रामू compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: रामू ड्राइवर

Unread post by rajaarkey » 30 Dec 2014 04:40

रामू ड्राइवर--4

मेम साहब की बड़ी लड़की का नाम मिनी था और उसकी उमर लगभग 18 साल की थी. अब मेरी निगाहें उस पर थी. वो भी अपनी मा से ज़्यादा सेक्सी थी. उसकी कमर इतनी पतली थी की मुझे लगता था अगर पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया जाए तो वो उसकी गांद के रास्ते बाहर निकाल आएगा. मैं उसे भी चोदने का कोई मौका खोज रहा था.

एक दिन मेम साहब को साहब के पास जाना था. वो मिनी की छ्होटी बहन काजोल को साथ लेकर साहब के पास चली गयी. जाते समय वो मुझसे बोली, "रामू, घर का ख़याल रखना और मेरे वापस आने तक रात को यहीं सोना." मैने कहा, "ठीक है, मेम साहब." रात को खाने के बाद मैं बाहर सोने जाने लगा तो मिनी ने कहा, "रामू, तुम यहीं सो जाओ. मुझे अकेले में डर लगता है." मुझे तो मन माँगी मुराद मिल रही थी भला मैं क्यों इनकार करने लगा. मैने कहा, "ठीक है, बेबी."

रात के 12 बजे मिनी ने आकर मुझे जगाया. मैं उठा तो वो बोली, "रामू, उस दिन तुम तो मेरी मम्मी के साथ गये थे और होटेल में रुके थे. उस दिन आँधी भी आई थी और बिजली भी ज़ोर ज़ोर से कड़क रही थी. मम्मी को आँधी और बिजली कडकने की आवाज़ से बहुत डर लगता है और वो अकेले नहीं सो सकती. मुझे एक दम सच सच बताना की उस दिन तुम मम्मी के साथ उनके बेड पर सोए थे या नहीं." मैं चौक गया और बोला, "तुम्हारी मम्मी बहुत ज़िद करने लगी तो मैं उनके रूम में सोफे पर सो गया था." मिनी बोली, "तुम अभी भी झूठ बोल रहे हो. मम्मी बिजली कडकने पर बिना किसी से चिपके नहीं सो सकती. मम्मी ज़रूर तुम्हारे साथ चिपक कर सोई होगी. तुम सच सच बताओ" मैने कहा. "हां, सोया था," मिनी फिर बोली, "उस रात और क्या हुआ था." मैने कहा, "कुछ भी तो नहीं."

मिनी फिर बोली, "उस रात मेरी मम्मी ने ज़रूर तुमसे चुडवाया होगा. तुमको आज मुझे भी चोदना पड़ेगा. नहीं तो मैं पापा से बोल दूँगी की तुम मुझसे रात में गंदी गंदी बातें कर रहे थे और मुझे च्छेद रहे थे." मैं सकपका गया और चुप हो गया. वो बोली, "तुमने सुना नहीं, आज तुमको मुझे चोदना पड़ेगा." मैने कहा, "तुम्हारी मम्मी शादी शुदा है और वो चुड़वाने की आदि है. मेरा लंड बहुत लंबा और मोटा है. तुम अभी बच्ची हो और कुँवारी हो. तुम्हारी चूत एक दम छ्होटी है. तुम मेरे लंड को अपनी चूत के अंदर नहीं ले पावगी. तुम्हारी चूत फॅट जाएगी." मिनी बोली, "तुम अभी मुझे बच्ची समझ रहे हो. मैने तुमसे ऐसे ही थोड़े ना चुड़वाने के लिए कहा है. मैं अपने काई बॉय फ्रेंड से चुडवाया है. मैं 7" लंबा लंड भी अपने चूत के अंदर ले चुकी हूँ." मैने कहा, "ठीक है, तुमने अपने काई बॉय फ्रेंड से चुडवाया होगा और 7" लंबा लंड भी अंदर ले चुकी हो लेकिन तुमने मेरे लंड को देखा नहीं है. अगर देख लॉगी तो अपना इरादा बदल डोगी." मिनी और ज़्यादा जोश में आ गयी और बोली, "तुम अपना पॅंट खोलो, मैं अभी तुम्हारा लंड देखना चाहती हूँ जिस पर तुमको इतना नाज़ है."

मैं तो मिनी को चोदना चाहता ही था इसलिए मैने तुरंत अपना पॅंट और नेकर दोनो उतार दिया. मिनी मेरे लंड को देख कर बोली, "वा क्या तगड़ा लंड पाया है तुमने, मैं तो इसको ज़रूर अपनी चूत के अंदर लूँगी. मुझे तुम्हारे लंड से चुड़वाने में बहुत मज़ा आएगा. तुम अब मेरे भी कपड़े उतार दो." मैने मिनी के कपड़े उतरने शुरू कर दिए. मैने पहले उसका ब्लाउस उतरा और फिर ब्रा को खोल दिया. ब्रा के खुलते ही उसकी चुचियाँ बाहर आई तो मैं देखता ही रह गया. उसकी चुचियाँ एक दम गोरी और छ्होटी छ्होटी थी. उसके निपल भूरे थे और बहुत छ्होटे थे. मैने उसके निपल को अपनी उंगलियों से मसलना शुरू कर दिया तो वो सिसकारियाँ भरने लगी. मिनी ने मेरे लंड को सहलाना शुरू कर दिया. मैने अपने होत उसके होठों पर रख दिए. थोड़ी देर बाद मैने मिनी की स्कर्ट भी उतार दी. उसकी चिकनी जंघें देख कर मुझे और जोश आ गया. मैं उसकी जांघों को सहलाने लगा. कुच्छ देर बाद मैने उसकी पेंटी भी उतार दी.

जैसे ही मैने उसकी पनटी उतरी तो मैं आँखें फाडे हुए उसकी चूत को देखता रह गया. उसकी चिकनी और गोरी चूत देखकर मेरा लंड और तन गया. उसकी चूत को देख कर नहीं लग रहा था की वो चुदवा चुकी है. उसकी चूत पर अभी ठीक से बाल भी नहीं उगे थे. मैने उसकी चूत को सहलाना शुरू किया तो वो और जोश में आने लगी और कुछ देर बाद बोली, "ओह रामू, तुम कितने अच्च्चे हो. मुझे अब बर्दस्त नहीं होता. जल्दी चोदो मुझे. मैं तुम्हारा पूरा लंड अपनी चूत की गहराई तक लेना चाहती हूँ. डालो इसे मेरी चूत में और फाड़ दो मेरी चूत को." वो इतनी जोश में आ गयी थी की तुरंत ही ज़मीन पर डॉगी स्टाइल में हो गयी और बोली, "रामू, अब जल्दी से मेरी चुदाई करो. एक झटके से ही दल दो अपना पूरा लंड मेरी चूत में. मेरे चिल्लाने की तुम कोई परवाह मत करना. मुझे तकलीफ़ देने वाली चुदाई बहुत पसंद है. यहाँ मेरे और तुम्हारे अलावा कोई नहीं है."
मैं उसके पीच्चे आ गया और बिना देर किए अपने लंड का सूपड़ा उसकी चूत के बीच फसा दिया. वो बोली, "देखते क्या हो, एक ही धक्के में घुसा दो अपना पूरा लंड मेरी चूत के अंदर." मैने अपने लंड को उसकी चूत में घुसना शुरू किया. मेरा लंड अभी तक उसकी चूत में केवल 2" ही घुसा था की वो चिल्लाने लगी. मैने कहा, "तुमने तो 7" लंबा लंड अंदर लिया है. तुमने काई लड़कों से चुडवाया भी है तो फिर इतना चिल्ला क्यों रही हो. मेरा लंड तो अभी तुम्हारी चूत में केवल 2" ही घुसा है." वो बोली, "तुम्हारा लंड मोटा बहुत है, इसलिए दर्द हो रहा है. उन सब का लंड इतना मोटा नहीं था." मैने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाल लिया तो वो बोली, "मैने तुमसे कहा था ना रुकना मत, तुम रुक क्यों गये, डालो अपना पूरा लंड मेरी चूत में.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: रामू ड्राइवर

Unread post by rajaarkey » 30 Dec 2014 04:41


चोदो तेज़ी के साथ मुझको." मैं और जोश में आ गया और अपने लंड को उसकी चूत में घुसने लगा. वो चिल्ला रही थी और मैने उसकी कोई परवाह ना करते हुए बड़ी बेरहमी के साथ एक जोरदार धक्का मारा. वो और ज़ोर से चिल्लाई. अभी तक मेरा लंड उसकी चूत में केवल 5" तक ही घुस पाया था. मैने उसके चिल्लाने की कोई परवाह नहीं की और बेदर्दी के साथ उसकी चूत मैं अपने लंड को घुसने की कोशिश करता रहा. वो और तेज़ चिल्लाने लगी और अपना सिर इधर उधर मरने लगी. मैने उसकी कोई परवाह नहीं की और उसकी चूत में लंड को घुसना जारी रखा. कुच्छ ही देर में मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया और उसकी चूत से तोड़ा खून भी निकाल आया.

पूरा लंड उसकी चूत में घुसने के बाद भी मैं रुका नहीं और तेज़ी से उसकी चुदाई शुरूर कर दी. वो और तेज़ चिल्लाने लगी लेकिन मैं उसकी कोई परवाह नहीं की. थोड़ी देर बाद जब उसका दर्द कुछ कम हुआ तो वो शांत हो गयी. अब उसको भी मज़ा आने लगा था. वो और तेज़ और तेज़ चिल्लाने लगी तो मैने अपनी स्पीड बढ़ा दी. लगभग 20 मिनिट तक चोदने के बाद मेरे लंड ने पानी उगला और उसकी चूत एक दम भर गयी. इस बीच वो भी 3 बार झाड़ चुकी थी. मैने अपना लंड बाहर निकाला तो वो उसे चाट चाट कर साफ करने लगी. उसके बाद हम दोनो लेट कर आराम करने लगे. इस बीच वो मेरा होत चूमती रही.

थोड़ी देर बाद वो बोली, "रामू, आज मैं बहुत खुश हूँ क्यों की मुझे एक अच्च्चे लंड से चुड़वाने का मौका मिला. तुमने भी मेरी चुदाई अच्च्ची तरह से की है. मैं इसे ज़िंदगी भर नहीं भूलूंगी." मैने कहा, "मैने जब तुम्हारी मम्मी को पहली बार चोडा था तो उनकी चूत 35 साल की उमर में भी गोरी और चिकनी थी. तब मैं यही सोच रहा था की जब उनकी चूत ऐसी है तो तुम्हारी और काजोल की तो और ही अच्च्ची होगी. मैं तब से ही तुम दोनो को चोदने की सोच रहा था. तुमको चोदने की तमन्ना तो अब पूरी हो गयी. अब काजोल को भी चोदना है. वो तो तुम्हारी बहन है. उसे चोदने में तुमको मेरी मदद करनी पड़ेगी." वो नाराज़ हो गयी और बोली, "क्यों तुम्हारा मान मुझे और मम्मी को चोद कर नहीं भरा जो तुम काजोल को चोदना चाहते हो." मैने कहा, "क्यों काजोल को मोटे और लंबे लंड से चुड़वाने का हक़ नहीं है." वो बोली, "ठीक है, इस पर बाद में सोचूँगी."

10 मिनिट तक आराम करने के बाद वो अपने कपड़े पहनने लगी तो मैने कहा, "मिनी प्ल्ज़ एक बार और." वो बोली, "अच्च्छा ठीक है. लेकिन जल्दी करना. बहुत दर्द होता है." मैं तो अब उसकी गांद मारना चाहता था. मैने उस से कहा, "मिनी, मुझे हाथ पैर बाँध कर चोदने में बहुत मज़ा आता है.

अगर तुम कहो तो मैं तुम्हारा हाथ पैर बाँध कर एक बार चोद लूं." वो बोली, "रामू, तुम्हारे लंड से चुड़वाने में मुझे बहुत मज़ा आया है इस लिए मैं इनकार नहीं कर सकती. तुम जैसे चाहो अपनी इच्च्छा पूरी कर लो." मैने उसे ज़मीन पर पीठ के बाल लिटा दिया और उसके हाथ पैर बाँध दिए. फिर मैने उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया. वो जोश में आने लगी और बोली, "अब देर मत करो. जल्दी चोदो मुझे." मैने अपने लंड का सूपड़ा जैसे ही उसकी गांद के च्छेद पर रखा तो वो बोली, "रामू, तुम ये क्या कर रहे हो. मत मरो मेरी गांद. बहुत दर्द होगा. छ्चोड़ दो मुझको. मेरी गांद फॅट जाएगी. मैं 1-2 दिन तक ठीक से चलने के काबिल नहीं रहूंगी. मार जाऊंगी मैं." मैने कहा, "जब तुम मेरा पूरा लंड अपनी चूत में ले सकती हो तो गांद में क्यों नहीं. हन थोड़ी तकलीफ़ ज़रूर होगी. तुमको तो तकलीफ़ वाली चुदाई ही पसंद है ना." वो बोली, "ऐसा मैने अपनी चूत के बारे में कहा था. तुम मम्मी के आने तक जितनी बार चाहो मेरी चूत की चुदाई कर लो पर मेरी गांद मत मरो." मैने कहा, "एक बार तुम्हारी गांद मार लून उसके बाद तो मुझे तुम्हारी मम्मी के आने तक तुम्हारे चूत की चुदाई तो करनी ही है. मैं तुम्हारी चूत को एक ही बार चोद कर नहीं छ्चोड़ूँगा. इसे मैं कम से कम 10 बार और छोड़ूँगा और चोद चोद कर एक दम चौड़ा कर दूँगा. फिर तुम चाहे कितने भी लड़कों से चुदवा लो तुम्हें कोई तकलीफ़ नहीं होगी."

मैने उसकी गांद में अपने लंड को घुसना शुरू कर दिया. अभी तक केवल मेरे लंड का टोपा ही घुसा था की वो चिल्लाने लगी. मैने उसकी चुचियों को मसलना शुरू कर दिया तो वो तोड़ा शांत हो गयी. मैने फिर एक धक्का लगा दिया और मेरा लंड उसकी गांद में 2" तक घुस गया. उसकी गांद से तोड़ा खून निकाल आया लेकिन मैने कोई परवाह नहीं की. उसकी गांद बहुत ही टाइट थी. काई बार की कोशिश के बाद मैने आख़िर उसकी गांद में अपना पूरा लंड घुसा ही दिया. इस दौरान बहुत चिल्लाई और अपना सर इधर उधर मार रही थी. पूरा लंड उसकी गांद में डाले हुए मैं रुक गया और उसकी चुचियों को मसालने लगा. कुच्छ देर बाद जैसे ही वो शांत हुई तो मैने धीरे धीरे धक्का लगाना शुरू कर दिया. वो फिर चिल्लाने लगी लेकिन मैने धक्का लगाना बंद नहीं किया.

लगभग 5 मिनिट तक गांद मरने के बाद उसका दर्द कम हो गया और वो शांत हो गयी. उसे अब मज़ा आने लगा था. मैने लगभग 20 मिनिट तक उसकी गांद मारी और उसकी गांद में ही झाड़ हया. पूरा पानी उसकी गांद में निकालने के बाद मैने अपना लंड उसकी गांद से बाहर निकाला और हट गया. उसकी गांद किसी चूहे के बिल की तरह हो गयी थी. मैने उसके हाथ पैर खोल दिए. वो दर्द की वजह उठ नहीं पा रही थी. मैने उसे उठा कर बिठा दिया और कहा, "मेरा लंड को मूह में ले कर चूसो. अभी मैं तुम्हारा दर्द ख़तम कर देता हूँ." वो समझ गयी की मैं उसे फिर से चोदना चाहता हूँ इस लिए उसने इनकार कर दिया. मैने कहा, "अभी जब तुम्हारी चूत की चुदाई एक बार और कर दूँगा तो तुम्हारा सारा दर्द एक दम ख़तम हो जाएगा." उसने मेरे लंड को चूसना शुरू कर दिया. कुच्छ देर बाद जब मेरा लंड फिर से तन गया तो मैने उसे लिटा दिया और उसे चोदने लगा. इस बार उसे बहुत मज़ा आया. वो अपने गांद के दर्द को भूल गयी. इस बार मैने उसे लगभग 40 मिनिट तक चोदा और उसके बाद मैं उसकी चूत में ही झाड़ गया. इस दौरान वो भी 3 बार झाड़ चुकी थी.

मेम साहब 3 दिन बाद वापस आई. मेम साहब के आने तक मैने उसे 10 बार चोदा और 2 बार उसकी गांद भी मारी. अब वो मेरा लंड अपनी चूत में आराम से लेने लगी थी लेकिन गांद के अंदर लेने में उसे अभी भी कुछ तकलीफ़ होती थी. मैने उस से कहा की काजोल को चोदने वाली बात भूलना मत. मैं उसको भी चोदना चाहता हूँ. इसमें तुमको मेरी मदद करनी पड़ेगी. उसने इनकार कर दिया. मैने कहा, "मैं मेम साहब को तुम्हारी चुदाई के बारे में बता दूँगा." वो बोली, "नहीं प्ल्ज़, ऐसा मत करना. मैं कोशिश करूँगी."

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: रामू ड्राइवर

Unread post by rajaarkey » 30 Dec 2014 04:41

रामू ड्राइवर--5

कुच्छ दिन बाद मेम साहब साहब के साथ 4 दीनो के लिए तौर पर चली गयी. घर पर मैं, मिनी और काजोल ही रह गये. मैने मिनी से कहा, "काजोल को कब तय्यार करोगी." मिनी ने कुछ सोचने के बाद कहा, "तुम रात को मेरी चुदाई करना और मैं ज़ोर से चिल्ला दूँगी. तब काजोल भाग कर मेरे पास आ जाएगी और सबकुच्छ देख लेगी. बाकी सब मैं संभाल लूँगी.
रात को मैने जब मिनी को चोदना शुरू किया तो उसने चिल्लाना शुरू कर दिया.

काजोल दौड़ कर वहाँ आ गयी और बोली, "क्या बात है दीदी." लेकिन उसने जब वो सब नज़ारा देखा तो मुझे धकेल कर हटाने की कोशिश करने लगी और बोली, "रामू तुम यह क्या कर रहे हो. छ्चोड़ दो मेरी दीदी को." मैने कहा, "तुम्हारी दीदी ने ही चोदने को कहा है. तुम उस से पूच्छ लो. अगर वो कहे तो मैं हट जाता हूँ." वो मिनी से बोली, "दीदी तुम ये क्या कर रही हो. क्या तुमने ही रामू से कहा है." मिनी बोली, "हां, मैने ही रामू से चोदने को कहा है. जब तुम और मम्मी पापा के पास गयी थी उस समय से ही मैने यह मज़ा रामू से लेना शुरू किया है. उसके पहले मैं अपने काई बॉय फ्रेंड से भी चुदवा चुकी हूँ. मैने रामू से उन 3 दीनो में काई बार चुडवाया था. छुड़वाने में जो मज़ा आता है वो मैं बयान नहीं कर सकती. रामू का लंड भी बहुत बड़ा है और चुड़वाने में मोटे और लंबे लंड से ही मज़ा आता है.

मम्मी ने भी तो रामू से चुडवाया है जब वो रामू के साथ बाहर गयी थी. तू भी एक बार छुड़वा ले और चुदाई का मज़ा ले कर देख. जब तू भी एक छुड़वा लेगी तो बार बार चुड़वाना चाहेगी." काजोल बोली, "लेकिन तुम तो चिल्ला रही थी और कहती हो की इसमें मज़ा आता है." मिनी ने कहा, "मैं दर्द से थोड़े ही चिल्ला रही हूँ, यह तो जो मज़ा आ रहा है उसके कारण है." वो चुप हो गयी और बोली, "दीदी, अगर तुम्हें कोई एतराज़ ना हो तो मैं यहीं बैठ जाऊं. मैं तुम्हारी चुदाई देखना चाहती हूँ." मिनी बोली, "तू यहीं बैठ जा और देख मेरी चुदाई. अभी थोड़ी ही देर में तू भी यह मज़ा लेना चाहेगी. काजोल बैठ गयी और मिनी की चुदाई देखने लगी. मेरा लंड जब मिनी की चूत से बाहर निकलता था तो काजोल उसे बड़े ध्यान से देख रही थी. उसे भी धीरे धीरे जोश आने लगा. थोड़ी देर बाद काजोल ने भी एक हाथ से अपनी चुचियों को सहलाना शुरू कर दिया और दूसरे हाथ से अनपे चूत को सहलाने लगी.
मैने लगभग 20 मिनिट तक मिनी को चोडा और झाड़ गया.

काजोल मिनी की चुदाई देखती रही. मिनी को छोड़ने के बाद जब मैं हटा तो काजोल की आँखें भी जोश से एक दम गुलाबी हो गयी थी. वो अभी तक अपना चूत सहला रही थी. वो मिनी से बोली, "दीदी, मुझे भी कुछ कुछ होने लगा है. मेरी चूत में भी सुरसुरी सी हो रही है. मैं भी चुड़वाने का मज़ा लेना चाहती हूँ." मिनी ने कहा, "तो इधर आ और रामू का लंड मूह में ले कर चूस. जब रामू का लंड खड़ा हो जाएगा तो यह तुझे भी चोद देगा और तुझे ज़न्नत का मज़ा मिल जाएगा." काजोल मेरे पास आ गयी और मेरे लंड को पकड़ कर सहलाने लगी और मुझसे बोली, "रामू, इतना बड़ा लंड मेरी छ्होटी सी चूत में कैसे घुसेगा." मैने कहा, "मिनी की चूत भी तो बहुत छ्होटी थी. तुम देख ही चुकी हो मैं इसे उसकी चूत में पूरा घुसा कर कैसे चोद रहा था. इसे पूरा अंदर घुसना मेरा काम है. तुम केवल इसे चूस कर तय्यार करो." काजोल ने मेरा लंड मूह में ले लिया और चूसने लगी.

कुच्छ ही देर में मेरा लंड एक दम लोहे की तरह हो गया. मैने काजोल के सारे कपड़े उतार दिए. वो मिनी से भी ज़्यादा खूबसूरत थी. उसकी उमर अभी लगभग 16 साल ही थी. उसकी चूत पर केवल कुछ रोए ही उगे थे. मिनी ने काजोल से लेट जाने को कहा और वो लेट गयी. हम दोनो 69 पोज़िशन में हो गये. मैने काजोल की चूत पर अपनी जीभ को फिरना शुरू कर दिया तो वो सिसकारियाँ भरने लगी तो मैने उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया. वो मेरा लंड चूस रही थी. वो बोली, "दीदी, तुम कितनी प्यारी हो. लंड को चूसने में ही जब इतना मज़ा आ रहा है तो चुड़वाने में कितना आएगा. तुमने अकेले अकेले ही खूब मज़ा लिया. तुमने मुझे पहले क्यों नहीं बताया था की इसमें इतना मज़ा है.

मुझे अब बर्दस्त नहीं हो रहा है. रामू से कहो जल्दी से दल दे अपने लंड को मेरी चूत में भले ही फॅट जाए मेरी चूत." मैं उसकी चूत को थोड़ी देर और चूस्टा रहा. इस बीच काजोल की चूत से एक बार पानी भी आ चुका था और वो एक दम बेकाबू हो रही थी. उसकी चूत अब बिल्कुल गीली हो चुकी थी. मिनी ने काजोल से कहा, "तेरी चूत अभी बहुत छ्होटी है. जब रामू अपना लंड तेरी चूत में डालेगा तो तुझे बहुत दर्द होगा और तू बहुत चिल्लाएगी. मैं तुम्हारे मूह में एक कपड़ा तूस देती हूँ." काजोल बोली, "नहीं दीदी, मैं ऐसे ही मज़ा लेना चाहती हूँ." मिनी काजोल के पास आ कर बैठ गयी और मुझसे बोली, "रामू अब तुम अपना काम शुरू करो." मैने उसकी टाँगों के बीच आ कर उसकी टाँगों को फैला दिया और अपने हाथ से उसकी टाँगों को पकड़े रहा. अब मैने उसकी चूत के बीच अपने सूपदे को रखा और अंदर दबाने लगा. उसकी चूत बहुत ही टाइट थी.