घर का दूध compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:28

Ghar Ka Doodh part--6 Gataank se
aage............ us ladki ka koi ang ekdam man mei bharta tha to weh
tha uski vishaal Chhaati. uska aanchal dhalaa hua tha; shaayad usne
jaan bujhkar bhi giraya ho. uski choli itni tang thi ki Chaatiyaan
usme se baahar aane ko kar rahi thi. Choli ke patle kapde mei se uske
naariyal jaise mamme aur unke sire par jaamun jaise nippalon ka aakaar
dikh raha tha. Nippalon par uski choli thodi gili bhi thi. mera land
khada hone laga. mujhe thoda atpata laga par main kya karta, us
chhokri ki mast jawaani thi hi aisi. Manju aage boli. "use maine sab
bata diya hai babuji, isiliye aaraam se raho, kuchh chhupaane ki
jarurat nahi hai" mera land ab tak tanna kar pura khada ho gaya tha.
Manju hansne lagi "meri bitiyaa bhaa gayi babuji aapko. kaho to ise
bhi yahin rakh loon. aap ki sewa karegi. haan iski tankhuwa alag hogi"
us matwaali chhokari ke liye main kuchh bhi karne ko taiyaar tha.
"bilkul rakh lo baayi, aur tankhuwa ki chinta mat karo" "asal baat to
aap samjhe hi nahi babuji, Geeta pichhle saal hi maan bani hai. bahut
Doodh aata hai usko, badi taklif bhi hoti hai bechaari ko. Bachcha ek
saal ko ho gaya, ab Doodh nahi pita, par iska Doodh band nahi hota.
choonchi sooj kar dukhne lagati hai. jab aap mera Doodh pine ki baat
bole to mujhe khayaal aaya, kyon na Geeta ko gaanv se bula laaun, uski
bhi taklif dur ho jaayegi aur aapke man ki baat bhi ho jaayegi? bolo,
jamta hai na babuji?" maine Geeta ki choonchi ghurate hue kaha "par
iska mard aur bachcha?" "uski fikar aap mat karo, iska aadmi kaam se
chheh mahine ko shahar gaya hai, isiliye maine ise maayke bula liya.
iski saas apne pote ke bina nahi reh sakti, bahut lagaav hai, isiliye
use wahin Chhod diya hai, ye akeli hai idhar" yaane meri line ekdam
kliyar thi. main Geeta ka joban dekhane laga. lagta tha ki pakad kar
khaa jaaun, chadh kar masal daalun uske matwaale roop ko. Geeta bhi
mast ho gayi thi, mere khade land ko dekh kar. Land dekhate hue dhire
dhire khade khade apni jaanghen ragad rahi thi. "sirf Doodh pine ki
baat hui hai babuji, ye samjh lo." Manju ne mujhe ulahana diya. fir
Geeta ko mithi fatkaar lagayi "aur sun ri chhinaal ladki. meri ijaajat
ke bina is land ko haath bhi nahi lagana, ye sirf teri amma kaa hai"
"ammaa , ye kya? mere ko bhi maza karne de na & kitna matwaala land
hai, tu bata rahi thi to bharosa nahi tha mera par ye to aur
khoobasurat nikla" Geeta machal kar boli. uski najaren mere land par
gadi hui thim. badi chaalu chiz thi, jara bhi nahi sharma rahi thi,
balki chudaane ko mari jaa rahi thi. "badmaash kahin ki, tu sudaregi
nahi, maine keha na fir dekhenge. abhi choli nikaal aur fatafat babuji
ko Doodh pilaa." Manju ne apni beti ko Daantate hue keha. Manju ab
mere land ko pajaame ke baahar nikaal kar pyaar se muthiyaa rahi thi.
fir usne jhuk kar use chusna shuru kar diya. udhar Geeta ne apna
blaauz nikaal diya. uski papite jaise moti moti chunchiyaan ab nangi
thim. Weh ekdam fuli fuli thi jaise ander kuchh bhara ho. wajan se we
latak rahi thin. ek stan ko haath mei uthakar sahaara dete hue Geeta
boli "ammaa dekh na, kaise bhar gaye hai mamme mere, aaj subah se
khaali nahi hue, bahut dukhate hai" "are to Time kyon barbaad kar rahi
hai. aa baith babuji ke paas aur jaldi Doodh pila unko. bhukhe honge
bechaare" Manju ne uska haath pakad kar khincha aur palang par mere
paas bitha diya. main sirahane se Tik kar baitha tha. Geeta mere paas
saraki, uski kaali aankhon mei masti jhalak rahi thi. uske mamme mere
saamne the. Nippalon ke chaaron or tashtari jaise bade gole the. paas
se we mote mote latke stan aur bhi jayada rasile lag rahe the. Ab
mujhse nahi raha gaya aur jhuk kar maine ek kaala jaamun munh mei le
liya aur chusne laga. Mitha kunkuna Doodh mere munh mei bhar gaya.
Meri us awastha mei mujhe weh amrut jaisa lag raha tha. maine dono
haathon mei uski choonchi pakdi aur chusane laga jaise ki bade
naariyal ka paani pi raha hoon. lagta tha main fir Chhota ho gaya hun.
Aankhen band karke main stanpaan karne laga. Udhar Manju ne mera land
munh mei le liya. Apni kamar uchaal kar main uska munh chodne ki
koshish karne laga. weh maha ustaad thi, bina mujhe jhadaaye pyaar se
mera land chusati rahi. ab tak Geeta bhi garma gayi thi. mera sir usne
kas kar apni Chhaati par bhinch liya jisse main chhoot na paaun aur
uska nipple munh se na nikaalun. use kya maalum tha ki uski us
matwaali choonchi ko Chhod doon aisaa murakh main nahi tha. uska
mammaa daba daba kar use duhate hue main Doodh pine laga. ab weh pyaar
se mere baal chum rahi thi. sukh ki sisakaariyaan bharati hui boli
"ammaa, babuji ki kya jawaani hai, dekh kya mast chus rahe hai meri
choonchi, ekdam bhukhe bachche jaise pi rahe hai. aur unka yeh land to
dekh ammaa, kitani jor se khada hai. ammaa, mujhe bhi chusne de naa!"
Manju ne mera land munh se nikaal kar kaha "kal se, aaj nahi, wo bhi
agar babuji haan kahen to! pata nahi tera Doodh unhein pasand aayaa
hai ki nahi" waise Geeta ke Doodh ke baare mei main kya sochta hun,
iska pata use mere uchhalate land se hi lag gaya hoga. aakhir Geeta ka
stan khaali ho gaya. use daba daba kar maine pura Doodh nichod liya.
fir bhi uske us mote jaamun se nipple ko munh se nikaalne ka man nahi
ho raha tha. par maine dekha ki uske dusre nipple se ab Doodh Tapakne
laga tha. shaayad jyaada bhar gaya tha. maine use munh mei liya aur
uski dusari choonchi duh kar pine laga. Geeta khushi se chahak uthi.
"ammaa, ye to dusra mammaa bhi khaali kar rahe hai. mujhe laga tha ki
ek se inka man bhar jaayega." "to pine de na pagali, unhein bhukh lagi
hogi. achchha bhi laga hoga tera Doodh. ab bakbak mat kar, mujhe
babuji kaa lauua chusne de Thik se, bas malaai fekane hi waala hai ab"
keh kar Manju fir shuru ho gayi ab dusri choonchi bhi maine khaali kar
di tab Manju ne mera land jad tak nigal kar apne gale mei le liya aur
aise chusa ki main jhad gaya. mujhe Doodh pilwaa kar us billi ne meri
malaai nikaal li thi. main last hokar pichhe ludhak gaya par Geeta ab
bhi mera sir apni Chhaati par bhinch kar apni choonchi mere munh mei
thunsati hui waise hi baithi thi. maine kisi tarha se use alag kiya.
Geeta meri or dekh kar boli "babuji, pasand aaya mera Doodh?" weh jara
Tenshan mei thi ki main kya kehta hun. maine khinch kar uska gaal chum
liya. "bilkul amarit tha Geeta raani, roj pilaaogi naa?" weh thodi
sharma gayi par mujhe aankh maar kar hansne lagi. maine Manju se
puchha "kitna Doodh nikalta hai iske thano se roj baayi? aaj to mera
hi pet bhar gaya, iska bachcha kaise pita tha itna Doodh" Manju boli
"abhi jyaada tha babuji, kal se bechaari ki choonchi khaali nahi ki
thi naa. nahi to karib iska aadhaa hi nikalta hai ek baar mei. waise
har chaar ghante mei pila sakti hai ye." maine hisaab lagaya. maine
kam se kam paav Dedh paav Doodh jarur piya tha. agar din mei chaar
baar yeh aadhaa paav Doodh bhi de to aadhaa paunaa litar Doodh hota
tha din kaa. din mei do tin paav dene waali us mast do pair ki gaay ko
dekh kar main bahak gaya. din mei do tin paav dene waali us mast do
pair ki gaay ko dekh kar main bahak gaya. Manju ko puchhaa "bolo
baayi, kitni tankhuwa legi teri beTi?" wo Geeta ki or dekh kar boli
"paanch sau rupaye de dena babuji. aap hajaar waise hi dete ho, aap se
jyaada nahi lungi." maine keha ki hajaar rupaye doonga Geeta ko. Geeta
tunak kar boli "par kaahe ko babuji, paanch sau bahut hai, aur main
bhi to aapke is laakh rupaye ke land se chudwaaungi roj . hajaar
jyaada hai, main koi kamaane thode hi aai hun aapke paas." maine Geeta
ki choonchi pyaar se daba kar kaha "meri raani, jyaada nahi de raha
hun, paanch sau tumhaare kaam ke, aur paanch sau Doodh ke. ab kam se
kam mere liye to baahar se Doodh kharidane ki jarurat nahi hai. waise
tumhaara ye Doodh to hajaaron rupaye mei bhi sasta hai" Geeta sharma
gayi par Manju hansne lagi "bilkul Thik hai babuji. bees rupaye litar
Doodh milta hai, us hisaab se mahine bhar mei bis pachis litar Doodh
to mil hi jaayega aapko" Geeta ne ek do baar aur jid ki par us raat
Manju ne mujhe apni beti nahi chodne di. bas us raat ko ek baar aur
Geeta ka Doodh mujhe pilwaya. Doodh pilaate pilaate Geeta baar baar
chudaane ki jid kar rahi thi par Manju adi rahi. "Geeta beti, aaj raat
aur sabar kar le. kal shaniwaar hai, babuji ki Chhutti hai. kal subah
Doodh pilaane aayegi naa tu, uske baad kar lena maza" Geeta ke jaane
ke baad maine Manju ko aisa choda ki weh ekdam khush ho gayi. "aaj to
babuji, bahut mast chod rahe ho hachak hachak kar. lagta hai meri beti
bahut pasand aayi hai, usi ki yaad aa rahi hai, hai naa?"
kramashah...........

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:29

घर का दूध पार्ट--7 गतान्क से आगे............

सुबह जब मंजू चाय लेकर आई तो साथ मे गीता भी थी. दोनो सुबह सुबह नहा कर

आई थी, बाल अब भी गीले थे. मंजू तो मादरजात नंगी थी जैसी उसकी आदत थी,

गीता ने भी बस एक गीली साड़ी ओढ़ रखी थी जिसमे से उसका जोबन झलक रहा था.

"ये क्या, सुबह सुबह पूजा उजा करने निकली हो क्या दोनो?" मैने मज़ाक

किया. गीता बोली "हां बाबूजी, आज आपके लंड की पूजा करूँगी, देखो फूल भी

लाई हूँ" सच मे वह एक डलिया मे फूल और पूजा का समान लिए थी. बड़े प्यार

से उसने मेरे लंड पर एक छ्होटा टीका लगाया और उसे एक मोगरे की छ्होटी

माला पहना दी. उपेर से मेरे लंड पर कुच्छ फूल डाले और फिर उसे पकड़कर

अपने हाथों मे लेकर उस पर उन मुलायम फूलों को रगड़ने लगी. दबाते दबाते

झुक कर अचानक उसने मेरे लंड को चूम लिया. मैं कुच्छ कहता इसके पहले मंजू

हँसती हुई मेरे पास आकर बैठ गयी. मेरा ज़ोर का चुंबन लेकर अपनी चून्चि

मेरी छाति पर रगड़ते हुए बोली. "अरे ये तो बावरी है, कल से आपके गोरे

मतवाले लंड को देख कर पागल हो गयी है. बाबूजी, जल्दी से चाय पियो. मुझे

भी आप से पूजा करवानी है अपनी चूत की. आप मेरी बुर की पूजा करो, गीता

बेटी आपके लंड की पूजा करेगी अपने मुँह से." मेरा लंड कस कर खड़ा था. मैं

चाय की चुस्की लेने लगा तो देखा बिना दूध की चाय थी. मंजू को बोला की दूध

नही है तो वह बदमाश औरत दिखावे के लिए झूठ मूठ अपना माथा थोक कर बोली "

हाय, मैं भूल ही गयी, मैने दूध वाले भैया को कल ही बता दिया कि अब दूध की

ज़रूरत नही है हमारे बाबूजी को. अब क्या करे, चाय के बारे मे तो मैने

सोचा ही नही. वैसे फिकर की बात नही है बाबूजी, अब तो "घर का दूध" है, ये

दो पैरों वाली दो थनो की खूबसूरत गैया है ना यहाँ! ए गीता, इधर आ जल्दी"

गीता से मेरा लंड छ्चोड़ा नही जा रहा था. बड़ी मुश्किल से उठी. पर जब

मंजू ने कहा "चल अब तक वैसे ही साड़ी लपेटे बैठी है, चल नंगी हो और अपना

दूध डाल जल्दी, बाबूजी की चाय में" तो तपाक से उठ कर अपनी साड़ी उतार कर

वह मेरे पास आ गयी. उसके देसी जोबन को मैं देखता रह गया. उसका बदन एकदम

मांसल और गोल मटोल था, चूंचियाँ तो बड़ी थी ही, चूतड़ भी अच्छे ख़ासे

बड़े और चौड़े थे. गर्भावस्था मे चढ़ा माँस अब तक उसके शरीर पर था.

जांघें ये मोटी मोटी और पाव रोटी जैसी फूली बुर, पूरी बालों से भरी हुई.

मैं तो झदाने को आ गया. "जल्दी दूध डाल चाय मे" मंजू ने उसे खींच कर कहा.

गीता ने अपनी चून्चि पकड़ कर चाय के कप के उपेर लाई और दबा कर उसमे से

दूध निकालने लगी. दूध की तेज पतली धार चाय मे गिरने लगी. चाय सफेद होने

तक वह अपनी चून्चि दूहति रही. फिर जाकर मेरी कमर के पास बैठ गयी और मेरे

लंड को चाटने लगी. मैने किसी तरहा चाय ख़तम की. स्वाद अलग था पर मेरी उस

अवस्था मे एकदम मस्त लग रहा था. मेरा सिर घूमने लगा. एक जवान लड़की के

दूध की चाय पी रहा हूँ और वही लड़की मेरा लंड चूस रही है और उसकी माँ इस

इंतजार मे बैठी है की कब मेरी चाय ख़तम हो और कब वह अपनी चूत मुझसे

चुस्वाए. मैने चाय ख़तम करके मंजू को बाँहों मे खींचा और उसके मम्मे

मसल्ते हुए उसका मुँह चूसने लगा. मेरी हालत देख कर मंजू ने कुच्छ देर

मुझे चूमने दिया और फिर मुझे लिटा कर मेरे चेहरे पर चढ़ बैठी और अपनी चूत

मेरे मुँह मे दे दी. "बाबूजी, अब नखरा ना करो, ऐसे नही छ्चोड़ूँगी आपको,

बुर का रस ज़रूर पिलाउन्गि, चलो जीभ निकालो, आज उसीको चोदून्गि" उधर मंजू

ने मुझे अपनी चूत का रस पिलाया और उधर उसकी बेटी ने मेरे लंड की मलाई

निकाल ली. गीता के मुँह मे मैं ऐसा झाड़ा कि लगता था बेहोश हो जाउन्गा.

गीता ने मेरा पूरा विर्य निगला और फिर मुस्कराते हुए आकर माँ के पास बैठ

गयी. मंजू अब भी मुझ पर चढ़ि मेरे होंठों पर अपनी बुर रगड़ रही थी.

"क्यों बेटी, मिला प्रसाद, हो गयी तेरे माँ की?"

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:29

"अम्मा, एकदम मलाई

निकलती है बाबूजी के लंड से, क्या गाढ़ी है, तार तार टूटते है. तू तो तीन

महीने से खा रही है तभी तेरी ऐसी मस्त तबीयत हो गयी है अम्मा. अब इसके

बाद आधी मैं लूँगी हां!" गीता मंजू से लिपटकर बोली. एक बार और मेरे मुँह

मे झाड़ कर सामने से सी सी करती मंजू उठी. "चल गीता, अब बाबूजी को दूध

पीला दे. फिर आगे का काम करेंगे" गीता मेरे उपेर झुकी और मुझे लिटाए

लिटाए ही अपना दूध पिलाने लगी. रात के आराम के बाद फिर उसके मम्मे भर गये

थे और उन्हें खाली करने मे मुझे दस मिनिट लग गये. तब तक मंजू बाई की

जादुई जीभ ने अपना कमाल दिखाया और मेरे लंड को फिर से तन्ना दिया. गीता

के दूध मे ऐसा जादू था की मेरा ऐसा खड़ा हुआ जैसे झाड़ा ही ना हो. उधर

गीता मुझसे लिपट कर सहसा बोली "बाबूजी, आप को बाबूजी कहना अच्च्छा नही

लगता, आपको भैया कहूँ? आप बस मेरे से तीन चार साल तो बड़े हो" मंजू मेरी

ओर देख रही थी. मैने गीता का गहरा चुंबन लेकर कहा "बिल्कुल कहो गीता

रानी, और मैं तुझे गीता बेहन या बहना कहूँगा. पर ये तो बता तेरी अम्मा को

क्या कहूँ? इस हिसाब से तो उसे अम्मा कहना चाहिए" मंजू मेरा लंड मुँह से

निकाल कर मेरे पास आ कर बैठ गयी. उसकी आँखों मे गहरी वासना थी. "हां,

मुझे अम्मा कहो बाबूजी, मुझे बहुत अच्च्छा लगेगा. आप हो भी तो मेरे बेटे

जैसी उमर के हो, और मैं आपको बेटा कहूँगी. समझूंगी मेरा बेटा मुझे चोद

रहा है. आप कुच्छ भी कहो बाबूजी, बेटे या भाई से चुदवाने मे जो मज़ा है

वो ओर कहीं नही" मुझे भी मज़ा आ रहा था. कल्पना कर रहा था कि सच मे मंजू

मेरी माँ है और गीता बहन. उन नंगी चुदैलो के बारे मे यह सोच कर लंड

उच्छलने लगा. "अम्मा, तो आओ, अब कौन चुदेगा पहले, मेरी बहना या अम्मा?"

"अम्मा, अब मैं चोदु भैया को?" उस लड़की ने अधीर होकर पुचछा. मंजू अब तैश

मे थी "बड़ी आई चोदने वाली, अपनी अम्मा को तो चुदने दे पहले अपने इस

खूबसूरत बेटे से. तब तक तू ऐसा कर, उनको अपनी बुर चटा दे, वो भी तो देखें

की मेरी बेटी की बुर का क्या स्वाद है. तब तक मैं तेरे लिए उनका सोंटा

गरम करती हूँ" मुझे आँख मार कर मंजू बाई हँसने लगी. अब वह पूरी मस्ती मे

आ गयी थी. गीता फटाफट मेरे मुँह पर चढ़ गयी. "ओ नलायक, बैठना मत अभी भैया

के मुँह पर. ज़रा पहले उन्हे ठीक से दर्शन तो करा अपनी जवान गुलाबी चूत

के" गीता घुटनो पर टिक गयी, उसकी चूत मेरे चेहरे के तीन चार इंच उपेर थी.

उसकी बुर मंजू बाई से ज़्यादा गुदाज और मांसल थी. झांतें भी घनी थी. चूत

के गुलाबी पपोते संतरे की फाँक जैसे मोटे थे और लाल छेद खुला हुआ था

जिसमे से घी जैसा चिपचिपा पानी बह रहा था. मैने गीता की कमर पकड़कर नीचे

खींचा और उस मिठाई को चाटने लगा. उधर मंजू ने मेरा लंड अपनी बुर मे लिया

और मुझपर चढ़ कर मुझे हौले हौले मज़े लेकर चोदने लगी. अपनी बेटी का

स्तनपान देखकर वह बहुत उत्तेजित हो गयी थी, उसकी चूत इतनी गीली थी की

आराम से मेरा लंड उसमे फिसल रहा था. गीता के छ्छूतड़ पकड़कर मैने उसकी

तपती बुर मे मुँह च्छूपा दिया और जो भाग मुँह मे आया वह आम जैसा चूसने

लगा. उसका अनार का कड़ा दाना मैने हल्के से दाँतों मे लिया और उस पर जीभ

रगड़ने लगा. दो मिनिट मे वह छोकरि सुख से सिसकती हुई झाड़ गयी. मेरे मुँह

मे रस टपकने लगा. "अरी अम्मा, भैया कितना अच्च्छा करते है. मैं तो घंटे

भर अपनी चूत चुस्ववँगी आज." मैं एक अजीब मस्ती मे डूबा हुआ उस जवान

छ्छोकरी की चूत चूस रहा था, वह उपेर नीचे होती हुई मेरे सिर को पकड़कर

मेरा मुँह चोद रही थी और उसकी वह अधेड़ अम्मा मुझपर चढ़ कर मेरे लंड को

चोद रही थी. ऐसा लग रहा था जैसे मैं साइकल हूँ और ये दोनो आगे पिछे बैठकर

मुझपर सवारी कर रही है. मैं सोचने लगा कि अगर यह स्वर्ग नही है तो और

क्या है. गीता हल्के हल्के सीतकारियां भरते मंजू से बोली "अम्मा, चुचियाँ

कैसी हल्की हो गयी है, भैया ने पूरी खाली कर दिन चूस चूस कर. तू देख ना,

अब ज़रा तन भी गयी है नही तो कैसे लटक रही थीं." मेरी नाक और मुँह गीता

की बुर मे क़ैद थे पर आँखें बाहर होने से उसका शरीर दिख रहा था. मैने

देखा की मंजू ने पिछे से अपनी बेटी के स्तन पकड़ लिए थे और प्यार से

उन्हें सहला रही थी. "साची बेटी, एकदम मुलायम हो गये है. चल मैं इनकी

मालिश कर देती हूँ, तुझे सुकून मिल जाएगा." मंजू बोली. मुझे दिखाते हुए

उसके हाथ अब गीता के स्तनो को दबाने और मसल्ने लगे. फिर मुझे चूमने की

आवाज़ आई. शायद माँ ने लाड से अपनी बेटी को चूम लिया था. मुझे लगने लगा

की ये माँ बेटी का सादा प्रेम है या कुच्छ गड़बड़ है? दस मिनिट बाद उन

दोनो ने जगह बदल ली. मैं अब भी तन्नाया हुआ था और झाड़ा नही था. मंजू बाई

एक बार झाड़ चुकी थी और अपनी चूत का रस मुझे पिलाना चाहती थी. गीता दो

तीन बार झड़ी ज़रूर थी पर चुदने के लिए मरी जा रही थी. क्रमशः........