभी तक कोरी है?"

मम्मी की बात सुनकर उमा शर्मा गयी लेकिन बोली कुछ नही.

"हरमज़ड़ी जवाब दे." मम्मी ने उसके निपल को जोरों से भींचते हुए

कहा.

"हां" उमा धीरे से बोली.

"शाबाश" इतना कह कर मम्मी वापस अपनी कुर्सी की ओर बढ़ गयी.

एक बार कुर्सी पर बैठने के बाद मम्मी ने कहा, "देवर्जी आप इस

हरामज़ादी को चोदना चाहते थे ना? ये तय्यार है, चोद दो इसे"

मम्मी की बात सुनकर चाचू चौंक पड़े... "याआहां.... आपके

सामने?"

"हां इस हरामज़ादी की चूत हमारे सामने फाड़ दो. अगर ये चोदने

ना दे तो इसे खूब मारना." मम्मी ने कहा.

चाचू ने धीरे से अपनी पॅंट और अंडरवेर उतार दी और सिर्फ़ शर्ट

पहने उमा की ओर बढ़ने लगे. उनका खड़ा लंड आसमान को सलामी दे

रहा था. चाचू ने उमा को अपनी बाहों मे भर लिया और उसे चूमने

लगे और उसकी चुचियों को मसल्ने लगे.

उमा कोई भी विरोध नही कर रही थी, वो चाचू को अपनी मन मानी

करने दे रही थी. उसे पता था कि विरोध कर कुछ होने वाला नही

है, थोड़ी ही देर मे चाचू का लंड उसके कौमार्य को भंग कर देने

वाला है.

"उमा क्या अब तू देवर्जी से चुदवाने के लिए तय्यार है?" मम्मी ने

पूछा.

"हां मालिकिन." उमा ने जवाब दिया.

ज़रा एक मिनिट." अनु ने अमित को बीच मे टोका, "उस दिन तुम दोनो की

उम्र क्या थी?"

"हमारी यही कोई सात साल की" अमित ने जवाब दिया.

"तो तुम ये कहना चाहते हो कि उस दिन जो कुछ हो रहा था वो सब तुम

दोनो की समझ मे आ रहा था" अनु ने चौंकते हुए पूछा.

"बिल्कुल भी नही..... " अमित ने कहा, "हमे तो ठीक से सुनाई भी

नही दे रहा था कि वो लोग क्या कह रहे हैं, हम तो सिर्फ़ इसलिए

देख रहे थे क्यों कि मम्मी नही चाहती थी कि हम वो सब देखें."

"फिर तुम्हे कैसे पता कि वहाँ उन्होने क्या क्या कहा था?" मेने

पूछा.

"ओह्ह्ह वो सब... वो तो जब हम बड़े हो गये तो हमने चाचू से पूछा

था," अमित ने कहा.

"ठीक है, अब बताओ कि आगे क्या हुआ था?" अनु ने पूछा.