तीन बहनों की चुदाई compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

तीन बहनों की चुदाई compleet

Unread post by raj.. » 19 Dec 2014 08:59

तीन बहनों की चुदाई--1

साहब सिंग की हवेली मे हर समय तीन खूबसूरत हसीन बहनो की हँसी मज़ाक की आवाज़ ही सुनाई पड़ती थी. ये तीन हसीन बहने साहब सिंग के स्वर्गिय भाई की निशानी थी. लेकिन इन तीन लड़कियों के बाप साहब सिंग ही थे. इन तीन हसीन बहनो का नाम नीता (25 यियर्ज़), निधि (22 यियर्ज़) और नंदिनी (20 साल) थी. तीनो बहनो की फिगर बहुत ही सेक्सी थी. उनकी चूंची और चुतड बहुत फूले फूले थे और किसी भी मर्द के लिए उनको देख कर अपने आप को रोकना बहुत ही मुश्किल हो जाता. इनके बाप का सहर मे बहुत दब-दबा था और इसीलिए कोई लड़का इनकी तरफ अपनी आँख उठा कर देखने की भी जुर्रत नही करता था. इसीलिए ये तीन बहने अभी तक कुँवारी ही थी और अपना काम अपनी उंगली या बेगन से चलाती थी. वे सब एक दिन कार मे सवार होकर कॉलेज जा रहे थे. कार की ड्राइविंग निधि कर रही थी. कार ने अचानक ज़ोर दार ब्रेक मार एका एक रुक गयी. पीछे बैठी नीता और नंदिनी ने निधि से पूछी, "क्यों क्या बात है, तुमने अचानक कार क्यों रोक दी." निधि बोली, "क्यों चिल्ला रही हो. कार के सामने का नज़ारा

तो देखो. कितना नसीला नज़ारा है. तब नीता और नंदिनी ने सामने देखा कि कार के सामने बीच सड़क पर एक कुत्ता और कुतिया गान्ड से गान्ड मिला कर चिपके हुए थे, यानी कि वो कुत्ता और कुतिया चुदाई कर रहे

थे और अपनी अपनी जीव निकाल कर हाँफ रहे थे. नीता और नंदिनी चाहक कर बोली, "वाह! क्या हसीन नज़ारा है." निधि बोली, "हम से तो किस्मत वाली ये कुतिया भी है. क्या मस्ती से अपनी चूत चुदवा रही

है." तब नीता और नंदिनी ने एक साथ बोली, "हाँ हमारे चाचा साहब सिंग के डर के मारे कोई लड़का हमे घास भी नही डालता. लगता है कि अपने नसीब मे कुँवारी ही रहना है और अपनी चूत की आग अपनी उंगलिओ से ही बुझानी है." तीनो के दिमाग़ मे तब एक आइडिया आया. निधि ने कार प्रॉफिसॉर अमित के घर की तरफ मोड दी . अमित की उमर उस समय लगभग 35 साल की थी और उनकी शादी अभी नही हुई

थी. वो बहुत ही रंगीन मिज़ाज़ के थे मतलब वो एक बहुत चोदु आदमी था. उसके लंड की लंबाई 7" और मोटाई 4" की थी और ये बात कॉलेज की लगभग सभी लड़कियाँ और मेडम को मालूम थी. उनको अपने लंड और अपनी चुदाई की कला पर बहुत गर्व था और कॉलेज की कई लड़की और मेडम उनसे अपनी चूत चुदवा चुकी थी. अमित इन सब लड़कियों और मॅडमो को बातों बातों मे फँसा कर अपने घर ले जाया करता था और फिर उनको नंगी करके उनकी चूत चोदा करता था. . अमित चोरी चोरी इन बहनो की जवानी घूरा करता था और ये बात इन तीन बहनो को मालूम थी. इन तीन बहनो ने अपनी कार . अमित के घर के सामने जा कर रोकी. अमित उस समय अपने घर पर ही थे और एक लूँगी पहन कर अपना लंड सहलाते हुए एक ब्लू फ्लिं देख रहे थे. प्रोफ़ेसर. अमित ने इन तीन बहनो को कार से उतरते देखा और जान बुझ कर टी.वी. ऑफ नही किया. उन्होने ऐसा दिखाया कि उन्हे इन लोगो के आने की बात मालूम ही नही पड़ी. टी.वी. पर उस समय एक गरमा गरम चुदाई का सीन चल रहा था जिस मे एक आदमी दो लड़कियाँ को अपने लंड और अपनी जीव से चोद रहा था. लड़कियाँ अपनी चूत चुदाते के समय अपनी अपनी कमर उछाल कर लंड और जीव अपनी चूत मे ले रही थी. तीनो बहने सीधे . अमित के कमरे मे पहुँच गयी.

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: तीन बहनों की चुदाई

Unread post by raj.. » 19 Dec 2014 08:59

प्रोफ़ेसर. अमित इन

तीन बहनो को देख कर घबराहट का नाटक करने लगा फिर उठ कर टी.वी. ऑफ कर दिया और बोला, "आरे! अचानक तुम लोग यान्हा कैसे?" तीनो बहने एक साथ प्रोफ. अमित से पूछी, "सर, आप टी.वी. पर क्या देख रहे

थे?" प्रोफ. अमित ने उन तीनो बहनो के चेहरे देख कर उनके मन की बात पहचान ली और उनसे पूछा, "हम जो कुछ टी.वी. पर देख रहे थे, क्या तुम लोग भी देखना चाहोगी?" तीनो बहनो ने एक साथ अपना अपना सिर हिला कर हामी भर दी. प्रोफ. अमित ने फिर टी.वी. ऑन कर दिया और सब लोग पलंग और सोफा पर बैठ कर ब्लू फिल्म देखने लगे. अमित एक सोफा पर बैठे थे और उनकी बगल वाली सोफा पर निधि और नंदिनी बैठी

थी और पलंग पर नीता बैठी थी. उधर प्रोफ. अमित ने देखा कि ब्लू फिल्म की चुदाई का सीन देख कर तीनो बहनो का चेहरा लाल हो गया और उनकी सांस भी ज़ोर ज़ोर से चल रही थी. उनकी साँसों के साथ साथ उनकी चुचियाँ भी उनके कपड़ो के अंदर उठ बैठ रही थी. क्या हसीन नज़ारा था. एक साथ तीन जोड़ी चुचियाँ एक साथ उठ बैठ रही थी और साँसे गर्म हो रही थी. कुछ देर के बाद नीता, जो कि इन बहनो मे सबसे बड़ी थी, अपना हाथ अपने बदन पर, चूंची पर फेरने लगी. प्रोफ़्फ. अमित उठ कर नीता के पास पलंग पर बैठ गये. उन्होने पहले नीता के सिर पर हाथ रखा और एक हाथ से उसके कंधो को पकड़ लिया. इससे नीता का चेहरा प्रोफ़्फ. अमित के सामने हो गया. अमित ने धीरे से नीता के कानो पास अपना मुँह रख पूछा, "क्या बहुत गर्मी लग रही है, पंखा चला दूं? नीता बोली, "नही ठीक है," और फिर अमित सर के चेहरे को आँखे गढ़ा कर देखने लगी. अमित ने पलंग से उठ कर पंखा फुल स्पीड मे चला दिया. पंखा चलते ही नीता की साड़ी का आँचल उड़ने लगा और उसकी दोनो चुचियाँ साफ साफ दिखने लगी.

अमित फिर पलंग पर नीता के बगल मे अपने जगह बैठ गये. उन्होने नीता का एक हाथ अपने हाथ मे ले लिया और धीरे से पूछा, "क्या मैं तुम्हारे हाथ को चूम सकता हूँ?" नीता ये सुनते ही पहले अपनी बहनो की तरफ देखी और फिर अपना हाथ अमित के हाथों मे ढीला छोड़ दिया. अमित ने भी फुर्ती से नीता का हाथ खीच कर उसकी हथेली पर एक चुम्मा दे दिया. चुम्मा दे कर वो बोले, "बहुत मीठे हैं तुम्हारे हाथ और हमे मालूम है कि तुम्हारे होठों का चुम्मा इससे भी मीठा होगा." ये कह कर अमित नीता की आँखो मे देखने लगे. नीता तो पहले कुछ नही बोली, फिर अपना हाथ अमित के हाथों से खींचते हुए अपना मुँह उनके पास कर दिया और बोली, "जब आपको मालूम है कि मेरे होठों का चुम्मा और भी मीठा होगा और आपको शुगर की बीमारी नही है, तो देर किस बात की और मीठा खा लीजिए." नीता की बात सुन कर अमित ने अपने होंठ नीता के होंठो पर रख दिए. फिर उन्होने अपने होंठों से नीता के होंठ खोलते हुए नीता का निचला होंठ चूसने लगे. नीता ने अपने होंठ चुसाइ से गर्म हो कर अमित के कंधों पर अपना सिर रख दिया. अमित ने नीता का रिक्षन देख कर धीरे से अपना हाथ बढ़ा कर नीता

की एक चूंची को ब्लाउज के उपर से पकड़ लिया. अमित एक हाथ से नीता की एक चूंची सहला रहे थे और दूसरे हाथ से उसकी चुतड पर फेर रहे थे. नीता उनकी इस हरकत पर पहले तो थोड़ा कस्मसाइ और अपनी

बहनो की तरफ देखती हुए उसने भी अमित को ज़ोर से अपनी बाहों मे भींच लिया. अमित ने अब नीता की दोनो चूंचियो पर अपने दोनो हाथ रख दिए और नीता की दोनो चूंचियों को पकड़ कर मसल्ने लगा. ये पहली बार था कि किसी मर्द का हाथ नीता के शरीर को छू रहा था. वो बहुत गरमा गयी और उसकी साँसे ज़ोर ज़ोर से चलने लगी. अमित नीता की चूंचियों को मसल्ते हुए नीता के होठों को चूमने लगा. अमित इधर नीता को चोदने की तैयारी कर रहा था कि उसने देखा कि निधि और नंदिनी भी अपने अपने बदन सहला रही है और बड़े गौर से अमित और नीता की चल रही जवानी का खेल देख रही है. अमित समझ गया कि वो अब इन तीनो बहनो से कुछ भी कर सकता है और ये तीनो बहने अब उसके काबू मे हैं और वो जो भी चाहेगा वही कर सकता है. अमित ने फिर से अपना ध्यान नीता के शरीर पर डाला.

क्रमशः………………………….


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: तीन बहनों की चुदाई

Unread post by raj.. » 19 Dec 2014 09:00



Teen bahanon ki chudaai--1

Sahab singh ki haveli me har samay teen khubsoorat haseen bahano ki hansi mazak ki awaaj hi sunai padti thi. Ye teen haseen bahane sahab singh ke swargiya bhai ki nishanee thee. Lekin in teen ladkiyon ke bap Sahab singh hi the. In teen haseen bahano ka naam Nita (25 years), Nidhi (22 years) aur Nandini (20 sal) thi. teen bahano ki figure bahut hi sexy thee. Unki chunchee aur chutaD bahut phulee phulee thee aur kisi bhi mard ke liye unko dekh kar apne aap ko rokna bahut hi mushkil ho jata. Inke baap ka sahar me bahut dab-daba tha aur isiliye koi ladaka inki taraf apni ankh utha kar dekhne ki bhi jurrat nahee karta. Isiliye ye teen bahane abhi tak kunwaree hi thee aur apna kam apni unglee ya baigan se chalaatee thee. We sab ek din car me swar hokar college ja rahe the. Car ki driving Nidhi kar rahee thee. Car ne
achaanak jor dar break maar eka ek ruk gayee. Peeche baithee Nita aur Nandini ne Nidhi se puchee, "kyon kya bat hai, tumne achanak car kyon rok dee." Nidhi boli, "kyon chilla rahee ho. Car ke samne ka nazara
to dekho. Kitna naseela nazara hai. Tab Nita aur Nandini ne samne dekha ki car ke samne bich sadak par ek kutta aur kutia gaanD se gaanD mila kar chipke hue the, yanee ki wo kutta aur kutia chudai kar rahe
the aur apni apni jeev nikal kar hanf rahe the. Nita aur Nandini chahak kar boli, "wah! kya haseen nazara hai." Nidhi boli, "hum se to kismat wali ye kutia bhi hai. Kya mastee se apni choot chudawaa rahee
hai." Tab Nita aur Nandini ne ek sath boli, "han hamaare chacha Sahab singh ke dar ke mare koi ladaka hame ghas bhi nahee daalta. Lagta hai ki apne naseeb me kunvaari hi rahana hai aur apni choot ki aag apne unglion se hi bujhanee hai." Teeno ke dimag me tab ek idea aya. Nidhi ne car Proffesor Amit ke ghar kee taraf moD diya . Amit ki umar us samay lagbhag 35 saal ki thee aur unki shadi abhi nahee hui
thee. Wo bahut hi rangeen mizaz ke the matalab wo ek bahut chodu admi tha. Uske lund ki lumbai 7" aur motai 4" ki thi aur ye bat college ki lagbhag sabhi ladakiyaan aur madam ko malum thi. Unko apne lund aur apni chudai ki kala par bahut garv tha aur college ki kai ladaki aur madam unse apni choot chudawaa chuki thee. Amit in sab ladakiyon aur madamo ko baton baton me phansa kar apne ghar le jaya karta tha aur phir unko nangee karke unki choot choda karta tha. Prof. Amit chodi chodi in bahano ki jawanee ghura karta tha aur ye bat in teen bahano ko malum thi. In teen bahano ne apni car Prof. Amit ke ghar ke samne ja kar rokee. Amit us samay apne ghar par hi the aur ek lungee pahan kar apna lund sahalaate hue ek blue flim dekh rahe the. Prof. Amit ne in teen bahano ko car se utarte dekha aur jan bujh kar t.v. off nahee kiya. Unhone aisa dikhaya ki unhe in logo ke ane ki baat malum hi nahee padi. t.v. par us samay ek garma garam chudai ka scene chal raha tha jis me ek admi do ladakiyaan ko apne lund aur apni jeev se chod raha tha. Ladakiyaan apni choot chudaate ke samay apni apni kamar uchaal kar lund aur jeev apnee choot me le rahee thee. Teeno bahane sidhe Prof. Amit ke kamare me pahunch gayee. Prof. Amit in
teen bahano ko dekh kar ghabaraahat ka natak karne laga phir uth kar t.v. off kar diya aur bola, "aare! achaanak tum log yanha kaise?" Teeno bahane ek sath Prof. Amit se puchee, "sir, aap t.v. par kya dekh rahe
the?" Prof. Amit ne un teeno bahano ke chehare dekh kar unke man ki bat pahachaan lee aur unse pucha, "hum jo kuch t.v. par dekh rahe the, kya tum log bhi dekhna chahogee?" Teeno bahane ek sath apna apna sir hila kar hami bhar dee. Prof. Amit ne phir t.v. on kar diya aur sab log palang aur sofa par baith kar blue flim dekhne lage. Amit ek sofa par baithe the aur unki bagal wali sofa par Nidhi aur Nandini baithee
thee aur palang par Nita baithee thee. Udhar Prof. Amit ne dekha ki blue film ki chudai ka scene dekh kar teeno bahano ka chehara lal ho gaya aur unki sans bhi jor jor se chal rahee thee. Unkee sanson ke sath sath unki chuchiyaan bhi unke kapado ke andar uth baith rahee thee. Kya haseen nazara tha. ek sath teen jodi chuchiyaan ek sath uth baith rahee thee aur sanse garm ho rahee thee. Kuch der ke bad Nita, jo ki in bahno me sabse badi thee, apna hath apne badan par, chunchee par pherne lagee. Proff. Amit uth kar Nita ke pas palang par baith gaye. Unhone pahale Nita ke sir par hath rakha aur ek hath se uske kandon ko pakad liya. Isse Nita ka chehara Proff. Amit ke samne ho gaya. Amit ne dhire se Nita ke kano pas apna munh rakh pucha, "kya bahut garmee lag rahee hai, pankha chala dun? Nita boli, "nahee theek hai," aur phir Amit sir ke chehare ko ankhe gadha kar dekhne lagee. Amit palang se uth kar pankha full speed me chala diya. Pankha chalet hi Nita ki saadi ka anchal udane laga aur uski dono chuchiyaan saf saf dikhne lagee.
Amit phir palang par Nita ke bagal me apne jagah baith gaye. Unhone Nita ka ek hath apne hath me le liya aur dhire se pucha, "kya main tumhare hath ko chum sakta hun?" Nita ye sunte hi pahale apni bahano kee taraf dekhee aur phir apna hath Amit ke hathon me dhila chod diya. Amit ne bhi furtee se Nita ka hath keench kar uskee hatheli par ek chumma de diya. chumma de kar wo bole, "bahut meethe hain tumhare hath aur hame malum hai ki tumhare hothon ka chumma isse bhi meethee hoga." Ye kah kar Amit Nita kee ankho me dekhne lage. Nita to pahale kuch nahee boli, phir apna hath Amit ke hathon se kheenchte hue apna munh unke pas kar diya aur boli, "jab apko malum hai ki mere hothon ka chumma aur bhi meetha hoga aur apko sugar ki bimaree nahee hai, to der kis bat ki aur meetha kha lijiye." Nita ki bat sun kar Amit ne apne honth Nita ke hontho par rakh diye. Phir unhone apne honthon se Nita ke honth kholte hue Nita ka nichla honth chusne lage. Nita ne apne honth chusaai se garm ho kar Amit ke kandhon par apna sir rakh diya. Amit ne Nita ka reaction dekh kar dhire se apna hath badha kar Nita
ki ek chunchee ko blaauj ke upar se pakad liya. Amit ek hath se Nita ki ek chunchee sahala rahe the aur dusre hath se uski chutaD par pher rahe the. Nita unki is harkat par pahale to thora kasmasi aur apne
bahano ke taraf dekhtee hue usne bhi Amit ko jor se apnee bahon me bhinch liya. Amit ne ab Nita kee dono chunchiyo par apne dono hath rakh diye aur Nita kee dono chunchiyon ko pakad kar masalne laga. Ye pahalee bar tha ki kisi mard ka hath Nita ke sharir ko chu raha tha. Wo bahut garma gayee aur uski sanse jor jor se chalne lagee. Amit Nita kee chunchiyon ko masalte hue Nita ke hothon ko chumne laga. Amit idhar Nita ko chodane ki taiyaari kar raha tha ki usne dekha ki Nidhi anr Nandini bhi apne apne badan sahala rahee haii aur bade gaur se Amit aur Nita kee chal rahee jawanee ka khel dekh rahee hai. Amit samajh gaya ki wo ab in teeno bahano se kuch bhi kar sakta hai aur ye teeno bahane ab uske kabu me hain aur wo jo bhi chahega wahi kar sakta hai. Amit ne phir se apna dhyaan Nita ke sharir par dala.

kramashah………………………….