चाचा चाची की चुदाई compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: चाचा चाची की चुदाई

Unread post by 007 » 13 Dec 2014 15:07

उधर जब सूरज की गांद पूरी तरह खुल गयी तो गीता ने निशा को इसकी सूचना दी,' मेमसाहिब अब सूरज . की गांद पूरी तरह चुड़ाने के लिए तय्यार है,' उसने कहा. "मगर मेरी एक शर्त और है गीता,' निशा बोली.' वो क्या मेमसाहिब?" गीता ने पूछा. अगर तुम एक रात साधु और कालू को चोदो तो उस से पहले पूरी एक रात सूरज उन दोनो से गांद मरवाएगा,' वो बोली. "जितनी चुदाई मेरे सॅंडो से चाहिए उतनी ही मेरे पति की गांद घिसेगी,' निशा बोली.



गीता अब सब कुछ समझ गयी. उसको और चाचिजी को समझ आ गया की अब सूरज मर्द नही रह पाएगा. " इतनी गांद मरवाते मरवाते वो पूरा गान्डू हो जाएगा फिर उसका लंड बेकार हो जाएगा चाचिजी,' गीता ने कहा.' हा वो तो है मगर इस से हुमको क्या, उल्टा हुमारे लिए नये लॉड खुद ढूँढ ढूँढ कर लाएगा,' चाचिजी हस कर बोली. मगर गीता की खुद की चूत भी तो साधु का लंड ख़ान एके लिए खुजली मचा रही थी,' हा चाचिजी अब होने दो सूरज बाबा को गान्डू,' उसने कहा. रात मे चुदाई चालू होते ही चाचिजी ने कहा,' सूरज बेटा, कल तू कालू और साधु से चुड ले ताकि हम दोनो बुद्धि चुतो को चैन पड़े,' उन्होने कहा और ऊओह आ करने लगी. " लेकिन चाची मुझे इसका अनुभव नही,' वो बोला.' मे कल कालू को ले आउन्गि सूरज दादा आप एक बार उस से चुड कर देखना अच्छा लगे तो फिर साधु को बुलाएँगे,' गीता बोली.' "ठीक है चाची आप देख लो,' सूरज ने कहा और उसके धक्के तेज़ हो गये.' गीता उसकी गांद मे लगभग पूरा हाथ डाले हुए थी,' ओह सूरज बाबा क्या रसीली गांद है आपकी,उसने कहा.



जैसा की तय था अगले दिन कालू आया. दोनो औरतो ने कालू को सब बता रखा था,' देख धीरे धीरे मारना और मज़ा देना ताकि गांद मरवाने का इसको मज़ा आए,' गीता ने अपने बेटे से कहा,' तू चिंता मत कर मा मे ऐसी गांद मारूँगा को वो गान्डू बन कर रहेगा,' कालू ने कहा. चाचिजी ने कालू के आने से पहले एक बार सूरज को चोद दिया था ताकि उसका पुरुष्टव थोड़ा और कमज़ोर हो जाए. जब गीता और कालू कमरे मे पहुचे तो भतीजा और चाची दोनो नंगे लेटे हुए थे. कालू और गीता ने भी कापरे उतार दिए. "ले बेटा घोड़ी बन तो ज़रा तेरी गांद की मालिश कर दू ज़रा,' गीता बोली. ये सुनते ही किसी अग्यकारी पशु की तरह सूरज ने अपनी बड़ी गांद उप्पेर कर दी. गीता और चाचिजी दोनो उसके पीछे आ गयी. चाचिजी ने अपने दोनो हाथो से उसकी गांद के काले च्छेद को फैलाया और गीता ने कोई पाव भर नारियल का तेल अंडर सरका दिया, उसकी उंगलिया अब सूरज की गांद मे पच पच्छ की आवाज़े करने लगी. गीता ने धीरे धीरे सूरज की गांद को एक उंगली से चोदना शुरू कर दिया,' अपनी गांद का च्छेद तो किसी कुँवारी की चूत सा टाइट है सूरज बाबू,' गीता बोली. " हा रे आज इसकी गांद की सील कालू तोड़ेगा और कल साधु के साथ इसकी सुहग्रात है,' चाचिजी बोली. गीता अब दो उंगलिओ से चोदने लगी,' अब तुम्हारी गांद थोड़ी खुली बाबूजी मज़े लो मेरी चुदाई के,' उसने कहा. गीता ने अब पूरी तीन उंगलिया अंडर सरका दी थी सूरज की गांद उत्तेजना मे उप्पेर नीचे हो रही थी,' देखो इस कुँवारी गांद को लंड लेने के लिए कैसी मचल रही है,' गीता बोली.' " मगर तेरे बेटे से कहना मेरे बेटे को धीरे धीरे चोदे खून ना आए कही और हा बीज इतना गहरा ना डाले की इसके पेट मे बच्चा ठहर जाए,' चाचिजी बोली. उधर सूरज की गांद अब पूरी खुल चुकी थी गीता को पता चल गया कि लोहा गरम है, उसने इशारा किया और उसके इशारा करते ही चाचिजी ने कालू के लंड पेर तेल मालिश शुरू कर दी. चाचिजी ने पहले उसके लंड की चमरी पीछे कर सुपरे को खूब रग्रा और उसको तेल पिलाया फिर चमरी से वापस सुपरे को क़ैद कर दिया और उसके लंड पेर चारो तरफ और अप्पर नीचे तेल मलने लगी, उसकी गोलिओ तक को नही छोड़ा. कालू का लंड अब तय्यार था और तेल से एकद्ूम चिकना हो चक्का था.

कालू सूरज के पूछे आया और अपना हथियार उसकी गांद के च्छेद पेर रखा, गीता ने अपने बेटे के लंड की चमरी पीछे खिसका दी और तेल से गीला सुपरा सूरज के मलद्वार के प्रवेश पेर दबा दिया. कालू ने हल्का सा ज़ोर लगाया तो खुली हुई गांद मे उसका मोटा सुपरा फँस गया. वो एक मिनिट तक ऐसे ही रहा फिर उसने थोडा अड्जस्टमेंट किया और हल्का सा लंड और अंडर सरका दिया. अब तक सूरज को दर्द नही हुआ था. कालू ने थोडा और ज़ोर लगाया तो आधा लंड सरक गया अब सूरज के मूह से हल्की चीख निकली मगर चाचिजी ने अपने होट उसके होटो मे डाल उसको किस करना शुरू कर दिया ताकि वो कुछ बोल ना सके. उधर कालू का लंड सरकता रहा. कोई 3 मिनिट मे उसका लगभग पूरा लंड भीतेर सरक गया. अब कालू अपनी गांद हिला हिला कर लंड को अड्जस्ट करने लगा. उसको लगा की अब सब ठीक है तो उसने चोदना शुरू कर दिया. " मज़ा आ रहा है बेटे?" चाचिजी ने पूछा.' ज़्यादा नही आ रहा चाचिजी ,' सूरज बोला. तू बस मज़े ले मेरे बेटे, कालू बहुत प्यार से ले रहा है तेरी,' चाचिजी बोली. " ऊ चाची ये मोटा लॉडा मेरी गांद का कचूमर निकल देगा,' सूरज बोला. " बेटा मोटा लंड तो चूत और गांद का कचूमर निकालने की लिए ही बना होता है,' चाचिजी बोली.



उधर कालू को पता था अब सूरज की गांद लंड खाने को तय्यार है इसलिए उसने स्पीड बढ़ा दी. " चोद मेरे लाल चोद इसकी मोटी गांद, तेरा मोटा लंड इसको खूब मज़ा देगा,' गीता बोली.' सूरज ऊवू आ करता रहा मगर कालू के लंड की चुदाई के मज़े भी लेता रहा. 5 मिनिट की चुदाई के बाद कालू ने हथियार डाल दिए और उसकी पिचकारी सूरज की कुँवारी गांद मे जा गिरी,' श मा मेरा पानी छ्छूट रहा है,' वो बोला.' " डाल मेरे बेटे डाल इसकी गांद मे अपना पानी और सींच इसको,' गीता बोली.' " ले ले बेटा इस सांड़ का ताक़तवर पानी अपने अंडर,' चाचिजी बोली.' सूरज भी पानी के गिरते ही सुस्त पड़ गया. अद्ढा काम हो चुका था. उस रात कालू ने चार बार सूरज की गांद मारी. अब अगले दिन सूरज को सुहाग रात थी.







उधर जब सूरज की गांद पूरी तरह खुल गयी तो गीता ने निशा को इसकी सूचना दी,' मेमसाहिब अब सूरज . की गांद पूरी तरह चुड़ाने के लिए तय्यार है,' उसने कहा. "मगर मेरी एक शर्त और है गीता,' निशा बोली.' वो क्या मेमसाहिब?" गीता ने पूछा. अगर तुम एक रात साधु और कालू को चोदो तो उस से पहले पूरी एक रात सूरज उन दोनो से गांद मरवाएगा,' वो बोली. "जितनी चुदाई मेरे सॅंडो से चाहिए उतनी ही मेरे पति की गांद घिसेगी,' निशा बोली.



गीता अब सब कुछ समझ गयी. उसको और चाचिजी को समझ आ गया की अब सूरज मर्द नही रह पाएगा. " इतनी गांद मरवाते मरवाते वो पूरा गान्डू हो जाएगा फिर उसका लंड बेकार हो जाएगा चाचिजी,' गीता ने कहा.' हा वो तो है मगर इस से हुमको क्या, उल्टा हुमारे लिए नये लॉड खुद ढूँढ ढूँढ कर लाएगा,' चाचिजी हस कर बोली. मगर गीता की खुद की चूत भी तो साधु का लंड ख़ान एके लिए खुजली मचा रही थी,' हा चाचिजी अब होने दो सूरज बाबा को गान्डू,' उसने कहा. रात मे चुदाई चालू होते ही चाचिजी ने कहा,' सूरज बेटा, कल तू कालू और साधु से चुड ले ताकि हम दोनो बुद्धि चुतो को चैन पड़े,' उन्होने कहा और ऊओह आ करने लगी. " लेकिन चाची मुझे इसका अनुभव नही,' वो बोला.' मे कल कालू को ले आउन्गि सूरज दादा आप एक बार उस से चुड कर देखना अच्छा लगे तो फिर साधु को बुलाएँगे,' गीता बोली.' "ठीक है चाची आप देख लो,' सूरज ने कहा और उसके धक्के तेज़ हो गये.' गीता उसकी गांद मे लगभग पूरा हाथ डाले हुए थी,' ओह सूरज बाबा क्या रसीली गांद है आपकी,उसने कहा.



जैसा की तय था अगले दिन कालू आया. दोनो औरतो ने कालू को सब बता रखा था,' देख धीरे धीरे मारना और मज़ा देना ताकि गांद मरवाने का इसको मज़ा आए,' गीता ने अपने बेटे से कहा,' तू चिंता मत कर मा मे ऐसी गांद मारूँगा को वो गान्डू बन कर रहेगा,' कालू ने कहा. चाचिजी ने कालू के आने से पहले एक बार सूरज को चोद दिया था ताकि उसका पुरुष्टव थोड़ा और कमज़ोर हो जाए. जब गीता और कालू कमरे मे पहुचे तो भतीजा और चाची दोनो नंगे लेटे हुए थे. कालू और गीता ने भी कापरे उतार दिए. "ले बेटा घोड़ी बन तो ज़रा तेरी गांद की मालिश कर दू ज़रा,' गीता बोली. ये सुनते ही किसी अग्यकारी पशु की तरह सूरज ने अपनी बड़ी गांद उप्पेर कर दी. गीता और चाचिजी दोनो उसके पीछे आ गयी. चाचिजी ने अपने दोनो हाथो से उसकी गांद के काले च्छेद को फैलाया और गीता ने कोई पाव भर नारियल का तेल अंडर सरका दिया, उसकी उंगलिया अब सूरज की गांद मे पच पच्छ की आवाज़े करने लगी. गीता ने धीरे धीरे सूरज की गांद को एक उंगली से चोदना शुरू कर दिया,' अपनी गांद का च्छेद तो किसी कुँवारी की चूत सा टाइट है सूरज बाबू,' गीता बोली. " हा रे आज इसकी गांद की सील कालू तोड़ेगा और कल साधु के साथ इसकी सुहग्रात है,' चाचिजी बोली. गीता अब दो उंगलिओ से चोदने लगी,' अब तुम्हारी गांद थोड़ी खुली बाबूजी मज़े लो मेरी चुदाई के,' उसने कहा. गीता ने अब पूरी तीन उंगलिया अंडर सरका दी थी सूरज की गांद उत्तेजना मे उप्पेर नीचे हो रही थी,' देखो इस कुँवारी गांद को लंड लेने के लिए कैसी मचल रही है,' गीता बोली.' " मगर तेरे बेटे से कहना मेरे बेटे को धीरे धीरे चोदे खून ना आए कही और हा बीज इतना गहरा ना डाले की इसके पेट मे बच्चा ठहर जाए,' चाचिजी बोली. उधर सूरज की गांद अब पूरी खुल चुकी थी गीता को पता चल गया कि लोहा गरम है, उसने इशारा किया और उसके इशारा करते ही चाचिजी ने कालू के लंड पेर तेल मालिश शुरू कर दी. चाचिजी ने पहले उसके लंड की चमरी पीछे कर सुपरे को खूब रग्रा और उसको तेल पिलाया फिर चमरी से वापस सुपरे को क़ैद कर दिया और उसके लंड पेर चारो तरफ और अप्पर नीचे तेल मलने लगी, उसकी गोलिओ तक को नही छोड़ा. कालू का लंड अब तय्यार था और तेल से एकद्ूम चिकना हो चक्का था.

कालू सूरज के पूछे आया और अपना हथियार उसकी गांद के च्छेद पेर रखा, गीता ने अपने बेटे के लंड की चमरी पीछे खिसका दी और तेल से गीला सुपरा सूरज के मलद्वार के प्रवेश पेर दबा दिया. कालू ने हल्का सा ज़ोर लगाया तो खुली हुई गांद मे उसका मोटा सुपरा फँस गया. वो एक मिनिट तक ऐसे ही रहा फिर उसने थोडा अड्जस्टमेंट किया और हल्का सा लंड और अंडर सरका दिया. अब तक सूरज को दर्द नही हुआ था. कालू ने थोडा और ज़ोर लगाया तो आधा लंड सरक गया अब सूरज के मूह से हल्की चीख निकली मगर चाचिजी ने अपने होट उसके होटो मे डाल उसको किस करना शुरू कर दिया ताकि वो कुछ बोल ना सके. उधर कालू का लंड सरकता रहा. कोई 3 मिनिट मे उसका लगभग पूरा लंड भीतेर सरक गया. अब कालू अपनी गांद हिला हिला कर लंड को अड्जस्ट करने लगा. उसको लगा की अब सब ठीक है तो उसने चोदना शुरू कर दिया. " मज़ा आ रहा है बेटे?" चाचिजी ने पूछा.' ज़्यादा नही आ रहा चाचिजी ,' सूरज बोला. तू बस मज़े ले मेरे बेटे, कालू बहुत प्यार से ले रहा है तेरी,' चाचिजी बोली. " ऊ चाची ये मोटा लॉडा मेरी गांद का कचूमर निकल देगा,' सूरज बोला. " बेटा मोटा लंड तो चूत और गांद का कचूमर निकालने की लिए ही बना होता है,' चाचिजी बोली.



उधर कालू को पता था अब सूरज की गांद लंड खाने को तय्यार है इसलिए उसने स्पीड बढ़ा दी. " चोद मेरे लाल चोद इसकी मोटी गांद, तेरा मोटा लंड इसको खूब मज़ा देगा,' गीता बोली.' सूरज ऊवू आ करता रहा मगर कालू के लंड की चुदाई के मज़े भी लेता रहा. 5 मिनिट की चुदाई के बाद कालू ने हथियार डाल दिए और उसकी पिचकारी सूरज की कुँवारी गांद मे जा गिरी,' श मा मेरा पानी छ्छूट रहा है,' वो बोला.' " डाल मेरे बेटे डाल इसकी गांद मे अपना पानी और सींच इसको,' गीता बोली.' " ले ले बेटा इस सांड़ का ताक़तवर पानी अपने अंडर,' चाचिजी बोली.' सूरज भी पानी के गिरते ही सुस्त पड़ गया. अद्ढा काम हो चुका था. उस रात कालू ने चार बार सूरज की गांद मारी. अब अगले दिन सूरज को सुहाग रात थी.


007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: चाचा चाची की चुदाई

Unread post by 007 » 13 Dec 2014 15:08



सूरज की सुहाग रात

अगली रात बहुत हुलचूल थी. चाचिजी का बेडरूम सज धज रहा था. बिस्तेर पेर फूलो की पंखुरिया बिछ गयी थी. अगरबत्ती की खुश्बू फैल रही थी. नारियल के तेल की बड़ी शीशी लाकर रख दी गयी थी. कोई नौ बजे सूरज अंडर आया, चाचिजी और गीता उसको लेकर आए. साथ मे कालू भी था. साधु ने सॉफ कह दिया था की वो सूरज की गांद कालू के बाद नही मारेगा. यही आज कालू को भी इंतेज़ार करना था.

कोई 5 मिनट बाद निशा साधु को लेकर आई. उसने आते ही इशारा किया. इशारा होते ही चाचिजी और गीता ने सूरज के कपड़े उतारने शुरू कर दिए. वी खुद भी नंगी हो गयी. उधर निशा ने भी साधु के कापरे उतार दिए. साधु का लंड अभी सोया हुआ था. " आओ पहले तुमको मूत करवा दू,' निशा बोली. साधो को लेकर वो बाथरूम मे गयी और उसके सोए हुए लंड को पकर कर उसका मूह पिट की तरफ कर दिया. साधु की लंबी धार सीधे पिट मे गयी. कोई दो मिनिट तक साधु ने मूत. निशा ने उसका लंड झटका और उसके मूह पेर लगी मूत की बूंदे चाट ली. दोनो वापस आ गये. अब निशा साधु का लंड लॉलीपोप की तरह चूसने लगी. साधु ने उसके बॉल पकरे हुए थे,' चूस भाडवी चूस मेरा लॉडा आज इस से तेरे पति की गॅंड की मा चोदुन्ग. मे,' साधु ने कहा.' निशा भूखे प्यासे की तरह लंड चुस्ती रही, साधु का लंड फैल रहा था. निशा ने अपने थूक से पूरा लंड गीला कर दिया था.

उधर दोनो कमतुर औरते सूरज को घोड़ी बना कर उसकी गांद खोलने मे लगी हुई थी. सूरज को पता था आज उसकी गांद का मुरब्बा बन जाएगा. गीता उसकी गांद मे अपना हाथ कलाई तक दाल कर अंडर से हिला रही थी. सूरज किसी ख़ास्सी होने वेल बैल की तरह दर्द से भारी आवाज़े कर रहा था. " बस करो गीता मेरी गांद फटी जा रही है, वो बोला.' बस बेटा थोड़ा सबर कर थोड़ी गांद और खोलने दे ताकि तू साधु का मज़बूत लॉडा आराम से ले सके,' गीता बोली. कोई पाव भर तेल इसी बहाने गीता ने सूरज की गांद मे सरका दिया था. उधर साधु पूरा गरम हो चक्का था. निशा ने उसे आज़ाद कर दिया. साधु के पास आते ही दोनो औरते हट गयी. उसके सामने शिकार की खुली हुई गांद थी,' इतनी मोटी गांद तो पक्के गंडुव की होती है,' साधु बोला और सूरज की गांद के च्छेद पेर अपना मोटा सुपरा रख दिया. चाचिजी सूरज को किस कर रही थी ताकि वो चीख ना सके. गीता ने साधु का आलू से भी बड़ा सुपरा ज़ोर से च्छेद पेर दबा दिया. तेल से गीली गांद मे साधु का विशाल सुपरा आधा तो ऐसे ही चला गया. " ऊ मा मे मर जौंगा,' सूरज चीखा.' "बस बेटा एक बार ये लंड अंडर सरक जाए फिर तुझे पूरा मज़ा आएगा,' चाचिजी बोली. साधु ने जोश मे आकर ज़ोर का झटका मारा और पूरा सुपरा अंडर कर दिया,' ऊओह फट गयी मेरी गांद,' सुरक चीखा. " चोद मेरे सांड इस भद्वे को, इसको इसके पपो की सज़ा दे,' निशा ने कहा तो साधु ने दया छ्चोड़ दी और आधा लंड सरका दिया. निशा बोली,' मदारचोड़ को फाड़ दे,' और साधु ने एक ज़ोर का झटका और लगाया. 4-5 झटको मे सूरज की गांद साधु का एक फुट का लंड खा गयी सिर्फ़ आँड बाहर थे.

अब साधु पूरे जोश मे था. " ले भद्वे ले मेरा गरम लॉडा,' और स्पीड बढ़ा दी.' सूरज किसी गाय की तरह चुड रहा था अपने सांड से. " मज़े ले बेटा मोटे लंड के, गांद को अच्छा लगेगा,' चाचिजी सूरज से बोली. उधर कालू को ना जाने क्या सूझी उसने यकायक से सूरज की आगे आकर अपना लंड उसके मूह मे दे दिया और सूरज असचर्यजनक रूप से उसको चूसने चाटने लगा,' चूस मदारचोड़ इस मज़बूत लंड को इसने ही तेरी रंडी बीवी को मज़े दिए है,' कालू बोला. कालू ने अब लंड बाहर निकाला और अपनी बड़े गुलाब्ज़मुन के आकर की गोलिया कालू के होटो पेर रख दी,' चट इस गुलाब्ज़मुन को मदारचोड़ इनके रस से ही तेरा बेटा पैदा हुआ है, वो बोला.' सूरज ग्युलामो की तरह कालू के काले आँड चूसने चाटने लगा. कालू ने अब अपना लंड उसके मूह मे थूस दिया और उसका मूह चोद्ने लगा. पीछे से साधु गांद मार रहा था ऑरा आगे से कालू मूह चोद रहा था. सूरज किसी रंडी की तरह दोनो च्छेदो मे लंड के मज़े ले रहा था और तीनो औरते उसको चूड़ते हुए देख रही थी,' इसके मूह मे अपना मर्डवाला पानी डाल ताकि इस हिजड़े को ताक़त मिले सालू,' निशा बोली." हा मेमसाहिब इस भद्वे के मूह मे मेरा गरम पानी डालना वाला हू,' कालू बोला. " पी जा बेटा इस मदारचोड़ का पानी ,' चाचिजी बोली. कोई दो मिनिट मे कालू सूरज के मूह मे झाड़ गया,''' श आ मा ऊ चाचिजी ऊहह मेमसाहिब साला ये गान्डू बड़ा शानदार्र लंड चूस्ता है इससे तो कोठे वाली रांड़ भी शर्मा जाए,' उसने कहा और गरर्र करता हुआ खल्लास हो गया. उधर सूरज की गांद साधु फड़ता रहा. अब वो उसको आराम से चोद रहा था,' इसकी गांद लंड लेने मे एक्सपर्ट है देखो कैसे एक फुट का लंड पूरा का पूरा खा गयी,' साधु बोला. अब सूरज की गांद से तेल की वजह से फॅक फॅक की आवाज़े आ रही थी. साधु ने कोई आधा घंटे बाद पानी छ्चोड़ा, सूरज दर्द और एग्ज़ाइट्मेंट से रोने लगा, अपने पति की ये हालत देखी निशा बहुत खुश थी. " अब भर रहा हट एरे पति की चूत को रंडी,' ये कह कर साधु ने ढेर सारा वेरया सूरज की गांद मे उडेल दिया. काफ़ी सारा तो बाहर बह कर आने लगा. सूरज के दोनो च्छेद वीरया से भरे हुए थे. मगर दोनो चुड़ककारो में कोई रहम नही थी. रात मे दोनो ने मिल कर सूरज को पाँच बार चोद. सूरज चुड चुड कर पागल हो गया और लगभग बेहोश हो गया.

सुबह सूरज को . दी तो थोड़ा फ़र्क पड़ा. सब जानते थे सूरज अब 3-4 दिन तक चल नही पाएगा. बहादुर और उसकी बीवी सूरज की स्वेआ मे लग गये. टट्टी पहब भी वो बिस्तेर मे कर रहा था. महार दोनो बुद्धि औरते अब मस्त थी, क्योकि आज रात उनको साधु का लंड मिलने वाला था. रात मे साधु और कालू एक साथ चाचिजी और गीता को चोद्ने वाले थे. उधर निशा अपने कमरे मे अकेली थी. उस के लिए साधु अब बेकार था और उसको अब नया और शानदार लंड खाना था. उसके कस्बे के कॉलेज मे नाइजीरिया के कोई 40-50 लरके लरकिया पढ़ते थे. उनमे से कुछ उसके यहा कमरा ढूँढने भी आए थे. " कालू कम से कम दो हबशी ढूँढ ला जो साधु को टक्कर देते हो, और अपना उपेरवाला कमरा उनको किराए पेर दे दे,' उसने कालू से कहा. कालू उनकी तलाश मे चला गया. चाचिजी और गीता रात का इंतज़ार करने लगी.

गीता और चाचिजी ने एक दूसरे की चूत , गांद और खख से बॉल साफ किए. दोनो अची तरह नहाई और कालू और साधु का इंतज़ार करने लगी. चाचिजी ने कोई मस्त ब्लू फिल्म लगाई और खाली ब्लाउस और पेटिकोट पहन कर बिस्तेर पेर लेते लेते उसको देखने लगी. साधु और कालू भी आ गये. गीता सबके लिए गरम दूध लाई. ब्लू फिल्म देखते ड़खटे दोनो मर्द तय्यार होने लगे. चाचिजी ने अपने पैर छोड़े कर दिए थे. पेटिकोट उँचा था जिससे उनकी साफ और चिकनी चूत सॉफ दिखाई दे रही थी. गीता ने साधु के कापरे उतरना शुरू कर दिए उधर कालू अपनेआप नंगा होकर चाचिजी के पास आ गया,' क्यू रे तेरे लंड मे बड़ी ताक़त आ गयी जो मेरी बहू को एक बच्चा दे डाला,' चाचिजी ने कहा. मेरे लंड मे कहा ताक़त चाचिजी वो तो आपकी बहू की चूत मे ही लंड का चुंबक लगा है,' कालू बोला. " दिखा तो तेरे लंड को चोद चोद कर कैसा बना डाला उसने, कुछ बचा या सब निचोर लिया उस चुड़क्कड़ रांड़ ने,' चाचिजी ने कहा और कालू का आधा खरा लंड मुति मे ले लिया. " गीता इधर आ आज तेरे बेटे की मूठ मारते है चेक करते है इसके पानी की मोटाई,' चाचिजी ने कहा. " मगर साधु ?" गीता बोली." उसको तबीयत से चोदेन्गे पहले इस गान्डू के आँड का रूस निकालते है,' चाचिजी बोली.

साधु आँखे फाडे ब्लू फिल्म देख रहा था. उसमे एक 14-15 साल के बच्चे को उसकी मा चोद रही थी. गीता ने कालू को लिटाया और उसकी गांद बिस्तेर के कोने पेर रख दी. वो खुद तो उसकी साइड मे बैठ गयी चाचिजी ने उसके पाओ चौरे किए और सामने स्टूल लेकर बैठ गयी. गीता ने कालू के कारक लंड पेर मूठ मारना शुरू कर दिया और दूसरे हाथ से उसकी गांद मे खोजबीन करने लगी. चाचिजी एक हाथ से कालू के मोटे सुपरे को सहला रही थी और दूसरे से होले होले उसके आँड सहला रही थी. चार गरम हाथो के अहसास ने कालू को पागल कर दिया. वो उत्तेजना मे अपनी गांद उछाल रहा था. चाचिजी ने अपना थूक लिया और उसके सुपरे पेर लगाया,' ओह चाचिजी सुपरा फट जाएगा,' कालू बोला. चाचिजी कालू कें आर्म आंदो को आते की तरह मसल रही थी,' चाचिजी मेरी गोलिया टूट जाएगी,' कालू ने कहा. ये सुनते ही चाचिजी ने हल्के हल्के हाथो से कालू के आँदिओ पेर थपकीया देना शुरू कर दिया. कालू उत्तेजना से काँपने लगा. मूठ मरवाने मे भी इतना मज़ा आ सकता है उसने नही सोचा था. उधर मा की स्पीड बढ़ गयी थी वो तेज़ी से हाथ चला रही थी. दूसरे हाथ से कालू की गांद मार रही थी. दोनो औरतो ने अपने सारे कपड़े उतार दिए थे. स्टूल पेर बैठी चाचिजी की विशाल गांद देख कर साधु का लंड बेक़ाबू हो रहा था. वो आया और उसने चाचिजी की गांद की दोनो फाकॉ को चाटना और चबाना शुरू कर दिया, चाचिजी की हालत खराब हो गयी, वो उतेज्ना मे थोड़ी पीछे हुई अब उनकी गांद का च्छेद भी स्टूल से बाहर था, साधु ने तुरंत उसमे जीभ दाल दी और चाचिजी की गांद को चाटने लगा. स्टूल ज़ोर से हिलने लगा, चाचिजी की विशाल गांद मचल रही थी. चाचिजी का ध्यान अब कालू की मुति से ज़्यादा खुद की गांद पेर था और किस्मेत उनके साथ थी. कोई दो मिनिट मे कालू के सुपरे से गाढ़े वीरया की धार बह निकली. दोनो औरते उसके वीरया को चाटने लगी, नीचे आँदिओ तक बह कर आए वीरया को भी उन्होने चाट डाला.

स्टूल फेक कर चाचिजी ने हवा मे अपनी गांद साधु के मूह से सटा दी. कालू बाथरूम मे लंड धोने गया तब तक चाचिजी उसी की पोज़िशन ले चुकी थी. उन्होने बिस्तेर के कोने पेर अपनी गांद रखी और टाँगे मोर कर अप्पर कर ली. चाचिजी की चूत के मोटे हॉट साधु को न्योता दे रहे थे. उसने अब अपना ध्यान चूत पेर लगाया. साधु अपनी जीभ से चाचिजी की चूत चोद्ने लगा,' ऊवू मेरे राजा तेरी जीभ भी जवान मर्द के लंड जितनी मज़ेदार है,' चाचिजी बोली. उधर गीता ने साधु का लंड चूसना शुरू कर दिया. साधु पूरा एक फुट का साँप लेकर तय्यार था. गीता ने उसके साँप का भारी सुपरा चाचिजी की चूत के मोटे होतो पेर रखा और साधु ने तुरंत आधा लंड एक शॉट मे सरका दिया,' अरे मदारचोड़ चूत है कोई दुकान नही जो एक ही शॉट मे पूरा डोर खोल डेग.,' चाचिजी बोली. मगर साधु को पता था चाचिजी की चूत तुरंत उसका पूरा लॉडा खा जाएगी,' मेरा एक फुट का औज़ार भी आपकी दुकान के गेट से छ्होटा है,' साधु बोला,' जा भोसड़ी के अभी भी टाइट चूत है कोई मोटा भोसड़ा नही,' चाचिजी ने कहा. साधु ने अपना पूरा लंड सरका दिया था,' श मेरे राजा मेरा नसीब है जो इस उम्र मे ऐसा गधे जैसा लंड मेरी चूत खा रही है,' चाचिजी बोली और साधु के स्ट्रोक्स के साथ गांद हिलने लगी. उधर कालू चाचिजी के निपल्स चूस रहा था और उसकी मा ने साधु के लंड का बेस कस कर पकड़ा हुआ था ताकि साधु का हथियार पठार जैसा कठोर बना रहे.' साधु अब तेज़ी से फ़चफ़च चुदाई कर रहा था,' मार इसकी चूत ज़ोर से फाड़ दे इस रंडी की चूत,' गीता बोली,' हा मेरे राजा रुकना मत चोद्ते जाना मेरी चूत पानी चूड़ने वाली है,' चाचिजी बोली. डूस मिनिट की चुदाई मे वो कोई 5 बार झाड़ गयी. साधु ने चुदाई का इतना मज़ा लेने वाली औरत नही देखी थी,' इस कस्बे मे तेरे जैसी चुड़क्कड़ औरंत दूसरी नही मिलेगी,' साहू बोला,' और तेरे जैसा सांड,' चाचिजी बोली और चीखी. " अब मेरे भोस्डे मे तेरा पानी डाल मेरे राजा,' चाचिजी बोली.' हा साधु इसकी चूत को भर दे तेरे क्रीम से,' गीता बोली और पीछे आ कर साधु के झूलते आँड लगभग मसालने लगी. साधु आँड मसालने के दर्द से तुरंत झाड़ गयी,' ओह मदारचोड़ गीता मेरे आँदिओ पेर रहम कर इनका कचूमर मत निकाल,' ये कह कर वो खल्लास हो गया. साधु के झाड़ते ही चाचिजी को घोड़ी बना कर कालू ने चोद्न शुरू कर दिया, बाद मे गीता को भी दोनो ने चोद. रात भर चुदाई चली. दोनो सुबह इतने तक गये की अगले तीन दिन तक नज़र नही आए. चाचिजी साधु का लंड चोद कर धान्या थी. उधर निशा एक कदम आगे जाने का सोच रही थी.


007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: चाचा चाची की चुदाई

Unread post by 007 » 13 Dec 2014 15:09

कस्बे मे नाइजीरिया और कुछ दूसरे अफरीसी देशो के हबशी पढ़ते थे. ये लोग किराए के कमरो की तलाश मे रहते थे. कालू ने पता किया उनमे से दो के लंड बहुत बड़े थे. एक शादीशुदा था दूसरा कुँवारा. कालू ने उनसे बात की और समझाया की उनको छत पेर फ्री मे कमरा और फ्री खाना मिलेगा बदले मे मालकिन को चॉड्ना पड़ेगा. दोनो तय्या हो गये, एक का नाम था दवीड जो 19 साल का था और कुँवारा था दूसरा माइकल जो 25 साल का था उसकी वाइफ 19 साल की थी जिसका नाम था इसाबेल. कालू ने कमरा देने से पहले दोनो के लंड देखे और उसको यकीन हो गया की उनके मोटे काले और आगे से कटे हुए लंड निशा की चूत की प्यास ज़रूर बुझायेँगे.



दो तीन दिन मे तीनो उपेरवाले बड़े कमरे मे शिफ्ट हो गये. निशा रात को सिर्फ़ नाइटी पहन कर अप्पर आई कालू भी साथ था. निशा का रूप यौवन देख कर दोनो कलुओ को अपनी किस्मेत पेर यकीन नही हुआ. " कालू इनसे कह पहले ये दोनो इस लर्की को चोद कर दिखाए ताकि मे इनके लंड और इनकी चुदाई देख साकु,' निशा बोली.



दवीड ने अपनी पत्नी के कापरे उतरे और उसके मोटे मोटे बूब्स दबाने लगा और उसके काले मोटे निपल्स चूसने दबाने लगा. उधर माइकल ने इसाबेल के कापरे खोले और खुद भी नंगा हो गया. वो पीछे खड़ा हो कर उसकी गांद से खेलने लगा और थोड़ी देर मे उसकी गांद चाटने लगा,' कालू ये हबशी तो गांद बढ़िया चट्टा है,' निशा बोली,' अभी इसी गांद को फड़ेगा मेमसाहिब,' कालू ने कहा. दवीड बिस्तेर पेर लेट गया, उसका लटका हुआ लंड भी विकराल लग रहा था. इसाबेल उसके अप्पर आ गयी अब दवीड उसकी काली चूत को कुत्ते की तरह चाट रहा था और वो अपने पति का लंड चूस रही थी. ईशा ने देखा की उसके मोटे मोटे काले हॉट कितनी कुशलता से दवीड के लंड को चूस रहे थे,' ये तो सारे चोदु है कालू,' निशा बोली,' हा मेमसाहिब इसीलिए तो लाया हू,' उसने जवाब दिया. दवीड का लंड अब फैलने लगा था, उसका बिना चमरी का सुपरा अब इसाबेल के मूह मे बड़ी मुश्किल से जा रहा था और फँस भी रहा था, निशा की नज़र वही थी,' मदारचोड़ की आंड देख कालू जैसे कोई बड़ा संतरा हो,' वो बोली,' ' हा मेमसाहिब ध्यान रखना पड़ेगा नही तो काले लंड वाला बचा एक शॉट मे पेट मे चला जाएगा,' कालू ने कहा,' नही कालू बदनामी हो जाएगी इनको मे निरोध लगा कर ही चोदुन्गि,' निशा ने कहा. दवीड का लंड कोई एक फुट से भी बड़ा हो गया था इसाबेल के मूह के साइज़ से भी बड़ा था. इतना बड़ा लंड निशा ने पहले कभी नही देखा था उसकी आँखे फटी रह गयी. उधर माइकल इसाबेल के पीछे आकर उसकी गांद आम की तरह चूस रहा था. उधर उसका लंड भी टाइट हो रहा था. माइकल की आंड तो ज़्यादा बड़े नही थे मगर उसके लंड की मोटाई ग़ज़ब थी. निशा ने इतना मोटा लंड आजतक नही देखा था,' कालू इसके हिटना मोटा लंड तो घोड़े का भी नही होता,'मेमसाहब फस गया तो ऑपरेशन करवाना पड़ेगा,' कालू ने हंस कर कहा. " धात साले चूत मे कोई लंड फसा है आज तक,' निशा बोली.



इसाबेल ने पोज़िशन बदली और अपनी चूत दवीड के लंड पेर रख कर धक्का दिया, ' श फक मी,' वो बोली. दवीड ने उसकी गांद पाकर कर देहीरे धीरे लगभग पूरा लंड उसकी काली चोट मे सरका दिया. अब माइकल पीछे आया और गांद पेर अपना मोटा लंड सरका कर धीरे धीरे खिसकने लगा. कोई दो मिनिट मे उसका हात्ोड़ा भी भीतेर सरक गया था. दोनो ज़ालिम उस काली औरत को चोद रहे थे और वो भी एक्सपर्ट रांड़ की तरह बिना आ ऊओह किए चुड रही थी,' इस रंडी का चुदाई का कितना अभ्यास है कालू,' ईशा ने कहा.' " इनके यहा तो बचपन से ही चुदाई चलती है और साले सारे लंड मुसलचंद ही होते है,' कालू बोला.' अब उन तीनो कालो की चुदाई चालू थी और निशा की चूत से पानी बह बह कर उसके पाओ तक पहुच रहा था. कालू का लंड भी तन रहा था. दोनो ने एक दूसरे को चूमना चालू कर दिया,' कालू मेरे जान मेरी हालत खराब है,' निशा बोली.' मेरी भी मेमसाहिब,' कालू ने कहा और अपना ताना हुआ लंड निशा की मुट्ठी मे पकरा दिया.

निशा ने कालू का लंड कॅंडी की तरह चूसना शुरू कर दिया. वी अपनी जीभ कालू की गांद और आँड के बीच की जगह पेर ले जाती और वाहा से उसके लंड की टिप तक जीभ रगर्ति. कालू के लंड उसने उसके पेट पेर दबाया हुआ था. तूदी देर लंड के अंडर की साइड चाटने के बाद उसने कालू की एक गोली मूह मे लेकर धीरे धीरे उसको चूसना शुरू कर दिया. दोनो गोलिया चूसना के बाद उसने कालू के सुपरे की जाँच शुरू की , बीच बीच मे वो अपने दाँत से हल्का सा लंड को दबा भी देती. उसने सुपरे के चमरी पीछे किशकाई और अपनी जीभ से उसके मूट के च्छेद को चाटने लगी,' श रंडी तू तो चूस चूस कर ही खल्लास कर देगी,' कालू बोला.' " हा भद्वे तेरा पानी निकलते ही दोनो कालू मेरी पूरी रात मारेंगे,' निशा बोली. कालू सामने हो रही चुदाई और निशा की मस्त चटाई से मदमस्त था,' कोई बात नही इस काली को चोद्ने के नाम से ही मेरा लॉडा दुबारा से तन जाएगा,' उसने कहा. अब निशा ने पूरा सुपरा मूह मे ले लिया था और गुलाब्ज़मुन की तरह उसे चूस रही थी खा रही थी,' श रंडी तू मेरा माल खाली करवा कर मानेगी,' कालू ने कहा और निशा के बॉल पकड़ लिए. निशा अब मूह से उसका लंड चोद्ने लगी. कालू बॉल पकड़ कर उसके मूह को चूत की तरह चोद रहा था,' भेंचोड़ कलुओ के लंड के चक्कर मे मेरा पानी छुड़वा रही है, तेरा पेट मे मेरे पानी से भर दूँगा रंडी,' कालू बोला,' ठीक है मेरे राजा भर दे मेरा पेट, दाल मेरे मूह मे तेरे गुलाब्ज़मुनओ का रस,' निशा ने कहा और कालू के अंडकोषो को धीरे धीरे दबाने लगी जैसे आम को रस निकालने से पहले नरम करते है वैसे. " मेरा पानी च्छुत रहा है रनडिीई ऊऊहह आहह ये लीयी ये आयाअ पाणिीईईईईई,' कह कर कालू का शॉट निकल परा. निशा आँड दबाते दबाते सारा रस गटक गयी. उधर वो तीनो अभी भी चोद रहे थे सिर्फ़ पोज़िशन बदली थी अब माइकल इसाबेल की चूत चोद रहा था और दवीड गांद. कालू तो निढाल पड़ा था मगर निशा की रात तो अब शुरू हुई थी.



निशा उनके पीछे गयी और पास से चूत और गांद मे आते जाते लंड देखती रही और उसकी इच्छा हुई की काश इसाबेल की जगह वो हो और उसके दोनो च्छेदो मे ऐसे ही काले मोटे लंड आए जाए,' मदारचोड़ो ने ऐसे रक्षश जैसे लंड कहा से पाए?" उसने सोचा. उसने इसाबेल की गांद मार रहे दवीड के मोटे काले चूतड़ पाकरे और उसको धक्का देने लगी, दवीड को मज़ा आ रहा था,' श पुश मी हिप्स बेबी,' उसने कहा. निशा को लगा इस कालू को अब खलास कर देना चाहिए, उसने अपनी एक उंगली से दवीड की गांद सहलानी शुरू कर दी और दूसरे हाथ से उसके विशाल और उकचलते हुए आनडिए मसालने लगी, दवीड और तेज़ हो गया,' एस बेबी ई'म कुम्मिन्न्न,' ये बोला और वो अपनी बीवी की गांद मे झाड़ गया. दवीड जैसे ही हटा माइकल को चोद रही इसाबेल के मोटे मोटे टाइट काले चूतड़ निशा को दिखाई दिए, वो माइकल को पागलो की तरह उच्छल उच्छल कर चोद रही थी,' निशा नीचे झुकी और उसने नीचे सो रहे माइकल के लेते हुए अंडकोष की गोलिया चटनी शुरू कर दी,' श नू ई'म एक्शप्लोड़ीन,' माइकल बोला.' एस बेबी फिल मी कंट विथ उर सीड्स,' इसाबेल ने कहा. दोनो एक साथ झाड़ गये. तीनो मर्द झाड़ कर नंगे लेट हुए थे. निशा अब तय्यार थी.

निशा ने अपने कापरे उतार दिए. दवीड और माइकल ने इतनी सुंदर औरत पहले नही देखी थी. एकद्ूम गोरा माखन जैसा बदन. बड़े और टाइट बूब्स जिनके निपल्स एकद्ूम गुलाबी थे और तने हुए थे. कमर दो बचो के बाद भी अछी शेप मे थी. एकद्ूम बिना बालवली सॉफ चूत जिसके हॉट एकद्ूम चिपके हुए थे. लंबी सुंदर टाँगे और बाहर की तरफ उभरी हुई मोटी गांद जिनको देख कर किसी बुड्ढे का लंड भी दुबारा काम करने लग जाए. दोनो कालो को पास लिटा कर निशा ने उनके लंड की सेवा करना शुरू कर दिया. निशा ने पहले दवीड का लंड हाथ मे लिया, उसने पहली बार खुला हुआ लंड देखा था,' कालू इसके लंड के आगे चमरी क्यू नही है?" उसने पूछा. " मेमसाहिब मुसलमानो और इन कालो मे आगे की चमरी काटने का रिवाज़ है,' कालू बोला.' पेर उस से क्या होता है कालू?" निशा बोली.' " इस से इनका सुपरा कम सेन्सिटिव हो जाता है जिससे ये लोग ज़्यादा देर तक चोद सकते है,' कालू ने कहा.' पहले क्यू नही बोला कालू नही तो मे तेरी चमरी कटवा देती,'निशा ने कहा,' वो तो बचपन मे काटने पेर ही होता है,' कालू बोला.' फिर तो मे हुमारे बेटे की चमरी ज़रूर कत्वौन्गि ताक़ि वो बड़ा होकर अपनी मा को खूब चोदे,' निशा बोली.' आप बीच्ड बन कर मानेंगी,' कालू ने कहा.



निशा दवीड के लंड को हिलने लगी और उसके भारी आंदियो को तोलने लगी,' जा कालू नीचे से 4-5 निरोध ले आ,' उसने कहा.' कालू निरोध लेने चला गया. अब निशा ने अपने प्यासी जीभ को दवीड के औज़ार पेर फिरना शुरू कर दिया.' दवीड का विकराल लंड फैलने लगा. एक हाथ स्सी वो माइकल का लंड मुठिया रही थी. अपने थूक से गीला कर कर के उसने दवीड का लंड आधा खड़ा कर दिया. उधर माइकल से रहा नही गया उसने अपना मोटा लॉडा उसके मूह पेर सटा दिया,निशा ने इतना मोटा लंड अपने जीवन मे कभी नही देखा था, वो फिर भी उसको पाकर कर चूसने चूमने चाटने लगी,' माइ गॉड दिस लुक्स लाइक ए कुकुंबेर,' निशा बोली,' नो बेबी इट्स बिग्गर दॅन दट,' माइकल बोला और निशा का मूह फाड़ने लगा.' उधर कालू लौटा तो देखा की निशा अपने काम पेर लग गयी थी,' ये चुड़क्कड़ इन कलुओ को ऐसा चोदेगि की ये जीवन भर याद रखेंगे,' कालू ने सोचा.



उधर दवीड निशा के पीछे आया और उसने उसकी गांद मे आधी जीभ दाल दी,' ओह उ र स्क्रेवीन माइ आस बेबी,' निशा बोली. " दिस ईज़ माइ टंग आइ'ल्ल लेटर फक इट टू स्वीटहार्ट,' दवीड बोला और जीभ से निशा की गांद की चुदाई जारी रखी. कालू नीचे सरक गया और निशा की गुलाबी क्लाइटॉरिस पेर लगभग काटने लगा और उंगली से उसकी चूत को चोद चोद कर गरम करने लगा. निशा के मूह मे एक मोटा लंड था और दो आदमी उसके दोनो च्छेदो को चोद रहे थे,' कालू अब सहन नही हो रहा,' उसने कहा और दोनो कलुओ से बोली,' डॉन'ट टीज़ मी फक मी नॉववव,' ये सुनते ही माइकल ने कालू को हटाया और निशा के नीचे सरक गया वो अभी भी घोड़ी बनी हुई थी, कालू ने उसके मोटे लंड पेर निरोध चड़ाया और उसने निशा नि चूत के प्रवेष्द्वार पेर उसको सटा दिया,' चूत को थोडा दब्ाओ मेमसाहिब आराम से लेना इस घोड़े का लंड,' कालू ने कहा. निशा अपनी चूत की गिरफ़्त मे माइकल के मोटे औज़ार को लेने लगी. वो भी एक्सपर्ट थी कोई चार झटको मे उसकी चूत इतना मोटा लंड कोई आधा निगल गयी,' मेमसाहिब अपनकि चूत तो कैसा भी लंड खा ले,' कालू बोला.' ऐसे लंड भी तो नसीब्वाली चुतो को मिलते है कालू,' निशा ने कहा और माइकल का पूरा लंड खा गयी और धीरे धीरे उसको चोद्ने लगी. उधर दवीड अब पूरा गरम था उसने अपना हथियार निशा के मलद्वार पेर रखा एर सरकने लगा, निशा को दर्द महसूस हो रहा था पेर उसने गांद टाइट कर ली ताकि उसके लंड का हर हिस्सा गांद मे जाते हुए महसूस हो. कोई दो मिनिट मे दवीड का लंड भी निशा की पूरी गांद मे सरक गया.अब दोनो विशाल लंड निशा की फाड़ रहे थे. निशा को लग रहा था जैसे दोनो उसके मूह से बाहर निकल जाएँगे. कालू भी तो मदारचोड़ था उसने आगे आ कर अपना लंड निशा के मूह मे दस दिया. निशा के तीनो च्छेदो मे लंड थे. कालू भी अब पूरा तय्यार था उसने भी निशा का मूह चोद्न शुरू कर दिया.' निशा बोल भी नही सकती थी. किसी रंडी की तरह बेबस वो अपनी ख़तरनाक चुदाई देख रही थी. उधर निशा की गांद और चूत मे दोनो कालू फस गये और ज़ोर ज़ोर से चोद्ने लगे,' यू गॉट सेक्सी आस इम गॉना ब्रिंग उर शीत औट्त बेबी,' दवीड बोला और स्पीड बढ़ा दी. दो मोटे लुंडो के दबाव से निशा 3-4 मिनिट मे ही झार गयी. उसको मल्टिपल ऑर्गॅज़म हो रहे थे,' फाड़ दो मेरी चूत और गांद,' वो धेरे ध्ीएरए बड़बदये जा रही थी. 10 मिनिट की चुदाई के बाद दोन ओने पोज़िशन बदल ली. अब माइकल गांद मे था और दवीड चूत मे. दोनो हरमज़ड़े निशा को बेरम्ी से चोद रहे थे.' निशा की इतनी भयंकर चुदाई पहले कभी नही हुई थी. दोनो आधे घंटे तक चोद कर खाली हुए, उधर कालू ने भी अपना पानी छोड़ दिया.



कालू ने बाद मे इसाबेल को चोदा उधर दोन ओने रात मे दो दो बार निशा की ली. निशा चुड चुड कर घायल हो गयी. उसने फ़ैसला कर लिया अब वो 2-4 दिन तक लंड नही लेगी.



उधर नीचे चाचिजी और गीता की चुदाई जारी थी. बहादुर और साधु उनकी गरम चूतो की सिकाई कर रघे थे. मगर सूरज को ना जाने क्या हुआ उसको चोद्ने के बजाई चुद्वने मे ज़्यादा मज़ा आने लगा,' ये क्या हुआ गीता?' चाचिजी ने पूछा.' कोई बात नही चाचिजी जो जवानी मे ज़्यादा चुड़ककर होते है वो इस मुर मे आअतए आते गन्दू हो जाते है, सूरज बाबू अब पूरे गन्दू हो चुके है,' गेटा बोली,' चाचजी की तरह?" चाचिजी ने पूछा,'नही चाचिजी उनका तो हथियार ही पूरा नही बना था अब तो कोई मस्त और छ्होटी चूत ही शायद सूरज को डबरा मर्द बना सके,' गीता ने कहा." अभी तो ये गन्दू ही ठीक है गीता ताकि ह्यूम लंड आसानी से मिले बाद मे इसका भी इलाज कर लेंगा,' कह कर चाचिजी हासणे लगी.



उधर कालो की चुदाई के क़िस्से कालू ने दोनो बुद्धि औरतो को बता दिया,' मदारचोड़ ये रंडी ( निशा) तो मोटे लंड ले ही आती है अब साधु से भी बड़े हथियार ढूँढ लिए उसने,' चाचिजी बोली. " चाचिजी निशा की चूत और गांद सूजी पड़ी है, आप चाहो तो चुपचाप उनसे चुड लो,' कालू बोला,' महार उस रंडी को पता चल गया तो?' चाचिजी ने कहा,' तो क्या हुआ ज़्यादा से ज़्यादा कमरा खाली कराव देगी या फिर सूरज बाबू की गांद मरवा देगी, दोनो मे ही क्या प्राब्लम है,' कालू ने कहा. ये सुनते ही चाचिजी और गीता खुश हो गये. " मे आज निशजी के दूध मे नशे की डॉवा मिला दूँगी, वो सो जाएँगी तो उन कलुओ के लंड लेंगे पूरी रात,' गीता बोली, ' हा गीता जल्दी कर मेरी तो चूत मे खुजली मच गयी,' चाचिजी बोली,' दोनो भद्ओो का कटा हुआ लंड है,' कालू बोला.' फिर तो और मज़ा आएगा,' गीता ने कहा और तय्यरी मे लग गयी.