खानदानी चुदाई का सिलसिला

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: खानदानी चुदाई का सिलसिला

Unread post by rajaarkey » 30 Dec 2014 02:56



'' Ji haan .. darasal mujhe medical problem hai..mere heart ko leke. Jab bachha karne ki sochi to doctor ne salah di ki mat karo. Jaan ka khatra ho sakta hai. Tab maine socha ki kar leti hoon dekha jaega jo hoga. Par mere pati nahi maane. Unhone zidd karke meri nasbandi karwa di, mujhe bura to bahut laga par apne pati ke lie maan gai. Wo mujhe bahut pyaar karte the..hamaari love marriage thi'' Kiran beer ka ghoont lete hue thori udaas ho gai.


''ohhh..par tum adopt kar sakti thi..paisa wagarah to sab hai tumhare pass..'' Sarla ne kaha.


''Ji kanooni taur pe mere Jeth ki ladki ko maine apni waaris banaya hai...wo abhi college men hai ...mujhe maa kehti to nahi par pyaar bahut karti hai.. baaki ye sab hai jo aap dekh rahi hain. Isme itna busy rehti hoon ki puchho mat ..aur upar se ye haraami saale ..mujhe chootiya banane ki koshish men lage rehte hain..'' Kiran thode gusse men aa gai.[/font]


''Arre Kiran ye mard jaat hai hi aisi agar koi pyaar bhi karta hai to matlab se..khair duniyadaari hai so nibhani padegi... waise meri ek salah hai tum kisi ko apne sath yahan partner ya madad ke lie rakh lo..aakhir ek se do bhale..kaam asaan ho jaega.''


'Ji sochti to hoon ki apni bhatiji ko college ke baad bula loongi par abhi 3 saal hain uske. Tab tak pata nahi kaise na kaise manage karungi. Achhe log milte bhi kahan hain. Aur waise bhi ye jagah kaafi door hai sheher se. Koi yahan rukna pasand nahi karta..'' Kiran boli.


''Bhai mujhe to ye jagah pasand aai...shaanti hai..achhi hawa paani sab hai aur jo aaega wo kaam men busy rahega..'' Sarla ne kaha.


'' Sarla ji bura na maane to ek baat kahun...kya aap yahan aana chahengi..meri madad ke lie..main aapko salary doongi aur rahane ki jagah. Kitchen hum log share kar lenge. Aap bhi akeli hain aur kaafi suljhi aur sambhraant aurat hain. Mujhe sahara ho jaega..'' Kiran ne achanak se prastaav rakha.


Uski baat sunn ke Sarla chaunk gai. Par phir apne ko sambhalte hue boli. Usne Sakhi aur uske pariwaar ke baare men bataya. Apne bete ke future plans ke baare men. Ye sab ke beech wo Kiran ki offer kaise le sakti thi. Par usne promise kia ki wo kisi achhe aadmi ya aurat ko talaash karegi aur Kiran ke pass bhejegi.


Ye sab baaten karte hue lunch ka samay ho gaya tha aur Kiran usse restaurant men le aai. Sarla ke lie usne soft drink mangwaya. Sarla table pe baithi Kiran ko dekh rahi thi. Kiran ek ameer ghar ki aurat thi ye uske kapdon se pata chalta tha. Badan pe kasa hua suit. Gatheela shareer. Gora rang. Teekhe nain naksh. Bas badan pe kahin kahin extra weight tha. Par overall wo achhi dikhti thi. Uski kad kaathi Sarla se milti julti thi. Farak sirf itna tha ki Sarla ki umar ki wajah se uski body ka kasaav thode kam ho gaya tha. Dono ko agar sath khada kar to badi aur chhoti behen lagengi. Usko dekhte hue Sarla ko uspe taras aa gaya. Itni chhoti age men widhwa hona. Par phir wo apne baare men sochne lagi ki wo bhi kaafi jaldi akeli ho gai thi. Sochte sochte Sarla ko apne pati ki yaad aane lagi aur phir pati ke sath guzaari rang raliaan. Ye sochte hue uske man men chudaai ki ichha jaagrit ho gai. Par uske lie use wait karna tha. Babuji ka lund milne men abhi waqt tha. jab se wo aai thi Babuji ne use choda nahi tha. Abhi tak ghar men usse Babuji ke sath akele rahane ka mauka nahi mila tha.


Itne men Sakhi aur baaki sab bhi restaurant men aa gae. Sarla ne Kiran se sabki introduction karwaai. Sarla ne bade achhe se sabko khaane ke lie aamantrit kia. Kuchh der baad kuchh aur guest bhi aa gae. Resort men uss din kareeb 8 families aur 2 - 3 nae shaadishuda jode the. Kiran kaam men busy ho gai aur Sarla apne pariwaar ke sath. 3 baje ke kareeb khana khatam karke sab sustaane chale gae. Resort men unhone 2 double room ke cottege book karwae the. Sarla ke kahe anusaar ek cottege men sab mard the aur ek men sab auraten. Teeno bhai bina choot ke 4 mahine guzaar chuke the. Resort men baaki guests ko dekh ke unme sex ki ichha jaagrit ho rahi thi.


Dopahar ko kareeb 2 ghanta sone ke baad sab chai ke lie lawn men aa gae. Gappen maarte hue chai pite hue samay kaise nikal gaya pata hi nahi chala. kareeb 7 baje sab nahane chale gae. Taiyaar hoke sab 8 baje pub men pahunch gae. 3no bhaion ne apne lie drinks order kie. Sarla aur 3no bahuon ne soft drinks lie. Kuchh der men sabne khana order kia aur drinks lete hue khana bhi finish ho gaya. Is samay tak pub men sab families aa chuki thi aur ek achha mahaul bana hua tha. Itne men Kiran wahan aai aur sabse mili. Usne ek halke rang ki saari pehni hui thi jo ki kamar se niche bandhi hui thi. Uski naabhi saaf saaf dikh rahi thi. Blouse bhi sleevless tha. Usne sarla aur uske pariwaar se kuchh der baat ki aur phir apni drink leke pub ka kaam dekhne lagi. DJ ko keh ke usne ek tadakta fadkata gaana lagwaya aur wahan baithe logon ko ek ek karke dance ke lie bulaane lagi. Thori hi der men takreeban sabhi log stage pe pahunch gae. Sarla, Sakhi aur Sanjay table pe baithe the. Sakhi ko din men ziada sair ki wajah se peeth men dard tha. Islie wo nahi jaana chahti thi. Uske chakkar men Sanjay bhi nahi ja paa raha tha. Sanjay ka 5waan peg chal raha tha jab Kiran un logon ke paas aai.


''Arre Sarla ji aap sab yahan kya kar rahe ho..chalie stage pe thode dance kar lijie.'' Kiran ne kaha.


'' Arre nahi Kiran ..meri beti ki peeth men dard hai to islie ..ye nahi kar paegi aur main iske sath hi rahun to achha hai.''


''Achha to aap apne damaad ko to bhejie.. Aap to chalie damaad ji..''Kiran ko khud bhi thode suroor tha aur usne Sanjay ko chherte hue kaha.


''Ji main aapka damad nahi hoon..'' Sanjay enjoy na kar paane ki wajah se thode gusse men tha.


''Arre ye meri saheli hain aur aap inke damad to uss naate aap mere bhi damaad hue...gussa kyon karte hain..main mazaak kar rahi thi..aap chalie enjoy kijie ye baithi hain Sakhi ke sath''


''Haan Sanjay tum jao main baithi hoon..tumhe to dance ka shauk hai..jaao naa..'' Sakhi ne kaha.

''Tumhe pata hai main akele dance nahi karta..mujhe partner chahie..'' Sanjay ne use ghoorte hue kaha.


''To chalo aap mere sath dance karo...main bhi bahut din se dance nahi kia hai..chalie..arre Sakhi ko kya dekh rahe hain...main iski maa ki saheli hoon..iski maa jaisi ..chalie uthiye ..ye mera order hai..'' Kiran ne khilkhilaate hue Sanjay ka hath pakra aur use dance floor pe le gai.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: खानदानी चुदाई का सिलसिला

Unread post by rajaarkey » 30 Dec 2014 02:57

खानदानी चुदाई का सिलसिला--12

गतान्क से आगे..............

दोस्तो मैं यानी आपका दोस्त राज शर्मा इस कहानी बारहवां पार्ट लेकर हाजिर हूँ

कुच्छ ही देर में संजय मूड में आ गया. अपने कॉलेज का डॅन्स चॅंपियन अपनी मूव्स दिखाने लगा. देखते ही देखते स्टेज के आस पास लोगों ने घेरा बना लिया और संजय और किरण की जोड़ी को जगह दे दी. उस समय चान्स पे डॅन्स करले गाना चल रहा था और संजय ने किरण को अनुष्का सहर्मा की तरह नचाना शुरू कर दिया. उसकी हर मूव गाने की बीट से मिल रही थी. किरण उसकी बाहों में झूल रही थी और हँसे जा रही थी. सब लोग तालियाँ बजा बजा के उसे उत्साहित कर रहे थे. इसी तरह से एक और गाने पे दोनो ने एक साथ डॅन्स किया. किरण भी अच्छी डॅन्सर थी और हर तरीके से उसने संजय का साथ दिया. डॅन्स करते हुए संजय काफ़ी अलग अलग जगह किरण को छ्छू रहा था. किरण को उसके टच से काफ़ी सुखद एहसास हो रहा था. उसके मन में भी पुरुष के स्पर्श की इच्छा जागृत हो रही थी. उसकी पीठ, कमर और बाजुओं पे जब संजय का हाथ लगता तो उसका रोम रोम खिल उठता. इतने में डीजे ने एक स्लो रोमॅंटिक सॉंग लगा दिया और सब लोग अपने अपने पार्ट्नर के साथ क्लोज़ डॅन्स करने लगे.


किरण संजय के कंधों के लेवेल तक आ रही थी. उपर देखते हुए उसने संजय की आँखों में झाँका. आँखों आँखों में बहुत सी बातें दोनो एक दूसरे से कह गए. करीब 20 सेकेंड तक दोनो एक दूसरे को देखते रहे और इसी दौरान उनके जिस्म भी काफ़ी करीब आ गए. संजय का लंड उसकी पॅंट में हलचल करने लगा था. उस एहसास ने उसको जगाया और उसने सखी की तरफ देखा. सखी टेबल पे सिर रखे सोई हुई थी और सरला उसके सिर पे हाथ फेर रही थी. सरला की नज़रें किरण और संजय पे थी. अपनी सास को देखते हुए संजय सकपका गया. उसने किरण से एक्सक्यूस लिया और टेबल की तरफ गया. किरण थोड़ी मायूस हुई पर फिर अपने को संभालते हुए वापिस काम में लग गई.


संजय टेबल पे पहुँचा तो सखी ने उससे कहा कि वो रूम में जाना चाहती है. सरला, सखी और संजय रूम की तरफ चल दिए. सरला संजय को गौर से देख रही थी. उसको यकीन हो गया था कि किरण संजय पे लट्तू हो गई है. संजय भी आख़िर एक मर्द था और 4 महीने से अपनी पत्नी से वंचित था. आने वाले 8 - 9 महीने उसे स्त्री सुख से वंचित रहना था. इससे पहले कि बात किसी ग़लत दिशा में चली जाए सरला ने एक डिसिशन लिया. संजय और सखी को कमरे में छोड़ के सरला वापिस पब चली गई. किरण को ढूँढ के उसने किरण से कुच्छ बात कही. उसकी बात सुन के किरण दंग रह गई. करीब 15 मिनिट तक दोनो में बाते और बहस होती रही और उसके बाद सरला वहाँ से चली गई. सरला ने रूम में पहुँच के संजय को वापिस पब जाके सरला का पर्स लाने को कहा जो वहाँ छ्छूट गया था. संजय उत्साहित मन से वापिस चल दिया और सरला उसकी चाल में आई रवानगी देख के मुस्कुरा दी.

जब तक संजय पब में पहुँचा तब तक उसके दोनो बड़े भाई और भाभियाँ वहाँ से जाने के लए निकल रहे थे. मिन्नी और राखी भी थक चुकी थी. राजू और सुजीत ने संजय से पुछा कि वो कहाँ जा रहा है. संजय ने पर्स वाली बात बताई. ये कह के वो लोग रूम्स की तरफ चल दिए और संजय पब की तरफ. पब में अब भीड़ थोड़ी कम थी पर लोग अभी भी नाच रहे थे. यंग कपल्स और कुछ मिड्ल एज कपल्स स्टेज पे ''छमॅक छल्लो'' पे डॅन्स कर रहे थे. संजय को बहुत ज़ोर से पेशाब लगा था तो वो पहले टाय्लेट गया. कहते हैं जब कुच्छ होना होता है तो किस्मत भी इशारे करती है. जेंट्स टाय्लेट के गेट के पास एक कोने में एक जवान जोड़ा मस्ती में लगा हुआ था. लड़की का एक मम्मा शर्ट के बाहर लटका हुआ था और उसका ब्फ या हज़्बेंड उसको भींच भींच के चूस रहा था. लड़की पूरे नशे में थी और उसको संजय के वहाँ होने से कोई फरक नही पड़ा. संजय उसको कुच्छ सेकेंड देखता रहा और फटाफट टाय्लेट में गया. पेशाब करते करते उसका लंड पूरा खड़ा हो गया. 11 इंच के लंड को संभालना भी दिक्कत वाला काम था. खैर जैसे तैसे संजय ने उसे सुलाया और वापिस निकलने लगा. बाहर निकलते ही संजय का नज़ारा देख के होश उड़ गए. लड़की का मम्मा तो बाहर था ही साथ में उसकी पॅंटी पैरों में गिरी पड़ी थी और लड़का उसकी चूत की रगदाई कर रहा था. लड़की के चेहरे पे सेक्स की गर्मी थी और बहुत मस्त भाव थे. लड़के ने उसे दीवार के साथ चिपकाया हुआ था और उसकी एक टाँग अपने हाथ में पकड़ी हुई थी, दूसरे हाथ से उसकी स्कर्ट में फिंगरिंग कर रहा था. इस बार लड़की ने संजय को देखा और अपने मूह में उंगली डाल के उसे चूसा.

इशारा सॉफ था पर संजय को अभी काफ़ी होश था. सब तरफ नज़र दौड़ाते हुए उसने आगे बढ़ के लड़की के मम्मे पे हमला बोल दिया. मम्मा मीडियम साइज़ का था और बड़ी आसानी से संजय के मूह में समा गया. पूरे मम्मे को मूह में रखते हुए संजय ने लड़की का हाथ पकड़ के अपने लंड पे रखवाया. पहले से आधा तना लंड अब पूरा तन गया और लड़की के मूह से एक मोन निकल आई. शायद ये लड़की कोई प्रोफेशनल थी और शायद इसी लिए उसके पार्ट्नर को भी कोई फरक नही पड़ रहा था कि उसका माल कोई और भी लूट रहा है. इतने में कन्खिओ से देखते हुए संजय की नज़र किरण पे पड़ी. वो हॉल में किसी को ढूँढ रही थी. लड़की के मम्मे को एक आख़िरी चूम्मा देके संजय किरण की तरफ बढ़ा. अचानक उसे कुच्छ सूझा और बार पे जाके उसने 2 लार्ज विस्की के ऑर्डर किए. एक कोने में खड़े होके वो किरण को देखता रहा. किरण काफ़ी परेशान और उत्तेजित लग रही थी जैसे किसी को भीड़ में ढूँढ रही हो. जिस तरीके से वो गेस्ट्स की भीड़ को देख रही थी उससे संजय को अंदाज़ा हो गया कि वो किसी नौकर या एंप्लायी को नही बल्कि किसी गेस्ट को ही ढूँढ रही है. 5 मिनिट में 2 लार्ज विस्की पीने के बाद संजय पिछे से किरण की तरफ बढ़ा. किरण बार के साथ बने स्टोररूम में जा रही थी और अपने आप से बड़बड़ाये जा रही थी. स्टोररूम खुला था और किरण उसमे एंटर होते ही एक टेबल की तरफ बड़ी. उसपे सरला का पर्स पड़ा था. संजय ने मौका देख के स्टोर रूम में एंट्री ली और दरवाज़ा अंदर से बंद कर दिया. उसने ध्यान रखा कि दरवाज़े को अभी कुण्डी ना लगाए.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: खानदानी चुदाई का सिलसिला

Unread post by rajaarkey » 30 Dec 2014 02:57


''लगता है कुच्छ बहुत कीमती था जो खो गया है...काफ़ी परेशान दिख रही हैं आप...'' 1 फुट की दूरी पे किरण के पिछे खड़े खड़े संजय ने कहा. उसकी 6 फिट की हाइट से किरण काफ़ी छ्होटी दिख रही थी. अब संजय पे दारू का सुरूर भी हो गया था.

''ऊूउउइ माआ...ऊहह गाआवद्ड़...तुमने तो मुझे डरा ही दिया....ऊओ माआ..'' किरण चौंक के मूडी और उसके मूह से हल्की सी चीख निकल गई.

''ह्म्‍म्म पहले जिसे ढूँढ रही थी ..और जब वो सामने है तो डर रही हो... बात कुच्छ जमी नही..'' संजय मुस्कुराता हुआ बोला.

'' मैं क्या ढूँढ रही थी और क्या मतलब है तुम्हारा ..सामने तो तुम हो...मैं क्या तुम्हे ढूँढ रही थी ??'' किरण ने गुस्से और अचंभित होने के भाव दिखाए.

'' पिच्छले 10 मीं में जिस हिसाब से आपने सब लोगों पे नज़रे घुमाई और फिर जिस तरह से बड़बड़ाते हुए आप यहाँ पे आई ..ये सब ...क्या है...'' संजय अब थोड़ा कन्फ्यूज़्ड सा था. उससे पहले लगा था कि किरण उसपे लट्तू हुई है पर अब शायद बात कुच्छ और ही ना हो.

'' मैं तुम्हे नही ढूँढ रही थी...मैं सरला जी को ढूँढ रही थी..वो अभी थोड़ी देर पहले आई थी और उनका पर्स यहाँ रह गया था..मुझे लगा कि वो टाय्लेट गई होंगी ..पर जब वो नही आई तो मैं उन्हे देखने लगी...तुम क्या अपने को बहुत वीआइपी समझते हो जो मैं तुम्हे ढूंढूंगी.'' किरण का गुस्सा देखते ही बनता था.

अब बारी संजय के सकपकाने की थी. वो घबरा गया कि कहीं जोश में आके उसने कुच्छ ग़लत तो नही कह दिया. बात सखी तक पहुँचेगी तो क्या सोचेगी. भाभी को चोद्ना उनसे मज़े लेना घर की परंपरा का हिस्सा था, बाबूजी का आदेश था...पर पराई स्त्री पे डोरे डालना शायद ये किसी को भी मंज़ूर ना होगा.

'' जी मैं तो मज़ाक कर रहा था..आक्च्युयली मुझे सासू मा ने ही भेजा था आपसे पर्स लाने के लिए...मैं आपको ढूँढ रहा था तो आपको परेशान देखा ..सोचा आपसे थोड़ी चुहहाल कर लूँ..आफ्टर ऑल आप भी तो मेरी सास जैसी है...'' संजय ने अपनी सबसे अच्छी स्माइल देते हुए बात को संभालने की कोशिश की.

जैसा कि पहले बताया था कि संजय दारू पीने के बाद बाकी लोगों जैसा नही रहता. वो मस्ती में आ जाता है और कभी होश नही खोता. दारू उसके लिए नशे का काम ज़रूर करती है पर जैसे कि टॉनिक हो. उसके कॉलेज में लड़कियाँ उसे दारू पी के देखने को तरसती थी. उसकी हरकतें, चाल और मुस्कान इतनी नशीली होती थी कि लड़कियाँ उसपे लट्तू हो जाती थी. और अभी वो स्माइल देख के किरण की धरकने डबल हो चुकी थी. '' हाए क्या कातिल मुस्कान है...मन करता है कि इस मुस्कान से अपनी मुस्कान मिला दूं...किस कर लूँ इसे...उफफफ्फ़...मेरी चूत ..इतनी गीली कैसे हो गई...मैं गिर जाउन्गि...'' किरण के दिमाग़ में ये सब बातें चल रही थी.

पर उसे अपने पे कंट्रोल रखना था. उससे सिचुयेशन को संभालना था. जो बातें सरला ने उससे कही थी वो सच थी. उसके दामाद सा हॅंडसम वहाँ कोई नही था. अब देखना ये था कि जो बात उसने संजय के लंड के बारे में कही थी क्या वो बात सच है. पर उसमे अभी वक़्त था.

''ठीक है मैं तुम्हारी बात मान लेती हूँ दामाद जी..ये लो अपनी शैतानी का फल ..और ये लो अपनी सासू मा का पर्स ..इसे लेके जाओ और उनसे कहना कि मैं 1 घंटे में आउन्गि उनके कमरे पे कुच्छ ज़रूरी बातें करने. समझे मेरे मूह बोले नटखट दामाद जी..'' किरण ने आगे बढ़ के संजय का कान मरोड़ दिया और उसके गालों पे एक हल्की सी चपत दी. उसके इस आक्षन से संजय थोड़ा तिलमिला गया और उसके अहंकार को चोट पहुँची.

''ठीक है मेरी मूह बोली सासू जी..कह दूँगा अपनी सासू मा को आपकी बात ..चलिए अब आग्या दीजिए ..प्रणाम और शुभ रात्रि'' संजय अचानक झुका और एक हाथ से किरण के पैर च्छुए. पैर च्छुने के बहाने उसने पैरों को अच्छे से सहलाया और उठ खड़ा हुआ. उसके पैर सहलाने से किरण रोमांचित हो उठी. उसके रोम रोम में आग लग गई. संजय ने एक बार उसकी आँखों में झाँका और फिर मूड के स्टोर रूम से बाहर चला गया. किरण उसके जवान लंबे जिस्म को पिछे से देखती रही. उसकी साँसे काबू में नही थी. उसके होंठ काँप रहे थे. बदन में झूरी झूरी दौड़ रही थी. अपने को संभालने के लिए उसने टेबल का सहारा लिया और सिर झुका के अपने पे कंट्रोल करने लगी.

संजय गुस्से में अपने कॉटेज की तरफ जाने लगा. बार से उसने एक विस्की की बॉटल और ले ली थी. पहले वो अपने कॉटेज मे गया जहाँ उसके दोनो भाई सोने की तैयारी कर रहे थे. बॉटल रखते हुए उन्होने देखा तो पुछा कि ये किस लए. संजय ने कहा कि आज मस्ती का दिन है तो वो थोड़ी और पीना चाहता है. बार बंद हो रहा था सो इसलिए बॉटल ले आया. अगर वो पीना चाहे तो पी सकते हैं. 3नो भाईओं ने एक एक पेग बनाया और पीने लगे. पेग 3/4 हुए थे कि संजय को सास के पर्स की याद आई और वो देने चला गया. राजू और सुजीत सेक्सी बातें करते हुए पेग ख़तम करके सोने चले गए. जिस कमरे में कॉटेज का मेन एंट्रेन्स था उसमे संजय ने सोना था और दोनो भाईओं ने पिच्छले कमरे में. उन्होने अपने रूम का दरवाज़ा बंद किया और सोने चल दिए. जब तक संजय सखी का हाल पुच्छ के वापिस आया तब तक सुजीत और राजू सो चुके थे. संजय ने आते ही अपने कपड़े उतार दिए और सिर्फ़ अंडरवेर में लेट गया. किरण का कान खींचना, चपत लगाना और उसके पैरों का एहसास उसके दिमाग़ में घूम रहे थे. गुस्से में उसने एक पेग और बनाया. ये शाम से उसका 7थ पेग था. उसकी केपॅसिटी 1 बॉटल से उपर की थी.

पेग लेते लेते उसे किरण के साथ डॅन्स की याद आ गई. पेग ख़तम हुआ किरण की कमर के एहसास से. लंड अब अंडरवेर में हिचकोले खा रहा था. संजय ने घड़ी देखी तो 11 बज चुके थे. एक पेग और बनाया और फिर से किरण की कमर पे ध्यान चला गया. साड़ी में क्या लग रही थी. उसके चेहरे पे अब स्माइल थी. हाथ में पेग और दूसरे हाथ में अंडरवेर से बाहर निकाला हुआ लंड. ''लगता है आज भी मूठ मार के गुज़ारा करना होगा..पता नही चूत कब मिलेगी..ये साली सासू मा ने भी सब गड़बड़ किया हुआ है..साली खुद अपनी ज़िंदगी के मज़े ले चुकी है और हमें रोकती है.....पर है गदराई हुई ..इतनी उमर में भी ..उफ्फ क्या सोच रहा है संजय..तेरी सास है वो...सास है तो क्या हुआ...है तो खेली खिलाई घोड़ी. अगर मौका मिला तो इस्पे भी चढ़ जाउन्गा....उउम्म्म्म...सोच के ही लंड में नई जान आ जाती है....सरला....किरण....उम्म्म्ममम'' संजय के दिल पे साँप लोटे रहे थे..उसके लंड का उफान उसके दिमाग़ को कंट्रोल कर रहा था.