घर का दूध compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:26

Ghar Ka Doodh part--5 Gataank se aage............ maine
jaldi jaldi apna land tel se chikna kiya aur fir uski gaand mei tel
lagane laga. ekdam sankara aur chhotaa chhed tha, wo sach bol rahi thi
ki ab tak uski gaand mei kabhi kisi ne land nahi Daala tha. maine
pahale ek aur fir do ungali daal di. wo dard se sisak uthi. "dhire
babuji, dukhta hai na, daya karo thodi apni is naukarani par, haule
haule ungali karo" main taish mei tha. sidhaa uski gaand ka chhed do
ungaliyon se khol kar botal lagayi aur chaar paanch chammach tel ander
bhar diya. fir do ungali ander baahar karne laga "chup raho baayi,
choot chuswaa kar maza kiya na, ab jab main land se gaand faadunga to
dekhna kitna maza aata hai. teri choot ke ras ne mere land ko mast
kiya hai, ab uski masti teri gaand se hi utregi". Manju sisakte hue
boli par uski aawaaj mei pyaar aur samarpan umad pad raha tha "babuji,
gaand maar lo, maine to khud aapko ye chadhaawe mei de di hai, aapne
mujhe itna sukh diya hai meri choot choos kar, ye ab aapki hai, jaise
chaaho maza kar lo, bas jara dhire maaro mere raajaa" ab tak mera land
bhi pura fanfana gaya tha. uth kar main Manju ki kamar ke dono or
ghutane tek kar baitha aur guda par supaada jama kar ander pel diya.
uske sankare chhed mei jaane mei taklif ho rahi thi isiliye maine
haathon se pakad kar uske chhootad failaaye aur fir kas kar supaada
ander Daal diya. pakk se weh ander gaya aur Manju dabi aawaaj mei "ui
maan, mar gayi re" chikh kar thartharaane lagi. par bechaari aisa nahi
boli ki babuji gaand nahi marwaungi. mujhe rokne ki bhi usne koi
koshish nahi ki. main ruk gaya. aisa lag raha tha jaise supaade ko
kisi ne kas ke muththi mei pakda ho. thodi der baad maine fir pelna
shuru kiya. inch inch kar ke land Manju baayi ki gaand mei dhansta
gaya. jab bahut dukhta to bechaari sisak kar halke se chikh deti aur
main ruk jata. aakhir jab jad tak land ander gaya to maine uske kulhe
pakad liye aur land dhire dhire ander baahar karne laga. uski gaand ka
chhalla mere land ki jad ko kas kar pakda tha, jaise kisine anguthi
pehna di ho. uske kulhe pakad kar maine uski gaand maarna shuru kar
di. pehale dhire dhire maari. gaand mei itna tel tha ki land mast fach
fach karta hua satak raha tha. weh ab lagatar karah rahi thi. jab uska
sisakna thoda kam hua to maine uske badan ko baahon mei bhinch liya
aur us per let kar uske mamme pakad kar dabaate hue kas ke uski gaand
maarne laga. maine us raat bina kisi reham ke Manju ki gaand maari,
aise maari jaise randi ko paise dekar raat bhar ko kharida ho aur fir
use kut kar paisa vasul kar raha hoon. main itna uttejit tha ki agar
weh rokne ki koshish karti to uska munh band karke jabardasti uski
maarta. uski chunchiyan bhi main berahmi se masal raha tha, jaise aam
ka ras nikaalne ko pilpila karte hai. par weh bechaari sab seh rahi
thi. aakhir mei to maine aise dhakke lagaye ki weh dard se bilbilane
lagi. main jhad kar uske badan par last so gaya. kya maza aaya tha.
aisa lagta tha ki abhi abhi kisi ka balaatkaar kiya ho. jab land uski
gaand se nikaal kar use palta to bechaari ki aankhon mei dard se aansu
aa gaye the, bahut dukha tha use par weh boli kuchh nahi kyonki usine
khud mujhe uski gaand maarne ki ijaajat di thi. uska chumma lekar main
baaju mei hua to weh uthkar bathroom chali gayi. usse chala bhi nahi
jaa raha tha, pair failaa kar langda kar chal rahi thi. jab waapas
aayi to maine use baanhon mei le liya. mujhse lipate hue boli "babuji,
maza aaya? meri gaand kaisi thi?" maine us chum kar kaha "Manju baayi,
teri kori kori gaand to laajawaab hai, aaj tak kaise bach gayi? wo bhi
tere jaisi chudail aurat ki gaand ! lagta hai mere hi nasib mei thi"
wo mazak karte hue boli "maine bachaa ke rakhi baabuji aap ke liye.
mujhe maalum tha aap aaoge. ab aap kabhi bhi meri gaand maaro, main
mana nahi karungi. meri choot mei munh lagakar aapne to mujhe apna
gulaam bana liya. bas aise hi meri choot choosa karo mere raajaa
baabu, fir chaahe jitani baar maaro meri gaand, par bahut dukhta hai
baabuji, aapka land hai ki musal aur aap ne aaj gaand ki dhajjiyaan
udaa din, bahut bedardi se maari hai meri gaand! par tumko sau khoon
maanf hai mere raajaa, aakhir mere saiyaan ho aur mere saiyaan ko mere
ye chhootad itne bha gaye, iski bhi badi khushi hai mujhe" uski is ada
par maine us raat fir uski bur choosi aur fir use man bhar ke choda.
isake baad main uski gaand hafte mei do baar maarne laga, usse jyaada
nahi, bechaari ko bahut dukhta tha. main bhi maar maar kar uski kori
Taait gaand Dhili nahi karna chahata tha. uska dard kam karne ko gaand
mei land ghusedne ke baad main use god mei bitha leta aur uski bur ko
ungali se chodkar use maza deta, do tin baar use jhadaakar fir uski
maarta. gaand maarne ke baad khoob uski bur chustaa, use maza dene ko
aur uska dard kam karne ko. waise uski choot ke paani ka chaska mujhe
aisa laga, ki jab mauka mile, main uski choot chusane lagta. ek do
baar to jab weh khaana bana rahi thi, yaa Tebal par baith kar sabji
kaat rahi thi, maine uski saadi uthakar uski bur chus li. usko har
tarah se chodane aur chusane ki mujhe ab aisi aadat lag gayi thi ki
main sochta tha ki Manju nahi hoti to main kya karta. yahi sab sochte
main pada tha. Manju ne apne mammon par hue jakhmon par tel lagate hue
mujhe fir ulhana diyaa "kyon chabaate ho meri choonchi babuji aise
berahami se. pichhale do tin din se jyaada hi kaatne lage ho mujhe"
maine uski bur ko sehlaate hue keha "baayi, ab tum mujhe itni achchhi
lagti ho ki tere badan ka saara ras main pina chahata hun. teri choot
ka amarit to bas tin chaar chammach nikalta hai, mera pet nahi bharta.
teri chunchiyaan itni sundar hai, lagta hai inme Doodh hota to pet
bhar pi leta. ab Doodh nahi nikalta to josh mei kaatne ka man hota
hai" weh hanste hue boli "ab is umar mei kehan mujhe Doodh Chhootega
babuji. Doodh Chhootta hai naujawaan Chhokariyon ko jo abhi abhi maan
bani hai." fir weh chup ho gayi aur kapde pahanne lagi. kuchh soch
rahi thi. achaanak mujhse puchh baithi "babuji, aap ko sach mei aurat
kaa Doodh pina hai ya aise hi muft batiyaa rahe ho" maine use bharosa
dilaaya ki agar uske jaise rasili matwaali aurat ho to jarur uska
Doodh pine mei mujhe maza aayega. "koi intjaam karti hun babuji. par
mujhe khush rakha karo. aur meri chunchiyon ko daant se kaatna band
kar do" usane hukum diyaa. use khush rakhne ko ab maine roj uski bur
pujaa shuru kar di. jab mauka milta, uski choot chaatane mei lag jata.
maine ek VCR bhi kharid liya aur use kuchh blue film dikhain. Tape
lagakar main use sofe mei bitha deta aur khud uski saadi Uper kar ke
uski bur chusane mei lag jata. ek ghante ki kaiset khatam hote hote
weh masti se paagal hone ko aa jaati. mera sir pakadkar apni choot par
daba kar mere sir ko jaanghon mei pakadkar weh film dekhate hue aisi
jhadti ki ekaadh ghante kisi kaam ki nahi rehti. raat ko kabhi kabhi
main use apne munh par bitha leta. uchhal uchhal kar wo aise mere munh
aur jibh ko chodti ki jaise ghode ki sawaari kar rahi ho. kabhi main
usse sixty nine kar leta aur uski bur chus kar apne land ki malaai use
khilaata. Manju baayi mujh par behad khush thi aur main raah dekh raha
tha ki kab weh mujh par meharbaan hoti hai. ek itwaar ko weh subah hi
gaayab ho gayi. Subah se dopahar ho gayi. Phir dopahar se sham phir
sham se raat per Manju baai ka kuchh ata pata nahi tha ki wo kahan
gayi hai or kyon gayi hai. Main leta leta uski intzaar karta karta so
gaya. Raat ki nind ke baad main jab subah utha to Manju waapas aa gayi
thi. Chaay lekar khadi thi. Maine uski kamar mei haath daal kar paas
khincha aur jor se chum liya. "kyon Manju baayi, kal se kahan gaayab
thi. Mujhe kal subah se chammach bhar shahad bhi nahi mila. kahan
gaayab ho gayi thi?" weh mujhse chhut kar mujhe aankh maarte hue dhire
se boli, "aap hi ke kaam se gayi thi babuji. Jara dekho, kya maal
laayi hun tumhaare liye!" maine dekha to darwaaje mei ek jawaan ladki
khadi thi. Thodi sharma jarur rahi thi par tak lagakar meri aur Manju
ke beech ki chumma chaati dekh rahi thi. Maine Manju ko chhoda aur
usse puchha ki ye kaun hai. Waise Manju aur us ladki ki surat itni
milti thi ki main samajh gaya ki ye "kanya" kaun hai. Manju ne bhi
pushti ki "babuji, ye Geeta hai, meri beti. Bees saal ki hai, do saal
pahale shaadi ki hai iski. ab ek bachcha bhi hai" main Geeta ko bade
interest se ghoor raha tha. Manju baayi use kyon laayi thi yeh bhi
mujhe thoda thoda samajh mei aa raha tha. Geeta Manju jaisi hi
saanwali thi par usse jyaada khoobsurat thi. Shayad uski jawaani ki
wajah se aisi lag rahi thi. Manju se thodi naati thi aur uska badan
bhi Manju se jyaada bharaa puraa tha. Ekdam maansal aur gol matol,
shaayad maan banne ki wajah se hoga. kramashah......

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:27

घर का दूध पार्ट--6

गाटांक से आगे............ उस लड़की का कोई अंग एकदम मन मे भरता था तो वह
था उसकी विशाल छाती. उसका आँचल ढला हुआ था; शायद उसने जान बूझकर भी
गिराया हो. उसकी चोली इतनी तंग थी कि छातियाँ उसमे से बाहर आने को कर रही
थी. चोली के पतले कपड़े मे से उसके नारियल जैसे मम्मे और उनके सिरे पर
जामुन जैसे निप्पालों का आकार दिख रहा था. निप्पालों पर उसकी चोली थोड़ी
गीली भी थी. मेरा लंड खड़ा होने लगा. मुझे थोड़ा अटपटा लगा पर मैं क्या
करता, उस छ्छोकरी की मस्त जवानी थी ही ऐसी. मंजू आगे बोली. "उसे मैने सब
बता दिया है बाबूजी, इसीलिए आराम से रहो, कुच्छ च्छुपाने की ज़रूरत नही
है" मेरा लंड अब तक तन्ना कर पूरा खड़ा हो गया था. मंजू हँसने लगी "मेरी
बिटिया भा गयी बाबूजी आपको. कहो तो इसे भी यहीं रख लूँ. आप की सेवा
करेगी. हां इसकी तनखुवा अलग होगी" उस मतवाली छ्हॉकरी के लिए मैं कुच्छ भी
करने को तैयार था. "बिल्कुल रख लो बाई, और तनखुवा की चिंता मत करो" "असल
बात तो आप समझे ही नही बाबूजी, गीता पिच्छले साल ही माँ बनी है. बहुत दूध
आता है उसको, बड़ी तकलीफ़ भी होती है बेचारी को. बच्चा एक साल को हो गया,
अब दूध नही पिता, पर इसका दूध बंद नही होता. चून्चि सूज कर दुखने लगती
है. जब आप मेरा दूध पीने की बात बोले तो मुझे ख़याल आया, क्यों ना गीता
को गाँव से बुला लाउ, उसकी भी तकलीफ़ दूर हो जाएगी और आपके मन की बात भी
हो जाएगी? बोलो, जमता है ना बाबूजी?" मैने गीता की चून्चि घुरते हुए कहा
"पर इसका मर्द और बच्चा?" "उसकी फिकर आप मत करो, इसका आदमी काम से च्छेः
महीने को शहर गया है, इसीलिए मैने इसे मायके बुला लिया. इसकी सास अपने
पोते के बिना नही रह सकती, बहुत लगाव है, इसीलिए उसे वहीं छ्चोड़ दिया
है, ये अकेली है इधर" याने मेरी लाइन एकदम क्लियर थी. मैं गीता का जोबन
देखने लगा. लगता था कि पकड़ कर खा जाउ, चढ़ कर मसल डालूं उसके मतवाले रूप
को. गीता भी मस्त हो गयी थी, मेरे खड़े लंड को देख कर. लंड देखते हुए
धीरे धीरे खड़े खड़े अपनी जांघें रगड़ रही थी. "सिर्फ़ दूध पीने की बात
हुई है बाबूजी, ये सम्झ लो." मंजू ने मुझे उलाहना दिया. फिर गीता को मीठी
फटकार लगाई "और सुन री छिनाल लड़की. मेरी इजाज़त के बिना इस लंड को हाथ
भी नही लगाना, ये सिर्फ़ तेरी अम्मा का है" "अम्मा , ये क्या? मेरे को भी
मज़ा करने दे ना & कितना मतवाला लंड है, तू बता रही थी तो भरोसा नही था
मेरा पर ये तो और खूबसूरत निकला" गीता मचल कर बोली. उसकी नज़रें मेरे लंड
पर गढ़ी हुई थीं. बड़ी चालू चीज़ थी, ज़रा भी नही शर्मा रही थी, बल्कि
चुदने को मरी जा रही थी. "बदमाश कहीं की, तू सुधरेगी नही, मैने कहा ना
फिर देखेंगे. अभी चोली निकाल और फटाफट बाबूजी को दूध पीला." मंजू ने अपनी
बेटी को डाँटते हुए कहा. मंजू अब मेरे लंड को पाजामे के बाहर निकाल कर
प्यार से मुठिया रही थी. फिर उसने झुक कर उसे चूसना शुरू कर दिया. उधर
गीता ने अपना ब्लओज़ निकाल दिया. उसकी पपीते जैसे मोटी मोटी चूंचियाँ अब
नंगी थीं. वह एकदम फूली फूली थी जैसे अंदर कुच्छ भरा हो. वजन से वो लटक
रही थी. एक स्तन को हाथ मे उठाकर सहारा देते हुए गीता बोली "अम्मा देख
ना, कैसे भर गये है मम्मे मेरे, आज सुबह से खाली नही हुए, बहुत दुखाते
है" "अरे तो टाइम क्यों बर्बाद कर रही है. आ बैठ बाबूजी के पास और जल्दी
दूध पीला उनको. भूखे होंगे बेचारे" मंजू ने उसका हाथ पकड़ कर खींचा और
पलंग पर मेरे पास बिठा दिया. मैं सिरहाने से टिक कर बैठा था. गीता मेरे
पास सरकी, उसकी काली आँखों मे मस्ती झलक रही थी. उसके मम्मे मेरे सामने
थे. निप्पालों के चारों ओर तश्तरी जैसे बड़े गोले थे. पास से वी मोटे
मोटे लटके स्तन और भी ज़यादा रसीले लग रहे थे. अब मुझसे नही रहा गया और
झुक कर मैने एक काला जामुन मुँह मे ले लिया और चूसने लगा. मीठा कुनकुना
दूध मेरे मुँह मे भर गया. मेरी उस अवस्था मे मुझे वह अमृत जैसा लग रहा
था. मैने दोनो हाथों मे उसकी चून्चि पकड़ी और चूसने लगा जैसे की बड़े
नारियल का पानी पी रहा हूँ. लगता था मैं फिर छ्होटा हो गया हूँ. आँखें
बंद करके मैं स्तनपान करने लगा. उधर मंजू ने मेरा लंड मुँह मे ले लिया.
अपनी कमर उछाल कर मैं उसका मुँह चोदने की कोशिश करने लगा. वह महा उस्ताद
थी, बिना मुझे झड़ाए प्यार से मेरा लंड चुसती रही. अब तक गीता भी गरमा
गयी थी. मेरा सिर उसने कस कर अपनी चूचियो पर भींच लिया जिससे मैं छ्छूट
ना पाउ और उसका निपल मुँह से ना निकालूं. उसे क्या मालूम था की उसकी उस
मतवाली चून्चि को छ्चोड़ दूँ ऐसा मूरख मैं नही था. उसका मम्मा दबा दबा कर
उसे दुहाते हुए मैं दूध पीने लगा. अब वह प्यार से मेरे बाल चूम रही थी.
सुख की सिसकारियाँ भरती हुई बोली "अम्मा, बाबूजी की क्या जवानी है, देख
क्या मस्त चूस रहे है मेरी चून्चि, एकदम भूखे बच्चे जैसे पी रहे है. और
उनका यह लंड तो देख अम्मा, कितनी ज़ोर से खड़ा है.

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:27

अम्मा, मुझे भी चूसने
दे ना!" मंजू ने मेरा लंड मुँह से निकाल कर कहा "कल से, आज नही, वो भी
अगर बाबूजी हां कहें तो! पता नही तेरा दूध उन्हें पसंद आया है कि नही"
वैसे गीता के दूध के बारे मे मैं क्या सोचता हूँ, इसका पता उसे मेरे
उच्छालते लंड से ही लग गया होगा. आख़िर गीता का स्तन खाली हो गया. उसे
दबा दबा कर मैने पूरा दूध निचोड़ लिया. फिर भी उसके उस मोटे जामुन से
निपल को मुँह से निकालने का मन नही हो रहा था. पर मैने देखा की उसके
दूसरे निपल से अब दूध टपकने लगा था. शायद ज़्यादा भर गया था. मैने उसे
मुँह मे लिया और उसकी दूसरी चून्चि दूह कर पीने लगा. गीता खुशी से चाहक
उठी. "अम्मा, ये तो दूसरा मम्मा भी खाली कर रहे है. मुझे लगा था कि एक से
इनका मन भर जाएगा." "तो पीने दे ना पगली, उन्हें भूख लगी होगी. अच्च्छा
भी लगा होगा तेरा दूध. अब बकबक मत कर, मुझे बाबूजी का लॉडा चूसने दे ठीक
से, बस मलाई फेकने ही वाला है अब" कह कर मंजू फिर शुरू हो गयी अब दूसरी
चून्चि भी मैने खाली कर दी तब मंजू ने मेरा लंड जड़ तक निगल कर अपने गले
मे ले लिया और ऐसे चूसा की मैं झाड़ गया. मुझे दूध पिलवा कर उस बिल्ली ने
मेरी मलाई निकाल ली थी. मैं लस्त होकर पिछे लुढ़क गया पर गीता अब भी मेरा
सिर अपनी चूची पर भींच कर अपनी चून्चि मेरे मुँह मे ठूँसती हुई वैसे ही
बैठी थी. मैने किसी तरहा से उसे अलग किया. गीता मेरी ओर देख कर बोली
"बाबूजी, पसंद आया मेरा दूध?" वह ज़रा टेंशन मे थी कि मैं क्या कहता हूँ.
मैने खींच कर उसका गाल चूम लिया. "बिल्कुल अमरित था गीता रानी, रोज
पिलाओगी ना?" वह थोड़ी शर्मा गयी पर मुझे आँख मार कर हँसने लगी. मैने
मंजू से पुचछा "कितना दूध निकलता है इसके थनो से रोज बाई? आज तो मेरा ही
पेट भर गया, इसका बच्चा कैसे पीता था इतना दूध" मंजू बोली "अभी ज़्यादा
था बाबूजी, कल से बेचारी की चून्चि खाली नही की थी ना. नही तो करीब इसका
आधा ही निकलता है एक बार मे. वैसे हर चार घंटे मे पीला सकती है ये." मैने
हिसाब लगाया. मैने कम से कम पाव डेढ़ पाव दूध ज़रूर पिया था. अगर दिन मे
चार बार यह आधा पाव दूध भी दे तो आधा पौना लीटर दूध होता था दिन का. दिन
मे दो तीन पाव देने वाली उस मस्त दो पैर की गाय को देख कर मैं बहक गया.
मंजू को पुच्छा "बोलो बाई, कितनी तनखुवा लेगी तेरी बेटी?" वो गीता की ओर
देख कर बोली "पाँच सौ रुपये दे देना बाबूजी. आप हज़ार वैसे ही देते हो,
आप से ज़्यादा नही लूँगी." मैने कहा कि हज़ार रुपये दूँगा गीता को. गीता
तुनक कर बोली "पर काहे को बाबूजी, पाँच सौ बहुत है, और मैं भी तो आपके इस
लाख रुपये के लंड से चुदवंगी रोज . हज़ार ज़्यादा है, मैं कोई कमाने
थोड़े ही आई हूँ आपके पास." मैने गीता की चून्चि प्यार से दबा कर कहा
"मेरी रानी, ज़्यादा नही दे रहा हूँ, पाँच सौ तुम्हारे काम के, और पाँच
सौ दूध के. अब कम से कम मेरे लिए तो बाहर से दूध खरीदने की ज़रूरत नही
है. वैसे तुम्हारा ये दूध तो हज़ारों रुपये मे भी सस्ता है" गीता शर्मा
गयी पर मंजू हँसने लगी "बिल्कुल ठीक है बाबूजी. बीस रुपये लीटर दूध मिलता
है, उस हिसाब से महीने भर मे बीस पचीस लीटर दूध तो मिल ही जाएगा आपको"
गीता ने एक दो बार और ज़िद की पर उस रात मंजू ने मुझे अपनी बेटी नही
चोदने दी. बस उस रात को एक बार और गीता का दूध मुझे पिलवाया. दूध पिलाते
पिलाते गीता बार बार चुदाने की ज़िद कर रही थी पर मंजू आडी रही. "गीता
बेटी, आज रात और सबर कर ले. कल शनिवार है, बाबूजी की छुट्टी है. कल सुबह
दूध पिलाने आएगी ना तू, उसके बाद कर लेना मज़ा" गीता के जाने के बाद मैने
मंजू को ऐसा चोदा की वह एकदम खुश हो गयी. "आज तो बाबूजी, बहुत मस्त चोद
रहे हो हचक हचक कर. लगता है मेरी बेटी बहुत पसंद आई है, उसी की याद आ रही
है, है ना?" क्रमशः...........