तीन घोड़िया एक घुड़सवार compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 01:33

Idhar geeta pade pade apni panty utar kar apni chut sahlati hui kaphi der se garam ho rahi thi aur soch rahi thi ki aaj to rajesh bhi jaldi hi so gaya hai aur na bhi sota to kon sa mujhe thandi kar deta, use rah rah kar land ki chaht mehsus ho rahi thi use bar bar apne bête ke mote land ki yaad sata rahi thi aur vah man hi man soch rahi thi ajay ka land kitna mota hai, kaise ajay uski panty sunghta hai jab bhi mere pas baithta hai kaise ma ma kahta huye mujhe apni baho mai kas leta hai hay us samay mujhe bhi kitna maza aata hai, par vah aage kyo nahi badhta hai, meri chut apne hatho mai bhar kar kyo nahi dabata hai, meri gand to vah kai bar sahla deta hai, mai jab kapdo mai apne bête ko itni achchi lagti hu to use nangi kitni achchi lagugi, vo bhi mujhe nangi dekhne ke liye tarasta hoga par kya karu kuch samajh mai bhi nahi aata upar se ghar mai sabhi log rahte hai , apni chut maslte huye hay ek bar kaise bhi karke chod de bête apni ma ko, aur chut tej tej ghisne lagi, tabhi usne socha kyo na ajay ke room me jhanka jay shayad ajay apna land nikal kar hila raha ho aur use kam se kam uske mote tagde land ke darshan hi ho jaye to vah bhi shanti se muth mar sakegi, bas yah khyal aate hi uske kadam apne bête ke room ki aur chal pade,

Geeta jaise hi ajay ke room ke pas jati hai uske kamre mai kisi ko na pakar soch mai padh jati hai aakhir ajay gaya kaha tabhi use rashmi ke room ki light jalti dikhai padti hai vah dhire se rashmi ke room ke pas jati hai, tabhi use andar se kuch siskariyo ki aawaj sunai deti hai, jab vah andar ka najar adekhti hai to uske hosh ud jate hai aur uska muh khula ka khula rah jata hai. andar ka najara dekh kar to uske hath panv sunn pad jate hai, anadar rashmi apni bhabhi ki god mai puri nangi hokar chadhi hui thi aur apni nangi bhabhi se chipki hai aur ajay un dono ke pas nanga khada hai aur rashmi aur aarti dono ek sath ajay ka mota land chus rahi hai, geeta yah sab dekh kar sihar uthti hai aur chupchap apni sanse thame andar ka najara dekhne lagti hai, Udhar rashmi aur aarti ajay ka land chus chus kar lal kar deti hai tabhi ajay dono mastani nangi ghodiyo ko uthata hai aur bed par aakar ajay let jata hai aur apni bhabhi ko apne upar chadha kar uska muh apne pairo ki aur karke uski chut apne muh par rakh leta hai, aarti apne pairo ke bal baith kar ajay ke muh ki aur apni gand kar deti hai aura jay apni bhabhi ki gand aur chut ko chatne lagta hai, idhar rashmi apne bhai ke pet ke aas pas apni dono tange kar ke apni gand aarti ki aur karke jhuk jati hai aura jay ka mota land jhuk kar chusne lagti hai, uski uthi hui gand dekh kar aarti thoda jhuk kar rashmi ki gand aur chut peeche se chatne lag jati hai, ajay pada pada apni bhabhi ki gand aur chut chatta hai aarti apni nanad ki uthi hui gand aur chut chatti hai aur rashmi apne bhai ke mote tane huye land ko chusti hai aur teeno apne apne anand mai kho jate hai, bahar geeta ye sab dekh kar baichan hone lagti hai aur apni sadi uthakar apni do ungliya apni chut mai dal kar ragdne lagti hai,

rashmi apna muh land se hata kar oh bhabhi oh bhabhi aise hi aise hi chato apni nanad ki gand aur chut ko ha ha aise hi chat chat kar puri lal kar do bhabhi, aah aah aah aur phir ajay ka land apne muh mai bhar kar kas kas kar chusne lag jati hai, udhar aarti sisiyate huye oh dever raja aise hi chuso apni bhabhi ki chut oh oh shabash pura ras chus lo mere raja apni bhabhi ki chut ka aah aah aah,

yah sab bate sun kar geeta apne hi hantho se apni chuchi aur chut ko joro se kuchlne lagti hai, aur tej tej siskiya lene lagti hai, lagbhag 10 minute tak teeno ek dusre ke land aur chut ko chat chat kar lal kar dete hai aur teeno apna apna ras ek dusre ke muh mai chod dete hai, geeta rashmi ko apne bhai ka gadha ras peete dekhti hai to uske muh mai pani aa jata hai aur vah apne bête ke land ka ras peen eke liye tadapne lagti hai, jab teeno ek dusre ki chut aur land ka eke k katra chat jate hai to rashmi aur aarti ajay ke aas pas usse chipak kar dono apni apni moti moti janghe ajay ke upar chadha kar use daboch leti hai,

ajay dono nangi mastani ghodiyo ki gand sahlate huye kabhi apni bhabhi ke gal aur honth chumta hai kabhi apni didi ke honth aur galo ko chumta hai jisse aarti aur rashmi dono ko phir se masti chadhne lagti hai aur phir teeno ek sath apni apni jeebh nikal kar ek dusre ke muh me dene lagti hai ajay apni bhabhi aur apni bahan dono ki jebh ko ek sath apne muh mai bhar kar chusne lagta hai, phir dono ajay ke land se phir khelne lagti hai aarti ajay ke mote dande ko sahlati hai aur rashmi uski dono gotiyo se khelne lagti hai,

yah sab dekh kar geeta apni chut mai bahut teji se apni ungliya chalane lag jati hai aura jay ke land ko apne muh mai bharne ke liye tadap jati hai, tabhi ajay uth kar baith jata hai aur aur aarti apni peeth ke bal let jati hai aur rashmi aarti ke nange badan par pet ke bal let jati hai aur aarti aur rashmi ek dusre ke upar lete let eek dusre ke hontho ka ras peene lagti hai aura jay dono ke pairo ki taraph aakar dono ki gand aur chute k sath phaila phaila kar chatne chusne lagta hai, aur phir ajay uth kar apna land ek jhatke mai aarti ki chut mai pel deta hai aur apni didi ki gand aur chut mai eke k ungli dal kar dono ko chodne lagta hai,

aarti aur rashmi dono ek dusre ke doodh ko kas kas kar dabane lagti hai, ajay kabhi land aarti ki chut mai dal kar chodta hai kabhi rashmi ki chut mai dal kar chodta hai aur apni ungli se unki gand aur chut ki bhi chudai karta rahta hai, is tarh ajay karib 20 minute tak apni didi aur bhabhi ki chudai karta hai, aba jay khud let kar rashmi ko apne muh mai baitha leta hai aur uski chut peene lagta hai aur aarti ko apne land par chadha leta hai aarti ajay ke land par baith kar kudne lag jati hai, udhar geeta apne mastane bhosde ko lag raha tha ki apne hatho se hi phad dalegi uska vasna charam par pahuch chuki thi vah apni chut ke dane ko apni do ungliyo se kas kas kar masal masal kar sisiya rahi thi,abhi aarti kin ajar khidki par pad jati hai aur use geeta najar aa jati hai aur uske hontho par ek kamyabi wali muskan pahil jati hai, use uska paln safal hota najar aane lagta hai ab vah apni sas ko dikhane ke liye aur teji se chilla chilla kar ajay ke land par kudne lagti hai oh ajay phad do apni bhabhi ki chut aah aah aah mere raja maza aa gaya kitna mota aur must land hai tumhara kitna kasa kasa ja raha hai meri chut mai aah aah,

karib 10 minute tak isi tarah aarti chudne ke bad hat jati hai aur rashmi aa kar apne bhai ke mote land par baith jati hai aur aarti ajay se chipak kar apni chuchiya uske muh mai dal kar chusane lagti hai aura jay ko dhire se uske kan ke pas aakar kahti hai, ajay hamari plan success ho gaya mai jo chahti thi vah ho gaya, tumhari mummy khidki se hum teeno ko paglo ki tarah aankhe phad phad ke chudai karte dekh rahi hai, ajay ne khidki ki aur najar dali to use apni mummy najar aa gai aur vah muskura kar apni bhabhi ke rasile hontho ko chusne laga,

Ab ajay ka josh apni ma ko dekh kar aur badh gaya aur usne rashmi ko pakad kar bed se neeche utarkar use bed se jhuka kar kas kas kar uski chut ko peeche se thokne laga, aarti rashmi ke aage let kar uske mote mote bobe dabane lagi aur uske honth chusne lagi ajay rashmi ki chut gand taraf se kas kas kar kut raha tha aur rashmi hay bhaiya hay bhaiya aise hi aise hi chodo apni didi ko aah aah aah aah ha ha aur tej bhaiya aur tej bhaiya isi tarah khub kas kas kar maro apni bahan ki chut, oh oh oh oh bahiya phad do apni didi ki chut, ajay apni puri rafter se apni bahan ki chut marne laga pure kamara unki chudai ki madak aawaj se gunj utha aur jab ajay ne ek tagda jhatka apni bahan ki chut me mara to uska land apni bahan ke chut mai jad tak sama gaya aur rashmi dher sara pani chodti hui bed par pet ke bal gir padi,

tabhi ajay ne apna mota land uski chut se nikala aur tab tak aarti aakar bed par jhuk kar apni moti gand utha chuki thi phir ajay ne ek tagde jhatke ke sath apna mota land apni bhabhi ki chut mai utar diya, aur humach humach ke apni bhabhi ki moti gand pakad ke chut marne laga, aarti aur kas kas ke maro aur kas kas ke maro phad do apni bhabhi ki chut ko aur kas ke chodo mere dever raja aur apni tee ungliya ek sath rashmi ki khuli hui bur mai pelne lagi idhar ajay tabiyat se apni bhabhi ki chut ki kutai karne laga, aarti aah aah karne lagi aur jor se aur jor se thoko dever ji apni bhabhi ko aah aah aur ajay ne apnee speed pure rafter se badha di, aur ek ghamasan chudai ke bad aarti bhi jhad gai,

phir dono nanad bhabhi ne niche baith kar ajay ke land ko ek sath paglo ki tarah chatna shuru kar diya is najare ko dekhte dekhte geeta ki chut ne dher sara pani chod diya aur uske pair khade khade kampne lage aur vah buri tarah iskhalit ho gai. Idhar ajay ne bhi apne land se dher sara juice chhod diya jise dono nanad bhbhi pura ka pura chat gai.

Is tarah ek jordar chudai karke teeno nange hokar ek dusre se chipak kar bed par let gaye, aur geeta lambi lambi sanse leti hui apne bed par aakar dham se gir gai.

Roj ki tarah subah subah sabhi log baith kar chai pee rahe the, rashmi bilkul normal lag rahi

thi aur kaphi khush najar aa rahi thi, ajay aur aarti dono andar se thode vyakul the lekin

normal hone ka dikhawa kar rahe the, jabki geeta ka chehra kaphi tanav se bhara tha aur

vah ajay,

aarti aur rashmi ke chehro par khuchh khojne ki koshish kar rahi thi, ajay aur aarti,

geeta ki vyakulta ko bhali bhati samajh rahe the lekin dono mai se koi bhi kuchh kahna nahi

chah raha tha, tabhi rashmi ne geeta se puchha ma aaj kya khana banana hai, geeta teri

bhabhi aur tu dono milkar decide kar lo aur itna kah kar chup ho gai,

kramashah......................


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 01:33

raj sharma stories

तीन घोड़िया एक घुड़सवार--9

गतान्क से आगे...................

अब उसके चेहरे पर एक जलन पैदा करने वाले भाव नज़र आ रहे थे, आरती और अजय दोनो

उसके चेहरे को पढ़ चुके थे, तभी आरती उठ कर किचन की ओर जाने लगी और उसने धीरे से

अजय को आने का इशारा किया, थोड़ी देर बाद अजय उठ कर आरती के पास किचन मे चला गया,

क्या बात है भाभी, अजय तुमाहरी मा हम लोगो से मन ही मन खफा है, हाँ भाभी वो तो

मुझे भी लग रहा है पर अब क्या करे भाभी कही मा ज़्यादा नाराज़ ना हो जाए, आरती अरे उनका

गुस्सा इस बात का नही है कि हम लोग ग़लत काम कर रहे थे, बल्कि उनका वो जलन के मारे

हमसे गुस्सा कर रही है, तो फिर अब क्या करे भाभी, अजय जा कर अपनी मा को पटाओ, उसको

थोड़ा तेल लगाओ, तुम्हारी तारीफ से वह तुरंत पट जाएगी, और तुम्हारा काम बनने मे आसानी

रहेगी,

या ये समझ लो कि अब तुम्हारी मंज़िल दूर नही, अजय भाभी की बात समझ गया और बाहर

चला गया, गीता बाहर खड़ी होकर पास वाली किसी आंटी से बाते कर रही थी, तभी रश्मि भी भाभी के पास किचन मे चली गई अजय रश्मि को जाते हुए देख रहा था घोड़ी आज जीन्स पहनकर अपनी गंद मटका रही थी, अजय भी उठ कर किचन की ओर चल दिया और अंदर जा कर अपनी भाभी आरती और बहन रश्मि के पास जाकर दोनो मस्तानी घोड़ियो के एक एक दूध को पकड़ कर मसल्ने लगा, यह एक सेक्सी नज़ारा था कि एक ही मर्द दो दो औरतो की टोटल चार चुचियो को एक साथ मसल रहा था क्या किस्मत पाई थी हमारे अजय बाबू ने,

तभी रश्मि ने अजय को पकड़ कर बाहर धकेलते हुए, रात भर चोदा है फिर भी पेट नही भरा, अभी मा देख लेगी तो सब गड़बड़ हो जाएगी, और दोनो ननद भाभी खिलखिला कर हास पड़ी अजय जब किचन से बाहर आया तो

उसने देखा कि उसकी मम्मी बालकनी मे अपनी गंद उठाए रलिंग पर झुक कर खड़ी है, तब उसके कदम अपनी प्यारी मम्मी की ओर चल दिए,

अजय लपक कर मा के पास गया और पीछे से मा मा कहता हुआ आरती के मोटे मोटे चूतादो से चिपक गया, और आगे हाथ लेजा कर अपनी मा की मोटी चुचियो को भींच लेता है, गीता थोड़ा नखरा करते हुए बड़ा प्यार जाता रहा है अपनी मा से,

ओ मा तुमसे प्यार नही जताउन्गा तो किस से प्यार जताउन्गा आख़िर तुम मेरी प्यारी मा हो और गीता के गोरे गालो को चूम लेता है, गीता बिगड़ते हुए चल रहने दे दो दो दिन मे तुझे अपनी मा की याद आती है,

बाकी समय पता नही कहाँ कहाँ प्यार जताता रहता होगा,

अजय अपनी मा को जलते देख कर मन ही मन खुश होता हुआ अपनी मा को अपनी तरफ घुमा कर अपने सीने से लगता हुआ उसकी चुचियो को अपनी छाती से दबा देता है, ओ मा तुमहरे सिवा मैं किसी से प्यार ही नही करता तो फिर किससे प्यार जताउन्गा, और पीछे हाथ ले जाकर अपनी मा के मोटे चूतादो के दोनो पाटो को दबाते हुए अपने लंड की ओर खींचता है, गीता उसे अपने सीने से चिपकते हुए, तो फिर दो दिन से तू अपनी मा के पास क्यो नही आया, क्या तुझे अपनी मम्मी की याद नही आई, अजय प्यार से गीता के गले लगते हुए उसके मोटे मोटे चूतड़ सहला रहा था और उसका लंड पाजामे के अंदर खड़ा होकर सीधे अपनी मा की चूत मे ठोकर मार रहा था,

उसकी ठोकर गीता भी अपनी फूली हुई चूत और पेडू पर महसूस करने लगी और वह समझ गई कि उसके बेटे का लंड अपनी मा को मसल्ते हुए खड़ा हो चुका है और उसकी चूत मे भी गीलापन होने लगा, अजय ओ मा मेरी ग़लती के लिए मुझे माफ़ कर दे और गीता के गालो और उसकी गर्देन को चूमने लगा,

गीता अब तक गरम हो चुकी थी और उसने अजय को अपने मोटे मोटे दूध से दबाते हुए उसके गालो को चूमने लगी मेरा प्यारा बेटा, तुझे मालूम नही तेरी मा तुझे देखे बिना एक पल नही रह पाती है, ओह मा मैं भी तो तुम्हारे बिना नही रह पता हू, और अपनी मम्मी के मोटे मोटे चूतादो को दोनो हंतो से कस कर दबाता है जिससे अजय का खड़ा लंड गीता की चूत मे एक गहरी चुभन पैदा कर देता है, और गीता कमरस से भीग कर पागल होने लगती है, गीता को अजय से इस तरह चिपकने मे बहुत मज़ा आता है और वह सोचती है कि इस मज़े को और ज़्यादा मजेदार कैसे बनाऊ मेरी चूत तो अपने बेटे के लंड के लिए तड़प उठती है, फिर गीता कुछ सोचकर बेटे तू मेरे रूम मे चल, हम मा बेटे वही बैठ कर बाते करेंगे और अजय को लेकर अपने रूम मे आ जाती है,


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 01:34

बेटा तू बेड पर बैठ मैं थोड़ा अपने कपड़े चेंज कर लू, आज इस साडी मे काफ़ी गर्मी लग रही है और गीता बाथरूम मे जाकर मन ही मन इस साडी ब्लाउस मे तो अजय को मज़ा ही नही आता होगा और सारे कपड़े उतारकर पूरी नंगी हो जाती है, और अपने नंगे बदन पर सिर्फ़ एक पतली सी मॅक्सी पहन लेती है, और फिर मस्तानी चाल चलते हुए अजय के पास आ जाती है अजय अपनी मा को पतली सी मॅक्सी मे देखता है तो उसका लंड झटके मारने लगता है, उसकी मा की मोटी मोटी जंघे मॅक्सी से अलग ही नज़र आ रही थी,

गीता पास आकर अजय से सॅट कर बेड पर बैठ जाती है, दोनो के चेहरे काम वासना से लाल दिख रहे होते है, गीता जब अपनी नशीली कामुक आँखो से अजय को देखती है तो अजय और गीता की नज़रे एक दूसरे से कुछ समय के लिए मिल जाती है , और दोनो समझ रहे है कि दोनो के चूत और लंड इस समय पूरी तरह गरम है, अजय अपनी मा से बिल्कुल सॅट जाता है दोनो के मन मे अंदर तूफान उठ रहा होता है और दोनो अपने आप को रोक नही पाते है और एक दूसरे से कस कर चिपक जाते है, इस बार दोनो मे से कोई कुछ नही बोलता है अजय का लंड पेंट फाड़ कर बाहर आने को उतावला हो जाता है और गीता की चूत का पानी बह कर उसकी जाँघो पर रेंगने लगता है,

मॅक्सी के अंदर से पूरी नंगी होने की वजह से अजय को अपनी मा के नरम नरम गदराए बदन का इतना मुलायम एहसास होता है कि वह एक बार तो अपनी मा के मोटे मोटे दूध को अपने हाथो मे भर लेता है और उन्हे दबा देता है गीता एक सिसकी लेकर रह जाती है, अजय जानता है कि उसकी मा उससे चुदने के लिए अब व्याकुल है इसलिए उसे अब अपनी मा की चुचि और गंद को बेधाड़क दबा देने का डर नही रहता है, और वो अपनी मा के चेहरे को पकड़ कर अपना चेहरा पास ले जाता है और कहता है मा तुम बहुत सुंदर हो और अपनी मा के रसीले होंठो को चूम लेता है, रिप्लाइ मे गीता भी अपने बेटे के होंठो को चूमते हुए, झूठे कही के अपनी मा का दिल रखने के लिए उसे सुंदर कह रहा है ना, अजय नही मा तुम सच मे बहुत सुंदर हो,

गीता अच्छा एक बात सच सच बता तुझे रश्मि, आरती और मुझमे सब से सुंदर कों लगता है, अजय अरे मा एक बेटे को दुनिया मे सबसे सुंदर उसकी मा ही लगेगी ना, बेशक दीदी और भाभी बहुत सुंदर है लेकिन तुमसे ज़्यादा सुंदर मुझे इस पूरी दुनिया मे कोई नही लगता है, इसीलिए तो मैं तुमसे इतना प्यार करता हू, तुम तो इतनी प्यारी लगती हो कि तुम्हे तो हर कोई प्यार करना चाहेगा, गीता अच्छा मैं देखु ज़रा मैं कहाँ सुंदर हू और खड़ी होकर अपनी मोटी गंद को हिलाते हुए ड्रेसिंग टेबल की ओर जाने लगी, उसकी गंद जो की पूरी मॅक्सी से लगता था कि बाहर आ जाएगी इतनी उभरी हुई लग रही थी और उसके चूतादो के दोनो पाटो के बीच इतना गॅप लग रहा था कि जैसे कोई अपने दोनो हाथो से उसके चूतादो के पाटो को विपरीत दिशा मे फैला रखा हो,

अजय अपनी मम्मी की ऐसी मस्तानी गंद देखकर पागल हो गया और वह जान गया था कि उसकी मम्मी ने अंदर पेंटी नही पहनी है वह झट से खड़ा हुआ और अपने पाजामे के अंदर हाथ डाल कर अपने लंड को अपने उंडरवेार के छेद से बाहर निकाल लेता है और पाजामे को चढ़ा लेता है, अब उसका लंड मुलायम से पाजामे के जस्ट अंदर नंगा होता है और वह अपना खड़ा लंड लेकर अपनी मा के पास जाता है रश्मि अपनी मोटी गंद उभारे मिरर मे अपने हस्न को निहारती रहती है तभी अजय पीछे से जाकर अपनी मा की मोटी गंद से अपना लंड सताकर अपनी मम्मी की मोटी गंद से कस कर चिपक जाता है और अपने हाथो को आगे लेजकर अपनी मा के मोटे दूध थाम लेता है, इस बार गीता और अजय के लंड और उसकी मा की गंद की गहरी दरार के बीच सिर्फ़ गीता की पतली सी मॅक्सी और अजय के मुलायम से पाजामे का कपड़ा ही होता है, और गीता उसके लंड की चुभन बहुत अच्छे से अपनी गंद पर महसूस करके सिहर जाती है,

गीता मिरर के सामने आँखे बंद किए लंड की चुभन का मज़ा लेती रहती है और अजय अपनी मा को पीछे से अपनी बाँहो मे भरे हुए उसके गोरे गालो पर अपने होंठ और गाल रगड़ता हुआ मिरर मे अपनी सेक्शी मा का चेहरा देखता हुआ क्यो मा देख लिया आप कितनी सुंदर लगती हो तब गीता अपनी आँहे खोलती है और कहाँ बेटा मैं कहाँ इतनी सुंदर हू पता नही तुझे क्यो सुंदर लगती हू