मुंबई से भूसावल तक

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: मुंबई से भूसावल तक

Unread post by The Romantic » 16 Dec 2014 10:35


इतना बोलके सुरभि फिर बारी-बारी से परेश की गोतिया चूसने लगती है. इस
लड़'की के मुँह से वह बात सुनके परेश बड़ा खुश हुआ. झुकके सुरभि के निपल
से खेलते वह बोला,

"ठीक है जान तू सिर्फ़ मेरी रंडी बनेगी, मैं तुझे मेरी स्पेशल रखैल बनाके
रखूँगा पर अब तुझे अपने बदन पर किसी भी मर्द का हाथ नहीं लग'ने देना होगा
समझी? तू सिर्फ़ परेश की रखैल है समझी? आह ऐसे ही गोतिया चूस मेरी कमसिन
रंडी, आज तुझे जन्नत दूँगा. " परेश की गोतिया चूस्के सुरभि फिर उसका लंड
चूसना शुरू करते बोली,

"हां मैं क़िस्सी को भी अपना जिस्म टच नहीं करने दूँगी परेश चाचा." परेश
सुरभि को उठाके अपनी नंगी जाँघ पे बैठा उसके मम्मो से खेलने लगता है.
सुरभि को परेश का लंड अपनी नंगी जांघों मैं महसूस होता है. सुरभि का एक
मम्मा मसल्ते और दूसरा चाट्के परेश बोला,

"मेरा लंड इतना अच्च्छा चूसा है तूने तो अब उतनी ही तेरी चुदाई मस्त
करूँगा सुरभि रान्ड. आज तेरी चूत को चोद्के उसपे इस लॉड का ठप्पा लगा
दूँगा. " एक सेक्सी अंगड़ाई लेते सुरभि परेश का लंड अपने पैरो के बीच हाथ
डालके पकड़ते बोली,

"नहीं छ्छूने दूँगी मैं अपना जिस्म किसी को भी परेश चाचा क्योंकि अब मैं
सिर्फ़ आप की हूँ. पर परेश चाचा यह आप चोदने का क्या बोल रहे हो? अभी जो
हम कर रहे थे उसे क्या बोलते है फिर?"

बेटी जब मेरा यह लंड तेरी इस चूत (यहाँ परेश सुरभि की चूत मैं उंगली
घुसाता है) घुसके तेरी चूत का परदा फाऱ्के अंदर-बाहर होगा तब तेरी चुदाई
होगी. पह'ले तेरी चूत चोदुन्गा और फिर तेरी यह मस्त गान्ड मारके तुझे
मेरी रखैल बनाके रखूँगा बहन्चोद. हम तेरी जैसी कमसिन लड़'की को शादी के
पह'ले ही चोद्के सुहागरात का मज़ा देते है. अभी जो तूने मेरा लंड चूसा वह
तो सिर्फ़ खेल की शुरूवात थी, रांड़ अब तुझे चोदुन्गा तो देख'ना इतना
मज़ा आएगा, बोल सुरभि तू अब चुदेगि ना तेरे इस परेश चाचा से?" परेश सुरभि
का पूरा जिस्म मसल्ते यह गालियाँ इतने प्यार से दे रहा था कि सुरभि को
ज़रा भी बुरा नहीं लगा . सुरभि बल्कि मस्ती से परेश के साथ वह सब कर रही
थी जो परेश कह रहा था. परेश का मोटा लंड पकड़के अब सुरभि बोली,
क्रमशः...........

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: मुंबई से भूसावल तक

Unread post by The Romantic » 16 Dec 2014 10:35


Mumbai se Bhusaaval Tak--2

gataank se aage.......
"Chal meri Surbhi jaan, ab tu bhi nangi ho jaa. Jo jism ab tak kapdo
ke uppar se masal raha tha use ab nanga dekhne ka jee kar raha hai.
Tujhe aisa maza dunga ki tu duniya bhool jayegi meri jaan. Chal salwar
kameez utaar teri. " Poori roshni main Paresh ko nanga dekhke pah'le
to Surbhi hakka-bakka rah gayee. usaka mota lunD wah dekhtee hi rahi.
yahee wah lunD tha jo train main chadhte waqt uski gaanD pe ragad raha
tha. Zindagi main pah'lee baar Surbhi asli mard ka lunD dekh rahi thi.
wah lunD ko dekhne main itni kho gayee ki achanak use Paresh ka haath
ap'nee kamar pe mehsus hua. Paresh uski salwar ka naada khol raha tha.

Naada kholke Paresh ne uski salwar niche kheenchi aur use apni kameez
utaarne ko kaha. Surbhi ne dhire se apni kameez uTha ke use nikaal
diya. laR'ki ke sine pe wah chhoTe kadak stan dekh Paresh se raha
naheen gaya. Surbhi ki kamar main haath Daalke use paas kheenchte
Paresh baari-baari uske stan chumne laga. stan chumke phir jeebh se
use chaaTne laga. Jab Paresh Surbhi ke nipples ko chaaTne laga to
Surbhi zoro se siskariya bharte apna seena Paresh ke munh pe dabane
lagi. achchhe se Surbhi ke nipple ko chaaTke Paresh ungliyo se unse
khelte bola,
"yah bata meri jaan, niche tune bra kyon naheen pahani?" Sharam se
Paresh ko dekhte Surbhi boli,

"Maine maa ko bra dene ke liye bola to wah bol rahi thi ki agle mahine
se bra layenge mere liye. wah bhi boli ki Surbhi ab tu itni badi ho
gayee hai ki tum ab bra pahana karo. " Surbhi ke jism pe ab sirf black
panty thi. usaka poora jism niharte Paresh wah jism masalte bola,

"Haan wah to hai, ab tera jism poora bharne laga hai Surbhi. Waise
teri jaisee kamsin laR'ki ko bra naheen pahanni chaahiye. Tum bra
naheen pahanogi to ham jaise mardon ki nazar tumpe aayegi aur hamaare
se chudwane ke baad tumhaaree zindagi banegi. beTee tujhe main bra
panty dunga. Mera bra panty ka hi dhanda hai. aaj raat tujhe jawani ka
maza dunga aur phir bra panty dunga. Waise teri maa ka naam aur umar
kya hai?" Apna jism Paresh ke haatho masal'waate Surbhi boli,

"Meri maa ka naam Vibha Devi hai aur wah 42 saal ki hai. Paresh Chacha
kyon naheen pahanna chahiye bra ham laR'kiyon ko? Ab bolte ho bra
panty naheen pahanni chaahiye hamen aur phir bra panty dene ki baat
bhi karte ho, wah kyon?" Paresh ne Surbhi ki chaddi niche kheenchte
usko pooree nangi kiya. Kalee jhaanTon se bhari gilee choot dekhke wah
bada khush hua. Ungli se uski choot sah'laate usne 2-3 baar Surbhi ki
choot chum li. Phir ek ungli aahista se Surbhi ki anchudi choot main
ghusate wah bola,

"Teri jaisee kamsin laR'ki ko tumhaaree maa bra pahanne naheen deti
jab tak ki tumhaare stan bade naheen hote. mere saam'ne bina bra panty
ke rah tu beTee, bas duniya ke baakee mardon ke saam'ne bra panty
pahanne ko bol raha hoon. Bol aajtak koi mard khela tha kya tujhse
Surbhi?" Besharam hoke apni kamar Paresh ke munh ke paas dabate Surbhi
boli,

"naheen, koi naheen khela aaj tak mere badan ke saath tumhaare jaisa.
Tum to ek'dam achchhe ho Paresh Chacha. " Toilet main donon maderjaat
nange the. Train ab poori raftar se chal rahi thi. Engine driver jaise
baar-baar horn baja raha tha Theek waise hi Paresh uske stan daba raha
tha, mano wah train ka horn ho. Surbhi bhi hawas se bhara apna jism us
ajnabi se masal'wa rahi thi. achchhe se stan masalke Paresh ne WC pe
baithke Surbhi ko niche baiThake lunD uske chehere pe ghumake honTh pe
rakh diya. Surbhi ko bahut sharm aayee jab Paresh uske munh pe apna
mota lunD ragadke muskuraate huye uske honTh pe baar-baar ghumane
lagta hai. Use wah kitab ki picture yaad aayee jo uski saheli ne di
thi jisme yah lauda choosna dikhaya tha. Apna lunD Surbhi ke honThon
pe ragadte aur Surbhi ke stan masalte Paresh bola,

"Tujhe achchha laga na mera tere jism se khelna Surbhi? aaj mujhse
chuda ke meri raanD banaunga tujhe samjhi? Tumhaara Paresh chaacha
bahut tabiyat waala aad'mee hai. Tumhaare jaisee kachchee kali ka
khaash shaukeen hai wah. chal munh khol aur apne Paresh Chacha ka
lauda choos. " Surbhi Paresh ke lunD ko haath main leke masalte boli,

"Haan Paresh Chacha mujhe achchha laga jub tum mere jism se khelte ho.
Mujhe naheen malum meri saheliya bhi kisi ke saath karti hai ya naheen
par aaj main tumhaare saath sab karungi. " Itna bolke Surbhi munh
khole Paresh ka lunD chaaTne lagi. laude ka chikna ras use pah'le
kaisa to laga par bina kuchh bole wah Paresh ka lunD chaaTne lagi. Ek
do baar lunD chaaTke Surbhi ne lunD ka supada munh main liya aur use
choosne lagi. Jaise hi Surbhi Paresh ka lunD choosne lagi, toilet ke
Darwaze pe kissi ne baahar se dastak lagai. Ek do baar dastak sunke
Paresh ko bada gussa aaya. Surbhi to Dar ke maare kuchh bol hi naheen
payee. Apna nangapan chhupaane wah uThi aur niche padi kameez uThake
pahanne lagi. Paresh ne us'se kameez li aur use chup rahne bola. Phir
usne pant shirt pahante Surbhi ko door ke pichhe nangi khadi karke
aadha Darwaza khola. Ek 20-22 saal ka mard wahan khada tha. Zara gusse
se wah bola,

"are Bhai sahab, kitna samay le rahe ho aap? main 15 minit se khada
hoon yahan. " Paresh ka chehera gusse se laal ho uTha. us'ne us aadmi
ko jalti nazar se dekhke kaha,

"Teri maa ki choot, maderchod harami laude, is bhid main tujhe kya
moot'ne ki padi hai? Saale maine paise deke raat bhar ke liye yah
toilet meri beTee aur mere liye book ki hai. Phir agar tune ya kisi ne
dastak di to baahar aake gaanD maarunga uski. bahanchodo, idhar
baiThne ko jaga naheen aur moot'ne ki padi hai tumko. Aur hi moot'na
hai harami to jake teri maa ki choot main moot. " wah aadmi aur
passage main baiThe baakee passenger Paresh ki gandi galli, uska gusse
se laal hua chehera aur unchee aawaaz main dee gayee dhamki se itne
Dar gaye ki koi kuchh naheen bola. yah dekhke peshaab karne aaya aadmi
bhi wahaan se chala gaya.

Paresh ko yakeen hua ki agar koi toilet istemaal karne aaya bhi to
baahar ke log use Paresh ki dhamki batake toilet pe dastak dene se
rokenge. Sab logo ki taraf ek baar gusse se dekhke Paresh ne Darwaza
band kiya. Wahan door ke pichhe Surbhi Dar se nangi hi khadi thi. Phir
ek baar Paresh ka wah roop dekhke aur gaaliyaan sunke wah bahut
ghabrai hui thi. Lekin ek hi pal main us nangi kamsin Surbhi ko dekhke
Paresh ke chehera khil gaya aur gussa gayab ho gaya.

Nangi Surbhi ko baanhon main leke wah us'ka jism masalne laga. Thoda
samay jism masalne se Surbhi bhi Dar bhool gayee aur phir uske jism
main vasana bharne lagi. Surbhi phir josh main aayee to wah khud
commode pe baiTha aur Surbhi ko niche baiThake apna lunD uske munh
main Daala. Surbhi ab zara baraabar hoke Paresh ka lunD choosne lagi.
Paresh aankhe band karke apna lunD chooswake maja le raha tha. Ek
haath Surbhi ki baalo main ghumate dusre haath se Surbhi ke nipples se
khelte, haule-haule apne lunD se Surbhi ka munh chodte bola,

"Ah aise hi choosti raho, aur munh khol, mera lunD aur andar leke use
chaaTke choos aur meri gotiya bhi sah'la jaan, tujhe chhinaal banane
main maza aayega. aaj tujhe khoob chodunga. achchha hai na mera lauda
Surbhi?" Paresh ke munh se chhinaal banane ki baat sunke Surbhi ko
kharab lagta hai. wah Paresh ka lunD muhse nikaalke use sah'laate
bolti hai,

"Ek baat batao Paresh Chacha, aap mujhe yah itni gandi gaaliyaan kyon
de rahe ho?" Apna lunD Surbhi ke khule munh main ghusate Paresh phir
uske mammo se khelte bola,

"Kyonki tu meri raand hai. Teri jaisee 3 kamsin chooton ko maine meri
raanD banaya hai Surbhi, tujhe achchha lagega na meri rakhail banke?"
Paresh Chacha se apne nipples sah'laane se Surbhi ko bada achchha
lagta hai. wah jyada se jyada lunD choosne lagti hai. Jab Paresh zara
zorse nipples se khelta tha tab use dard hota tha aur wah halkee see
aawaaz bhi karti lekin phir bhi uska man naheen hua ki Paresh Chacha
se door ho jaaye. Surbhi ek gulam jaise Paresh ka har kaha maan rahi
thi. Paresh apna lunD Surbhi ke munh se nikaalke uppar karte Surbhi ka
munh apni gotiyo pe dabata hai. Un gotiyo ki pasine kee bass Surbhi
soonghti hai. wah halke se gotiya chaaTke bolti hai,

"Chacha ab wah 3 laR'kiya kahaan hai?" Apni gotiya Surbhi ko
chaaT'waate Paresh bola,

"wah hai mere shehar main aur jab main bulata hoon to aati hai. Abhi
ek dost ke janam din pe unme se 2 laR'kiyo ko maine mere dosto ke
saath khoob choda tha. Poore 2 din unko choda aur phir paise bhi diye
the. Tujhe bhi bahut paise dunga, banegi na tu mere is laude ki
raand?" Dosto se chudwane ki baat sunke Surbhi ghabrate huye boli

"naheen mujhe sirf apki banna hai. aap jo bhi kahenge main karungi
Chacha. " Itna bolke Surbhi phir baari-baari se Paresh ki gotiya
choosne lagti hai. Is laR'ki ke munh se wah baat sunke Paresh bada
khush hua. Jhukke Surbhi ke nipple se khelte wah bola,

"Theek hai jaan tu sirf meri randi banegi, main tujhe meri special
rakhail banake rakhunga par ab tujhe apne badan par kisi bhi mard ka
haath naheen lag'ne dena hoga samjhi? Tu sirf Paresh ki rakhail hai
samjhi? aah aise hi gotiya choos meri kamsin randi, aaj tujhe jannat
dunga. " Paresh ki gotiya chooske Surbhi phir uska lunD choosna shuru
karte boli,

"Haan main kissi ko bhi apna jism touch naheen karne dungi Paresh
Chacha." Paresh Surbhi ko uThake apni nangi jaangh pe baiThake uske
mammo se khelne lagta hai. Surbhi ko Paresh ka lunD apni nangi
jaanghon main mehsoos hota hai. Surbhi ka ek mamma masalte aur dusra
chaaTke Paresh bola,

"Mera lunD itna achchha choosa hai tune to ab utni hi teri chudai mast
karunga Surbhi raanD. aaj teri choot ko chodke uspe is laude ka thappa
laga dunga. " Ek sexy angdai lete Surbhi Paresh ka lunD apne pairo ke
beech haath Daalke pakadte boli,

"naheen chhoone dungi main apna jism kisee ko bhi Paresh Chacha kyonki
ab main sirf aap ki hoon. par Paresh Chacha yah app chodne ka kya bol
rahe ho? Abhi jo ham kar rahe the use kya bolte hai phir?"

BeTee jab mera yah lunD teri is choot (yahan Paresh Surbhi ki choot
main ungli ghusata hai) ghuske teri choot ka parda phaaRke
andar-bahaar hoga tab teri chudai hogi. pah'le teri choot chodunga aur
phir teri yah mast gaanD maarke tujhe meri rakhail banake rakhunga
bahanchod. ham teri jaisee kamsin laR'ki ko shadi ke pah'le hi chodke
suhagraat ka maza dete hai. Abhi jo tune mera lunD choosa wah to sirf
khel ki shuruwaat thi, raand ab tujhe chodunga to dekh'na itna maza
aayega, bol Surbhi tu ab chudegi na tere is Paresh Chacha se?" Paresh
Surbhi ka poora jism masalte yah gaaliyaan itne pyar se de raha tha ki
Surbhi ko zara bhi bura naheen laga . Surbhi balki masti se Paresh ke
saath wah sab kar rahi thi jo Paresh kah raha tha. Paresh ka mota lunD
pakadke ab Surbhi boli,
kramashah...........

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: मुंबई से भूसावल तक

Unread post by The Romantic » 16 Dec 2014 10:36

मुंबई से भूसावल तक--3

गतान्क से आगे.......
"ओओह मा, नही परेश चाचा यह तो बहुत मोटा है, कैसे जाएगा मेरे अंदर? मुझे
तो डर लग रहा है. जब आपने प्लॅटफॉर्म पे मुझे मसला तो मुझे नहीं पता था
कि बात यहाँ तक आएगी. नहीं नहीं चाचा आप वह अंदर डालने की बात मत करो,
बहुत दर्द होगा, यह इतना बड़ा मेरे अंदर कैसे जाएगा?" सुरभि को खड़ी करते
परेश ने उसकी चूत उंगलियो से फैलाते हुए झुकके चाटने लगा. इस नये प्यार
से सुरभि बहाल होते सिसकारिया भरते परेश का मुँह अप'नी चूत पे दबाने लगी.
परेश पूरी जीभ चूत मैं घुसाके चाटने लगा. सुरभि की चूत का पानी वह बड़े
टेस्ट से पी रहा था. सुरभि की चूत चाट्के उसे और गरम करते परेश बोला,

"अरे डरो नहीं, पह'ले दर्द होगा बाद मैं मस्ती से चुदवाना शुरू करेगी
समझी? मैने तेरी जैसी 3 लड़'कियो को चोदा है जो पह'ले ना-ना कर रही थी
लेकिन एक बार लंड चूत मैं लेने के बाद गान्ड उठा-उठाके चुदवाने लगी. रही
बात प्लॅटफॉर्म की तो सुरभि रान्ड तेरी मा तुझे ब्रा नहीं पहनती तो तेरे
स्तन उच्छल रहे थे, प्लॅटफॉर्म पे 3-4 मर्दों ने तुझे च्छुवा तो भी तू
कुच्छ नहीं बोली और इस टाइट सिल्क सलवार मैं तेरी गान्ड मटक रही थी इसलिए
मेरी नज़र तुझपे गयी, इसका मतलब तूने ही मुझे ललचाया ना? बोल सही है ना
मेरी रांड़?"

इस बार परेश ज़रा ज़ोर्से सुरभि के निपल मसलता है क्योंकि उसे मालूम है
की ट्रेन की आवाज़ मैं सुरभि की चीख कोई नहीं सुन सकता. सुरभि ज़ोर्से
चीखी लेकिन इतनी भी ज़ोर्से नहीं कि आवाज़ टाय्लेट के बाहर जाए. परेश
चाचा के हाथ अपने मम्मो पे दबाते वह बोली,

"आ उही मा छ्चोड़ दो. कितने ज़ोरो से दबा रहे हो? दर्द होता है ना चाचा.
आप ज़रूर झूट बोल रहे हैं कि आपने 3 लड़'कियो को चोदा है. मुझे नहीं
करवाना कुच्छ भी, देखो परेश चाचा मुझे छोडो मुझे जाने दो. " सुरभि के
मुँह से उसे जाने देने की बात सुनके परेश ज़रा गुस्से से उसका एक मम्मा
चूस्ते, दूसरा बेरहमी से मसल्ते चूत मैं उंगली डालते बोलता है,

"हां छोड़ दूँगा, पह'ले मस्ती तो करने दे. साली नाटक मत कर, इतना गरम
किया मुझे तो क्या अब मूठ मारु रान्ड? तेरी मा की चूत एक तो लंड गर्म
करती है और फिर नाटक करती है. साली तेरी मा भी हरामी है तभी तेरी जैसी
जवान बेटी को बिना ब्रा के भेजती है, वह भी क़िस्सी की रांड़ होगी, है
ना? देख सुरभि अब कुच्छ भी हो, तुझे बिना चोदे जाने तो नहीं दूँगा, चाहे
जो हो जाए. " सुरभि के स्तन और बेरहमी से मसल्ते परेश उसको घुमा के WC पे
कुतिया जैसे झुकाके लंड पिछे से उसकी चूत पे रखते रगड़ने लगता है. बेचारी
सुरभि रोने लगती है. परेश मे आए इस चेंज से डरके वह रोते-रोते कहती है,

"नाहहीी-2 ऐसा मत करो परेश आहह ओह्ह नही, प्ल्ज़्ज़ मत मारो और मेरी मा
को गाली मत दो. उसको क्या मालूम था कि आप मुझे मिलोगे और मेरे साथ ट्रेन
मैं ऐसा करोगे, आ छोड़ दो. " सुरभि यह बोलती तो है लेकिन जैसे ही परेश का
लंड उसे अपनी चूत पे महसूस होता है उसे बहुत अच्च्छा लगता है. उसकी चूत
मचलने लगती है और वह महसूस करती है की उसके निपल कड़क हो गये हैं.

परेश के बहशीपान को जगाने के लिए सुरभि की यह बात काफ़ी थी. उस'ने अप'ना
लंड खींच लिया और सुरभि की उभरी गान्ड पर तीन चार कस'के तमाचे लगाए और
बोला,

"मदरचोड़ सिर्फ़ परेश बोलती है रांड़? तेरी मा की चूत तुझे और तेरी मा को
और गालियाँ दूँगा, क्या उखाडेगी मेरी रंडी? बहन्चोद तेरी मा ने तुझे ढंग
के कपड़े पहनाए होते तो ना मेरी नज़र तुझपे पड़ती और ना मैं तुझे चोदने
यहाँ लाता, है ना? बोल है ना तेरी मा हरामी सुरभि?" परेश सुरभि की कमर
पकड़के लंड उसकी चूत पे रगड़ते ज़रा सा दबाता है. उस'के लंड का सूपड़ा अब
सुरभि की चूत को खोल चुका है. इससे सुरभि को दर्द होता है और वह तड़पति
है. उसकी सासे अटक जाती है. ज़िंदगी मैं पह'ली बार चूत मैं गरम लंड का
अहसास हो रहा था. दर्द से बचने के लिए वह परेश की कमर पकड़ते बोलती है,

"सॉरी चाचा, मुझसे ग़लती हुई, फिर कभी आप'को नाम से नहीं बूलौंगी. और
हां, मेरी मा हरामी है, वह जान बूझके मुझे ऐसे कपड़े पहनाती है जिससे
मर्दों की नज़र मुझपे पड़े और वह मुझे तंग करे. वह जलती है मेरे रूप से
इसलिए ऐसा करती है. अब प्लीज़ मुझे छोडो चाचा, मैं दर्द नहीं सह पाउन्गि.
आआह मुझे छोड़ दो अहह. " सुरभि के मुँह से उसकी मा की बेइज़्ज़ती सुनके
परेश को अच्च्छा लगता है. वह सुरभि की कमर और कस्के पकड़ते लंड और ज़रा
चूत पे दबा कर बोलता है,

"बहन्चोद तुझे छोड़ दूँगा तो यह खड़ा लंड क्या तेरी मा की गान्ड मैं डालु
छिनाल? मुझे पता है तेरे जैसी कमसिन रंडी की मा बड़ी छिनाल है. साली नाटक
किया तो यहीं मार डालूँगा तुझे. मदरचोड़ चल टांगे खोल तेरी, मेरे लंड को
तेरी चूत फाड़नी है रखैल. क्या मस्त माल है तू छिनाल, चल खोल पैर तेरे. "
परेश की गालियाँ और धमकी सुनके सुरभि डर के अपने पैर खोलती है. परेश की
मार और गालियो से उसे बड़ा डर और दर्द होता है और वह इस बात से ज़रा
ज़्यादा तड़पति है. अब वह डर से अपने पैर खोलती है. सुरभि को कस्के
पकड़के परेश एक धक्का देता है और लंड की टोपी अंदर घुसती है. जैसे ही लंड
का बड़ा सूपड़ा सुरभि की कमसिन चूत मैं घुसता है वह दर्द से चिल्ला उठती
है,

"ऊऊही मा ओह्ह मर गययी, नही चाचा नीककाल्लो लुंदड़ मुउझे दर्द हो रहा
हाई. " सुरभि के दर्द की परवाह किए बिना परेश अब सुरभि के मुँह पे एक हाथ
और कमर मैं दूसरा डालके उसे कस्के पकड़ते ज़ोर्से लंड चूत मे घुसता है.
लंड सुरभि की चूत को बेरहमी से फाड़के अंदर घुसता है. सुरभि दर्द से बहाल
होके चिल्लाना चाहती है पर परेश उसका मुँह और कस्के पकड़ते बोलता है,

"आ तेरी मा की चूत क्या टाइट चुउत्त हाई तेरी रांद्ड़. तेरी मा की चूत आज
सही मैं मस्त लड़'की मिली है इस को, बहन्चोद तेरी मा को भी चोदना चाहिए
जिसने ऐसी गरम बेटी पैदा की, ले छिनाल अब तुझे देख कैसे मेरी रांड़ बनाता
हूँ. " परेश को अपने लंड पे सुरभि का गरम खून महसूस होता है. इससे वह अब
और बेरहमी से सुरभि को चोदने लगता है.

वह बेचारी लड़'की इस हल्लबबी लंड के घुसने से बहाल होके रोने लगती है.
उसे ऐसा लगता है उसकी चूत को परेश चाचा ने फाड़ दिया है. वह चिल्लाके
अपना दर्द निकालना चाहती है पर परेश उसे वह रिहायत भी नहीं देता. 15-20
बार लंड चूत मैं घुसाके निकालने के बाद जब परेश सुरभि के मुँह पे रखा हाथ
ज़रा हल्का करता है तो सुरभि की सिसकारियो भरी आवाज़ उसे सुनाई देने लगी.
सुरभि बेचारी रोते बोल रही थी,

"आआह श्ह.. ऊहह, आ उही मा मार्र गआययी उउफ्फ नही उहह, उम्म परेश चाहचहा आ
मेरी चूत को मत फाडो आहह निकालो ना अप'ना लंड. आ मैं मार जाउन्गि अहह उही
मा आरी यह तो बहुत मोटा है उही मा मुझसे नहीं होगा आह. " परेश को सुरभि
की इन बातों पे बिल्कुल भी तरस नहीं आता. उसका मोटा लंड क़िस्सी तीर की
तरह अंदर घुसते सुरभि की चूत को चीरते चोद रहा था. सुरभि के मुँह पे रखा
हाथ हटा के, सुरभि के स्तन मसल्ते परेश सुरभि को चोद रहा था. सुरभि एक
बेबस कुतिया जैसे कमोड का सहारा ले झुका के अपनी चूत पह'ली बार मरवा रही
थी. बड़ी बेदर्दी से स्तन मसल्ते सुरभि की चूत चोद्ते परेश बोला,

"नहीं मरने दूँगा तुझे रंडी, अब तो और चुदवाना है तुझे छिनाल, बहन्चोद
क्या गरम चूत है तू. साली प्लॅटफॉर्म पे भी नाना के साम'ने मस्ती कर रही
थी और फिर मूत'ने लगी थी तो तुम्हारी चूत दिखी. यह ले और ले और ले
मदरचोड़, चूत फटने दे तेरी, तेरे जैसी लड़'की हमसे चूत फटवाने के लिए ही
पैदा होती है. सब ठीक होगा, अभी देख 5 मिनिट मैं दर्द ख़तम होगा और तू
खुद चुदवाने लगेगी समझी? साली तेरी मा को भी चोदुन्गा, वह भी मस्त माल है
ना?" सुरभि की चूत ज़रा गीली होने से अब परेश का लंड ज़रा आसानी से उसकी
चूत मैं घुस रहा था. परेश के मुँह से अपनी मा के लिए दी गयी गंदी गालियो
से भी उसे शरम आ रही थी. अपनी चूत फटने के दर्द से सुरभि सिसकते बोली,

"आ उही मा चाचा उम्म उम्म छोडो ना उही मा बहुत दर्द हो रहा है. आह सच मैं
फॅट जाएगी उम्म आ. चाचा बहुत दर्द हो रहा है, प्लीज़ जाने दो मुझे. "
सुरभि की रिक्वेस्ट को अनसुना करके परेश बेरहमी से उसके स्तन दबाते चूत
मारने लगता है. सुरभि भी ज़रा पैर रिलॅक्स करती है और अब परेश का लंड
सुरभि की गीली चूत मैं आराम से चुदाई करने लगता है.