gandi kahani - मैंने लण्ड चूसा

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
User avatar
jasmeet
Silver Member
Posts: 593
Joined: 15 Jun 2016 15:31

gandi kahani - मैंने लण्ड चूसा

Unread post by jasmeet » 16 Feb 2017 04:31

मेरा नाम गुंजन है और मेरी उम्र २७ साल है. मेरी शादी को दो साल हो गए हैं.
यह तब की बात है जब मैं शादी के बाद पहली बार अपनी माँ के घर गई थी. मैं अपनी सहेली सुमन से मिलने उसके घर गई तो वह बहुत खुश हुई.
हम दोनों बातें करने लगे. बातों बातों में उसने मुझसे पूछा कि दर्द हुआ था. मैं तो शरमा गई. मैंने नही सोचा था कि वो ऐसे पूछेगी. सुमन बोली कि शरमाओ नहीं ! बताओ ना !
मैं झिझक कर बोली- हाँ दर्द तो बहुत हुआ और खून भी निकला.
सुमन यह सुनकर उतेजित हो गई. कहने लगी कि क्या खून भी निकला?
मैंने हलके से सर हिला दिया. यह सुनकर सुमन बोली कि क्या तुमने पहली बार किया था?
मैंने कहा – हाँ.
ओहो तो तुम इतनी भोली हो. फ़िर सुमन कहें लगी अच्छा बताओ क्या क्या किया.
मैंने कहा- क्या मतलब?
अब इतनी भी भोली मत बनो. मुंह में डाला क्या?
मैं तो शरमा गयी. सच तो यह है कि मेरे पति ने मुंह में डालने के लिए कहा था, पर मैं डाल नही पाई. मैंने सुमन को सच बता दिया.
वह बोली- अरे तुमने अपने पति को यह मजा नहीं दिया?
मैंने सुमन से कहा की ऐसा कोई कैसे कर सकता है?
वह बोली- बहुत मजा आता है, तुम जरूर करना.
मैंने हिम्मत जुटा कर सुमन से पूछा कि क्या तुम करती हो.
उसने कहा- हाँ वह तो रोज करती है. लंड चूसे बगैर तो मजा ही नहीं आता.
हम बातें कर ही रहे थे कि सुमन के पति राजेश आ गए. सुमन को तो पता नहीं क्या हो गया, वो राजेश से बोली कि देखो इसकी शादी को दस दिन हो गए हैं और ये अभी तक लण्ड चूसना नहीं सीखी. मानती ही नहीं कि कोई ऐसे भी करता है. यह कहकर सुमन उठी और राजेश से बोली कि आओ इसे कुछ सिखा दें !
और उसने राजेश की जिप खोलकर उसका लंड बाहर निकाल लिया. इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाती, सुमन ने लंड मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. मैं तो देखकर हैरान रह गई. राजेश का लंड बहुत मोटा और लंबा हो गया था. सुमन उसे चूसने में व्यस्त थी. राजेश मेरी और देख रहा था और मैं भी उतेजित हो रही थी. मैंने पहली बार यह सब देखा था.
थोडी देर बाद सुमन बोली- देख कर मजा आ रहा है क्या?
मैंने कहा- हाँ !
सुमन ने बिना कुछ बोले मेरी सारी ऊपर उठा दी. उसका हाथ मेरी चूत पर पहुँच गया. मैंने पैंटी नहीं पहनी थी. सुमन की उँगलियों के स्पर्श ने मुझे और उतेजित कर दिया. मैं भूल गई कि राजेश भी वहीं खड़ा है. मेरी साड़ी मेरी जांघों तक उठ गई और मैंने अपनी टाँगे फैला ली. मेरी चूत पर बाल न देख कर राजेश उतेजित होने लगा.
सुमन बोली- अरे ! वह तुम्हारी चूत तो चिकनी है !
मुझे अब सिर्फ़ मजा आ रहा था और बिल्कुल होश नहीं था. कुछ ही देर में हम तीनो नंगे थे और राजेश सुमन को छेड़ रहा था और पता है मैं क्या कर रही थी?
मैं राजेश का लण्ड चूस रही थी !

User avatar
Diljani
Pro Member
Posts: 185
Joined: 04 Mar 2017 20:32

Re: gandi kahani - मैंने लण्ड चूसा

Unread post by Diljani » 06 Mar 2017 15:55

GANDI KAHANI . title hi itna sexy hai tu story tu zulm hogi ...... Thanks Jasmeet ji

User avatar
Diljani
Pro Member
Posts: 185
Joined: 04 Mar 2017 20:32

Re: gandi kahani - मैंने लण्ड चूसा

Unread post by Diljani » 06 Mar 2017 16:00

Translated ..........Google translation mera naam gunjan hai aur meree umr 27 saal hai. meree shaadee ko do saal ho gae hain.
yah tab kee baat hai jab main shaadee ke baad pahalee baar apanee maan ke ghar gaee thee. main apanee sahelee suman se milane usake ghar gaee to vah bahut khush huee.
ham donon baaten karane lage. baaton baaton mein usane mujhase poochha ki dard hua tha. main to sharama gaee. mainne nahee socha tha ki vo aise poochhegee. suman bolee ki sharamao nahin ! batao na !
main jhijhak kar bolee- haan dard to bahut hua aur khoon bhee nikala.
suman yah sunakar utejit ho gaee. kahane lagee ki kya khoon bhee nikala?
mainne halake se sar hila diya. yah sunakar suman bolee ki kya tumane pahalee baar kiya tha?
mainne kaha – haan.
oho to tum itanee bholee ho. fir suman kahen lagee achchha batao kya kya kiya.
mainne kaha- kya matalab?
ab itanee bhee bholee mat bano. munh mein daala kya?
main to sharama gayee. sach to yah hai ki mere pati ne munh mein daalane ke lie kaha tha, par main daal nahee paee. mainne suman ko sach bata diya.
vah bolee- are tumane apane pati ko yah maja nahin diya?
mainne suman se kaha kee aisa koee kaise kar sakata hai?
vah bolee- bahut maja aata hai, tum jaroor karana.
mainne himmat juta kar suman se poochha ki kya tum karatee ho.
usane kaha- haan vah to roj karatee hai. land choose bagair to maja hee nahin aata.
ham baaten kar hee rahe the ki suman ke pati raajesh aa gae. suman ko to pata nahin kya ho gaya, vo raajesh se bolee ki dekho isakee shaadee ko das din ho gae hain aur ye abhee tak land choosana nahin seekhee. maanatee hee nahin ki koee aise bhee karata hai. yah kahakar suman uthee aur raajesh se bolee ki aao ise kuchh sikha den !
aur usane raajesh kee jip kholakar usaka land baahar nikaal liya. isase pahale ki main kuchh samajh paatee, suman ne land munh mein lekar choosana shuroo kar diya. main to dekhakar hairaan rah gaee. raajesh ka land bahut mota aur lamba ho gaya tha. suman use choosane mein vyast thee. raajesh meree aur dekh raha tha aur main bhee utejit ho rahee thee. mainne pahalee baar yah sab dekha tha.
thodee der baad suman bolee- dekh kar maja aa raha hai kya?
mainne kaha- haan !
suman ne bina kuchh bole meree saaree oopar utha dee. usaka haath meree choot par pahunch gaya. mainne paintee nahin pahanee thee. suman kee ungaliyon ke sparsh ne mujhe aur utejit kar diya. main bhool gaee ki raajesh bhee vaheen khada hai. meree sari meree jaanghon tak uth gaee aur mainne apanee taange phaila lee. meree choot par baal na dekh kar raajesh utejit hone laga.
suman bolee- are ! vah tumhaaree choot to chikanee hai !
mujhe ab sirf maja aa raha tha aur bilkul hosh nahin tha. kuchh hee der mein ham teeno nange the aur raajesh suman ko chhed raha tha aur pata hai main kya kar rahee thee?
main raajesh ka land choos rahee thee !