Maa ka dulara -माँ का दुलारा compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Maa ka dulara -माँ का दुलारा

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 01:49

अगले कुछ मिनिट इस मदहोशी की अवस्था मे गुज़रे कि मैं कह भी नही सकता. सोच कर देखें, वह मोम जिससे आप इतना प्यार करते हैं, जिसके आगोश मे आप ने कितने दिन गुज़ारे हुए हैं, उसी मोम के आगोश मे आप फिर से हों, पर इस बार उसके नग्न शरीर का आभास आप को हो रहा हो और वह भी एक प्रेयसी की तरह आप पर प्रेम की वर्षा कर रही हो तो आपकी क्या हालत होगी!

मैं मोम से लिपटकर उसे चूमता हुआ उस पर चढ़ने की कोशिश कर रहा था. उसके स्तनों को मैने ब्रसियार के उपर से ही हाथ मे भर लिया था. मुलायम स्पंज के गोलों जैसी उन गेंदों को दबाकर जब मुझे संतोष नही हुआ तो मैं हाथ उसकी पीठ के पीछे करके मोम की ब्रा के हुक खोलने की कोशिश करने लगा. मुझ अनाड़ी को वह कुछ जमा नही और दो मिनिट मेरी इस कोशिश का आनंद लेने के बाद प्यार से मोम ने कहा.

"चल दूर हो, अनाड़ी कही का, आज मैं निकाल देती हू. पर सीख ले अब, आगे से तू ही निकालना." मोम ने फिर अपने हाथों से अपनी ब्रा खोली और ब्रा के कप बाजू मे कर दिए. मैं मोम की घुंडी मुँह मे लेकर चूसने लगा. मुझे वह भूरी मोटी घुंडी जानी पहचानी सी लगी. निपल के आजू बाजू बड़ा सा भूरा गोला था, पुराने एक रुपये के सिक्के जैसा. मैं आँखे बंद करके मोम की चुचि चूसने लगा.

मों ने हाथ उपर करके अपनी ब्रा पूरी निकाल दी और फिर मुझे छाती से चिपटा कर मुझे अपनी गोद मे लेकर लेट गयी. मुझे स्तन पान कराती हुई भाव विभोर होकर बोली.

"अनिल, कितने दिन बाद तुझे निपल चुसवा रही हू बेटे, जानता है, तू तीन साल का होने तक मेरा दूध पीता था, छोड़ने को तैयार ही नही था, बड़ी मुश्किल से तेरी यह आदत मैंने छुडवाई थी. मुझे क्या पता था कि बड़ा होकर फिर यही करूँगी? पर अब ये मैं नही बंद होने दूँगी बेटा, तुझे जब चाहे जितना चाहे तू मेरे स्तन चूस सकता है मेरे राजा"

एक हाथ से मोम का उरोज दबाकर मैं उसे चूस रहा था और दूसरे से दूसरा स्तन दबा रहा था. बार बार स्तन बदल बदल कर मैं चूस रहा था. लंड अब तन कर मोम के पेट पर रगड़. रहा था और मैं आगे पीछे होकर उसे चोदने सी हरकत करता हुआ मोम के पेट पर रगड़. रहा था. एक हाथ मोम की पैंटी की इलास्टिक मे डाल कर मैं उसे उतारने की कोशिश करने लगा. मोम का भी हाल बहाल था. वह भी सिसकारियाँ भर भर कर अपनी जांघे रगड़ती हुई मुझे छाती से चिपटा कर पलंग पर लुढ़क रही थी. उसके स्तनों की घुंडियाँ अब कड़ी हो गयी थीं. उन चमदिली मूँगफलियों को चूसने और हल्के हल्के चबाने मे बड़ा आनंद आ रहा था. अगर उनमे दूध बस और होता तो मैं स्वर्ग पहुँच गया होता!

आख़िर उससे ही रहा नही गया. उसने अपनी पैंटी निकाली और टांगे फैलाकर मुझे अपने उपर लेकर लेट गयी. फिर अपने हाथ से मेरा लंड अपनी चूत पर सटाकर उसे अंदर डालने लगी.

लंड पर लगती मुलायम टच से ही मैं समझ गया की मोम ने नीचे शेव किया है. मेरी फॅंटेसी मे मैं हमेशा कल्पना करता था की मोम की चूत को पास से देख रहा हू, उसे चूम रहा हू, उसके रस को पी रहा हू और आज जब यह असल मे करने का मौका मिला तो यह सब करने के लिए अब हम दोनों मे सबर नही था. मैने एक हल्का धक्का दिया और मेरा लंड एक ही बार मे पूरा मोम की तपती गीली बुर मे समा गया. मोम की चूत ऐसी गीली थी जैसे अंदर क्रीम भर दी हो. मोम ने मुझे अपनी जांघों और बाँहों मे भर लिया और नीचे से ही धक्के दे देकर चुदवाने लगी.

मुझे इसका विश्वास ही नही हो रहा था कि आख़िर मैं अपनी मोम को चोद रहा हू. मेरा पहला संभोग, पहली बार किसी नारी से काम क्रीड़ा और वह भी मेरी जान से प्यारी ममी के साथ! मैं कुछ कहना चाहता था पर मोम ने अपनी चुचि मेरे मुँह मे ठूंस दी थी और छोड़. ही नही रही थी. मैंने तड़प कर मोम को अपनी बाहों मे कसा और उसे हचक हचक कर चोदने लगा.

हमारा यहा पहला संभोग बिलकुल जानवरों जैसा था. हमा इतने प्यासे थे कि एक दूसरे को बस पूरे ज़ोर से चोद रहे थे, बिना किसी की परवाह के. चार पाँच मिनिट की धुआँधार चुदाई के बाद जब मैं आख़िर झाड़ा तो जान सी निकल गयी. इतनी तृप्ति महसूस हो रही थी जैसी कभी नही हुई. लगता है कि मोम भी झाड़. चुकी थी क्योंकि मुझे बाँहों मे भरके मेरे बालों मे हाथ चलाती हुई बस यही कहा रही थी "मेरे बेटे, मेरे लाल, मेरे बच्चे"

मैंने मोम का निपल मुँह मे से निकाला और उसके स्तनों की खाई को चूमकर मोम से बोला

"सॉरी मम्मी, मैं अपने आप को रोक नही पाया, इसलिए इतनी जल्दी की" मोम ने प्यार से कहा

"जानती हू बेटे, बस कुछ मत बोल, ऐसे ही पड़ा रह. कुछ कहने की ज़रूरत नही है. मेरे दिल का हाल तू जानता है और तेरे दिल की बात मैं जानती हू." हम खामोश अपने स्खलित होने के आनंद मे भिगते पड़े रहे. मुझे विश्वास ही नही हो रहा था कि मैंने अपनी मोम से, अपनी जननी से अभी अभी संभोग किया है, वह भी उसकी इच्छानुसार और उसे वह बहुत अच्छा लगा है. मोम ने कुछ देर बाद कहा

क्रमशः........................................

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Maa ka dulara -माँ का दुलारा

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 01:50

gataank se aage...............

"pakado na mummy, mat chodo" usane fir mere lund ko pakad. liya aur tab tak pakad.e rahi jab tak pura jhad. kara wah murajha nahi gaya. mom ne fir mujhe gaal par chuma

"bilakul pagala hai tu anil, mujhe kya maaluma tha ki mai tujhe is kadar achchi lagati hum. dekh sab paajaama gila ho gaya hai, chaadar bhi kharaab ho gayi hai. chal uth aur nikaal de. chaadar bhi daal de dhone ko. mai abhi aayi. teri is haalat ka koi ilaaj karana pad.ega mujhe hi"

mujhe ek baar aur chuma kar wah waise hi gaaun lekar kamare se baahar chali gayi. maimne paajaama nikaala aur taawel baamdh kar chaadar badal di. mera dil khushi se dhadaka raha tha ki kama se kama ab wah mujhase naaraaj to nahi thi, yaha mere liye bahut tha. par mai soch raha tha ki aage kya hogaa, mom ab kya karegi.

isaka jawaab das minit baad mila jab mom fir mere kamare me aayi. usaki kaaya palat gayi thi. wah kaala slivales blaauz aur kaali shifaan ki saad.i pahane hue thi. mekap bhi kar liya tha. baalom ka jud.a baamdh liya tha jaise wah baahar jaate samaya karati thi. amdar ki bra badal li thi kyomki patale blaauz me se usaki wahi kaali meri manapasamd bra amdar dikh rahi thi. mom itani sumdar dikh rahi thi jaise aurat nahi saakshaat apsara ho. maimne chakaraakar pucha.

"ye kya mom, kahi jaana hai" mom mujhe baahom me lete hue boli

"haam bete, mere kamare me jaana hai, chal aaj se tu wahi soyega." maimne mom ki aamkhom me dekhaa, usame ab pyaar, dulaar aur ek chaahat ki mili juli asima bhaavana thi. itane paas se mom ke rasile lipastik se ramge homth dekhakar ab mujhase nahi raha gaya. dhire se maimne usake homth chuma liye. mom ne mujhe aalimgan me lekar mera gahara chumban liya. unake fule jaise komal sparsh se aur usake mumha ki mithaas se mai sihar utha.

apana chumban tod. kar mom ne mera haath pakad.a aur apane kamare me le gayi. usane tebal laimp jalaaya aur upar ki batti bujha di. waapas aakar darawaaja bamd kiya aur fir chupachaap mere kapade utaarane lagi. mera kurata aur baniyaan utaarakar usane mera taawel bhi nikaal diya. niche maimne kuch nahi pahana tha isaliye mai thoda sharama raha tha.

"ab kyom sharamaata hai? naadaan kahi ka. bachapan me jaise mom ke saamane kabhi namga hua hi nahi tha tu" mujhe nagna karake wah dur hokar mujhe nihaarane lagi. ab tak mera lund fir se sir uthaane laga tha.

"kitana haimdasama aur jawaan ho gaya hai re tu!" mom ne laad. se kaha.

"par maam, tujhasa nahim, tum to rup ki pari ho" maimne mom se kaha.

"haam jaanati hum ki tujhe mai kitani achchi lagati hum. aur tu bhi mujhe bahut achcha lagata hai bete, tu nahi jaanata is hafte bhar meri kya haalat rahi hai" mom ne kaha aur aur mujhe palamg par lita diya. fir wah mere upar let gayi aur mujhapar chumbanom ki warsha karane lagi. usaki saamse tej chal rahi thi aur apane haathom se wah mera pura sharir sahala rahi thi. mujhe bachapan ki yaad a gayi. bahut baar mujhe mom god me lekar chumati thi. par tab usame sirf waatsalya hota thaa, aaj usake saath ek naari ki prakhar kaamana bhi usake sparsh aur chumbanom me thi.

mai pad.a pad.a mom ke pyaar ka aanamd le raha tha. lagata tha ki swarg me pahumch gaya hum. mom ne fir mere homthom ka gahara chumban liyaa, mai bhi usake homth chusane laga. mom ke madhur mukharas ka paan karake aisa lag raha tha jaise mai shahad chakh raha hum. mom chumban todakar achaanak utha baithi aur niche khisakakar mera lund haath me lekar use chumane lagi.

"haaya, kitana pyaara hai! lagata hai kha jaaum!" kahakar mom use apane gaalom aur homthom par ragadakar fir mere supaada mumha me lekar chusane lagi. mai stabdh raha gaya. mom ki waasana itani prakhar ho jaayegi yaha maimne kabhi socha nahi tha. mom ke mumha ka gila tapata mulaayama sparsh itana jaanalewa tha ki mujhe laga ki mai fir jhad. jaaumga. lund ek minit me fir kas ke khada ho gaya. par mai abhi jhadana nahi chaahata tha. mom ke damakate rup ko ab mai thik se dekhana chaahata tha isaliye maimne mom ki saadi nikaalana shuru ki.

"mummy, ab tum bhi kapade nikaal do naa, pleassseee!" mom uth baithi. kaamana aur thodi lajjaase usaka chehara laal ho gaya tha.

"nikaalati hum bete, tu leta raha. maimne gaaun nikaalakar apana motaapa tujhe dikhaaya tha. ab ye kapade nikaalakar mera kanchan sa badan tujhe dikhaati hu, yaha tere hi liye hai mere laal" mom ne uthakar saad.i nikaali aur fir petikot khol diya. usaki madamast jaamghe fir se nagna ho gayim. par ab farak tha. us puraani paimti ke bajaay ek sumdar les waali kaali tamg paimti usane pahani thi. usame se usake pet ke niche ka maamsal ubhaar nikhar kar dikh raha tha. paimti ki patti ke sakare hone ke baawajud aas paas bas mom ki gori twacha hi dikh rahi thi.

"mom kya niche bhi shev karati hai!" mere man me aaya. tamg paimti ke talama kapad.e me se mom ki yoni ke bich ki gahari lakir ki bhi jhalak dikh rahi thi.

ab tak mom ne apana blaauz bhi nikaal diya tha. meri pahachaan ki us kaali bra me lipate mom ke gore badan ko dekhakar mujhe romaamch ho aaya. kitani hi baar maimne usame muththa maari thi. mom ke mote mote stanom ke upari bhaag usake kapom me se dikh rahe the. bra shaayad push ap thi kyomki ab wah stanom ko aadhaar de kar unhme uthaaye hue thi, isaliye mom ke stan aur bade aur fule hue lag rahe the. bade garva se we sina taan kar khade the maanom kaha rahe hom ki dekho, apani mom ki mamata ki is nishaani ko dekho, ek bete ke liye apani mom ke sabase khubasurat amg ko dekho. mujhe ghurata dekhakar mom ne hams kar kaha.

"are kuch bol, tab to khub chahak raha thaa, ab mom sumdar lag rahi hai ya nahim, inhe nikaal dum ki rahane dum?" mai kuch na bol paya. meri wah haalat dekh kar mom pyaar se musakaraai aur waise hi aakar palamg par mere paas let gayi aur mai usase lipat gaya.

agale kuch minit is madahoshi ki awastha me gujare ki mai kaha bhi nahi sakata. soch kar dekhem, wah mom jisase aap itana pyaar karate haim, jisake aagosh me aap ne kitane din gujaare hue haim, usi mom ke aagosh me aap fir se hom, par is baar usake nagna sharir ka aabhaas aap ko ho raha ho aur wah bhi ek preyasi ki taraha aap par prema ki warsha kar rahi ho to aapaki kya haalat hogi!

mai mom se lipatakar use chumata hua us par chadhane ki koshish kar raha tha. usake stanom ko maine brasiyar ke upar se hi haath me bhar liya tha. mulaayama spamj ke golom jaisi un gemdom ko dabaakar jab mujhe samtosh nahi hua to mai haath usaki pith ke piche karake mom ki bra ke huk kholane ki koshish karane laga. mujh anaad.i ko wah kuch jama nahi aur do minit meri is koshish ka aanamd lene ke baad pyaar se mom ne kaha.

"chal dur ho, anaad.i kahi kaa, aaj mai nikaal deti hum. par sikh le ab, aage se tu hi nikaalana." mom ne fir apane haathom se apani bra kholi aur bra ke kap baaju me kar diye. mai mom ki ghumdi mumha me lekar chusane laga. mujhe wah bhuri moti ghumdi jaani pahachaani se lagi. nipal ke aaju baaju bad.a sa bhura gola thaa, puraane ek rupaye ke sikke jaisa. mai aamkhe bamd karake mom ki chuchi chusane laga.

mom ne haath upar karake apani bra puri nikaal di aur fir mujhe chaati se chipata kar mujhe apani god me lekar let gayi. mujhe stan paan karaati hui bhaav vibhor hokar boli.

"anil, kitane din baad tujhe nipal chusawa rahi hum bete, jaanata hai, tu tin saal ka hone tak mera dudh pita thaa, chod.ane ko taiyaar hi nahi thaa, bad.i mushkil se teri yaha aadat maimne chud.awaayi thi. mujhe kya pata tha ki bad.a hokar fir yahi karumgi? par ab ye mai nahi bamd hone dumgi bette, tujhe jab chaahe jitana chaahe tu mere stan chus sakata hai mere raajaa"

ek haath se mom ka uroj dabaakar mai use chus raha tha aur dusare se dusara stan daba raha tha. baar baar stan badal badal kar mai chus raha tha. lund ab tan kar mom ke pet par ragad. raha tha aur mai aage piche hokar use chodane si harakat karata hua mom ke pet par ragad. raha tha. ek haath mom ki paimti ki ilastik me daal kar mai use utaarane ki koshish karane laga. mom ka bhi haal behaal tha. wah bhi sisakaariyaam bhar bhar kar apani jaamghe ragad.ati hui mujhe chaati se chipataakar palamg par ludhak rahi thi. usake stanom ki ghumdiyaam ab kad.i ho gayi thim. un chamadili mumgafaliyom ko chusane aur halke halke chabaane me bad.a aanand a raha tha. agar uname dudh bas aur hota to mai swarg pahunch gaya hotaa!

aakhir usase hi raha nahi gaya. usane apani painti nikaali aur taange failaakar mujhe apane upar lekar let gayi. fir apane haath se mera lund apani choot par sataakar use andar daalane lagi.

lund par lagati mulaayam touch se hi mai samajh gaya ki mom ne niche shev kiya hai. meri fantasy me mai hamesha kalpana karata tha ki mom ki chut ko paas se dekh raha hum, use chum raha hum, usake ras ko pi raha hum aur aaj jab yah asal me karane ka mauka mila to yah sab karane ke liye ab ham donom me sabar nahi tha. maine ek halka dhakka diya aur mera lund ek hi baar me pura mom ki tapati gili bur me sama gaya. mom ki choot aisi gili thi jaise andar krima bhar di ho. mom ne mujhe apani jaamghom aur baamhom me bhar liya aur niche se hi dhakke de dekar chudawaane lagi.

mujhe isaka vishwaas hi nahi ho raha tha ki aakhir mai apani mom ko chod raha hum. mera pahala sambhog, pahali baar kisi naari se kaama krid.a aur wah bhi meri jaan se pyaari mami ke saath! mai kuch kahana chaahata tha par mom ne apani chuchi mere mumha me thums di thi aur chod. hi nahi rahi thi. maimne tadap kar mom ke apani baahom me kasa aur use hachak hachak kar chodane laga.

hamaara yaha pahala sambhog bilakul jaanawarom jaisa tha. hama itane pyaase the ki ek dusare ko bas pure jor se chod rahe the, bina kisi ki parawaaha ke. chaar paamch minit ki dhuaamdhaar chudaai ke baad jab mai aakhir jhad.a to jaan si nikal gayi. itani trupti mahasus ho rahi thi jaisi kabhi nahi hui. lagata hai ki mom bhi jhad. chuki thi kyomki mujhe baamhom me bharake mere baalom me haath chalaati hui bas yahi kaha rahi thi "mere bete, mere laal, mere bachche"

maimne mom ka nipal mumha me se nikaala aur usake stanom ki khaai ko chumakar mom se bola

"sorry mummy, mai apane aap ko rok nahi paayaa, isaliye itani jaldi ki" mom ne pyaar se kaha

"jaanati hu bete, bas kuch mat bol, aise hi pad.a raha. kuch kahane ki jarurat nahi hai. mere dil ka haal tu jaanata hai aur tere dil ki baat mai jaanati hum." hama khaamosh apane skhalit hone ke aanamd me bhigate pade rahe. mujhe vishwaas hi nahi ho raha tha ki maimne apani mom se, apani janani se abhi abhi sambhog kiya hai, wah bhi usaki ichchaanusaar aur use wah bahut achcha laga hai. mom ne kuch der baad kaha


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Maa ka dulara -माँ का दुलारा

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 01:51

माँ का दुलारा पार्ट--4


गतान्क से आगे...............

"अनिल, पहले मुझे तुझ पर पहुत गुस्सा आया था, आख़िर मेरा प्यारा बेटा ऐसी गंदी हरकते कैसे कर सकता है पर फिर मेरी भी हालत बुरी हो गयी थी. लगता था कि तू यहा सब ऐसे ही तो नही करता? क्या सच मे मैं तुझे अच्छी लगती हू? तू भी इतना जवान और सुंदर है, मेरे मन मे भी कैसे कैसे विचार आने लगे थे. खुद पर ही गुस्सा आया जो तुझपर निकाला. तू नही समझ सकता, एक मॉं पर क्या गुजराती होगी, जो इतनी प्यासी है इतने सालों से और खुद उसका जवान लड़का उसे भाने लगे. बार बार मन मे लगता कि कैसी पाप की बाते सोच रही है. फिर सोचा कि आख़िर तुझसे दो टुक बाते करूँ. मुझे यही लगा था कि मेरे शरीर को देखकर तू आख़िर समझ जाएगा और मेरी परेशानी कम से कम एक तरफ से तो कम हो जाएगी" मैंने मोम से पूछा

"मामी, सच बताओ, अगर मैं भी कह देता कि हाँ, मैं अब कुछ नही करूँगा तो तुम क्या करती? तुम्हे अच्छा लगता?" मोम ने मुझे पास खींचते हुए बोला

"नही बेटे, सच बतओं तो इतना संतोष भर होता कि मैंने अपना कर्तव्य पूरा किया, तुझे सही रास्ते पर ले आई. पर अच्छा नही लगता. एक तो मुझपर पहाड़. टूट पड़ता कि मैं सच मे मोटी और बेडौल हू. दूसरे तुझे मैं बेटे के रूप मे फिर पा लेती पर तेरे जैसे सुंदर जवान से प्यार करने का मौका हमेशा के लिए खो देती." मैंने मोम की छाती मे सिर छिपा कर कहा

"माँ, तुम तो कितने साल से मुझे अच्छा लगती हो, जब से जवान हुआ हू, तभी से तुम्हारे सपने देख रहा हू. होस्टल मे भी तुम्हारे सपने देखा करता. पर आज मुझे गुस्सा आ रहा है, मैं पहले ही तुमसे कहा देता तो तुम्हे कब का पा चुका होता. वैसे मैंने आज बहुत जल्दी की माँ, पाँच मिनिट मे ख़तम हो गया, मुझे और सब्र करना चाहिए था" मों हँस कर बोली

"और क्या करना था अनिल? मन नही भरा"

"नही माँ, तुमने मुझे स्वर्ग मे पहुँचा दिया. माँ, तुम्हे अच्छा लगा? कि मैंने तुम्हे प्यासा छोड़. दिया?" मैंने पूछा.

"तू नही समझेगा मेरे लाल, मुझे कितना अच्छा लगा. तुझे और क्या करना था मेरे साथ, बता तो" मोम ने फिर पूछा. वह मंद मंद मुस्करा रही थी.

"मैं तुम्हारी शरीर को हर जगहा चूमना और उसका रस चूसना चाहता था. कब से इसका सपना है मेरे दिमाग़ में" मैंने आख़िर अपनी इच्छा कह डाली.

मोम मुझे चूमा कर बोली

"कल कर लेना बेटे, जो चाहे वह कर लेना, अब मैं कही भाग थोड़े ही रही हू? कल और परसों छुट्टी है, मैं अपने बेटे को बहुत सा प्यार दूँगी. चल अब सो जा"

मैं उठ बैठा

"इतनी जल्दी थोड़े छोड़ूँगा मोम मैं तुम्हें. इतनी मुश्किल से हाथ आई हो. आज रात भर प्यार करूँगा तुम्हें" अब हमारे बीच की झिझक पूरी समाप्त हो गयी थी. आग दोनों तरफ से लगी थी. अब मोम और मैं ऐसे बाते कर रहे थे जैसे दो प्रेमी करते हैं. मोम शैतानी के लहजे मे मेरी आँखों मे आँखे डाल कर बोली

"प्यार करेगा, याने क्या करेगा बेटे? चूमेगा? बोल ना?" मैं क्या कहता. मोम शरारत पर उतर आई थी. मेरी परीक्षा ले रही थी शायद. मैंने आख़िर कह ही डाला

"हाँ माँ, चुम्मा लूँगा, तुम्हारी जीभ चुसूँगा, तुम्हारे मुँह की इस चाशनी का स्वाद लूँगा और फिर माँ, मैं तुम्हे रात भर चोदुन्गा. इतना सब करने का मन होता है मेरा तुम्हारे साथ" मोम ने मुस्कराते हुए पूछा

"अब बोला ना सॉफ सॉफ, मैं यही सुनना चाहती थी. और क्या क्या मन होता है, मैं भी तो सुनूँ. आख़िर पता तो चले की मेरे इस पागल बेटे को अपनी मोम के साथ क्या क्या करना है" मैंने कहा

"तुम्हाई मम्मों को खूब दबाने और चूसने का मन होता है. उन्हे चबा चबा कर खा जाने का दिल करता है, उनके बीच की खाई मे अपना लंड डाल कर रगड़ने का मन होता है."

"और?" मैं अब मोम की जांघों के बीच मे नज़र लगाए बैठा था. मोम ने अब टांगे आपस मे सटा ली थी इसलिए उसकी चूत पूरी नही दिख रही थी. पर उस शेव की हुई बुर का मांसल उभार और उसके बीच की गहरी लकीर सॉफ दिख रही थी. मेरा वीर्य और मोम की चूत का पानी उसकी जांघों पर बह आया था. मोम की टांगे अलग करने की कोशिश करता हुआ मैं बोला

"तुम्हारी यह रसीली चूत चूसने का मन होता है. लगता है कि इसका चुंबन लूँ, इसमे जीभ डालूं और तुम्हारा सारा रस पी लूँ. ममी, प्लीज़, देखने दो ना" मैं मोम की बुर की गहरी लकीर मे उंगली चलाने लगा. मोम वैसे ही रही, अपनी टांगे और सिमटाकर बोली

अच्छा ये बता तूने इतनी सारी बाते कहाँ से सीखी

मैने कहा मोम नेट पर राज शर्मा का एक हिन्दी सेक्सी कहानियो का ब्लॉग है कामुक-कहानियाँडॉटब्लॉगस्पॉटडॉटकॉम मैं उसी ब्लॉग मे सेक्सी कहानियाँ पढ़ता था वही से मुझे इन बातो का पता चला मोम उस ब्लॉग पर सेक्स से संबंधित सभी तरह की जानकारी है मैने मोम को बताया

मोम कहा अनिल मैं भी ओफिस मे नेट पर अक्सर कामुक-कहानियाँब्लॉगस्पॉटडॉटकॉम पर राज शर्मा की कहानिया पढ़ती रहती हू सच मे उस ब्लॉग जितनी सेक्सी कहानिया मैने कही भी नही देखी

मोम एक बार और करने दो ना मैने मोम से कहा

मोम ने कहा बेटा "आज नहीं, सब एक दिन मे कर लेगा क्या? आगे बोल, और क्या करेगा मेरे साथ"

"माँ, तुम्हारे पैर इतने खूबसूरत हैं, उनकी पूजा करूँगा, खूब चुंबन लूँगा उनके, तुम्हारे तलवे चाटूंगा. तुम्हारा चरणामृत पियुंगा" मोम भाव विभोर हो गयी. मुझे पट से चुम लिया.

"मेरे पैर अच्छे लगते है तुझे? तभी बदमाश मेरी चप्पालों से खेलता था, और पिछले साल से बार बार मेरे पैर छूने की फिराक मे रहता था नालायक कही का! वैसे मेरे पैर सुंदर है ये मुझे मालुम है, मेरी सहेलियाँ भी मुझे बचपन मे कहती थी कि रीमा तुझे तो फैशन की सैंडालों का मेनमॉडल होना चाहिए. पर तेरे मुँह से ये सुनकर कितना अच्छा लगता है तू नही समझेगा. बचपन मे भी तुझे मेरी चप्पालों से खेलने का बहुत शौक था, रेंगते हुए पहुँच जाता था जहाँ भी रखी हों" मोम कुछ देर खामोश रही, बस मुझे चूमती रही और मेरी पीठ पर हाथ फेरती रही. फिर मेरे पीछे लग गयी.

"और क्या करेगा, बता ना" अब मैं क्या कहता. बची थी उसके उन भारी भरकामा नितंबों को प्यार करने की बात, पर आख़िर मेरी हिम्मत जवाब दे गयी. मैं कैसे पहली ही रात को कहता की मोम तुम्हारी गांद भी मारने का मन करता है

मेरे चेहरे पर के भावों से मोम शायद समझ गयी. मुझे चिढ़ाना छोड़. कर मुझे अपने उपर खींच कर फिर लेट गयी. मेरे लंड को पकड़.आकर हौले हौले मुठियाते हुए बोली

"और अनिल, मेरा क्या मन होता है मालुम है? मैं अपने बेटे को बाँहों मे भर लूँ, उसे खूब प्यार दूं, उससे खूब चुदवाउ, उसकी हर इच्छा पूरी करूँ अपने शरीर से, उसे अपना दूध पिलाउ और फिर उसके इस प्यारे शिश्न को चूस कर उसकी गाढ़ी मलाई पी लूँ. जब तू अपने कमरे मे अभी स्खलित हुआ था, मुझे ऐसा लगा था कि उसे मुँहा मे ले लूँ. कितनी मादक सुगंध आ रही थी उसमेंसे. चल, अब तो तू मेरा ही है, कहाँ जाएगा मोम को छोड़कर"