Maa ka dulara -माँ का दुलारा compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Maa ka dulara -माँ का दुलारा

Unread post by rajaarkey » 18 Dec 2014 03:18

7

gataank se aage...............

"kar kya karana hai, tu maanega thod.e, par dekh haam, tune praamis kiya hai" mom ki paimti nikaalakar mai usaki chut ki puja me lag gaya. mom bilakul garamaayi hui thi, paamch minit me dher ho gayi. mera sir pakad.akar apani chut par dabaate hue boli "mai mar gayi anil bete, bahut achcha lag raha hai, teri jibh to jaadu kar deti hai mujhapar" maimne mom ki jaamghom se sir uthaakar pucha

"maam, sach bataao, subaha se tumhe chudaasi lagi hai naa?"

"haam bete, tune to jaadu kar diya hai mujh par, teri is jawaani se dur nahi raha jaata mujhase, par kya karum, teri tabiyat ka bhi dekhana hai" mom apani jaamghom me mujhe kaid karate hue boli.

"maam, tuma maja lo, mai bas tumhaari bur ka ras chusumga. maimne suna hai aurate chaahe jitani baar jhad. sakati haim, to mere kaaran tuma kyom pyaasi raho, thik nahi hai ye" maimne fir mom ki chut me jibh daalate hue kaha. mom bhi ab mud me a gayi thi. usane apani saad.i niche ki aur mujhe usake amdar chupa liya. fir mera sir pakad.akar apani bur par kas kar dabaaya aur jaamghom me mere sir ko kaimchi jaisa pakad.akar taamge hila hila kar mere mumha par hastamaithun karane lagi.

jab mai aadhe ghamte baad utha to man bhar kar mom ki bur ka paani pi chuka tha. mom ekadama trupta ho gayi thi, sofe me piche ludh.ak gayi thi. mujhe khimch kar paas bithaare hue mujhe aalimgan me lekar boli

"anil, tune mujhe jo sukh diya hai, usaki mai kabhi kalpana bhi nahi kar sakati thi." mere tannaaye lund ko paimt ke upar se tatol kar wah boli "are, yaha bechaara tad.ap raha hai. bete, abhi chodega mujhe? teri yaha pyaas mujhase dekhi nahi jaati"

"nahi maam, raat ko aaraama se bujhaaumgaa" maimne kaha. mom bahut khush thi

"aaj raat jaise chaahega mai waise tujhe khush karumgi mere laal" mere dimaag me ek hi baat ghuma rahi thi. mom ki god me sir chpaakar maimne kaha

"maam, aaj ..."

"bol na ruk kyom gayaa?"

"maam, aaj ...." usake nitambom par haath rakhakar maimne kaha "aaj piche se karane do na pliz"

"are kal to kiya tha piche se mujhe ghod.i banaakar" mom ne kaha.

"haam maam, waise hi par tumhaari chut me nahim, yahaam par.." maimne usake nitambom ke bich umgali jama kar kaha.

"badamaash, sidhe kaha na meri gaamd maarana chaahata hai. kya lad.aka hai! abhi bitte bhar ka hai, abhi abhi jawaan hua hai, do din hue apani mom ko chod kar aur ab chala hai usaki gaamd maarane. mai nahi maarane dumgi jaa, mujhe dukhegaa" mom aaj kitane kaamuk mud me thi yaha usake in shabdom ke prayog se saaf tha. usane mana jarur kiya tha par usake lahaje me daamt nahim, ek khilaad.ipan ki bhaavana thi. yaane shaayad maan jaaye, maimne yaha samajh liya.

mom ko manaane me ghamta lag gaya. wah khaana bana rahi thi tab bhi mai usase lipat kar baar baar usase isi baat ki minnat kar raha tha. wah bas mamd mamd muskara rahi thi. use mere manaane me bahut maja a raha tha. aakhir tak usane haam nahi bola par jis taraha se wah meri or dekh rahi thi, mai samajh gaya ki maimne baaji maar li hai.

raat ko bedaruma me mom ke aane ke pahale mai kapad.e nikaal kar taiyaar ho gaya. palamg par namga pad.a mom ka imtajaar karata raha. vesalin ki shishi maimne pahale hi palamg ke paas ke tebal par rakh di thi.

jab ghar ke sab laait bujha kar mom aai to ekadama namgi thi. baatharuma me hi kapad.e utaar kar aai thi. pura nagna chalate hue maimne use pahali baar dekha tha. usake gudaaj stan chalate samaya dola rahe the. wah darawaaja lagaane ko mud.i to mai usake nitambom ko dekhata raha gaya. unake bhi thik se pure darshan mujhe aaj hi hue the. ekadama mote bhaari bharakama thod.e latake nitamb the usake, gore gore, maide ke do vishaal golom ke samaan. aaj mujhe uname jannat milane waali thi.

mai pura garama ho chuka thaa, mom par kab chadh.um aisa mujhe ho gaya tha. mom aakar mere paas baithi. usane nai slipar pahani hui thim. mera khad.a lund dekhakar boli

"ekadama taiyaar lagata hai mera beta meri sewa karane ke liye. chal, tu leta raha, mai tujhe chodati hum" mai ghabaraakar bola

"maam, aisa julma na karo, tumane waayada kiya hai ki aaj mujhase gaamd marawaaogi."

"maimne kab aisa kahaa" mom mujhe chidh.aate hue boli. usane jhuk kar apane pairom me ki chappale nikaal lim. fir mere lund ko unake do narama narama paatom me rakhakar belane lagi. mai paagal sa ho gaya. lagata tha ki abhi jhad. jaaumga. meri mom khud mujhe apani chappalom se rijha rahi thi.

"mami, mai jhad. jaaumgaa! pliz mat karo, aaj ek hi baar jhad.ana hai mujhe, mujhe apani gaamd maarane do naa" mai gid.agid.aane laga. mom dushtata se boli

"achcha hai jhad. jaayega. kama se kama meri gaamd to bach jaaegi. mai nahi maraati baabaa" meri haalat kharaab thi. jhad. na jaaum isaliye mai palamg se uth kar bhaaga aur dur khad.a ho gaya. kisi taraha sanasanaate lund par kaabu kiya. mom mera haal dekhakar pasij gayi. palamg par letate hue boli "mai majaak kar rahi thi mere laal, dekh rahi thi ki chappalom ka tujh par kya asar hota hai, tu sach me inaka shaukin hai. a kar le tujhe jo karana hai. tera yaha musal meri faad. dega shaayad par teri khushi ke liye mai yaha dard bhi saha lumgi." maimne mom ke paas jaakar usaki bur ka chumban lete hue kaha.

"nahi maam, mai kama se kama dard hone dumga tujhe. bahut pyaar se lumga teri. ab palat kar let jaao" mom pet ke bal let gayi.

"le maar" usake fule vishaal nitambom ko haathom se sahalaakar mai bola

"pahale inhe pyaar to kar lene do maam, kab se taras raha hum inake liye" aur mai mom ke nitambom par bhukhe ki taraha tut pad.a. agale paamch minit mere liye aise the jaise bhukhe ke aage daawat rakh di gayi ho. maimne mom ke nitamb chaate, unhe khub chumaa, halke halke daamt se kaata aur fir unhe alag karake dekhane laga. bich ka bhura sakara ched mujhe aamamtrit kar raha tha. maimne use chumana shuru kar diya. jibh baahar nikaalakar use lagaayi. mom bichak gayi.

"are kya kar raha hai? paagal to nahi hai, kahaam mumha laga raha hai." maimne mom ka guda chumate hue kaha

"tuma nahi samajhogi maam, mere liye yaha jannat ka darawaaja hai" mom bhi ab garama gayi thi. niche se khud hi apani umgali se apani chut ko ragad. rahi thi.

"anil jaldi kar naa, fir mai karati hum mujhe jo karana hai"

"maam, chalo ghod.i ban jaao kal jaisi, par palamg ke chhor par" meri baat maan kar mom ghod.i ban gayi. piche se ab usaki chut aur gaamd ka ched donom dikh rahe the. chut me se paani baha raha tha. pahale maimne usake nitamb pakad.akar usaki bur ko chaatana shuru kar diya. jab wah aur garama ho gayi aur apane kulhe hilaane lagi tab maimne vesalin ki shishi uthaakar apane lund me khub sa vesalin chupad. liya. fir umgali par thod.a lekar mom ke guda me umgali daal di. kya kasa tha mom ka ched!

"ui mom , dhire se re" mom boli. mai hamsane laga

"maam, abhi to ek umgali daali hai, fir do daalumga aur fir lund dumga amdar. tu sach me taait hai, kumwaari kanya jaisi"

"chal baate na banaa, jaldi kar" mom ne pareshaan hokar kaha. maimne ek umgali amdar baahar karake thik se amdar tak vesalin chupad. diya. fir do umgali me lekar waisa hi kiya. is baar mom ko jyaada dard hua par wah bas sisak kar fir chup ho gayi. is baar maimne khub der mom ki gaamd me do umgaliyaam ki ki use aadat ho jaaye.

aakhir umgaliyaam nikaalakar mai usake piche khad.a ho gaya. usake nitamb ek haath se pakad.akar dusare se supaad.a usake guda par jamaaya

"taiyaar ho ja maam, mai amdar a raha hum tere piche ke darawaaje se." maimne lund amdar pelana shuru kiya. mom ne gaamd sikod.i hui thi isaliye amdar nahi ja raha tha. "maam, jara dhila chod.o naa, rilaiks karo"

"thik hai anil, par teri do umgali amdar jaati hai to dard hota hai, tera ye musal jaayega to kya hogaa" mom ne chimtit swar me pucha.

"musal kahaam hai maam, bilakul chota hai, logom ke to kitane bad.e hote haim, das das imch ke" maine man hi man khush hote hue kaha. mujhe hamesha lagata tha ki mera lund aur thod.a bad.a hota to maja aata. par mom ko mera lund bad.a lagata tha yaha sunakar bahut achcha laga.

mom ne ek saams li aur apana guda thod.a dhila kiya. maimne turamt supaad.a mom ki gaamd ke challe ke amdar kar diya. mom ka sharir kad.a ho gaya aur usake mumha se ek halki chikh nikal gayi. maimne lund pelana bamd kar diya. mom ko pucha

"maam, bahut dukh raha hai kyaa? nikaal lum baahar"

"nahi bete, abhi mai thik ho jaaumgi. bas ek minit ruk jaa" kuch der baad maimne mahasus kiya ki mom ke guda ka challa thod.a dhila ho gaya hai. usaka sharir jo tana sa gaya thaa, thod.a rilaiks ho gaya. maimne fir lund pelana shuru kiya. mom bich me sitkaar uthati "anil, bahut dukhata hai re" tab mai ruk jaata. par mom ne mujhe yaha nahi kaha ki bete nikaal lo, mai nahi mara sakati.

kya aanamd thaa, kya sukh thaa, mom ki mulaayama gaamd me jaise mera lund amdar dhamsata gayaa, mujhe aise lagane laga ki ghachcha se ek baar pel dum aur jor se chod daalum. par maimne khud par pura niyamtrana rakhaa, aakhir meri pyaari mom thi, koi chudail ramdi nahim. aur mom ne meri khushi ke liye is dard ko bhi hamsate hamsate swikaar kar liya tha to mera bhi farz tha ki mai use takalif na hone dum.

aakhir mera lund jad. tak mom ke nitambom ke bich sama gaya aur mera pet unase sat gaya. mai ek minit bas khad.a raha. apane haathom se mom ki pith aur nitamb pyaar se sahalaata raha. aakhir mom boli


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Maa ka dulara -माँ का दुलारा

Unread post by rajaarkey » 18 Dec 2014 03:22

माँ का दुलारा पार्ट--8

गतान्क से आगे...............

"अब ठीक है राजा. अब दर्द कम है. मुझे लग रहा था जैसे मेरी फट ही जाएगी."

"माँ, अब गांद मारूं?" मैंने उत्सुकता से पूछा.

"मार बेटे पर धीरे धीरे, आज पहली बार है, तू चोदते समाया जैसे धक्के लगाता है, वो मैं सहा नही पाउन्गि." मैंने मोम के कूल्हे पकड़कर धीरे धीरे उसकी गांद मारना शुरू कर दिया. मज़ा आ गया. उसकी मखमली म्यान मुझे ऐसे पकड़े थी जैसे किसीने मुठ्ठी मे मेरे लंड को पकड़. लिया हो. वेसेलीन के कारण लंड फिसल भी बहुत अच्छा रहा था. धीरे धीरे मेरी लय बँध गयी. आँखे बंद करके मैं इस स्वर्गिक सुख का आनंद लेने लगा पर ज़्यादा देर नहीं! तिलमिला के झाड़. गया. झदाने के बाद मोम बोली

"अच्छा लगा अनिल? मज़ा आया जैसा तू सोचता था?"

"माँ, तुमने तो मुझे अपना गुलामा बना लिया. बहुत मज़ा आया मामी, थैंक्स" हाफते हुए मैं बोला. जब झड़ना बंद हुआ तो मैं लंड बाहर निकालने लगा.

"अरे रहने दे ना, क्यों निकालता है, इतनी मुश्किल से डाला है, आ मेरे उपर लेट जा" कहकर मोम ओन्धे मुँहा बिस्तर पर लेट गयी. मैं भी उसके साथ सरकता हुआ उसके उपर लेट गया. मेरा झाड़ा लंड अब भी मोम की गांद मे फँसा था.

मैं मोम के बाल और गर्दन चूमता हुआ उसके मम्मे दबाने लगा. मोम के गुदाज शरीर पर लेटने का मज़ा ही अलग था.

"मोम मेरा फिर खड़ा हो जाएगा" मैंने उसे चेतावनी दी. "फिर निकालने मे मुश्किल होगी, सुपाड़ा फँसेगा अंदर"

"मैंने कब निकालने को कहा बेटे ऐसे में" मोम ने सिर घुमाकर मुझे चुम्मा देते हुए कहा. मैंने बड़ी आशा से पूछा

"याने माँ, मैं फिर से ..."

"हाँ. एक बार और मार ले मेरी. तुझे इतना अच्छा लगता है, अभी जल्दी मे ठीक से कर भी नही पाया मेरे लाल. अभी मुझे भी ठीक लग रहा है, दर्द नही है" मैं खुशी से मोम के बाल और पीठ चूमने लगा. उसके निपल कड़े थे, वह मस्ती मे थी. खुद ही अपनी एक हाथ अपनी जांघों के बीच चला रही थी. मेरा लंड अब फिर सिर उठाने लगा था और धीरे धीरे मोम के चुतदो की गहराई मे उतार रहा था.

"मोम अब इस बार घंटे भर तक तेरी मारूँगा" मेरी इस बात पर मोम बोली

"मार, दो घंटे मार, पर फिर मेरी बारी है, तुझसे पूरा हिसाब लूँगी" उसके स्वर मे गजब की खुमारी थी.

"तुम कुछ भी करवा लो माँ, मैं तैयार हू" कहकर मैंने मोम की गांद मारना शुरू कर दी. उसके स्तन पकड़े हुए उन्हे दबाते हुए, मोम की पीठ चूमते हुए, बीच मे उसके मुँह को अपनी ओर मोड़. कर उसके चुममे लेते हुए मैंने मज़े ले ले कर मोम की गांद मारी. अब वह मेरे लंड की आदि हो गयी थी इसलिए मस्त लंड फिसल रहा था. हाँ मोम बीच बीच मे मुझे तड़पाने को अपनी गांद सिकोड. लेती तो मेरी स्पीड कुछ कम हो जाती. मैं अब भी पूरे धक्के नही लगा रहा था, आज पहली बार मोम को इतनी तकलीफ़ देना ठीक नही था. हाँ मन ही मन सोच रहा था कि अगली बार से मोम की गांद ऐसे हचक हचक के चोदुन्गा की वह भी क्या याद करेगी. पूरा लंड बाहर निकाल निकाल कर अंदर तक पेलुँगा.

इस बार मुझे पूरा मज़ा मिला, मन भर कर मोम की मखमली नली को मैंने चोदा. मोम गरम होकर अपनी चूत मे खुद उंगली कर रही थी

"अनिल राजा, कितना पानी बह रहा है देख, जब तेरा हो जाएगा तो तुझे पिलावँगी. घंटे भर चुसववँगी तुझसे, बहुत नोचा है तूने मुझे आज" मोम की इस बात पर मैंने उत्तेजित होकर फिर सात आठ धक्के लगाए और झाड़. गया. मोम के उपर से उतर कर मैं बाजू मे हुआ. मोम की गांद का छेद अब खुल सा गया था, अंदर की गुलाबी नली दिख रही थी. मोम तुरंत पलट कर उठ बैठी और मुझे नीचे सुला कर मेरी छाती के दोनों ओर घुटने जमा कर तैयार हो गयी.

"दो तकिये ले ले और नीचे सरक" उसने आदेश दिया. फिर आगे सरक कर अपनी बुर मेरे मुँह पर रखकर बैठ गयी. उसकी बुर से ढेर सारा पानी बह रहा था. मैंने चुपचाप उसे चाटना शुरू कर दिया. मोम मेरा सिर पकड़कर अपनी बुर पर दबाते हुए मुझपर चढ़. बैठी और अपनी जांघों मे मेरे सिर को जकाड़कर हचक हचक कर मेरा मुँह चोदने लगी.

मोम ने उस रात सच मे घंटे भर मुझसे बुर चुसवाई. उसकी वासना शांत ही नही होती थी. जब मेरे मुँहा को चोदते हुए थक गयी तो बिस्तर पर अपनी बगल पर लेट गयी और मेरा सिर अपनी जांघों मे भर कर धक्के मारने लगी. मेरे सिर को वह ऐसे कस कर अपनी जांघों मे पकड़े थी जैसे उसे कुचल देना चाहती हो. मुझे कुछ दुख भी पर उन मदमाती जांघों मे गिरफ्तारी का मज़ा उस दर्द से ज़्यादा था. जब हम सोए तो बिलकुल निढाल हो गये थे. मोम ने सोने के पहले मुझे कहा

"रोज ज़िद मत करना अनिल बेटे, हफ्ते मे एक बार ठीक है तेरा यह गांद मारना, उससे ज़्यादा नही मारने दूँगी" मैं असल मे रोज मारने के ख्वाब देख रहा था पर जब उसने कहा कि काफ़ी दुखाता है तो मैं चुप रहा. मेरे लिए यही बहुत था किवाह बीच बीच मे गांद मरवाने को तैयार थी.

अगले दिन से मोम का ऑफीस शुरू हो गया. दो दिन की धुआँधार चुदाइ के बाद मेरा और मोम का संभोग अब एक अधिक संयम रूप मे चलने लगा. मोम जल्दी वापस आने की कोशिश करती थी पर अक्सर लेट हो जाती थी. थक भी जाती थी इसलिए रोज मैं उसे बस एक बार चोदता. अगर एकाध दिन्वह जल्दी वापस आती तोवह कुछ देर सो लेती थी और फिर रात को उसकी वासना ऐसी निखरती कि उसे शांत करने को मुझे अपना पूरा ज़ोर लगाना पड़ता था. अब मैने दोपहर के अपने खेल भी बंद कर दिए थे. मेरा सारा जोश अब मोम के लिए मैं बचा कर रखता था. मोम के घर आते ही पहला काम मैं यह करता कि जब तकवह कपड़े बदलती, मैं उसकी कांखे चाट लेता. उसे चूम कर उसके गाल और माथे पर आए पसीने को सॉफ कर देता.

रविवार को हमारी रति पूरे ज़ोर मे चलती. हफ्ते भर का संयम उस दिन हम ताक पर रख देते. हम साथ साथ नहाते और तभी से शुरू हो जाते. दोपहर को भी रति पूरे निखार मे होती. एक बार वायदे के अनुसार रविवार रात मोम मुझे अपनी गांद मारने देती. उस मौके की मैं हफ्ते भर राह देखता था. रविवार शाम को हम घूमने जाते थे, शॉपिंग करते थे. मोम ने एक दिन कुछ और ब्रा और पॅंटी भी खरीदी. मुझेवह साथ ले गयी और मेरी पसंद की ली. मुझे थोड़ी शरम लग रही थी, वाहा की सेल्स गर्ल के साथ तरह तरह की ब्रा देखने मे बड़ा अटपटा लग रहा था. दुकान मे बस औरते ही थी. पर मोम ने कोई परवाह नही की, मुझे दिखाकर मेरी पसंद पूछकर दो ब्रा और पॅंटी ली. मैं बाहर आकर बोला तो हँसने लगी.

"यहा कौन हमे पहचानता है!" मोम मे जो बदलाव आया था उसकी मैं पहले कभी कल्पना भी नही कर सकता था. अपने जवान किशोर बेटे के साथ संभोग ने उसकी वासना को निखार दिया था. इतने सालों की भुख्वह मानो एक दिन मे बुझा लेना चाहती थी. मुझपर तो अब्वह इतना प्यार करती कि हद नही. एक मोम की तरह मेरे खाने पीने कपड़ों और सेहत का ख़याल करती, सुबह जल्दी उठाकर खाना बना कर जाती कि मुझे बाहर ना खाना पड़े. फिर प्रेयसी के रूप मे मुझसे इतना अभिसार करती जैसी कोई नववधू भी अपने पति के साथ नही करती होगी.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Maa ka dulara -माँ का दुलारा

Unread post by rajaarkey » 18 Dec 2014 03:23

मोम ने मेरी हर कमज़ोरी अच्छी तरह से भाँप ली थी और वह बड़ी चालाकी से उनका उपयोग करने लगी थी. मुझे उत्तेजित करती और अपना काम निकाल लेती. उदाहरण एक रात वह ज़रा ज़्यादा ही गरमा गयी थी. मैंने उसके चूत चॅटी और फिर दो बार उसे कस कर चोदा. फिर भी उसका मन नही भरा था.

मैं पलंग पर लास्ट पड़ा था. लंड फिर से खड़ा होने का कोई चांस नही था. मोम मेरे पास लेटकर मुझे चूमते हुए, मेरे मुँह मे अपनी चुचि देते हुए उसे हाथ से मसलकर अपनी भरसक कोशिश कर रही थी. मैंने भी कहा

"ममी सॉरी, अब मुझसे नही होगा" वह हँस कर बोली

"ठीक है, ना सही. चल एक खेल खेलते है. तेरा चप्पल वाला खेल नही देखा बहुत दिन से. आज ज़रा करके बता" मेरी इच्छा नुसार्वह हमेशा अपनी सैंडल या रबर की स्लिपर पहने रहती, चुदाइ के समय भी. उसने अपनी एक स्लीपर उतारी और मेरा सिर अपनी गोद मे लेकर पलंग के छोर से टिक कर बैठ गयी. अपना दूसरा पैर बढ़ा कर उसने मेरे मुरझाए लंड को अपने पैर के तलवे और चप्पल के बीच पकड़ लिया. फिर धीरे धीरे उसे रगड़ने लगी. मोम के कोमल तलवे और चप्पल के मुलायम रबर की फाइलिंग, मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. फिर उसने कहा

"मूह खोल ना अनिल"

"क्यों मोम ?" मैने कहा. अपने हाथ की स्लीपर मेरे होंठों पर हौले हौले रगड़ते हुएवह बोली

"चाट ना मेरी चप्पल. आज बहुत देर पहनी है. तुझे मज़ा आएगा" मैने उसकी आँखों मे देखा.वह मज़ाक नही कर रही थी. मोम की आँखे कामना की खुमारी से भरी थी. मैने जीभ निकालकर उसे चाटना शुरू कर दिया. बहुत उत्तेजना हुई. मोम अब खुद मेरी फेटिश को बढ़ावा दे रही थी. उसने भी खिलखिलाते हुए मुझे सताना शुरू कर दिया. कुछ देर चाटने देती, फिर अचानक उसे मुहासे दूर कर देती. कभी चप्पल का छोर मेरे मूह मे डाल देती और कहती

"ज़रा चूस कर देख ना, मोम का भक्त है ना तू, मोम के चरणों का पुजारी! ले आज करके बता अपनी पूजा ठीक से" दस मिनिट मे मेरा लंड खड़ा हो गया. ऐसा तन्नाया जैसे झाड़ा ही ना हो. मैं अब अपनी कमर हिला हिला कर मोम के तलवे को चोदने की कोशिश कर रहा था. उसने तब तक यहा खिलवाड़. जारी रखा जब तक मेरा कस कर खड़ा नही हो गया. फिर तुरंत मुझे पलंग पर लिटा कर मुझपर चढ़. गयी और मुझे चोदने लगी. अपनी चप्पले उतार कर उसने मेरे मुँह पर रख दीं.

"ले बेटे, तेरे खिलौने. तू इनसे खेल, मैं अपने खिलौने से खेलती हू" मैंने मोम की चप्पले गालों से सटा ली और उन्हे बेतहाशा चाटने और चूसने लगा जैसा पहले मूठ मारते समय करता था. बस वह मेरी ओर देखकर हँसती जाती और मुझे चोदति जाती. उसकी उछलती छातियों और मुँहा पर पड़ी चप्पालों ने मुझपर ऐसा जादू किया कि मैं झदाने को आ गया.

मोम ने तुरंत चोदना बंद कर दिया. चप्पले भी मुझसे छीन ली. तब तक बैठी रही जब तक मेरा ज़ोर कम नही हो गया. फिर मुझे चोदने लगी. उस रात उसने पंद्रहा बीस मिनिट मुझे तड़पा तड़पा कर चोदा. जब खुद पूरी तृपता हो गयी तब मुझे झड़ाया. मैं इतना थक गया था कि बेहोश सा हो गया, लॅंड और गोटियाँ भी दुख रहे थे. मोम ने बत्ती बुझाकर मुझे बाँहों मे लिया और चुम कर सॉरी बोली

"अब सो जा बेटे, क्या करू, आज तू इतना नमकीन लग रहा था कि मेरा मन ही नही भर रहा था. पर सच बता, मेरी चप्पालों को चाटने मे मज़ा आया ना?" मोम की पसंद के दो काम थे. एक मुझसे बुर चुसवाना और मुझे उपर से चोदना. मुझे भिवह उसपर चढ़कर चोदने देती थी पर मुझे नीचे सुलाकर चोदना उसे ज़्यादा अच्छा लगता था. डॉमिनेंट पार्ट्नर बनाने का कोई मौका वा नही छोड़ती थी. उसके पीरियड के दिनों मे ज़रूर परेशानी होती थी. मेरा भी उपवास हो जाता था, दोनों तरह का, चोदने भी नही मिलता था और मोम की बुर का रस भी बंद हो जाता था. मोम से मैने कहा तो बोलती कि अच्छा है, तीन चार दिन तुझे भी आराम मिलना ज़रूरी है. और इससे तू ज़रा संयम रखना भी सीख जाएगा, तेरी सेहत के लिए भी अच्छा है. उसके स्तनों से खेलना मुझे बहुत अच्छा लगता. कई बार मैं उन्हे चुसते हुए कहता

"मोम दूध पीला ना बचपन जैसा" तो कहती

"अब इनमे दूध कैसे आएगा बेटे, तुझे रुकना पड़ेगा अपनी शादी होने तक, अपनी दुल्हनिया का दूध पीना" मैं कहता

क्रमशः.................