अंजाना रास्ता compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: अंजाना रास्ता

Unread post by rajaarkey » 13 Oct 2014 09:31

Anjaana Rasta --2

gataank se aage................

Baki din aur kuch khans nahi hua…bus ye tha ki us din didi aur mere

beech kuch jyaada baate nahi huee..dhirre din bItni lage aur ek hafta

aur gujar gaya..s beech me Raj ki sath ek do baar cyber café bhi gay

thaa..ab mujhe sex ke bare me kafii knowledge ho agye thi…Anjali didi

bhi ab phir se mere sath normal ho gaye thi..

Ek din ki baat hai Friday ka din thaa mai room me computer game khil

raha thaa uundino school aur college ki chotteyaa chaal rahi thi. Didi

room me aaye aur mujhe boli ke main unke sath bank chalooo kyonki unko

ek draft banwana hai…Anjali didi ne us din hara suit aur black pagami

pahne hue thi.. didi ke reshmi baal ek lambe high poni tail me bandee

thi .

“ zaldi kar Anuj bank band hone wala hogaa…aur mujhe aaj draft jaroor

banawana hai” Didi apne sandle pahnte hue boli..vo jhuki hue thi..aur

unke jhukne se mujhe unke suit ke andar kaid vo gore gore ubhaar najar

aaa rahi thi..mera dil phir se dool gaya thaa. Bank ghar se jyaada

door nahi thaa so ham chaal deyee. Maine chahlte chalet vohi mehsoos

kya jo me haar baar mahos karta tha zab Didi mere sath hoti thi.

Lagbhaag haar umr ki admi didi ko ghorr rahi thi….unki akho me hawas

aur vasna ki aag saaf saf dekhi ja sakatee thi. Par didi unlogo par

diyaan deye begaar appen raste ja rahi thi. Mujhe apne uppar bada

fakar behos ho raha thaa ki me Itni khobsurat ladki ke sath ho Halaki

wo mere badi chaahiri bahan thi. Khair ham 10 min me bank pahoch agye

bank me bahut bhied thi..halaki draft bannane wali line me jyaada log

nahi thi vo line sabse kone me thi…Didi ne mera hath pakda aur ham us

line ki tarf baad chale.

“Anuj tuu yaha beth..aur ye papar pakad..me line me lagtii hoo” didi

bag se kuch papar nikalte hue boli.

Me side me rakhi bench par bhiet gaya aur didi kuch papar aur paise

lekar line me lag gayee..bhidd hone ki wajeh se aurat aur admi ek hi

line me thi. Me khali bhitha baithaa bank ka infrastrute dekhne

lagaa.aur jaisa har sarkari bank hota hai vo bhi viase hi thaa

..Furiture tootha photaa thaa..jis line me didi lage thi vo line sabse

last me thi aur uskee thoda peechi ek khali room sa thaa jisme kuuch

toota furniture pada hua thaa..us jaagah kafi undhira bhi thaa.

shaayad toota furniture choopne ke leye jaan bhog kar waha se bulb aur

tube light hata deye gaye thi..isliye waha itna undhira thaa..khair ye

to haar sarkari bank ki kahani thi.. didi jiss tarf line me khadee thi

waha thoda undhira thaa. Mujhe laga kahi did dar na gaya koeki unhi

undhiree se bahut dar lagta thaa…tabhi didi mujhe apne tarf dekhte hue

doda muskurai aur aisaa jatatne lage ki..mano kahna chaate ho ki ye

haam kaha phans gayee. Garmi bhi kafi thi..tabhi ek admi aur us line

me lag gaya..wo dekne me bihari type lag raha thaa..umar hogi koi 35

sal ki as pass. Usnee purani se shirt aur pant pahne hue thi aur wo

shaayad muh me gutka bhi chaba raha thaa..ek too uska raang kaala tha

uppar se vo line kee undhiere wale hisse me laga hua thaa..uski dekh

kar mujhe thodee hassi bhi aarahi thi.

“kItni bhied hai behan chod “. Woo undhire side me gutka thuktaa hua bola.

tabhi uska phone baga.Phone uthaaatee hi usnee phone par bhi gandi

gandi gali dene shuroo kar dee..jaise..teri behaan ki chot ,,ma ki

lode,,terii bahan chod dungaa..wagarah wagarh..Didi bhi ye sab sun

rahi thi shaayad par kyaa kar sakatee thi vo..mujhe bhi guassa a raha

thaa.. kuch minutes kee baad maine kuch aisa dekha jisse mere dil ki

dhadkaam tej hogayee ab vo bhihari didi se chicpka kar khada thaa.

uski aur didi ki hiigh lagbaag same thi jise uska agla hissa thik didi

ki pajami ke uppar se unke ubhre hue chutaroo par laga hua thaa. wo

lagatar didi ko peechi se ghor bhi raha thaa..didi ke suit ka pechala

hisaa doda jyaada khula hua thaa jiise unki gori peeth najar aa rahi

thi . tabhi vo thoda peechi huaa aur men dekha ki uske peent me tant

bana hua hai .phir usnee appna right hand neechi kyaa apne apne paand

ko thoda aajust kyaa..ab uska wo tent kafi vishal lag raha thaa..mera

dil joro se dhadak nee lagaa. mere lund me harkat shuru hone lagii se

sooch kar hi ki ab ye ganda admi mere khubsoorat didi ke sath kya

karegaa. Halaki wo aur didi undhire wale hise me aa rahi thi phir bhi

us admi ne idar udhir dekhaa aur.phir apne appko dhier ese didi se

chipka leyaa uska woo tend Anjali didi kee pajame me unki ubhre hue

chotdo ke beech kahi khogay thaa. Aur jaise hi usne ye kyaa didi thoda

agee ki tarf khiski..didi ka chihra undhire me bhi mujhe llaal najar a

raha tha. Tanav unke chare par saaf dekha ja sakta thaa..ye sare baate

bata rahi thi ki didi joo unki sath ho raha tha use ab vakiff ho chuki

thi. Didi ki tarf se koi opposition na hone ki wagah se uski hosle

badne lagii thi wo didi se aur jyaada chip gaya . Jiasa ki maine

bataaya tha ki Anjali didi ne apne reshmi balo ki high pony tail banye

hue thi.Us admi ka ganda cheharaa ab didi ke saar ki peechle hiss ke

itna pas thaa ki uski naak didi ki baloo me lagi huae thi aur shaayad

vo unke balo se atte khusbo sung raha thaa..didi ki pony tail to manoo

unke aur uss bihari ke baadan se ragad kha rahi thi. Mere behad

khosoorat jawan badi bahan ke badan se us lower class admi uskoo

istard se chipka dekha mera lund mere naa chane par bhi khada hone

laga thaa.

Me yee saab sooch hie raha tha ki tabhi us addmi nee appna neechla

hissa dere dere hilana suro kar diyaa auir uska lund pent ke uppar se

hi Anjali didi ke ubhire hue chutaroo par age peechi hone lagaa..ye

sare harkat karte hue vo admi lagatar didi ke kubsurrat chihre ke

badalte bhavo ko dekh raha thaa. Andhire kone me hone ki vagah se koi

uske ye harkat nahi dekh paa raha tha aur iska wo admi ab pura fyada

utha raha thaa..vaise bhi Itni sandar jawan kawari ladki uski kismaat

me kaha hoti. Didi dar ke mare yaa na janee kyoo us admi ko rook nahi

paa rahi thi..par tabhi achchanak didi ko shaayad yaad aayaa ki me bhi

udhir hi baitha hu tab unhone thoda saa mood kar mere side ki tarf

dekha ki kahi me se saab to nahi dekh raha hoo ..maine foran appna

dhyaan newpapar par laga leya joo ke mere hatho me thaa. Didi ko

shaayad yakin ho gaya thi ki me unki sath jo ho raha hai usko nahie

dekh raha hu. Vo admi ab phichle 10 mins se didi ko khade khade hi

kapdo ke uppar se unkee chutadoo par apne khada lund ko andar bahar

kar raaha thaa. Tabh Imujhe laga ki us admi ne didi ki kano me kuch

dhire se kaha par didi no koi javab nahi diyaa…mera dil apne bade

bahan ka seduction dekh Itnie jorro se dhadak rah thaa ki manoo abhi

mer sena faad kar bahar aajeyaa..tabhi mujhe ek halki se kaarah sunye

dee…aur mujhe ye samjne me deer naa lagi ki vo madak awaj Anjali didi

ke muh se aaye thi..didi ki ankhi 5 sec ke leye bilkul baand ho agye

thi aur unke hoth unkee raselle hoto ko kaat rahi thi..mujhe se samaj

nahie aayaa ki ye kya huaa..us admi ka hath to ab bhi side me

thaa..par bhagvan ne insann ko do hath diya hai....tabhi mujhe dewaar

ke side se didi ki chunee hiltee hue najar aaye…Kyaa vo admii…..nahi

ye nahi ho….sakta…kyo nahi ho sakta….kyaa us admi ka left hand dewar

ki side se didi ke left boobs par hai..ab us admi ki ankho me hawas

saf najar a rahi thi..vo didi ke left chochi ko unke hare suit ke

uppar se hawas ke nashie me syaad bade jooro se daba raha thaa ..tabhi

usnee dobara didi kee kaan me kuch kaha ..aur didi jhijhaak tee ne

appen tango ko thoda khola leyaa …ab wo admii thoda joro se didi ke

ubhre hue komal chutadoo ko thokne lagaa..Hawas ka aisaa najar dekh me

khud pagal sa ho gaya thaa ..ab me jyaada se jyaada dekhna chahta thi

ki wo admi ab aur kyaa kregaa..Didi ki badte sasoo se unke woo pake

aam ki size ke umbhaar suit me jorro se uppar neechi ho rahi thi ..par

shaayad mer kismaat kharab thi kyonki tabhi mere pass ek bhuda admi

aaya aur bola ki beta mere leyee ek stamp papar la doge bahar se..us

bhodee admi ko udhar dekh wo bihari fatafat didi se alag huaa..shyad

usko bhi gussa aaya thaa…aur kyoo naa aaye aisa golden chance kon

chodna chahta thaa..maine dekha didi aur wo bihari mere tarf dekh rahi

hai..mujhe gussa to bahut aaya bhodee admi par kya karta main so main

uthaa aur bahaar janee lagaa.wo bhuda ab mer jagah par beth gaya

thaa..bahar jaate jaate maine terchi najar se dekha ki wo bihari phir

didi ko kuch bol raha hai aur is baar didi bhi uski tarf dekh rahi thi

unka gora chahra shaaraam aur dar se laal ho raha thaa…me zaldi se

bahar gaya aur stamp papar lene ke leye dukhan dundhne laga…mere maan

me ab yee chaal raha thaa ki ab wo admi didi ke sath kya kya kar raha

hogaa..kya wo rook gaya hogaa..kya didi ne usko appose kar diya

hogaa…ye sab didi ki margi se nahi hua hai…shaayad ..mere didi ke

bhole paan ka usne faayada uthya hai..mere didi aise nahi hai.….ye

saab baate mere demaj me chaal rahi thi..kareb 20 min gumne ke baat

mujhe stamp papar mila..aur me bank me wapas gaya ..wo bhuda mujhe

gaate me entry karet hu milgaya ..men usko stamp papar diyaa..ab me

ummid kar raha thaa ab taak didi ne draft banwa leya hojaa ..aur wo

adami bhi ja chuka hojaa ...aur me fatafat draft ki line ke tarf

bhada..par waha pachoch kar mera saar chakra gaya …draft ki line ab

khatam ho chuki thi ..counter par lekha thi Closed ..bank me bhi bhied

kaam hone lagii thi..main pareshan ho gaya ..maine soocha ki didi

shaayad bahar mera wait kar rahi hongii ..so me bahar jane hi laga tha

ki..maine dekha jistraf andhira thaa aur waha joo khali room thaa

jissm totte furniture pade thi..waha se wohi biharii apne pant ki

zippar baad karta hua nikla..aur bahar chala gayaa..mujhe ye bada

aajeb lagaa par phir maine soocha shaayad toilet gaya hogaa kyonki

toilet bhi uthir hi thaa…phir me bahar jana ke leyee muda hi tha ki

maine dekha Anjali didi apne baalo ko sedtha karte hue use room se

bahar aa rahi hai jaha kuch minute pahle woo admi nikla thaa..mera dil

ki dhaadkaam ek daam bhaad gayee …didi us kamre me us gande admi ke

sath akele thie…jo admi khule amm kisse ladkee ke sath Itnie chida

khane kar sakta hai ..vahi addmi akele me ek khobsurrat jawan ladki ki

sath kya kyaa karegaa…in sab khiyalo ne mere lund me khon ka door bada

diyaa...Didi ne mere tarf nahi dekha thaa….me didi ki tarf bada “

“Didi app kaha thi..me appko dhund rha thaa..”me bola

Didi thoda jhabra gaye par phir shaayad apne ghamrahat ko chupati huee

wo thoda muskurii aur boli. “ Tukaab aaya tha …aur stamp papar de deye

tune un uncle ko”

“ji..aur apne draft banwa leya kyaa” maine unki pasene se bhare chrae

ko dekhte hue bola.Unka suit bhi kaaye jagah se paseno se ter batar

thaa. Jiska saaf saaf mutlab ye thaa ki didi us room me kaffi time se

thi.

“nahi yaar…clerk ne kaha hai ki draft banwanee ke leye ise bank me

account hona jaroori hai”

Didi mere samne khade thi maine dekha ki unkee suit par bahut jhorrye

padi haayee hai khass kar unkee ubharoor ke ass pass.mujhe ye aachi se

yaad hai ki jab ham bank anane wali thi to didi ne pres kya hua suit

pahna thaa. Tu phir kya ye kaam us admi ke hatoo ka hai…..Mujhe ab

thode thode jalan bhi ho rahi thi ki didi muhi jhot kyo bol rahi hai..

aur achanka hi maine unse poocha leya “ app waha undhir me….” “

“Are waha me wash room gaye thi..” didi muskurati hue mere baat ko

wahi kaattte hue boli.

Yee sab baat sochte socchte me kafi garm ho gay thaa aura mera lund

akaadne laga thaa ab mujhe vakye peshaab jana thaa nahi to mera khada

hota lund Anjali didi dekh sakti thi..aur ajar me us jagah jajta hu to

mujhe ye bhi pata chala gayega ki waha toilet hai bhi ki nahi kyonki

undhir me to kuch najar nahi aa rah tha us jagah. Phir maine didi k

wait karne ke ley bola aur fatfat us undhir kone ke tarf chala

gyaa..jaise ki men socha thaa kone me toilet thaa mujhe ye jaan kaar

kushi hue ki didi sahi bol rahi hai..maine waha peshab kya aur bahar

ane laga par pata nahi me us undhir kamre me jane ki isscha

huaa..maine phir didi ki tarf dekha to wo abhi bhi appna suit thik kar

rahi thi…mere demag me phir se shaak peda hua aur me us room me guss

gaya ..undhar undhira to tha par itna bhi nahi ..kyonki uppar roshan

daan se roshni aa rrahi thii ..me ithaar uthar dekhne laga ..room me

selan hone ki vajah se thode badbu bhi thi..halaki room ke kaffe hise

me toota furinute pada hua tha phir me ek kone khalii tha me ustarf

gaya. room ke farsh par kafi thol jame huethi.. tabhi mere najar room

ke jamin par pade kadmo par gayee..lagata tha bano koi thode deer

pahle hi room se gaya hai aur wo akela nahi thaa kyonki two Jodi pari

ki nechan thi ..par mujhe ek baat samjah nahi aaye ki vo uskone ki

tarf keyo gaye hai ..khair me unke pechi agae bada ..to maine dekha ke

uskone me pareo ke nechan gayab thi aur farsh par padi mithi kafi hile

hue lag rahi thi bano jaise kise ke beech kafi khicha tani huee ho..to

kyaa ye nishan usadmi aur didi ke hai..me ye sooch hi raha tha ki didi

ki awaj aaye aur me jaldi se bahar aagaya.

kramashah.....................

..

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: अंजाना रास्ता

Unread post by rajaarkey » 13 Oct 2014 09:33

अंजाना रास्ता --3

गतान्क से आगे................

फिर हम घर आने के लिए चल पड़े दीदी मुझसे थोड़ा आगे चल रही थी..मैने पीछी

से दीदी की बॅक देखी उनके रेस्मी बालो जो पोनी टेल मे बाँधती थी उसमे से

काफ़ी बाल बाहर आए हुए थे ..मानो कि वो दो लोगो के बीच हुए रगड़ मे आ गये

हो . तभी मेरी नज़र दीदी की गर्दन के पिछले हिस्से पर गयी वाहा एक पिंक

सा निशान पड़ा हुआ था..मानो किसी ने वाहा काटा हो..एक तो दीदी इतनी गोरी

थी सो वो निशान और ज़्यादा उभर का नज़र आ रहा था.. पूरे रास्ते मे मैं

आसमंजस मे रहा. मैं ये ही सोच रहा था कि शायद दीदी सही बोल रही है..वो

आदमी भी तो पॅंट की ज़िपार बंद करता हुआ ही बाहर आया था.शायद मेरा दिमाग़

खराब हो गया है..राज के साथ रह रह कर और वो सारे गंदी क्लिप्स देख कर ही

मुझे ये गंदे खियाल आ रहे है.. कुछ देर बाद ही हम घर पहुच गये इस दोरान

दीदी और मुझे मे कोई बात न हुई थी. रात को मुझे नींद नही आ रही थी रह रह

कर बॅंक वाली घटना मेरे दिमाग़ मे चल रही थी.और कई अनसुलझे सवाल दिमाग़

मे आ रहे थे..और उनमे सबसे बड़ा सवाल ये था कि दीदी ने उस आदमी को रोका

क्यो नही था…और क्या दीदी वकाई उस अंजान आदमी के साथ उस कमरे मे अकेली

थी…पर एक बात पक्की थी जो भी हुआ था पता नही क्यू उसने मेरे अंदर वासना

और हवस का एक बीज ज़रूर बो दिया था….ये सब सोचते सोचते ही अचानक मेरा हाथ

मेरे अब तक खड़े हो चुके लंड पर चला गया ..ये सारी बाते सोच सोच कर मैं

इतना गरम हो चुका था कि जैसे ही मैने अपने लंड पर हाथ लगाया उसमे से पानी

निकल गया..और फिर मुझे नींद आ गयी.

अगले दिन स्कूल के बाद मे राज के साथ साइबर केफे जा रहा था..के मुझे जोरो

से पेशाब लगा…अछा हुआ कि साथ मे ही सरकारी टाय्लेट था सो मे उसमे गुस्स.

गया.मैने अपना पॅंट की जिपर खोली और पेशाब करने लगा..तभी राज भी उधर आ

गया और मेरे बराबर मे खड़ा होकर वो भी पेशाब करने लगा..

"आजा …आजा….अहह…याल्गार" वो अपना मूह उपर करता हुआ बोला. तभी अचानक मेरी

नज़र उसके लंड पर चली गयी..बाप रे कितना बड़ा था उसका..ना चाहते हुए भी

मैं उसके लंड का साइज़ अपने से कंपेर करने लगा. राज का लंड ढीला पड़ा हुआ

था फिर भी वो इतना बड़ा लग रहा था..और इतना तो मेरा खड़ा होकर भी नही

होता होगा..तभी राज ने मुझे अपने लंड की तरफ़ घूरते हुए देख लिया..

"क्यू कैसा लगा…गन्दू" वो मुझे चिड़ाता हुआ बोला. मैने कोई जवाब नही दिया

और अपने पॅंट की ज़िप बंद करने लगा..".

"अबे बोल ना…बड़ा है ना…साले इस पर तो लड़किया मरती है" वो हस्ते हुए

अपने लंड से पिशाब की बची कुछ बूंदे झाड़ता हुआ बोला.

हम टाय्लेट से बाहर निकले ही थे के मुझे लगा कोई मुझे बुला रहा है. मैने

पीछे मूड कर देखा तो पाया कि अंजलि दीदी मेरी तरफ़ आ रही थी.उन्होने आज

ब्लू जीन्स और ग्रीन टॉप पहना था..हालाकी वो ज़्यादा जीन्स वागरह नही

पहनती थी पर कभी कभार चलता था.

"क्या बात है..साले तू तो छुपा हुआ रुस्तम निकला …कोन है ये.आइटम" राज

दीदी को घूरता हुआ बोला.मुझे बड़ा गुस्सा आया राज पर. पर गुस्से को मैं

मन मे ही दबा गया

"मेरी दीदी है…प्लीज़ उनको आइटम मत बोल..." मैने चिढ़ते हुए जवाब दिया .

दीदी अब हमारे पास आ चुकी थी.उनके पास आते ही उनके बदन पर लगी डेयाड्रांट

की खुसबु मैं महसूस कर सकता था.

"कहा जा रहा है ..और ये श्री मान कोन है" दीदी राज की तरफ़ देखते हुए बोली.

मैं कुछ बोलता इससे पहले ही राज आगे बढ़ा और अपना हाथ आगे कर

बोला.."जी..जी मेरा नाम..राज शर्मा है.मैं इसका दोस्त हू. दीदी ने भी

रिप्लाइ मे अपना हाथ आगे बढ़ा दिया.

"ओके नाइस टू मैंट यू राज" दीदी राज से हाथ मिलाती हुई बोली.

मैने देखा राज की नज़रे अब सीधी दीदी के बूब्स पर थी.टॉप्स की उपर से

दीदी के बूब्स की गोलाइया काफ़ी आकर्षक लग रही थी.शायद दीदी ने भी राज को

अपने बदन का मुआईना करते हुए देख लिया था. वो थोड़ा सा शर्मा गयी.

"दीदी मे साइबर केफे जा रहा था..स्कूल के कुछ असाइनमेंट्स बनाने है" मे बोला.

"अच्छा चल ठीक ..है जल्दी घर आ जाना..मुझे तेरी थोड़ी हेल्प चाहिए आज" दीदी बोली

मैने हा मे सिर हिलाया.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: अंजाना रास्ता

Unread post by rajaarkey » 13 Oct 2014 09:33

"आप फिकर ना करे दीदी मैं इसको खुद ही घर छोड़ दूँगा" राज दीदी की आँखो

मे देखता हुआ बोला और अपना हाथ फिर से हॅंडशेक के लिए बढ़ा दिया.

"थॅंक्स यू राज" दीदी ने भी अपना हाथ आगे बढ़ा दिया.

"और हा दीदी ..अगर मुझसे कोई हेल्प चाहये तो ज़रूर बताना" ये बोलते हुए

राज ने दीदी के हाथ को हल्का सा दबा दिया.ये सब इतना जल्दी हुआ कि शायद

दीदी भी ना समझ पाई थी.

फिर दीदी मूडी और घर जाने लगी .राज जींस के उप्पर से अंजलि दीदी के सुडौल

और उभरे हुए चोतड़ो को देख रहा था.और अपने एक हाथ से अपने लंड को खुज़ला

रहा था.ये देख मेरे दिल मे एक कसक सी उठी..ना जाने क्यू ?

साइबर केफे मे उसने मुझसे दीदी के बारे मे कई क्वेस्चन्स पूछे..मुझे ये

सब अच्छा नही लग रहा था..राज एक बिगड़ा हुआ और आवारा लड़का था…बाद मे वो

मुझे घर भी छोड़ने आया..हालाँकि मैं उसे अपना घर नही दिखाना चाहता था पर

मेरे ना चाहने के बाद भी वो मेरे घर तक आ गया था.वो तो घर के अंदर भी आना

चाहता था पर मैने उसको कोई बहाना मार कर बाहर से ही चलता कर दिया.

मैं घर के अंदर घुसा.तो देखा..चाचा जी घर आ चुके है और टीवी पर न्यूज़

देख रहे थे. चाची किचिन मे खाना बना रही थी.

"आज बड़ी देर लगा दी..स्कूल से आने मे" चाचा जी चाइ की चुस्की लेते हुए

बोले. मैने उनके पैर छुए और बोला " स्कूल के काम से साइबर केफे गया था

चाचा जी".

"अरे भाई तुझे अंजलि पूछ रही थी..पता नही क्या काम है ".वे बोले.

"दीदी कहा है .." मैने पूछा

"उपर रूम मे जा पूछ ले क्या काम है" चाचा जी बोले.

मैं उप्पर रूम की तरफ़ बाढ़ चला. अंदर घुसते ही मैने देखा कि दीदी अपने

बेड पर पेट के बाल लेटी हुई है..उनके बाल खुले हुए एक साइड मे लहरा रहे

है .उस वक्त उन्होने पाजामा और टी शर्ट पहना हुआ था.और वो कुछ लिख रही

थी.

पता नही क्यू अब जब भी मैं दीदी को अकेले मे देखता था तो मेरे दिल मे कुछ

कुछ होने लगता था.मैने अपना स्कूल बॅग मेज पर रखा ..

"आ गये सर..कितनी देर लगा दी" दीदी लिखती हुई बोली.

"सॉरी दीदी..टाइम थोड़ा ज़्यादा लग गया" मैने जवाब दिया.

"चल कोई बात नही..." दीदी उठकर बैठ गयी

"यार ..सर मे बहुत दर्द हो रहा है..तू एक काम करेगा" दीदी अपने माथा

सहलाते हुए बोली

"जी .दीदी …"मैं उत्सुकता से बोला

"मेरे सर की मालिश कर देगा क्या"

मेरी तो मानो लौटरी ही लग गयी ..कब से मे दीदी के उन लंबे खूबसूरत सिल्की

बालो को छूना चाहता था. मैं फॉरन तैयार हो गया.

"ओह्ह मेरे राजा भाई" दीदी मुस्कुराती हुई अपने बेड से उठी. और मेरे बॅड

के पास नीचे बैठ गयी.मैं बेड पर बैठा था फिर मैने अपने टाँगे थोड़ी खोली

और उनके बीच दीदी बैठ गाएे . मेरी टाँगे दीदी के साइड मे दोनो तरफ़

थी.दीदी को इतना पास देख मेरा दिल धड़कने लगा..

"दीदी…तेल..कहा है" मैं थोड़ा हकलाता हुआ बोला. मैं नर्वस हो गया था

इसलिए हकला रहा था शायद.

"अरे बिना तेल के कर दे यार" दीदी बोली

फिर आंटिसिपेशन मे अपने काँपते हुए हाथो को मैने दीदी के बालो मे डाल

दिया ..वाह क्या रेशमी बाल थे..उसमे से आती शॅमपू की खुसबु को सूंघते ही

मेरे लंड मे हरकत शुरू हो गयी थी.. मुझे अब मानो थोडा थोड़ा नशा होने लगा

था .मैने मालिश शुरू कर दी..ग्रिप अच्छी नही बनी तो मैं थोड़ा आगे सरक

गया अब दीदी का सर मेरी पॅंट के अंदर खड़े होते लंड के बहुत पास था..तभी

मेरी नज़र दीदी के अगले हिस्से पर गयी..और मैने देखा कि टी- शर्ट थोड़ी

लूज होने की वजह से दीदी की चूचिया थोड़ी थोड़ी नज़र आ रही थी..ये पहली

बार था जब मैने उनको इतना पास से देखा था..दीदी ने शायद ब्रा नही पहनी

थी..और जैसे जैसे मैं दीदी के सर की मालिश करता मेरे हाथो के प्रेशर से

दीदी के साथ साथ उनकी चूचियाँ भी बड़े मादक तरीके से हिल जाती..इस सब से

मुझे इतना जोश चाढ़ गया था कि मैने दीदी के सिर को थोड़ा ज़ोर से रगड़

दिया..

"आआआ..ह…आराम से कर ..अनुज.र" दीदी बोली

मुझे तो मानो नशा हो गया था.. मुझे फिर याद आया कि कैसे राज दीदी को देख

रहा था….आख़िर वो दीदी को ऐसे क्यो देख रहा था..फिर मुझे हर उस आदमी की

याद आई जो दीदी को घूरते रहते थे..वो खूबसुर्रत लड़की जिससे सब बात करने

के लिए भी तरसते थे अभी मेरे इतनी पास बैठी है..इन्सब बातो मे मैं ये भी

भूल गया था कि वो मेरी बड़ी बहन है..वासना मुझ पर हावी हो चुकी थी..तभी

मुझे एक आइडिया आया मैने फिर दीदी के बालो को इकट्ठा कर अपने राइट हॅंड

मे भर कर अपने पॅंट मे खड़े होते लंड की उप्पर डॉल दिया..फिर मैं दीदी के

रेस्मी बालो को उसपर रगड़ने लगा.

" अरे दोनो हाथो से कर ना…" दीदी अपनी बंद आखो को थोड़ा खोलते हुए बोली.

फिर.एक दो बार मैने दीदी के सिर को मालिश के बहाने पीछे कर अपने खड़े लंड

पर भी लगाया..मैं बस झड़ने ही वाला था कि ..चाची रूम मे आ गयी..

"क्या बात है बड़ी बहन की सेवा हो रही है" चाची हमारे पास आते हुए बोली.

मेरा सारा मज़ा किरकिरा हो गया था..

"मम्मी ..सच मे अनुज बहुत अच्छी मालिश करता है…आपसे भी अछी..हा हा

हा"दीदी हस्ते हुए बोली

"अच्छा चलो जल्दी करो खाना लग गया है..दोनो हाथ मूह धोकर नीचे आ जाओ.." चाची बोली

'ओके जी "दीदी अपने बालो का जुड़ा बनाते हुए बोली. फिर वो उठ गयी और नीचे

जाने लगी.मैने अपने आप को कंट्रोल मे किया और नीचे चला गया.

पीछले कुछ महीनो मे मेरा अंजलि दीदी के प्रति नज़रिया बदलने लगा था..अब

अंजलि दीदी मुझे अपनी बड़ी बहन लगने के बजाय एक जवान लड़की ज़्यादा लगने

लगी थी…पर थी तो फिर भी वो मेरी बहन ही..वो मुझे कितना प्यार करती

थी..हमेशा मेरा साथ देती थी..उन्होने मुझे सग़ी बहन से भी ज़्यादा प्यार

दिया.. .मेरा उनके बारे मे गंदा सोचना पाप था….नही नही से सब ग़लत है

..मेरा दिल आत्म ग्लानि से भर गया…..पर अगर कोई और ये सब दीदी के साथ करे

तो..कोई अंजान..जिसका दीदी से रिश्ता सिर्फ़ लंड और छूट का हो तो..ये

सोचते ही मेरे अंदर का शैतान जागने लगा…मुझे फिर वो बॅंक वाली घटना याद

आई …और राज का उस तारह से दीदी को देखना ...

जून का महीना था मेरे एग्ज़ॅम्स ख़तम हो चुके थी पर दीदी के फाइनल एअर के

एग्ज़ॅम चल रहे थे.दीदी ज़्यादा तर अपने रूम मे पढ़ती रहती थी..एक दिन

मैं घर के बाहर खड़ा कुछ समान ले रहा था..दुक्कान घर के सामने रोड के

दूसरी तरफ़ थी ..हमारे घर की एक साइड कुछ खाली जगह पड़ी हुई थी..मैने

देखा उस खाली जगह पर एक अधेड़ उम्र का आदमी पिशाब कर रहा था….जैसा कि

इंडिया मे अक्सर होता है ..कि जहा खाली जगह देखो बस उस को टाय्लेट बना

लो..वैसे तो सब कुछ नॉर्मल था..पर तभी मैने देखा को वो आदमी पिशाब करता

करता बार बार उप्पर देख रहा है…पर वो उप्पर क्यो देख रहा था…खैर कुछ देर

बाद वो आदमी वाहा से चला गया..मैं भी घर आ गया ..समान चाची को देकर मैं

सीधे उप्पर रूम मे गया जहा दीदी पढ़ रही थी…दीदी तो रूम मे नही थी..पर

मैने देखा के रूम की खिड़की खुली हुई है..वो खिड़की उस खाली पड़े हिस्से

की तरफ मे खुलती थी…मुझे कुछ शक हुआ ..और मैं खिड़के को बंद करने के लिए

आगे बढ़ा. ..मैने खिड़की से नीचे झाँका तो मुझे वो जगह सॉफ सॉफ नज़र आई

जहा उस आदमी ने पिशाब किया था..पर मुझे ये समझ नही आया कि वो बार बार

उप्पर क्यो देख रहा था..तभी मेरे दिमाग़ की घंटी बजी..क्या इस खिड़की पर

अंजलि दीदी खड़ी थी…ये सोचते ही मेरे लंड मे एक कसक सी उठी…पर बिना किसी

सबूत के मैं कैसे दीदी पर शक कर सकता हू..अब मैने प्लान बनाया कि मैं ये

जान कर ही रहूँगा..अगले दिन मैं फिर उस दुकान पर खड़ा था पर इस बार मेरा

माक़साद समान लेना नही था..ठीक शाम को 6 बजे वो बुढ्ढा अंकल पेशाब करने

के लिए उस कोने की तरफ़ बढ़ा.उसकी चाल से लगता था कि वो एक शराबी है ..वो

थोड़ा एडा तेरछा चल रहा था..फिर वो पेशाब करने लगा..
यही मोका था मैं

तुरंत जल्दी से घर के अंदर गया और उप्पर रूम की तरफ़ जाने लगा..रूम का

दरवाजा बंद था हालाकी कुण्डी नही लगी थी शायद अंदर से..अंदर क्या हो रहा

होगा इस आशा मे मेरा हाथो मे पसीना आ गया था …काँपते हाथो से मैने रूम का

दरवाजा हल्का सा खोला और अंदर चुपके से झाका..अंजली दीदी खिड़की के पास

खड़ी थी..और उनका एक हाथ टी-शर्ट के उप्पर से अपनी बाई चूची को हल्के

हल्के सहला रहा था..और उनका दूसरा हाथ जिसमे दीदी ने पेन पकड़ा हुआ था

उसको पजामि के उप्पर से शायद अपनी चूत पर गोल गोल घुमा रही थी.. दीदी

लगातार खिड़की से नीची झाँक रही थी ..चेहरा..शरम से लाल था..उनके चेहरे

पर वासना छाई हुई थी…फिर दीदी थोड़ा और आगे की तरफ़ झुक गयी जिससे अब

उनके बॅक प्युरे तरह से मेरे सामने थी ..तभी मैने देखा की उन्होने अपना

नीचला हिस्सा हिलाना शुरू कर दिया है..वो अपने नीचले हिस्से को नीचे

देखते देखते दीवार पर रगड़ने लगी थी….पता नही क्यो ये सब देखते देखते

मेरा हाथ पॅंट के उप्पर से मेरे लंड पर चला गया ये सब देख मेरा लंड इतना

टाइट हो चुका था कि जितना पहले कभी नही हुआ था ..और मैं मूठ मारने

लगा…अच्छा था उस वक्त घर मे और कोई ना था..नही तो मैं पकड़ा जा सकता

था…अब ये पक्का हो गया था कि दीदी भी सेक्स की इच्छुक हो गयी है.. तभी

दीदी ज़ल्दी ज़ल्दी अपना नचला हिस्सा दीवार पर रगड़ने लगी और उनके हाथ अब

ज़ोर ज़ोर से अपनी कड़क हो चुकी चूची को दबाने लगे.

क्रमशः.......................