तीन घोड़िया एक घुड़सवार compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit mz.skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 10 Nov 2014 13:24



आरती तो फिर जैसा मैं कहती हू वैसा कर, रश्मि हाँ तो बोलिए
भाभी क्या करना है, आरती तू ठीक आधे घंटे बाद अपनी मम्मी के कमरे मे आ जाना
मैं दरवाजा खुला रखूँगी, पर भाभी आप मम्मी के कमरे मे क्यो जा रही है, आरती अरे
पगली आज मा जी मुझसे अपनी चूत चटवाना चाहती है, रश्मि क्या बात कर रही हो भाभी,
आरती अरे यह तो कुछ भी नही अभी जब मैं तेरी मम्मी के कमरे मे जाउन्गि तो सबसे पहले तो
वो मुझे पूरी नंगी करके मेरी चूत और गंद चतेगी, वह कल से ही मेरी चूत चाटने के लिए
मरी जा रही है, कल जब तुम दोनो भाई बहन होटेल मे रास रचा रहे थे तब यहाँ तेरी
मम्मी मेरी चूत को सुबह से लेकर शाम तक चाट्ती रही और अब फिर मुझे अपने कमरे मे
बुला कर मेरी फूली चूत चाटने के लिए मर रही है, रश्मि पर भाभी मम्मी को क्या चूत
चाटना इतना पसंद है, आरती अरे तेरी मम्मी तो तेरी चूत भी चाटना चाहती है इसी लिए उसने
मुझसे कहा है कि कैसे भी करके मुझे रश्मि की चूत चटवा दे, उसकी कुवारि बुर को
सूंघने और चाटने का मज़ा ही कुछ और होगा, अपनी भाभी की रसीली बाते और अपनी मा की
इच्छा सुन कर रश्मि की चूत ने ढेर सारा रस छ्चोड़ना शुरू कर दिया था, रश्मि पर
भाभी मैं कैसे कमरे मे आउन्गि मुझे मम्मी के सामने शरम आएगी, आरती अरे पगली
तेरी मम्मी जवान घोड़ी की तरह नंगी रहेगी फिर तू क्यो शरमाती है, और वैसे भी एक
घोड़ी दूसरी घोड़ी के सामने नंगी होकर अपनी चूत मरवाएगी तो इसमे शरमाना कैसा, चल
अब मैं जा रही हू, और इतना कह कर आरती अपनी सास के कमरे मे घुस गई, अजय जल्दी से रश्मि
के पास आया और उसको पूरी तरह अपनी बाँहो मे भर कर अपनी बहन के रसीले होंठो को
चूसने लगा,





रश्मि ने भी अजय के खड़े लंड को पकड़कर सहलाने लगी, अजय दीदी मम्मी
को भाभी की चूत चाटते देखेगी, और उसके मोटे मोटे दूध को कस कस कर दबाने लगा,
रश्मि हाँ भैया चल हम दोनो चुपचाप खिड़की से अंदर देखते है और फिर दोनो रूम
की ओर चल दिए
रूम के अंदर आरती मा जी कपड़े पहने पहने मालिश कारवावगी क्या, गीता अपनी साडी को खड़ी
होकर अपने बदन से अलग कर देती है और अपने ब्लौज को उतार देती है फिर पेटिकोट, ब्रा और
पॅंटी उतारकर पूरी नंगी हो जाती है, आरती अपनी सास की फूली हुई चूत को अपनी मुट्ठी मे
भरकर दबोचते हुए क्या बात है मा जी आज तो आप ने अपनी चूत के बाल बना कर इसे खूब
चिकनी कर रखा है आज खूब लंड खाने का मन लग रहा है आपका, गीता सीस्यते हुए हाँ
बहू आज मेरी चूत सुबह से ही खूब पानी छ्चोड़ रही है, आरती मा जी आप फिकर क्यो कर रही
है आज आपकी चूत का पानी सारा पी जाउन्गि और आपको भी अपनी चूत और आपकी बेटी की चूत का
भी पानी पिलाउन्गि, गीता पर क्या रश्मि अपनी मा को अपनी चूत का पानी पिलाएगी, आरती अरे मा जी
आप फिकर ना करो वह अपनी चूत का पानी पिलाएगी और आपकी चूत का पानी पिएगी भी, बस आप
चुपचाप देखती जाओ और फिर आरती ने जल्दी से अपने सारे कपड़े निकाल कर अपने गदराए शरीर
को पूरा नंगा कर दिया और अपनी मस्तानी गदराई भरे बदन वाली सास के नंगे बदन से
खड़ी खड़ी चिपक गई, और दोनो सास बहू ने अपने हाथो से एक दूसरे के अंगो को दबाना
और मसलना चालू कर दिया, कभी वो दोनो एक दूसरे के होंठ चूमती कभी एक दूसरे के
दूध कस कस कर दबाती और कभी एक दूसरे की गंद सहला सहला कर गंद के छेद मे अपनी
उंगली घुसेड देती और फिर कस कर एक दूसरे की जीभ का रस अपना अपना मूह खोल खोल कर
पीने लगी,


क्रमशः......................

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 10 Nov 2014 13:25


Teen Ghodiya Ek Ghudsawaar--15

gataank se aage...................


aur ma kaise apni phuli bur ko apni beti se chuswa leti hogi, didi tujhe yakin nahi ho raha
hai na, tujhe to ye jan kar bhi yakin nahi hoga ki apni mummy bhi teri chut chatna chahti
hai, rashmi aashcharya se ajay ko dekhti hui ye tu kya kah raha hai, ajay ha didi ye sach hai
mummy mujhse kal hi kah rahi thi ki ajay rashmi ki gand aur uski kasi hui janghe dekh kar
lagta hai ki uski chut kitna pani chhodti hogi, kabhi kabhi to aisa lagta hai ki rashmi ko puri
nangi karke use khub pyar karu uski khub chut ko pane muh mai bhar bhar kar chusu,
rashmi par mummy ne achanak aisa kyo kaha, are didi uska karan ye hai ki ek din aartii
bhabhi ne pahle mummy ko nangi karke unki chut chat li jisse mummy bhi pagla gai aur
phir unhone aarti bhabhi ko puri nangi karke unki chut ko itna chata ki aarti bhabhi lagbhag
4 bar mut chuki thi, rashmi ka muh khula ka khula rah gaya aur vah ajajy se chipak kar par
bhaiya mujhe to dar lagta hai, didi tera dar ko mai dur kiye deta hu, rashmi vah kaise, aur
ajay apni planing jab rashmi ko batata hai to vah reddy ho jati hai ab ajay apni didi ko apne
khade labd par chadhne ko kahta hai, tab rashmi bhaiya mai tere muh me mutna chahti hu,
ajay apni bahan ko nangi hi apni god mai utha leta hai aur uski tange apni kamar ke aas pas
chipkakar apni bahan ko apne seene se chipka kar mirror ke samne jata hai dekho didi tum
apne bhai ke land par chadhi hui kitni sexy lag rahi ho, rashmi ajay tu bahut badmash hai
ek to apni sagi bahan ko chodta hai upar se use nangi karke apni god mai chdha leta hai
tera land apni ma aur bahan ko dekh kar kitna uthne laga hai, ajay didi meri ma aur bahan
jaisi chudasi ma bahan jiski bhi hogi vah unhe aise hi apni god mai chadha chadha kar
chodehe aur ajay apna land pakad kar apni pyari bahan ki chut mai pel deta hai rashmi
bandariya ki tarah ajay ke seene se chipak jati hai, kuch der ajay khade khade apni bahan ki
chut mai pana land pelta hai, uske bad use bed par ulti litakar uske pedu ke neeche do
mote takiye rakh deta hai ab rashmi ki gand uth kar bilkul upar ki aur khul jati hai, ab ajay
apni bahan ki phuli hui chut ki phanko ko ohaila kar khub jor jor se apni bahan ki chut
chtne lag jata hai rashmi aah ahh..aah aasii si aah hay re bhiya ase hi chus aur chus apni
bahan ki chut khub chat mere pyare bhai khub chat si si aah aah aah aaaaah mar diya re
tune to kitno mast tarike se chut peeta hai isi liye to mummy aur bhabhi tujhse apni chut
chusane ke liye mari ja rahi hai,





khub chodta hai tu un dono bhosdiyo ko, aur apni kuwari
bahan ki chut bhi tune hi phadi hai kitna chodu bhai mila hai mujhe aah aah aur chus tabhi
ajay ne apni bahan ki gand ke chhed mai apni ek ungli apne muh mai bhar kar use geeli
karke apni didi ki moti gand ke chhed mai bhar deta hai aur sath hi sath ungli chlate huye
apni pyari bahan ki chut ko kas kas kar chusta hai,rashmi paglo ki tarah chillane lagti hai,
tabhi ajay apni ungli bahar nikal kar is bar do ungliya pane muh mai bhar kar puri geeli
karke apnu pyari didi ki moti gand mai pelne lagta hai rashmi karahne lag jati hai aur aah
aah aah bhai ye kya kar raha hai gand phati ja rahi hai aisa mat kar, ajay apne hatho se
apne land ko pura apne thuk se laslasa kar apne land ke mote tope ko apni pyari bahan ki
moti gand ke chhed mai laga kar ek kas ke shot marta hai aur rashmi ke muh se ek jordar
chinkh nikaljati hai aaaaaaaaaaaaaaaaaaaa aaaaaa oh bhaiya please apne land ko nikal lo
aa ajay apni bahan ki moti gand par let jata hai aur uska abhi aadha land bahar hota hai vah
lete huye apno gand thoda uthakar rakhta hai aur apni bahan ke kase huye ek dam kathor
doodh ko dono hantho se kas kas kar dabata hai aur rashmi aah aah o bhaiya bahut dard
kar raha hai , ajay le didi tera dard khatam kar dey=ta hu aur uski kathor chatiyo ko
dabochta hai bata didi tere doodh dabane mai tujhe kaisa lag raha hai hay ajay tune to mar
dala re lekin jab tu mere doodh dabata hai to bahut maza aa raha hai oh aah ajay didi abhi
teri gand mai usse bhi jyada maza aayega meri pyari bahna rani aur ajay is bar apni mummy
ki moti gand ko apni aankho ke samne sochta hua itna tej jhatka apno bahan ki moti gand
mai marta hai ki uska land pura jad tak apni bahan ki gand mai sama jata hai, aur rashmi
ohhhh. ohhhh, aaahhhh aaahhh mar gai aaah ajay apni didi ke mote mote papito ko apne
hantho se kas kas kar dabane laga vah itna josh mai apni bahan ki kasi hui gand mar mar
kar uske doodh daba raha tha ki rashmi ke muh se ab kevel gu..gu ki awaj nikal rahi thi ajay
ka mot aland apni bahan ki chut mai aisa ja raha tha jaise pistan age peche hota hai,
ya boring machin ka mota pipe jaise jameen phadta hua andar ghusta hai, ajay ne apni raftar
ko khub tej kar di aur rashmi bhi apni kamar ko ab ajay ke land par dabane lagi, ajay ne ek
bahut hi tagda jhatka mara ki rashmi ki aankhe ulat gai aur vah apne hantho se apne doodh
par apne nakhuno ke nishan karne lagi tab ajay thoda uth kar apne dono paro par ukdu
baith kar apni bahan ki moti moti kasi hui gand ko badi bedardi se marne laga aur jab beech
mai use apni mummy ki moti gand ki yad aa jati tab vah apna land itna jyada gand ke andar
dabat jaise pura land gand ki jad mai sma dena chahta hoaur phir ek tagde jhatke ke sath
ajay ne apna gadha gadha mal apni bahan ki moti gand ke andar chhod diya, rashmi puri
tarah se past ho chuki thi 10 minute tak ajay bhi leta raha phir usne ghadi dekhi unhe
lagbhag 2 ghante lag chuke the usne bahut pyar se apni nangi padi didi ko uthaya, rashmi
ko tab jaise hosh aaya uski gand bahut dard kar rahi thi aur vah jaise hi khadi hui uske pair
laraj gaye ajay ne apni bahan ko pyar se sambhala aur use vaps bed par baitha diya aur
phir khud hi use kapde pahnane laga phir usne kuch khane ke liye order kiya adhe ghante
bad rashmi kuch relax hui tab dono bhai bahan ghar jki aur chal diye.

agle din geeta din ka lunch lene ke bad aarti se bahu chal jara meri kamar ki malish kar de aaj
bada dil kar raha hai tujhse apni malish karwane ka aur ajay ki aur muskura kar apne room
ki aur chal di, tab aarti ne rashmi ko ishare se ek taraf bulaya, rashmi apni bhabhi ke pas
aakar khadi ho gai, aarti kyo nanad rani kal kaha apne bhai se chudwane gai thi, rashmi are
bhabhi mai vahi gai thi jaha tumhari mast chut ka udghatan ajay ne kiya tha aarti rashmi ki
moti chuchiyo ko dabate huye hay meri banno tabhi to mai kahu aaj tu itni jyada apni tange
phaila kar kyo chal rahi hai,




sach sach bata kal apne bhai se apni gand marwai thi na, aur
rashmi ke peeche hath le jakar uski moti gand ke chhed ko masal deti hai, rashmi ha bhabhi
par mai to chut marwane gai thi par ajay itna badmash hai ki kal usne meri gand is kadar
thoki hai ki abhi abhi thoda thoda dard ho raha hai, aarti are meri banno tu chinta mat kar ek
do bar apni moti gand mai apne bhai ka tagda land le legi to phir tujhe dard ka nahi balki din
rat meethi meethi khujli ka ehsas hoga, aur rashmi ke gulabi galo ko pakad kar khich deti
ha, rashmi bhabhi ek bat to hai gand marwane mai bhi mujhe bada maza aaya tha, aarti
achcha to abhi din mai marwane ka man hai, rashmi, ha bhabhi mai to apni gand aur chut
din rat marwane ke liye tadap rahi hu jab se ajay ne mujhe choda hai tab se meri chut ki
khujli bahut jyada badh gai hai, aarti thik hai mai tere liye vyavastha jamati hu par ek shart
hai vo kya bhabhi tujhe meri chut khub kas kar chatni hogi, rashmi are bhabhi mai tumhari
chut kya gand bhi chat lungi,





aarti to phir jaisa mai kahti hu vaisa kar, rashmi ha to boliye
bhabhi kya karna hai, aarti tu thik aadhe ghante bad apni mummy ke kamare mai aa jana
mai darwaja khula rakhungi, par bhabhi aap mummy ke kamare mai kyo ja rahi hai, aarti are
pagli aaj ma ji mujhse apni chut chatwana chahti hai, rashmi kya bat kar rahi ho bhabhi,
aarti are yah to kuch bhi nahi abhi jab mai teri mummy ke kamre mai jaugi to sabse pahle to
vo mujhe puri nangi karke meri chut aur gand chategi, vah kal se hi meri chut chatne ke liye
mari ja rahi hai, kal jab tum dono bhai bahan hotel mai ras racha rahe the tab yaha teri
mummy meri chut ko subah se lekar sham tak chatti rahi aur ab phir mujhe apne kamre mai
bula kar meri phuli chut chatne ke liye mar rahi hai, rashmi par bhabhi mummy ko kya chut
chatna itna pasand hai, aarti are teri mummy to teri chut bhi chatna chahti hai isi liye usne
mujhse kaha hai ki kaise bhi karke mujhe rashmi ki chut chatwa de, uski kuwari bur ko
sunghne aur chatne ka maza hi kuch aur hoga, apni bhabhi ki rasili bate aur apni ma ki
ichcha sun kar rashmi ki chut ne dher sara ras chhodna shuru kar diya tha, rashmi par
bhabhi mai kaise kamre mai aaungi mujhe mummy ke samne sharam aayegi, aarti are pagli
teri mummy jawan ghodi ki tarah nangi rahegi phir tu kyo sharmati hai, aur vaise bhi ek
ghodi dusri ghodi ke samne nangi hokar apni chut marwayegi to isme sharmana kaisa, chal
ab mai ja rahi hu, aur itna kah kar aarti apni sas ke kamre mai ghus gai, ajay jaldi se rashmi
ke pas aaya aur usko puri tarah apni banho mai bhar kar apni bahan ke rasile hontho ko
chusne laga,





rashmi ne bhi ajay ke khade land ko pakadkar sahlane lagi, ajay didi mummy
ko bhabhi ki chut chatte dekhegi, aur uske mote mote doodh ko kas kas kar dabane laga,
rashmi ha bhaiya chal ham dono chupchap khidki se andar dekhte hai aur phir dono room
ki aur chal diye
room ke andar aarti ma ji kapde pahne pahne malish karwaogi kya, geeta apni sadi ko khadi
hokar apne badan se alag kar deti hai aur apne blauj ko utar deti hai phir petikot, bra aur
panty utarkar puri nangi ho jati hai, aarti apni sas ki phuli hui chut ko apni mutthi mai
bharkar dabochte huye kya bat hai ma ji aaj to aap ne apni chut ke bal bana kar ise khub
chikni kar rakha hai aaj khub land khane ka man lag raha hai aapka, geeta sisyate huye ha
bahu aaj meri chut subah se hi khub pani chhod rahi hai, aarti ma ji aap phikar kyo kar rahi
hai aaj aapki chut ka pani sara pee jaugi aur aapko bhi apni chut aur aapki beti ki chut ka
bhi pani pilaungi, geeta par kya rashmi apni ma ko apni chut ka pani pilayegi, aarti are ma ji
aap phikar na karo vah apni chut ka pani pilayegi aur aapki chut ka pani piyegi bhi, bas aap
chupchap dekhti jao aur phir aarti ne jaldi se apne sare kapde nikal kar apne gadraye sharir
ko pura nanga kar diya aur apni mastani gadrai bhare badan wali sas ke nange badan se
khadi khadi chipak gai, aur dono sas bahu ne apne hatho se ek dusre ke ango ko dabana
aur masalna chalu kar diya, kabhi vo dono ek dusre ke honth chumti kabhi ek dusre ke
doodh kas kas kar dabati aur kabhi ek dure ki gand sahla sahla kar gand ke chhed mai apni
ungli ghused deti aur phir kas kar ek dusre ki jeebh ka ras apna apna muh khol khol kar
peene lagi,


kramashah......................

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 10 Nov 2014 13:26


तीन घोड़िया एक घुड़सवार--16

गतान्क से आगे...................


उधर अजय ने अपनी दीदी को अपने लंड के आगे कर लिया और दोनो भाई बहन अपनी मा और
भाभी का नंगा नाच देखने लगे, अजय पीछे खड़ा खड़ा अपनी दीदी की एक हाथ से बुर
मसल रहा था और एक हाथ से उसकी मोटी मोटी चुचियो को दबाता जा रहा था और दीदी कैसा
लग रहा है रश्मि ने भी अपने भाई का मोटा लंड अपने हाथ मे लेकर दबोचते हुए कहा
ओह भैया बहुत मज़ा आ रहा है तुम अपनी प्यारी दीदी को नंगी कर दो मैं यही पर नंगी
होकर अपनी मम्मी को चूत चुस्वाते और भाभी की चूत चूस्ते देखना चाहती हू, भैया
अपनी मम्मी कितनी चुदासी है और उसकी गदराई जवानी कितनी मस्त लग रही है मुझे तो समझ
नही आ रहा है कि तुम मम्मी की ऐसी नंगी जवानी देख कर उसे दिन रात क्यो नही चोद्ते हो,
वह तो इतनी चुदासी है कि दिन रात तुम्हारे मोटे लंड पर बैठी रहेगी, अरे दीदी आज मैं तुम्हारी,
भाभी की और मम्मी की ऐसी चूत मारूँगा कि तुम देखती रह जाओगी,

उधर गीता बहू तेरी चुचिया पहले से कितनी मोटी हो गई है, लगता है जैसे इनमे दूध
भर गया हो, अरे मा जी यह तो आपके बेटे ने इन्हे मसल मसल कर इतना बड़ा कर दिया है,
गीता अपनी बहू की मोटी चुचिया मसल्ते हुए बहू बड़े बेटे ने की छ्होटे बेटे ने, आरती
मा जी उसी बेटे ने जिसने आपकी ये गंद मार मार कर इतनी मोटी और चौड़ी कर दी है और आरती ने
अपनी सास के मोटे मोटे चूतादो के बीच अपनी उंगली घुसा दी गीता ने भी अपनी बहू की चूत
मे अपनी उंगली घुसाते हुए हाँ बहू तू ठीक कहती है जब से मेरे बेटे ने मेरी गंद मारना
शुरू की है तब से मेरे चूतड़ और फैल गये है, बहू मेरा तो भोसड़ा भी अजय का लंड
खा खा कर खूब चोडा हो गया है, आरती अपनी सास की फूली चूत को अपने हाथो से
दबोचते हुए माजी थोड़ा ध्यान रख कर अपने बेटे से अपनी चूत मरवाया कीजिए कही
आपको चोद चोद कर अपने बच्चे की मा ना बना दे मुझे तो दो बार ठहरा चुका है
वो तो मैने टाइम से गोलिया खा ली नही तो अब तक तुम दादी बन चुकी होती और अजय चाचा और
पापा दोनो बन गया होता, फिर आरती ने कहा माजी अब मैं आपकी गंद और चूत का रस पीछे
से पीना चाहती हू, और दो तकिये बेड पर लगाकर अपनी सास को पेट के बल तकिया उसकी कमर के
नीचे लगा कर लिटा दिया जिससे गीता की मोटी गंद और चूत की बड़ी बड़ी फूली हुई गदराई
फांके अलग हो गई , आरती माजी अब अपनी आँखे बंद कर लो मैं तुम्हे जन्नत की सेर करवाती
हू और अपनी सास की दोनो जाँघो को फैला दिया, रश्मि और अजय अपनी मा को अपने मोटे मोटे
चूतड़ फैलाए देख रहे थे उन्हे अपनी मा की फटी हुई गदराई चूत की खुली हुई फांके और
बड़ा सा चूत और गंद का गुलाबी छेद नज़र आ रहा था, अजय अपनी दीदी की चुचियो और मोटी
गंद को कस कस कर दबा रहा था और रश्मि अपने भाई के मोटे लंड को सहला रही थी,





आरतीअपनी सास की दोनो जाँघो को और फैलाते हुए उसकी चूत और गंद के छेद को अपना मूह
खोल कर अपनी जीभ से चाटने लगती है और गीता सिसकिया लेने लग जाती है तभी अजय अपनी दीदी
को चूमते हुए चलो अब चुपचाप हम मम्मी के पैरो के पास चलते है, और रश्मि जो
की पूरी नंगी हो चुकी थी और अजय ने भी अपने कपड़े उतार दिए थे अब दोनो अपनी भाभी के
पास चले गये तो आरती ने चुपचाप अपना मूह अपनी सास की फूली हुई चूत से हटाया और
रश्मि को अपनी मा की चूत के पास बैठा कर उसे अपनी मम्मी की फटी हुई चूत चाटने का
कहने लगी रश्मि थोड़ा घबराते हुए झुक कर अपनी मा की मस्त भोसड़ी का रस पीने लगी
तभी आरती रश्मि की गंद के पीछे आ गई और झुक कर अपनी ननद की मोटी गंद और चूत
को चाटने लगी, और अपनी भाभी की मोटी और गदराई गंद के पीछे अजय खड़ा होकर अपनी
भाभी की चूत मे अपना लंड पीछे से फँसा कर अपनी भाभी की चूत मे धक्के मारने
लगा अब सभी एक दूसरे को मज़ा दे रहे थे और कमरे मे आह आह सी सी ओह आह आह जैसी
मादक सिसकारिया गूंजने लगी, गीता अरे बहू थोड़ा अपनी जीभ को मेरी चूत के छेद मे
अंदर तक पेल ना तब रश्मि ने अपनी मा की चूत को अपने हाथो से खूब फैला लिया जिससे
उसका बड़ा सा गुलानी छेद पूरा रस से लपलपाने लगा और रश्मि ने अपनी मम्मी की बुर को
पूरा अपने मूह मे भर कर खा जाने के अंदाज मे अपनी मम्मी की रसीली चूत को चाटने लगी
गीता आह आह आह हाँ हाँ हाँ बहू ऐसे ही आ सी सी आह रश्मि को खूब मज़ा आने लगा तब
उसने थोड़ा अपनी गंद को और हिलाया तो आरती उसका इशारा समझ कर आरती ने भी अपनी ननद
की कुवारि चूत को और फैला कर खूब कस कस कर चाटना शुरू कर दिया, जिससे रश्मि को
खूब मज़ा आने लगा और उसने अपने मूह की पकड़ अपनी मा की फूली चूत पर और कस कर
जमा ली गीता आह आह वाह बहू आज तो तू अलग ही ढंग से मेरी चूत चाट रही है आज तो बहुत
ही मज़ा आ रहा है और चाट बेटी और चाट तू तो मेरी बेटी जैसी है, और अगर तेरी जगह मेरी बेटी
भी मेरी चूत चाट्ती तो मैं उसे भी बड़े प्यार से अपनी चूत चुस्वा चुस्वा कर लाल कर लेती
आह आह शाबाश बेटी आह, तभी अजय ने अपनी भाभी की गंद मे एक कस कर धक्का मारा
जिससे आरती अपनी ननद की गंद के उपर गिर गई और रश्मि अपनी मा की मोटी गंद के उपर पूरी
नंगी होकर पसर गई तब आरती ने रश्मि को और उपर धकेल कर उसे अपनी नंगी मा के उपर
चढ़ा दिया और खुद भी रश्मि की पीठ और मोटे मोटे चूतादो पर सो गई और अजय अपनी
भाभी की चूत मे लंड पेलने लगा तभी अजय ने अपना मोटा लंड अपनी भाभी की चूत से
निकाल कर सीधे अपनी मा की चूत मे ठोक दिया,