Hindi Sex Stories By raj sharma

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: Hindi Sex Stories By raj sharma

Unread post by raj.. » 12 Oct 2014 15:17

उम्र का फर्क होने के कारण अब्बा ने उनसे १ सप्ताह का समय माँगा -फिर क्या हुआ (मैं जाम पीते पीते उनसे पूछ बैठा हालाँकि वो नज़ारे जमीन पर गाड कर अपनी दास्तान सुना रही थी इसलिए मैं मोके का फायदा उठा कर लुंघी को एक पैर पर सरका दिया ताकी मेरा अंडर वेअर से बहार निकला हुवा मुर्झित बाबु मोशाय का दीदार कर सके पर फ़िलहाल उन्होंने कोई ध्यान नहीं दिया०-फिर क्या अब्बू ने मुझे बताया की मैं बुरी तरह से रहमान भाई का कर्ज दार बन गया हूँ और अब वो मुझ से निकाह के लिए हाथ मांग रहा हूँ पर तुम्हारी और उसकी उम्र में काफी अंतर होने के कारण मैंने उनसे एक हफ्ते को मोहलत मांगी हूँ. यह सुन कर मुझे रोना आगया की कहीं कर्ज के कारण अब्बा मेरी उम्र से ज्यादा रहमान से निकाह ना करा दे. -फिर क्या हुआ की तुम को निकाह करने के लिए मजबूर होना पड़ा -अब्बा उनको १५-२० दिनों तक जवाब देने में टालते रहे तब अब्बा के जिस दोस्त के कारण अब्बा का रहमान से परिचय हुआ था उसे मेरे अब्बा को समझाने का माध्यम बना के एक दिन शाम को हमारे घर भेजा. उन्होंने पीने के दौरान मुझे सामने बैठा कर अब्बू को समझाने लगे उन्होंने कहा यार रजाक (मेरे अब्बू का नाम) तू तो अच्छी तरह से जनता हैं की तू बुरी तरह से रहमान भाई का कर्ज दार बन चूका हैं और अब तेरे पास इतनी भी कमाई नहीं हैं की तू कर्ज़ लौटा सके शकीना का निकाह रहमान भाई से निकाह कर के तू फायदे में रहेगा क्योंकि निकाह का पूरा खर्चा रहमान भाई करेंगे और हो सकता हैं तेरा कर्ज भी मुवाफ कर दे ऊपर से तेरी छोटी बेटी सादिया का निकाह का भी वो खर्च वो उठाएंगे और तो और (मेरी ओर रुख करके) शकीना बेटी रहमान के साथ रह कर तुम बेगम साहिबा जैसी राज करोगी रहमान भाई की बेहिसाब जायदाद हैं ऊपर से सरकारी मुलाजिम हैं उनके बाद उनकी पेंसन तुम्हे मिलेगी क्यों की तब तुम कानूनन उनकी बीवी होगी हालाँकि उनको एक बेटा हैं पर अब वो बालिग हैं और कमाता हैं मानलो वो आधी सम्पति भी बेटे नाम कर देगा तो आधी तुम्हारे नाम करेगा क्यों की मुझे मालूम हैं तुम जैसी नेक लड़की अपने शोहर का बहुत ध्यान रखेगी कुल मिला कर उसकी सम्पति से तुम्हारा, तुम्हरी बहन का और अब्बा अच्छा का अच्छा खसा गुजरा हो जायेगा -फिर क्या हुआ ?-मैं और अब्बा ने उसकी बातों में आकर हामी भर दी और कुछ ही दिनों में मेरा उनके साथ निकाह हो गया -फिर क्या हुआ जो तुम आज भी खुश नहीं हो-(भाभी जान ने अपनी गर्दन उठा कर मेरी और देखा) वैसे तो वो अच्छे हैं मेरी हर ख्वाइश पूरी करते हैं मुझे सिर आँखों पर रखते हैं मुझे कोई चीज की कमी महसूस नहीं होने देते हैं (मैं जाम पीते पीते उनकी ओर देखा तो वो एक टक मेरे पैरों पर, जहां से मैंने जान भुज कर लुंघी को सरकाया था ताकी अंडर वेअर के साइड से बहार लटकता हुआ लंड बाबु को देख सके वहां पर टक टकी लगा कर देख रही थी) लेकिन .......लेकिन -लेकिन क्या भाभी जान -कैसे कहूँ समज में नहीं आता हैं -भाभी जान मैं आप से वादा कर चूका हूँ की हमारे बाते हम दोनों के बिच रहेगी आप चिंता ना करो -पप्पू भाई जान आप भी बड़े व समजदार हो गए हो और एक बेबस औरत मनोदसा अच्छी तरह समज सकते हो जिस औरत को मन मुताबिक सारा सुख मिलता हो पर निकाह से दो महीने बाद अगर उसको तन का सुख नहीं मिले तो उसकी क्या हालत होती होगी. (वो अब भी मेरे टांगो पर सरीकी हुई लुंघी में से लंड को देखने में रत थी और उसका चहरा धीरे धीरे सुर्खमयी होने लगा था)-ओह तो रहमान भाई जान में जान नहीं हैं की आप को तन का सुख दे सके -हाँ निकाह के दो महीने तक तो ठीक चल रहा था फिर .........फिर .....-फिर क्या भाभी जान ?-फिर बड़ी मुश्किल से उनके .......उनके -भाभी खुल कर कहो ना क्या उनके उनके लगा रखी हो -मुझे शर्म आ रही हैं बताने में -मैंने कहा ना अब हम दोनों के बिच कोई शर्म वाली बात नहीं रहेगी क्यों की तुम्हारी दास्तान हम दोनों के अलावा कोई नहीं जानेगा-पर कैसे कहूँ ........ अच्छा तो सुनो उनके पिसाब करने वाली जगह में बड़ी मुश्किल से तनाव आता हैं -तो तुम्हारा मतलब हैं की उनका लंड मुश्किल से खड़ा होता हैं (लंड शब्द सुनते ही भाभी जान ने गर्दन झुकाली और कुछ देर तक मौन रही फिर गर्दन उठा कर मेरे टांगो के बिच लटकते हूए बाबु राव को देख कर बोली)-हाँ भाई जान बड़ी मुश्किल से उनका खड़ा होता हैं और तुरंत ठंडा पड़ जाता हैं जिस कारण मैं तन के गर्मी के कारण प्यासी की प्यासी रह जाती हूँ -तो भाई जान को किसी डॉक्टर को दिखाओ -बहुत डोक्टोरो को दिखाया पर कोई फायदा नहीं हुआ आखिर वो उम्र दराज होते जा रहे हैं ना -तो और कोई रास्ता अपना लो किसी से अपनी तन की प्यास भुजा लो -डर लगता हैं बदनामी ना हो जाये और मेरा शोहर मुझे तलाक ना दे दे -ऊपर वाले से दुवा करो वो कोई ना कोई रास्ता निकाल देगा (कह कर मैंने अपना आखिरी जाम पूरा किया) चलो भाभी खाना खाते हैं भाभी उठ कर रसोई में जा कर प्लेट और पानी का ग्लास भर कर लाई मैं सोफे पर ही बैठ कर खाना खा रहा था जब की भाभी जमीन पर बैठ कर दिवार का सहारा लेकर खाना खा रही थी भाभी जान का दाहिना पैर घुटनों से मुड़ कर जमीन पर पड़ा था जब की बायाँ पैर घुटनों से मुड़ कर उनकी चुचियों से चिप के थे जिस कारण उनकी कमीज थोड़ी ऊपर सरक गयी थी उनकी हलके रंग की गुलाबी सलवार में से चुत वाली जगह पर सलवार का गिला पन नजर आ रहा था शायद उनकी चुत कुछ देर पहले मेरे लंड को निहार कर थोडा चुत रस छोड़ दिया था. अब उनका चेहरा फ्रेश नजर आरहा था क्योंकि उन्होंने अपने उदासी का कारण मुझे बयाँ कर चुकी थी -देखी भाभी जान अब आप का चेहरा फ्रेश लग रहा हैं और आप के चेहरे मोहरे को देख कर मुझे मेर पूर्व प्रेमिका की याद आ रही हैं -चल हट मुझे पता हैं तू मेरी बड़ाई कर रहा हैं -नहीं भाभी मैं सच कह रहा हूँ तुम हुब ही हुब मेरी प्रेमिका की तरह लग रही हो अंतर हैं तो केवल उम्र का वो मेरी उम्र से छोटी थी और आप बड़ी हो -तुम ना सही में पागल हो गए हो हम हंसी मजाक करते करते खाना खाए भाभी जान काम निबटा कर अपने कमरे में चली गयी पर दरवाजा बंद नहीं किया सो मैं भी उनके कमरे में चला आया मुझे देख कर उन्होंने मादकता भारी मुस्कान दी मैं तड़प उठा-लगता हैं आज तुम अपनी प्रेमिका को मिस कर रहे हो कह कर मेरी ओर पीठ करके वो बिस्तर ठीक करने लगी मैं उनकी मोटी मोटी चूतडों को देख कर मरे जा रहा आखिर हिम्मत जुटा कर मैंने उन्हें पीछे से पकड़ लीया…मेरा दोनों हाथ उनकी कमर पर था - क्या कर रहे हो"-"प्यार""अभी अपने कहा ना प्रेमिका को मीस कर रहे हो: मैं उसे नही आपको मीस कर रहा हूँ भाभी जान -बदमाशी मत करो उनके बदन की जकड़न से मेरे लंड बाबु में कड़क पन आने लगा और उनकी मोटी मोटी चूतड़ों पर दबने लगा वो मुझसे छुटने की कोशीश करने लगी..मैंने धीरे धीरे हाथ को सरका कर उनकी चुचिओं के ऊपर ले गया और उनके गर्दन पर एक हल्का सा चुम्बन जड़ दिया -भाई जान खुदा के वास्ते कुछ मत करो ये गलत है"-क्या गलत है भाभी मैं तो बस तुम्हे प्यार ही तो कर रहा हूँ ना -मैं शादी सुधा हूँ तो क्या हुआ......शादी सुधा हो कर भी आप प्यासी और बेबस हो ऊपर से आप इतनी हसीन हो की मेरा दिल मचल गया आप के लिए -ओह छोडो ना आआआआ भाई जान-(मैंने हलके हाथो से उसकी दोनों चुचिओं को दबा कर कान पर चुम्बा) छोड़ दू तुम्हे मेरी जान ? कह कर मैं थोडा और जोर से चुचिओं को दबाते हुवे उनके कानो पर अपनी जीभ फेरने लगा जोर से चूची दबाते ही उनकी चीख नक़ल गयी - आ आईईईईईईईई.........धीई रे..धीई रे ये सुन कर मैं समझा गया भाभी चुदवाना तो चाहती है…लेकीन नखरे कर रही है.. मेरा लंड लोहे की भांति तन कर उनके हसीन चूतड़ों पर दबाव डालने लगा अब वो भी अपनी गांड पीछे सरका कर मेरे लंड पर दबाव डाल रही थी मैंने उनकी कमीज़ के अंदर हाथ डाल कर चुचिओं को मसल ने का प्रयास कर रहा था पर कमीज टाईट होने के कारण चुचिओं तक हाथ नहीं पहुँच सका -पप्पू क्या कर रहे हो?-आप प्यार से नही करने दे रही है-क्या नही करने दे रही हू ????? कह कर वो मेरी ओर घूम गयी मैंने इस मौके पर भाभी के सिर को पकड़ कर उनका चेहरा एकदम मेरे चेहरे के करीब लाकर उनके रसीले गुलाबी होंठो को मेरे होंठो से चिपका दिया पहले तो वो अपना मुह इधर उधर करने लगी फिर थोड़ी देर बाद मेरे होठों को जगह मिल गयी तो मैंने एक लम्बा सा चुम्बन लिया वो ऊ ओह ऊ न ना ह ही करते हूए मुझसे दूर हटने लगी पर मेरी मजबूत गिरफ्त के कारण वो अपना चेहरा हटा ना सकी और धीरे धीरे मेरे चुम्बनों के वजह से वो हलके रूप में आत्मसमर्पण करने लगी मैं अब उनकी कमीज में हाथ डाल कर पीठ सहलाने लगा फिर कुछ देर बाद उनकी कमीज को ऊपर उठा कर गले तक लाया तो उन्होंने विरोध करते हुवे धीरे धीरे अपना हाथ ऊपर उठा दिया और मैंने उनकी कमीज उतार कर जमीन पर फेंक दी - क्या कर रहे हो पप्पू ?-भाभी जान मैं प्यार कर रहा हूँ भाभी जान की कमीज उतार ने से उनकी बड़ी बड़ी चुचिओं के नजदीक से देख कर तो मुझसे रहा नहीं गया उफ़ गौरी गौरी चुचिओं पर चोकलेटी रंग का चक्र धार घेरा और घेरे के ऊपर थोडा गहरा चोकलेटी रंग की घुंडी (निपल्स) वाकई मस्त चूचियां थी, मैं झट से एक चूची की घुंडी को मुह में लेकर चुसना लगा उनकी चूची अब कठोर होने लगी थी भाभी जान ने मेरे सिर को चूसने वाली चूची पर दबा लिया तो मैंने दूसरी चूची की घुंडी को एक हाथ से मसलते हूए चूची को जोर से दबा दिया -ऊऊ ई ईई धीरे......इतना जोर से मत दबाओ.... मैंने भाभी जान को पलंग पर पीठ के बल लेटा दिया उनके कुल्हे (यानि की उनकी गांड) पलंग के किनारे पर थे और पैर जमीन की ओर लटक रहे थे मैंने उनकी सलवार का नाडा खिंच दिया तो भाभी जान ने हल्का सा विरोध किया -पप्पू भाई जान यह क्या कर रहे हो, मुझे ख़राब मत करोकह कर उन्होंने अपनी गांड थोड़ी ऊपर करदी जिस कारण उनकी सलवार उतार ने में मैं कामयाब रहा. सलवार जमीन पर पड़ी थी और उनकी गौरी गौरी टांगो के बिच छोटे छोटे बालों से ढकी चुत को देख कर मैंने तो उन्मादित होने लगा. मुझसे अब रहा नहीं गया और मैंने अपनी लुंघी और बनियान उतार दी अब केवल अंडर वेअर में खड़ा होकर कहा जब मैं अपने कपडे उतार रहा था तब भाभी जान ने मोका पाकर उठ कर बैठ गयी और एक टांग को दूसरी टांग पर रख कर अपनी अपनी चुत को छुपा कर दोनों हाथो से अपने स्तन छुपाली -पप्पू भाई जान मुझे क्यों परेशान कर रहे हो

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: Hindi Sex Stories By raj sharma

Unread post by raj.. » 12 Oct 2014 15:18

-प्यारी भाभी जान नखरे भी करती हैं और करवाना भी चाहती हैं.कह कर मैंने अपना अंडर वेअर भी निकाल डाला मेरे लोहे समान तने हूए मोटे और लम्बे लंड को देख कर वो अवाक् रह गयी -या अल्लाह आ इतना मोटा और लम्बा आज तक नहीं देखा (कह कर वो फटी फटी आँखों से लवडे महाराज को देखने लगी) -क्यों भाभी जान बहुत प्यारा हैं ना ... यह तुम्हे बहुत प्यार करेगा कह कर मैं फिर उनको पलंग पर लिटा कर उनके ऊपर आ गया और होंठो पर चुम्बनों की बरसात करते हूए उनकी गौरी चुचिओं को हल्का हल्का दबाते हुवे चूची की घुंडी को मसल ने लगा इस बार वो केवल -आह ह ह ऊउफ़्फ़ म..मत करो ना कह कर मेरे बदन से लिपटने लगी और मेरी पीठ को सहलाने लगी मेरा लवड़ा उनकी टांगो पर तना होने के कारण दबाव डाल रहा था हम दोनों अब उन्मादित सागर में गोता लगाने लगे तब मैंने उठ कर उनके सिरहाने बैठ कर उनके हाथ को लंड पर रख कर कहा -भाभी जान अपने प्यारे लाल तो थोडा सहलाओ भाभी जान ने अब निसंकोच होकर लंड को पकड़ लिया और अपने हथेली को मेरे अंडकोष के करीब सरका दिया तो गुलाबी रंग का मोटा सुपाडा लंड की चमड़ी से निकाल कर बहार आ गया. भाभी जान को भी बदमाशी सूझी उन्होंने लंड और अंडकोष को जोर से दबा दिया -आअआह भाआ भीईई प्यार से सहलाओ ना -क्या प्यार से सहलाओ कहते हो यह कितना मोटा और लम्बा हैं की हथेली में भी नहीं समाता हैं लगता हैं यह प्यारे लाल आज मुझे बर्बाद कर के ही छोड़ेगा कह कर वो लंड को प्यार से सहलाने लगी कुछ देर बाद मैं पलंग से उतर कर उनके पलंग के किनारा से लटके हूए पैरों को फैला कर उनके पैरो के बिच बैठ कर पहले कुछ देर तक उनकी फूली हुई मोटी चुत को सहलाया फिर चुत पर चुम्बा लेकर चुत को जीभ से रगड़ ने लगा -(मेरे सिर को अपनी चुत से हटाते हूए) छि छि छि कितने गंदे हो वहां क्यूँ मुह लागाते हो – भाभी बस आप चुप रहिये और देखते रहिये -भाभी कह कर इज्जत भी करते हो और इज्जत से खिलवाड़ भी ...ऊऊऊऊऊईईईईईईईईईई जैसे ही मैंने अपनी जीभ को चुत के अन्दर घुसाया शकीना भाभी की मुह से उई की आवाज निकल पड़ी मैं उनकी आवाज की परवाह न करते हुवे चुत की चारो तरफ जीभ को गोल गोल नाचने लगा तो भाभी जान काफी गरमा गयी थी -आआह्ह्ह ओह्ह्ह पप्पू ऐसा मत करो मैं पागल हो रही हूँ ओह्ह्ह्ह नन नही ना पर मेरी जीभ चोदन की क्रिया जारी थी एक तो चुत से चुतरस निकालने के पूर्व निकाला हुवा पानी (यानि की प्री कम) का स्वाद जीभ पर लग रहा था और नाक से चुत व मूत की महक सूंघने के कारण मैं मतवाला हो कर तेजी से चाटना सुरु किया किस कारण शकीना भाभी ने मेरे सिर को चुत पर दबाते हूए ऊपर से दबाव डाल रही थी तो कभी कभार अपनी गांड को उपर उठा कर नीची से दबाव डाल रही थी भाभी जान जीभ चुदाई के कारण मदहोश हो चुकी थी तब मैंने अपने हाथ की उंगली उनके मुंह में दे दी वो उंगली को चूसते हुवे अपने शरिर को अकड़ाकर मेरी जीभ को अपने चुत रस से सरोबर कर दिया मैं अब उठ कर पलंग के किनारे बैठ गया -क्यों भाभी जान मजा आया ना -तुम भी ना बड़े वो हो -अच्छा अब उठो और पलंग ने निचे बैठो -क्यों पप्पू जी -मेरी शकीना रानी सवाल मत करो जैसा कहूँ वैसा ही करो तुम को बहुत मजा आयेगा -अच्छा मेरे राजा कह कर वो जमीन पर मेरे पैरो के बिच बैठ गयी मैंने उसका सिर पकड़ कर उसके होंठो पर लंड के सुपाडे को रगडा वो समाज गयी मैं मैं लंड चुसवाना चाहता हूँ तो अपना मुह खोल कर लैंड को चूसने लगी वो लंड चुसाई में माहिर थी इसलिए तो अपना शोहर के मुर्दा लंड को चूस चूस कर थोड़ी जान भर देती थी -साली क्या लंड चुसाई करती हो वाकई मजा आगया चल उठ और पलंग पर लेट जा -(पलंग पर लेट कर) हरामी जब झड़ने लगो तो बहार निकाल लेना क्योंकि मैं अभी सैफ नहीं हूँ माँ बन सकती हूँ -फिक्र मत कर मेरी जान मैं बहार निकाल लूँगा कह कर उसके पैरों के बिच आकर पैरों को फैला कर अपने कंधे पर रख कर लंड के सुपाडे को चुत के दाने और दोनों फानको को सहलाने लगा -भाभी जान कैसा लग रहा हैं -हरामजादे शकीना रानी की चुत पर अपना लंड लगता हैं ऊपर से भाभी जान कहता हैं ......चल मुसलधारी लंड वाले अब जो करना हैं जल्दी से कर डाल उनको इस तरह कहने से मैं जोश में आगया और जोर जोर से चुत को सुपाडे को रगड़ ने के साथ साथ उनके चुचक को दबाने लगा -ऊईईईई मम्म माँ मत तडपाओ ना डालो ना ऊऊउईईईईई ह्ह्ह्हाआआअ शकीना को मुसलधारी लंड को पाने के लिए तड़पता देख कर मुझे मजा आ रहा था- मादर्चोद और कीतना तड़येगा !!मैं हंसा और अपाना लंड उसके चुत के मुहाने पर रख कर दबाया.भाभी तड़प उठी…….ऊऊओह्ह्ह् ह्ह्ह मर गयीईई माद्र्र्र्र्र्चोदददद कल्ल्ल्ल्लल्ल्ल निकाआल्ल्ल. …… बोहोत मोटा हैह्ह्ह्ह.. मैं मर जाऊगीईईईइ. …मैं रूक गया. और उसे लंड को चुत से बहार निकाला भाभी ने आंखे खोली….और पुछा"-अब क्या हुआ बहन के लवडे ?-आप ने कहा निकालो तो मैंने निकाल दिया -मादरचोद भडवा क्यों तदपा रहा हैं कर ना बहनचोद डाल ना रे मैंने आव देखा ना ताव और लंड को चुत पर रख कर जोर का झटका मारा…….. …भाभी का पुरा बदन एठ गया -आआआआआआआआआअ आआआआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् ह्ह्ह्ह्ह्छ मार दलाआआआअ रेईहरमीईईई. ……… .. ये आदमी का है की घोड़े का,ऊऊफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़् अब मैं आहिस्ता आहिस्ता लंड को चुत के बच्चे दानी तक घुसा दिया उसकी चुत की गर्म गर्म दीवारे मेरे लंड को चारों और जकड़ी हुई थी मानों उंगली में अंगूठी फंसी हो . मैंने अब थोडा थोडा आगे पीछे करने लगा और भाभी को चूमने लगा… नीप्पल को चूसने लगा.. वो थोडा नॉर्मल हूई उनकी चुत पूरी तरह पनिया गयी थी इसलिए जब मैंने करीब आधा लंड बहार निकाल कर तूफानी शोट मारने लगा तो कमरे में फचा फच की आवाजे संग संग भाभी जान की सिसकारियां गूंजने लगी पूरा माहोल चुदाई मयी बन चूका था इसी दरमियान भाभी २ बार झड़ चुकी थी अब वो भी अपनी गांड उठा उठा कर मेरा साथ देने लगी थी - वहा मेरे शेर !!! वाह आज मुझे पहली बार इतना मजा आया ऊऊऊह्हहा ..आज मेरी मुराद पूरी हो गयीईईईइ. .. ऊऊऊह् ऊओह्ह्ह्ह्ह्ह् मेरा निकलने वाला हैं ऊऊऊउईईईईई ह्ह्ह्हाआआअ ज्जऊर से करो राजा मैं उनकी चुदाई के संग संग उनके पुरे बदन को जोर से भीचा और मेरे लंड ने गरम गरम पिचकारी भाभी की चुत में छोड दी. samaapt

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: Hindi Sex Stories By raj sharma

Unread post by raj.. » 12 Oct 2014 15:21

शीला आंटी और उनकी दो बेटियाँ-1

यह कहानी एक सत्य घटना पर आधारित है। आप इसका पूरा मज़ा उठा सकें इसलिए इसमें कुछ काल्पनिक घटनाएं भी जोड़ी हैं लेकिन पात्र उतने ही हैं। अधिकतर दृश्य ज्यूँ के त्यूं है। बस आप यह समझ लें कि लगभग नब्बे प्रतिशत कहानी सत्य है.

जी हाँ. मैं आज से लगभग दो महीने पहले मुंबई पी एच डी करने के लिए आया था. मैं बीस साल का हूँ और दिखने में इतना खुबसूरत नहीं लेकिन मेरा जिस्म काफी भरा हुआ है. मेरे एक दूर के रिश्ते के चाचा यहाँ रहते हैं. मैं उन्ही के यहाँ रह रहा हूँ. उनके तीन बेडरूम का फ्लैट है बांद्रा में. उनकी पत्नी शीला की उम्र चालीस की है लेकिन बहुत ही खुबसूरत हैं और जिस्म भी अभी तक मजबूत है. उसके स्तनों का उभार जबरदस्त है. उनकी दो बेटियाँ है अंजना और मंजुला. अंजना बीस की है और मंजुला अठारह साल की. दोनों भी अपनी मां की तरह बला की खुबसूरत है. जिस तरह शीला आंटी की खासियत उसके स्तन है; अंजना की टांगें और जांघें बहुत ही सेक्सी है. मंजुला के होंठ तो जैसे नारंगी की फांक है.

अंजना और मंजुला मुझे छुप छुप कर कई बार देखती रहती है और मुस्कुराती रहती है. कभी कभी दोनों अपने जिस्म के हिस्सों को मुझे दिखने का प्रयास भी करती रहती है.. कई बार मैं भी उन्हें देखकर मुस्कुरा उठता हूँ. मैं इन तीनों को हर रोज नजर बचाकर देखता रहता हूँ.

शीला आंटी अपनी उम्र के हिसाब से काफी तजरुबेकार है. एक दिन उसने मेरी चोरी पकड़ ली. मैंने तुरंत नजरें झुका ली. शीला आंटी ने कुछ नहीं कहा. एक दो दिन शांत रहने के बाद मैंने फिर से उन्हें ताकना शुरू कर दिया. एक दिन मैं अपने कमरे में बैठा पढ़ रहा था. मुझे प्यास लगी तो मैं रसोई में पानी लेने चला गया. शीला आंटी उस वक्त नहाकर बाथरूम से बाहर ही आई थी. उनके कमरे का दरवाजा खुला था. उन्होंने एक तौलिया लपेटा हुआ था. तौलिया उनके स्तनों के आधे भाग को ढंकते हुए शुरू हो रहा था और उनकी जाँघों के उपरी भाग पर ख़त्म हो रहा था. मैं शीला आंटी को देखता ही रह गया. मन ही मन बोला " कौन कहता है ये चालीस साल की है. ये तो पच्चीस की जवान से भी ज्यादा खुबसूरत और गरम है." मैं दरवाजे की ओट से शीला आंटी को ललचाई नज़रों से देखने लगा. अचानक शीला आंटी ने अपना चेहर घुमाया और वो मेरे सामने थी और मैं उनके. मैं तैयार नहीं था की खुद को संभालता. शीला आंटी ने मुझे देखते ही अपनी आँखों में गुस्सा भर लिया और बोली " तुम मानोगे नहीं. तुम्हारी शिकायत तुम्हारे चाचा से करनी पड़ेगी." मैं घबरा गया. मैं जैसे ही पलता शीला आंटी ने मुझे कहा " इधर आओ. कहाँ जा रहे हो." मैं डरते हुए उनके पास गया. मैं जैसे ही उनके करीब पहुंचा उनके स्तनों के उभार ने मुझे भीतर तक हिला दिया. उनके बदन से आ रही खुशबु ने मेरे होश छीन लिए. शीला आंटी ने मेरी तरफ देखते हुए कहा " तुम्हें इस तरह से देखना अच्चा लगता है ना. लो अब अच्छे से देख लो." शीला आंटी ने तौलिया हटा लिया. उनका गदराया जिस्म मेरे सामने थे. उनके भरी भरकम स्तन जैसे अपने पास आने का निमंत्रण दे रहे थे. उनकी भरी हुई कमर जैसे रस टपका रही थी. उनकी मजबूत जांघें और टाँगे जैसे यह कह रही थी कि इंतज़ार किस बात का . किसी मिठाई की तरह खा जाओ. मैं पागल हो गया. शीला ने तौलिये को वापस लपेटा और बोली " जाओ आज के लिए इतना ही काफी है." मैं चुपचाप वापस अपने कमरे में आ गया.

सारी रात मैं सो नहीं पाया. बार बार शीला आंटी का शारीर मेरे सामने आता रहा. मेरी अंडरवेअर अचानक ही गीला हो गया.

अगले दिन मैं शाम को जब कॉलेज से घर लौटा तो शीला आंटी घर पर अकेली ही थी. अंजना और मंजुला की कॉलेज देर शाम को छुटती है. मैं शीला आंटी से नजरें नहीं मिला पाया और अपने कमरे में आ गया. कुछ ही देर बाद शीला आंटी मेरे कमरे में आई. वो मेरे सामने की कुर्सी पर बैठ गई और मुझे देखकर मुस्कुराने लगी. मैं घबरा उठा. शीला आंटी बोली " क्या हुआ? इस तरह उदास क्यूँ हो? आज तुम्हरी इच्छा पूरी नहीं हुई इसलिए?" मैं कुछ ना बोल सका और अब तो ज्यादा घबराने लगा. तभी मैंने देखा की शीला आंटी ने अपनी साड़ी के पल्लू की अपने सीने से हटा इया और अपने ब्लाउस के बटन खोलने लगी. कुछ ही पलों में उनके स्तन उनकी चोली में से बाहर झाँकने लगे. मेरी आँखें विश्वास नहीं कर पा रही थी. शीला आंटी ने फिर कहा " इतना ही देखोगे ! आओ इधर आओ." मैं घबराते हुए उठा और उनके करीब चला गया. मेरी साँसें तेज चलने लगी. शीला आंटी ने मुझे अपनी चोली के हुक दिखाते हुए कहा " इन्हें खोलो." मैंने दोनों हुक खोल दिए. एक बार फिर शीला आंटी के दोनों स्तन मेरे सामने थे. इस बार वो मेरे बहुत ही करीब थे. शीला आंटी मेरे एकदम करीब आ गई और मुझे अपने सीने से लगा लिया. उनके स्तनों के उभार को मैं अब महसूस कर रहा था. मुझे लगा जैसे मैं किसी रबर के गद्दे को दबा रहा हूँ. शीला आंटी ने मुझे करीब दो मिनट तक भींचे रखा. मैं नशे में आ गया. अचनका शीला ने मुझे अपने से अलग करते हुए कहा " चलो तुम बाहर चले जाओ. अंजू और मंजू आती ही होगी. आज बस इतना ही." मैं बेकाबू हो गया था लेकिन मेरे पास और कोई दुसरा रास्ता नहीं था. मैं अनमने मन से बाहर आ गया.

रात को खाना खाते वक्त शीला आंटी ने मुझसे नजर मिलते ही एक मुस्कुअराहत फेंकी. मैं समझ गया कि अब रास्ता साफ़ है और कल भी मुझे ये नजारा नसीब होनेवाला है.

अगले दिन मैं जैसे ही कॉलेज से लौटा मैंने देखा कि शीला आंटी मेरे ही कमरे में बैठी हुई है, हम दोनों एक दुसरे को देख मुस्कुरा दिए. शीला आंटी ने मुझे अपने पास आने का इशारा किया और अपनी साड़ी का पल्लू सीने से हटा दिया. मैं समझा गया. मैंने तुरंत ब्लाउस के बटन खोले और फिर चोली के हुक भी खोल दिए. अब शीला आंटी ने मेरी शर्त उतार दी और फिर मेरा बनियान भी उतार दिया. फिर अचानक उन्होंने मुझे अपने सीने ले गा लिया. मैं तो जैसे आज जन्नत में पहुँच गया था. अपनी जिन्दगी में पहली बार किसी औरत के सीने से अपना सीना स्पर्श करने का मौका मिला था. मैंने भी शीला आंटी को कसकर दबा दिया. अब उन्हें भी मजा आने लगा था. हम दोनों मेरे पलंग कि तरफ बढे और शीला ने मुझे पलंग पर गिरा दिया और फिर खुद भी मुझसे लिपट गई. हम दोनों लगभग दस मिनट तक आपस में लिपटे रहे. फिर अंजू मंजू का ख़याल आते ही शीला आंटी अपने कमरे में लौट गई. अब यह सिलसिला रोज चलने लगा. लेकिन सिर्फ उपरी कपडे उतारकर एक दुसरे को गले लगाने तक ही.