घर का दूध compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:17

Ghar Ka
Doodh part--2 Gataank se aage............ Dikhne mei weh saadhaaran
thi. Baal jude mei baandh rakhe they, unmei ek phoolon ki veni thi.
Thi to weh saanwali per uski twacha ekdam chikni or damakti huithi.
Maathe per badi bindi thi or naak mei nathni pehne thi. Weh gaon ki
aurton jaise dhoti ki tarah saadi pehne thi jisme se uske chikne
sudaul pair or maansal pindaliyan dikh rahi thi. Choli or saadi ke
beech dikhti uski peenth or kamar bhi ekdam sapaat or mulaayam thi.
Choli ke niche shayad weh kuch nahi pehanti thi kyonki katori se tel
lene ko jab weh mudti to pichhe se uski choli ke patle kapde mei se
bra ka koi strap nahi dikh raha tha. Aanchal usne kamar mei khons
rakha tha or uske niche se uski chhati ka halka sa ubhaar dikhta tha.
Uske stan jayada bade nahi they per aisa lagta tha ki jitney bhi hain,
kafi sakht or kase hue hain. Uske us duble patle chharhare per ekdam
swasth or kase hue chikne sharer ko dekhkar pehli baar mujhe samajh
mei aaya ki jab kisi aurat ko "twangi" kehte hai, yane jiska badan
kisi ped ke tane jaisa hota hai, to iska kya matlab hai. Uske hanthon
ke sparsh or pass se dikhte uske saade per swasth roop ne mujhper aisa
jaadu kiya ki jo hona tha weh ho kar raha. Mera land sie uthane laga.
Main pareshan tha, uske saamne use dabaane ko kuchh kar bhi nahi sakta
tha. Isliye palat kar pet ke bal so gaya. Weh kuchh nahi boli, pichhe
se mere takhne ki maalish karti rahi. Ab main uske bare mei kuchh bhi
sochne ko aazaad tha. Main man hi man laddu khaane laga. Manju bai
nangi kaisi dikhegi! Use bheench kar use chodne mei kya maza aayega !
MERA LAND TANNA KAR KHADA HO GAYA. Das minute baad weh boli, " ab
sidhe ho jao babuji, main pair mod kar maalish karoongi, aap ekdam
sidhe chalne lagoge". Main aanakaani karne laga. "ho gaya, bai, ab
achcha lag raha hai, tum jaao." Aakhir khada land use kaise dikhata!
Per weh nahi maani or majboor hokar maine karwat badly or kurte se
land ke ubhaar ko dhank kar man hi man prathana karne laga ki use mera
khada land na dikhe. Waise kurte mein bhi ab tambu ban gaya tha so ab
chhupne ki koi gunjaayish nahi thi. Weh kuch na boli or paanch minute
mei maalish khatam karke chali gayi. " bas ho gaya babuji, ab aaraam
karo aap". Kamre se baahar jaate jaate hue muskara kar boli," ab dekho
babuji, tumhari saari preshaani door ho jaayegi". Uski aankhon mei ek
chamak sit hi. Main sochta raha ki uske is kehne mei or kuchh matlab
to nahi chhupa. Uski maalish se main usi din chalne phirne laga. Dusre
din usne phir ek baar maalish ki, or mera peir puri tarah se thik ho
gaya. Isbaar main poora saavdhaan tha or apne land per maine poora
control rakha. Na jaane kyon mujhe laga ki jaate jaate manju bai kuchh
udaas si lagi. Ab usko dekhne ki meri nazar badal si gayi thi. Jab bhi
main ghar mein hota to uski nazar bachakar uske sharer ko ghoorne ka
koi bhi mouka nahi chhodta tha. Khaana banaate samay jab weh kitchen
ke chabootare ke pass khadi hoti to pichhe se use dekhna mujhe bahut
achcha lagta, uski chikni peeth or garden mujh per jaadu sa kar deti,
main baar baar kisi na kisi bahaane se kitchen ke darwaaje se gujarta
or man bhar kar use pichhe se dekhta. Jab weh chalti to main uske
chutadon or pindaliyon ko ghoorta. Uske chutad chhote they per ekdam
gol or sakht they. Jab weh apne panjo per khadi hokar upper dekhte hue
kapde sukhane ko daalti to uske chhote mummey tan kar uske aanchal mei
se apni masti dikhane lagte. Use bhi meri is haalat ka andaza ho gaya
hoga,aakhir maalish karte samay kurte ke niche se mera khada land usne
dekha hi tha. Per naraaj hone or bura maanne ke bajaaye weh ab mere
saamne kuchh kuchh nakhre dikhane lagi thi. Baar baar aakar mujhse
baatein karti, kabhi bematlab meri or dekhkar halke se hans deti. Uski
hansi bhi ekdam lubhavani thi, hanse samay uski muskaan badi meethi
hoti or uske safed daant or gulaabi masoode dikhte kyonki uska upri
honth ek khas andaaz mai upper kior khul jata. Main samajh gaya ki
shayad weh bhi chudaasi ki bhookhi thi or mujhe rijhaane ki koshish
kar rahi thi. Aakhir us jaisi naukarani ko mere jaisa uch vargiya
naujawaan kahan milne wala tha? Uska pati to nalaayak sharaabi tha hi,
use sambandh to manju ne kab ke tod liye they. Mujhe yakin ho gaya tha
ki bas mere pehal karne ki der hai yeh shikaar khud mere panje mein aa
phansega. Per maine koi pehal nahi ki. Dar tha kuchh lafda na ho
jaaye, or agar maine manju ko samajhne mei koi bhool ki ho to phir to
bahut tamaasha ho jaayega. Weh chilla kar poori colony sir per na utha
le, nahi to company mei munh dikhane ki jagah bhi na milegi. Per manju
ne meri nazar ki bhookh pehchaan lit hi. Ab usne aage kadam badhana
shuru kar diya. Weh thi badi chalaak, mere khayaal se usne man mei
than lit hi ki mujhe phansa kar rahegi. Ab weh mere saamne hoti, to
uska aanchal baar baar gir jaata. Khaas kar mere kamre mei jhaadu
lagaate hue to uska aanchal gira hi rehta. Waise hi mujhe khaana
paroste samay uska aanchal aksar khisakne laga or waise mei hi wo jhuk
jhuk kar mujhe khaana parosti. Andar bra to wo pehanti nahi thi isliye
dhale aanchal ke kaaran uski choli ke upper se uske chhote or kade
mammo or unki ghundiyon ka aakaar saanf saanf dikhta. Bhale chhote hon
per bade khoobsurat mamme they uske. Badi mushkil se main apne aap ko
sambhaal paata, varna lagta to tha ki abhi un kabootaron ko pakad loon
or masal daaloon, choos loon. Main ab uske mohjaal mei poora phans
chukka tha. Roz raat ko muthhmaarta to is tikhi naukarani ke naam se.
uski nazaron se nazar milaana maine chhod diya tha ki use meri nazaron
ki vaasna ki bhookh dikh na jaaye. Baar baar lagta ki use utha kar
palang per le jaaun or kachakach chod maaroon. Aksar khaana khaane ke
baad main das minute tak baitha rehta, uththa nahi tha taki mera tana
land usko dikh na jaayen. Yeh jayada din chalne waala nahi tha. Aakhir
ek shanivaar ko chhutti ke din ki dopehar mein baandh toot hi gaya. Us
din khaana paroste hue manju cheekh padi ki chinti kaat rahi hai or
mere saamne apni saari utha kar apni tango mei chinti dhundhne ka
naatak karne lagi. Uski pushth sudoul saanwali chikni jhaanghe pehli
baar maine dekhi thi. Usne saadi gulaabi penti pehni hui thi. Us tang
panty mei se uski phooli bur ka ubhaar saanf dikh raha tha. Sath hi
panty ke beech ke sankare patte ke dono or se ghani kaali jhaantein
baahar nikal rahi thi. Ekdam desi najaara tha. Or yeh najaara mujhe
poore paanch minute manju ne dikhaya. Uuiiee uuiiee karti hui meri or
dekhkar hanste hue wo chinti dhoondhti rahi jo aakhir tak nahi mili.
Maine khaana kisi tarah khatam kiya or aaraam karne ke liye bedroom
mei aa gaya. Darwaaja udka kar main sidha palang per gaya or land
haanth mei lekar hilaane laga. Manju ki we chikni jhanghe meri aankhon
ke saamne tair rahi thi. Main hatheli mei land pakad kar use
muthhiyane laga, maano manju ki taangon per use ragad raha hoon. Itne
mei bedroom ka darwaaja khula or manju andar aa gayi. Itne mei bedroom
ka darwaaja khula or manju andar aa gayi. Weh chatur aurat jaanbujh
kar mujhe dhula pajama dene ka bahaana karke aayi thi. Darwaaje ki
sitakni main lagaana bhool gaya tha isiliye wo sidhe andar ghoos aayi
thi. Mujhe muthh maarte dekh kar wahin khadi ho gayi or mujhe dekhne
lagi. Main sakte mei aakar ruk gaya. Ab bhi mera tannaya hua land meri
muththi mei tha. Manju ke chehre per shikan tak nahi thi, meri or
dekhkar hansi or aakar mere pass palang per baith gayi. "kya babuji,
main yahan hoon aapki har khaatir or sewa karne ko phir bhi aisa
bachpana karte ho! Mujhe maaloom hai tumhare man mei kya hai. Bilkul
anaadi ho aap babiji, itne dino se ishaare kar rahi hoon per aap nahi
samajhte, kya bhondu ho bilkul aap!" Main chup tha, uski or dekh kar
Sharma kar bas hans diya. Aakhir meri chori pakadi gayi thi. Meri
haalat dekh kar manju ki aankhen chamak uthi," mere naam se sadka laga
rahe they babuji? are main yahan aapki sewa mei taiyaar hoon or aap
muthh maar rahe ho. Chalo ab haath hataao, main dikhati hoon ki aise
sunder laude ki pooja kaise ki jaati hai". Or mere hath se land nikaal
kar usne apne hath mei le liya or use hatheliyon ke beech ragadne
lagi. Uski khurdari hatheliyon ke ragadne se mera land paagal sa ho
gaya. Mujhe lag raha tha ki manju ko baanhomein bheench loon or us per
chad jaaun, per uske pehle hi usne achanak meri god mei sir jhukakar
mera supada apne munh mei le liya or mere land ko choosne lagi. Uske
geele tapte munh or machhli si phudakti jeebh ne mere land ko aisa
tadpaya ki main jhadne ko aa gya. Main chup raha or maza lene laga.
Socha ab jo hoga dekha jaayega. Haath badakar maine uske mamme pakad
liye. Kya maal tha! Seb se kade they uske stan. Supada chooste chooste
weh apni ek muththi mei land ka danda pakadkar sadka laga rahi thi,
beech mei aankhe upper karke meri aankho mei dekhti or phir choosne
lag jaati. Uski aankho mei itni shaitani khilkhila rahi thi ki do
minute mei main humak kar jhad gaya. "manju bai, munh hata lo, main
jhadne wala hoon O:o:, main kehta reh gaya per usne to or land ko munh
mei andar tak le liya or jab tak choosti rahi jab tak mera poora virya
uske halak ke niche nahi utar gaya". Maine haanfte hue use poonchha,
"kaisi ho tum bai, are munh baju mei kyon nahi kiay, maine bola to tha
ki jhadne ke pehle!" "are main kya pagli hoon babuji itni mast malaai
chhod dene ko? Tumhare jaisa khoobsurat lauda kahan hum garibon ko
naseeb hota hain! Ye to bhagwaan ka prashaad hai hamaare liye" weh
bade laad ke andaaz mei boli. Uski is ada per maine use baahon mei
jakad liya or choomne laga per weh chhoot kar khadi ho gayi or
khilkhila uthi " abhi nahi babuji, bade aaye ab chooma chaati karne
waale. Itne din to kaise mitti ke maadho bane ghoomte the ab chale
aaye chipakne. Chalo jaane do mujhko" Kapade theek karke weh kamare ke
bahaar chali gayi. Jaate jaate mere chehre ki niraasha dekhkar boli, "
aise munh mat latkaao mere raja babu main aaungi phir abhi koi aa
jaayega to? Ab jara sabar karo main raat ko aaungi. Dekhna kaisi sewa
karoongi apne raajkumar jaise babuji ki. Ab mutthh nahi maarna aapko
meri kasam!" Main tirupt hokar ludak gaya or meri aankh lag gayi.
Vishwaas nahi ho raha tha ki is matwaali aurat ne abhi abhi mera land
choosa hai. Seedha sham ko utha. Man mei khushi ke laddu foont rahe
they. Kya aurat thi! Itna mast land choosne waali or ekdum teekhi
kataari. Kamare ke baahar jaakar dekha to manju gaayab thi. Achcha hua
kyonki jis mood mei main tha usmein use pakadkar jaroor use jabardasti
chod daalta. Time pass karne ko main club mei chala gaya. Jab raat ko
nau baje vaapas aaya to khaana table per rakha tha. Manju ab bhi
gaayab thi. Main samajh gaya ki wo ab seedhe son eke samay hi aayegi.
Aakhir use bhi ehsaas hoga ki koi raat ko use mere ghar mei dekh na
le. Din ki baat or thi. Waise ghar ki chaabhi uske pass thi hi. Main
jaakar nahaaya or phir khaana khaakar apne kamare mei aa gaya. Apne
saare kapde nikaal diye or apne khade land ko puchkaarta hua manju ka
intzaar karne laga. Das baje darwaaja khol kar manju bai andar aayi.
Tab tak mera land sooz kar sonta ban gaya tha. Bahut meethi taqleef de
raha tha. Manju ko dekhkar mera land or jayada thirak utha. Uski
himmat ki maine man hi man daad di. Main yeh bhi samajh gaya ki use
bhi tez chudaasi sata rahi hogi! Manju bai baahar ke kamre mei apne
saare kapade utaar kar aai thi ekdam maadarjaat nangi. Pehli baar uska
nagan maadak asli desi roop maine dekha. Saanwali chharhari kaaya,
chhote seb jaisi thhoos choochiyan, bas jara si latki hui, slim per
majboot jhaanghe or ghani jhaanton se bhari bur, main to pagla sa
gaya. Uske sharer per kahin bhi charbi ka jara sa katna nahin tha, bas
ekdum kadak dubla patla sharer tha. Wo meri or bina jhijhke dekh rahi
thi per main thoda Sharma gaya tha. Pehli baar kisi aurat ke saamne
main nanga hua tha or kisi aurat ko poora nanga dekh raha tha. Or weh
aakhir umra mei mujhse kafhi badi thi, karib meri mausi ki umra ki.
Per weh badi sehjhta se chalti hui mere pass aakar baith gayi. Mera
land haath mei pakad kar boli,"wah babuji, kya khada hai? Meri yaad aa
rahi thi? Ye manju bai pasand aa gayi hai lagta hai aapke laude ko."
kramashah......

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:19

घर का दूध पार्ट--3

गतान्क से आगे............ अब मुझसे रहा नही गया. उसे बाँहो मे भींच कर
मैं उसको चूमने लगा. उसके होंठ भी थोड़े खुरदारे थे पर एकदम मीठे, उनमें
से पान की भीनी खुश्बू आ रही थी. वह भी अपनी बाहें मेरे गले मे डाल कर
इतराती हुई मेरे चुंबनो का उत्तर देने लगी, अपनी जीभ उसने मेरे मुँह मे
डाल दी ओर मैं उसे चूसने मे लग गया. बड़ा मादक चुंबन था,उस नौकरानी का
मुँह इतना मीठा होगा, मैने सपने मे सोचा भी नहीं था. मेरा लंड अब ऐसा
फनफना रहा था कि मैं अब उसे पटक कर उसपेर चढ़ने की कोशिश करने लगा. "अरे
क्या भूखे भेड़िए जैसे कर रहे हो बाबूजी, ज़रा मज़ा लो, धीरे धीरे मस्ती
करो. आप आराम से लेटो,मैं करूँगी जो करना है" कहकर उसने मुझे पलंग पर
धकेल दिया. मुझे लिटाकर वह फिर मेरा लंड चूसने लगी. मुझे मज़ा आ रहा था
पर उसे कस के चोदने की इच्छा मुझे शांत नही लेटने दे रही थी. "मंजू बाई
चलो अब चुदवा भी लो, ऐसे ना सताओ. देखो, फिर चूस कर नही झड़ाना, आज मैं
तुझे खूब चोदुन्गा." मैने उसकी एक चूंची हाथ मे लेकर कहा. उसका कड़ा निपल
कांचे जैसा मेरी हथेली मे चुभ रहा था. उसने हंस कर मुंदी हिलाई की समझ
गयी पर मेरे लंड को उसने नही छ्चोड़ा, ओर ज़यादा मुँह में लेकर चूस्ति ही
रही. शायद फिर से मेरी मलाई के पीछे थी वो बिल्ली! मैं तैश मे आ गया, उठ
कर उसके मुँह से ज़बरदस्ती बाहर खींचा ओर उसे बिस्तर पर पटक दिया. वह
कहती रह गयी, " अरे रूको बाबूजी, ऐसे नही" पर मैने उसकी टांगे अलग करके
अपना लंड उसकी चूत पर रखा ओर पेल दिया. बुर इतनी गीली थी की लंड आराम से
अंदर चला गया. मैं अब रुकने की स्थिति मे नही था, एक झटके से मैने लंड
जड़ तक उसकी चूत में उतार दिया ओर फिर उस के उप्पर लेट कर उसे चोदने लगा.
मंजू हंसते हुए मुझे दूर करने की कोशिश करने लगी, " बाबूजी रूको, ऐसे नही
चोदो, ज़रा मज़ा करके चोदो, मैं कहाँ भागी जा रही हूँ? अरे धीरे बाबूजी,
ऐसे जानवर जैसे ना धक्के मारो! ज़रा हौले हौले प्यार करो मेरी बुर को"
मैने उसके मुँह को अपने होंठों मे दबा लिया ओर उसकी बकबक बंद कर दी. फिर
उसे भींच कर कस के हचक हचक कर उसे चोदने लगा. उसकी चूत इतनी गीली थी कि
मेरा लंड गपगाप अंदर बाहर हो रहा था. कुच्छ देर ओर छूटने की कोशिश करने
के बाद मंजू बाई ने हार मान ली ओर मुझसे चेपेट कर अपने चूतड़ उच्छाल
उच्छाल कर चुदवाने लगी. अपने पैर उसने मेरी कमर के इर्द गिर्द कस रखे थे
ओर अपनी बाँहों मे मुझे भींच लिया था. इतना आनंद हो सकता है चुदाई मे
मैने सोचा भी नही था. मंजू का मुँह चूस्ते हुए मैने उसकी चूत की कुटाई
चालू रखी. यह सच कभी समाप्त ना हो ऐसा मुझे लग रहा था. पर मैने बहुत
जल्दी की थी. मंजू बाई की उस मादक देसी काया ओर उसकी गरमागरम चिपचिपी चूत
ने मुझे ऐसा बहकाया कि मैं दो मिनिट मे ही झाड़ गया. पड़ा पड़ा मैं इस सच
मे डूबा मज़ा लेता रहा. मंजू बाई बेचारी अब भी गरम थी ओर नीचे से अपनी
चूत को उपर नीचे कर के चुदने की कोशिश कर रही थी. मुझे अब थोड़ी शरम आई
की बिना मंजू को झड़ाए मैं झाड़ गया. " मांफ करना मंजू बाई, तुमको झदाने
के पहले ही मैं बहक गया." मेरी हालत देखकर मंजू बाई मुझसे चिपटकर मुझे
चूमते हुए बोली "कोई बात नही मेरे राजा बाबू. आप जैसा गरम नौजवान ऐसे नही
बहकेगा तो कौन बहकेगा. और मेरे बदन को देख कर ही आप ऐसे मस्त हुए हो ना?
मैं तो निहाल हो गयी की मेरे बाबूजी को ये गाँव की औरत इतनी अच्छी लगी.
आप मुझसे कितने छ्होटे हो, पर फिर भी आप को मैं भा गयी, पिच्छले जनम मे
मैने ज़रूर अच्छे कर्म किए होंगे. चलो, अब भूख मिट गयी ना? अब तो मेरा
कहना मानो. आराम से पड़े रहो और मुझे अपना काम करने दो." मंजू के कहने पर
मैने अपना झाड़ा लंड वैसे ही मंजू की चूत मे रहने दिया और उसपेर पड़ा
रहा. मुझे बाँहों मे भरके चूमते हुए वह मुझसे तरह तरह की उकसाने वाली
बातें करने लगी "बाबूजी मज़ा आया? मेरी चूत कैसी लगी? मुलायम है ना? पर
मखमल जैसी चिकनी है या रेशम जैसी? कुच्छ तो बोलो, शरमाओ नही!" मैने उसे
चूम कर कहा की दुनिया के किसी भी मखमल या रेशम से ज़्यादा मुलायम है उसकी
बुर. मेरी तारीफ़ पर वह फूल उठी. आगे पाटर पाटर करने लगी. "पर मेरी झाँते
तो नही चुभि आपके लंड को? बहुत बढ़ गयी हैं और घूंघराली भी है, पर मैं
क्या करूँ, काटने का मन नही होता मेरा. वैसे आप कहो तो काट दूं. मुझे
बड़ी झाँते अच्छि लगती है. और मेरा चुम्मा कैसा लगता है, बताओ ना? मीठा
है कि नही? मेरी जीभ कैसी है बताओ. मैने कहा की जलेबी जैसी. मैं समझ गया
था कि वह तारीफ़ की भूखी है. वह मस्ती से बहक सी गयी. "कितना मीठा बोलते
हो, जलेबी जैसी है ना? लो चूसो मेरी जलेबी" और मेरे गाल हाथों मे लेकर
मेरे मुँह मे अपनी जीभ डाल दी. मैने उसे दाँतों के बीच पकड़ लिया और
चूसने लगा. वह हाथ पैर फेकने लगी. किसी तरह छ्छूट कर बोली "अब देखो मैं
तुमको कैसे चोदती हूँ. अब मेरे पल्ले पड़े हो, रोज इतना चोदुन्गि तुमको
की मेरी चूत के गुलाम हो जाओगे" इन कामुक बातों का परिणाम यह हुआ कि दस
मिनिट मे मेरा फिर खड़ा हो गया और मंजू की चूत मे अंदर घुस गया. मैने फिर
उसे चोदना शुरू कर दिया पर अब धीरे धीरे और प्यार से मज़े ले लेकर. मंजू
भी मज़े ले लेकर चुदवाति रही पर बीच मे अचानक उसने पलटकर मुझे नीचे पटक
दिया और मेरे उपेर आ गयी. उपेर से उसने मुझे चोदना चालू रखा. "अब चुपचाप
पड़े रहो बाबूजी. आजकी बाकी चुदाई मुझपर छ्चोड़ दो." उसका यह हुक्म मान
कर मैं चुपचाप लेट गया. वह उठकर मेरे पेट पर बैठ गयी. मेरा लंड अब भी
उसकी चूत मे अंदर तक घुसा हुआ था. वह आराम से घुटने मोड़ कर बैठ गयी और
उपेर नीचे होकर मुझे चोदने लगी. उपेर नीचे होते समय उसके मम्मे उच्छल रहे
थे. मैने हाथ बढ़ाकर उन्हे पकड़ लिया और दबाने लगा. उसकी गीली चूत बड़ी
आसानी से मेरे लंड पर फिसल रही थी. उस मखमली म्यान ने मेरे लंड को ऐसा
कड़ा कर दिया जैसे लोहे का डंडा हो. मंजू मन लगाकर मज़ा ले लेकर मुझे
हौले हौले चोद रही थी. चूत से पानी की धार बह रही थी जिससे मेरा पेट गीला
हो गया था. मैने अपना पूरा ज़ोर लगाकर अपने आप को झदाने से रोका और कमर
उपेर नीचे करके नीचे से ही मंजू की बुर मे लंड पेलता रहा. आख़िर मंजू बाई
एक हल्की सिसकी के साथ झाड़ ही गयी. उसकी आँखों मे झलक आई तृप्ति को
देखकर मुझे रोमाच हो आया. आख़िर मेरे लंड ने पहली बार किसी औरत को इतना
सुख दिया था. झाड़ कर भी वह रुकी नही, मुझे चोदति रही

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:19

"पड़े रहो बाबूजी,
अभी थोड़े छ्चोड़ूँगी तुमको, घंटा भर चोदुन्गि, बहुत दिन बाद लंड मिला है
और वो भी ऐसा शाही लॉडा. और देखो मैं कहूँ तब तक झड़ना नही, नही तो मैं
आपकी नौकरी छ्चोड़ दूँगी" एस मीठी धमकी के बाद मेरी क्या मज़ाल थी झदाने
की. घंटे भर तो नही, पर बीस एक मिनिट मंजू बाई ने मुझे खूब चोदा, अपनी
सारी हवस पूरी कर ली. चोदने मे वह बड़ी उस्ताद निकली, मुझे बराबर मीठी
च्छुरी से हलाल करती रही, अगर मैं झदाने के करीब आता तो रुक जाती. मुझे
और मस्त करने को वह बीच बीच मे खुद ही अपनी चूंचियाँ मसल्ने लगती. कहती
"चुसोगे बाबूजी?" और खुद ही झुक कर अपनी चून्चि खींच कर निप्पल चूसने
लगती. मैं उठकर उसकी चून्चि मुँह मे लेने की कोशिश करता तो हंस कर मुझे
वापस पलंग पर धकेल देती. तरसा रही थी मुझे! दो बार झदाने के बाद वह मुझ
पर तरस खाकर रुकी. अब मैं वासना से तड़प रहा था. मुझसे साँस भी नही ली जा
रही थी. "चलो पिछे खिसक कर सिरहाने से टिक कर बैठ जाओ बाबूजी, तुम बड़े
अच्छे सैयाँ हो, मेरी बात मानते हो, अब इनाम दूँगी" मैं सरका और टिक कर
बैठ गया. अब वह मेरी ओर मुँह करके मेरी गोद मे बैठी थी. मेरा उच्छलता लंड
अब भी उसकी चूत मे क़ैद था. वह उपेर होने के कारण उसकी छाती मेरे मुँह के
सामने थी. पास से उसके सेब से मम्मे देखकर मज़ा आ गया. किशमिश के दानो
जैसे छ्होटे निप्पल थे उसके और तन कर खड़े थे. मंजू मेरे से लाड करते हुए
बोली "मुँह खोलो बाबूजी, अपनी मंजू अम्मा का दूध पियो. दूध है तो नही
मेरी चून्चि मेी, झुत मूत का ही पियो, मुझे मज़ा आता है" मेरे मुँह मे एक
घुंडी देकर उसने मेरे सिर को अपनी छाति पर भींच लिया और मुझे ज़ोर ज़ोर
से चोदने लगी. उसका आधा मम्मा मेरे मुँह मे समा गया था. उसे चूस्ते हुए
मैने भी नीचे से उचक उचक कर चोदना शुरू कर दिया, बहुत देर का मैं इस
च्छुरी की धार पर था, जल्द ही झाड़ गया. पड़ा पड़ा मैं इस मस्त स्खलन का
लुत्फ़ लेने लगा. मंजू उठी और मुझे प्यार भरा एक चुम्मा देकर जाने लगी.
उसकी आँखों मे असीम प्यार और तृप्ति की भावना थी. मैं उसका हाथ पकड़कर
बोला. "अब कहाँ जाती हो मंजू बाई, यहीं सो जाओ मेरे पास, अभी तो रात बाकी
है" वह हाथ छुड़ा कर बोली "नही बाबूजी, मैं कोई आपकी लुगाई थोड़े ही हूँ,
कोई देख लेगा तो आफ़त हो जाएगी. कुच्छ दिन देखूँगी. अगर किसी को पता नही
चला तो आप के साथ रात भर सोया करूँगी" मुझे पक्का यकीन था कि इस कालोनी
मे जहाँ दिन मे भी कोई नही होता था, रात को कोई देखने वाला कहाँ होगा!.
और उसका घर भी तो भी मेरे बंगले से लगा हुआ था. पर वह थोड़ी घबरा रही थी
इसीलिए अभी मैने उसे जाने दिया. दूसरे दिन से मेरा जीवन ऐसे निखर गया
जैसे खुद भगवान कामदेव की मुझ पर कृपा हो. मंजू सुबह सुबह चाइ बनाकर मेरे
बेडरूम मे लाती और मुझे जगाती. जब तक मैं चाइ पीता, वह मेरा लंड चूस
लेती. मेरा लंड सुबह तन कर खड़ा रहता था और झाड़ कर मुझे बहुत अच्छा लगता
था. फिर नहा धोकर नाश्ता करके मैं ऑफीस को चला जाता. दोपहर को जब मैं घर
आता तो मंजू एकदम तैयार रहती थी. उसे बेडरूम मे ले जाकर मैं फटाफट दस
मिनिट मे चोद डालता. वह भी ऐसी गरम रहती थी की तुरंत झाड़ जाती थी. इस
जल्दबाज़ी की चुदाइ का आनंद ही कुच्छ और था. अब मुझे पता चला कि 'चुदाई'
किस चीज़ का नाम है. चुदने के बाद वह मुझे खुद अपने हाथों से प्यार से
खाना खिलाती, एक बच्च्चे जैसे. मैं फिर ऑफीस को निकल जाता. शाम को हम
ज़रा सावधानी बरतते थे. मुझे क्लब जाना पड़ता था. कोई मिलने भी अक्सर घर
आ जाता था. इसलिए शाम को मंजू बस कित्चन मे ही रहती या बाहर चली जाती. पर
रात को ऐसी धुआँधार चुदाई होती की दिन कि सारी कसर पूरी हो जाती. सोने को
तो बारह बज जाते. अब वह मेरे साथ ही सोती थी. एक हफ़्ता हो गया था और रात
को माहौल इतना सुनसान होता था कि किसी को कुच्छ पता चलने का सवाल ही नही
था. वीकेंड मे शुक्रवार और शनिवार रात तो मैं उसे रात भर चोद्ता, तीन चार
बज जाते सोने को. मैने उसकी तनखुवा भी बढ़ा दी थी. अब मैं उसे हज़ार
रुपये तनखुवा देता था. पहले वह नही मान रही थी. ज़रा नाराज़ होकर बोली
"ये मैं पैसे को थोड़ी करती हूँ बाबूजी, तुम मुझे अच्छे लगते हो इसीलिए
करती हूँ." पर मैने ज़बरदस्ती की तो मान गयी. इसके बाद वह बहुत खुश रहती
थी. मुझे लगता है कि उसकी वह खुशी पैसे के कारण नही बल्कि इसलिए थी की
उसे चोदने को मेरे जैसा नौजवान मिल गया था, करीब करीब उसके बेटे की उमर
का. मंजू को मैं कई आसनो मे चोद्ता था पर उसकी पसंद का आसान था मुझे
कुर्सी मे बिठाकर मेरे उपेर बैठ कर अपनी चून्चि मुझसे चुसवाते हुए मुझे
चोदना. मुझे कुर्सी मे बिठाकर वह मेरा लंड अपनी चूत मे लेकर मेरी ओर मुँह
करके मेरी गोद मे बैठ जाती. फिर मेरे गले मे बाँहे डाल कर मुझे अपनी छाती
से चिपटाकर चोदति. उसकी चून्चि मैं इस आसान मे आराम से चूस सकता था और वह
भी मुझे उपेर से मन चाहे जितनी देर चोद सकती थी क्योंकि मेरा झड़ना उसके
हाथ मे था. उसके कड़े निपल मुँह मे लेकर मैं मदहोश हो जाता. शनिवार
रविवार को बहुत मज़ा आता था. मेरी छुट्टी होने से मैं घर मे ही रहता था
इसलिए मौका देखकर कभी भी उससे चिपत जाता था और खूब चूमता और उसके मम्मे
दबाता. जब वह किचन मे खाना बनाती थी तो उसके पिछे खड़े होकर मैं उससे
चिपेट कर उसके मम्मे दबाता हुआ उसकी गर्दन और कंधे चूमता. उसे इससे
गुदगुदी होती थी और वह खूब हँसती और मुझे दूर करने की झूठी कोशिश करती
"हटो बाबूजी, क्या लपर लपर कर रहे हो कुत्तों जैसे, मुझे अपना काम करने
दो" तब मैं उसके मुँह को अपने मुँह से बंद कर देता. मेरा लंड उसके साड़ी
के उपेर से ही चूतदों के बीच की खाई मे समा जाता और उसे उसकी गांद पर
रगड़ रगड़ कर मैं खूब मज़ा लेता. कभी मौका मिलता तो दिन मे ही बेडरूम मे
ले जाकर फटाफट चोद डालता था. क्रमशः..........