घर का दूध compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:32

Ghar Ka Doodh part--8 Gataank se aage............
Manju to sidhe mere munh par chadh kar mujhe bur chuswaane lagi. Geeta
ne pahale mere land ka chumma liya, jibh se chaata aur kuchh der
chusa. fir land ko apni bur mei ghused kar mere pet par baith gayi aur
chodne lagi. mere man mei aaya ki mere land ko chuste samay apni maan
ki bur ke paani ka swaad bhi use aaya hoga. Geeta ki choot Manju se
jyada Dhili thi. shaayad maan banne ke baad abhi puri tarah Taaiet
nahi hui thi. par thi waisi hi makhmali aur mulaayam. Manju ne use
hidaayat di "jara man laga kar maje lekar chod beti nahi to bhaiya
jhad jaayenge. ab maza kar le pura" Geeta ne apni maan ki baat maani
par sirf kuchh minute. fir weh aisi garam hui ki uchhal uchhal kar
mujhe pure jor se chodne lagi. usne mujhe aise choda ki paanch minute
mei khud to jhadi hi, mujhe bhi jhada diya. Manju abhi aur masti karna
chahati thi isiliye chidh gayi. mere munh par se utarte hue boli "ari
o murakh ladki, ho gaya kaam tamaam? main keh rahi thi sabar kar aur
maza kar. main to ghanto chodti hun babuji ko. ab utar niche nalaayak"
Manju ne pahle mera land chaat kar saaf kiya. fir ungli se Geeta ki
bur se beh rahe virya ko saaf karke ungli chaatne lagi "ye to parshaad
hai beti, ek bund bhi nahi khona iska. Tu jara Taange khol, Thik se
saaf kar deti hun" usne ungli se baar baar Geeta ki bur punchhi aur
chaati. fir jhuk kar Geeta ki jaangh par bahe mere virya ko chaat kar
saaf kar diya. mere man mei fir aaya ki ye kya chal raha hai maan beti
mei. dopahar ka khaana hone ke baad Geeta ne fir mujhe Doodh pilaya
aur chudaai ka ek aur daur hua. shaam ko uthkar main klab chala gaya.
raat ko waapas aaya to khaane ke baad fir ek baar Geeta ka Doodh piya
aur fir maan beti ko palang par aaju baaju sulaakar baari baari choda.
Geeta ke Doodh ki ab mujhe aadat hone lage thi. dusre din ravivaar
tha. maine thoda alag prograam banaya. subah Geeta ka Doodh piya aur
fir dono maan beti ki choot chus kar unhe khush kiya. bas mere land ko
haath nahi lagane diya. main dopahar tak use aur tana kar khada karna
chahata tha. Manju baayi mere dil ki baat samajh gayi, kyonki ye har
ravivaar ko hota tha. apne chootadon ko sehlaati hui apni beti se boli
"Geeta bitiya, aaj dopahar ko meri haalat kharaab hone waali hai"
Geeta ne puchha to koi jawaab nahi diya. main bhi hansta raha par chup
raha. Manju ki aankhon mei dopahar ko hone waale dard ki chinta saaf
dikh rahi thi. dopahar ko ham nange hokar mere bedroom mei jama hue.
mera land kas kar khada tha. Geeta lalcha kar mere saamne baith kar
use chusane ki koshish karne lagi to maine rok diya. "ruk behna, tujhe
baad mei khush karunga, pahale teri is chudail maan ki gaand maarunga.
hafta ho gaya, ab nahi raha jata. chal amma, taiyaar ho jaa" Manju
chupchaap bistar par ondhi let gayi "ab dukhega re mujhe, dekh kaise
khada hai babuji kaa land musal jaisa" Geeta samajh gayi ki uski maan
subah se kyon ghabra rahi thi. bade utsaah se meri or mud kar boli
"bhaiya, meri maar lo, mujhe maza aayega. bahut dino se soch rahi thi
ki gaand marwaane kaa maza mile. ungali Daal kar aur mombatti ghused
kar kai baar dekha par sukun nahi mila. aap se achchha land kahaan
milega gaand marwaane ko?" main taiyaar tha, andhe ko kya chaahiye do
aankhen! nai kori gaand mei ghusne ki kalpana se hi mera land aur
uchhalne laga tha. Manju jaan chhootne se khush thi "are meri bitiya,
tune meri jaan bacha li aaj. chal makhkhan se mast chikani kar deti
hun teri gaand, dukhega nahi" Geeta ko ondhaa lita kar usne uski guda
mei aur mere land ko makhkhan se khoob chupad diya. main Geeta par
chadha to Manju ne apni beti ke chhootad apne haath se failaaye. uske
bhure gulaabi chhed par maine supaada rakha aur pelane laga. supaada
suj kar bada ho gaya tha fir bhi makhkhan ke kaaran fachaak se ek baar
mei hi gaand ke ander ghus gaya. Geeta ko jam kar dukha hoga kyonki
uska sharir ainth gaya tha aur weh kaanpne lagi thi. par chhokri
himmat waali thi, munh se uff tak nahi nikaali. use sambhaalne ka
mauka dene ke liye main ek minute ruka aur fir land ander ghusedne
laga. is baar maine kas ke ek dhakke mei land satt se uske chhootadon
ke bich pura gaad diya tha. ab weh bechaari dard se chikh padi.
sisakte hue boli "maan meri, mar gayi main, bhaiya ne gaand faad di.
dekh na amma, khoon to nahi nikla na!" Manju use chidhaate hue boli
"aa gayi raste par ek jhatke mei? baatein to patar patar karti thi ki
gaand marawaungi. par ro mat, kuchh nahi hua hai, teri gaand sahi
salaamat hai, bas puri khul gayi hai choot jaisi. beta, tune bhi kitni
berahami se land daal diya ander, dhire dhire pelna tha meri bachchi
ke chootadon ke bich jaise meri gaand mei pela tha." "are amma, ye
mari jaa rahi thi na gaand maraane ko! to sochaa ki dikha hi doon
asali maza. waise Geeta behana ki gaand bahut moti aur gudaaj hai,
Danlopilo ki gaddi jaisi hai, ise taklif nahi hogi jyaada" maine Geeta
ke chootad dabaate hue kaha. mera land ab lohe ki musli jaisa uske
chootadom ki gehraayi mei utar gaya tha. Geeta ki gaand bahut gudaaj
aur mulaayam thi. Manju jitni Taaiet to nahi thi par bahut garam thi,
bhaTTi jaisi. mai us par let gaya aur uske mamme pakad liye. uske mote
chootad spanj ki gaddi jaise lag rahe the. uski chunchiyaan dabaate
hue main dhire dhire uski gaand maarne laga. shuru mei har dhakke par
uske munh se siski nikal jaati, bechaari ko bahut dard ho raha hoga.
par saali pakki chudail thi. paanch minute mei use maza aane laga. fir
to weh khud hi apni kamar hila kar gaand marwaane ki koshish karne
lagi. "bhaiyaji, maaro na! aur jam kar maaro, bahut maza aa raha hai!
haay amma, bahut achchha lag raha hai, tere ko kyon maza nahi aata?
bhaiya, maaro meri gaand hachak hachak kar, patak patak kar chod meri
gaand ko, maan kasam main mar jaaungi" maine kas kar Geeta ki gaand
maari, pura maza liya. main bahut der uske chootad chodna chahata tha
isiliye Manju ko saamne baithakar uski bur chusne laga, nahi to
bechaari apni beti ki gaand chudati dekh kar khud apni choot mei ungli
kar rahi thi. man bhar kar maine Geeta ki gaand chodi aur fir jhada.
bacha din bahut maje mei gaya. Chhutti hone ke kaaran din bhar chudaai
chali. Geeta ke Doodh ka main aisa diwaana ho gaya tha ki chaar ghante
bhi nahi rukta tha. har ghante uski chunchiyaan chus leta, jitna bhi
Doodh milta pi jaata. raat ko maine Manju se kaha ki Geeta ko gaay
jaisa duh kar gilaas mei Doodh nikaale. meri bahut ichchha thi aise
Doodh duhate hue dekhane ki. Manju ne Geeta ko baaju mei baitha kar
uske haath mei gilaas thamaaya. Geeta ne use apni chunchi ki nok par
pakad kar rakha aur Manju ne apni beti ke mamme dabaa dabaa kar Doodh
nikaala. Geeta ke nipple se aisi dhaar chhut rahi thi ki jaise sach
mei gaay ho. pura Doodh nikaalne mei aadhaa ghantaa lag gaya. bich mei
main Geeta kaa chumma le leta aur kabhi uske saamne baith kar uski
choot chus leta. duhane ka yeh kaaryakaram dekh kar mujhe itna maza
aaya ki mera land kas kar khada ho gaya. gilaas se Doodh pikar maine
fir ek baar Geeta ki gaand maari. Manju bahut khush thi ki Geeta ke
aane se uski gaand ki jaan to chhuti. dusre din mujhe Toor par jaana
pada. dusre din mujhe Toor par jaana pada. dono maan beti bahut
niraash ho gayi. unhe bhi mere land ka aisa chaska laga tha ki mujhe
chhodne ko taiyaar nahi thin. maine samjhaya ki aakar chudaai karenge,
mere land ko bhi aaraam ki jarurat thi. Geeta ko maine sakht hidaayat
di ki meri gairhajiri mei apna Doodh nikaal kar frij mei rakh de, main
aa kar piyunga. main Teen din baad shaam ko waapas aane waala tha. par
kaam jaldi khatam ho jaane se dopahar ko hi aa gaya. socha ab office
na jaakar sidha ghar chal kar aaraam kiya jaaye. laich key se darwaja
khola. mujhe laga tha ki abhi we dono ghar mei nahi hongi, meri
gairhajiri mei gaanv chali gayi hongi. par jab ghar ke ander aaya to
bedroom se hansne ki aawaaj aayi. main dabe paanv bedroom ke darwaaje
tak gaya aur use jara sa khol kar ander dekhne laga. jo dekha usse
mera land turant tannaa gaya. us din chodte samay maan beti ke chumme
aur Manju ne jis tarah Geeta ke mamme sehla diye the, use dekhkar mere
man mei jo sandeh utha tha weh sach tha. maan beti ke bich badi
matwaali premlila chal rahi thi. Manju baayi bistar par sirhane se Tik
kar baithi thi. Geeta uski god mei thi. Manju uske baar baar chumban
le rahi thi. Manju ka ek haath Geeta ki chunchiyon ko daba raha tha.
Geeta apni maan ke gale mei baanhe daale uske chummon ka jawaab de
rahi thi. bich bich mei maan beti jibh ladaatin aur ek dusare ki jibh
chusane lagti thi. main ander jaana chahata tha par apne land ko
muthiyaataa hua wahin khada raha. socha jara dekhen to aage ye chudail
maan beti kya karti hai. Geeta boli "amma, bahut achchha lag raha hai.
tu kitna mast karti hai meri bur ko. par chunchiyaan fir tapak rahi
hai, bartan le aa naa rasoi se aur nikaal de mera Doodh. bahut bhaari
bhaari lag rahin hai." Manju Geeta ko chum kar boli "koi jarurat nahi
bitiyaa, do din mei hi ser bhar Doodh jama ho gaya hai babuji ke liye,
unke liye bahut hai, isse jyaada Doodh wo kahan piyenge?" Geeta machal
kar boli "par main kya karun amma? bahut dukh rahi hai chuchiyaan"
Manju ne jhuk kar uske mamme ko prem se chumte hue kaha "to main kaahe
ko hun meri raani? main khaali kar deti hun do minute mei!" Geeta
Manju baayi se lipat kar khushi se chahak padi "sach amma? badi chhupi
rustam nikali tu? mujhe nahi pata tha ki tujhe mere Doodh ki aas
hogi!" Manju baayi Geeta ko niche litaate hue boli "mujhe to bahut din
ki aas hai beti, sirf tere Doodh ki hi nahi, tere badan ki bhi aas
hai. jab se babuji se chudaai shuru hui hai, mere dil mei aag si lag
gayi hai. main to unke saamne hi pi leti par kya pata we naaraaj na ho
jaayen isiliye chup rahi. unke hisse ka Doodh pine mei hichak hoti
thi. ab aa, teri chhaati halki kar doon, fir teri bur halki karungi"
kramashah............

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:33

घर का दूध पार्ट--9


गतान्क से आगे............ गीता के बगल मे लेट कर मंजू ने अपनी बेटी की
चून्चि उसकी चोली के किनारे से अपने मुँह मे ले लिया और आँखें बंद करके
पीने लगी. उसके चेहरे पर एक अजीब तृप्ति झलक रही थी. गीता ने अपनी माँ का
सिर छाति से लगा लिया और उसे दूध पिलाने लगी. मंजू के बालों मे प्यार से
उंगलियाँ चलाती हुई बोली "पता है अम्मा, सब माँ अपने बच्चों को दूध
पिलाती है, मैं पहली बेटी हूँ जो माँ को दूध पीला रही है" मंजू ने दस
मिनिट मे दोनो चूंचियाँ खाली कर दी. अब तक वो दोनो ऐसी गरम हो गयी थी कि
लिपट कर एक दूसरे पर चढ़ कर चूमते हुए कुश्ती खेलने लगी. यअहह आज तो तुझे
कच्चा चबा जाउन्गि. गीता कुच्छ कहने के लिए मुँह खोलती है मगर मंजू उस के
मुँह में अपना मुँह डाल देती है ओर गहरे गहरे चुंबन लेने लगती है. गीता
बहुत गरम हो जाती है ओर वो भी मंजू को पूरी तन्यमता से चूमने लगती है...
मंजू पागलू की तरह गीता को चूस्ति है फिर आहिस्ता आहिस्ता किस करती है
गीता मंजू की नंगी टांगो पर हाथ फेरती है... मंजू गीता के चूंचियों को
चोली के उपेर से दबाती है और चोली को बीच मे से फाड़ देती है और उसे नंगा
कर देती है.... मंजू गीता को बिस्तर पर धक्का दे कर गिरा देती है और उसकी
चूंचियों पर अपनी चूंचियाँ रगड़ने लगती है... गीता फॉरन मंजू को बाँहो
में भर कर पलट जाती है मगर मंजू फिर से उस के उपर आ जाती है. गीता उसकी
चोली भी खोल देती है. फिर वो दोनो एक दूसरे के सारे कपड़े निकाल देती
हैं. अब दोनो नंगी औरतें बिस्तर पर लोट रही होती हैं. मंजू गीता की
चूंचियों को मुँह में लेकर चूस्ति है...उम्म्म्म. गीता मंजू का सर अपनी
चूंचियों पर दबाते हुए मंजू को कहती है, "कुतिया निचोड़ ले सारा दूध पी
ले मेरा आंड मंजू यह सुन कर पागल हो जाती है ओर गीता की चुन्चियो को
काटने लगती है. सस्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स आआआआआआआः गीता के मुँह से
सिसकारियाँ निकालने लगती है. मंजू उसकी दोनो चूंचियों को काफ़ी देर तक
चूस्ति है. गीता मंजू के नीचे से अपनी चूंचियाँ मसल्ने लगती है.... मंजू
नीचे चूस्ते हुए गीता की टाँगो को खोलती है और उसकी साफ चमकती हुई चूत
देखती है... गीता: क्या देख रही हो मेरी छिनाल माँ, खा लो सारी मेरी
मिलाई फिर भी ख़तम नही होगी.... मंजू गीता की चूत को चाटने लगती है और
बिली की तरह उसकी चूत को ज़ोर ज़ोर से चाटने लगी. सस्स्स्स्सस्स
उम्म्म्ममममममममम उम्म्म्ममममम म्‍म्म्मममममममममममम
म्‍म्म्मममममममममममममममममम म्‍म्म्ममममम म्‍म्म्मम म्‍म्म्मम करती हुई
गीता ज़ोर ज़ोर से सिसकारियाँ भरने लगती है. गीता: आहा आहा छिनाल
हरामजादि चूस रंडी और चूस, दिखा आज क्या कर सकती है, चूस चूस ओर ज़ोर से
चूस ओर उसकी आँखें बंद हो जाती हैओर वो बिस्तर पेर लेट कर हाँफने लगती
है. मंजू गीता की चूत को खाने लगती है. गीता का पानी निकलने वाला होता है
तो वो मंजू को कहती है, मेरा पानी निकलने वाला है चातोगि क्या? मंजू कहती
है, हां मेरी बेटी मैं तेरा पानी ज़रूर पियूंगी. ये कहते हुए उसने गीता
की चूत में अपनी दो उंगलियाँ डाल दी ओर चोदने लगी. गीता:
उम्म्म्मममममममममममममममममममममममममममममम उसका पानी छ्छूट जाता है, मंजू
उसकी चूत को ज़ोर ज़ोर से चूसने लगती है. माँ बेटी की यह रति क्रिया देख
कर मेरा सबर टूट गया. नंगा होकर मैं कमरे मे घुसा और पलंग पर चढ़ बैठा.
मुझे देख कर दोनो सकपका गयी और अलग होने लगीं मुझे देख कर दोनो सकपका गयी
और अलग होने लगीं. मैने उन्हें रोका और अपना काम करते रहने को कहा. मेरे
पेंट में खड़े लंड को देखकर उनकी जान मे जान आई कि मैं नाराज़ नही हूँ
बल्कि उनकी इस रति मे शामिल होना चाहता हूँ. एक दूसरे की चूत वो दोनो
छ्चोड़ना नही चाहती थी. मैने उन दोनो से कहा की रूको. पहले मुझे भूख लगी
है कुच्छ खाना बना लो. खाना खाने के बाद आज हम तीनो एक साथ मज़ा करेंगे.
ये सुनते ही गीता की आँखो मे चमक आ गयी. वो मंजू से बोली, चल अम्मा खाना
बना लेते है फिर बाबूजी के साथ मज़ा करेंगे. वो दोनो नंगी ही किचन मे
खाना बनाने चली गयी. थोड़ी देर मे वो खाना बना कर ले आई. इतने मे मैं भी
नंगा हो चुक्का था. हम तीनो ने नंगे ही खाना खाया. खाना खाने के बाद
कुच्छ देर हमने बातें की ओर फिर मैने गीता को अपना बॅग लाने को कहा.बॅग
खोल कर अपनी ब्लू फिल्म की सीडी निकाली ओर मंजू से कहा कि लगाओ इसे. मंजू
ने ब्लू फिल्म की सीडी लगा दी ओर गीता मेरे पास आकर बैठ गयी आज वो बहुत
खूबसूरत लग रही थी. फिर मैने 1 स्प्रे निकाला जिस के उपेर लिखा था "मॅन
पोवेर". मैं यह स्प्रे चुदाई का टाइम बड़ाने के लिए लेकर आया था. मैने
गीता को कहा की ये स्प्रे मेरे लॅंड पर कर दो. उसने मेरे लंड पर बहुत
सारा स्प्रे कर दिया ओर तकरीबन 10 मिनिट के बाद मैने लंड वॉश कर लिया.
उसके बाद मैने 1 टॅबलेट खाई जो की टाइमिंग बढ़ने के लिए थी. मंजू ने
पुचछा की क्या हुआ है ये गोली क्यों खाई है तो मैने कहा कि कुच्छ थकान सी
लग रही है उसीलिए ये दवा ली है. गीता जाकर फ्रिड्ज से 1 ग्लास दूध का ले
आई, लो बाबूजी मेरा दूध पी लो इससे ताक़त आ जाएगी. उस के बाद मंजू ओर
गीता दोनो आपस मे 1 दूसरे की बुर को चूसने लगी. मैं गीता का दूध पी कर 10
मिनिट वेट करने लगा ताकि दवा ओर स्प्रे अपना असर दिखा सके.

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:33

उन दोनो ने
आपस में तकरीबन 15 मिनिट से भी ज़्यादा चुसाइ की ओर दोनो ही 2 बार झाड़
चुकी थी. कुच्छ देर बाद गीता उठी ओर मुझे कहा बाबूजी बेड पर लेट जाओ ओर
मैं बेड पर लेट गया ओर उसने मंजू को इशारा किया ओर उसने जल्दी से मेरे
हाथ पकड़ कर बेड के साथ बाँध दिए. मैं उस टाइम थोडा घबरा गया, मेरी कुच्छ
समझ में नही आ रहा थी कि आख़िर वो दोनो क्या चाहती है. लेकिन गीता ने कहा
प्ल्ज़ डरना नही क्योंकि आज हम दोनो ब्लू फिल्म के जैसा करना चाहती हैं
तुम्हे बाँध कर. खैर मैं चुप चाप लेटा रहा उर उधर मंजू मेरे हाथ बाँध कर
मेरे लंड के पास आ कर बैठ गयी ओर मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी.
मेरा लंड पहले ही उन्हे देख कर रोड की तरह खड़ा हो चुका था लेकिन इस टाइम
मेरा लंड बिल्कुल सुन्न था. मुझे कुच्छ भी महसूस नही हो रहा था शायद
स्प्रे की वजह से लेकिन लंड टाइत बहुत ज़्यादा था. मंजू ओर गीता ने 20
मिनिट तक मेरा लंड चूसा लेकिन मेरे लंड से ज़रा भी पानी नही निकला. मैं
जानता था कि आज मेरा पानी आराम से नही निकलेगा क्योंकि जिससे मैं ये दोनो
चीज़ लेकर आया था उसने बताया था कि इससे कम से कम 1 घंटा असर रहता है ओर
जो चाहो कर्लो आदमी जल्दी डिसचार्ज नही होता. वो दोनो मेरे लंड को पागलों
की तरह चूस रही थी लेकिन मुझे फील नही हो रहा था. खैर उसके बाद गीता खड़ी
हो गयी ओर मेरे मुँह के उपेर आ कर अपनी चूत रख कर बैठ गयी ओर मैं उसकी
चूत चूसने लगा. उधर मंजू ने अपनी चूत मेरे लंड पर रखी ओर झटके से लंड चूत
के अंदर डाल लिया ओर थोड़ी देर लंड पर वजन डाल कर बैठी रही. उसके बाद वो
तेज तेज उच्छलने लगी लेकिन मिझे बस इतना फील हो रहा था कि मेरा लंड गरम
चीज़ के अंदर गया हुआ है. उसके अलावा कुछ नही. मंजू मेरे लंड पर मुसलाधार
जंप कर रही थी. मेरे हाथ बेड के साथ बँधी थे ओर गीता मेरे मुँह पेर बैठ
कर मुझसे चूत चुस्वा रही थी ओर अब तक 1 बार वो मेरे मुँह में अपना पानी
छ्चोड़ चुकी थी. उसकी क्लिट को मैं पकड़ना चाहता था लेकिन वो दोनो मुझे
तडपा रही थी ओर अपनी मर्ज़ी से मुझे आज वो चोद रही थी. मंजू को साँस चढ़
चुका था क्योंकि वो तेज तेज जंप कर रही थी ओर तकरीबन 10 मिनिट बाद वो 1
दम मेरे लंड पर वज़न डाल कर बैठ गई ओर अपनी चूत को दबाने लगी थी. शायद वो
भी डिसचार्ज हो गयी थी. खेर 5 मिनिट के बाद मैने गीता से कहा, "कि आ जाओ,
मेरा लंड अभी तक खड़ा है". लेकिन मेरा लंड काफ़ी गीला हो चुका था. गीता
ने मेरे पास आकर अच्छि तरह मेरे लंड को चूसा ओर मंजू का सारा रस चूस लिया
ओर फिर मेरे लंड पर दूसरी तरफ मुँह कर के बैठ गयी ओर मेरा लंड मुझे नज़र
आ रहा था कि उसकी चूत में कैसे घुसता जा रहा है. कुच्छ देर बाद गीता भी
अपनी मखमली चूत उच्छल उच्छल कर मुझ से चुदवा रही थी. मंजू मेरे पास आ कर
बैठ गयी ओर मुझे किस करने लगी ओर मेरे जिसम के साथ अपनी मर्ज़ी से खेलने
लगी. मैं उसे पकड़ने के लिए बेताब था लेकिन बेबस भी था. मैं भी यह सब
एंजाय कर रहा था. गीता जब उच्छलती थी तो बेड की ज़ोरदार आवाज़ आती थी
हिलने की ओर मंजू उसे बार बार कह रही थी की गीता बेटी आहिस्ता करो लेकिन
गीता अपने काम मे बिज़ी थी. गीता कुच्छ देर बाद दोबारा खड़ी हो गयी ओर
अपनी गीली चूत को कपड़े से पुच्छ कर अपनी चूत में मेरा लंड डालने लगी.
मेरा लंड फुल टाइट था 1 दम से उसने अपनी चूत को मेरे लंड पर दबाया ओर
मेरा लंड पूरा उसकी चूत में घुसता चला गया. अब उसे दर्द महसूस हो रहा था
लेकिन वो बैठी रही. कुच्छ देर बाद उसने अपनी चूत उच्छालनी शुरू की ओर
मेरे छाती पर हाथ रख कर जंप करने लगी. मुझे पसीना आ चुका था ओर मंजू अपने
हाथ से साफ करती ओर मुझे किस कर रही थी. मैने गीता से कहा कि मेरे हाथ
खोल दो, बस अब काफ़ी हो गया है. उसने मंजू से कहा खोल दो अब बाबूजी को.
मंजू ने मेरे हाथ खोल दिए ओर मैने 1 दम से उठ कर गीता के चुचियाँ हाथ मे
पकड़ ली ओर चुचियों को दबाने ओर चूसने लगा. उधेर मंजू अपनी चूत मेरे कमर
के साथ रगड़ रही थी. मैं भी अब पागलों की तरह जोश में आ चुका था. मंजू से
कहा, "घोड़ी बनो अब मैं तुमहरि गांद मारूँगा". मंजू ने वैसा ही किया ओर
वो घोड़ी बन गयी. अब मैं ओर गीता फुल जोश मे आ चुके थे. वो भी चाहती थी
कि मैं मंजू को आज इतना चोदु की वो खुद कहे की बस कर दो. क्रमशः.........